#undefined

bolkar speaker

पैरों में चांदी के आभूषण क्यों पहने जाते हैं सोने के क्यों नहीं?

Pairon Mein Chandi Ke Abhusan Kyun Pehne Jate Hain Sone Ke Kyun Nahin
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
Unknown
0:34
सवाल ही पैरों में चांदी के आभूषण क्यों पहने जाते हैं सोने के क्यों नहीं देखिए पैरों में सोने के आभूषण नहीं पहनने चाहिए सोने के आभूषण शरीर को गर्म रखते जबकि चांदी शीतलता प्रदान करती है इसलिए चांदी के आभूषण शरीर को ठंडक प्रदान करते हैं ठंडा रखते हैं इसके अलावा चांदी की अपेक्षा सोना कमजोर धातु है जो जल्दी टूट जाता है इसलिए भी पैरों में सोने के आभूषण नहीं पहने जाते हैं धन्यवाद
Savaal hee pairon mein chaandee ke aabhooshan kyon pahane jaate hain sone ke kyon nahin dekhie pairon mein sone ke aabhooshan nahin pahanane chaahie sone ke aabhooshan shareer ko garm rakhate jabaki chaandee sheetalata pradaan karatee hai isalie chaandee ke aabhooshan shareer ko thandak pradaan karate hain thanda rakhate hain isake alaava chaandee kee apeksha sona kamajor dhaatu hai jo jaldee toot jaata hai isalie bhee pairon mein sone ke aabhooshan nahin pahane jaate hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
पैरों में चांदी के आभूषण क्यों पहने जाते हैं सोने के क्यों नहीं?Pairon Mein Chandi Ke Abhusan Kyun Pehne Jate Hain Sone Ke Kyun Nahin
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:18
आपका सवाल है कि पैरों में चांदी के आभूषण क्यों पहने जाते हैं सोने की क्यों नहीं तो सोना पहनते हैं तो वह गर्मी प्रदान करते हैं और चांदी पहनते हैं वह शीतलता प्रदान करते हैं इसलिए लोग सोनू के छोड़कर चांदी को अपने पैरों में पहनते हैं
Aapaka savaal hai ki pairon mein chaandee ke aabhooshan kyon pahane jaate hain sone kee kyon nahin to sona pahanate hain to vah garmee pradaan karate hain aur chaandee pahanate hain vah sheetalata pradaan karate hain isalie log sonoo ke chhodakar chaandee ko apane pairon mein pahanate hain

bolkar speaker
पैरों में चांदी के आभूषण क्यों पहने जाते हैं सोने के क्यों नहीं?Pairon Mein Chandi Ke Abhusan Kyun Pehne Jate Hain Sone Ke Kyun Nahin
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:24
सवाल है कि पैरों में चांदी के आभूषण क्यों पहने चाहिए सोने के क्यों नहीं सोने के आभूषण शरीर को गर्म रखते हैं जबकि चांदी शीतलता प्रदान करती है इसलिए चांदी का भूषण शरीर को ठंडा रखने का काम करते हैं इस प्रकार कमर के ऊपर सोना और कमर के नीचे चांदी पहनने से शरीर का तापमान संतुलित बना रहता है जिससे कई बीमारियों से छुटकारा मिलता है आभूषण पहनने से उठ जाओ फिर से पैरों की तरफ और पैरों से सिर की तरफ फ्लोर होती है वहीं अगर सिर और पाव दोनों में गोल्ड सरी पहन ली जाए तो इससे शरीर में एक समान ऊर्जा का लोगों का इससे शरीर को नुकसान पहुंच सकता है और कई बीमारियां भी हो सकती है ज्योतिषशास्त्र की बात करें तो पावर टांग पर जॉइंट जिसमें पायल पहनी जाती है केतु का स्थान होता है अगर कि तुम्हें शीतला नहीं हूं तुम्हें हमेशा नकारात्मक सोच के साथ क्लेश वाली बात ही करेगा इसलिए सहन शक्ति बढ़ाने के लिए चांदी की पायल पहनना सबसे ज्यादा जरूरी है धार्मिक मान्यता अनुसार भगवान विष्णु को सोना अत्यंत प्रिय है क्योंकि सोने लक्ष्मी जी का स्वरूप होता है इसलिए सोने को शरीर के निचले हिस्से में जैसे पैरों में पायल बिछिया पहनना भगवान विष्णु सहित समस्त देवताओं का अपमान होता है महिलाओं को यदि पैरों की हड्डियों में दर्द समझते हैं तो फिर चांदी की पायल पहन सकती हैं क्योंकि पायल पैरों में रगड़ कर हड्डियों और जोड़ों में दर्द में राहत दिलाती है
Savaal hai ki pairon mein chaandee ke aabhooshan kyon pahane chaahie sone ke kyon nahin sone ke aabhooshan shareer ko garm rakhate hain jabaki chaandee sheetalata pradaan karatee hai isalie chaandee ka bhooshan shareer ko thanda rakhane ka kaam karate hain is prakaar kamar ke oopar sona aur kamar ke neeche chaandee pahanane se shareer ka taapamaan santulit bana rahata hai jisase kaee beemaariyon se chhutakaara milata hai aabhooshan pahanane se uth jao phir se pairon kee taraph aur pairon se sir kee taraph phlor hotee hai vaheen agar sir aur paav donon mein gold saree pahan lee jae to isase shareer mein ek samaan oorja ka logon ka isase shareer ko nukasaan pahunch sakata hai aur kaee beemaariyaan bhee ho sakatee hai jyotishashaastr kee baat karen to paavar taang par joint jisamen paayal pahanee jaatee hai ketu ka sthaan hota hai agar ki tumhen sheetala nahin hoon tumhen hamesha nakaaraatmak soch ke saath klesh vaalee baat hee karega isalie sahan shakti badhaane ke lie chaandee kee paayal pahanana sabase jyaada jarooree hai dhaarmik maanyata anusaar bhagavaan vishnu ko sona atyant priy hai kyonki sone lakshmee jee ka svaroop hota hai isalie sone ko shareer ke nichale hisse mein jaise pairon mein paayal bichhiya pahanana bhagavaan vishnu sahit samast devataon ka apamaan hota hai mahilaon ko yadi pairon kee haddiyon mein dard samajhate hain to phir chaandee kee paayal pahan sakatee hain kyonki paayal pairon mein ragad kar haddiyon aur jodon mein dard mein raahat dilaatee hai

bolkar speaker
पैरों में चांदी के आभूषण क्यों पहने जाते हैं सोने के क्यों नहीं?Pairon Mein Chandi Ke Abhusan Kyun Pehne Jate Hain Sone Ke Kyun Nahin
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:53
यह मान्यता है कि सोना और चांदी दोनों बहुमूल्य धातुओं में है लेकिन सोना को हमेशा सिर पर मुकुट के रूप में इस्तेमाल किया गया है और चांदी को सिंहासन के रूप में और नीचे कमर के नीचे की स्थिति पैदा की इसलिए कमर में करधनी चांदी की पहनी जाती थी पाजेब चांदी की पहनी जाती थी जहाज है यह सब चीजों को चांदी का पहना जाता था और कमर के ऊपर जितना भी जैसे बाजूबंद है कान के हैं ना कहे को सख्त होने का पहनना चाहिए पूरी पुरानी परंपरा चली आ रही है कि सोना जो है चांदी से ज्यादा कीमती है इसलिए उसको ऊपर शरीर के ऊपर का दर्जा दिया गया क्योंकि राजा लोगों को हमेशा सोने का ही लगाते थे देवताओं में भी मुकुट सोने का ही लगाएगा था और यहां तक कि उसमें और कीमती चीज हीरे मानिक मोती वगैरह का भी प्रयोग किया जाता था इसलिए शादी और सोनू की शादी कब होती है सोने का मुकाबला इसलिए उसको पैरों में पहनने के लिए लोगों ने प्रचार किया
Yah maanyata hai ki sona aur chaandee donon bahumooly dhaatuon mein hai lekin sona ko hamesha sir par mukut ke roop mein istemaal kiya gaya hai aur chaandee ko sinhaasan ke roop mein aur neeche kamar ke neeche kee sthiti paida kee isalie kamar mein karadhanee chaandee kee pahanee jaatee thee paajeb chaandee kee pahanee jaatee thee jahaaj hai yah sab cheejon ko chaandee ka pahana jaata tha aur kamar ke oopar jitana bhee jaise baajooband hai kaan ke hain na kahe ko sakht hone ka pahanana chaahie pooree puraanee parampara chalee aa rahee hai ki sona jo hai chaandee se jyaada keematee hai isalie usako oopar shareer ke oopar ka darja diya gaya kyonki raaja logon ko hamesha sone ka hee lagaate the devataon mein bhee mukut sone ka hee lagaega tha aur yahaan tak ki usamen aur keematee cheej heere maanik motee vagairah ka bhee prayog kiya jaata tha isalie shaadee aur sonoo kee shaadee kab hotee hai sone ka mukaabala isalie usako pairon mein pahanane ke lie logon ne prachaar kiya

bolkar speaker
पैरों में चांदी के आभूषण क्यों पहने जाते हैं सोने के क्यों नहीं?Pairon Mein Chandi Ke Abhusan Kyun Pehne Jate Hain Sone Ke Kyun Nahin
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:36
वाले के पैरों में चांदी के आभूषण क्यों पहने जाते हैं सोने के क्यों नहीं तो देखे सोने को माना जाता है पूजनीय जी हां जितने भी देवी देवता होते हैं उन पर सोने के आभूषण आपने हमेशा से देखे हैं सोने हैं ऐसी मान्यता है कि सोने को जो है ईश्वर पर चढ़ाया जाता है और सोने को ही पूजा भी जाता है कुबेर भगवान के बारे में लक्ष्मी माता की बात कर ले तो हमेशा सोने की ही बात पहले आती है तो ऐसे में जब सोने को पूजा जाता है तो जिस चीज को हम पूछते हैं उसे कभी भी पैरों में नहीं डाला जाता है और यही कारण है कि सोने को पैरों में नहीं पहना जाता है आपका दिन शुभ है धन्यवाद
Vaale ke pairon mein chaandee ke aabhooshan kyon pahane jaate hain sone ke kyon nahin to dekhe sone ko maana jaata hai poojaneey jee haan jitane bhee devee devata hote hain un par sone ke aabhooshan aapane hamesha se dekhe hain sone hain aisee maanyata hai ki sone ko jo hai eeshvar par chadhaaya jaata hai aur sone ko hee pooja bhee jaata hai kuber bhagavaan ke baare mein lakshmee maata kee baat kar le to hamesha sone kee hee baat pahale aatee hai to aise mein jab sone ko pooja jaata hai to jis cheej ko ham poochhate hain use kabhee bhee pairon mein nahin daala jaata hai aur yahee kaaran hai ki sone ko pairon mein nahin pahana jaata hai aapaka din shubh hai dhanyavaad

bolkar speaker
पैरों में चांदी के आभूषण क्यों पहने जाते हैं सोने के क्यों नहीं?Pairon Mein Chandi Ke Abhusan Kyun Pehne Jate Hain Sone Ke Kyun Nahin
Usha Gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Usha जी का जवाब
Housewife
1:49
नमस्ते पीछे गए कि पैरों में चांदी के आभूषण क्यों पहने जाते हैं और सोने की क्यों नहीं अवश्य ज्वेलरी पहनना हिंदू परंपरा का एक अहम हिस्सा है शादी हो या फिर कोई दूसरा आपसे जल्दी पानी का अपना एक अलग महत्व होता है दुल्हन की खूबसूरती में चार चांद लगाने और उसे संवारने का काम गए नहीं करनी है शादीशुदा महिलाएं पैरों में बिछिया और पायल पहन के आमतौर पर महिलाएं सोने के गहने पहनना पसंद करती है लेकिन पैरों की पायल हो या बिछिया हमेशा चांदी ही पहनी जाती है वैसे आभूषण पाने का कारण महिलाओं की सुंदरता को बढ़ाता है लेकिन हमारे पारंपरिक और प्रथाओं के पीछे अन्य कारणों को दिखा जा सकता है हिंदू मान्यता के अनुसार कमर के नीचे सोने के आभूषण कभी नहीं पड़नी चाहिए इसे मान्यता को आगे बढ़ाते हुए आपने अक्सर घर के बुजुर्गों को यह कहते सुना होगा कि पैरों में पायल हो और बिछिया सोनी के ना होने चाहिए आइए जानते हैं कि क्या कारण है कि पैरों में सोने के आभूषण नहीं पड़नी चाहिए सोने के आभूषण शरीर को गर्म रखते हैं जबकि चांदी शीतलता प्रदान करती इसलिए चांदी के आभूषण शरीर को ठंडा रखने का काम करता है इस प्रकार कमर के ऊपर सोना और कमर से नीचे चांदी पहनने से शरीर का तापमान शालू संतुलित बनता है बनता रहता है जिससे कई बीमारियों से छुटकारा मिलती आभूषण पाने से उड़ जा फिर से पैरों की तरफ और पैरों से सिर की तरफ फ्लोर कर तू होती है वहीं अगर सिर और पैर दोनों में ही गोल्ड ज्वेलरी पहन ली जाए तो इससे शरीर में एक समान ऊर्जा का फ्लोर होगा इससे शरीर को नुकसान पहुंच सकता है और कई बीमारियां भी हो सकती है धन्यवाद
Namaste peechhe gae ki pairon mein chaandee ke aabhooshan kyon pahane jaate hain aur sone kee kyon nahin avashy jvelaree pahanana hindoo parampara ka ek aham hissa hai shaadee ho ya phir koee doosara aapase jaldee paanee ka apana ek alag mahatv hota hai dulhan kee khoobasooratee mein chaar chaand lagaane aur use sanvaarane ka kaam gae nahin karanee hai shaadeeshuda mahilaen pairon mein bichhiya aur paayal pahan ke aamataur par mahilaen sone ke gahane pahanana pasand karatee hai lekin pairon kee paayal ho ya bichhiya hamesha chaandee hee pahanee jaatee hai vaise aabhooshan paane ka kaaran mahilaon kee sundarata ko badhaata hai lekin hamaare paaramparik aur prathaon ke peechhe any kaaranon ko dikha ja sakata hai hindoo maanyata ke anusaar kamar ke neeche sone ke aabhooshan kabhee nahin padanee chaahie ise maanyata ko aage badhaate hue aapane aksar ghar ke bujurgon ko yah kahate suna hoga ki pairon mein paayal ho aur bichhiya sonee ke na hone chaahie aaie jaanate hain ki kya kaaran hai ki pairon mein sone ke aabhooshan nahin padanee chaahie sone ke aabhooshan shareer ko garm rakhate hain jabaki chaandee sheetalata pradaan karatee isalie chaandee ke aabhooshan shareer ko thanda rakhane ka kaam karata hai is prakaar kamar ke oopar sona aur kamar se neeche chaandee pahanane se shareer ka taapamaan shaaloo santulit banata hai banata rahata hai jisase kaee beemaariyon se chhutakaara milatee aabhooshan paane se ud ja phir se pairon kee taraph aur pairon se sir kee taraph phlor kar too hotee hai vaheen agar sir aur pair donon mein hee gold jvelaree pahan lee jae to isase shareer mein ek samaan oorja ka phlor hoga isase shareer ko nukasaan pahunch sakata hai aur kaee beemaariyaan bhee ho sakatee hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • पैरों में चांदी के आभूषण क्यों पहने जाते हैं सोने के क्यों नहीं पैरों में चांदी के आभूषण क्यों पहने जाते हैं
URL copied to clipboard