#जीवन शैली

bolkar speaker

हमारे समाज में वर्दी की क्या आवश्यकता है?

Hamare Samaj Mein Vardi Ki Kya Aavashyakta Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:23
हेलो शिवांशु आज आपका सवाल है कि हमारे समाज में मस्ती की क्या आवश्यकता है और पहनावा से ही अब मतलब कोई भी एरिया या फिर अगर हम कोई भी पहनावा देखो तुम समझ पाते कि आएंगे इससे शायद यह लोग हैं पहनावा एक तरह से एक सिंबल है कि हां वह कहां का एक आखिरी डिफरेंट कल्चरस एंड इट्स डिफरेंट कल्चर समय पता चलता है कि कैसे है कैसे नहीं है और यह पता नहीं मैं यह पढ़ने में यह समझने में भी बहुत अच्छा लगता है ड्रेसिंग स्टाइल जो भी हो तुम किस स्टेट में जो भी उनकी जगह बहुत इंपॉर्टेंट देते बहुत इस चीज का महत्व होता है तो लोग डर जाते हैं यह तरह कभी आते आ सकते हैं या नहीं यह भी बहुत अच्छा भजन वाला चीज है जैसे कि कोई अगर अलग पुलिस की वर्दी में है या फिर उससे भी ज्यादा आर्मी की भर्ती में तो जनरल हम लोगों को डर भी लगता है कि रेस्पेक्ट भी आती यह भी तरह का इंडिकेट करता है तो कपड़े और वर्दी से एकदम कल्चर को पहचान पाते हैं सिंपल हमें पता चलता है कि लोगों को कितना महत्व देने से किसी भी जगह क्यों ना जाए बट इस चीज को कभी नहीं वह छोड़ते हैं कि उनका जो लैंग्वेज उनका जो कल जरूर का जो पहनावा है दूसरा एक रेस्पेक्ट आ जाती है जब हम अलग है सर्दी को देखते जो मतलब अगर पुलिस की वर्दी में कोई नॉर्मल इंसान तो रहेगा नहीं आर्मी की वर्दी में कोई और इंसान तो रहेगा नहीं तो इस तरह से यह भी एक रिश्ते की इज्जत आ जाती है और मतलबी इंसान डर भी जाता है अगर कोई भी कोई वीर्य में कोई क्राइम चुनाव हो तो तुरंत मतलब डर जाता है कि आप मेरे साथ क्या होगा इस तरह का भी प्रेशर पड़ता है यह बहुत ज्यादा महत्व और बहुत ज्यादा इंपॉर्टेंट मतलब है कि हां किसी का पहनावा और यह क्या इंडिकेट करता है तो बहुत प्राउड फील होता है हमारे स्टेट में मतलब इतने सारे स्टाइल तो और इतने सारे अनकल्चरड जो हम लोग जो बाहर के लोग हमारी कोई दोस्त हैं बनो इंडिया से बाहर हूं पूछते हैं कि मैं तुम्हारे जैसे लोगों की जो कंट्री का जो रेसिंग टाइम है जो भी कल से अब कस्टम्स बहुत ही ज्यादा अच्छा उनको जाने में भी बारिश लगता है तो ऐसे समय पर बहुत गर्व महसूस होता है
Helo shivaanshu aaj aapaka savaal hai ki hamaare samaaj mein mastee kee kya aavashyakata hai aur pahanaava se hee ab matalab koee bhee eriya ya phir agar ham koee bhee pahanaava dekho tum samajh paate ki aaenge isase shaayad yah log hain pahanaava ek tarah se ek simbal hai ki haan vah kahaan ka ek aakhiree dipharent kalcharas end its dipharent kalchar samay pata chalata hai ki kaise hai kaise nahin hai aur yah pata nahin main yah padhane mein yah samajhane mein bhee bahut achchha lagata hai dresing stail jo bhee ho tum kis stet mein jo bhee unakee jagah bahut importent dete bahut is cheej ka mahatv hota hai to log dar jaate hain yah tarah kabhee aate aa sakate hain ya nahin yah bhee bahut achchha bhajan vaala cheej hai jaise ki koee agar alag pulis kee vardee mein hai ya phir usase bhee jyaada aarmee kee bhartee mein to janaral ham logon ko dar bhee lagata hai ki respekt bhee aatee yah bhee tarah ka indiket karata hai to kapade aur vardee se ekadam kalchar ko pahachaan paate hain simpal hamen pata chalata hai ki logon ko kitana mahatv dene se kisee bhee jagah kyon na jae bat is cheej ko kabhee nahin vah chhodate hain ki unaka jo laingvej unaka jo kal jaroor ka jo pahanaava hai doosara ek respekt aa jaatee hai jab ham alag hai sardee ko dekhate jo matalab agar pulis kee vardee mein koee normal insaan to rahega nahin aarmee kee vardee mein koee aur insaan to rahega nahin to is tarah se yah bhee ek rishte kee ijjat aa jaatee hai aur matalabee insaan dar bhee jaata hai agar koee bhee koee veery mein koee kraim chunaav ho to turant matalab dar jaata hai ki aap mere saath kya hoga is tarah ka bhee preshar padata hai yah bahut jyaada mahatv aur bahut jyaada importent matalab hai ki haan kisee ka pahanaava aur yah kya indiket karata hai to bahut praud pheel hota hai hamaare stet mein matalab itane saare stail to aur itane saare anakalcharad jo ham log jo baahar ke log hamaaree koee dost hain bano indiya se baahar hoon poochhate hain ki main tumhaare jaise logon kee jo kantree ka jo resing taim hai jo bhee kal se ab kastams bahut hee jyaada achchha unako jaane mein bhee baarish lagata hai to aise samay par bahut garv mahasoos hota hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
हमारे समाज में वर्दी की क्या आवश्यकता है?Hamare Samaj Mein Vardi Ki Kya Aavashyakta Hai
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:58
हेलो फ्रेंड नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न हमारे समाज में भर्ती की क्या आवश्यकता है दिखे फ्रेंड वर्दी होती है जो हमें आम इंसान से एक स्पेशल इंसान बनाने में उसका जो है बहुत ही बड़ा योगदान होता है आपने देखा है कि जब कोई इंसान जैसे कि आर्मी हुआ पुलिस हुआ फिर भी ऐसे हुआ ब्लैक कमांडो हुए 2 अप्रैल यह सब तो होते हैं यह सब इंसान ही होते हैं कहीं बाहर से पकड़कर परिंदे नहीं आते फ्रेंड यह इंसान ही होते हम आपकी तरह नॉर्मल इंसान ही होते हैं लेकिन यह लोग जब अपनी यह जो है यह झूठी पालते हैं जिसे पुलिस की हुई आर्मी की ट्रेनिंग करके यह आम इंसान से एक स्पेशल इंसान बन जाते हैं इन्हें उसकी एक पद दे दिया जाता है उसका एक पहचान दे दिया जाता है अभी हम आप हैं मान लीजिए कोई जॉब नहीं पाए हैं कहीं पर नहीं हुए हैं तो हमारी आपकी क्या पहचान है कोई नहीं पहचान है लोग हमारे घर में गांव में बस इतना था कि जानते हैं कि हम भला इंसान की लड़के हैं या फिर बेटी हैं लेकिन जिस वक्त आप जो है उस पद के हकदार हो जाते हैं आपको ऊपर जो है सौंप दिया जाता है उस वक्त आप जो है अपने नाम से अपनी पुष्पद के नाम से जाने जाते हैं यह एक बहुत बड़ी चीज होती है आपकी जो है एक पहचान होती है फ्रेंड हमारे समाज में आपकी रुतबा जो है एक अलग होती है मान लीजिए कोई लेडी है वह नेवी में है या फिर एयर फोर्स में है तू घर पर वह रहेगी तो वह अपने पिता के नाम से जानी जाएगी फ्रेंड्स जब वह उस पद के हकदार नहीं होगी तब लेकिन वही जी जब वह हकदार बन जाती है चाहे उसमें वह चाहे फिर भी वगैरा कैफ़ी आज़मी वगैरह में हो तो उसे बोला जाएगा कि फला लड़की जो है निधि में है या फिर मिलिट्री में है या फिर ऐसा बोलते हैं कि यह की बेटी जो है वह नेवी में तुम एक फ्रेंड जैसे कि आपका एक दिन ही तो बना देता है कि आप उस पद की योग्य है आपकी एक अलग पहचान हो जाती फ्रेंड समाज में आपका एक अलग रुतबा होता है अलग पहचान हो जाती आप आम आदमी नहीं रहते यह वर्दी ही होती है फ्रेंड्स जो हमें इंसान उसे थोड़ा सा अलग करती है पुलिस वाले जो होते हैं फ्रेंड इंसान ही होते हैं लेकिन हम आप जो हैं अगर गलत काम किए हैं तो उनसे चार कदम दूर ही रहते फ्रेंड क्यों रहते फ्रेंड को वर्दी कब है ही रहता है उनको वह पोस्ट मिल गई हूं उनका पद मिल गया है तू यह हमारी एक पहचान बढ़ाती है फ्रेंड आशा है कि आप सभी को
Helo phrend namaskaar jaisa ki aapaka prashn hamaare samaaj mein bhartee kee kya aavashyakata hai dikhe phrend vardee hotee hai jo hamen aam insaan se ek speshal insaan banaane mein usaka jo hai bahut hee bada yogadaan hota hai aapane dekha hai ki jab koee insaan jaise ki aarmee hua pulis hua phir bhee aise hua blaik kamaando hue 2 aprail yah sab to hote hain yah sab insaan hee hote hain kaheen baahar se pakadakar parinde nahin aate phrend yah insaan hee hote ham aapakee tarah normal insaan hee hote hain lekin yah log jab apanee yah jo hai yah jhoothee paalate hain jise pulis kee huee aarmee kee trening karake yah aam insaan se ek speshal insaan ban jaate hain inhen usakee ek pad de diya jaata hai usaka ek pahachaan de diya jaata hai abhee ham aap hain maan leejie koee job nahin pae hain kaheen par nahin hue hain to hamaaree aapakee kya pahachaan hai koee nahin pahachaan hai log hamaare ghar mein gaanv mein bas itana tha ki jaanate hain ki ham bhala insaan kee ladake hain ya phir betee hain lekin jis vakt aap jo hai us pad ke hakadaar ho jaate hain aapako oopar jo hai saump diya jaata hai us vakt aap jo hai apane naam se apanee pushpad ke naam se jaane jaate hain yah ek bahut badee cheej hotee hai aapakee jo hai ek pahachaan hotee hai phrend hamaare samaaj mein aapakee rutaba jo hai ek alag hotee hai maan leejie koee ledee hai vah nevee mein hai ya phir eyar phors mein hai too ghar par vah rahegee to vah apane pita ke naam se jaanee jaegee phrends jab vah us pad ke hakadaar nahin hogee tab lekin vahee jee jab vah hakadaar ban jaatee hai chaahe usamen vah chaahe phir bhee vagaira kaifee aazamee vagairah mein ho to use bola jaega ki phala ladakee jo hai nidhi mein hai ya phir militree mein hai ya phir aisa bolate hain ki yah kee betee jo hai vah nevee mein tum ek phrend jaise ki aapaka ek din hee to bana deta hai ki aap us pad kee yogy hai aapakee ek alag pahachaan ho jaatee phrend samaaj mein aapaka ek alag rutaba hota hai alag pahachaan ho jaatee aap aam aadamee nahin rahate yah vardee hee hotee hai phrends jo hamen insaan use thoda sa alag karatee hai pulis vaale jo hote hain phrend insaan hee hote hain lekin ham aap jo hain agar galat kaam kie hain to unase chaar kadam door hee rahate phrend kyon rahate phrend ko vardee kab hai hee rahata hai unako vah post mil gaee hoon unaka pad mil gaya hai too yah hamaaree ek pahachaan badhaatee hai phrend aasha hai ki aap sabhee ko

bolkar speaker
हमारे समाज में वर्दी की क्या आवश्यकता है?Hamare Samaj Mein Vardi Ki Kya Aavashyakta Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:38
आपका सवाल है हमारे समाज में भर्ती की क्या आवश्यकता है तो साथियों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार से है हमारे विद्यालय और कारपोरेट क्षेत्र में वर्दी की अनिवार्यता समानता का अनुभव कराती है उसी प्रकार सामान्य दिनचर्या में भी वर्दी का आइकन बरकरार रखना बहुत ही जरूरी होता है अगर अच्छी पोशाक पहने से समाज में हमारा आत्मविश्वास बढ़ता है और क्योंकि इससे हमारे गांव अशोक पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता रहता है धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Aapaka savaal hai hamaare samaaj mein bhartee kee kya aavashyakata hai to saathiyon aapake savaal ka uttar is prakaar se hai hamaare vidyaalay aur kaaraporet kshetr mein vardee kee anivaaryata samaanata ka anubhav karaatee hai usee prakaar saamaany dinacharya mein bhee vardee ka aaikan barakaraar rakhana bahut hee jarooree hota hai agar achchhee poshaak pahane se samaaj mein hamaara aatmavishvaas badhata hai aur kyonki isase hamaare gaanv ashok par sakaaraatmak prabhaav padata rahata hai dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
हमारे समाज में वर्दी की क्या आवश्यकता है?Hamare Samaj Mein Vardi Ki Kya Aavashyakta Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:05
हमारे समाज में वर्दी की क्या आवश्यकता है समाज में वर्दी की आवश्यकता है आप क्या चाहते हो कि लोग अपना पहनावा पंजाब के लोग जो भी पहनते हैं छोड़ दें या तमिलनाडु के लोग हैं वह छोड़ दे सब लोग एक ही चीज करना शुरू कर दें हमारी विविधता में एकता हमारा समाज कैसा है कितना भी विविध है लेकिन बेहतर समाज और यही हमारे समाज की विशेषता अब कौन से समाज की कौन सी वर्दी आप लाना चाहते हैं इसके लिए वर्दी लाना चाहते हैं जो सदियों से जीते चले आ रहे हैं जो सैकड़ों सालों से भी प्यार की नस नस में अपनी कल्चर है अपनी समाज है अपना पहनावा है अपना खानपान में उभरा हुआ उसका फल क्या किसी राजस्थान के लोगों से आप कह देंगे कि भाई आप यह अपना खाना छोड़ दीजिए या अपना पहना उस रेगिस्तान में रहना छोड़ देंगे या किसी कश्मीर के अंदर आ जा बोलो विकी भाई जी खाना बंद कर दीजिए तो यह हमारा समाज से नहीं लाखों हजारों वर्षों से चल रहे जब से आ रही हमारे देश में आए जब से हमारी सभ्यता विकसित हुई और सारे कहीं न कहीं एक दूसरे से जुड़े हुए अपने तीज त्योहारों को देख लीजिए जिस तरह से और मकर संक्रांति उत्तर भारत मना रहा है तो कहीं पोंगल मना रहा कहीं भी हो मना रहा है तो कहीं दूसरे ढंग से मनाया जा रहा है लेकिन सर एक ही होता है ऐसे समाज में औरतों की आवश्यकता और दूसरे लोगों का मूर्खों का एक क्वेश्चन आ सकता है जिसकी में समय पर दोबारा जो समाज है उसको ऐसे जीने तो ज्यादा अच्छा रहेगा
Hamaare samaaj mein vardee kee kya aavashyakata hai samaaj mein vardee kee aavashyakata hai aap kya chaahate ho ki log apana pahanaava panjaab ke log jo bhee pahanate hain chhod den ya tamilanaadu ke log hain vah chhod de sab log ek hee cheej karana shuroo kar den hamaaree vividhata mein ekata hamaara samaaj kaisa hai kitana bhee vividh hai lekin behatar samaaj aur yahee hamaare samaaj kee visheshata ab kaun se samaaj kee kaun see vardee aap laana chaahate hain isake lie vardee laana chaahate hain jo sadiyon se jeete chale aa rahe hain jo saikadon saalon se bhee pyaar kee nas nas mein apanee kalchar hai apanee samaaj hai apana pahanaava hai apana khaanapaan mein ubhara hua usaka phal kya kisee raajasthaan ke logon se aap kah denge ki bhaee aap yah apana khaana chhod deejie ya apana pahana us registaan mein rahana chhod denge ya kisee kashmeer ke andar aa ja bolo vikee bhaee jee khaana band kar deejie to yah hamaara samaaj se nahin laakhon hajaaron varshon se chal rahe jab se aa rahee hamaare desh mein aae jab se hamaaree sabhyata vikasit huee aur saare kaheen na kaheen ek doosare se jude hue apane teej tyohaaron ko dekh leejie jis tarah se aur makar sankraanti uttar bhaarat mana raha hai to kaheen pongal mana raha kaheen bhee ho mana raha hai to kaheen doosare dhang se manaaya ja raha hai lekin sar ek hee hota hai aise samaaj mein auraton kee aavashyakata aur doosare logon ka moorkhon ka ek kveshchan aa sakata hai jisakee mein samay par dobaara jo samaaj hai usako aise jeene to jyaada achchha rahega

bolkar speaker
हमारे समाज में वर्दी की क्या आवश्यकता है?Hamare Samaj Mein Vardi Ki Kya Aavashyakta Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:19
आपका सवाल है कि हमारे समाज में वर्दी की क्या आवश्यकता होती है तो अच्छे कपड़े पहने से हमारी समाज में इज्जत बढ़ती हैं आत्मसम्मान बढ़ता है और लोगों में हमारे काम और सोच में सरकार में प्रभाव पड़ता है इसलिए हमारे समाज में हमें अच्छी पोशाक पहनी चाहिए
Aapaka savaal hai ki hamaare samaaj mein vardee kee kya aavashyakata hotee hai to achchhe kapade pahane se hamaaree samaaj mein ijjat badhatee hain aatmasammaan badhata hai aur logon mein hamaare kaam aur soch mein sarakaar mein prabhaav padata hai isalie hamaare samaaj mein hamen achchhee poshaak pahanee chaahie

bolkar speaker
हमारे समाज में वर्दी की क्या आवश्यकता है?Hamare Samaj Mein Vardi Ki Kya Aavashyakta Hai
ravi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ravi जी का जवाब
Unknown
0:48
वर्दी का मतलब अनुशासन नैतिकता इस हिसाब से किसी भी वर्कप्लेस पर जहां पर व्यक्ति काम करता है वहां पर वर्दी की बहुत ही अमित मतलब की माता है जिस कारण और अधिक आवश्यकता है वर्दी से ही जहां पर आप काम कर रहे हैं लोग आपको पहचानते हैं जानते हैं और आशा करते हैं कि वर्दी वाले लोग का जो कार्य क्षेत्र है वह अनुशासित है नैतिक है मर्यादित है और कार्यक्षेत्र में आदमी को जो व्यक्ति होते हैं उस बीच में खोजने में परेशानी ना हो या किसी चीज की और अन्य परेशानी में ना आए इस कारण वर्दी की आवश्यकता बहुत ज्यादा है धन्यवाद
Vardee ka matalab anushaasan naitikata is hisaab se kisee bhee varkaples par jahaan par vyakti kaam karata hai vahaan par vardee kee bahut hee amit matalab kee maata hai jis kaaran aur adhik aavashyakata hai vardee se hee jahaan par aap kaam kar rahe hain log aapako pahachaanate hain jaanate hain aur aasha karate hain ki vardee vaale log ka jo kaary kshetr hai vah anushaasit hai naitik hai maryaadit hai aur kaaryakshetr mein aadamee ko jo vyakti hote hain us beech mein khojane mein pareshaanee na ho ya kisee cheej kee aur any pareshaanee mein na aae is kaaran vardee kee aavashyakata bahut jyaada hai dhanyavaad

bolkar speaker
हमारे समाज में वर्दी की क्या आवश्यकता है?Hamare Samaj Mein Vardi Ki Kya Aavashyakta Hai
Ekta Sahni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ekta जी का जवाब
Unknown
2:27
नमस्कार आप लोग कैसे हैं हमारे समाज में बढ़ती की क्या आवश्यकता है वर्दी ज्ञानी यूनिफॉर्म यूनिफॉर्म से ही बनता है यूनिफॉर्म मिट्टी क्योंकि एक समान बर्थडे की बहुत ज्यादा आवश्यकता है ताकि तू कुछ लोग दिखावा ना कर पाए कुछ लोग अपने आप को लो ना फिकर पर कुछ लोग अपने आप को पालना इनफॉर्मेटिक यूनीफामिटी रहे अब स्कूल में क्यों सबके यूनिफॉर्म होती है कि उन सब की वृद्धि होती है सब बच्चों की कुछ लोग बहुत ही रिश्ता में से बच्चे ब्रिज सामने से बिलॉन्ग करते हैं और कुछ पर चित्र लोग सामने से मीडियम से बिलॉन्ग करते हैं तो आप सपोर्ट करें हम उनकी यूनिफॉर्म मगर नहीं लगाते हैं तो हमें तो क्या होगा कुछ वाईफाई इस तरह के बनकर आएंगे कुछ बहुत ही सिंपल आएंगे तो उनमें क्या भाई ऊंच नीच की भावना आपस में पैदा होगी तो वह हाईप्रोफाइल वाले लोग होता है ओथेलो हैं उनका मजाक उड़ाएंगे इसलिए मीटिंग की बहुत ज्यादा आवश्यकता है इनमें से कैरियर स्कूल द्वारा नहीं नहीं आगे जाकर भी एक लोगों को भी आप एक यूनिफॉर्म मीटिंग रखनी चाहिए जिससे कि वह सिर्फ अपना पैसा आता है क्योंकि सबसे गंदी चीज पैसा होती है जब वही लोग दिखाते हैं यूनिफॉर्म भी हो जाएगी हो जाएगी हाई रैंक पर भी भर्ती हो जाए तो सब में एक समान आएगी ऊंच-नीच को बढ़ाती रहीं हैं और लोगों को सब एक दूसरे को समान था अब से देखेंगे एक दूसरे को समान लाइन से देखेंगे ना कोई किसी को यह ब्रदर शो करेगा कि मैं आई हूं ना कोई भी कभी किसी को यह पता चलेगा यह बहुत ही अर्जेंट है इस तरह से है तू एक समान सोच के लिए और कुछ नहीं इसको बढ़ावा देना देने के लिए हमारे समाज को भर्ती की आवश्यकता है और स्कूल में ही नहीं मैं तो यह बोलूंगी आगे यूनिवर्सिटी कॉलेज उतारा एजुकेशन कि हर लाइन में आवर्ती जरूर होनी चाहिए और स्पेशली देखी स्कूल स्कूल टीचर्स की भी यूनिफॉर्म होती है ऑफिस में उनके एंप्लॉय हैं उनकी भी यूनिफॉर्म होती है तो यूनिफॉर्म होना बहुत जरूरी है इसके सब एक दूसरे के प्रति समान व्यवहार करते हैं धन्यवाद
Namaskaar aap log kaise hain hamaare samaaj mein badhatee kee kya aavashyakata hai vardee gyaanee yooniphorm yooniphorm se hee banata hai yooniphorm mittee kyonki ek samaan barthade kee bahut jyaada aavashyakata hai taaki too kuchh log dikhaava na kar pae kuchh log apane aap ko lo na phikar par kuchh log apane aap ko paalana inaphormetik yooneephaamitee rahe ab skool mein kyon sabake yooniphorm hotee hai ki un sab kee vrddhi hotee hai sab bachchon kee kuchh log bahut hee rishta mein se bachche brij saamane se bilong karate hain aur kuchh par chitr log saamane se meediyam se bilong karate hain to aap saport karen ham unakee yooniphorm magar nahin lagaate hain to hamen to kya hoga kuchh vaeephaee is tarah ke banakar aaenge kuchh bahut hee simpal aaenge to unamen kya bhaee oonch neech kee bhaavana aapas mein paida hogee to vah haeeprophail vaale log hota hai othelo hain unaka majaak udaenge isalie meeting kee bahut jyaada aavashyakata hai inamen se kairiyar skool dvaara nahin nahin aage jaakar bhee ek logon ko bhee aap ek yooniphorm meeting rakhanee chaahie jisase ki vah sirph apana paisa aata hai kyonki sabase gandee cheej paisa hotee hai jab vahee log dikhaate hain yooniphorm bhee ho jaegee ho jaegee haee raink par bhee bhartee ho jae to sab mein ek samaan aaegee oonch-neech ko badhaatee raheen hain aur logon ko sab ek doosare ko samaan tha ab se dekhenge ek doosare ko samaan lain se dekhenge na koee kisee ko yah bradar sho karega ki main aaee hoon na koee bhee kabhee kisee ko yah pata chalega yah bahut hee arjent hai is tarah se hai too ek samaan soch ke lie aur kuchh nahin isako badhaava dena dene ke lie hamaare samaaj ko bhartee kee aavashyakata hai aur skool mein hee nahin main to yah boloongee aage yoonivarsitee kolej utaara ejukeshan ki har lain mein aavartee jaroor honee chaahie aur speshalee dekhee skool skool teechars kee bhee yooniphorm hotee hai ophis mein unake employ hain unakee bhee yooniphorm hotee hai to yooniphorm hona bahut jarooree hai isake sab ek doosare ke prati samaan vyavahaar karate hain dhanyavaad

bolkar speaker
हमारे समाज में वर्दी की क्या आवश्यकता है?Hamare Samaj Mein Vardi Ki Kya Aavashyakta Hai
Anika Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Anika जी का जवाब
Unknown
0:53
हमारे समाज में वर्दी की क्या आवश्यकता है वर्दी यानी की यूनिफार्म तुझे यूनिफॉर्म होती है वह हमें यूनिटी जो करती है जब हम स्कूल जाते हैं स्कूल में अक्सर बच्चे यूनिफॉर्म में आते हैं तो हमें वहां से यह सीख मिलती है कि हम चाहे कितने भी बड़े हो कितने भी छोटे हो किसी भी समाज से क्यों ना हम एक हैं यूनिफॉर्म जो है एकता दिखाती है इसलिए हर फूल और कई कॉलेज इसमें यूनिफॉर्म होता है हर एक मजेदार बात एक मजे की बात बताती है जिन्होंने से कॉलेज वाली स्कूल वाली जो बच्चे होते हैं उनके कई कपड़े बज जाते हैं इसलिए यूनिफॉर्म होना काफी जरूरी है
Hamaare samaaj mein vardee kee kya aavashyakata hai vardee yaanee kee yooniphaarm tujhe yooniphorm hotee hai vah hamen yoonitee jo karatee hai jab ham skool jaate hain skool mein aksar bachche yooniphorm mein aate hain to hamen vahaan se yah seekh milatee hai ki ham chaahe kitane bhee bade ho kitane bhee chhote ho kisee bhee samaaj se kyon na ham ek hain yooniphorm jo hai ekata dikhaatee hai isalie har phool aur kaee kolej isamen yooniphorm hota hai har ek majedaar baat ek maje kee baat bataatee hai jinhonne se kolej vaalee skool vaalee jo bachche hote hain unake kaee kapade baj jaate hain isalie yooniphorm hona kaaphee jarooree hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हमारे समाज में वर्दी की क्या आवश्यकता है समाज में वर्दी की क्या आवश्यकता है
URL copied to clipboard