#जीवन शैली

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:32
आपका सवाल है कि क्या लड़कियों का अनुपात लड़कों के मुकाबले इसलिए कम हो रहा है क्योंकि लोग आजकल दहेज की मांग बहुत ज्यादा कर रहे हैं तो दहेज ही नहीं है जिसके वजह से उनके लड़कियों का जो अनुपात और जुड़े हुए हैं वह कम होता जा रहा है आज भी बहुत सारे लोगों का यह सोच है कि अगर लड़की पैदा हो रही है तो सोचते हैं कि अभी उसे पढ़ा ना लिखा ना बड़ा करना फिर शादी करना प्रॉब्लम होने लगता है तो सोचते हैं कि नहीं जितना भी खर्चा आ जाएगा वह घर के घर में ही रहेगा तो आज भी मेरे आस-पास भी मैं बहुत सारे लोगों को देखकर भाई अगर लड़की जन्म लेती है तो इतना धूमधाम से कोई पार्टी नहीं भाई अगर लड़का जन्म लेता है तो बहुत धूमधाम से पार्टी होता है सबको इनवाइट किया जाता है अभी भी लोग कहीं ना कहीं यह सोचते हैं तो यह तो एक कारण हो जाता है दूसरा यह होता है कि चाइल्ड मैरिज अगर बचपन में शादी कर दी जाती है और जरूरी नहीं ससुराल अच्छे से मिले तो या तो लड़की आत्महत्या कर लेती है अगर उनके साथ शराब मतलब शुरू किया जाता है तो या फिर जो ससुराल वाले ही मार देते तो यह भी एक कारण है जिसकी वजह से ईश्वर अनुपात कम होता जा रहा है उसके बाद आप देखिए जो दहेज के लिए जब बोला जाता है चाहे वह शादी के दिन बोला जाए या फिर उससे पहले बोला जाए तो दहेज मांगे जा रहे हर एक जगह से जितनी भी रिश्तेदारी दहेज की वजह से रिश्ते टूट जाए तो लड़की पर मतलब मेंटली तौर पर दिमागी तौर पर बहुत ज्यादा असर पड़ता है तो जिसकी वजह से वह आत्महत्या कर लेती है या फिर कुछ भी प्रॉब्लम होता है यही सब बहुत सारे कारण है जो हम लोग मतलब आजकल देख रहे हैं तू ससुराल में जो मारपीट होता तो ऐसे बहुत सारे कारण हैं जिसकी वजह से लड़की अगर पता चलता है कि हां पैदा होने वाली आज जन्म लेने वाली है तो उसे उसी वक्त ही सब देखकर ही मार दिया जाता है तो ऐसे बहुत सारे कारण हैं जिसकी वजह से रेशों का हो रहा है तो यह सोच रहा साइटिका मेंटालिटी जो दिमाग है वह बदलना बहुत जरूरी है क्योंकि अगर ऐसा सोचेंगे कि हां सिर्फ लड़का ही अच्छा है भाई अच्छा कर सकता है और ऐसे लड़की को कैसे मारते रहेंगे या फिर पैदा हो रही है तो किसी कारण के वजह से उसके साथ गंदा व्यवहार किया जा रहा जिसकी वजह से वह मर जाते थे सारे क्राइम सो रहा है तो ऐसे रिशु तो उसको कम ही होगा और हर चीज बैलेंस में चलता है तो सही रहता है अभी भी लोग इतना नहीं समझता भी बोझ समझते तो लोगों की सोच विचार में परिवर्तन आना बहुत जरूरी है
Aapaka savaal hai ki kya ladakiyon ka anupaat ladakon ke mukaabale isalie kam ho raha hai kyonki log aajakal dahej kee maang bahut jyaada kar rahe hain to dahej hee nahin hai jisake vajah se unake ladakiyon ka jo anupaat aur jude hue hain vah kam hota ja raha hai aaj bhee bahut saare logon ka yah soch hai ki agar ladakee paida ho rahee hai to sochate hain ki abhee use padha na likha na bada karana phir shaadee karana problam hone lagata hai to sochate hain ki nahin jitana bhee kharcha aa jaega vah ghar ke ghar mein hee rahega to aaj bhee mere aas-paas bhee main bahut saare logon ko dekhakar bhaee agar ladakee janm letee hai to itana dhoomadhaam se koee paartee nahin bhaee agar ladaka janm leta hai to bahut dhoomadhaam se paartee hota hai sabako inavait kiya jaata hai abhee bhee log kaheen na kaheen yah sochate hain to yah to ek kaaran ho jaata hai doosara yah hota hai ki chaild mairij agar bachapan mein shaadee kar dee jaatee hai aur jarooree nahin sasuraal achchhe se mile to ya to ladakee aatmahatya kar letee hai agar unake saath sharaab matalab shuroo kiya jaata hai to ya phir jo sasuraal vaale hee maar dete to yah bhee ek kaaran hai jisakee vajah se eeshvar anupaat kam hota ja raha hai usake baad aap dekhie jo dahej ke lie jab bola jaata hai chaahe vah shaadee ke din bola jae ya phir usase pahale bola jae to dahej maange ja rahe har ek jagah se jitanee bhee rishtedaaree dahej kee vajah se rishte toot jae to ladakee par matalab mentalee taur par dimaagee taur par bahut jyaada asar padata hai to jisakee vajah se vah aatmahatya kar letee hai ya phir kuchh bhee problam hota hai yahee sab bahut saare kaaran hai jo ham log matalab aajakal dekh rahe hain too sasuraal mein jo maarapeet hota to aise bahut saare kaaran hain jisakee vajah se ladakee agar pata chalata hai ki haan paida hone vaalee aaj janm lene vaalee hai to use usee vakt hee sab dekhakar hee maar diya jaata hai to aise bahut saare kaaran hain jisakee vajah se reshon ka ho raha hai to yah soch raha saitika mentaalitee jo dimaag hai vah badalana bahut jarooree hai kyonki agar aisa sochenge ki haan sirph ladaka hee achchha hai bhaee achchha kar sakata hai aur aise ladakee ko kaise maarate rahenge ya phir paida ho rahee hai to kisee kaaran ke vajah se usake saath ganda vyavahaar kiya ja raha jisakee vajah se vah mar jaate the saare kraim so raha hai to aise rishu to usako kam hee hoga aur har cheej bailens mein chalata hai to sahee rahata hai abhee bhee log itana nahin samajhata bhee bojh samajhate to logon kee soch vichaar mein parivartan aana bahut jarooree hai

और जवाब सुनें

Hitesh jain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Hitesh जी का जवाब
Blogger- Content Writer
2:20
आज का सवाल बहुत ही अच्छा है तो मैं डायरेक्ट जवाब देना चाहूंगा कि सवाल काफी बड़ा पूछा है तो हां यह सही बात है कि दहेज के कारण भी काफी लड़कियों का अनुपात लड़कों के मामले में कम हो रहा है और काफी लड़कियों को मतलब ऐसा है कि गलत तरीके से ठीक किया जाता है ससुराल में या फिर गलत तरीके से ऐसा मतलब उन्हें मानसिक पीड़ा दी जाती है कि या तो बात कर लेती है या फिर उन्हें कोई मार देते हैं तो ऐसी काफी चीजें होती है जैसे कि अगर आप चाहे तो आपने देखा ही होगा यूट्यूब मतलब आजकल कितनी कैसे सो रहे हैं टीवी में भी नहीं है या सोशल मीडिया पर भी तो हर जगह हो रहे तो शायद एक कारण जो मुझे यह चाहिए यह दहेज का जो है यह दहेज प्रथा जो है वह बंद हो जानी चाहिए या अगर होए तो दोनों तरफ से चालू होनी चाहिए लड़के की तरफ से भी लड़की की तरफ से भी चीज भी नहीं था हो गया उस दिन लड़कियों का अनुपात तो होना खत्म हो जाएगा कम होना क्योंकि अगर दहेज देने की बात आती तो से लड़की वाले ही क्यों दे लड़के वाले भी देना चाहिए तो अब जब दोनों तरफ समानता होगी तो जहां समानता होती है वहां कोई भी विकल्प बचता ही नहीं है वहां सलूशन ही होता है तो यही है कि अगर हमें दहेज प्रथा खत्म करनी है तो यही है कि वहां लड़कियों के पिता को ही नहीं लड़कों के पिता को भी दहेज देना चाहिए दोनों तरफ से जब समानता हो जाएगी तब कोई कुछ नहीं किसी से कुछ मांगे तो नहीं हो जब कोई किसी को कुछ मांगे तो ही नहीं तो यह सारे जो जो होते हैं का क्रिमिनल एक्टिविटीज यह नहीं होगी तो बेटा ज्यादा शब्द नहीं है कहने के लिए लेकिन आएगी क्वेश्चन का आंसर घर में दो तो यही है दहेज ही सबसे बड़ा कारण है लड़कियों के अनुपात कम होने का और दूसरा कारण है कि कुछ फैमिली कैसी है जिनको लड़कियां नहीं चाहिए 3 लड़के चाहिए होते तो वह काफी सारी लड़कियों का नहीं चाहता तो वापस ऐड करवा देते या कुछ गलत है डेट तो वह सब नहीं होना चाहिए इस क्वेश्चन का आंसर गई है जो आपको क्वेश्चन किया है उसके उसको सिंह आंसर सही है कि हादसे में और दूसरे भी काफी सरकारों की जमीन आपको 12 बताएंगे तो बस थैंक यू वेरी मच आपको अच्छा लगे तो प्लीज लाइक शेयर सब्सक्राइब करें
Aaj ka savaal bahut hee achchha hai to main daayarekt javaab dena chaahoonga ki savaal kaaphee bada poochha hai to haan yah sahee baat hai ki dahej ke kaaran bhee kaaphee ladakiyon ka anupaat ladakon ke maamale mein kam ho raha hai aur kaaphee ladakiyon ko matalab aisa hai ki galat tareeke se theek kiya jaata hai sasuraal mein ya phir galat tareeke se aisa matalab unhen maanasik peeda dee jaatee hai ki ya to baat kar letee hai ya phir unhen koee maar dete hain to aisee kaaphee cheejen hotee hai jaise ki agar aap chaahe to aapane dekha hee hoga yootyoob matalab aajakal kitanee kaise so rahe hain teevee mein bhee nahin hai ya soshal meediya par bhee to har jagah ho rahe to shaayad ek kaaran jo mujhe yah chaahie yah dahej ka jo hai yah dahej pratha jo hai vah band ho jaanee chaahie ya agar hoe to donon taraph se chaaloo honee chaahie ladake kee taraph se bhee ladakee kee taraph se bhee cheej bhee nahin tha ho gaya us din ladakiyon ka anupaat to hona khatm ho jaega kam hona kyonki agar dahej dene kee baat aatee to se ladakee vaale hee kyon de ladake vaale bhee dena chaahie to ab jab donon taraph samaanata hogee to jahaan samaanata hotee hai vahaan koee bhee vikalp bachata hee nahin hai vahaan salooshan hee hota hai to yahee hai ki agar hamen dahej pratha khatm karanee hai to yahee hai ki vahaan ladakiyon ke pita ko hee nahin ladakon ke pita ko bhee dahej dena chaahie donon taraph se jab samaanata ho jaegee tab koee kuchh nahin kisee se kuchh maange to nahin ho jab koee kisee ko kuchh maange to hee nahin to yah saare jo jo hote hain ka kriminal ektiviteej yah nahin hogee to beta jyaada shabd nahin hai kahane ke lie lekin aaegee kveshchan ka aansar ghar mein do to yahee hai dahej hee sabase bada kaaran hai ladakiyon ke anupaat kam hone ka aur doosara kaaran hai ki kuchh phaimilee kaisee hai jinako ladakiyaan nahin chaahie 3 ladake chaahie hote to vah kaaphee saaree ladakiyon ka nahin chaahata to vaapas aid karava dete ya kuchh galat hai det to vah sab nahin hona chaahie is kveshchan ka aansar gaee hai jo aapako kveshchan kiya hai usake usako sinh aansar sahee hai ki haadase mein aur doosare bhee kaaphee sarakaaron kee jameen aapako 12 bataenge to bas thaink yoo veree mach aapako achchha lage to pleej laik sheyar sabsakraib karen

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या लड़कियों का अनुपात लड़कों के मुकाबले इसीलिए कम हो रहा है क्योंकि लोग आजकल दहेज की मांग बहुत ज्यादा कर रहे हैं
URL copied to clipboard