#भारत की राजनीति

bolkar speaker

सरकार किसानों की मांग को क्यों नहीं मान रही है?

Sarkaar Kisanon Ki Maang Ko Kyun Nahin Maan Rahe Hai
umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
0:56
आपका सरकार की सरकार किसानों की मांग को क्यों नहीं मांग रहे हैं तो मैं बता दो किसानों की मांग को सरकार इसलिए नहीं मान रही है क्योंकि सरकार को किसानों से ज्यादा फायदा है जो बिल पास किया गया है उसमें उसमें से सरकार को किसानों से ज्यादा फायदा है इसीलिए सरकार उस दिल को वापस नहीं मिलना चाह रहे हैं और इसमें कुछ पूजी पतियों का भी दबाव है सरकार के ऊपर कुछ मुझे पति भी है जो उसे दवा बना रहे हैं सरकार पर बराबर कि आप इस बिल को वापस ना लें क्योंकि उन्हीं के को ध्यान में रखकर कि सरकार ने बिल पास किया है इसी वजह से सरकार किसानों की मांग को नहीं मान रही है अपना बिल वापस नहीं ले गई है
Aapaka sarakaar kee sarakaar kisaanon kee maang ko kyon nahin maang rahe hain to main bata do kisaanon kee maang ko sarakaar isalie nahin maan rahee hai kyonki sarakaar ko kisaanon se jyaada phaayada hai jo bil paas kiya gaya hai usamen usamen se sarakaar ko kisaanon se jyaada phaayada hai iseelie sarakaar us dil ko vaapas nahin milana chaah rahe hain aur isamen kuchh poojee patiyon ka bhee dabaav hai sarakaar ke oopar kuchh mujhe pati bhee hai jo use dava bana rahe hain sarakaar par baraabar ki aap is bil ko vaapas na len kyonki unheen ke ko dhyaan mein rakhakar ki sarakaar ne bil paas kiya hai isee vajah se sarakaar kisaanon kee maang ko nahin maan rahee hai apana bil vaapas nahin le gaee hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
सरकार किसानों की मांग को क्यों नहीं मान रही है?Sarkaar Kisanon Ki Maang Ko Kyun Nahin Maan Rahe Hai
Mohitrajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Mohitrajput जी का जवाब
Unknown
0:24
जो आपने पूछा कि सरकार किसानों की मौत क्यों नहीं मान लेता की भी कुछ ऐसी मांग की जो सरकार के पास कुछ मांगे तो पूरी हो सकती है वह जरूर की होगी और अभी बातचीत चल रही है यह नहीं है कि बात पूरी नहीं होगी मांग पूरी नहीं होगी अभी बातचीत चल रही है कुछ ना कुछ हल निकाल दिया जाएगा
Jo aapane poochha ki sarakaar kisaanon kee maut kyon nahin maan leta kee bhee kuchh aisee maang kee jo sarakaar ke paas kuchh maange to pooree ho sakatee hai vah jaroor kee hogee aur abhee baatacheet chal rahee hai yah nahin hai ki baat pooree nahin hogee maang pooree nahin hogee abhee baatacheet chal rahee hai kuchh na kuchh hal nikaal diya jaega

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सरकार किसानों की मांग को क्यों नहीं मान रही है किसानों की मांग
URL copied to clipboard