#भारत की राजनीति

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:00
इसके जिम्मेदार सभी है सरकार विषय और वह लोग जिन्होंने तोड़फोड़ की व है क्योंकि एक कारण यह है कि सरकार ने उनको मना नहीं किया मना कर दी तो उसमें होती वह शांतिपूर्ण जाते तो उनको कोई दिक्कत नहीं थी लेकिन उन्होंने तोड़फोड़ भी की तो वही बात है अगर यहां पर सरकार अगर फुर्सत हो जाए तो सरकार की आलोचना होगी और वह सब तो होगे तो उनकी आलोचना पर वक्त नहीं होता यानी की शान जो भी थे और वो आराम से जाते समय से रहती तो बिल्कुल सही निकल जाता लेकिन यहां पर किसान पर किया जो भी अराजक तत्व से उन्होंने उत्पाद किया तो वह ज्यादा जिम्मेदार है गाना शांति से जाते तो ज्यादा बेहतर होगा आप लोग जानबूझकर
Isake jimmedaar sabhee hai sarakaar vishay aur vah log jinhonne todaphod kee va hai kyonki ek kaaran yah hai ki sarakaar ne unako mana nahin kiya mana kar dee to usamen hotee vah shaantipoorn jaate to unako koee dikkat nahin thee lekin unhonne todaphod bhee kee to vahee baat hai agar yahaan par sarakaar agar phursat ho jae to sarakaar kee aalochana hogee aur vah sab to hoge to unakee aalochana par vakt nahin hota yaanee kee shaan jo bhee the aur vo aaraam se jaate samay se rahatee to bilkul sahee nikal jaata lekin yahaan par kisaan par kiya jo bhee araajak tatv se unhonne utpaad kiya to vah jyaada jimmedaar hai gaana shaanti se jaate to jyaada behatar hoga aap log jaanaboojhakar

और जवाब सुनें

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
4:58
अभी कल की बात है कि मैं जा रहा था तो वहां पर कुछ किसान भाई बैठे हुए मेरे साथ बस में सफर कर रही थी तो किसान भाई राकेश टिकैत योगेंद्र यादव आदि नेताओं की प्रशंसा के पुल बांध रहे थे कि क्या मजा बांध दिया कि दिल्ली की हालत बद से बदतर बना दी दिल्ली को सरेआम तोड़ फोड़ दिया यह कर दिया हमने सरकार के नाको चने चबा दिए मैंने पूछा भाइयों एक बात बताओ यह तुम जो कह रहे हो तुम्हारी इस राकेश ठीक है तैयार इस योगेंद्र यादव नहीं है नेताओं ने तो दिल्ली को लूट लिया कि दिल्ली अमेरिका की है क्या इंग्लैंड की है कहां की है दिल्ली क्या है भारत की राजधानी में आप सबका रहते हो कि भारत में तो मैंने आपने अपने घरों में आग लगा दी आपने अपने घरों में तोड़फोड़ की तो क्या अपना अच्छा कार्य किया बताइए आप क्या कच्चा कार्य किया आपने क्या इन दिल्ली को आप आदरणीय मोदी जी की मानते हो क्या दिल्ली को अमित शाह की मानते हो अरे आप में ताकत थी तो हमेशा मोदी जी की सुविधाएं बंद करते उन नेताओं की सुविधाएं बंद करके दिखाते तब आपको मान लेते हैं लेकिन आपने जो जाम लगा रखा है किस कल इसको बंद कर रखा है क्या मोदी जी उस रास्ते से जाते हैं कि हमेशा जाते हैं कि राजनाथ जी जाते हैं कौन नहीं जाता हमसे यह तुमने तो वर्क हेलीकॉप्टरों से जाते जाते हैं लेकिन आपने तो परेशान तो आम जाम भारतीयों को किया है आम नागरिकों को परेशान किया है आपने भी ताकत थी तो उनके घरों पर जाते हैं आप उनके घरों का घेराव करते हो उनकी सुविधाएं काटते तो मान लेते आप में ताकत है लेकिन आप ने दिल्ली को जो किया वह मेरे विचार से बहुत बुरा किया आप अपनी इस बात पर खुशी हो लो मेरे विचार से आपने अच्छा नहीं किया क्योंकि आपने अपनी ही राजधानी को अपने देश की राजधानी को तोड़फोड़ की रात की संपत्ति को हानि पहुंचाई पुलिस वालों को मार्केट की अब मुझे बताओ कि इसका जिम्मेदार कौन है तो उन्होंने का क्रश सरकार इसकी जिम्मेदार है सरकारी नेताओं ने सरकारी जॉब पक्ष के जो नेता थे उन लोगों यह सब क्या आप जिम्मेदार नहीं है आपको कि सब हम क्या करें हम को तो विपक्षी बड़का थे तो मेरे को विपक्षी आपने नहीं खाते आप अंदर खाते हैं तो आपको ऐसी विपक्षी सदस्य भड़काने वाले हैं जो देश की बर्बादी चाहते हैं जो देश का विभाजन चाहते हैं देश की तोड़फोड़ चाहते हैं उन लोगों का समर्थन नहीं लेना चाहिए था उनका मना करना चाहिए तो क्या आप हमारे इस आंदोलन में हमारा आंदोलन अहिंसक आंदोलन राजनीति राजनीति से आंदोलन है तो आपके समर्थन लेते समय कुछ नहीं सोचा आज सरकारी नुमाइंदों से बात किया तो वह सब कैसा भी तो किसानों ने किया अरे भाई एक बात बताइए क्या आज जब इनकी जायज मांगे तुम को स्वीकार कीजिए अभी आप के नाजायज का मुंह में तुम को हटाइए कुछ कीजिए सरकार तो आराम से हाथ पर हाथ धरे बैठी है क्योंकि संप्रग सरकार परेशानी होती आम नागरिक परेशान हो रहा है आम जनता परेशान हो रही है लेकिन न तो सरकार ध्यान दे रही है ना किसान जान दे रहे हैं यह तो भारत में हमेशा से होता रहा है कि राजनीति में एक दूषण नेता एक दूसरे पर आरोप लगाता है विपक्ष पक्ष वालों पर और बुलाते हैं पक्षपात आरोप लगाते आपस में लड़ते आए हैं लड़ते रहेंगे और लड़ते इनकी स्थिति यही है लेकिन इससे आम जनता पीड़ित हो रही है आम जनता दुखी है आम जनता परेशान है क्या कभी इस बात पर भी गौर किया है इस बात पर गौर करना चाहिए क्योंकि इस नित रोज के यह जाम लगाते हैं ना तो आज की सरकारों में इतनी दम है किन रास्तों को खुलवा सके आज की सरकार दे वो खुशी का पालन कर रही है तू कशी की परिभाषा में कहा कि डेमोक्रेसी इज द गवर्नमेंट बाय द पीपल फॉर द पीपल यह फॉर द पीपल कहां है जब सरकार ने रास्ता खुलवाने की शक्ति हमें ताकत नहीं है कि सरकार तो आराम से बैठी सरकार को नेता मंत्री कर मौज कर रहे हैं बाकी आमजन पीड़ित है सरकारें भी जानती है इस बात को काम दिन पीड़ित होगा तो अपने आप हट वाले गाने को रास्ते लेकिन यह आम जनों की सुनते नहीं ना किसान सुनते हैं ना सरकारें सुनती है तो मेरे विचार से शायद हम सबको विचार करना चाहिए कि आम भारतीयों को प्रेरित करने से तुमको क्या मिल सकता है आम भारतीय का रास्ता रोकने से क्या मिल सकता है आम मजदूरों की मजदूरी सीने से तुम्हें क्या मिल सकता है आम टैक्सी वालों की टैक्सी बंद करने से तुम्हें क्या मिल सकता है आम छोटे दुकानदारों की दुकानदारी बंद करने से तुम्हें क्या मिल सकता है यह दोनों को ही सोचना चाहिए बड़ा झरना विषय है कहां से ऐसी प्रजातियों से तो राजतंत्र बहुत अच्छे थे जहां पर 1 लाइन शार्ट में होते थे या नियमों की अवहेलना करने का कोई विश्वास नहीं
Abhee kal kee baat hai ki main ja raha tha to vahaan par kuchh kisaan bhaee baithe hue mere saath bas mein saphar kar rahee thee to kisaan bhaee raakesh tikait yogendr yaadav aadi netaon kee prashansa ke pul baandh rahe the ki kya maja baandh diya ki dillee kee haalat bad se badatar bana dee dillee ko sareaam tod phod diya yah kar diya hamane sarakaar ke naako chane chaba die mainne poochha bhaiyon ek baat batao yah tum jo kah rahe ho tumhaaree is raakesh theek hai taiyaar is yogendr yaadav nahin hai netaon ne to dillee ko loot liya ki dillee amerika kee hai kya inglaind kee hai kahaan kee hai dillee kya hai bhaarat kee raajadhaanee mein aap sabaka rahate ho ki bhaarat mein to mainne aapane apane gharon mein aag laga dee aapane apane gharon mein todaphod kee to kya apana achchha kaary kiya bataie aap kya kachcha kaary kiya aapane kya in dillee ko aap aadaraneey modee jee kee maanate ho kya dillee ko amit shaah kee maanate ho are aap mein taakat thee to hamesha modee jee kee suvidhaen band karate un netaon kee suvidhaen band karake dikhaate tab aapako maan lete hain lekin aapane jo jaam laga rakha hai kis kal isako band kar rakha hai kya modee jee us raaste se jaate hain ki hamesha jaate hain ki raajanaath jee jaate hain kaun nahin jaata hamase yah tumane to vark heleekoptaron se jaate jaate hain lekin aapane to pareshaan to aam jaam bhaarateeyon ko kiya hai aam naagarikon ko pareshaan kiya hai aapane bhee taakat thee to unake gharon par jaate hain aap unake gharon ka gheraav karate ho unakee suvidhaen kaatate to maan lete aap mein taakat hai lekin aap ne dillee ko jo kiya vah mere vichaar se bahut bura kiya aap apanee is baat par khushee ho lo mere vichaar se aapane achchha nahin kiya kyonki aapane apanee hee raajadhaanee ko apane desh kee raajadhaanee ko todaphod kee raat kee sampatti ko haani pahunchaee pulis vaalon ko maarket kee ab mujhe batao ki isaka jimmedaar kaun hai to unhonne ka krash sarakaar isakee jimmedaar hai sarakaaree netaon ne sarakaaree job paksh ke jo neta the un logon yah sab kya aap jimmedaar nahin hai aapako ki sab ham kya karen ham ko to vipakshee badaka the to mere ko vipakshee aapane nahin khaate aap andar khaate hain to aapako aisee vipakshee sadasy bhadakaane vaale hain jo desh kee barbaadee chaahate hain jo desh ka vibhaajan chaahate hain desh kee todaphod chaahate hain un logon ka samarthan nahin lena chaahie tha unaka mana karana chaahie to kya aap hamaare is aandolan mein hamaara aandolan ahinsak aandolan raajaneeti raajaneeti se aandolan hai to aapake samarthan lete samay kuchh nahin socha aaj sarakaaree numaindon se baat kiya to vah sab kaisa bhee to kisaanon ne kiya are bhaee ek baat bataie kya aaj jab inakee jaayaj maange tum ko sveekaar keejie abhee aap ke naajaayaj ka munh mein tum ko hataie kuchh keejie sarakaar to aaraam se haath par haath dhare baithee hai kyonki samprag sarakaar pareshaanee hotee aam naagarik pareshaan ho raha hai aam janata pareshaan ho rahee hai lekin na to sarakaar dhyaan de rahee hai na kisaan jaan de rahe hain yah to bhaarat mein hamesha se hota raha hai ki raajaneeti mein ek dooshan neta ek doosare par aarop lagaata hai vipaksh paksh vaalon par aur bulaate hain pakshapaat aarop lagaate aapas mein ladate aae hain ladate rahenge aur ladate inakee sthiti yahee hai lekin isase aam janata peedit ho rahee hai aam janata dukhee hai aam janata pareshaan hai kya kabhee is baat par bhee gaur kiya hai is baat par gaur karana chaahie kyonki is nit roj ke yah jaam lagaate hain na to aaj kee sarakaaron mein itanee dam hai kin raaston ko khulava sake aaj kee sarakaar de vo khushee ka paalan kar rahee hai too kashee kee paribhaasha mein kaha ki demokresee ij da gavarnament baay da peepal phor da peepal yah phor da peepal kahaan hai jab sarakaar ne raasta khulavaane kee shakti hamen taakat nahin hai ki sarakaar to aaraam se baithee sarakaar ko neta mantree kar mauj kar rahe hain baakee aamajan peedit hai sarakaaren bhee jaanatee hai is baat ko kaam din peedit hoga to apane aap hat vaale gaane ko raaste lekin yah aam janon kee sunate nahin na kisaan sunate hain na sarakaaren sunatee hai to mere vichaar se shaayad ham sabako vichaar karana chaahie ki aam bhaarateeyon ko prerit karane se tumako kya mil sakata hai aam bhaarateey ka raasta rokane se kya mil sakata hai aam majadooron kee majadooree seene se tumhen kya mil sakata hai aam taiksee vaalon kee taiksee band karane se tumhen kya mil sakata hai aam chhote dukaanadaaron kee dukaanadaaree band karane se tumhen kya mil sakata hai yah donon ko hee sochana chaahie bada jharana vishay hai kahaan se aisee prajaatiyon se to raajatantr bahut achchhe the jahaan par 1 lain shaart mein hote the ya niyamon kee avahelana karane ka koee vishvaas nahin

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard