#भारत की राजनीति

vaibhav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vaibhav जी का जवाब
Unknown
0:23
गोपाल इंटरेस्टिंग क्वेश्चन पूछा है कि लोगों ने भी नहीं चाहिए बिल्कुल हां मैं दोस्त के साथ पूरी तरह से राजी हूं डॉक्टर में लोग अपने इंटरेस्ट की चीजें कर सकते हैं वह भी सीखते हैं अपने परिवार के साथ रह सकते हैं और बेल के पास ही रह सकते हैं आपस में ब्लॉक दिन हो ना इसलिए लेकिन हां अभी छुट्टी नहीं नहीं है

और जवाब सुनें

Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
0:39
जैसा की प्रार्थना पूछा गया है कि कौन-कौन यह मानता है कि लॉकडाउन हर महीने या हर साल में 1 महीने लगना चाहिए तो लॉकडाउन जय है भारत की अर्थव्यवस्था के लिए यह फायदेमंद नहीं है और किसी दृष्टि से आप देखें तो लॉकडाउन जो है यह फायदेमंद सरकार के हित में नहीं है और नहीं जानता कहीं तुम्हें अगर परिस्थिति वैसे ही आती है जैसे लॉकडाउन जो है कोरोना की वजह से तो यह प्रस्तुति की मांग है अगर ऐसा प्रस्तुति नहीं है तो मुझे नहीं लगता है कि बिना मतलब के लॉकडाउन लगाना चाहिए
Jaisa kee praarthana poochha gaya hai ki kaun-kaun yah maanata hai ki lokadaun har maheene ya har saal mein 1 maheene lagana chaahie to lokadaun jay hai bhaarat kee arthavyavastha ke lie yah phaayademand nahin hai aur kisee drshti se aap dekhen to lokadaun jo hai yah phaayademand sarakaar ke hit mein nahin hai aur nahin jaanata kaheen tumhen agar paristhiti vaise hee aatee hai jaise lokadaun jo hai korona kee vajah se to yah prastuti kee maang hai agar aisa prastuti nahin hai to mujhe nahin lagata hai ki bina matalab ke lokadaun lagaana chaahie

India is Great Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए India जी का जवाब
Master Chef in House
2:03
हेलो फ्रेंड्स वेलकम बैक इंडिया स्टेट में बारिश यादव तो दोस्तों आज किशोरियों में हम बात करने वाले हैं कि कौन-कौन से मानता है कि लॉकडाउन हर साल 1 महीना का लगाना चाहिए तो दोस्तों मैं आपको बताना चाहूंगा कि लॉकडाउन ऐसी मजबूरी ऐसी स्थिति आने पर ही लगाया जाता है हालांकि कार्बेट के समय इस पूरी दुनिया को ही लॉकडाउन लगाना पड़ा था जो कि हर साल 1 महीना क्या बड़की 6 महीना साल भर और कहीं-कहीं तो उससे भी ज्यादा तो ऐसी परिस्थिति में क्या होता है कि नहीं तो कोई भी व्यक्ति इस चीज को मानेगा अगर मान लीजिए वह हर साल ही एक-एक महीना का लॉकडाउन अगर लगा देता है लेकिन कुछ लोगों का नहीं चलने वाला है तो वह कहां से उस चीज को मानेगा और कहां से फॉलो करेगा यह तो फिर वैसा नहीं हो जैसे स्टार्टिंग में मोदी जी जो कहते हैं लोगों को ताली बजेगी ताली बजाइए यह कीजिए वह कीजिए सभी ने सुना सभी ने माना हमने काफी सॉक्स किया था कि मैं तो अब ऐसा बिल्कुल भी नहीं होना चाहिए बिल्कुल भी नहीं मानता हूं कि लॉकडाउन जॉब वाला गाना चाहिए अब खोल दिया क्या सब कुछ बढ़िया है सब कुछ चल रहा है तो ऐसे में अब लोग डाउन नहीं लगना चाहिए बल्कि खुद को ही अपना जो है सेफ्टी करके चलना चाहिए लोगों को अच्छी तरह से चलना चाहिए जिससे कि कोई प्रॉब्लम ना हो सके आगे चलकर के यह चीजें जरूरी है हमारे लिए और जो हमें समझ लेना चाहिए डेली रूटीन के लिए हमारी पूरी जिंदगी के लिए कि भाई हमको जो है सेनीटाइजर के इस्तेमाल करना है भाई कहीं स्तर ऐसी जगह पर जाता है तो माफ चाहिए नहीं तो ऐसे नहीं कि दिनभर मार्क्स पहन के रखो उसके अलावा अगर आप लोग डाउन लगाते हैं तो कहीं ने कहा मुझे लगता है कि पूरे लोग परेशान हो जाएंगे और परेशान हो जाने के बाद में आप सब जानते हैं कि यहां पर सरकार की भी नहीं चलेगी तो वह सब कुछ जो है वह बर्बाद हो जाएगा तो मैं इसी को बिल्कुल भी नहीं मानता हूं कि हर साल 1 मिनट लोगों लगाना चाहिए बल्कि ऐसा अगर परिस्थिति हो तो 6 महीना आप 1 साल तक जो है लॉकडाउन लगा सकते हैं लेकिन जब ऐसी स्थिति नहीं है और अब तो फिर भी निकल चुका है ये सब करने की बिल्कुल कोई जरूरत ही नहीं है दोस्तों
Helo phrends velakam baik indiya stet mein baarish yaadav to doston aaj kishoriyon mein ham baat karane vaale hain ki kaun-kaun se maanata hai ki lokadaun har saal 1 maheena ka lagaana chaahie to doston main aapako bataana chaahoonga ki lokadaun aisee majabooree aisee sthiti aane par hee lagaaya jaata hai haalaanki kaarbet ke samay is pooree duniya ko hee lokadaun lagaana pada tha jo ki har saal 1 maheena kya badakee 6 maheena saal bhar aur kaheen-kaheen to usase bhee jyaada to aisee paristhiti mein kya hota hai ki nahin to koee bhee vyakti is cheej ko maanega agar maan leejie vah har saal hee ek-ek maheena ka lokadaun agar laga deta hai lekin kuchh logon ka nahin chalane vaala hai to vah kahaan se us cheej ko maanega aur kahaan se pholo karega yah to phir vaisa nahin ho jaise staarting mein modee jee jo kahate hain logon ko taalee bajegee taalee bajaie yah keejie vah keejie sabhee ne suna sabhee ne maana hamane kaaphee soks kiya tha ki main to ab aisa bilkul bhee nahin hona chaahie bilkul bhee nahin maanata hoon ki lokadaun job vaala gaana chaahie ab khol diya kya sab kuchh badhiya hai sab kuchh chal raha hai to aise mein ab log daun nahin lagana chaahie balki khud ko hee apana jo hai sephtee karake chalana chaahie logon ko achchhee tarah se chalana chaahie jisase ki koee problam na ho sake aage chalakar ke yah cheejen jarooree hai hamaare lie aur jo hamen samajh lena chaahie delee rooteen ke lie hamaaree pooree jindagee ke lie ki bhaee hamako jo hai seneetaijar ke istemaal karana hai bhaee kaheen star aisee jagah par jaata hai to maaph chaahie nahin to aise nahin ki dinabhar maarks pahan ke rakho usake alaava agar aap log daun lagaate hain to kaheen ne kaha mujhe lagata hai ki poore log pareshaan ho jaenge aur pareshaan ho jaane ke baad mein aap sab jaanate hain ki yahaan par sarakaar kee bhee nahin chalegee to vah sab kuchh jo hai vah barbaad ho jaega to main isee ko bilkul bhee nahin maanata hoon ki har saal 1 minat logon lagaana chaahie balki aisa agar paristhiti ho to 6 maheena aap 1 saal tak jo hai lokadaun laga sakate hain lekin jab aisee sthiti nahin hai aur ab to phir bhee nikal chuka hai ye sab karane kee bilkul koee jaroorat hee nahin hai doston

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
1:06
तारा कपास में कौन-कौन है मानता है कि लॉकडाउन हर साल 1 महीने का लगना चाहिए तो आपको बता दें देखिए अगर आप ऐसा मानते हैं कि जो लोग डाउन है वह 1 महीने का होना चाहिए तो आप यहां पर अपने ही देश की अर्थव्यवस्था की बलि चढ़ाना चाहते हैं आपको बता दें कि लॉकडाउन कहीं से भी फिजिकल नहीं होता है पूरी की पूरी देशों की अर्थव्यवस्था चौपट हो जाती है जब लॉकडाउन लगाया जाता है तो ऐसी स्थिति में कि जब देश में पहले ही करुणा के कारण जो व्यवस्था है जो आर्थिक स्थिति अब काफी खराब हो चुकी है ऐसे में हर साल 1 महीने के लिए लॉकडाउन लगा दिया जाए यह बात को सोच कर के ही जो दिलो दिमाग में उसे घर जाते हैं तो ऐसा मत सोचिए कि इस तरह की कोई व्यवस्था बने क्यों इससे बहुत बड़ी समस्या उत्पन्न हो सकती है मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Taara kapaas mein kaun-kaun hai maanata hai ki lokadaun har saal 1 maheene ka lagana chaahie to aapako bata den dekhie agar aap aisa maanate hain ki jo log daun hai vah 1 maheene ka hona chaahie to aap yahaan par apane hee desh kee arthavyavastha kee bali chadhaana chaahate hain aapako bata den ki lokadaun kaheen se bhee phijikal nahin hota hai pooree kee pooree deshon kee arthavyavastha chaupat ho jaatee hai jab lokadaun lagaaya jaata hai to aisee sthiti mein ki jab desh mein pahale hee karuna ke kaaran jo vyavastha hai jo aarthik sthiti ab kaaphee kharaab ho chukee hai aise mein har saal 1 maheene ke lie lokadaun laga diya jae yah baat ko soch kar ke hee jo dilo dimaag mein use ghar jaate hain to aisa mat sochie ki is tarah kee koee vyavastha bane kyon isase bahut badee samasya utpann ho sakatee hai main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard