#भारत की राजनीति

bolkar speaker

वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?

Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:29
हेलो दीवाने ख्वाजा के सवाल है कि वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है कि जितना भी आपने नहीं देखा होगा खबर आप पढ़ रहे होंगे तो उसमें किसानों की तरफ से जितना भी पूछा गया है रिपोर्टर से जितना भी सवाल पूछे हैं कि आप इस आंदोलन से क्या चाहते इस आंदोलन को आप कैसे आगे बढ़ाएंगे कब तक बढ़ाएंगे और किस तरह से इसमें मतलब 2 लोगों को नुकसान होगा दंगा फसाद होगा तो नॉर्मल ही पीसफुल तरीके से होगा तो किसानों का यही कहना है क्यों बहुत ही पीसफुल तरीके से अपने भारत सरकार को समझाना चाहते हैं वह चाहते हैं कि सरकार उनकी बात समझे या तो बिल को वापस ले ले या फिर वह जो मांग कर रहे हैं उसे पूरा करें और वह यह कह रहे हैं कि जब तक उनकी मांगे या फिर कुछ अच्छा सा कोई सलूशन नहीं निकलेगा तब तक ऊपर टच करेंगे आंदोलन करेंगे लेकिन इस आंदोलन में ना ही किसी का भी नुकसान करने के बारे में सोचेंगे नहीं कर रहे जो भी मतलब किसानों के बारे में जो 26 जनवरी को हुआ है उनका यह कहना है कि भाइयों मुझे पार्टी ना ही कोई भी किसान जाकर ऐसा कुछ किया जाए उनकी कमेंट इसे कोई है यह एक तरह से एक साजिश थी जो उन्हें फंसाया जा रहा है उनके लिए एक तरह का प्लान किया जा रहा है जिसमें के बाद किसानों पर आलू किसानों को भी गलत समझे उनका यही कहना है उनका यही मानना है उससे चाहते हैं कि पैसे और अच्छे से शांति तरीके से अपनी बात रखें और उनकी मांगे पूरी
Helo deevaane khvaaja ke savaal hai ki vaastav mein kisaan aandolan ka makasad kya hai ki jitana bhee aapane nahin dekha hoga khabar aap padh rahe honge to usamen kisaanon kee taraph se jitana bhee poochha gaya hai riportar se jitana bhee savaal poochhe hain ki aap is aandolan se kya chaahate is aandolan ko aap kaise aage badhaenge kab tak badhaenge aur kis tarah se isamen matalab 2 logon ko nukasaan hoga danga phasaad hoga to normal hee peesaphul tareeke se hoga to kisaanon ka yahee kahana hai kyon bahut hee peesaphul tareeke se apane bhaarat sarakaar ko samajhaana chaahate hain vah chaahate hain ki sarakaar unakee baat samajhe ya to bil ko vaapas le le ya phir vah jo maang kar rahe hain use poora karen aur vah yah kah rahe hain ki jab tak unakee maange ya phir kuchh achchha sa koee salooshan nahin nikalega tab tak oopar tach karenge aandolan karenge lekin is aandolan mein na hee kisee ka bhee nukasaan karane ke baare mein sochenge nahin kar rahe jo bhee matalab kisaanon ke baare mein jo 26 janavaree ko hua hai unaka yah kahana hai ki bhaiyon mujhe paartee na hee koee bhee kisaan jaakar aisa kuchh kiya jae unakee kament ise koee hai yah ek tarah se ek saajish thee jo unhen phansaaya ja raha hai unake lie ek tarah ka plaan kiya ja raha hai jisamen ke baad kisaanon par aaloo kisaanon ko bhee galat samajhe unaka yahee kahana hai unaka yahee maanana hai usase chaahate hain ki paise aur achchhe se shaanti tareeke se apanee baat rakhen aur unakee maange pooree

और जवाब सुनें

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:18
प्रणाम सा क्यों आपका सवाल है वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है तो साथियों हाथ में सवाल का उत्तर इस प्रकार से वास्तव में हमारे देश के किसान आंदोलन का मकसद उन का एक ही उद्देश्य है जो तीन काले कानून हमारे देश की सरकारों ने बनाया है काले कानूनों को वापस दिलवा ना क्योंकि यह कानून बनाए हैं यह हमारे देश के अन्नदाता के हित में नहीं है इसलिए हमारे देश के किसान को एक्सेप्ट नहीं कर रहा उनका एक ही मकसद है कि यह कानूनों को वापस किया जाए और नए सिरे से कुछ अच्छा कानून बनाया जाए जिस कानून में हमारे देश के अन्नदाता को कुछ फायदा हो जो एमएच की पूरी गलती हो और हमारे देश के किसानों को कुछ प्रोटेक्शन कुछ सुरक्षा मिले इस प्रकार का कानून हमारे देश के अन्नदाता चाहते हैं वह कानूनों की मां के लिए अपना हाथ दोनों को कर रहे हैं धन्यवाद साथियों खुश रहो
Pranaam sa kyon aapaka savaal hai vaastav mein kisaan aandolan ka makasad kya hai to saathiyon haath mein savaal ka uttar is prakaar se vaastav mein hamaare desh ke kisaan aandolan ka makasad un ka ek hee uddeshy hai jo teen kaale kaanoon hamaare desh kee sarakaaron ne banaaya hai kaale kaanoonon ko vaapas dilava na kyonki yah kaanoon banae hain yah hamaare desh ke annadaata ke hit mein nahin hai isalie hamaare desh ke kisaan ko eksept nahin kar raha unaka ek hee makasad hai ki yah kaanoonon ko vaapas kiya jae aur nae sire se kuchh achchha kaanoon banaaya jae jis kaanoon mein hamaare desh ke annadaata ko kuchh phaayada ho jo emech kee pooree galatee ho aur hamaare desh ke kisaanon ko kuchh protekshan kuchh suraksha mile is prakaar ka kaanoon hamaare desh ke annadaata chaahate hain vah kaanoonon kee maan ke lie apana haath donon ko kar rahe hain dhanyavaad saathiyon khush raho

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:57
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है फ्रेंड्स किसान आंदोलन का यही मकसद है कि जो किसान किसानों के लिए तीन कानून बनाए गए हैं तो उनको भी रद्द करने की मांग कर रहे हैं इसलिए किसान लोग आंदोलन कर रहे हैं जो सरकार ने किसानों किसानों के लिए कानून बनाए हैं तीन कानून उन्हें कानूनों को किसान सरकार कह रहे हैं कि आप इन को रद्द कर दीजिए यह लागू मत कीजिए बस इसी के लिए किसान आंदोलन करते जा रहे हैं लगातार भूख हड़ताल कर रहे हैं उनका जाम कर रहे हैं आप लोग देख रहे होंगे कि 26 जनवरी को भी कितनी हिंसक झड़प भी हुई किसानों की और पुलिस के बीच में तो यह किसान आंदोलन बहुत ही उग्र होता जा रहा है और सामान इसका एक ही मकसद है कि जो किसान कानून है उनको भी रद्द करवाना चाहते हैं तो फ्रेंड से अगर आपको जवाब पसंद आए तो लाइक करें धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai vaastav mein kisaan aandolan ka makasad kya hai phrends kisaan aandolan ka yahee makasad hai ki jo kisaan kisaanon ke lie teen kaanoon banae gae hain to unako bhee radd karane kee maang kar rahe hain isalie kisaan log aandolan kar rahe hain jo sarakaar ne kisaanon kisaanon ke lie kaanoon banae hain teen kaanoon unhen kaanoonon ko kisaan sarakaar kah rahe hain ki aap in ko radd kar deejie yah laagoo mat keejie bas isee ke lie kisaan aandolan karate ja rahe hain lagaataar bhookh hadataal kar rahe hain unaka jaam kar rahe hain aap log dekh rahe honge ki 26 janavaree ko bhee kitanee hinsak jhadap bhee huee kisaanon kee aur pulis ke beech mein to yah kisaan aandolan bahut hee ugr hota ja raha hai aur saamaan isaka ek hee makasad hai ki jo kisaan kaanoon hai unako bhee radd karavaana chaahate hain to phrend se agar aapako javaab pasand aae to laik karen dhanyavaad

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
2:40
वास्तव में किसानों को आंदोलन का मकसद क्या है तो नहीं किसी कानून को ठीक से समझ नहीं पाए अमल कई किसान सदस्य नीति ने बताया नीति आयोग के सदस्य ने किसी रमेश ने कहा है कि आंदोलनकारी के सामने किसी कानून को पूरी तरह से सही प्रकार से समझ नहीं पाए उन्होंने इस बात पर जोर दिया है कि इन कानूनों की शाम कि आई पढ़ाना काफी क्षमता है रमेश चंद ने बताया कि इन कानूनों को मकसद भी नहीं है जो आंदोलन कर रहे किसानों को समझ आ रहा है इनको कामों में खुद ही से बिल्कुल इसका उल्टा है उन्होंने कहा जिस तरीके से मैं देख रहा हूं मुझे लगता है कि आंदोलन कर रहे किसान इन कानूनों को पूरी तरह से सही तरीके क्षमता नहीं है उन्होंने कहा यदि कानून को क्रिया ना होता है तो इसका बात भी काफी अधिक संभावना है किसानों को आमदनी में बढ़ोतरी होगी कुछ राज्यों में तो किसानों की आय दोगुनी तक हो जाएगी उन्होंने पूछा गया कि सरकार अब भी भरोसा है कि वह 2022 तक किसानों की आय को दोगुना कर और नीति आयोग के सदस्य बताया कि किसान का कहना आवश्यक वस्तु अधिनियम को हटा दिया गया इस कोर्ट लिस्ट कालाबाजारी करने वाले को पूरी छूट दे देगी यह चंद स्पष्ट करते हुए कहा कि वास्तव में आवश्यक वस्तु अधिनियम संशोधन किया गया इसके तहत प्रावधान किया गया कि कानून कब लागू होगा यदि अनाज तिलहन दाहाल दामों में 50% की बढत जाते हैं तो इस कानून को लागू किया जाएगा इसी तरह यदि प्याज की टमाटर के दाम 100% बढ़ जाए तो कानून लागू होगा उदाहरण देते हुए तो जब प्याज के दाम चल रहे हैं तो केंद्र 23 अक्टूबर को कानून लगाया उन्होंने कहा कि स्वामी जरूर राजेश स्टॉक सीमा लगाने की काट दिया था ठेका अनुबंध पर खेती किसानों का नकाशा को दूर करने का प्रयास करते हुए चने का है कोऑपरेटिव के लिए खेतों को ठेके खेतों का बड़ा अंतर है उन्होंने देश के राज्य को ऑपरेटिव खेती कब होती नहीं है कई राज्यों का ठेका कहती पहले से ही हो रही है एक जान की नहीं है जबकि किसान जमीन निजी कंपनियों की नीति आयोग सदस्य कहा है कि क्वेश्चन मूल्य आवासन की कृषि सेवा को पर कानून किसान पक्ष में झुका है कैसी वर्दी पर चंद निगाहे चालू वित्त 2020 और 21 में किसी छात्रवृत्ति 35 पति से अधिक रहेगी वित्त वर्ष में 2019 और 20 में कृषि उत्पादन क्षेत्र में बढ़ती 35 से 7% रही है प्याज में थे बार-बार रोग के बारे में पूछा था ना चलने का कीमत तो जब भी एक तारा बाहर आता है तो सरकार हां सेव करें कि भारत की ही नहीं अमेरिका ब्रिटेन भी करेगी धन्यवाद दोस्तों
Vaastav mein kisaanon ko aandolan ka makasad kya hai to nahin kisee kaanoon ko theek se samajh nahin pae amal kaee kisaan sadasy neeti ne bataaya neeti aayog ke sadasy ne kisee ramesh ne kaha hai ki aandolanakaaree ke saamane kisee kaanoon ko pooree tarah se sahee prakaar se samajh nahin pae unhonne is baat par jor diya hai ki in kaanoonon kee shaam ki aaee padhaana kaaphee kshamata hai ramesh chand ne bataaya ki in kaanoonon ko makasad bhee nahin hai jo aandolan kar rahe kisaanon ko samajh aa raha hai inako kaamon mein khud hee se bilkul isaka ulta hai unhonne kaha jis tareeke se main dekh raha hoon mujhe lagata hai ki aandolan kar rahe kisaan in kaanoonon ko pooree tarah se sahee tareeke kshamata nahin hai unhonne kaha yadi kaanoon ko kriya na hota hai to isaka baat bhee kaaphee adhik sambhaavana hai kisaanon ko aamadanee mein badhotaree hogee kuchh raajyon mein to kisaanon kee aay dogunee tak ho jaegee unhonne poochha gaya ki sarakaar ab bhee bharosa hai ki vah 2022 tak kisaanon kee aay ko doguna kar aur neeti aayog ke sadasy bataaya ki kisaan ka kahana aavashyak vastu adhiniyam ko hata diya gaya is kort list kaalaabaajaaree karane vaale ko pooree chhoot de degee yah chand spasht karate hue kaha ki vaastav mein aavashyak vastu adhiniyam sanshodhan kiya gaya isake tahat praavadhaan kiya gaya ki kaanoon kab laagoo hoga yadi anaaj tilahan daahaal daamon mein 50% kee badhat jaate hain to is kaanoon ko laagoo kiya jaega isee tarah yadi pyaaj kee tamaatar ke daam 100% badh jae to kaanoon laagoo hoga udaaharan dete hue to jab pyaaj ke daam chal rahe hain to kendr 23 aktoobar ko kaanoon lagaaya unhonne kaha ki svaamee jaroor raajesh stok seema lagaane kee kaat diya tha theka anubandh par khetee kisaanon ka nakaasha ko door karane ka prayaas karate hue chane ka hai kooparetiv ke lie kheton ko theke kheton ka bada antar hai unhonne desh ke raajy ko oparetiv khetee kab hotee nahin hai kaee raajyon ka theka kahatee pahale se hee ho rahee hai ek jaan kee nahin hai jabaki kisaan jameen nijee kampaniyon kee neeti aayog sadasy kaha hai ki kveshchan mooly aavaasan kee krshi seva ko par kaanoon kisaan paksh mein jhuka hai kaisee vardee par chand nigaahe chaaloo vitt 2020 aur 21 mein kisee chhaatravrtti 35 pati se adhik rahegee vitt varsh mein 2019 aur 20 mein krshi utpaadan kshetr mein badhatee 35 se 7% rahee hai pyaaj mein the baar-baar rog ke baare mein poochha tha na chalane ka keemat to jab bhee ek taara baahar aata hai to sarakaar haan sev karen ki bhaarat kee hee nahin amerika briten bhee karegee dhanyavaad doston

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:44
10 सितंबर 2000 के वीडियो चैट स्टार्ट खिलाफ क्रिस कानून पास किया जा रहा है फुल ना हो क्योंकि उन्हें ध्यान में रखते हुए वीडियो मां को ध्यान में रखकर इस कानून को पारित किया है पास से किसानों को कोई दिक्कत ना हो बस सही मायने में ही उनकी सबसे बड़ी समस्या है जो सरकार को भी नहीं कर रहे हैं
10 sitambar 2000 ke veediyo chait staart khilaaph kris kaanoon paas kiya ja raha hai phul na ho kyonki unhen dhyaan mein rakhate hue veediyo maan ko dhyaan mein rakhakar is kaanoon ko paarit kiya hai paas se kisaanon ko koee dikkat na ho bas sahee maayane mein hee unakee sabase badee samasya hai jo sarakaar ko bhee nahin kar rahe hain

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:29
नमस्कार किसान आंदोलन का मकसद क्या है यह तो किसान नेता जानते हैं लेकिन जो मकसद सामने निकलता है वह यही है कि किसान नेता यह कह दे कि जो भी तीन मिलाए हैं किसानों के लिए वह किसान विरोधी है उससे किसानों का शोषण होगा और जिसकी वजह से यह कानून बंद ही एक दो बिल है वह वापस लिए जाएं तो मुख्यमंत्री से यह कि यह जो बिल है वापस लिए जाएं धन्यवाद
Namaskaar kisaan aandolan ka makasad kya hai yah to kisaan neta jaanate hain lekin jo makasad saamane nikalata hai vah yahee hai ki kisaan neta yah kah de ki jo bhee teen milae hain kisaanon ke lie vah kisaan virodhee hai usase kisaanon ka shoshan hoga aur jisakee vajah se yah kaanoon band hee ek do bil hai vah vaapas lie jaen to mukhyamantree se yah ki yah jo bil hai vaapas lie jaen dhanyavaad

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
2:21
सवाल है कि वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है किसानों को सबसे बड़ा डर न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी कि मिनिमम सपोर्ट प्राइस खत्म होने का है इस बिल के जरिए सरकार ने कृषि उपज मंडी समिति यानी एग्रीकल्चरल प्रोडक्ट मार्केट कमेटी यानी मंडी से बाहर भी कृषि कारोबार को रास्ता खोल दिया है आपको बता दें कि मंडी से बाहर बीटीडीए घोषित हो गया है मंडी के अंदर लाइसेंस ईटीवी टि्वटर किसान से उसकी उपज एमएसपी पढ़ लेते हैं लेकिन बाहर कारोबार करने वालों के लिए हम एसपी को बेंच पास नहीं बनाया गया है इसलिए मंडी से बाहर एमएसपी मिलने के लिए कोई गारंटी नहीं है सरकार ने बिल में मंडियों को खत्म करने की बात कही पर भी नहीं दिखे लेकिन उस टाइम तक मंडियों को तबाह कर सकता है इसका अंदाजा लगाकर किसान डरा हुआ है इसलिए आढ़तियों को भी डर सता रहा है इस मसले पर ही किसान और अर्थी एक साथ हैं उनका मानना है कि मंडिया बचेगी तभी तो किसान फेसबुक पर अपनी उपज भेज पाएगा इस बिल से 1 कंट्री टू मार्केट वाली नौबत पैदा होती है क्योंकि मंडियों के अंदर टैक्स का भुगतान होगा और मंडियों के बाहर कोई टैक्स नहीं लगेगा अभी मंडी के बाहर जिस एग्रीकल्चर ट्रेड किसकी सरकार ने व्यवस्था की है उसमें कारोबारी कोई कोई टैक्स नहीं देना होगा जबकि मंडी के अंदर औसतन 6 से 7 फ़ीसदी तक का मंडी टैक्स लगता है किसान की ओर से यह तर्क दिया जा रहा है की आरतियां या व्यापारी अपने 67 पीजिटेक को नुकसान ना करके मंडी से बाहर खरीद करेगा जहां उसे कोई टैक्स नहीं देना है इस फैसले से मंडी व्यवस्था हतोत्साहित होंगी मंडी समिति कमजोर होगी तो किसान धीरे-धीरे बिल्कुल बाजार के हवाले चला जाएगा जहां उसकी उपज का सरकार द्वारा तय रेट से अधिक भी मिल सकता है और कम भी किसानों की इस चिंता के बीच राज्य सरकारों खासकर पंजाब और हरियाणा को इस बात का डर सता रहा है कि अगर निजी खरीदार सीधे किसान से अनाज खरीदेंगे तो उन्हें मंडियों से मिलने वाले टैक्स का नुकसान होगा दोनों राज्यों को मीडिया से मंडियों से मोटर टैक्स मिलता है जिससे वह विकास कार्य में इस्तेमाल करते हैं हालांकि हरियाणा में बीजेपी का शासन है इसलिए यहां के सत्ताधारी नेता इस मामले पर मौन है
Savaal hai ki vaastav mein kisaan aandolan ka makasad kya hai kisaanon ko sabase bada dar nyoonatam samarthan mooly yaanee ki minimam saport prais khatm hone ka hai is bil ke jarie sarakaar ne krshi upaj mandee samiti yaanee egreekalcharal prodakt maarket kametee yaanee mandee se baahar bhee krshi kaarobaar ko raasta khol diya hai aapako bata den ki mandee se baahar beeteedeee ghoshit ho gaya hai mandee ke andar laisens eeteevee tivatar kisaan se usakee upaj emesapee padh lete hain lekin baahar kaarobaar karane vaalon ke lie ham esapee ko bench paas nahin banaaya gaya hai isalie mandee se baahar emesapee milane ke lie koee gaarantee nahin hai sarakaar ne bil mein mandiyon ko khatm karane kee baat kahee par bhee nahin dikhe lekin us taim tak mandiyon ko tabaah kar sakata hai isaka andaaja lagaakar kisaan dara hua hai isalie aadhatiyon ko bhee dar sata raha hai is masale par hee kisaan aur arthee ek saath hain unaka maanana hai ki mandiya bachegee tabhee to kisaan phesabuk par apanee upaj bhej paega is bil se 1 kantree too maarket vaalee naubat paida hotee hai kyonki mandiyon ke andar taiks ka bhugataan hoga aur mandiyon ke baahar koee taiks nahin lagega abhee mandee ke baahar jis egreekalchar tred kisakee sarakaar ne vyavastha kee hai usamen kaarobaaree koee koee taiks nahin dena hoga jabaki mandee ke andar ausatan 6 se 7 feesadee tak ka mandee taiks lagata hai kisaan kee or se yah tark diya ja raha hai kee aaratiyaan ya vyaapaaree apane 67 peejitek ko nukasaan na karake mandee se baahar khareed karega jahaan use koee taiks nahin dena hai is phaisale se mandee vyavastha hatotsaahit hongee mandee samiti kamajor hogee to kisaan dheere-dheere bilkul baajaar ke havaale chala jaega jahaan usakee upaj ka sarakaar dvaara tay ret se adhik bhee mil sakata hai aur kam bhee kisaanon kee is chinta ke beech raajy sarakaaron khaasakar panjaab aur hariyaana ko is baat ka dar sata raha hai ki agar nijee khareedaar seedhe kisaan se anaaj khareedenge to unhen mandiyon se milane vaale taiks ka nukasaan hoga donon raajyon ko meediya se mandiyon se motar taiks milata hai jisase vah vikaas kaary mein istemaal karate hain haalaanki hariyaana mein beejepee ka shaasan hai isalie yahaan ke sattaadhaaree neta is maamale par maun hai

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
4:22
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है देखिए शुरुआती दौर में तो लगा था कि किसान आंदोलन का मकसद कानूनी या जो किसानों के ऊपर जाती हो रही उससे निवारण करवाना है लेकिन यह परिस्थितियां धीरे-धीरे जब बदलती जा रही है इस तरह से 26 जनवरी को भक्ति ही से लाल किला और दिल्ली के इर्द-गिर्द आक्रमण किया होती थी सब रूपों में देखा गया उसको रिले देखने के बाद तो ऐसा नहीं लगता है दूसरी बात है मैं मेहमानों के तीनों पर्ची कानून भारत के संविधान द्वारा सारे संसद द्वारा पारित किया गया गलत है एक तरफ मैं मान लूं लेकिन सरकार को 2 साल के लिए होल्ड कर रहे हैं आप लोग बैठी एक्सपर्ट ले आए और जो कमियां हैं उसमें सुधारी और नए ढंग से इसके कानून में संशोधन कर लिया जाए और फिर भारत जैसे विकासशील देश के लिए एग्रीकल्चर पर जहां आधे से ज्यादा आबादी रहती है 60 से 70% आबादी एग्रीकल्चर एग्रीकल्चर हमारे का नाम उसका बहुत बड़ा हिस्सा है 12 से 15 वर्ष हिस्सा इकोनॉमिक्स में हमारे आता है डीपी में तो निश्चित तौर पर इसकी जरूरत है यहां संभावनाएं है यहां से रामगढ़ तहसील से यहां से बड़े-बड़े इंडस्ट्री और के लिए अच्छी रायबरेली लेंगे और दूसरे की हमारे देश के लिए खाद्यान्न का और दूसरी चीजों को पादन के लिए एग्रीकल्चर का बढ़ना बहुत जरूरी है और 50 से 60 पर सेंट ने उनके जीवन स्तर सुधारना बहुत जरूरी है तो सरकार ने प्रयास किया है और निश्चित तौर पर उस प्रयास के तहत उसने कुछ कानून बनाए हैं अगर उसमें कमियां है तो निश्चित तौर सुधारा जा सकता है लेकिन जिस तरह से किसान बैठे ही हैं बंद करने के लिए कि नहीं भाई कानून वापस करो उसके सिवा कोई बात ही नहीं होगी तो वह तो गलत ना तो कहीं नहीं गई अब मुझे लगने लगा है कि इसमें कुछ वर्षों से प्रवेश कर चुके हैं जिस तरह से बहुत बड़ा लंगर चलता है उनके घर ऐसो आराम के सामान जिससे मैंने यहां देखा है बॉर्डर पर गाजीपुर में बसे लगी हुई है बे टंडन सिटी हटा दी ही अंदर पूरा लग्जरियस बनाकर उनके जो यहां पर हमारे इर्द-गिर्द से किसानों का रेला गया था और जुटा लिया पर बैठे हुए थे अंदर की तरफ और उसमें से हमने देखा वह बोतल शराब की भूख नहीं खाने की चीजें और जिस तरह से पाएगी क्योंकि हम लोग जिस एरिया में वहां से गुजरे और खुद हमने अपनी आंखों से देखा है कि यह चीज दिन है और वहां पर सब सो पचास तो ऐसे ही टाइटल हम लोग के पास से गुजरे हैं जहां पर होते इसी में वहां के लोग उस पर चढ़े हुए नौजवान पाएंगे तो उसे देखकर लगा कि यार नहीं यह किसान आंदोलन नहीं हो सकता है और भेजो और इसमें सोच लीजिए कि ट्रैक्टर का 560 किलोमीटर एवरेज होता है और यह 8085 रुपए लीटर डीजल का बहाना कितने करोड़ों रुपए की सोच लो कितना बड़ा है नेटवर्क हो सकता है तो कहीं ना कहीं मैं समझता हूं कि जिस तरह से जीत आई है और जिस तरह से किसानों की जीत बड़ा करके रखा जिस तरह से यह भावना आई है उस तरह से मुझे नहीं लगता है कि यह किसान आंदोलन है और इसके प्रति क्या फंक्शन है और हकीकत है कि वह किसान तो नहीं हो सकता जो हमारी तिरंगे का अपमान कर सके वह किसान तो नहीं हो सकता है जो हमारे लाल किला के जैसे नाच के तोड़ मत डाले उधर नहीं होता है जो बल्कि बैरिकेडिंग को मानने को तैयार नहीं है क्योंकि सहन नहीं होता है जो हमारे जवानों पर सीधे ट्रैक्टर को इतनी रफ्तार से चढ़ाने का प्रयास कर रहा है और ऐसे तत्वों को देखने के बाद बहुत दुख होता है और ऐसा लगता है कि वास्तव में किसान आंदोलन करने दिशा से बड़ा क्या है
Vaastav mein kisaan aandolan ka makasad kya hai dekhie shuruaatee daur mein to laga tha ki kisaan aandolan ka makasad kaanoonee ya jo kisaanon ke oopar jaatee ho rahee usase nivaaran karavaana hai lekin yah paristhitiyaan dheere-dheere jab badalatee ja rahee hai is tarah se 26 janavaree ko bhakti hee se laal kila aur dillee ke ird-gird aakraman kiya hotee thee sab roopon mein dekha gaya usako rile dekhane ke baad to aisa nahin lagata hai doosaree baat hai main mehamaanon ke teenon parchee kaanoon bhaarat ke sanvidhaan dvaara saare sansad dvaara paarit kiya gaya galat hai ek taraph main maan loon lekin sarakaar ko 2 saal ke lie hold kar rahe hain aap log baithee eksapart le aae aur jo kamiyaan hain usamen sudhaaree aur nae dhang se isake kaanoon mein sanshodhan kar liya jae aur phir bhaarat jaise vikaasasheel desh ke lie egreekalchar par jahaan aadhe se jyaada aabaadee rahatee hai 60 se 70% aabaadee egreekalchar egreekalchar hamaare ka naam usaka bahut bada hissa hai 12 se 15 varsh hissa ikonomiks mein hamaare aata hai deepee mein to nishchit taur par isakee jaroorat hai yahaan sambhaavanaen hai yahaan se raamagadh tahaseel se yahaan se bade-bade indastree aur ke lie achchhee raayabarelee lenge aur doosare kee hamaare desh ke lie khaadyaann ka aur doosaree cheejon ko paadan ke lie egreekalchar ka badhana bahut jarooree hai aur 50 se 60 par sent ne unake jeevan star sudhaarana bahut jarooree hai to sarakaar ne prayaas kiya hai aur nishchit taur par us prayaas ke tahat usane kuchh kaanoon banae hain agar usamen kamiyaan hai to nishchit taur sudhaara ja sakata hai lekin jis tarah se kisaan baithe hee hain band karane ke lie ki nahin bhaee kaanoon vaapas karo usake siva koee baat hee nahin hogee to vah to galat na to kaheen nahin gaee ab mujhe lagane laga hai ki isamen kuchh varshon se pravesh kar chuke hain jis tarah se bahut bada langar chalata hai unake ghar aiso aaraam ke saamaan jisase mainne yahaan dekha hai bordar par gaajeepur mein base lagee huee hai be tandan sitee hata dee hee andar poora lagjariyas banaakar unake jo yahaan par hamaare ird-gird se kisaanon ka rela gaya tha aur juta liya par baithe hue the andar kee taraph aur usamen se hamane dekha vah botal sharaab kee bhookh nahin khaane kee cheejen aur jis tarah se paegee kyonki ham log jis eriya mein vahaan se gujare aur khud hamane apanee aankhon se dekha hai ki yah cheej din hai aur vahaan par sab so pachaas to aise hee taital ham log ke paas se gujare hain jahaan par hote isee mein vahaan ke log us par chadhe hue naujavaan paenge to use dekhakar laga ki yaar nahin yah kisaan aandolan nahin ho sakata hai aur bhejo aur isamen soch leejie ki traiktar ka 560 kilomeetar evarej hota hai aur yah 8085 rupe leetar deejal ka bahaana kitane karodon rupe kee soch lo kitana bada hai netavark ho sakata hai to kaheen na kaheen main samajhata hoon ki jis tarah se jeet aaee hai aur jis tarah se kisaanon kee jeet bada karake rakha jis tarah se yah bhaavana aaee hai us tarah se mujhe nahin lagata hai ki yah kisaan aandolan hai aur isake prati kya phankshan hai aur hakeekat hai ki vah kisaan to nahin ho sakata jo hamaaree tirange ka apamaan kar sake vah kisaan to nahin ho sakata hai jo hamaare laal kila ke jaise naach ke tod mat daale udhar nahin hota hai jo balki bairikeding ko maanane ko taiyaar nahin hai kyonki sahan nahin hota hai jo hamaare javaanon par seedhe traiktar ko itanee raphtaar se chadhaane ka prayaas kar raha hai aur aise tatvon ko dekhane ke baad bahut dukh hota hai aur aisa lagata hai ki vaastav mein kisaan aandolan karane disha se bada kya hai

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
0:53
नोट कर दोस्तों कैसे हैं आप सवाल है वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या थी कि वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है यह मैं पूर्ण रुप से नहीं जानता बहुत से लोग इसे मतलब राजनीत की दृष्टि से देखती तो तो बहुत लोग मतलब किसानों के समर्थन के दृश्य देखकर उसे लोग लोग किसानों का समर्थन करते तो बहुत से लोगों ने सरकार का समर्थन करती हैं पर जो भी इसका समर्थन करता हूं अच्छी बात है लेकिन हमें जो खबरें सामने आती तो मतलब जो किसानों के लिए तीन बिल पास किए गए हमले में मोदी सरकार वापस लेता किन किसानों का कोई भी शोषण ना हो और जो मैंने पेमेंट भी निर्धारित किया गया इस 110 हमेशा के लिए मतलब कानून के तहत मतलब रखा है क्योंकि ताकि एसपी से कम रेट में तनु का नाचना खरीदा जाए तुम मिस करता हूं सवाल का जवाब अच्छा लगा हो बहुत धन्यवाद
Not kar doston kaise hain aap savaal hai vaastav mein kisaan aandolan ka makasad kya thee ki vaastav mein kisaan aandolan ka makasad kya hai yah main poorn rup se nahin jaanata bahut se log ise matalab raajaneet kee drshti se dekhatee to to bahut log matalab kisaanon ke samarthan ke drshy dekhakar use log log kisaanon ka samarthan karate to bahut se logon ne sarakaar ka samarthan karatee hain par jo bhee isaka samarthan karata hoon achchhee baat hai lekin hamen jo khabaren saamane aatee to matalab jo kisaanon ke lie teen bil paas kie gae hamale mein modee sarakaar vaapas leta kin kisaanon ka koee bhee shoshan na ho aur jo mainne pement bhee nirdhaarit kiya gaya is 110 hamesha ke lie matalab kaanoon ke tahat matalab rakha hai kyonki taaki esapee se kam ret mein tanu ka naachana khareeda jae tum mis karata hoon savaal ka javaab achchha laga ho bahut dhanyavaad

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक:
1:04
नमस्कार मित्र आप ने प्रश्न किया है वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है मित्र वैसे तो किसान आंदोलन का मकसद केवल है कि यही है कि किसान यह चाहते हैं कि केंद्र सरकार के द्वारा जो एमएसपी का बिल लाया जा रहा है उसे बिल को रोक सके वही चाहते हैं कि केंद्र सरकार इस बिल को वापस ले और पर इस किसान आंदोलन के आड़ में जो विपक्षी दल है वह भी अपनी रोटी सेकने में लग रहे हैं वह यह चाह रहे हैं कि इस आंदोलन के साथ में मोदी सरकार जो है वह गिर जाए पर ऐसा नहीं होगा मकसद तो केवल किसानों का यही रह गया था कि हमें इस बिल को रोकना है पर जो विपक्षी दल है और लोग और दल जो है साथ में वह इस कसार आंदोलन के साथ में अपना मकसद ले रखे हैं कि इसे मोदी सरकार को कैसे ने कैसे हमें गिराना है तो यही आप का उत्तर है धन्यवाद
Namaskaar mitr aap ne prashn kiya hai vaastav mein kisaan aandolan ka makasad kya hai mitr vaise to kisaan aandolan ka makasad keval hai ki yahee hai ki kisaan yah chaahate hain ki kendr sarakaar ke dvaara jo emesapee ka bil laaya ja raha hai use bil ko rok sake vahee chaahate hain ki kendr sarakaar is bil ko vaapas le aur par is kisaan aandolan ke aad mein jo vipakshee dal hai vah bhee apanee rotee sekane mein lag rahe hain vah yah chaah rahe hain ki is aandolan ke saath mein modee sarakaar jo hai vah gir jae par aisa nahin hoga makasad to keval kisaanon ka yahee rah gaya tha ki hamen is bil ko rokana hai par jo vipakshee dal hai aur log aur dal jo hai saath mein vah is kasaar aandolan ke saath mein apana makasad le rakhe hain ki ise modee sarakaar ko kaise ne kaise hamen giraana hai to yahee aap ka uttar hai dhanyavaad

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:23
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है देखिए यह हमारा देश लोकतंत्र के पक्ष में है और लोकतंत्र का मतलब होता है अपने अभिव्यक्ति की आजादी यदि हम को किसी कानून में तकलीफ होती है और तकलीफ तकलीफ इस प्रकार की होगी वह तकलीफ जिसके लिए कानून बनाया गया है उसे पूरी तरह से आच्छादित उन्नाव करके उस को तकलीफ देने वाला हो उसका जीवन खतरे में हो उसकी जमीन जा जा रही हो और पूंजीपतियों के चंगुल में फंसने की स्थिति में आ रहे हो कि अभी तो सब्जी आप थैले में ₹10 की गोभी ले लेते हैं तो वहीं पैकेट पैकेजिंग करके या को ₹100 की मिलेगी मिलेगी पूरी तरह से उस में जनता की परेशान होगी किसान भी परेशान होगा और जो उसके आरतियां यह भी उसे पड़ेगा जो लड़ाई कोई फायदा है और बाकी दोनों जनता को और किसान को कि दोनों को क्यों तकलीफ है कभी महंगाई बढ़ जाएगी उनको उचित मूल्य नहीं मिलेगा सारा लग जाए वह पूंजीपति ले जाएंगे इसलिए आंदोलन का मकसद है कि अपनी अस्मिता को बचाना अपनी जमीन को बचाना और अपने जीवन को खतरे से बचाता है यह इसका मकसद था
Vaastav mein kisaan aandolan ka makasad kya hai dekhie yah hamaara desh lokatantr ke paksh mein hai aur lokatantr ka matalab hota hai apane abhivyakti kee aajaadee yadi ham ko kisee kaanoon mein takaleeph hotee hai aur takaleeph takaleeph is prakaar kee hogee vah takaleeph jisake lie kaanoon banaaya gaya hai use pooree tarah se aachchhaadit unnaav karake us ko takaleeph dene vaala ho usaka jeevan khatare mein ho usakee jameen ja ja rahee ho aur poonjeepatiyon ke changul mein phansane kee sthiti mein aa rahe ho ki abhee to sabjee aap thaile mein ₹10 kee gobhee le lete hain to vaheen paiket paikejing karake ya ko ₹100 kee milegee milegee pooree tarah se us mein janata kee pareshaan hogee kisaan bhee pareshaan hoga aur jo usake aaratiyaan yah bhee use padega jo ladaee koee phaayada hai aur baakee donon janata ko aur kisaan ko ki donon ko kyon takaleeph hai kabhee mahangaee badh jaegee unako uchit mooly nahin milega saara lag jae vah poonjeepati le jaenge isalie aandolan ka makasad hai ki apanee asmita ko bachaana apanee jameen ko bachaana aur apane jeevan ko khatare se bachaata hai yah isaka makasad tha

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
Akash Chaudhary  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Akash जी का जवाब
Motivational speaker
2:36
नमस्कार आपका सवाल है वास्तव में किसान आंदोलन का क्या मकसद है तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद है मोदी विरोध की राजनीति वह मोदी का विरोध कर रहे हैं आपने देखा होगा कि सच्चाई के साथ बहुत कम लोग खड़े होते हैं और बुराई के साथ बहुत ज्यादा लोग खड़े हो जाते हैं प्रधानमंत्री मोदी ने सोच समझ के यह सब किया है खुद मोदी जी तो कानून नहीं बनाते कानून बनाते हैं कमेटी और बहुत सारी कमेटियां मिलकर कानून बनाती है तो मोदी जी ने तो ए कानून नहीं बनाया तो यह किसानों की सलाह पर ही कानून बनाया गया होगा तू आंदोलन का मकसद है मोदी जी की राजनीति की छवि को खराब करना जो नया वोटर है जो किसान वोटर है उसे किसान मोदी सरकार से तोड़ना क्योंकि उनका जो कमीशन है वह खत्म हो गया है जो दलाल बैठे थे ना पहले सरकार में उनका कमीशन खत्म हो गया है तो उनसे वह बातें नहीं बच रही है तीसरा कि पाकिस्तान परेशान है मोदी सरकार से किस तरह से उधर से थोड़ा सा भी अगर काम को कोई फर्क पड़ता है तो मोदी सरकार एकदम से जवाब देती है तो मौत पाकिस्तान भी इसके पीछे फंडिंग कर रहा है और खालिस्तान भी उसके पीछे फंडिंग कर रहा है चतुर्दशी दूसरा कि आपने देखा होगा कि आज के समय में किसान को इतनी फुर्सत नहीं है किसान इतना फ्री नहीं है कि वह जाकर के किसी धर्म में बैठेगा कोई टाइम है गन्ना छिलाई का टाइम है आलू की खुदाई का टाइम है इस टाइम आलू की खुदाई होती है और आपने वहां बॉर्डर पर पंजाब के किसान ज्यादा बैठे पंजाब के किसान तो भाई फ्री स्टाइल पूछो क्यों फ्री है क्योंकि वह मुंडी काट के धान काट के वहां झूमो के आए हैं और यूपी पश्चिम उत्तर प्रदेश सचिव किसान है जो पूरी यूपी का किसान है वह भी गंदा हो जा रहा है खेत से गन्ना निकाल रहा है उसे इतनी फुर्सत नहीं है कि वह जाकर धरने में बैठेगा किसान को इतनी फुर्सत तो होती थी कि वह अपने गांव में एक दावत में चला जाए वह धरने में चला जाएगा तो भाई थोड़ी सोच बदलो देश बदलेगा धन्यवाद अगर आपको मेरा जवाब अच्छा लगा हो तो लाइक और सब्सक्राइब जरूर करें
Namaskaar aapaka savaal hai vaastav mein kisaan aandolan ka kya makasad hai to main aapako bataana chaahoonga ki vaastav mein kisaan aandolan ka makasad hai modee virodh kee raajaneeti vah modee ka virodh kar rahe hain aapane dekha hoga ki sachchaee ke saath bahut kam log khade hote hain aur buraee ke saath bahut jyaada log khade ho jaate hain pradhaanamantree modee ne soch samajh ke yah sab kiya hai khud modee jee to kaanoon nahin banaate kaanoon banaate hain kametee aur bahut saaree kametiyaan milakar kaanoon banaatee hai to modee jee ne to e kaanoon nahin banaaya to yah kisaanon kee salaah par hee kaanoon banaaya gaya hoga too aandolan ka makasad hai modee jee kee raajaneeti kee chhavi ko kharaab karana jo naya votar hai jo kisaan votar hai use kisaan modee sarakaar se todana kyonki unaka jo kameeshan hai vah khatm ho gaya hai jo dalaal baithe the na pahale sarakaar mein unaka kameeshan khatm ho gaya hai to unase vah baaten nahin bach rahee hai teesara ki paakistaan pareshaan hai modee sarakaar se kis tarah se udhar se thoda sa bhee agar kaam ko koee phark padata hai to modee sarakaar ekadam se javaab detee hai to maut paakistaan bhee isake peechhe phanding kar raha hai aur khaalistaan bhee usake peechhe phanding kar raha hai chaturdashee doosara ki aapane dekha hoga ki aaj ke samay mein kisaan ko itanee phursat nahin hai kisaan itana phree nahin hai ki vah jaakar ke kisee dharm mein baithega koee taim hai ganna chhilaee ka taim hai aaloo kee khudaee ka taim hai is taim aaloo kee khudaee hotee hai aur aapane vahaan bordar par panjaab ke kisaan jyaada baithe panjaab ke kisaan to bhaee phree stail poochho kyon phree hai kyonki vah mundee kaat ke dhaan kaat ke vahaan jhoomo ke aae hain aur yoopee pashchim uttar pradesh sachiv kisaan hai jo pooree yoopee ka kisaan hai vah bhee ganda ho ja raha hai khet se ganna nikaal raha hai use itanee phursat nahin hai ki vah jaakar dharane mein baithega kisaan ko itanee phursat to hotee thee ki vah apane gaanv mein ek daavat mein chala jae vah dharane mein chala jaega to bhaee thodee soch badalo desh badalega dhanyavaad agar aapako mera javaab achchha laga ho to laik aur sabsakraib jaroor karen

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
Unknown
0:56
पास्को में किसान आंदोलन का क्या मतलब है वास्तव में किसान आंदोलन का जो मकसद है वह यह है कि जो हरियाणा और पंजाब और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसान हैं उनको जो भी फायदा मिलता है एमएसपी से तो और खास तौर पर हरियाणा और पंजाब के किसान होते हैं तो दो मुख्य फसलें वहां पर होती हैं हम उन दोनों की फसलों में कौन सी आती है तो गेहूं और चावल आती हैं तो हरियाणा और पंजाब के क्षेत्र में जितना भी उत्पादन होता है गेहूं का उसका 88 परसेंटेज बता कर लेती है और चावल का 70 बटन जितना भी होता है वह सरकार खरीद लेती है तो इमेज पी के ऊपर ही उनकी काम चल रहा है और मंडी है सरकारी मंडी में ही सारा चीज होता है और साथ में जो दलाली खाते हैं मैं मंडी और किसानों के बीच में उनका भी अच्छा खासा चल रहा है सिस्टम इस वजह से यह किसान चाहते हैं कि यह तीनों कानून जो हुए पूरी तरीके से खत्म हो जाए जिससे कि जो भी उनका यह पूरी तरीके से इनकार जो इकोनामी है वह चलता रहे यह मेन मकसद है इस किसान आंदोलन का धन्यवाद
Paasko mein kisaan aandolan ka kya matalab hai vaastav mein kisaan aandolan ka jo makasad hai vah yah hai ki jo hariyaana aur panjaab aur pashchimee uttar pradesh ke kisaan hain unako jo bhee phaayada milata hai emesapee se to aur khaas taur par hariyaana aur panjaab ke kisaan hote hain to do mukhy phasalen vahaan par hotee hain ham un donon kee phasalon mein kaun see aatee hai to gehoon aur chaaval aatee hain to hariyaana aur panjaab ke kshetr mein jitana bhee utpaadan hota hai gehoon ka usaka 88 parasentej bata kar letee hai aur chaaval ka 70 batan jitana bhee hota hai vah sarakaar khareed letee hai to imej pee ke oopar hee unakee kaam chal raha hai aur mandee hai sarakaaree mandee mein hee saara cheej hota hai aur saath mein jo dalaalee khaate hain main mandee aur kisaanon ke beech mein unaka bhee achchha khaasa chal raha hai sistam is vajah se yah kisaan chaahate hain ki yah teenon kaanoon jo hue pooree tareeke se khatm ho jae jisase ki jo bhee unaka yah pooree tareeke se inakaar jo ikonaamee hai vah chalata rahe yah men makasad hai is kisaan aandolan ka dhanyavaad

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:23
हमें किसान आंदोलन का मकसद क्या है दोस्तों वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद यह तीन जो काले कानून उन को खत्म किया जाए और एमएसपी यानी मिनिमम सपोर्ट प्राइस को लागू किया जाए इसके अतिरिक्त किसानों का और कोई मकसद नहीं है बस यही मकसद है इस आंदोलन आंदोलन जो किया जा रहा है इसमें सरकार की जो मांगी है यानी जो सरकार से जो मांग है किसानों की वह पूरी की जाए
Hamen kisaan aandolan ka makasad kya hai doston vaastav mein kisaan aandolan ka makasad yah teen jo kaale kaanoon un ko khatm kiya jae aur emesapee yaanee minimam saport prais ko laagoo kiya jae isake atirikt kisaanon ka aur koee makasad nahin hai bas yahee makasad hai is aandolan aandolan jo kiya ja raha hai isamen sarakaar kee jo maangee hai yaanee jo sarakaar se jo maang hai kisaanon kee vah pooree kee jae

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
0:44
938 आनंद उनका मकसद क्या है किसान आंदोलन का मकसद है जो किसान विरोधी बिल 2020 केंद्र सरकार ने पास ही है हर हालत में उच्च बिल्कुल दर्ज किया जाए क्योंकि वह बिल किसानों के टोटल शतक हो उनके भविष्य को उनके रोजगार को उनके परिवारों को या यह कहीं किसी के विनाश का सबसे बड़ा कारण साबित होगा इंडियन समस्त किसान एकजुट होकर इस आंदोलन के लिए आंदोलनरत है
938 aanand unaka makasad kya hai kisaan aandolan ka makasad hai jo kisaan virodhee bil 2020 kendr sarakaar ne paas hee hai har haalat mein uchch bilkul darj kiya jae kyonki vah bil kisaanon ke total shatak ho unake bhavishy ko unake rojagaar ko unake parivaaron ko ya yah kaheen kisee ke vinaash ka sabase bada kaaran saabit hoga indiyan samast kisaan ekajut hokar is aandolan ke lie aandolanarat hai

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
Rahul chaudhary Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:26
सवाल है कि वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है देखिए अब किसान आंदोलन का मकसद बहुत बड़ा हो गया जिस समय किसान आंदोलन की शुरुआत हो रही थी लोग दिल्ली की तरफ कूच कर रहे थे उस समय किसानों की दो या तीन मांगी थी कि इन कानूनों को वापस लिया जाए नहीं तो एमएसपी पर कानून बनाया जाए और लोगों को जो जिन जिन पर भी आपत्ति हैं उनको समझाया जाए लेकिन आज के समय में किसान पूरी तरह से 8 गए हैं कि किसानों को वापस गई थी काम कानूनों को वापस लिया जाए अगर उस समय सरकार थोड़ी दरियादिली दिखाती और एमएसपी पर कानून बना देती तो यह कानून आज किसने यह आंदोलन इतना बड़ा नहीं होता जितना आज के समय में हो गया तो यह सरकार की नाकामी है कहीं ना कहीं जो किसानों के प्रति जो सरकार का रवैया रहा स्टार्टिंग में कि हम यह तो ऐसे ही चलते रहेंगे जैसे उन्होंने सीए एनआरसी के जो मुद्दे थे उस पर जो दिल्ली साइन बाग में प्रदर्शन चल रही थी जैसे उन को कुचल दिया गया तो उन्हें लगा कि किसानों को भी ऐसे ही चले जाएगा लेकिन किसान यह देश की ताकत है इनको कुचलना इतना आसान नहीं है और जो आज के समय है वह किसान आंदोलन में भी थोड़ी है कि हठधर्मिता से आ गई है मेरी गुजारिश है सरकार से और किसान नेताओं से कि जल्दी से जल्दी समस्या का समाधान करें ताकि किसान भी अपने घर जा सके जो उनकी फसल खड़ी है उनको अच्छे से काट दी और अपना एक पालन कर सकें धन्यवाद
Savaal hai ki vaastav mein kisaan aandolan ka makasad kya hai dekhie ab kisaan aandolan ka makasad bahut bada ho gaya jis samay kisaan aandolan kee shuruaat ho rahee thee log dillee kee taraph kooch kar rahe the us samay kisaanon kee do ya teen maangee thee ki in kaanoonon ko vaapas liya jae nahin to emesapee par kaanoon banaaya jae aur logon ko jo jin jin par bhee aapatti hain unako samajhaaya jae lekin aaj ke samay mein kisaan pooree tarah se 8 gae hain ki kisaanon ko vaapas gaee thee kaam kaanoonon ko vaapas liya jae agar us samay sarakaar thodee dariyaadilee dikhaatee aur emesapee par kaanoon bana detee to yah kaanoon aaj kisane yah aandolan itana bada nahin hota jitana aaj ke samay mein ho gaya to yah sarakaar kee naakaamee hai kaheen na kaheen jo kisaanon ke prati jo sarakaar ka ravaiya raha staarting mein ki ham yah to aise hee chalate rahenge jaise unhonne seee enaarasee ke jo mudde the us par jo dillee sain baag mein pradarshan chal rahee thee jaise un ko kuchal diya gaya to unhen laga ki kisaanon ko bhee aise hee chale jaega lekin kisaan yah desh kee taakat hai inako kuchalana itana aasaan nahin hai aur jo aaj ke samay hai vah kisaan aandolan mein bhee thodee hai ki hathadharmita se aa gaee hai meree gujaarish hai sarakaar se aur kisaan netaon se ki jaldee se jaldee samasya ka samaadhaan karen taaki kisaan bhee apane ghar ja sake jo unakee phasal khadee hai unako achchhe se kaat dee aur apana ek paalan kar saken dhanyavaad

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
 Nida Rajput       Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए जी का जवाब
Student Computer Science Education
1:11
वादों में किसान आंदोलन का मकसद क्या है किसान आंदोलन का सिर्फ एक ही मकसद है वह जिस रूल को फॉलो करते आए हैं शुरू से लेकर अब तक वहीं पर अड़े हुए हैं क्यों उनसे उनका वह अधिकार ना जी ना जाए उनके पास देख कर दो ऑप्शन थे वह अपना जो नाज है वह किसी को भी अपने रेडियो पर भेज सकते हैं 28 29 दी उनके पास कि वह अपने रेटों पर सरकार को भी भेज सकते हैं और आम जनता को भी भेज सकते हैं लेकिन अब क्या है अब जो रेट निर्धारित करें कि वह सरकार निर्धारित करेगी किसान गेहूं ब्वॉय गर्ल और बॉय का काटेगा भी सबको पता है क्यों कितनी मेहनत करता है और उनकी फसल का जो रेट है वह सरकार तय करेगी निर्धारित करेगी क्यों इस बात को किसान आम किसान जो है वो एग्री नहीं कर रहे हैं वह चाहते हैं कि उनको उनको तो दिल दिया जा रहा है वह पास ना हो जो पुराना चला आ रहा है वही तब रहे जो हमारी दोनों छोटी थी हमारे जो हम रेट निकाला करते थे बस वही होनी चाहिए अंतर कार के रेट पर अपनी नाच को नहीं भेजेंगे निबंध

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
राम सिंह Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए राम जी का जवाब
शिक्षण
0:26
नमस्कार दोस्तों मैं राम सिंह पंकज आपका वाले की वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है सीधी सी बात आप पढ़ाई कर रहे आपका मकसद क्या है उसी प्रकार की स्थानांतरण हुआ क्या है सबसे पहले चरण में चाहिए कि हुआ क्या है कि किसी भी लाई दो तीन कृषि कार्यों में कन्वर्ट हो गया जो लागू होने वाले के साथ आंदोलन खड़ा हुआ है पश्चिम

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
Jeet Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Jeet जी का जवाब
Unknown
0:43

bolkar speaker
वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है?Vaastav Mein Kisaan Aandolan Ka Maksad Kya Hai
Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
1:40

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • वास्तव में किसान आंदोलन का मकसद क्या है किसान आंदोलन का मकसद क्या है
URL copied to clipboard