#undefined

bolkar speaker

खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई यह समझा सकता है?

Khushi Humare Bhetar Hai Kahe Bahar Nahin Kya Koi Yah Samjha Sakta Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:32
आवाज आपका सवाल है कि खुशी हमारे भीतर कहीं बाहर से ही क्या कोई यह समझा सकता है बहुत बार क्या होता है कि आप भीड़ महफिल में जाते हैं सब आराम से एंजॉय कर रहा होता है खुशी मना रहा होता है लेकिन आपका मन बहुत ही उदास होता है किसी न किसी वजह से कोई न कोई कारण की वजह से अब खुश नहीं होते भाई आपके सारे दोस्त या जो भी फैमिली मेंबर्स वह बहुत ही ज्यादा खुश रहते क्यों क्योंकि आप मन से खुश नहीं है कोई कारण नहीं कोई वजह कोई रीज़न है जो आपके लाइफ में गलत चल रहा है या फिर चल चुका है जिसकी वजह से आप परेशान है तो जब तक आप उसे कंट्रोल नहीं करेंगे उसे मतलब थोड़ा हटाने की कोशिश नहीं करेंगे वहां से हटने की कोशिश नहीं करेंगे जो भी आप मन में सोच रहे हैं आप यह नहीं सोचेंगे कि जो भी मोमेंट है बार-बार नहीं आने वाला जो प्रॉब्लम है उसको सलूशन निकलेंगे या फिर मुझे फेस कर रहा है यह दोनों तो होता है जब भी कोई भी इंसान कोई भी प्रॉब्लम होता है या तो उसका सलूशन निकलता है याद किसी भी हालत में प्रॉब्लम का इंग्लिश करना पड़ता है तो आप यहीं सोचिए कि सलूशन तुम निकलने वाला होगा तो निकलेगा अभी जो मोमेंट है उसे आप को इंजॉय करना अच्छे से करना आप जब यह सब बातें खुद से करते हैं तो एक तरह की पॉजिटिव वाइब्स आती है तब आप हर एक मोमेंट को एंजॉय कर सकते तो इतनी कोई कहते कि खुशी आपके अंदर है आप खुश रहना चाहते हैं लेकिन फिर भी किसी वजह से आप खुश नहीं रह पा रहे थे इसलिए क्या होता है कि जब भी कोई भी रिजल्ट खराब हो कोई भी परेशानी जब होती है तो आपने सुना ही होगा कि उस बात को अभी यहीं पर छोड़ देते हैं यह जगह मतलब गलती हुई है जो रिजल्ट खराब हुआ है इंसान समझाता है खुद भी ऐसे समझ पाता है तो इंसान हर एक मोमेंट को अच्छे से खुशी से इंजॉय करता तो खुशी अपने मन के अंदर होता उसे निकालना और जो भी परेशानी है उसको थोड़ी मैं अकेली दूर करना यह बहुत जरूरी होता है क्योंकि जो पल होता है वह बार-बार लौटकर नहीं आता तो हर एक पल को एंजॉय करना चाहिए तो आप लोग हर लोगों की जिंदगी में होती है उसे ठीक करने की भी कोशिश करनी चाहिए लेकिन प्रॉब्लम के चक्कर में जो इतनी अच्छी जिंदगी है जो इतने अच्छे अच्छे मोमेंट्स और जितने से चप्पल गुजर जा रहे हैं उसे अलग बाद में आपको पछतावा होगा और इस अच्छा यही होता है कि हर एक चीज को अच्छे से जीने की कोशिश कीजिए प्रॉब्लम जैसे आया है सलूशन भी वैसे ही आता है
Aavaaj aapaka savaal hai ki khushee hamaare bheetar kaheen baahar se hee kya koee yah samajha sakata hai bahut baar kya hota hai ki aap bheed mahaphil mein jaate hain sab aaraam se enjoy kar raha hota hai khushee mana raha hota hai lekin aapaka man bahut hee udaas hota hai kisee na kisee vajah se koee na koee kaaran kee vajah se ab khush nahin hote bhaee aapake saare dost ya jo bhee phaimilee membars vah bahut hee jyaada khush rahate kyon kyonki aap man se khush nahin hai koee kaaran nahin koee vajah koee reezan hai jo aapake laiph mein galat chal raha hai ya phir chal chuka hai jisakee vajah se aap pareshaan hai to jab tak aap use kantrol nahin karenge use matalab thoda hataane kee koshish nahin karenge vahaan se hatane kee koshish nahin karenge jo bhee aap man mein soch rahe hain aap yah nahin sochenge ki jo bhee moment hai baar-baar nahin aane vaala jo problam hai usako salooshan nikalenge ya phir mujhe phes kar raha hai yah donon to hota hai jab bhee koee bhee insaan koee bhee problam hota hai ya to usaka salooshan nikalata hai yaad kisee bhee haalat mein problam ka inglish karana padata hai to aap yaheen sochie ki salooshan tum nikalane vaala hoga to nikalega abhee jo moment hai use aap ko injoy karana achchhe se karana aap jab yah sab baaten khud se karate hain to ek tarah kee pojitiv vaibs aatee hai tab aap har ek moment ko enjoy kar sakate to itanee koee kahate ki khushee aapake andar hai aap khush rahana chaahate hain lekin phir bhee kisee vajah se aap khush nahin rah pa rahe the isalie kya hota hai ki jab bhee koee bhee rijalt kharaab ho koee bhee pareshaanee jab hotee hai to aapane suna hee hoga ki us baat ko abhee yaheen par chhod dete hain yah jagah matalab galatee huee hai jo rijalt kharaab hua hai insaan samajhaata hai khud bhee aise samajh paata hai to insaan har ek moment ko achchhe se khushee se injoy karata to khushee apane man ke andar hota use nikaalana aur jo bhee pareshaanee hai usako thodee main akelee door karana yah bahut jarooree hota hai kyonki jo pal hota hai vah baar-baar lautakar nahin aata to har ek pal ko enjoy karana chaahie to aap log har logon kee jindagee mein hotee hai use theek karane kee bhee koshish karanee chaahie lekin problam ke chakkar mein jo itanee achchhee jindagee hai jo itane achchhe achchhe moments aur jitane se chappal gujar ja rahe hain use alag baad mein aapako pachhataava hoga aur is achchha yahee hota hai ki har ek cheej ko achchhe se jeene kee koshish keejie problam jaise aaya hai salooshan bhee vaise hee aata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई यह समझा सकता है?Khushi Humare Bhetar Hai Kahe Bahar Nahin Kya Koi Yah Samjha Sakta Hai
ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
0:42
कल पूछा गया है खुशी हमारे भीतर है बाहर नहीं यह कोई समझा सकता है लेकिन बिल्कुल खुशी एक भावना है जो हमारे भीतर है इस बात पर खुश होना और किस बात पर नहीं हम पर डिपेंड करता है अब मान लीजिए कि अगर आपका मूड अच्छा है आपकी वाइफ में अच्छा खाना बनाया तो आपको बहुत खुशी मिलेगी लेकिन अगर आपका मूड खराब है तो आपको वही खाना खराब लगने लगेगा उसी व्यक्ति का बनाया हुआ खाना आपको खराब लगा है क्योंकि आपका मन खराब है तो आपकी खुशी आपके दुख जो है आपके अंदर नहीं था आपको बस क्या करना है क्या अपने आप को इतना सही अमित बनाना है क्या आपको हर चीज में खुशी दिखता की उम्मीद करती हूं आपको मेरी जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Kal poochha gaya hai khushee hamaare bheetar hai baahar nahin yah koee samajha sakata hai lekin bilkul khushee ek bhaavana hai jo hamaare bheetar hai is baat par khush hona aur kis baat par nahin ham par dipend karata hai ab maan leejie ki agar aapaka mood achchha hai aapakee vaiph mein achchha khaana banaaya to aapako bahut khushee milegee lekin agar aapaka mood kharaab hai to aapako vahee khaana kharaab lagane lagega usee vyakti ka banaaya hua khaana aapako kharaab laga hai kyonki aapaka man kharaab hai to aapakee khushee aapake dukh jo hai aapake andar nahin tha aapako bas kya karana hai kya apane aap ko itana sahee amit banaana hai kya aapako har cheej mein khushee dikhata kee ummeed karatee hoon aapako meree javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई यह समझा सकता है?Khushi Humare Bhetar Hai Kahe Bahar Nahin Kya Koi Yah Samjha Sakta Hai
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
1:10
नमस्कार काफी अच्छे से वाली वाला भी खुशी हमारे भी तो है कई बार नहीं समझा सकता है क्या मतलब होता है कि एक बच्चा है जिसको उसके पेरेंट्स जीपीएस को लाकर दे दिया बढ़िया से बढ़िया वीडियो गेम लाकर दे दे लेकिन तब भी वह खुश नहीं है उसे और चीजें चाहिए और चीजें चाहिए होली कब दिखेंगे की कोई दो चार बच्चे सड़क पर बैठे हैं और वह अपना खेलने कुछ भी टायर मलिका टायर को घुमा लिया वरना पत्थर मिल गए तो पत्थर से कोई गेम खेल लिया तुम उन गेमों में भी काफी खुश हो जाते हैं उन्हें काफी आनंद आता है तू यही एक वाक्य तो सिर्फ एक उदाहरण है तो इससे यही सामने आता है कि ऐसा नहीं है कि आप कोई बाहर की कोई चीज ले लेंगे तो आपको खुशी मिल जाएगी आपको अगर अपनी कोई मनपसंद चीज मिल गई तो आप खुश हो जाएंगे हमेशा के लिए ऐसा नहीं है वह जो भी आपकी खुशी है वह आपके अंदर की खुशी है बाहर की चीजों से आपको कभी खुशी नहीं मिलती जो खुशी होती है वह हमारे भीतर ही होती है
Namaskaar kaaphee achchhe se vaalee vaala bhee khushee hamaare bhee to hai kaee baar nahin samajha sakata hai kya matalab hota hai ki ek bachcha hai jisako usake perents jeepeees ko laakar de diya badhiya se badhiya veediyo gem laakar de de lekin tab bhee vah khush nahin hai use aur cheejen chaahie aur cheejen chaahie holee kab dikhenge kee koee do chaar bachche sadak par baithe hain aur vah apana khelane kuchh bhee taayar malika taayar ko ghuma liya varana patthar mil gae to patthar se koee gem khel liya tum un gemon mein bhee kaaphee khush ho jaate hain unhen kaaphee aanand aata hai too yahee ek vaaky to sirph ek udaaharan hai to isase yahee saamane aata hai ki aisa nahin hai ki aap koee baahar kee koee cheej le lenge to aapako khushee mil jaegee aapako agar apanee koee manapasand cheej mil gaee to aap khush ho jaenge hamesha ke lie aisa nahin hai vah jo bhee aapakee khushee hai vah aapake andar kee khushee hai baahar kee cheejon se aapako kabhee khushee nahin milatee jo khushee hotee hai vah hamaare bheetar hee hotee hai

bolkar speaker
खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई यह समझा सकता है?Khushi Humare Bhetar Hai Kahe Bahar Nahin Kya Koi Yah Samjha Sakta Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:32
आपका सवाल है खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई समझा सकता है तो दोस्तों खुशी हमारे भीतर भी होती है और भाभी होती है खुशी हमारे भीतर तो होती है जो अपने काम को संतुष्ट होना अपने आप को खुश रखना और भारी खुशी होती है तो किसी को दूसरे को मरते हुए देखना और अपने आप को खुश रखना यह दोनों में इस प्रकार से अंतर समझा जा सकता है
Aapaka savaal hai khushee hamaare bheetar hai kaheen baahar nahin kya koee samajha sakata hai to doston khushee hamaare bheetar bhee hotee hai aur bhaabhee hotee hai khushee hamaare bheetar to hotee hai jo apane kaam ko santusht hona apane aap ko khush rakhana aur bhaaree khushee hotee hai to kisee ko doosare ko marate hue dekhana aur apane aap ko khush rakhana yah donon mein is prakaar se antar samajha ja sakata hai

bolkar speaker
खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई यह समझा सकता है?Khushi Humare Bhetar Hai Kahe Bahar Nahin Kya Koi Yah Samjha Sakta Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:35
द्वारा पूछे गए सवाल है सच्चे मन से की तो हमारे भीतर ही होती है क्योंकि जब तक आपके मन में संतोष नहीं होगा तब तक आपको खुद ही कहा था हमें हमारे जीवन में संतुष्ट होना बहुत जरूरी है कोई भी चीज हो गई उसके लिए बहुत जरूरी है छोटी-छोटी बातों पर भी अब मत करना कुछ लोगों की आदत होती है छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करना तुम हमारी अच्छी हो जाए और हम संतुष्ट अपने जीवन में होना सीख जाए तो बीमारी होती है कुछ लोग आप देखेंगे कि कितनी परेशानियों के जिंदगी में रहती है तब खुश नजर आता है क्योंकि करना चाहते हैं तो जो खुशी होती है वह बाहर भी होती है लेकिन को छोड़कर किसी होते जैसे कि मालिक हम कुछ नई चीजें खरीद के लाया था मैं थोड़ी सी खुशी होती है
Dvaara poochhe gae savaal hai sachche man se kee to hamaare bheetar hee hotee hai kyonki jab tak aapake man mein santosh nahin hoga tab tak aapako khud hee kaha tha hamen hamaare jeevan mein santusht hona bahut jarooree hai koee bhee cheej ho gaee usake lie bahut jarooree hai chhotee-chhotee baaton par bhee ab mat karana kuchh logon kee aadat hotee hai chhotee-chhotee baaton par gussa karana tum hamaaree achchhee ho jae aur ham santusht apane jeevan mein hona seekh jae to beemaaree hotee hai kuchh log aap dekhenge ki kitanee pareshaaniyon ke jindagee mein rahatee hai tab khush najar aata hai kyonki karana chaahate hain to jo khushee hotee hai vah baahar bhee hotee hai lekin ko chhodakar kisee hote jaise ki maalik ham kuchh naee cheejen khareed ke laaya tha main thodee see khushee hotee hai

bolkar speaker
खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई यह समझा सकता है?Khushi Humare Bhetar Hai Kahe Bahar Nahin Kya Koi Yah Samjha Sakta Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:56
सारा का प्रश्न खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई है समझा सकता है ना को बता जाएंगे बिल्कुल हर एक मनुष्य के अंदर ही खुशी का निवास है वह खुशी आपको स्वयं से तलाश नहीं होती है और उस का आनंद लेना होता है आप बड़ी बड़ी खुशियों के चक्कर में अगर रहेंगे तो यकीन मानिए आप कभी खुश नहीं रह पाएंगे आप छोटी-छोटी चीजों में अपने लिए खुशियों की तलाश करें निश्चित रूप से आपको यहां पर जीवन में सफलता मिलेगी अगर आप इस उम्मीद में बैठे रहेंगे कि जिस दिन बड़ी खुशियां आएगी तभी आप खुश होंगे छोटी खुशियों से खुश नहीं होंगे तो यकीन मानिए ऐसा कोई दिन आएगा ही नहीं तो हमेशा छोटी छोटी बातों में छोटी-छोटी खुशियों मैं अपने जीवन को लगाइए उसका नाम दीजिए तभी आप जीवन को पूरी सार्थकता के साथ जी पाएंगे में शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Saara ka prashn khushee hamaare bheetar hai kaheen baahar nahin kya koee hai samajha sakata hai na ko bata jaenge bilkul har ek manushy ke andar hee khushee ka nivaas hai vah khushee aapako svayan se talaash nahin hotee hai aur us ka aanand lena hota hai aap badee badee khushiyon ke chakkar mein agar rahenge to yakeen maanie aap kabhee khush nahin rah paenge aap chhotee-chhotee cheejon mein apane lie khushiyon kee talaash karen nishchit roop se aapako yahaan par jeevan mein saphalata milegee agar aap is ummeed mein baithe rahenge ki jis din badee khushiyaan aaegee tabhee aap khush honge chhotee khushiyon se khush nahin honge to yakeen maanie aisa koee din aaega hee nahin to hamesha chhotee chhotee baaton mein chhotee-chhotee khushiyon main apane jeevan ko lagaie usaka naam deejie tabhee aap jeevan ko pooree saarthakata ke saath jee paenge mein shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई यह समझा सकता है?Khushi Humare Bhetar Hai Kahe Bahar Nahin Kya Koi Yah Samjha Sakta Hai
Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
1:11
खुश हमारे भीतर है कहीं मांग नहीं नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है रोहित आप सुनने मेरा यह ऑडियो बोलकर आपका दोस्त मैं आपको समझाता हूं कि आपकी खुशी हमारे बेटे ने अपनी मां नहीं क्या मतलब है इसका मतलब है हमारी एक सेटिस्फेक्शन से हमारे मन की वीणा से उसने देखा होगा इसका उदाहरण में आपको देता हूं एक मांग को लेकर बच्चे को जब खाना पीना खिलाती है कुछ खिलाती है भले ही उस माह के लिए नहीं बचा ली वह मैं अपने मन से वह उस चीज के लिए पसंद है कि हां मेरे बेटे ने खा लिया मैं खुश हूं बल्कि चीज में मिलावट सेटिस्फेक्शन उसको पूरी है यहां से भले ही वह कुछ ना देखे लेकिन मन के अंदर बहुत खुश है लेकिन केंद्र पोषित पीड़ा नहीं हो रही है उसकी खुशी हमारे भीतर और विकृत विकृत मतलबी होते हैं यह मतलब मैंने आपको बताया जो कि आपको आराम से समझ में आ जाए यदि आप शायद आपको और बता मुझे नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं
Khush hamaare bheetar hai kaheen maang nahin namaskaar doston mera naam hai rohit aap sunane mera yah odiyo bolakar aapaka dost main aapako samajhaata hoon ki aapakee khushee hamaare bete ne apanee maan nahin kya matalab hai isaka matalab hai hamaaree ek setisphekshan se hamaare man kee veena se usane dekha hoga isaka udaaharan mein aapako deta hoon ek maang ko lekar bachche ko jab khaana peena khilaatee hai kuchh khilaatee hai bhale hee us maah ke lie nahin bacha lee vah main apane man se vah us cheej ke lie pasand hai ki haan mere bete ne kha liya main khush hoon balki cheej mein milaavat setisphekshan usako pooree hai yahaan se bhale hee vah kuchh na dekhe lekin man ke andar bahut khush hai lekin kendr poshit peeda nahin ho rahee hai usakee khushee hamaare bheetar aur vikrt vikrt matalabee hote hain yah matalab mainne aapako bataaya jo ki aapako aaraam se samajh mein aa jae yadi aap shaayad aapako aur bata mujhe neeche kament boks mein jaroor bataen

bolkar speaker
खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई यह समझा सकता है?Khushi Humare Bhetar Hai Kahe Bahar Nahin Kya Koi Yah Samjha Sakta Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
3:29
हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई यह समझा सकता देखिए दोस्त आपका प्रश्न में ही आपकी खुशी आप समझ लीजिए कि आज संतुष्टि इस सबसे बड़े खुश अगर आप काम धंधा बिजनेस नौकरी कर रहे हैं और आप अपने काम से संतुष्ट लेकिन परिस्थितियां कैसी भी उसको भूल जाएगी आपको लगता है कि मैं एक टीचर हूं और मैं ईमानदारी से पढ़ा रहा हूं मेरे पढ़ाई में बच्चे कुछ बेहतर करेंगे और मुझे अपने प्रोफेशन पर गर्व है वही सबसे बड़ी अपने परिवार के साथ में बीवी बच्चे मां बाप सबके साथ समान व्यवहार करती हूं सबके साथ मिलजुल कर खुशियां किसी तरह से नफरत और कोई चीज ना हो सबको समान दृष्टि से देखते हैं और सब लोग आपका रिस्पेक्ट या ना करो लेकिन आप अपने व्यवहार से सबको संतुष्ट करने की कोशिश करते हैं वही सबसे बड़ी आप अपने दोस्त जो दोस्त है उसके लिए हमेशा तत्पर है किसी भी परिस्थिति चाहे सही हो या गलत फाइनेंशियल सपोर्ट नहीं कर पाते लेकिन उसके ईमानदारी से कहते हैं कि वह मेरे पास इतनी स्थिति है वह तो संतुष्टि मिलती है उस दोस्त के द्वारा मेरी सबसे बड़ी खुशी है आप कहीं बिजनेस दुकानदार है और कहीं पर भी जा रहे हैं कुछ खरीददारी करते अपनी आवश्यकताओं के अनुसार ध्यान रखना आप कितनी आवश्यकता है उतना ही करते हैं और जितना आप की इनकम है उससे बचत को खर्च को और चीजों पर सही ढंग से बात करके और उसके अनुसार अपनी जीवनशैली चाहे आपकी इनकम नामपल्ली के बनाओ कम ही क्यों न लेकिन उससे आप अपने आप को संतुष्ट हैं आप कहीं पर बाहर नहीं यह सोचने की मेरा कैसे बनेगा आपके अंदर लालच नहीं है आपके अंदर यह भावना नहीं किया मेरे बिल्डिंग कैसे होगी मेरे बच्चों की शादी कार्य करें से मिलूंगा कैसे नहीं अपनी इनकम से संतुष्ट हैं सबसे बड़ी खुशी तो आप सोच लीजिए कल्पना करके देखी थी जब कभी हम अपने कार्यों से संतुष्ट होते हैं आप मंदिर में मंदिर में पूजा करने बैठे भगवान देख रहा है या नहीं मुझे नहीं मालूम आपने सही मंत्र चारण किया और मंत्रोच्चारण से आपके अंदर एक भावनाएं कि नहीं भाई यह सही है और वह जो संतुष्टि मिलती है वही सबसे बड़ी खुशी में नवरात्रि का व्रत करता हूं लोग कहते हैं कि देवी आती मुझे नहीं मालूम कौन आता है जाता लेकिन मैं दुर्गा सप्तशती का नियमित पाठ करता हूं सुबह शाम पूजा पाठ करता हूं बिल्कुल साधारण जीवन जीता हूं ना किसी से बुराई न कुछ बिल्कुल और मुझे ऐसा लगता मेरे अंदर एक आध्यात्मिक शक्ति आदि शक्ति का एहसास करना कि कुछ तो कहीं नहीं अगर आप आत्म संतुष्ट हैं अपने कार्य से अपने व्यवहार से अपने आचरण से तो निश्चित तौर पर वह सबसे बड़ी खुशी मिलती है अगर आपको मिल जाए तो कमेंट में जरूर लिखना
Hamaare bheetar hai kaheen baahar nahin kya koee yah samajha sakata dekhie dost aapaka prashn mein hee aapakee khushee aap samajh leejie ki aaj santushti is sabase bade khush agar aap kaam dhandha bijanes naukaree kar rahe hain aur aap apane kaam se santusht lekin paristhitiyaan kaisee bhee usako bhool jaegee aapako lagata hai ki main ek teechar hoon aur main eemaanadaaree se padha raha hoon mere padhaee mein bachche kuchh behatar karenge aur mujhe apane propheshan par garv hai vahee sabase badee apane parivaar ke saath mein beevee bachche maan baap sabake saath samaan vyavahaar karatee hoon sabake saath milajul kar khushiyaan kisee tarah se napharat aur koee cheej na ho sabako samaan drshti se dekhate hain aur sab log aapaka rispekt ya na karo lekin aap apane vyavahaar se sabako santusht karane kee koshish karate hain vahee sabase badee aap apane dost jo dost hai usake lie hamesha tatpar hai kisee bhee paristhiti chaahe sahee ho ya galat phainenshiyal saport nahin kar paate lekin usake eemaanadaaree se kahate hain ki vah mere paas itanee sthiti hai vah to santushti milatee hai us dost ke dvaara meree sabase badee khushee hai aap kaheen bijanes dukaanadaar hai aur kaheen par bhee ja rahe hain kuchh khareedadaaree karate apanee aavashyakataon ke anusaar dhyaan rakhana aap kitanee aavashyakata hai utana hee karate hain aur jitana aap kee inakam hai usase bachat ko kharch ko aur cheejon par sahee dhang se baat karake aur usake anusaar apanee jeevanashailee chaahe aapakee inakam naamapallee ke banao kam hee kyon na lekin usase aap apane aap ko santusht hain aap kaheen par baahar nahin yah sochane kee mera kaise banega aapake andar laalach nahin hai aapake andar yah bhaavana nahin kiya mere bilding kaise hogee mere bachchon kee shaadee kaary karen se miloonga kaise nahin apanee inakam se santusht hain sabase badee khushee to aap soch leejie kalpana karake dekhee thee jab kabhee ham apane kaaryon se santusht hote hain aap mandir mein mandir mein pooja karane baithe bhagavaan dekh raha hai ya nahin mujhe nahin maaloom aapane sahee mantr chaaran kiya aur mantrochchaaran se aapake andar ek bhaavanaen ki nahin bhaee yah sahee hai aur vah jo santushti milatee hai vahee sabase badee khushee mein navaraatri ka vrat karata hoon log kahate hain ki devee aatee mujhe nahin maaloom kaun aata hai jaata lekin main durga saptashatee ka niyamit paath karata hoon subah shaam pooja paath karata hoon bilkul saadhaaran jeevan jeeta hoon na kisee se buraee na kuchh bilkul aur mujhe aisa lagata mere andar ek aadhyaatmik shakti aadi shakti ka ehasaas karana ki kuchh to kaheen nahin agar aap aatm santusht hain apane kaary se apane vyavahaar se apane aacharan se to nishchit taur par vah sabase badee khushee milatee hai agar aapako mil jae to kament mein jaroor likhana

bolkar speaker
खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई यह समझा सकता है?Khushi Humare Bhetar Hai Kahe Bahar Nahin Kya Koi Yah Samjha Sakta Hai
Hitesh jain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Hitesh जी का जवाब
Blogger- Content Writer
4:55
आज का सवाल है खुशी हमारे भीतर अरे कहीं बाहर नहीं क्या कोई और समझ सकता है तो हां मैं हितेश जैन सवाल का जवाब देता हूं और यह सवाल शायद तेरे लिए ही पूछा गया हो ऐसा मुझे लगता है मैं यह सवाल यह है कि खुशी अमर भीतर ले यह बात सच है खुशी हमारे भीतर ही है बाहर कहीं नहीं है जब आप ध्यान लगाते हैं अपनी खुद पर अपने शरीर पर अपनी आत्मा पर अपने विचारों पर और ध्यान और मेडिटेशन और जो भी कहे योगा एक्सरसाइज करते हैं और जब आप अपने आप पर ध्यान देते अपने विचारों पर ध्यान देते हैं तो आपको एक अंदरूनी खुशी महसूस होती है और वह खुशी इतनी ज्यादा होती है कि उसके सामने आपके करोड़ों रुपए ला करके भी क्यों ना रख दे तो भी आप उसे नहीं लेंगे और उस खुशी को पाने के लिए आपको विपासना मेडिटेशन करना होगा जो कि गौतम बुद्ध ने कि 100 साल पहले बताया था जो हमारे भारत के ही थे लेकिन उन्होंने चाइना में इसका आविष्कार किया था तो आप विपासना मेडिटेशन के कई सेंटर भी है और राज्य में सेंटर होता है गूगल पर सर्च कीजिए वह चाहिए विपस्सना मैडिटेशन कीजिए और उस मेडिटेशन पर दो आपको खुशी मिलेगी वह अद्भुत होगी और कितनी ज्यादा खुशी होगी इतना ज्यादा आपका डोपामिन लेवल बढ़ जाएगा ब्रेन की तोमर केमिकल सोते डोपामिन और सेरोटोनिन वह घर उसकी को बढ़ाते हैं तो इतने बढ़ा देंगे कि उसके सामने पूरा जगदीशपुरा संसार भी आपको कुछ नहीं लगेगा इतनी ज्यादा खुशी आपको मैसेज ओके गुड़िया मेरे पर्सनल एक्सपीरियंस है क्योंकि मैं खुद विपस्सना मैडिटेशन करता हूं तो अब किसी की बात बुरी नहीं लगती है किसी से कोई उम्मीद नहीं रहती है मैं अपने में खुश रहता हूं और अपने में ही खुश हो तो यह है कि आप इतना मेडिटेशन जरूर करें कोई हस्तक्षेप गीता में भी कहा गया कि खुशी हमारे भीतर ही है बाहर कहीं नहीं हम बाहर भौतिक वस्तुओं में अपनी खुशी को देखते हैं किसी के प्यार में अपनी खुशी को देखते हुए किसी चीज में हम अपनी खुशी को देखते हैं जब तक वह नहीं मिलती तब तक उसे मिलने की होड़ रहती है मैं वजह से वह मिल जाती है तो हमारी खुशी खत्म हो जाती तो वह खुशी नहीं है वह कंफर्ट जोन आफ कंफर्ट जोन से बाहर आए अगर जवाब एक एग्जांपल दे तो मोबाइल लेने जाते तो आपको कितनी खुशी होती है लेकिन जैसे कोई मोबाइल आता है तो दो-चार दिन आपको खुशी देती लेकिन फिर बाद में क्या वह इस साइड में पड़ा रहता है जब यूज़ करना करते हैं वरना साइड में रहता है तो क्या वह से इतनी खुशी रहती है क्या आपके अंदर क्या 20 घंटा उसको यूज करें दिन और रात जला बिना खाए पिए रह सकते आप यूज कर सकते हैं नहीं तो चीज की खुशी हमारे भीतर ही है बाहर नहीं है चीजों में नहीं है भौतिक वस्तुओं में नहीं है खुशी अपने पति प्रेम करने से लोगों से प्रेम करने से अपने परिवार से प्रेम करने लगे तो लोगों के हाथ रहे लोगों से प्यार करें और अपनी खुशी को लोगों के साथ जाहिर करें खुद भी मेडिटेशन करें दूसरों को भी कराया और इस जीवन मरण की प्रक्रिया के दूर होने के लिए विपस्सना मैडिटेशन का ध्यान करें विपस्सना मैडिटेशन जब आप करेंगे तो आपकी अंतरात्मा और हॉस्पिटल नो द्वार खुल जाते हैं और आपका जोड़ी को कनेक्ट हो जाता है उसी यूनिवर्स थे जिससे जिसमें पूर्व ब्रह्मांड की पूरी पूरी शक्ति है उनके सकते कि पूरे ब्रह्मांड यूनिवर्स जो मर ब्रह्मांड है उसमें बहुत प्रॉब्लम है वह पूरी पावर आपको मिल जाती है और आप एक इनलाइटनमेंट की तरफ बढ़ सकते हैं लाइक गौतम बुद्धा तो बस एक ही अगर आपको अंदरुनी किए तो सब मोह माया है सब से दूर हो जाइए और ध्यान में मग्न हो जाइए जैसे-जैसे ध्यान लगने लगेगा वैसे वैसे आपको बाहरी चीजों से ध्यान रखने लगे हो जैसे जैसे बाहरी चीजें ध्यान रखेगा वैसे वैसे आप का अंतर्ज्ञान बढ़ेगा और अंतर खुशी बढ़ेगी फिर आपको किसी चीज का कोई गम नहीं होगा कोई दुख नहीं होगा किसी से कोई इच्छा नहीं हो गई किसी पर गुस्सा नहीं आएगा कुछ भी नहीं होगा अगर आप और जानना चाहते इसके बारे में तो गौतम बुद्ध के बारे में यूट्यूब पर सर्च कीजिए और वह भी पास में मेडिटेशन सर्च कीजिए आपको एहसास होगा एक बार जरूर यह करके देखिए आपको अंदरुनी कोशिश जरूर जरूर जरूर मिलेगी मिठाई आपको कुछ मिले या नहीं मिले जीवन में लेकिन आपको जो अंदरूनी खुशी ही तो है वह आपके हमेशा साथ मेरे दिल मरते दम तक तो बस यही था आपके सवाल का जवाब नहीं दे रहे आप सब से रिक्वेस्ट करता हूं प्लीज लाइक शेयर सब्सक्राइब करें अगर उनको सीमित हो गया हो गया कुछ गलत बोल दिया हो तो उसके लिए क्षमा चाहता हूं लेकिन प्लीज लाइक जरूर सब्सक्राइब करें धन्यवाद आपका दिन मंगलमय हो
Aaj ka savaal hai khushee hamaare bheetar are kaheen baahar nahin kya koee aur samajh sakata hai to haan main hitesh jain savaal ka javaab deta hoon aur yah savaal shaayad tere lie hee poochha gaya ho aisa mujhe lagata hai main yah savaal yah hai ki khushee amar bheetar le yah baat sach hai khushee hamaare bheetar hee hai baahar kaheen nahin hai jab aap dhyaan lagaate hain apanee khud par apane shareer par apanee aatma par apane vichaaron par aur dhyaan aur mediteshan aur jo bhee kahe yoga eksarasaij karate hain aur jab aap apane aap par dhyaan dete apane vichaaron par dhyaan dete hain to aapako ek andaroonee khushee mahasoos hotee hai aur vah khushee itanee jyaada hotee hai ki usake saamane aapake karodon rupe la karake bhee kyon na rakh de to bhee aap use nahin lenge aur us khushee ko paane ke lie aapako vipaasana mediteshan karana hoga jo ki gautam buddh ne ki 100 saal pahale bataaya tha jo hamaare bhaarat ke hee the lekin unhonne chaina mein isaka aavishkaar kiya tha to aap vipaasana mediteshan ke kaee sentar bhee hai aur raajy mein sentar hota hai googal par sarch keejie vah chaahie vipassana maiditeshan keejie aur us mediteshan par do aapako khushee milegee vah adbhut hogee aur kitanee jyaada khushee hogee itana jyaada aapaka dopaamin leval badh jaega bren kee tomar kemikal sote dopaamin aur serotonin vah ghar usakee ko badhaate hain to itane badha denge ki usake saamane poora jagadeeshapura sansaar bhee aapako kuchh nahin lagega itanee jyaada khushee aapako maisej oke gudiya mere parsanal eksapeeriyans hai kyonki main khud vipassana maiditeshan karata hoon to ab kisee kee baat buree nahin lagatee hai kisee se koee ummeed nahin rahatee hai main apane mein khush rahata hoon aur apane mein hee khush ho to yah hai ki aap itana mediteshan jaroor karen koee hastakshep geeta mein bhee kaha gaya ki khushee hamaare bheetar hee hai baahar kaheen nahin ham baahar bhautik vastuon mein apanee khushee ko dekhate hain kisee ke pyaar mein apanee khushee ko dekhate hue kisee cheej mein ham apanee khushee ko dekhate hain jab tak vah nahin milatee tab tak use milane kee hod rahatee hai main vajah se vah mil jaatee hai to hamaaree khushee khatm ho jaatee to vah khushee nahin hai vah kamphart jon aaph kamphart jon se baahar aae agar javaab ek egjaampal de to mobail lene jaate to aapako kitanee khushee hotee hai lekin jaise koee mobail aata hai to do-chaar din aapako khushee detee lekin phir baad mein kya vah is said mein pada rahata hai jab yooz karana karate hain varana said mein rahata hai to kya vah se itanee khushee rahatee hai kya aapake andar kya 20 ghanta usako yooj karen din aur raat jala bina khae pie rah sakate aap yooj kar sakate hain nahin to cheej kee khushee hamaare bheetar hee hai baahar nahin hai cheejon mein nahin hai bhautik vastuon mein nahin hai khushee apane pati prem karane se logon se prem karane se apane parivaar se prem karane lage to logon ke haath rahe logon se pyaar karen aur apanee khushee ko logon ke saath jaahir karen khud bhee mediteshan karen doosaron ko bhee karaaya aur is jeevan maran kee prakriya ke door hone ke lie vipassana maiditeshan ka dhyaan karen vipassana maiditeshan jab aap karenge to aapakee antaraatma aur hospital no dvaar khul jaate hain aur aapaka jodee ko kanekt ho jaata hai usee yoonivars the jisase jisamen poorv brahmaand kee pooree pooree shakti hai unake sakate ki poore brahmaand yoonivars jo mar brahmaand hai usamen bahut problam hai vah pooree paavar aapako mil jaatee hai aur aap ek inalaitanament kee taraph badh sakate hain laik gautam buddha to bas ek hee agar aapako andarunee kie to sab moh maaya hai sab se door ho jaie aur dhyaan mein magn ho jaie jaise-jaise dhyaan lagane lagega vaise vaise aapako baaharee cheejon se dhyaan rakhane lage ho jaise jaise baaharee cheejen dhyaan rakhega vaise vaise aap ka antargyaan badhega aur antar khushee badhegee phir aapako kisee cheej ka koee gam nahin hoga koee dukh nahin hoga kisee se koee ichchha nahin ho gaee kisee par gussa nahin aaega kuchh bhee nahin hoga agar aap aur jaanana chaahate isake baare mein to gautam buddh ke baare mein yootyoob par sarch keejie aur vah bhee paas mein mediteshan sarch keejie aapako ehasaas hoga ek baar jaroor yah karake dekhie aapako andarunee koshish jaroor jaroor jaroor milegee mithaee aapako kuchh mile ya nahin mile jeevan mein lekin aapako jo andaroonee khushee hee to hai vah aapake hamesha saath mere dil marate dam tak to bas yahee tha aapake savaal ka javaab nahin de rahe aap sab se rikvest karata hoon pleej laik sheyar sabsakraib karen agar unako seemit ho gaya ho gaya kuchh galat bol diya ho to usake lie kshama chaahata hoon lekin pleej laik jaroor sabsakraib karen dhanyavaad aapaka din mangalamay ho

bolkar speaker
खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई यह समझा सकता है?Khushi Humare Bhetar Hai Kahe Bahar Nahin Kya Koi Yah Samjha Sakta Hai
Divya Singh  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Divya जी का जवाब
Mentor teacher at DoE, Delhi
5:00
नमस्कार साथियों प्रश्न है खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई यह समझा सकता है जी बिल्कुल और मुझे इस बारे में जितनी समझ है वह मैं आपके साथ जरूर साझा करूंगी खुशी हमारे भीतर है यह खुशी है क्या यदि हम इसको समझ जाएंगे तो हम समझ जाएंगे कि यह कैसे हमारे भीतर खुशी हम किस में ढूंढते हैं रिश्तो में वस्तुओं में धन में पद में रूप में बल में तो जरूर हम इसको बाहर पाएंगे यानी यदि मेरे पद में वृद्धि होती है तो मुझे खुशी मिलती है मैं सुंदर हूं मेरा रूप अच्छा है तो मुझे खुशी होती है कोई मेरे रूप की तारीफ कर दे मुझे खुशी होती है मुझे पावर मिल जाए शक्ति मिल जाए मैं बलवान हूं मैं सबसे ऊपर हूं मैं किसी को दबा सकता हूं कह सकती हूं यह सोच कर मुझे खुशी मिलती है तो वह खुशी बाहर है मेरे पास लग्जरी आइटम से बड़ी-बड़ी गाड़ियां हैं बड़ा घर है और अगर मेरे पास बड़ा घर है और मुझसे बड़ा किसी और के पास है तो मैं दुखी हो जाता हूं या हो जाती हूं तो मैं यानी खुशी बाहर ढूंढ रही हूं तो फिर खुशी है क्या यह सभी जो अभी हमने बातें की धन्य बल्लू रिश्ते इन सब में खुशियां हम बाहर की तरफ ढूंढ रहे होते हैं और वहां से खुशी ना मिलने पर हम दुखी हो जाते हैं अब इसको कुछ ऐसे समझी यह खुशी है या खुशी पाने के साधन है और यह साधन भी कितने दिन के हैं सैनिक हैं या लंबे समय के लिए जैसे मेरा प्रमोशन का होना कितने दिन में खुश रह पाती हूं प्रमोशन होने के बाद मेरा कक्षा में अच्छे अंक बाद अंक पाना या मेरे बच्चे का कक्षा में अंक अच्छे पाना इस बात से हम कितने दिन तक खुश रहते हैं क्या हम हमेशा खुश रहते हैं तो इस पर अगर आप विचार करेंगे तो पाएंगे कि यह सब एक माध्यम है इसमें हम खुशी ढूंढ रहे हैं अभी कॉल स्थिति को समझते हैं कि मैं कहीं बैठी हूं अकेली और मुझे वहां के वातावरण से ही खुशी मिल रही है मैं खुश हूं मैं अपने किसी मित्र के साथ बैठी हूं और मैं खुश हूं चाहे मैं सड़क पर ही बच्चे इसी बस स्टॉप पर बैठी हूं और मैं उनसे मिलकर बहुत खुश हूं वहीं दूसरी ओर में एक बहुत बड़े होटल में हूं चाय किसी मित्र के साथ हूं या किसी परिवार के सदस्य के साथ हूं खुश नहीं हूं क्या दर्शाता है कि यदि मैं खुश हूं तुम्हें उसके लिए किसी बड़े होटल बड़े मकान या बड़ी गाड़ी की आवश्यकता नहीं है एक बड़ी गाड़ी होने के बावजूद भी कोई व्यक्ति दुखी भी होता है कभी-कभी खुश तो होते ही हैं सभी पर क्या कभी हमेशा यह स्थिति जरूरी है क्या मामा बस बड़ी गाड़ी आ गई तो हमेशा खुश रहेंगे क्या बड़े लोग अमीर लोग हमेशा खुश रहते हैं यदि ऐसा होता तो हर व्यक्ति पैसा पाने के बाद खुश ही रहता तो यह विचारणीय प्रश्न है कि खुश होना एक मानसिक स्थिति है या भौतिक वस्तुओं से जुड़ी है जब मैं यह सोचती हूं तो मैं पाती हूं कि खुश रहना एक मानसिक स्थिति है यानी मैं भरी तपती धूप में भी खुश रह सकती हूं और हो सकता है कि मैं भरी गर्मी हो और मैं ऐसी वाले रुम में बैठी हूं दुखी हूं किसी बात पर मैं रो रही हूं किसी बात पर मैं आपसे खुशी जो है एक मानसिक स्थिति है अगर हम यह समझ जाए तो हम समझ जाएंगे कि खुशी हमारे भीतर ही है मैं चाहूं तो खुश रह सकती हूं किसी बात पर यदि मैं अपसेट होती हूं अगर मान लीजिए किसी ने मेरे से बुरा व्यवहार में उसका प्रभाव अपने ऊपर ले लेती हूं तो मैं दुखी रहती हूं किसी किसी को बुरा कहने का मुझ पर असर ही नहीं होता तो मैं खुश रहती हूं या बुरा व्यक्ति ने बुरा कहा दो व्यक्ति हैं एक ने उसकी बात को दिल पर ले लिया और एक ने उसकी परवाह ही नहीं की तो देखी या नहीं यह मानसिक स्थिति होगी कि आप ने चाहा तो आप दुखी हो जाएंगे आप ने चाहा तो आप खुश हो जाएंगे तो इसको इस प्रकार जब आप देखेंगे तो पाएंगे कि एक मानसिक स्थिति है और इसलिए हमारे भीतर ही है जैसा हमारा माइंड माइंड सेट होगा हम वैसा
Namaskaar saathiyon prashn hai khushee hamaare bheetar hai kaheen baahar nahin kya koee yah samajha sakata hai jee bilkul aur mujhe is baare mein jitanee samajh hai vah main aapake saath jaroor saajha karoongee khushee hamaare bheetar hai yah khushee hai kya yadi ham isako samajh jaenge to ham samajh jaenge ki yah kaise hamaare bheetar khushee ham kis mein dhoondhate hain rishto mein vastuon mein dhan mein pad mein roop mein bal mein to jaroor ham isako baahar paenge yaanee yadi mere pad mein vrddhi hotee hai to mujhe khushee milatee hai main sundar hoon mera roop achchha hai to mujhe khushee hotee hai koee mere roop kee taareeph kar de mujhe khushee hotee hai mujhe paavar mil jae shakti mil jae main balavaan hoon main sabase oopar hoon main kisee ko daba sakata hoon kah sakatee hoon yah soch kar mujhe khushee milatee hai to vah khushee baahar hai mere paas lagjaree aaitam se badee-badee gaadiyaan hain bada ghar hai aur agar mere paas bada ghar hai aur mujhase bada kisee aur ke paas hai to main dukhee ho jaata hoon ya ho jaatee hoon to main yaanee khushee baahar dhoondh rahee hoon to phir khushee hai kya yah sabhee jo abhee hamane baaten kee dhany balloo rishte in sab mein khushiyaan ham baahar kee taraph dhoondh rahe hote hain aur vahaan se khushee na milane par ham dukhee ho jaate hain ab isako kuchh aise samajhee yah khushee hai ya khushee paane ke saadhan hai aur yah saadhan bhee kitane din ke hain sainik hain ya lambe samay ke lie jaise mera pramoshan ka hona kitane din mein khush rah paatee hoon pramoshan hone ke baad mera kaksha mein achchhe ank baad ank paana ya mere bachche ka kaksha mein ank achchhe paana is baat se ham kitane din tak khush rahate hain kya ham hamesha khush rahate hain to is par agar aap vichaar karenge to paenge ki yah sab ek maadhyam hai isamen ham khushee dhoondh rahe hain abhee kol sthiti ko samajhate hain ki main kaheen baithee hoon akelee aur mujhe vahaan ke vaataavaran se hee khushee mil rahee hai main khush hoon main apane kisee mitr ke saath baithee hoon aur main khush hoon chaahe main sadak par hee bachche isee bas stop par baithee hoon aur main unase milakar bahut khush hoon vaheen doosaree or mein ek bahut bade hotal mein hoon chaay kisee mitr ke saath hoon ya kisee parivaar ke sadasy ke saath hoon khush nahin hoon kya darshaata hai ki yadi main khush hoon tumhen usake lie kisee bade hotal bade makaan ya badee gaadee kee aavashyakata nahin hai ek badee gaadee hone ke baavajood bhee koee vyakti dukhee bhee hota hai kabhee-kabhee khush to hote hee hain sabhee par kya kabhee hamesha yah sthiti jarooree hai kya maama bas badee gaadee aa gaee to hamesha khush rahenge kya bade log ameer log hamesha khush rahate hain yadi aisa hota to har vyakti paisa paane ke baad khush hee rahata to yah vichaaraneey prashn hai ki khush hona ek maanasik sthiti hai ya bhautik vastuon se judee hai jab main yah sochatee hoon to main paatee hoon ki khush rahana ek maanasik sthiti hai yaanee main bharee tapatee dhoop mein bhee khush rah sakatee hoon aur ho sakata hai ki main bharee garmee ho aur main aisee vaale rum mein baithee hoon dukhee hoon kisee baat par main ro rahee hoon kisee baat par main aapase khushee jo hai ek maanasik sthiti hai agar ham yah samajh jae to ham samajh jaenge ki khushee hamaare bheetar hee hai main chaahoon to khush rah sakatee hoon kisee baat par yadi main apaset hotee hoon agar maan leejie kisee ne mere se bura vyavahaar mein usaka prabhaav apane oopar le letee hoon to main dukhee rahatee hoon kisee kisee ko bura kahane ka mujh par asar hee nahin hota to main khush rahatee hoon ya bura vyakti ne bura kaha do vyakti hain ek ne usakee baat ko dil par le liya aur ek ne usakee paravaah hee nahin kee to dekhee ya nahin yah maanasik sthiti hogee ki aap ne chaaha to aap dukhee ho jaenge aap ne chaaha to aap khush ho jaenge to isako is prakaar jab aap dekhenge to paenge ki ek maanasik sthiti hai aur isalie hamaare bheetar hee hai jaisa hamaara maind maind set hoga ham vaisa

bolkar speaker
खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई यह समझा सकता है?Khushi Humare Bhetar Hai Kahe Bahar Nahin Kya Koi Yah Samjha Sakta Hai
Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
6:27
देखे वैसे तो मैंने मिलते-जुलते सवाल का जवाब दिया है लेकिन फिर भी हर एक सवाल है ना पूछने वाला कोई नहीं है कि वह जवाब देखता है या बढ़ता है तो जब सवाल आते हैं तो मैं सोचता हूं कि जवाब दे देना चाहिए आपके सवाल है खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं है क्या कोई है समझा सकता है जी देखिए खुशी उस चॉकलेट में नहीं है जो आपको कोई देता है और आपको खाते हैं और आपको अच्छा लगता है क्या चॉकलेट के अंदर चॉकलेट बनाने वाली कंपनी चाहे वह नेस्ले हो या कोई और हो वह खुशी उसमे डाल कर आप को देती है जो आप खाते हैं तो आपको अच्छा लगता है नहीं ना सोच कर देखें आप एक कार खरीदना चाहते थे बहुत समय से सोच रहे थे प्लान कर रहे थे आपने यह सब कुछ प्लानिंग कर ली है ईएमआई वगैरह लेकर आपने एक गाड़ी खरीद ली जब आपने गाड़ी खरीदे तो पहली बार जब आप उसमें बैठे आपको अच्छा लगा दूसरी बात ही से बात अब रोज गाड़ी से ऑफिस जाने आने लगे आपको अच्छा लगता था जब आप गाड़ी में बैठे थे लेकिन क्या कुछ समय के बाद उसी गाड़ी में आपको टेंशन नहीं होने लगा गाड़ी के कारण नहीं आ दवाई ऑफिस की टेंशन सेल्स टारगेट को नामित करने की टेंशन ऑफिस जल्दी से ना पहुंचने की टेंशन मीटिंग के लिए जल्दी पहुंचने की टेंशन वगैरह वगैरह टेंशन तो होती थी ना यह वही गाड़ी थी जिसको पाने के लिए आप बहुत समय से सोचे थे आप चाहते थे कि यह जो मुझे मिल जाए मैं बहुत खुश हूं मैं आज आपके पास गाड़ी है लेकिन टेंशन तो अभी भी है ना चिंता तो अभी भी है ना दुखी तो अभी भी होते हैं ना जब आपको गाड़ी चलाते हैं तो आप ट्राफिक को देखते हैं तो भी दुखी होते हैं और आप लोगों को बुरा भला बोलते हैं यह सब आप करते हैं ना तो जी वह कहां गई गाड़ी जो आपको खुशी प्रदान करते थे जिनकी जब हम खुशी की बात करते हैं तो यह एक अवस्था होती है हम कैसा महसूस करते हैं उस अवस्था में एक इंसान जब संतोष पूर्व के जीवन बिताता है तो उसकी जो अवस्था होती है वह इस पर निर्भर नहीं करती है कि उसके पास गाड़ी है बंगला है मकान है यह है वह है जी नहीं आपने कई सारे लोग ऐसे देखे होंगे जिनके पास बेसिक जरूरत की चीजें भी नहीं है लेकिन क्या वह खुश नहीं है वह खुश है मैं झूठा 20000 की सैलरी होगी या घर की आमदनी होगी महीने के किराए का मकान होगा चाहे कूलर भी नहीं होगा फिर तो दूर की बात है एक परिवारों का हस्बैंड वाइफ और दो-तीन बच्चे उसी में खुश जाना होता है क्या उनके घर में खुशी नहीं होती हमेशा मातम होता है ऐसी नहीं खुशी तो एक फ्री माइंड है एक अवस्था है लेकिन जब हम खुशी अपने से बाहर ढूंढते हैं तो हमें लगता है कि यह वाली वस्तु अगर मिल जाए तो मैं खुश हो जाऊंगा वह वाले इंसान का अगर साथ में जाए तो मैं खुश हो जाऊंगा प्रमोशन मिल जाए तो मैं खुश हो जाऊंगा यहां घूम के आ जाओ खा लो वगैरा-वगैरा तो मैं खुद जाऊंगा भी देखी होता क्या है वह सारी चीजें आपको टेंपरेरिली थोड़े समय के लिए अच्छा महसूस कराती है लेकिन वह अपने साथ वह अच्छा महसूस कराने वाली चीज लेकर नहीं आती है वह आप अंदर से महसूस करते हैं आप जिस नजरिए से उसको देखते हैं सोचते हैं उसके बारे में जानते हैं समझते हैं और फिर उसको लेते हैं या वह आपके जीवन में आता है आती है जो भी है तो आपको अच्छा लगता है तू ही कुछ और नहीं है आपकी सोच का के दृष्टिकोण का आंखें नर्सरी का ही तो शेर है नजरिया बदलिए खुशी नहीं तो कम से कम एक संतोष पूर्वक अवस्था में तो जरूर आ सकते हैं सोच कर देखेगा मेरे पास यह नहीं है वह नहीं है यह भी नहीं किया मैंने वह भी नहीं किया अगर मैं यही सोच कर रोता रहूं दिन-रात तो क्या मैं खुशियां संतोषपुर और अवस्था में रह सकता हूं नहीं ना लेकिन अगर मेरे पास जो भी है उसको देखते हुए और मैं स्वस्थ हूं अगर मैं प्रयास कर रहा हूं भरी में बस चीजें नहीं है और मैं उनको लेना चाहता हूं ऐसा जीवन जीना चाहता हूं प्रयास कर रहा हूं तो भी तुम्हें एक संतोष पूर्वक अवस्था में रह सकता हूं ना इस संतोष के साथ की कोई बात नहीं आज का दिन चला गया यह महीना चला गया मैं प्रयास कर रहा हूं मैं कार्यरत हूं आज नहीं तो कल अगर मुझे यह मिला होगा तो मुझे मिल जाएगा लेकिन प्रयास तो मुझे नहीं छोड़ना परमात्मा का साथ तो नहीं छोड़ना फोन का भजन ध्यान तो करना है और आगे बढ़ते चले जाना है हां भाई अगर मिल जाती है तो और अच्छा लगता है कुछ चीजें जो आप चाहते हैं मिल जाती है तो आप रोएंगे छोड़ना डेफिनिटी आप सेलिब्रेट कीजिए अच्छा महसूस कीजिए लेकिन किसी और चीज के भरोसे यहां बैठेंगे कि वह मुझे खुशी दे दे और क्या पता पूरे जीवन काल में आपको वह ना मिले तो फिर आप क्या करोगे क्या आप कभी खुशी नहीं होंगे जी नहीं हमें मानव जीवन मिला है 8400000 योनियों है उनमें से एक ही होनी है मनुष्य योनि है अच्छे कर्म हमने किए होंगे तभी हमें यह नहीं मिली है यह जीवन मिला है यह जन्म मिला है तो इसको व्यस्त क्यों जाने दे यह सोच कर कि मेरे पास क्या नहीं है जो है उसको लेकर आगे चलते हैं ना हम भले ही माहौल जैसा बेटा हो परिस्थितियां जो भी रही हो जो कुछ भी है एक और बात समझने जो कुछ भी हमारे पास यह हमारी गर्मी के कारण ही है हम जो कर्म करते हैं उसी का कर्म फल हमें इस रूप में उस रूप में मिलता है इस इंटेंसिटी का मिलता है या उस इंटेंसिटी का मिलता है आज मिलता है या कल मिलता है पर मिलता वही है जो हमने किया है तुझे इसको ग्रेसफुली एक्सेप्ट कीजिए और आगे बढ़ गए स्वीकार कीजिए जो मिला है क्योंकि हमें वही मिलता है जिसके हम लायक होते हैं दादी से अनुवाद यहां का जीवन है अब आप रोते रोते बिताना चाहते हैं या संतोष पूर्वक अवस्था में प्रयास करते हुए यह तो आप पर निर्भर करता है सोच कर देखेगा

bolkar speaker
खुशी हमारे भीतर है कहीं बाहर नहीं क्या कोई यह समझा सकता है?Khushi Humare Bhetar Hai Kahe Bahar Nahin Kya Koi Yah Samjha Sakta Hai
Trainer Yogi Yogendra Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trainer जी का जवाब
Motivational Speaker | Career Coach | Corporate Trainer | Marketing & Management Expert's. Follow Us YouTube channel : https://www.youtube.com/channel/UCKY3o0Bey-4L8mWF9hyTRdQ
1:21

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard