#भारत की राजनीति

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
3:01
नमक और गलत पोस्ट कर रहे हैं उस दिन दिल्ली पुलिस का जो सहनशीलता थी अत्यंत सराहनीय रही है दिल्ली पुलिस ने इस प्रकार से इन किसानों नेताओं के द्वारा उत्पन्न की आर्यस्ता को सेंड किया उपप्रमुख को सेंड किया इनके द्वारा की गई मारपीट को सेंड किया तुमको शायद ज्ञात नहीं है कि 350 पुलिस वाले को इन्होंने डंडे लाठी आदि के द्वारा मारपीट करके घायल कर दिया है यह देश का मीडिया प्रिंट मीडिया बता रहा है अखबार बता रहे हैं आप ने पुलिस की गुंडागर्दी को लिखा पुलिस ने गुंडागर्दी रोल किया नहीं था यदि आप ने प्रत्युत्तर में जिस प्रकार का इन्होंने आगे झुकता का माहौल पैदा किया था इनके सामने इंतजाम लीडरों ने राष्ट्रीय ध्वज का अपमान किया था किस प्रकार तोड़फोड़ की इस प्रकार लाल किले में घुसकर के 9 राज्य संपत्ति को नुकसान पहुंचाया यदि उसके प्रत्युत्तर में पुलिस ने यदि कार्रवाई की होती तो आज देश का वीडियो देश के विरोधी पत्रकार देश के विरोधी राजनीतिक पार्टियां आज चिल्ला चिल्ला कर के कहती कि किसानों पर अत्याचार हो रहे हैं किसानों को जुल्म ढाए जा रहे हैं किसानों को इसका लाठीचार्ज किया गया है किसानों को इस प्रकार 12 गया है यह तो मैं सोच रहा हूं शायद वह भारत के विभिन्न लज्जा कारी होता लेकिन भारत उस दिन जो सरकार ने संयम बरता उस दिन जो दिल्ली पुलिस ने सेंड किया उनकी सहनशीलता धन्यवाद के लायक है उनका संयम धन्यवाद के लायक है कि उन्होंने भारत माता को लज्जित होने से बचा लिया वरना किसानों ने जो गंदा माहौल पैदा किया उपद्रव किया बलवा किया जो राष्ट्रद्रोह इ कार्य किए जो तोड़फोड़ की जो मारपीट की जो लाठी तलवारों हथियारों का खुलेआम प्रदर्शन किया वह वास्तव में ही बहुत ही निंदनीय शर्मनाक गणित है और पुलिस की सहनशीलता धन्यवाद के लायक है सराहनीय रही है उचित रही है पर हां अब पुलिस वालों को 29 लीटर स्कोर अपना पुलिस वाला अंदाज दिखाना चाहिए पुलिस वाला रोल दिखाना चाहिए व्हाट इज गूगल माई की यह उस दिन इतनी भयंकर षड्यंत्र में कौन-कौन लोग शामिल थे और उनकी क्या-क्या योजनाएं थी यह देश को तोड़ने के लिए देश को विभाजित करने के लिए इनकी क्या-क्या योजनाएं थी वह सब इनसे निकलवा लेना चाहिए
Namak aur galat post kar rahe hain us din dillee pulis ka jo sahanasheelata thee atyant saraahaneey rahee hai dillee pulis ne is prakaar se in kisaanon netaon ke dvaara utpann kee aaryasta ko send kiya upapramukh ko send kiya inake dvaara kee gaee maarapeet ko send kiya tumako shaayad gyaat nahin hai ki 350 pulis vaale ko inhonne dande laathee aadi ke dvaara maarapeet karake ghaayal kar diya hai yah desh ka meediya print meediya bata raha hai akhabaar bata rahe hain aap ne pulis kee gundaagardee ko likha pulis ne gundaagardee rol kiya nahin tha yadi aap ne pratyuttar mein jis prakaar ka inhonne aage jhukata ka maahaul paida kiya tha inake saamane intajaam leedaron ne raashtreey dhvaj ka apamaan kiya tha kis prakaar todaphod kee is prakaar laal kile mein ghusakar ke 9 raajy sampatti ko nukasaan pahunchaaya yadi usake pratyuttar mein pulis ne yadi kaarravaee kee hotee to aaj desh ka veediyo desh ke virodhee patrakaar desh ke virodhee raajaneetik paartiyaan aaj chilla chilla kar ke kahatee ki kisaanon par atyaachaar ho rahe hain kisaanon ko julm dhae ja rahe hain kisaanon ko isaka laatheechaarj kiya gaya hai kisaanon ko is prakaar 12 gaya hai yah to main soch raha hoon shaayad vah bhaarat ke vibhinn lajja kaaree hota lekin bhaarat us din jo sarakaar ne sanyam barata us din jo dillee pulis ne send kiya unakee sahanasheelata dhanyavaad ke laayak hai unaka sanyam dhanyavaad ke laayak hai ki unhonne bhaarat maata ko lajjit hone se bacha liya varana kisaanon ne jo ganda maahaul paida kiya upadrav kiya balava kiya jo raashtradroh i kaary kie jo todaphod kee jo maarapeet kee jo laathee talavaaron hathiyaaron ka khuleaam pradarshan kiya vah vaastav mein hee bahut hee nindaneey sharmanaak ganit hai aur pulis kee sahanasheelata dhanyavaad ke laayak hai saraahaneey rahee hai uchit rahee hai par haan ab pulis vaalon ko 29 leetar skor apana pulis vaala andaaj dikhaana chaahie pulis vaala rol dikhaana chaahie vhaat ij googal maee kee yah us din itanee bhayankar shadyantr mein kaun-kaun log shaamil the aur unakee kya-kya yojanaen thee yah desh ko todane ke lie desh ko vibhaajit karane ke lie inakee kya-kya yojanaen thee vah sab inase nikalava lena chaahie

और जवाब सुनें

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:48
देखिए यह पुलिस और किसानों के साथ जो गुंडागर्दी हुई है ऊपरी प्लांट है जब जो रूट उनको दिया गया था वह सबूत पर जब बाधा पहुंचाकर को छोरो दिया गया और उनको जानबूझकर के लालकिले तक जाने का रास्ता खोल दिया क्या इसका मतलब है उसको सरकार भी दोषी है यह बात को गंभीरता से विचार किया जाए कि हमारा अन्नदाता किसानों वैसे भी कमजोर है वह इश्क उसके पास इतनी बुद्धि नहीं है क्यों लाल किले पर चढ़कर उसमें सांप्रदायिक ताकतों झंडा फैला ले और ना ही वह मारपीट कर सकता है क्योंकि वह जब इस तरह रेवाड़ी में भूखों क्या सोमवार करके कल सब के साथ उस पर सही हो चुका है पूजा करके लाल किले पर जाकर किस तरह से अराजकता नहीं फैला सकते इसमें जरूरी आज तत्वों का हाथ है और जिसमें सरकार की पूरी सहमति रही है
Dekhie yah pulis aur kisaanon ke saath jo gundaagardee huee hai ooparee plaant hai jab jo root unako diya gaya tha vah saboot par jab baadha pahunchaakar ko chhoro diya gaya aur unako jaanaboojhakar ke laalakile tak jaane ka raasta khol diya kya isaka matalab hai usako sarakaar bhee doshee hai yah baat ko gambheerata se vichaar kiya jae ki hamaara annadaata kisaanon vaise bhee kamajor hai vah ishk usake paas itanee buddhi nahin hai kyon laal kile par chadhakar usamen saampradaayik taakaton jhanda phaila le aur na hee vah maarapeet kar sakata hai kyonki vah jab is tarah revaadee mein bhookhon kya somavaar karake kal sab ke saath us par sahee ho chuka hai pooja karake laal kile par jaakar kis tarah se araajakata nahin phaila sakate isamen jarooree aaj tatvon ka haath hai aur jisamen sarakaar kee pooree sahamati rahee hai

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:50
आपका सवाल है कि दिल्ली में किसानों ने जल में हुई पुलिस की गुंडागर्दी को अब कैसे देखते हैं तो मेरे ख्याल से 26 जनवरी को अगर पुलिस ने गुंडागर्दी की होती है तो खालसा का झंडा लाल किले पर नहीं ठहराया जा सकता है प्लीज शांति से काम ले ले रही थी इसी का फायदा उठाकर किशन लाल किले पर चढ़ गए और हमारे राष्ट्रीय ध्वज का अपमान करने लगे फिर भी आप अगर पुलिस वालों को गुंडा बोल रहे हैं तो आपको शर्म आनी चाहिए क्योंकि बहुत से पुलिसकर्मी घायल हुए हैं क्योंकि वह संविधान से बंधे हुए थे नहीं गुंडागर्दी पर आ जाते तो एक भी किसान लालकिले तक नहीं पहुंच पाता
Aapaka savaal hai ki dillee mein kisaanon ne jal mein huee pulis kee gundaagardee ko ab kaise dekhate hain to mere khyaal se 26 janavaree ko agar pulis ne gundaagardee kee hotee hai to khaalasa ka jhanda laal kile par nahin thaharaaya ja sakata hai pleej shaanti se kaam le le rahee thee isee ka phaayada uthaakar kishan laal kile par chadh gae aur hamaare raashtreey dhvaj ka apamaan karane lage phir bhee aap agar pulis vaalon ko gunda bol rahe hain to aapako sharm aanee chaahie kyonki bahut se pulisakarmee ghaayal hue hain kyonki vah sanvidhaan se bandhe hue the nahin gundaagardee par aa jaate to ek bhee kisaan laalakile tak nahin pahunch paata

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard