#भारत की राजनीति

bolkar speaker

हृदय गति के बढ़ने के क्या कारण है?

Hriday Gati Ke Badhne Ke Kya Kaaran Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:40
नमस्कार दोस्तों आपका प्रेम स्नेह हार्दिक गति के बढ़ने के कारण क्या है दोस्तों माय upchar.com की एक पोस्ट के अनुसार आइए हम चर्चा करते हैं अनियमित दिल की धड़कन को हरदे अतालता या तेरी कमियां कहते हैं इसका मतलब यह नहीं है कि आपका हृदय बहुत तेज या बहुत धीमी गति से धड़क रहा हो बल्कि इसका अर्थ यह है कि हृदय की धड़कन अपनी सामान्य ताल से नहीं चल रही है इसमें ऐसा लगता है जैसे आपके हृदय की धड़कन या बढ़ रही है या बहुत तेज या अत्यंत धीमी गति से चल रही है क्योंकि कुछ हरी धनिया मूर्ख होते हैं इसलिए हो सकता है कि इस ओर आपका ध्यान ही न जाएं तृतीय तब होता है जब हृदय की धड़कन को समन्वित करने वाले विद्युत संकेतों ठीक से काम नहीं कर रहे होते हैं उदाहरण के लिए कुछ लोग हैं नियमित दिल की धड़कन का अनुभव करते हैं जिसके कारण हृदय तेजी से धड़कता हुआ या फिर पढ़ाता हुआ महसूस होता है वह तो कई प्रकार की हृदय अतालता हानि रहित होती है हालांकि यदि धड़कन विशेष रूप से असामान्य है यहां एक कमजोर अथवा क्षतिग्रस्त हृदय का परिणाम है तो अतालता गंभीर और संभावित घातक लक्षण उत्पन्न कर सकती है वरना नहीं है देवता का उपचार अक्सर 23 धीमी या अनियमित हार्दिक की धड़कन को नियंत्रित कर दिया जाता है इसके अलावा हृदय को स्वस्थ रखने वाली जीवनशैली को अपनाकर आप अतालता के जोखिम को कम कर सकते हैं क्योंकि एक कमजोर या क्षतिग्रस्त होने के कारण हृदय अतालता की स्थिति गंभीर हो सकती है दोस्तों सामान्य आबादी में एट्रियल फाइब्रिलेशन जानिए ऐप का समग्र प्रसाद जीरो पॉइंट 4% से 1% होने का अनुमान है 40 वर्ष से कम आयु जनसंख्या में ए एस की घटनाएं जीरो पॉइंट 1% प्रतिवर्ष हैं और 80 से अधिक आयु वर्ग में यह 2% तक बढ़ जाती है एट्रियल फाइब्रिलेशन की घटना और प्रसार दोनों उम्र बढ़ने के साथ तेजी से बढ़ते हैं आपकी समायोजित घटना और प्रसार जीवन के प्रत्येक आने वाले दशक के लिए लगभग दोगुने हो जाते हैं और किसी भी उम्र में महिलाओं की तुलना में पुरुषों में एएफ का प्रसार 50 पर्सेंट अधिक होता है आशा करता हूं कि यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prem sneh haardik gati ke badhane ke kaaran kya hai doston maay upchhar.chom kee ek post ke anusaar aaie ham charcha karate hain aniyamit dil kee dhadakan ko harade ataalata ya teree kamiyaan kahate hain isaka matalab yah nahin hai ki aapaka hrday bahut tej ya bahut dheemee gati se dhadak raha ho balki isaka arth yah hai ki hrday kee dhadakan apanee saamaany taal se nahin chal rahee hai isamen aisa lagata hai jaise aapake hrday kee dhadakan ya badh rahee hai ya bahut tej ya atyant dheemee gati se chal rahee hai kyonki kuchh haree dhaniya moorkh hote hain isalie ho sakata hai ki is or aapaka dhyaan hee na jaen trteey tab hota hai jab hrday kee dhadakan ko samanvit karane vaale vidyut sanketon theek se kaam nahin kar rahe hote hain udaaharan ke lie kuchh log hain niyamit dil kee dhadakan ka anubhav karate hain jisake kaaran hrday tejee se dhadakata hua ya phir padhaata hua mahasoos hota hai vah to kaee prakaar kee hrday ataalata haani rahit hotee hai haalaanki yadi dhadakan vishesh roop se asaamaany hai yahaan ek kamajor athava kshatigrast hrday ka parinaam hai to ataalata gambheer aur sambhaavit ghaatak lakshan utpann kar sakatee hai varana nahin hai devata ka upachaar aksar 23 dheemee ya aniyamit haardik kee dhadakan ko niyantrit kar diya jaata hai isake alaava hrday ko svasth rakhane vaalee jeevanashailee ko apanaakar aap ataalata ke jokhim ko kam kar sakate hain kyonki ek kamajor ya kshatigrast hone ke kaaran hrday ataalata kee sthiti gambheer ho sakatee hai doston saamaany aabaadee mein etriyal phaibrileshan jaanie aip ka samagr prasaad jeero point 4% se 1% hone ka anumaan hai 40 varsh se kam aayu janasankhya mein e es kee ghatanaen jeero point 1% prativarsh hain aur 80 se adhik aayu varg mein yah 2% tak badh jaatee hai etriyal phaibrileshan kee ghatana aur prasaar donon umr badhane ke saath tejee se badhate hain aapakee samaayojit ghatana aur prasaar jeevan ke pratyek aane vaale dashak ke lie lagabhag dogune ho jaate hain aur kisee bhee umr mein mahilaon kee tulana mein purushon mein eeph ka prasaar 50 parsent adhik hota hai aasha karata hoon ki yah jaanakaaree aapako achchhee lagee hogee dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
हृदय गति के बढ़ने के क्या कारण है?Hriday Gati Ke Badhne Ke Kya Kaaran Hai
Mohitrajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Mohitrajput जी का जवाब
Unknown
0:24
तो आपको बड़ा ना कोई ऐसा काम नहीं करोगे जिससे थक जाओ तो हृदय गति तब से मैं नहीं बनेगी टिकट रोजमर्रा के काम करोगे घर पर बैठे रहोगे सो जाओगे तो इस सेंटर का तूने पड़ेगी अगर सच में एकदम कुछ ना कुछ करना पड़ेगा
To aapako bada na koee aisa kaam nahin karoge jisase thak jao to hrday gati tab se main nahin banegee tikat rojamarra ke kaam karoge ghar par baithe rahoge so jaoge to is sentar ka toone padegee agar sach mein ekadam kuchh na kuchh karana padega

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हृदय गति के बढ़ने के क्या कारण है हृदय गति के बढ़ने के कारण
URL copied to clipboard