#भारत की राजनीति

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
4:25
हां यह पृष्ठ वाकई जान देने लायक है कर रास्ता सप्लाई एक ही रास्ता और उस प्रदूषण लड़ रहे हो दोनों की शान कबड्डी है ऐसी हालात में एक आम नागरिक को वहां से गुजरने में रास्ता लेने में कितनी कठिनाई आ जाएगी यह अवर्णनीय है क्योंकि उसे रास्ता पास करना भी है और इन 2 सालों को ना तो इधर का सामान घर का सामान रहा है ऐसी हालात में वो बिचारा नागरिक कितना परेशान है कितना उदास हुआ कितना दुखी होगा उसकी हां रात को वही जानता है यही कंडीशन दिखाई दे रही है ना तो सरकार किसानों की मांगों को मानने के लिए तैयार है और ना किसान आम जनता के जीवन को ध्यान में रखते हुए अपनी मामू से पीछे हटने को तैयार हैं अब ऐसी हालात में आम नागरिक बुक लोग क्या करें जिनका रोज जिनका रास्ते जाम हो गए हैं जो बच्चे पढ़ने नहीं जा सकते हैं आम गरीब मजदूर अपनी मजदूरी नहीं करने जा सकता है पास के फैक्ट्रियां कारखाने बंद हो गए हैं आम छोटे व्यापारियों का जीवन तक 2 गया है यहां तक कि गरीबों के घर के चूल्हे भी चलना बंद हो गया है वह गरीबों के बच्चे इतने दुखी हैं कि उनके माता-पिता आज एक बेरोजगार की कंडीशन में बैठे हुए टैक्सी वाले कितने उदास हैं जिनकी टैक्सी ना कुछ रास्ता जाम हो जाने से बंद कर दी गई है यह किसान भी यह आम नागरिक की सुविधाओं को ध्यान नहीं देख रहे हैं किसानों को भाइयों को भी यह सोचना चाहिए कि आप जो जाम लगाए बैठे हैं इससे यह मंत्री गण इससे यह सरकारी नुमाइंदे उससे सरकारी अधिकारी कर्मचारी सड़कों का प्रयोग नहीं करते हैं वे लोग तो भाई सुविधाएं रखते हैं वह तो हवाई जहाजों से हेलीकॉप्टर से अपने आवागमन चले जाते हैं आ जाते हैं उनकी सुविधाओं पर कोई घाटा नहीं आ रहा है उनकी तुमको कोई सुनता ही नहीं हो रही है और सुविधाएं हो रही है तो केवल आम नागरिक को हो रही हैं एक मजदूर परेशान हैं एक आने जाने पर रोज आने जाने वाले परेशान हैं वह टैक्सी वाले परेशान हैं क्योंकि उनके घरों के चूल्हे बंद हो गए हैं यह दोनों सांड की कंडीशन में है ना तो किसान मान रहे हैं ना सरकार मान रही है आम नागरिक परेशान है दुखी है अर्जेंट है उसके धंधे रुक चुके हैं उनके घरों के चूल्हे बंद हो चुके हैं बच्चे परेशान है शायद बात को गौर करना चाहिए सरकार तो गौर नहीं करती है सरकार से भी सरकार को भी ध्यान रखना चाहिए या तो वो रास्ता खुलवाए या फिर चुप करके समझोता करें लेकिन यह सरकार का कोई एक तरीका नहीं है कि वह आप विच करके बैठ गई है बस उनको तो अशुद्ध होती नहीं है क्योंकि मंत्री गणों को अधिकारियों को उनको तो क्या शुभ अशुभ उनके पास तो सारे साधन है लेकिन दुर्भाग्य इस बात का है कि आम नागरिक की ओर कोई ध्यान नहीं देता है हम गरीब आदमी पर श्राइन दूसरों के बीच में इन दो पाटों के बीच में नौकरी का जीवन कितना कठिन कितना दुर्बर कितना असहनीय कितना कष्टकारी है इस बात को केवल लोग जानते हैं जो इनके दामों के कारण से परेशान है भारत में सरकार की क्या व्यवस्था की बात को सरकारें ऐसी आ गई है कि इन लोगों पर आप तो जाम रुकते हैं यह नित रोज के जाम लगाना नित रोज के तोड़फोड़ करते स्त्रोत के रास्ते बंद कर दिए जाते हैं और सरकार इनको खुलवा नहीं पाती है और आमजन करे तो करे क्या आम जन परेशान हैं वास्तव में ऐसी दयनीय हालात ऐसी दयनीय स्थिति इन प्रजातंत्र के शासकों में देखी है काश इससे तो राजतंत्र बहुत अच्छे थे आज से अंग्रेजों का शासन पहुंचा था आप कम से कम एक न्याय होता था कम से कम लाइंस ऑर्डर होते थे कम से कम आम जनता दुखी नहीं था कम से कम आमजन परेशान नहीं होता
Haan yah prshth vaakee jaan dene laayak hai kar raasta saplaee ek hee raasta aur us pradooshan lad rahe ho donon kee shaan kabaddee hai aisee haalaat mein ek aam naagarik ko vahaan se gujarane mein raasta lene mein kitanee kathinaee aa jaegee yah avarnaneey hai kyonki use raasta paas karana bhee hai aur in 2 saalon ko na to idhar ka saamaan ghar ka saamaan raha hai aisee haalaat mein vo bichaara naagarik kitana pareshaan hai kitana udaas hua kitana dukhee hoga usakee haan raat ko vahee jaanata hai yahee kandeeshan dikhaee de rahee hai na to sarakaar kisaanon kee maangon ko maanane ke lie taiyaar hai aur na kisaan aam janata ke jeevan ko dhyaan mein rakhate hue apanee maamoo se peechhe hatane ko taiyaar hain ab aisee haalaat mein aam naagarik buk log kya karen jinaka roj jinaka raaste jaam ho gae hain jo bachche padhane nahin ja sakate hain aam gareeb majadoor apanee majadooree nahin karane ja sakata hai paas ke phaiktriyaan kaarakhaane band ho gae hain aam chhote vyaapaariyon ka jeevan tak 2 gaya hai yahaan tak ki gareebon ke ghar ke choolhe bhee chalana band ho gaya hai vah gareebon ke bachche itane dukhee hain ki unake maata-pita aaj ek berojagaar kee kandeeshan mein baithe hue taiksee vaale kitane udaas hain jinakee taiksee na kuchh raasta jaam ho jaane se band kar dee gaee hai yah kisaan bhee yah aam naagarik kee suvidhaon ko dhyaan nahin dekh rahe hain kisaanon ko bhaiyon ko bhee yah sochana chaahie ki aap jo jaam lagae baithe hain isase yah mantree gan isase yah sarakaaree numainde usase sarakaaree adhikaaree karmachaaree sadakon ka prayog nahin karate hain ve log to bhaee suvidhaen rakhate hain vah to havaee jahaajon se heleekoptar se apane aavaagaman chale jaate hain aa jaate hain unakee suvidhaon par koee ghaata nahin aa raha hai unakee tumako koee sunata hee nahin ho rahee hai aur suvidhaen ho rahee hai to keval aam naagarik ko ho rahee hain ek majadoor pareshaan hain ek aane jaane par roj aane jaane vaale pareshaan hain vah taiksee vaale pareshaan hain kyonki unake gharon ke choolhe band ho gae hain yah donon saand kee kandeeshan mein hai na to kisaan maan rahe hain na sarakaar maan rahee hai aam naagarik pareshaan hai dukhee hai arjent hai usake dhandhe ruk chuke hain unake gharon ke choolhe band ho chuke hain bachche pareshaan hai shaayad baat ko gaur karana chaahie sarakaar to gaur nahin karatee hai sarakaar se bhee sarakaar ko bhee dhyaan rakhana chaahie ya to vo raasta khulavae ya phir chup karake samajhota karen lekin yah sarakaar ka koee ek tareeka nahin hai ki vah aap vich karake baith gaee hai bas unako to ashuddh hotee nahin hai kyonki mantree ganon ko adhikaariyon ko unako to kya shubh ashubh unake paas to saare saadhan hai lekin durbhaagy is baat ka hai ki aam naagarik kee or koee dhyaan nahin deta hai ham gareeb aadamee par shrain doosaron ke beech mein in do paaton ke beech mein naukaree ka jeevan kitana kathin kitana durbar kitana asahaneey kitana kashtakaaree hai is baat ko keval log jaanate hain jo inake daamon ke kaaran se pareshaan hai bhaarat mein sarakaar kee kya vyavastha kee baat ko sarakaaren aisee aa gaee hai ki in logon par aap to jaam rukate hain yah nit roj ke jaam lagaana nit roj ke todaphod karate strot ke raaste band kar die jaate hain aur sarakaar inako khulava nahin paatee hai aur aamajan kare to kare kya aam jan pareshaan hain vaastav mein aisee dayaneey haalaat aisee dayaneey sthiti in prajaatantr ke shaasakon mein dekhee hai kaash isase to raajatantr bahut achchhe the aaj se angrejon ka shaasan pahuncha tha aap kam se kam ek nyaay hota tha kam se kam lains ordar hote the kam se kam aam janata dukhee nahin tha kam se kam aamajan pareshaan nahin hota

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान और सरकार के बीच समझौता, किसान आंदोलन पर सरकार की प्रतिक्रिया,
  • किसान आंदोलन, सरकार और किसान, तीन नए कृषि कानून
URL copied to clipboard