#भारत की राजनीति

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
3:36
30 जनवरी को जो किसान नेताओं ने किया है वह देश को बहुत शर्मिंदा करने वाला है देश के लिए हर देशभक्त नागरिक के लिए बहुत ही घृणित बहुत ही चली करने वाला है क्योंकि राष्ट्र ध्वज का अपमान कोई भी देशभक्त कोई भी भारतीय नागरिक बर्दाश्त नहीं करेगा यह वही राष्ट्रध्वज है जिस की आन बान शान के लिए अमर शहीदों ने अपने प्राण दे दिए यह वही राष्ट्रध्वज है जिसके लिए हमारे देश के सैनिक नित रोज अपनी कुर्बानियां देते हैं और किसी राष्ट्र ध्वज का अपमान किया गया इसको कोई भी देश का नागरिक कभी भी सहन नहीं कर सकता है कभी भी इसके लिए प्रशंसा नहीं कर सकता है यह लगता है कि जो जो किसानों के ट्रैक्टर रैली निकाली थी उसके अंतर्गत इन्होंने जो परमिशन ली थी जिन नेताओं ने उन सब नेताओं को उसका जिम्मेदार मान करके क्यों किस का नेतृत्व करने वाली जो देता है वह उसके पूरे जिम्मेदार हैं यह निश्चित रूप से जो पहले कहा जा रहा था वह सही है कि वास्तव में इस किसान रैली के दूध के साथ ही नहीं औरतों के साथ विपक्ष के राजनीतिज्ञ थे या वे लोग थे जो देश को विभाजित करना चाहते हैं या वे लोग थे जो बीजेपी से अगले थे बीजेपी का अपमान करते से कोई मतलब नहीं है लेकिन राष्ट्रध्वज का अपमान नहीं होना चाहिए था बीजेपी और कांग्रेस वाले ही आपस में लड़ते हैं सोमवार लड़ें कुछ भी करें लेकिन जब राष्ट्र की कृपा का सवाल है और प्रत्येक देश का नागरिक इस बात को कदापि सहन नहीं करेगा और बहुत ही निंदनीय है शर्मनाक है पीड़ित है एक भी किसान नेता वीरगति को प्राप्त नहीं हुआ अभी तो इन लोगों ने जो किया है वो किसानों के नाम पर बहुत बड़ा दाग है एक देशभक्त नागरिक किसानों से व्यक्त करेगा अब यह किसान के पल्ला झाड़ रहे हैं किसान नेता कि हम नहीं नहीं किया यह तो फिर आखिर क्या किसने आपके संगठन में ऐसे उपद्रवी तत्व शामिल थे ऐसे लोग जो देश को विभाजित करना चाहते थे उन लोगों का साथ लोगों को अपने रैली में जा सकती थी क्योंकि आप तो वहां पर पुलिस में इसकी 36 शब्दों के साथ में स्थित रैली की अनुमति लेकर के आए थे इसलिए मेरे विचार से इन पर संगीन केस चलना चाहिए देशद्रोह का केस चलना चाहिए क्योंकि राष्ट्र की गरिमा को राष्ट्र की अस्मिता को इन्होंने चोट पहुंचाने का प्रयास किया है इस बात को कदापि किसी को भी दौरा निर्विचार से इसकी सराहना नहीं की जाएगी जिस जिस किसान को प्रत्येक देशवासी अन्नदाता कहकर के सम्मानित करता है आज उन्हीं किसानों ने उन्हीं किसानों ने इन ऐसे देश के विरोध करने वाले देश के टुकड़े चाहने वाले देश को बर्बादी चाहने वाले लोगों शादी करके किसान नाम पर इन्होंने अन्नदाता नाम पर जो दाग लगाया है जो एक किसान के लिए शर्मिंदगी का कारण होना चाहिए आज आपकी कोई भी देशभक्त इन किसानों के नाम से ही नफरत करता है क्योंकि यह किसान नहीं यह तो देश के विभाजन चाहने वाले देश को बर्बाद करने वाले लोग हैं
30 janavaree ko jo kisaan netaon ne kiya hai vah desh ko bahut sharminda karane vaala hai desh ke lie har deshabhakt naagarik ke lie bahut hee ghrnit bahut hee chalee karane vaala hai kyonki raashtr dhvaj ka apamaan koee bhee deshabhakt koee bhee bhaarateey naagarik bardaasht nahin karega yah vahee raashtradhvaj hai jis kee aan baan shaan ke lie amar shaheedon ne apane praan de die yah vahee raashtradhvaj hai jisake lie hamaare desh ke sainik nit roj apanee kurbaaniyaan dete hain aur kisee raashtr dhvaj ka apamaan kiya gaya isako koee bhee desh ka naagarik kabhee bhee sahan nahin kar sakata hai kabhee bhee isake lie prashansa nahin kar sakata hai yah lagata hai ki jo jo kisaanon ke traiktar railee nikaalee thee usake antargat inhonne jo paramishan lee thee jin netaon ne un sab netaon ko usaka jimmedaar maan karake kyon kis ka netrtv karane vaalee jo deta hai vah usake poore jimmedaar hain yah nishchit roop se jo pahale kaha ja raha tha vah sahee hai ki vaastav mein is kisaan railee ke doodh ke saath hee nahin auraton ke saath vipaksh ke raajaneetigy the ya ve log the jo desh ko vibhaajit karana chaahate hain ya ve log the jo beejepee se agale the beejepee ka apamaan karate se koee matalab nahin hai lekin raashtradhvaj ka apamaan nahin hona chaahie tha beejepee aur kaangres vaale hee aapas mein ladate hain somavaar laden kuchh bhee karen lekin jab raashtr kee krpa ka savaal hai aur pratyek desh ka naagarik is baat ko kadaapi sahan nahin karega aur bahut hee nindaneey hai sharmanaak hai peedit hai ek bhee kisaan neta veeragati ko praapt nahin hua abhee to in logon ne jo kiya hai vo kisaanon ke naam par bahut bada daag hai ek deshabhakt naagarik kisaanon se vyakt karega ab yah kisaan ke palla jhaad rahe hain kisaan neta ki ham nahin nahin kiya yah to phir aakhir kya kisane aapake sangathan mein aise upadravee tatv shaamil the aise log jo desh ko vibhaajit karana chaahate the un logon ka saath logon ko apane railee mein ja sakatee thee kyonki aap to vahaan par pulis mein isakee 36 shabdon ke saath mein sthit railee kee anumati lekar ke aae the isalie mere vichaar se in par sangeen kes chalana chaahie deshadroh ka kes chalana chaahie kyonki raashtr kee garima ko raashtr kee asmita ko inhonne chot pahunchaane ka prayaas kiya hai is baat ko kadaapi kisee ko bhee daura nirvichaar se isakee saraahana nahin kee jaegee jis jis kisaan ko pratyek deshavaasee annadaata kahakar ke sammaanit karata hai aaj unheen kisaanon ne unheen kisaanon ne in aise desh ke virodh karane vaale desh ke tukade chaahane vaale desh ko barbaadee chaahane vaale logon shaadee karake kisaan naam par inhonne annadaata naam par jo daag lagaaya hai jo ek kisaan ke lie sharmindagee ka kaaran hona chaahie aaj aapakee koee bhee deshabhakt in kisaanon ke naam se hee napharat karata hai kyonki yah kisaan nahin yah to desh ke vibhaajan chaahane vaale desh ko barbaad karane vaale log hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • 26 जनवरी की क्रांति में कितने किसान नेता वीरगति को प्राप्त हुए और कितने आक्रमण कारी अस्पताल में भर्ती हुए, 26 जनवरी की क्रांति में कितने किसान नेता वीरगति को प्राप्त हुए
URL copied to clipboard