#भारत की राजनीति

bolkar speaker

किसान आंदोलन को मोदी जल्दी निपटाते क्यों नहीं?

Kisan Andolan Ko Modi Jaldi Niptate Kyun Nahin
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
2:06
सवाल मुझे बहुत ही बेहतरीन लगा मैं आपको बताना चाहूंगा सरकार यह चाहती है कि यह तीन कानून लगातार बनी रहे हैं जबकि किसान जाते हैं यह तीन काले कानून है यह हटनी चाहिए सरकार इसलिए नहीं चाहती क्योंकि सरकार हमेशा से बेनिफिट देखती है अब सरकार की कमाई कहां से होती है कुछ भ्रष्ट नेता ऐसे भी होते हैं जो अपनी गाढ़ी कमाई करने के लिए यह डायरेक्ट गवर्नमेंट फंड से पैसे नहीं ले सकते हैं यह लोग इनडायरेक्ट तरीका अपनाते हैं जैसे अंबानी अडानी का नाम आ रहा है कि बहुत सारे अनाज के स्टोरेज करने के लिए इन लोगों ने सोनीपत साइड में बहुत सारे टैंकर बना रखी है जिसमें अनाज को एकत्रित किया जा रहा है और अनाज खरीद के वहां पर स्टोर किया जा रहा है आप सभी जानते होंगे जिन चीजों की कीमतें बढ़ती है उन चीजों का स्टोरेज हो चुका होता है जैसे कि प्याज की कीमत बीच में बढ़ गई थी क्योंकि प्याज को स्टोर कर लिया गया था इसीलिए जितने भी राजनीतिक नेता होते हैं और वह लोग यह चाहते हैं कि यह बिल पास होने से उन लोगों का फायदा होगा वह लोग अनाज को स्टोर करेंगे और आने वाले समय में महंगी दरों में वह लोग बेचेंगे जो कि किसान नहीं चाहते इस बिल में काफी चीजें जो है छोटे किसानों को तो इतना फर्क नहीं पड़ेगा लेकिन बड़े किसानों को इससे बहुत ज्यादा फर्क पड़ने वाला है क्योंकि उनके अनाज की कीमत एमएसपी जो मिनिमम एसएलप्राइस है वह भी तय नहीं किया गया था उसमें संशोधन हालांकि बाद में किया गया इस तरह की बहुत सारी कमियां है जो सही होनी चाहिए इसीलिए सरकार चाहती है कि किसान मान जाए और वह लोग उन उद्योगपतियों को अनाज का एक बार वह प्रोसेस शुरू हो जाए जिसमें वह अनाज किसानों से खरीदेंगे और 11 क्षेत्र 11 कंपनी के अंडर में रहेगा और यह चीज किसान नहीं चाहते किसान चाहते हैं उनका अनाज वह कहीं भी भेजे लेकिन वह किसी कंपनी के अधीन ना हो थैंक यू थैंक यू वेरी मच
Savaal mujhe bahut hee behatareen laga main aapako bataana chaahoonga sarakaar yah chaahatee hai ki yah teen kaanoon lagaataar banee rahe hain jabaki kisaan jaate hain yah teen kaale kaanoon hai yah hatanee chaahie sarakaar isalie nahin chaahatee kyonki sarakaar hamesha se beniphit dekhatee hai ab sarakaar kee kamaee kahaan se hotee hai kuchh bhrasht neta aise bhee hote hain jo apanee gaadhee kamaee karane ke lie yah daayarekt gavarnament phand se paise nahin le sakate hain yah log inadaayarekt tareeka apanaate hain jaise ambaanee adaanee ka naam aa raha hai ki bahut saare anaaj ke storej karane ke lie in logon ne soneepat said mein bahut saare tainkar bana rakhee hai jisamen anaaj ko ekatrit kiya ja raha hai aur anaaj khareed ke vahaan par stor kiya ja raha hai aap sabhee jaanate honge jin cheejon kee keematen badhatee hai un cheejon ka storej ho chuka hota hai jaise ki pyaaj kee keemat beech mein badh gaee thee kyonki pyaaj ko stor kar liya gaya tha iseelie jitane bhee raajaneetik neta hote hain aur vah log yah chaahate hain ki yah bil paas hone se un logon ka phaayada hoga vah log anaaj ko stor karenge aur aane vaale samay mein mahangee daron mein vah log bechenge jo ki kisaan nahin chaahate is bil mein kaaphee cheejen jo hai chhote kisaanon ko to itana phark nahin padega lekin bade kisaanon ko isase bahut jyaada phark padane vaala hai kyonki unake anaaj kee keemat emesapee jo minimam eselaprais hai vah bhee tay nahin kiya gaya tha usamen sanshodhan haalaanki baad mein kiya gaya is tarah kee bahut saaree kamiyaan hai jo sahee honee chaahie iseelie sarakaar chaahatee hai ki kisaan maan jae aur vah log un udyogapatiyon ko anaaj ka ek baar vah proses shuroo ho jae jisamen vah anaaj kisaanon se khareedenge aur 11 kshetr 11 kampanee ke andar mein rahega aur yah cheej kisaan nahin chaahate kisaan chaahate hain unaka anaaj vah kaheen bhee bheje lekin vah kisee kampanee ke adheen na ho thaink yoo thaink yoo veree mach

और जवाब सुनें

bolkar speaker
किसान आंदोलन को मोदी जल्दी निपटाते क्यों नहीं?Kisan Andolan Ko Modi Jaldi Niptate Kyun Nahin
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
1:40
प्रश्न पूछा है कि किसान आंदोलन को मोदी जल्दी निपटा थे क्यों नहीं किसान आंदोलन को सरकार द्वारा प्रायोजित आंदोलन नहीं है यानी को पता नहीं चला रही है इसलिए इसका निवारण करने के लिए सरकार या तो किसानों की मांगों को माने इन तीनों तीनों कानूनों को रद्द करें या फिर सरकार किसानों के आंदोलन को बलपूर्वक हटाए बलपूर्वक जबरन बंद करा है दोनों ही स्थिति में कानून व्यवस्था का प्रश्न उठेगा क्योंकि जो किसान है वह फर्स्ट प्रयास में है वह नहीं चाहती कि दुकान में किसी भी हालत में इंपोर्ट किए जाएं और वैसे भी जो सुप्रीम कोर्ट का निर्णय था कि इसको 18 महीने के लिए तो वैसे ही एक सस्पेंडेड है अभी 18 महीनों तक तो यह प्रभावी होगा नहीं वह कानून तो इसलिए सरकार इस समय मैं समझता हूं बहुत खूब खूब कर कदम रख रही है इसीलिए शायद वह आंदोलन को कमजोर करने का प्रयास तो कर रही है जिस प्रकार से 26 जनवरी की घटना हुई थी उसके बाद कमजोर आंदोलन पड़ा था लेकिन हमने देखा कि किसान नेताओं की भावुक अपील से दोबारा उस आंदोलन में जान आ गई और यह सरकार के लिए चिंता का विषय बना हुआ है और सरकार मुझे लगता है ऐसा कोई भी कदम तुरंत इसलिए नहीं उठा रही क्योंकि इससे शायद गलत संदेश जा सकता है जनता में अगर सरकार किसानों के विरुद्ध कोई जबरन कार्यवाही करती है बहुत-बहुत धन्यवाद
Prashn poochha hai ki kisaan aandolan ko modee jaldee nipata the kyon nahin kisaan aandolan ko sarakaar dvaara praayojit aandolan nahin hai yaanee ko pata nahin chala rahee hai isalie isaka nivaaran karane ke lie sarakaar ya to kisaanon kee maangon ko maane in teenon teenon kaanoonon ko radd karen ya phir sarakaar kisaanon ke aandolan ko balapoorvak hatae balapoorvak jabaran band kara hai donon hee sthiti mein kaanoon vyavastha ka prashn uthega kyonki jo kisaan hai vah pharst prayaas mein hai vah nahin chaahatee ki dukaan mein kisee bhee haalat mein import kie jaen aur vaise bhee jo supreem kort ka nirnay tha ki isako 18 maheene ke lie to vaise hee ek saspended hai abhee 18 maheenon tak to yah prabhaavee hoga nahin vah kaanoon to isalie sarakaar is samay main samajhata hoon bahut khoob khoob kar kadam rakh rahee hai iseelie shaayad vah aandolan ko kamajor karane ka prayaas to kar rahee hai jis prakaar se 26 janavaree kee ghatana huee thee usake baad kamajor aandolan pada tha lekin hamane dekha ki kisaan netaon kee bhaavuk apeel se dobaara us aandolan mein jaan aa gaee aur yah sarakaar ke lie chinta ka vishay bana hua hai aur sarakaar mujhe lagata hai aisa koee bhee kadam turant isalie nahin utha rahee kyonki isase shaayad galat sandesh ja sakata hai janata mein agar sarakaar kisaanon ke viruddh koee jabaran kaaryavaahee karatee hai bahut-bahut dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard