#भारत की राजनीति

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:44
आपका प्रसन्न है किसान सम्मान निधि योजना के द्वारा किसानों को रिश्वत दी जा रही है आंदोलन ना करने के लिए पहले ऐसा क्यों नहीं हो रहा था वहां क्यों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार से किसान सम्मान निधि इस आंदोलन से पहले ही चल रही थी और इस योजना में किसानों को खुद से पैसे मिलते हैं तो किसानों को इनसे कोई ज्यादा फायदा नहीं होने वाला है क्योंकि किसानों के खाद बीज बिजली और किसानों के आनंद के ऊपर सही नहीं मिलती है इसलिए इस किसान सम्मान निधि का एक नाम मात्र का फायदा है धन्यवाद साथियों खुश रहो
Aapaka prasann hai kisaan sammaan nidhi yojana ke dvaara kisaanon ko rishvat dee ja rahee hai aandolan na karane ke lie pahale aisa kyon nahin ho raha tha vahaan kyon aapake savaal ka uttar is prakaar se kisaan sammaan nidhi is aandolan se pahale hee chal rahee thee aur is yojana mein kisaanon ko khud se paise milate hain to kisaanon ko inase koee jyaada phaayada nahin hone vaala hai kyonki kisaanon ke khaad beej bijalee aur kisaanon ke aanand ke oopar sahee nahin milatee hai isalie is kisaan sammaan nidhi ka ek naam maatr ka phaayada hai dhanyavaad saathiyon khush raho

और जवाब सुनें

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
4:18
किसान सम्मान निधि योजना के द्वारा किसानों को रिश्वत दी जा रही है आंदोलन ना करने के लिए पहले ऐसा क्यों नहीं होता है आपका पर्सनल चेंज हो सकता शायद आप किसानों की सही स्थिति को नहीं जानता आप सिर्फ पंजाब हरियाणा राजस्थान के उन बड़े किसानों के बारे में जानकारी मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ उत्तर प्रदेश और कभी-कभी जो छोटे-छोटे 810 विस्ता वाले होते हैं जो छोटी-छोटी टीवी वाले जमीन वाले होते हैं उन किसानों की स्थिति के बीच जो कुछ भी होता है उनके लिए वही होता है और उसी पर उनका परिवार आशिक हूं आपने कभी नहीं देखा होगा एक बीघा वाला उत्तर प्रदेश का एक छोटा सा किसान समय-समय पर सब्जी होगा करके छोटी सी चीजों को छोटे छोटे प्लाट बना करके और वहां पर हरीश के पास आती है कि उसको बीच खरीदने के लिए नहीं होता डालने के लिए नहीं आपको लगता होगा कि 2000 की कोई वैल्यू नहीं है लेकिन कभी आप उत्तराखंड के पहाड़ कीर्ति हरी किसानों को देखा है झारखंड में जा करके देखा है उड़ीसा के अंदर देखा करती जा रही है कभी-कभी परिस्थिति आ जाती अगर आपने काम लगाया हुआ है इसमें लगाया हुआ है उस में कभी कभी ऐसा हो जाता है कि नवंबर में बीज बोते हैं और इस की कटाई होगी जाकर के मार्च में अप्रैल में होगी इन 4 दिनों में कोई काम कभी कभी ऐसा हो जाता है कि बेचारे के पास से यूरिया के लिए पैसा नहीं होता वह उधर लिखता है और लोगों से लेता ₹2000 जो भी है यह निधि कहीं भी उसको बहुत सपोर्ट मिलता है बड़े-बड़े किसानों को कोई जरूरत नहीं होती और अब आप सोच लीजिए जो सचमुच किसान हैं उनके लिए तो यह बहुत ही बेनिफिट है अब आप जैसे लोग हैं अब इसमें जितने किसान आंदोलन बैठे शानदार शानदार ढंग से जिंदगी भी लेकर किसान नेताओं की गाड़ियों को आपने देखा 15 20 लाख की गाड़ी आप जो स्टिकर के भाषण को देख रहे हो रो रहा है पर गहरा के हम आंदोलन भी सरकार ने क्या गलत किया सरकार तो यह कह रही है कि आंदोलन गलत हो सकता है आप बताओ तो सही आप अपनी गलतियों को तो बताइए सरकार की गलतियों को तो बताइए सरकार उसको दूर कर देगी लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि पूरे ब्लॉक कर दो आप रोना धोना शुरू कर दो और शान होती लेगा उन किसानों की स्थिति को शायद आप लोग में संस्कार है पंजाब हरियाणा के उस बड़े किसानों को छोड़ दीजिए इन नेताओं को जो आज की जमीन से जुड़े हुए बहुत सारे किसान है जो बड़ी मुश्किल से अपनी जिंदगी को जी का और उनके लिए मैं समझता हूं कि इस तरह से चाहे किसान सम्मान निधि योजना हो चाहे इंश्योरेंस के सब बिजनेस पॉलिसी हो चाहे यह कांट्रैक्ट फार्मिंग हो यह सब कुछ की तरह काम कर रही है और उत्तर प्रदेश के कई जिलों में आजमगढ़ के कई जिलों में आ गई दूरियां मैं हार गई है सीधा सब्जी खरीदने वाली बहुत सारी कंपनियों ने ऑर्डर दे दिया कर भाई हमें वह करके दिखा दे 25 बीघा कांटेक्ट पर मेल करके दे रहे हैं और बड़ी जिंदगी रही तो मैं समझ नहीं पाता कि आप लोगों किसानों को कितना समझते हैं अगर आप समझते तो सवेरा का प्रश्न ही नहीं करते दोस्त किसान आज भी बहुत बुरी है
Kisaan sammaan nidhi yojana ke dvaara kisaanon ko rishvat dee ja rahee hai aandolan na karane ke lie pahale aisa kyon nahin hota hai aapaka parsanal chenj ho sakata shaayad aap kisaanon kee sahee sthiti ko nahin jaanata aap sirph panjaab hariyaana raajasthaan ke un bade kisaanon ke baare mein jaanakaaree madhy pradesh chhatteesagadh uttar pradesh aur kabhee-kabhee jo chhote-chhote 810 vista vaale hote hain jo chhotee-chhotee teevee vaale jameen vaale hote hain un kisaanon kee sthiti ke beech jo kuchh bhee hota hai unake lie vahee hota hai aur usee par unaka parivaar aashik hoon aapane kabhee nahin dekha hoga ek beegha vaala uttar pradesh ka ek chhota sa kisaan samay-samay par sabjee hoga karake chhotee see cheejon ko chhote chhote plaat bana karake aur vahaan par hareesh ke paas aatee hai ki usako beech khareedane ke lie nahin hota daalane ke lie nahin aapako lagata hoga ki 2000 kee koee vailyoo nahin hai lekin kabhee aap uttaraakhand ke pahaad keerti haree kisaanon ko dekha hai jhaarakhand mein ja karake dekha hai udeesa ke andar dekha karatee ja rahee hai kabhee-kabhee paristhiti aa jaatee agar aapane kaam lagaaya hua hai isamen lagaaya hua hai us mein kabhee kabhee aisa ho jaata hai ki navambar mein beej bote hain aur is kee kataee hogee jaakar ke maarch mein aprail mein hogee in 4 dinon mein koee kaam kabhee kabhee aisa ho jaata hai ki bechaare ke paas se yooriya ke lie paisa nahin hota vah udhar likhata hai aur logon se leta ₹2000 jo bhee hai yah nidhi kaheen bhee usako bahut saport milata hai bade-bade kisaanon ko koee jaroorat nahin hotee aur ab aap soch leejie jo sachamuch kisaan hain unake lie to yah bahut hee beniphit hai ab aap jaise log hain ab isamen jitane kisaan aandolan baithe shaanadaar shaanadaar dhang se jindagee bhee lekar kisaan netaon kee gaadiyon ko aapane dekha 15 20 laakh kee gaadee aap jo stikar ke bhaashan ko dekh rahe ho ro raha hai par gahara ke ham aandolan bhee sarakaar ne kya galat kiya sarakaar to yah kah rahee hai ki aandolan galat ho sakata hai aap batao to sahee aap apanee galatiyon ko to bataie sarakaar kee galatiyon ko to bataie sarakaar usako door kar degee lekin isaka matalab yah nahin ki poore blok kar do aap rona dhona shuroo kar do aur shaan hotee lega un kisaanon kee sthiti ko shaayad aap log mein sanskaar hai panjaab hariyaana ke us bade kisaanon ko chhod deejie in netaon ko jo aaj kee jameen se jude hue bahut saare kisaan hai jo badee mushkil se apanee jindagee ko jee ka aur unake lie main samajhata hoon ki is tarah se chaahe kisaan sammaan nidhi yojana ho chaahe inshyorens ke sab bijanes polisee ho chaahe yah kaantraikt phaarming ho yah sab kuchh kee tarah kaam kar rahee hai aur uttar pradesh ke kaee jilon mein aajamagadh ke kaee jilon mein aa gaee dooriyaan main haar gaee hai seedha sabjee khareedane vaalee bahut saaree kampaniyon ne ordar de diya kar bhaee hamen vah karake dikha de 25 beegha kaantekt par mel karake de rahe hain aur badee jindagee rahee to main samajh nahin paata ki aap logon kisaanon ko kitana samajhate hain agar aap samajhate to savera ka prashn hee nahin karate dost kisaan aaj bhee bahut buree hai

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
1:06
यह फैसला लेगी किसान सम्मान निधि योजना के द्वारा किसानों को रिश्वत दी जा रहे हैं किसान आलोचना करने के लिए ऐसे क्यों नहीं हो रहा है तुम मैं आपको बता देना चाहता हूं कि आपकी सोच बिल्कुल ही गलत है किसान निधि योजना लगभग चार-पांच साल पहले से चली आ रहे हैं और जो भी यह तीनों कानून आए हुए स्क्वायर साल भर हो गए हैं तो इसमें कोई रिश्वत नहीं है हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने कहा कि हम किसानों के आई में कुछ योगदान देने के लिए और किसानों को आगे बढ़ाने के लिए यह दे रहे हैं जैसे कि किसान अपने खेतों में इसका उपयोग करके अच्छी से अच्छी फसल उत्पादन कर सकें और जो आनंद हो रहा है वह तो लगभग 1 साल हुआ ही नहीं है अभी मार्च में 1 साल होगा तो आपकी धारणा बिल्कुल ही गलत है धन्यवाद
Yah phaisala legee kisaan sammaan nidhi yojana ke dvaara kisaanon ko rishvat dee ja rahe hain kisaan aalochana karane ke lie aise kyon nahin ho raha hai tum main aapako bata dena chaahata hoon ki aapakee soch bilkul hee galat hai kisaan nidhi yojana lagabhag chaar-paanch saal pahale se chalee aa rahe hain aur jo bhee yah teenon kaanoon aae hue skvaayar saal bhar ho gae hain to isamen koee rishvat nahin hai hamaare pradhaanamantree narendr modee jee ne kaha ki ham kisaanon ke aaee mein kuchh yogadaan dene ke lie aur kisaanon ko aage badhaane ke lie yah de rahe hain jaise ki kisaan apane kheton mein isaka upayog karake achchhee se achchhee phasal utpaadan kar saken aur jo aanand ho raha hai vah to lagabhag 1 saal hua hee nahin hai abhee maarch mein 1 saal hoga to aapakee dhaarana bilkul hee galat hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard