#undefined

KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
Unknown
1:52
सवाल है ऐसा क्या है जिसे मनुष्य बहुत ध्यान से सुनता है और ऐसा क्या है जिसे मनुष्य ध्यान से नहीं सुनता है देखिए खुशहाल जिंदगी के लिए आचार्य चाणक्य ने कई नीतियां बतलाई है अगर आप भी अपनी जिंदगी में सुख और शांति चाहते हैं तो चाणक्य जी के * विचारों को अपने जीवन में जरूर उतारी आचार्य चाणक्य की नीतियां और विचार भले ही आपको थोड़ी कठोर लगे लेकिन यह कठोरता ही जीवन की सच्चाई है हम लोग भाग दौड़ भरी जिंदगी में इन विचारों को भले ही नजरअंदाज कर दी लेकिन यह वचन जीवन की हर कसौटी पर आपकी मदद करेंगे आचार्य चाणक्य के इन्हीं विचारों में से हम एक आज उनके विचार का विश्लेषण करेंगे ध्यान दीजिएगा नसीहत वह सच्चाई है जिसे हम कभी ध्यान से नहीं सुनते और तारीफ वह भूखा है जिसे हम पूरे ध्यान से सुनते हैं आचार्य चाणक्य के इस कथन का अर्थ है कि मनुष्य अपने जीवन में हमेशा एक चीज को ध्यान से सुनता है और दूसरी चीज को इग्नोर करता है मनुष्य जिस जिस चीज को सबसे ज्यादा ध्यान से सुनता है वह एक धोखा है जिसे आज तारीफ के नाम से जाना जाता है लोग बहुत पसंद करते हैं वही जिस चीज को ध्यान से नहीं सुनता है वह नसीहत होती है जो कि सच्चाई है धन्यवाद
Savaal hai aisa kya hai jise manushy bahut dhyaan se sunata hai aur aisa kya hai jise manushy dhyaan se nahin sunata hai dekhie khushahaal jindagee ke lie aachaary chaanaky ne kaee neetiyaan batalaee hai agar aap bhee apanee jindagee mein sukh aur shaanti chaahate hain to chaanaky jee ke * vichaaron ko apane jeevan mein jaroor utaaree aachaary chaanaky kee neetiyaan aur vichaar bhale hee aapako thodee kathor lage lekin yah kathorata hee jeevan kee sachchaee hai ham log bhaag daud bharee jindagee mein in vichaaron ko bhale hee najarandaaj kar dee lekin yah vachan jeevan kee har kasautee par aapakee madad karenge aachaary chaanaky ke inheen vichaaron mein se ham ek aaj unake vichaar ka vishleshan karenge dhyaan deejiega naseehat vah sachchaee hai jise ham kabhee dhyaan se nahin sunate aur taareeph vah bhookha hai jise ham poore dhyaan se sunate hain aachaary chaanaky ke is kathan ka arth hai ki manushy apane jeevan mein hamesha ek cheej ko dhyaan se sunata hai aur doosaree cheej ko ignor karata hai manushy jis jis cheej ko sabase jyaada dhyaan se sunata hai vah ek dhokha hai jise aaj taareeph ke naam se jaana jaata hai log bahut pasand karate hain vahee jis cheej ko dhyaan se nahin sunata hai vah naseehat hotee hai jo ki sachchaee hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • ऐसा क्या है जिसे मनुष्य बहुत ध्यान से सुनता है और ऐसा क्या है जिसे मनुष्य ध्यान से नहीं सुनता ऐसा क्या है जिसे मनुष्य बहुत ध्यान से सुनता है
URL copied to clipboard