#भारत की राजनीति

bolkar speaker

लाल किले पर किसानों की बात न मान कर सरकार ने लोकतंत्र को आज जख्मी किया है क्या आप मुझ से सहमत है?

Laal Kile Par Kisaanon Kee Baat Na Maan Kar Sarakaar Ne Lokatantr Ko Aaj Jakhmee Kiya Hai Kya Aap Mujh Se Sahamat Hai
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:47
की बात सही है सरकार ने किसानों की कोई भी मांगे नहीं मानी और पुलिस ने किसानों को रोकने के लिए ऐसे कटीले तार लगाए जिन्हें किसान खेतों में जानवरों से बचाने के लिए भी नहीं लगाते जिनमें अगर कोई जानवर पास जाए ना तो उसकी मौत हो जाती है पुलिस किसानों पर आंसू गोले छोड़ रही है किसके सहारे पर अमित शाह के सारे पर तो यह एक तरह से लोकतंत्र की हत्या के सामान्य किसानों को आंदोलन करने से रोका जा रहा है उन पर लाठीचार्ज किया जा रहा है उन पर राजद्रोह का केस दर्ज किया जा रहा है जबकि उनका अधिकार बनता है धन्यवाद
Kee baat sahee hai sarakaar ne kisaanon kee koee bhee maange nahin maanee aur pulis ne kisaanon ko rokane ke lie aise kateele taar lagae jinhen kisaan kheton mein jaanavaron se bachaane ke lie bhee nahin lagaate jinamen agar koee jaanavar paas jae na to usakee maut ho jaatee hai pulis kisaanon par aansoo gole chhod rahee hai kisake sahaare par amit shaah ke saare par to yah ek tarah se lokatantr kee hatya ke saamaany kisaanon ko aandolan karane se roka ja raha hai un par laatheechaarj kiya ja raha hai un par raajadroh ka kes darj kiya ja raha hai jabaki unaka adhikaar banata hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
लाल किले पर किसानों की बात न मान कर सरकार ने लोकतंत्र को आज जख्मी किया है क्या आप मुझ से सहमत है?Laal Kile Par Kisaanon Kee Baat Na Maan Kar Sarakaar Ne Lokatantr Ko Aaj Jakhmee Kiya Hai Kya Aap Mujh Se Sahamat Hai
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
4:53
मेरे विचार से मैं ही नहीं अपितु कोई भी देशभक्त भारतीय आपकी बात से सहमत नहीं होगा कि लाल किले पर उस दिन जो किसानों ने यह किसान लीडर्स ने जो राष्ट्रध्वज के साथ अपमान पूर्ण बीएफ किया है वह नितांशी अनुचित गणित निंदनीय और शर्मनाक था कोई भी देशवासी यह नहीं चाहेगा उस राष्ट्र ध्वज का अपमान हो जिस राष्ट्र ध्वज की गरिमा रखने के लिए अमर शहीदों ने अपने जीवन कुर्बान कर दिए नेताओं ने कितनी अंग्रेजों की यात्राओं को सेंड किया और जिस राष्ट्रध्वज की गरिमा की रक्षा करने के लिए नित रोज ही भारतीय सैनिक सीमाओं पर अपनी जान कुर्बान करते हैं जिस भारत माता की लाज बचाने के लिए जो भारतीय सैनिक कुर्बानियां देते हैं जुटती ठंड को सेंड कर रहे हैं जो राष्ट्रध्वज की शान बान की रक्षा करने के लिए मित्र भारतीय जन अपना सब कुछ दांव पर लगा कर के भी इस राष्ट्र ध्वज की गरिमा को बनाए रखते हैं उसी राष्ट्रध्वज का अपमान करके किसानों ने सारे भारतवासियों का अपमान किया भारत देश के संविधान का अपमान किया और भारत देश की गरिमा को धज्जियां उड़ा दी बहुत ही घृणित नंदनी अनुच्छेद और शर्मनाक प्रदर्शन था उस रब का इशारा जताका मैं सोच रहा हूं शायद भारत में आज कोई भी समर्थन नहीं करेगा क्योंकि यदि उस दिन किसानों ने जो अराजकता का माहौल किया 15 किया जो मारकाट की जो खुलेआम राठी डंडे तलवार आदि का प्रदर्शन किया यद्यपि उस में किसान लीडर्स का दोस्त था कि साल रीडर्स का षड्यंत्र था किसान लेटेस्ट देश विरोधी भावनाएं थी देश को विभाजित करने वाली नीतियां कि देश के दुश्मनों को प्रसन्न करने वाली देश के दुश्मनों के इशारों पर काम करने वाली देश को विभाजित करने वाली उनके को कार्य थे उनके कारण से आज भारतीय किसानों से पूरा देश ही नाराज है पूरे दोस्त देश के कोप का भाजन है प्रत्येक देशभक्त नागरिक देश को चाहने वाला नागरिक आज किसानों को सम्मान की दृष्टि से नहीं देख रहा है जिस किसान को भारतवासी आदर्श अन्नदाता के तिथि सम्मानित उपाधि दी थी हुई थी किसानों ने स्वयं अपनी कृतियों के द्वारा किसान लीडर के बहकावे में आकर कि देश विरोधी कार्य करके राष्ट्रध्वज का अपमान करके दिल्ली में मारकाट करके दिल्ली में अराजकता का माहौल पैदा करके अपने आप के प्रति किसानों के प्रति घृणा पैदा कर ली है उसका किसान लीडर जिम्मेदार हैं किसान लेटेस्ट लेटेस्ट जो 37 भारत सरकार ने छोटे हैं किसानों का उचित दायित्व था कि इन 37 मीटर को भी अपने आंदोलन से पृथक करते तो आज भारत देश की जनता किसानों के समर्थन में खड़ी होती और मैं सोच रहा हूं शायद 26 जनवरी 2021 से पहले भारत देश में चारों ओर यह बाजोट रही थी कि किसानों की जायज मांगों को माना जाए किसानों की जायज मांगों को पूरा किया जाए किसान को अन्नदाता है वह इतने दिन से परेशान हैं दिल्ली में धरना देकर बैठे हैं सरकार पर पोस्ट डाल रही थी सरकार को पर पेज बन रहा था लेकिन किसानों ने अपने किए धरे पर सब पर पानी फेर लिया किसानों ने अपने आप को देशद्रोही साबित कर लिया किसानों ने अपने आप को देश विरोधी साबित कर लिया क्योंकि इनको देश विभाजन करने वाले अराजक असामाजिक तत्वों को अपने आप अस्थान नहीं देना चाहिए था अपने आंदोलन से पृथक करना चाहिए था उनका नैतिक कार्य था लेकिन कहते हैं ना कि कभी-कभी आदमी अभी भी के कारण से क्रोध के वशीभूत होकर के अपने सफर के धरे पर पानी फेर लेता है वही किसानों ने किया आज किसानों के नाम से बच्चे देशभक्त नागरिक प्रत्येक भारतीय जन गणना करता है बहुत ही शर्मनाक प्रदर्शन था और राष्ट्र ध्वज का अपमान तो कोई भी भारतीय सहन नहीं कर सकेगा
Mere vichaar se main hee nahin apitu koee bhee deshabhakt bhaarateey aapakee baat se sahamat nahin hoga ki laal kile par us din jo kisaanon ne yah kisaan leedars ne jo raashtradhvaj ke saath apamaan poorn beeeph kiya hai vah nitaanshee anuchit ganit nindaneey aur sharmanaak tha koee bhee deshavaasee yah nahin chaahega us raashtr dhvaj ka apamaan ho jis raashtr dhvaj kee garima rakhane ke lie amar shaheedon ne apane jeevan kurbaan kar die netaon ne kitanee angrejon kee yaatraon ko send kiya aur jis raashtradhvaj kee garima kee raksha karane ke lie nit roj hee bhaarateey sainik seemaon par apanee jaan kurbaan karate hain jis bhaarat maata kee laaj bachaane ke lie jo bhaarateey sainik kurbaaniyaan dete hain jutatee thand ko send kar rahe hain jo raashtradhvaj kee shaan baan kee raksha karane ke lie mitr bhaarateey jan apana sab kuchh daanv par laga kar ke bhee is raashtr dhvaj kee garima ko banae rakhate hain usee raashtradhvaj ka apamaan karake kisaanon ne saare bhaaratavaasiyon ka apamaan kiya bhaarat desh ke sanvidhaan ka apamaan kiya aur bhaarat desh kee garima ko dhajjiyaan uda dee bahut hee ghrnit nandanee anuchchhed aur sharmanaak pradarshan tha us rab ka ishaara jataaka main soch raha hoon shaayad bhaarat mein aaj koee bhee samarthan nahin karega kyonki yadi us din kisaanon ne jo araajakata ka maahaul kiya 15 kiya jo maarakaat kee jo khuleaam raathee dande talavaar aadi ka pradarshan kiya yadyapi us mein kisaan leedars ka dost tha ki saal reedars ka shadyantr tha kisaan letest desh virodhee bhaavanaen thee desh ko vibhaajit karane vaalee neetiyaan ki desh ke dushmanon ko prasann karane vaalee desh ke dushmanon ke ishaaron par kaam karane vaalee desh ko vibhaajit karane vaalee unake ko kaary the unake kaaran se aaj bhaarateey kisaanon se poora desh hee naaraaj hai poore dost desh ke kop ka bhaajan hai pratyek deshabhakt naagarik desh ko chaahane vaala naagarik aaj kisaanon ko sammaan kee drshti se nahin dekh raha hai jis kisaan ko bhaaratavaasee aadarsh annadaata ke tithi sammaanit upaadhi dee thee huee thee kisaanon ne svayan apanee krtiyon ke dvaara kisaan leedar ke bahakaave mein aakar ki desh virodhee kaary karake raashtradhvaj ka apamaan karake dillee mein maarakaat karake dillee mein araajakata ka maahaul paida karake apane aap ke prati kisaanon ke prati ghrna paida kar lee hai usaka kisaan leedar jimmedaar hain kisaan letest letest jo 37 bhaarat sarakaar ne chhote hain kisaanon ka uchit daayitv tha ki in 37 meetar ko bhee apane aandolan se prthak karate to aaj bhaarat desh kee janata kisaanon ke samarthan mein khadee hotee aur main soch raha hoon shaayad 26 janavaree 2021 se pahale bhaarat desh mein chaaron or yah baajot rahee thee ki kisaanon kee jaayaj maangon ko maana jae kisaanon kee jaayaj maangon ko poora kiya jae kisaan ko annadaata hai vah itane din se pareshaan hain dillee mein dharana dekar baithe hain sarakaar par post daal rahee thee sarakaar ko par pej ban raha tha lekin kisaanon ne apane kie dhare par sab par paanee pher liya kisaanon ne apane aap ko deshadrohee saabit kar liya kisaanon ne apane aap ko desh virodhee saabit kar liya kyonki inako desh vibhaajan karane vaale araajak asaamaajik tatvon ko apane aap asthaan nahin dena chaahie tha apane aandolan se prthak karana chaahie tha unaka naitik kaary tha lekin kahate hain na ki kabhee-kabhee aadamee abhee bhee ke kaaran se krodh ke vasheebhoot hokar ke apane saphar ke dhare par paanee pher leta hai vahee kisaanon ne kiya aaj kisaanon ke naam se bachche deshabhakt naagarik pratyek bhaarateey jan ganana karata hai bahut hee sharmanaak pradarshan tha aur raashtr dhvaj ka apamaan to koee bhee bhaarateey sahan nahin kar sakega

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard