#भारत की राजनीति

bolkar speaker

क्या भारत के संविधान में बजट का उल्लेख किया गया है?

Kya Bharat Ke Sanvidhan Mein Budget Ka Ullekh Kiya Gya Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
4:05
सवाल ये है कि क्या भारत के संविधान में बजट का उल्लेख किया गया है तो जी हां भारत भारतीय संविधान के अनुच्छेद 112 में यूनियन बजट का उल्लेख भारतीय वित्तीय विवरण के रूप में है यूनियन बजट में सरकार की आमदनी और प्रस्तावित योजनाओं पर होने वाले खर्च का विवरण होता है तो अब बजट की उत्पत्ति बजट शब्द वास्तव में लैटिन शब्द गुड़गांव से लिया गया है मुर्गा का अर्थ होता है चमड़े का थैला इसके बाद यह शब्द फ्रांस की भाषा में बहुत गैस बन गया इसके बाद थोड़े से ही भ्रष्ट के बाद अंग्रेजी में यह शब्द दोगे या अपोजिट के नाम से बना बाद में यही शब्द बजट बन गया भारत में बजट यूनियन बजट की शुरुआत भारत में पहला बजट ईस्ट इंडिया कंपनी ने जेम्स विल्सन के विल्सन ने 18 फरवरी अट्ठारह सौ चार्ट को पेश किया था ना जैंसर्तन को भारतीय बजट व्यवस्था का जनक भी कहा जाता है भारत में 1 अप्रैल से 31 मार्च तक चलने वाले वित्त वर्ष की शुरुआत 18 सो 67 में हुई थी इसके पहले पहले तक 1 मई से 30 अप्रैल तक वित्त वर्ष होता था आजाद भारत का पहला बजट स्वतंत्र भारत का पहला बजट वित्त मंत्री आरके षणमुखम चेट्टी ने 26 नवंबर 1947 को पेश किया था गणतंत्र भारत का पहला बजट 28 फरवरी 1950 को जॉन मथाई ने पेश किया था शेट्टी ने 1948 से 1949 के बजट में पहली बार अंतिम शब्द का प्रयोग किया इसके बाद ही छोटी अवधि के बजट के लिए अंतरिम शब्द का प्रयोग हुआ बजट पेपर पहले राष्ट्रपति भवन में छापे जाते थे लेकिन साल 1950 में बजट पेपर लीक होने जाने के बाद इसे दिल्ली के मिंटो रोड सिक्योरिटी प्रेस में छापा जाने लगा साल 1980 से बजट पेपर नॉर्थ ब्लॉक से प्रिंट होने लगे तो रात में बजट अंग्रेजी में बनाया जाता था लेकिन साल 1955 से 1956 के बजट दस्तावेज हिंदी में भी तैयार किए जाने लगे साल 1955 56 में बजट में पहली बार काला धन उजागर करने की योजना शुरू हुई बजट की गोपनीयता बजट छपने के लिए भेजने से भेजे जाने से पहले वित्त मंत्री मंत्रालय में हलवा खाने की रस्म निभाई जाती है हलवा खाने की इस रस्म के बाद बजट पेश होने तक वित्त मंत्रालय के अधिकारी किसी के संपर्क में नहीं रहते इस दौरान में अपने परिवार से भी दूर रहते हैं वे इस दौरान वित्त मंत्रालय में ही कहते हैं बजट की गोपनीय गोपनीयता के हिसाब से नॉर्थ ब्लॉक में मोबाइल जैमर लगा होता है सबसे अधिक बजट पेश करने की रिपोर्ट देश के पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई ने अब तक सबसे अधिक 10 बार बजट पेश किया वे छह बार वित्त मंत्री और 4 वर्ष प्रधानमंत्री रहे इनमें से दो अंतरिम बजट भी शामिल है अपने जन्मदिवस पर दो बार बजट पेश करने वाले पहले वाले देश के एकमात्र वित्त मंत्री रहे साल 2000 तक अंग्रेजी परंपरा के हिसाब से बजट शाम 5:00 बजे पेश किया जाता था साल 2001 में अटल बिहारी बाजपेई ने के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार ने इस परंपरा को तोड़ा और सुबह 11:00 बजे संसद में बजट पेश करने की परंपरा शुरू की थी शाम में बजट पेश कर का चलन ब्रिटिश संसद के आधार पर तय किया गया था
Savaal ye hai ki kya bhaarat ke sanvidhaan mein bajat ka ullekh kiya gaya hai to jee haan bhaarat bhaarateey sanvidhaan ke anuchchhed 112 mein yooniyan bajat ka ullekh bhaarateey vitteey vivaran ke roop mein hai yooniyan bajat mein sarakaar kee aamadanee aur prastaavit yojanaon par hone vaale kharch ka vivaran hota hai to ab bajat kee utpatti bajat shabd vaastav mein laitin shabd gudagaanv se liya gaya hai murga ka arth hota hai chamade ka thaila isake baad yah shabd phraans kee bhaasha mein bahut gais ban gaya isake baad thode se hee bhrasht ke baad angrejee mein yah shabd doge ya apojit ke naam se bana baad mein yahee shabd bajat ban gaya bhaarat mein bajat yooniyan bajat kee shuruaat bhaarat mein pahala bajat eest indiya kampanee ne jems vilsan ke vilsan ne 18 pharavaree atthaarah sau chaart ko pesh kiya tha na jainsartan ko bhaarateey bajat vyavastha ka janak bhee kaha jaata hai bhaarat mein 1 aprail se 31 maarch tak chalane vaale vitt varsh kee shuruaat 18 so 67 mein huee thee isake pahale pahale tak 1 maee se 30 aprail tak vitt varsh hota tha aajaad bhaarat ka pahala bajat svatantr bhaarat ka pahala bajat vitt mantree aarake shanamukham chettee ne 26 navambar 1947 ko pesh kiya tha ganatantr bhaarat ka pahala bajat 28 pharavaree 1950 ko jon mathaee ne pesh kiya tha shettee ne 1948 se 1949 ke bajat mein pahalee baar antim shabd ka prayog kiya isake baad hee chhotee avadhi ke bajat ke lie antarim shabd ka prayog hua bajat pepar pahale raashtrapati bhavan mein chhaape jaate the lekin saal 1950 mein bajat pepar leek hone jaane ke baad ise dillee ke minto rod sikyoritee pres mein chhaapa jaane laga saal 1980 se bajat pepar north blok se print hone lage to raat mein bajat angrejee mein banaaya jaata tha lekin saal 1955 se 1956 ke bajat dastaavej hindee mein bhee taiyaar kie jaane lage saal 1955 56 mein bajat mein pahalee baar kaala dhan ujaagar karane kee yojana shuroo huee bajat kee gopaneeyata bajat chhapane ke lie bhejane se bheje jaane se pahale vitt mantree mantraalay mein halava khaane kee rasm nibhaee jaatee hai halava khaane kee is rasm ke baad bajat pesh hone tak vitt mantraalay ke adhikaaree kisee ke sampark mein nahin rahate is dauraan mein apane parivaar se bhee door rahate hain ve is dauraan vitt mantraalay mein hee kahate hain bajat kee gopaneey gopaneeyata ke hisaab se north blok mein mobail jaimar laga hota hai sabase adhik bajat pesh karane kee riport desh ke poorv pradhaanamantree moraarajee desaee ne ab tak sabase adhik 10 baar bajat pesh kiya ve chhah baar vitt mantree aur 4 varsh pradhaanamantree rahe inamen se do antarim bajat bhee shaamil hai apane janmadivas par do baar bajat pesh karane vaale pahale vaale desh ke ekamaatr vitt mantree rahe saal 2000 tak angrejee parampara ke hisaab se bajat shaam 5:00 baje pesh kiya jaata tha saal 2001 mein atal bihaaree baajapeee ne ke netrtv vaalee enadeee sarakaar ne is parampara ko toda aur subah 11:00 baje sansad mein bajat pesh karane kee parampara shuroo kee thee shaam mein bajat pesh kar ka chalan british sansad ke aadhaar par tay kiya gaya tha

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारतीय बजट का इतिहास, संसद के सदन पर बजट की घोषणा कौन करता है, लोकसभा में केंद्रीय बजट पेश करने वाली पहली महिला कौन थी
URL copied to clipboard