#undefined

bolkar speaker

वाणी कब विष के समान हो जाती है?

Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:17
तो आज आप का सवाल है कि पानी तो भीम के समान हो जाती है ऐसा कहा जाता है कि बोलने से पहले सोच समझ कर दो शब्द फिर से वापस नहीं आ सकता फिर मैं कल हो या की दो-चार लोगों पर भी असर नहीं दिखा दो चलो के सामने बोले हैं तो क्या हो गया पांच के सामने हुए जाते हैं मतलब किसी के प्रति बुरा बोलते हैं और आपके साथ कितना भी अच्छा लगे हमें आपस की बेइज्जती कर रहे हैं इंसल्ट कर रहे हो जितना भी मतलब आप से प्यार से बात करने की कोशिश कर आप मुझसे मैं उस इंसान के साथ रिएक्ट कर रहे हैं इस तरह की चीजों से बन जाती है मीठे शब्द और अच्छे से बोलते हैं तो उसके रिलेशन भी अच्छे रहते हैं और लोग आपसे भी अच्छे से बनाते हैं आपकी मदद करते किसी के बारे में अमीरी गरीबी ऊंचा नीचा यह सब बात करके इंसल्ट करते हैं किसी को अपने मुंह से यह सब शब्द का इस्तेमाल करते हैं तो आपके अच्छे खासे बनाए रिश्ते खराब हो जाते कोई भी इंसान एक दूसरे को बोलेगा नहीं कोई जानने के बाद ही पसंद के साथ में कोई भी रिश्ते और कोई भी इंसान आपके साथ रहना पसंद नहीं करेंगे कि कोई इंसान अगर आपके साथ ले रहा है फिर खाना पीना सोना तो उसको नहीं है उसको बातचीत भी करना और आपके बातचीत से जब तक ही नहीं जिसके समान कोई भी जिंदा नहीं रह सकता है तुझे भी नहीं रहेगा तो देश के हित में हमारी आवाज अच्छी बातें करना चाहिए जो हम कड़वाहट लाते हैं बिगड़ जाए तो कैसे बात करें ताकि कुछ चैलेंज अच्छे से बने ताकि लोग हमें अखिलेश कभी भी हमारे हमें याद करें तो यह सोचा तो कुछ ऐसे लोग तारीफ करें हमारी बुराई करें हमारे पीछे
To aaj aap ka savaal hai ki paanee to bheem ke samaan ho jaatee hai aisa kaha jaata hai ki bolane se pahale soch samajh kar do shabd phir se vaapas nahin aa sakata phir main kal ho ya kee do-chaar logon par bhee asar nahin dikha do chalo ke saamane bole hain to kya ho gaya paanch ke saamane hue jaate hain matalab kisee ke prati bura bolate hain aur aapake saath kitana bhee achchha lage hamen aapas kee beijjatee kar rahe hain insalt kar rahe ho jitana bhee matalab aap se pyaar se baat karane kee koshish kar aap mujhase main us insaan ke saath riekt kar rahe hain is tarah kee cheejon se ban jaatee hai meethe shabd aur achchhe se bolate hain to usake rileshan bhee achchhe rahate hain aur log aapase bhee achchhe se banaate hain aapakee madad karate kisee ke baare mein ameeree gareebee ooncha neecha yah sab baat karake insalt karate hain kisee ko apane munh se yah sab shabd ka istemaal karate hain to aapake achchhe khaase banae rishte kharaab ho jaate koee bhee insaan ek doosare ko bolega nahin koee jaanane ke baad hee pasand ke saath mein koee bhee rishte aur koee bhee insaan aapake saath rahana pasand nahin karenge ki koee insaan agar aapake saath le raha hai phir khaana peena sona to usako nahin hai usako baatacheet bhee karana aur aapake baatacheet se jab tak hee nahin jisake samaan koee bhee jinda nahin rah sakata hai tujhe bhee nahin rahega to desh ke hit mein hamaaree aavaaj achchhee baaten karana chaahie jo ham kadavaahat laate hain bigad jae to kaise baat karen taaki kuchh chailenj achchhe se bane taaki log hamen akhilesh kabhee bhee hamaare hamen yaad karen to yah socha to kuchh aise log taareeph karen hamaaree buraee karen hamaare peechhe

और जवाब सुनें

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:27
तीर के समान होती है जो धनुष से निकलने के बाद पुनः वापस कभी नहीं आती है तो बानी विश्वकवि काम करती और अमृत का भी तभी यदि आप कुछ अच्छा बोल रहे हैं जो सामने वाले को प्रसन्न कर दे तो अमृत है और यदि आप सामने वाले का मन दुखाने के हिसाब से बोल रहे हैं तो यह विश्व का काम करती है तो बाड़ी को हमेशा अच्छा बना कर रखें ताकि आप सब से घुल मिल सके भी खुश होंगे तो आप भी बहुत खुश हो जाएंगे
Teer ke samaan hotee hai jo dhanush se nikalane ke baad punah vaapas kabhee nahin aatee hai to baanee vishvakavi kaam karatee aur amrt ka bhee tabhee yadi aap kuchh achchha bol rahe hain jo saamane vaale ko prasann kar de to amrt hai aur yadi aap saamane vaale ka man dukhaane ke hisaab se bol rahe hain to yah vishv ka kaam karatee hai to baadee ko hamesha achchha bana kar rakhen taaki aap sab se ghul mil sake bhee khush honge to aap bhee bahut khush ho jaenge

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:25
हेलो विभिन्न स्वागत है आपका आपका प्रश्न है वाणी कब्रिस्तान नमन हो जाती है तो फ्रेंड जब कोई गलत बात बोलता है गंदी बात बोलता है या गालियां देता है तो उसकी बॉडी इसके समान होती है जब कोई अभी बात कहता है जो से नहीं कहना चाहिए तभी वाणी विश्वजीत के समान हो जाती है तो इंसान को अपनी भाषा बोली को अच्छे से बोलना चाहिए और सोच समझ कर ही बात करना चाहिए धन्यवाद
Helo vibhinn svaagat hai aapaka aapaka prashn hai vaanee kabristaan naman ho jaatee hai to phrend jab koee galat baat bolata hai gandee baat bolata hai ya gaaliyaan deta hai to usakee bodee isake samaan hotee hai jab koee abhee baat kahata hai jo se nahin kahana chaahie tabhee vaanee vishvajeet ke samaan ho jaatee hai to insaan ko apanee bhaasha bolee ko achchhe se bolana chaahie aur soch samajh kar hee baat karana chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:25
सवाल यह है कि वाणी विष के समान कम हो जाती है तो जब वाणी बाह्य आडंबर से संपन्न होकर राम नाम को त्याग देती है तब विष के समान हो जाती है राम नाम के अतिरिक्त उच्चरित ध्वनि काम क्रोध मद सेवन आदि से परिपूर्ण होती है वाणी जब दूसरों को कष्ट पहुंचाने लग जाए तब वाणी विष के समान हो जाती है
Savaal yah hai ki vaanee vish ke samaan kam ho jaatee hai to jab vaanee baahy aadambar se sampann hokar raam naam ko tyaag detee hai tab vish ke samaan ho jaatee hai raam naam ke atirikt uchcharit dhvani kaam krodh mad sevan aadi se paripoorn hotee hai vaanee jab doosaron ko kasht pahunchaane lag jae tab vaanee vish ke samaan ho jaatee hai

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
Unknown
1:27
गाड़ी कब विष के समान हो जाती है देखी वाणी जो होती है इसका प्रयोग बहुत ही सोच समझ कर करना चाहिए अगर कोई व्यक्ति इसका प्रयोग बहुत ज्यादा सोचे समझे बिना करता है तब वह वाली जो होती है वह विष के समान हो जाती है यानी कि कई बार अगर आपको किसी को खुश करने के लिए कुछ ऐसा बोलना पड़े जिससे आपको पूरी तरीके से सहमत ना हो तो आपको बोल देना चाहिए क्योंकि आपके बोलने से कुछ ज्यादा नहीं है कि सामने वाले व्यक्ति को प्रसन्नता महसूस होगी जब वह जो सुनना चाहता है उसको वह बोल सकते हैं ना कि बहुत से लोग यह भी कह सकते हैं कि यह बात सच भी है कि हम हमें लोगों के सामने बिल्कुल स्पष्ट और सीधी बात करनी चाहिए यह बात बिल्कुल सही है लेकिन कई बार क्या हो जाती है यह जो बात होती है सामने वाले को बुरी लग जाती है भले ही आप उसकी भलाई की बात कर रहे हो उसे 20 के सामान की बात लगती है और अगर आप बिना सोचे समझे कुछ भी बोल देंगे तो घर गलत बोलेंगे तो और भी खराब बात है अगर आपकी भलाई के लिए बोल रहे हैं तो थोड़ा यह समझ लीजिए कि आजकल का जमाना है अगर आप उसमें बहुत ज्यादा थैंक और स्पष्ट बात करने वाले हैं आपको बात करने का इस तरह से आप कह सकते हैं कि बाद बदाम बातें बनाना नहीं आता आपकी जो जीवन शैली है उससे लोग संतुष्ट नहीं होंगे और हमेशा आपको आपकी बुराइयां करेंगे या आप से दूर रहेंगे तो इसलिए अपनी बॉडी का थोड़ा संभल के यूज कीजिए और ज्यादातर लोगों को जो पसंद हो उनके सामने वही बोले तो इससे ज्यादा ही ठीक रहता है ज्यादा ही स्पष्ट आप बोलेंगे तो लोग बुरा भी मार सकते हैं धन्यवाद
Gaadee kab vish ke samaan ho jaatee hai dekhee vaanee jo hotee hai isaka prayog bahut hee soch samajh kar karana chaahie agar koee vyakti isaka prayog bahut jyaada soche samajhe bina karata hai tab vah vaalee jo hotee hai vah vish ke samaan ho jaatee hai yaanee ki kaee baar agar aapako kisee ko khush karane ke lie kuchh aisa bolana pade jisase aapako pooree tareeke se sahamat na ho to aapako bol dena chaahie kyonki aapake bolane se kuchh jyaada nahin hai ki saamane vaale vyakti ko prasannata mahasoos hogee jab vah jo sunana chaahata hai usako vah bol sakate hain na ki bahut se log yah bhee kah sakate hain ki yah baat sach bhee hai ki ham hamen logon ke saamane bilkul spasht aur seedhee baat karanee chaahie yah baat bilkul sahee hai lekin kaee baar kya ho jaatee hai yah jo baat hotee hai saamane vaale ko buree lag jaatee hai bhale hee aap usakee bhalaee kee baat kar rahe ho use 20 ke saamaan kee baat lagatee hai aur agar aap bina soche samajhe kuchh bhee bol denge to ghar galat bolenge to aur bhee kharaab baat hai agar aapakee bhalaee ke lie bol rahe hain to thoda yah samajh leejie ki aajakal ka jamaana hai agar aap usamen bahut jyaada thaink aur spasht baat karane vaale hain aapako baat karane ka is tarah se aap kah sakate hain ki baad badaam baaten banaana nahin aata aapakee jo jeevan shailee hai usase log santusht nahin honge aur hamesha aapako aapakee buraiyaan karenge ya aap se door rahenge to isalie apanee bodee ka thoda sambhal ke yooj keejie aur jyaadaatar logon ko jo pasand ho unake saamane vahee bole to isase jyaada hee theek rahata hai jyaada hee spasht aap bolenge to log bura bhee maar sakate hain dhanyavaad

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
Unknown
0:28
सवाल है गाड़ी कब विष के समान हो जाती है देखिए जब वाणी बाहरी आडंबर से संपन्न होकर राम नाम को त्याग देती है तब भी सो जाती है राम नाम के अतिरिक्त व उच्च चरित्र ध्वनि काम क्रोध मद सेवन आदि से परिपूर्ण हो जाती है इसके अलावा बानी जब दूसरों को कष्ट पहुंचाने लग जाए तब वाणी जिसके समान हो जाती है धन्यवाद
Savaal hai gaadee kab vish ke samaan ho jaatee hai dekhie jab vaanee baaharee aadambar se sampann hokar raam naam ko tyaag detee hai tab bhee so jaatee hai raam naam ke atirikt va uchch charitr dhvani kaam krodh mad sevan aadi se paripoorn ho jaatee hai isake alaava baanee jab doosaron ko kasht pahunchaane lag jae tab vaanee jisake samaan ho jaatee hai dhanyavaad

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
0:34
बाड़ी का विष के समान हो जाती है यह आपका कहना सवाल है तो भवानी उसी समय विष के समान होती है जब आदमी किसी भी दुख में हो और उस पर कोई कटाक्ष कर दे कोई उसको एक संचित शब्द बोल दे या कोई कटाक्ष कर दे तब उस वह बोली उसके लिए 20 के समान होती है उसी को कहते हैं जले पर नमक छिड़कना
Baadee ka vish ke samaan ho jaatee hai yah aapaka kahana savaal hai to bhavaanee usee samay vish ke samaan hotee hai jab aadamee kisee bhee dukh mein ho aur us par koee kataaksh kar de koee usako ek sanchit shabd bol de ya koee kataaksh kar de tab us vah bolee usake lie 20 ke samaan hotee hai usee ko kahate hain jale par namak chhidakana

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
0:50
बेटा आपका प्रश्न 1 वाणी कब विष के समान हो जाती है तो देखिए कहा गया सत्यम ब्रूयात प्रियं ब्रूयात सत्य बोलो प्रिय बोलो ना बुरिया तब प्रियतम तो अपनी सत्य मत बोलो सत्यम ब्रूयात प्रियं ब्रूयात ना बुरिया सत्यम प्रेम अपनी सत्य नहीं बोलना चाहिए तो जब आप इसी को हिंदी में कहते हादसे किसी की कमी पर चोट करना देंगे किसी की कमी पर चोट करके उसे उत्साहित करना और विद्रूपता किसी की कमी पर ऐसी छूट करना क्यों हतोत्साहित हो जाए वह आपके सामने पराभूत हो जाए आपके सामने नतमस्तक हो जाए और इसी अवस्था में वाणी जो है वह उसके लिए विष के समान हो जाती है थैंक यू
Beta aapaka prashn 1 vaanee kab vish ke samaan ho jaatee hai to dekhie kaha gaya satyam brooyaat priyan brooyaat saty bolo priy bolo na buriya tab priyatam to apanee saty mat bolo satyam brooyaat priyan brooyaat na buriya satyam prem apanee saty nahin bolana chaahie to jab aap isee ko hindee mein kahate haadase kisee kee kamee par chot karana denge kisee kee kamee par chot karake use utsaahit karana aur vidroopata kisee kee kamee par aisee chhoot karana kyon hatotsaahit ho jae vah aapake saamane paraabhoot ho jae aapake saamane natamastak ho jae aur isee avastha mein vaanee jo hai vah usake lie vish ke samaan ho jaatee hai thaink yoo

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
versha Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए versha जी का जवाब
Student
1:13
एवरीवन माय नेम इस वर्ष के समान हो जाती है बहुत अच्छा सवाल है कि वाणी हमारी विष के समान कब होती है तो मैं आपको बताना चाहूंगी हमारी वाणी विष के समान तब होती है जब हम गुस्से में होते हैं अगर सामने वाले व्यक्ति हमें कुछ कहे या किसी से मर लड़ाई झगड़ा हो रहा है वह ऐसे शब्द बोल दे जिससे मैं गुस्सा आ जाए और हम गुस्से में अपना आपा खो देते हैं हमें पता ही नहीं चलता कि हम क्या बोल रहे हैं ऐसी स्थिति में हमारी वाणी विष के समान हो जाती हैं क्योंकि कहते हैं ना कि हमें गुस्से में सोच समझकर बोलना चाहिए कि हम गुस्से में जब होते हमें पता ही नहीं चलता हम क्या बोल रहे हैं और किस से बोल रहे हैं कौन है हमारे सामने बस बोलते चले जाते हमारे मन में जो आता है हम सिर्फ बोलते चले जाते हैं तो मैं कहना चाहूंगी हमारीवाणी गुस्से में विष के समान हो जाती है थैंक यू सो मच
Evareevan maay nem is varsh ke samaan ho jaatee hai bahut achchha savaal hai ki vaanee hamaaree vish ke samaan kab hotee hai to main aapako bataana chaahoongee hamaaree vaanee vish ke samaan tab hotee hai jab ham gusse mein hote hain agar saamane vaale vyakti hamen kuchh kahe ya kisee se mar ladaee jhagada ho raha hai vah aise shabd bol de jisase main gussa aa jae aur ham gusse mein apana aapa kho dete hain hamen pata hee nahin chalata ki ham kya bol rahe hain aisee sthiti mein hamaaree vaanee vish ke samaan ho jaatee hain kyonki kahate hain na ki hamen gusse mein soch samajhakar bolana chaahie ki ham gusse mein jab hote hamen pata hee nahin chalata ham kya bol rahe hain aur kis se bol rahe hain kaun hai hamaare saamane bas bolate chale jaate hamaare man mein jo aata hai ham sirph bolate chale jaate hain to main kahana chaahoongee hamaareevaanee gusse mein vish ke samaan ho jaatee hai thaink yoo so mach

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:38
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है वाणी कब विष के समान हो जाती है तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर यह है बोलना बोलो ऐसा कोई जो दिल पर लगे थे इस वक्त गुजर जाएगा बात खड़ी रह जाएगी इस प्रकार से हमें किसी को बुरा नहीं बोलना चाहिए अपने विचारों को अच्छी तरीके से शालीनता से मधुर वाणी से सभी का दिल जीतना चाहिए किसी के साथ गलत विचारों से उन्हें प्रताड़ित नहीं करना चाहिए धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaskaar doston aapaka prashn hai vaanee kab vish ke samaan ho jaatee hai to doston aapake savaal ka uttar yah hai bolana bolo aisa koee jo dil par lage the is vakt gujar jaega baat khadee rah jaegee is prakaar se hamen kisee ko bura nahin bolana chaahie apane vichaaron ko achchhee tareeke se shaaleenata se madhur vaanee se sabhee ka dil jeetana chaahie kisee ke saath galat vichaaron se unhen prataadit nahin karana chaahie dhanyavaad saathiyon khush raho

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
[🌀HIMANSHU🔱GAUTAM🌀] Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए [🌀HIMANSHU🔱GAUTAM🌀] जी का जवाब
Student
1:04
इंग्लिश कम आती है न्यू सेक्स एनिमल ऐसी बातें बुरी लग जाएगी हमारी मांगे का निमंत्रण उसके बाद बात करना चालू करो माफ नहीं करता है इस से अच्छा है कि मैं तो तुमसे बोली ताकि सही है ना की वाणी प्यार ना हो जाए तो ज्यादा अच्छा रहता है
Inglish kam aatee hai nyoo seks enimal aisee baaten buree lag jaegee hamaaree maange ka nimantran usake baad baat karana chaaloo karo maaph nahin karata hai is se achchha hai ki main to tumase bolee taaki sahee hai na kee vaanee pyaar na ho jae to jyaada achchha rahata hai

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:40
बेटी बनी जब आप आवश्यकता से अधिक या टॉपिक से रहित या समय का ध्यान नहीं रखने के कारण देशकाल परिस्थितियों को बिना सोचे समझे जब इस वाणी का उपयोग करते हो या भाषा का उपयोग करते हो उस समय में जिसके समान हो जाती है और आपके उपवास का कारण भी बनती है और यदि इसी वाणी को आप समय के अनुसार प्रयोग करें आप टॉपिक के अनुसार क्यों करें आपसे पूछा जाए जब प्रयोग करें तो मैं सोच रहा हूं शायद यह बानी एक अमृत का भी कार्य करती है और जादू का भी कार्य करती है आपकी बात चली की भाग जमाती है और आपके अच्छे वक्ता होने के प्रमाण प्रस्तुत करती हैं इसलिए कहते हैं वाणी एक अमोल है जो कोई बोलत जा वाणी एक अमूल्य वस्तु है जो आप उसको रोक लेना जानते हैं उनके लिए अमृत का कार्य करती है उनको श्रेष्ठ वक्ता बना देती है महान बना देती है और जो इसे बिना सोचे समझे यूज करते हैं समय कुछ समय को नहीं देख पाते हैं या व्यर्थ बोलने के 82 हैं ऐसे बाजार लोगों का उपहास भी उड़ता है और भी अपमान का भी कारण बनते हैं
Betee banee jab aap aavashyakata se adhik ya topik se rahit ya samay ka dhyaan nahin rakhane ke kaaran deshakaal paristhitiyon ko bina soche samajhe jab is vaanee ka upayog karate ho ya bhaasha ka upayog karate ho us samay mein jisake samaan ho jaatee hai aur aapake upavaas ka kaaran bhee banatee hai aur yadi isee vaanee ko aap samay ke anusaar prayog karen aap topik ke anusaar kyon karen aapase poochha jae jab prayog karen to main soch raha hoon shaayad yah baanee ek amrt ka bhee kaary karatee hai aur jaadoo ka bhee kaary karatee hai aapakee baat chalee kee bhaag jamaatee hai aur aapake achchhe vakta hone ke pramaan prastut karatee hain isalie kahate hain vaanee ek amol hai jo koee bolat ja vaanee ek amooly vastu hai jo aap usako rok lena jaanate hain unake lie amrt ka kaary karatee hai unako shreshth vakta bana detee hai mahaan bana detee hai aur jo ise bina soche samajhe yooj karate hain samay kuchh samay ko nahin dekh paate hain ya vyarth bolane ke 82 hain aise baajaar logon ka upahaas bhee udata hai aur bhee apamaan ka bhee kaaran banate hain

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
rohit paste Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए rohit जी का जवाब
Unknown
0:32
जब लोगों के पास पैसे की बढ़ोतरी हो जाती है या कम समय में ज्यादा पैसा लोगों के पास आ जाता है तो ऐसा हो सकता है और ज्यादा से ज्यादा समाज में ऐसा ही हो रहा है अभी जो कुछ गिने-चुने लोग हैं वही सामान्य से रहते हैं बाकी सब आप के कहने के मुताबिक ही चल रहा है

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
0:28
नमस्ते वाणी विष के समान तब हो जाती है जब आदमी को अहम हो जाता है कि वह कुछ है और जब उसको अहम हो जाता है कि वह कुछ है तो उसको पता नहीं चलता कि वह कब कहां और क्या बोल रहा है आदमी खुद की हमने खुद के घमंड में अपनी वाणी को विस्तृत संबंध कर लेता

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
Sanjay Prasad Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sanjay जी का जवाब
IT Professional
3:08
नमस्कार मित्रों आपका समान बानी कब विष के समान हो जाती है तो किसी कवि का लिखा हुआ एक पंक्ति याद आ रहा है और इस संदर्भ में मैं कहना चाहूंगा और हमेशा याद रखना चाहिए यह बात ऐसी बानी बोलिए मन का आपा खोय औरन को शीतल करे आपहु शीतल होय का मतलब है कि हमेशा अपनी भाषा को सरल और अच्छा और कर्णप्रिय बोलना चाहिए मतलब आपको भी अच्छा लगे दूसरे को भी अच्छा लगे इस बात का ध्यान हमेशा रखना चाहिए आपका कम्युनिकेशन स्किल जो है वह बहुत कुछ डिपेंड करता है बहुत कुछ निर्भर करता है आप कैसी वाणी बोल रहे हैं बानी को हमेशा मधु रखना चाहिए और अगर आप बानी को मधुर रखते हैं तो आप जीवन में हमेशा सफल होंगे आगे बढ़ेंगे आपको कहीं किसी प्रकार की परेशानी नहीं होगी विनम्र होना चाहिए और विनम्र होने के लिए भी एक हमने लोग याद आ रहा है विद्या ददाति विनयं विनयाद्याति पात्रताम् पात्रता धना पनोती धना तथा सुखम् कहने का मतलब हुआ कि विद्या विद्या का अर्जुन करना चाहिए विद्या उसे विनायक की प्राप्ति होती है और वही में विद्या अर्जन करेंगे उसका मनन करेंगे उसको अपने अंदर उतारेंगे तो आपकी भाषा आप की बोली में मिठास आ जाएगा और सब कोई आपको लगने लगेगा लोगों के चहेते आप हो जाएंगे यह तो हुआ वाणी की अच्छे होने की बात लेकिन अगर इस चीज को आप छोड़ देते हैं आपकी वाणी ऐसी होती है जो दूसरे के पसंद नहीं आते हैं या दूसरा कोई ऐसा कहने लगे कि आपकी वाणी अच्छी नहीं है या दूसरे को करकस लगने लगे तो उस समय वह वाणी जिसके समान हो जाती है कहने का मतलब अगर आपका कम्युनिकेशन स्किल अच्छा नहीं होगा तो आप दूसरे से लड़ाई झगड़ा करेंगे और ऐसी बात बोलेंगे जो दूसरे को दुख पहुंचा आएगा ऐसा नहीं होना चाहिए अगर ऐसा व्यवहार होता है तो मानी विष के समान रहती है जो आपका नुकसान करती है दूसरे का नुकसान तो बाद में लेकिन स्वयं का नुकसान करती है तो जब ऐसी वाणी या ऐसे विचार या ऐसी बात जो दूसरे से ज्यादा स्वयं का नुकसान करें जिसके समान होती है धन्यवाद
Namaskaar mitron aapaka samaan baanee kab vish ke samaan ho jaatee hai to kisee kavi ka likha hua ek pankti yaad aa raha hai aur is sandarbh mein main kahana chaahoonga aur hamesha yaad rakhana chaahie yah baat aisee baanee bolie man ka aapa khoy auran ko sheetal kare aapahu sheetal hoy ka matalab hai ki hamesha apanee bhaasha ko saral aur achchha aur karnapriy bolana chaahie matalab aapako bhee achchha lage doosare ko bhee achchha lage is baat ka dhyaan hamesha rakhana chaahie aapaka kamyunikeshan skil jo hai vah bahut kuchh dipend karata hai bahut kuchh nirbhar karata hai aap kaisee vaanee bol rahe hain baanee ko hamesha madhu rakhana chaahie aur agar aap baanee ko madhur rakhate hain to aap jeevan mein hamesha saphal honge aage badhenge aapako kaheen kisee prakaar kee pareshaanee nahin hogee vinamr hona chaahie aur vinamr hone ke lie bhee ek hamane log yaad aa raha hai vidya dadaati vinayan vinayaadyaati paatrataam paatrata dhana panotee dhana tatha sukham kahane ka matalab hua ki vidya vidya ka arjun karana chaahie vidya use vinaayak kee praapti hotee hai aur vahee mein vidya arjan karenge usaka manan karenge usako apane andar utaarenge to aapakee bhaasha aap kee bolee mein mithaas aa jaega aur sab koee aapako lagane lagega logon ke chahete aap ho jaenge yah to hua vaanee kee achchhe hone kee baat lekin agar is cheej ko aap chhod dete hain aapakee vaanee aisee hotee hai jo doosare ke pasand nahin aate hain ya doosara koee aisa kahane lage ki aapakee vaanee achchhee nahin hai ya doosare ko karakas lagane lage to us samay vah vaanee jisake samaan ho jaatee hai kahane ka matalab agar aapaka kamyunikeshan skil achchha nahin hoga to aap doosare se ladaee jhagada karenge aur aisee baat bolenge jo doosare ko dukh pahuncha aaega aisa nahin hona chaahie agar aisa vyavahaar hota hai to maanee vish ke samaan rahatee hai jo aapaka nukasaan karatee hai doosare ka nukasaan to baad mein lekin svayan ka nukasaan karatee hai to jab aisee vaanee ya aise vichaar ya aisee baat jo doosare se jyaada svayan ka nukasaan karen jisake samaan hotee hai dhanyavaad

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
NEHAA P MISHRA  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए NEHAA जी का जवाब
Teacher, Soul Healer
2:44
आपका क्वेश्चन जो है काफी इंटरेस्टिंग है अच्छा है वाणी के विष के समान हो जाती है तो वाणी मेरे हिसाब से हीरे के समान होती है डायमंड के समान होती है डायमंड का अगर आप प्रॉपर यूज करोगे तो अमृत की तरह है अच्छा यूज करोगे मीठी वाणी बोलोगे सत्य बोलोगे सभी से प्रेम भरी वाणी में बात करोगे तो वह खूबसूरत बनेगी डायमंड की तरह चमकेगी और अगर आप ने जहर उगला मतलब आपने जब हम हीरे को सुना है मैंने मुझे भी ज्यादा पता नहीं है ना ही मैंने एक्सपीरियंस किया है सीधे को चाटने से ना मृत्यु हो जाती क्योंकि उसमें जो कार बनिया जो जहर होता है वह तुरंत इंसान को खत्म कर देता है अगर आपकी बॉडी में जहर है तो सामने वाले को वह खत्म कर देगी तो इसीलिए हीरे को मेरे की तुलना की है मैंने गाड़ी से हमारी को हीरे के समान बोला क्योंकि हीरे में भी मैं होता ही है डायमंड में भी वह सोता ही है हमने आप पहले के सामानों में पहले किसानों की बात सुनी है कि कोई भेजना खुले ऐसे ही रखे अंगूठी चार्ट के खत्म हो जाते थे ना तुरंत मृत्यु हो जाती है इसलिए मुझे तो ऐसा ही लगा की वाणी हीरे के समान होती है उसमें विश्व होता है उसमें अमृत नहीं होता कोई अंगूठी को देखोगे जरूर होगी लेकिन उसमें अमृत नहीं होता कि आपको किसी पर एक अंगूठी तो कभी मरेगा जरूर होता है हंड्रेड परसेंट होता है तो अपनी वाणी को हीरे की तरह खूबसूरत बनाई है दूर से बात कीजिए कम बोलिए और बोलिए तो केवल मीठा बोलिए अगर मेरा जवाब अच्छा लगा हो तो प्लीज मुझे कमेंट करके जरूर बताइएगा ताकि मैं आगे और अच्छे-अच्छे जवाब दे सकूं और आप सभी का हार्दिक हार्दिक धन्यवाद जितने भी मेरे सब्सक्राइबर से उनका हार्दिक हार्दिक धन्यवाद उन लोगों ने ही मुझे टॉप स्पीकर बनाया है आप सभी का प्यार मुझे ऐसे ही हमेशा मिलता रहे और मैं भी अपना प्यार आप लोगों को हमेशा देती रहूंगी मीठी और हीरे की तरह चमकीली सुंदर वाणी बोलूंगी और आप लोग भी एक दूसरे के साथ वही प्रेम भरी मीठी और हीरे की तरह खूबसूरत वाणी बोलिए धन्यवाद
Aapaka kveshchan jo hai kaaphee intaresting hai achchha hai vaanee ke vish ke samaan ho jaatee hai to vaanee mere hisaab se heere ke samaan hotee hai daayamand ke samaan hotee hai daayamand ka agar aap propar yooj karoge to amrt kee tarah hai achchha yooj karoge meethee vaanee bologe saty bologe sabhee se prem bharee vaanee mein baat karoge to vah khoobasoorat banegee daayamand kee tarah chamakegee aur agar aap ne jahar ugala matalab aapane jab ham heere ko suna hai mainne mujhe bhee jyaada pata nahin hai na hee mainne eksapeeriyans kiya hai seedhe ko chaatane se na mrtyu ho jaatee kyonki usamen jo kaar baniya jo jahar hota hai vah turant insaan ko khatm kar deta hai agar aapakee bodee mein jahar hai to saamane vaale ko vah khatm kar degee to iseelie heere ko mere kee tulana kee hai mainne gaadee se hamaaree ko heere ke samaan bola kyonki heere mein bhee main hota hee hai daayamand mein bhee vah sota hee hai hamane aap pahale ke saamaanon mein pahale kisaanon kee baat sunee hai ki koee bhejana khule aise hee rakhe angoothee chaart ke khatm ho jaate the na turant mrtyu ho jaatee hai isalie mujhe to aisa hee laga kee vaanee heere ke samaan hotee hai usamen vishv hota hai usamen amrt nahin hota koee angoothee ko dekhoge jaroor hogee lekin usamen amrt nahin hota ki aapako kisee par ek angoothee to kabhee marega jaroor hota hai handred parasent hota hai to apanee vaanee ko heere kee tarah khoobasoorat banaee hai door se baat keejie kam bolie aur bolie to keval meetha bolie agar mera javaab achchha laga ho to pleej mujhe kament karake jaroor bataiega taaki main aage aur achchhe-achchhe javaab de sakoon aur aap sabhee ka haardik haardik dhanyavaad jitane bhee mere sabsakraibar se unaka haardik haardik dhanyavaad un logon ne hee mujhe top speekar banaaya hai aap sabhee ka pyaar mujhe aise hee hamesha milata rahe aur main bhee apana pyaar aap logon ko hamesha detee rahoongee meethee aur heere kee tarah chamakeelee sundar vaanee boloongee aur aap log bhee ek doosare ke saath vahee prem bharee meethee aur heere kee tarah khoobasoorat vaanee bolie dhanyavaad

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
1:02
नमस्कार दोस्तों आप का प्रेस रेवाड़ी कब विष के समान हो जाते हैं दोस्तों जमाने से हम कोई अपशब्द निकालते हैं या गालियां बकते हैं बुरा बोलते हैं दुकान पर यह नहीं लगता है किसी को भी और वह हर तरीके से देखा जाए तो गलत ही होता है तो ऐसी वाणी जो होती है वह जहर के समान मानी गई है इन्हीं वाक्य जो नहीं बोलते हैं और दूसरों को कान टोचना चोदने वाला यदि हम अपशब्द बोलना शुरू कर देते हैं तो दोस्तों वह जवानी है वह विष के समान वाणी हो जाती है बल्कि दूसरों के साथ सभी बोले तो मधुर ही बोलना चाहिए अन्यथा नहीं बोलना चाहिए लेकिन दोस्तों से बोलते वक्त है हम अपशब्द बार-बार में निकालते हैं गालियां बकते हैं तो दोस्तों ऐसे 100 शब्द है ऐसी वाणी जो है वह विष के समान समझी जा
Namaskaar doston aap ka pres revaadee kab vish ke samaan ho jaate hain doston jamaane se ham koee apashabd nikaalate hain ya gaaliyaan bakate hain bura bolate hain dukaan par yah nahin lagata hai kisee ko bhee aur vah har tareeke se dekha jae to galat hee hota hai to aisee vaanee jo hotee hai vah jahar ke samaan maanee gaee hai inheen vaaky jo nahin bolate hain aur doosaron ko kaan tochana chodane vaala yadi ham apashabd bolana shuroo kar dete hain to doston vah javaanee hai vah vish ke samaan vaanee ho jaatee hai balki doosaron ke saath sabhee bole to madhur hee bolana chaahie anyatha nahin bolana chaahie lekin doston se bolate vakt hai ham apashabd baar-baar mein nikaalate hain gaaliyaan bakate hain to doston aise 100 shabd hai aisee vaanee jo hai vah vish ke samaan samajhee ja

bolkar speaker
वाणी कब विष के समान हो जाती है?Vani Kab Vish Ke Samaan Ho Jati Hai
Trainer Yogi Yogendra Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trainer जी का जवाब
Motivational Speaker | Career Coach | Corporate Trainer | Marketing & Management Expert's. Follow Us YouTube channel : https://www.youtube.com/channel/UCKY3o0Bey-4L8mWF9hyTRdQ
0:45

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard