#भारत की राजनीति

bolkar speaker

किसानों की कृषि कानूनों को सरकार से वापस लेने की जिद को आप क्या समझते हैं?

Kisano Ke Krishi Kanuno Ko Sarkar Se Vapas Lene Ki Jid Ko Aap Kya Samjhate Hain
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:05
किसानों की कृषि कानूनों को सरकार से वापस लेने की जिद को आप क्या समझते हैं दोस्तों मैं इसको एक अधिकार के तौर पर समस्त हूं क्योंकि जब कोई सरकार अपनी जनता के लिए कोई भी बिल लागू करती है तो जनता की भलाई के लिए करती है परंतु जनता उस चीज को यह जरिया भी देती है क्या इससे फायदा होगा या नुकसान होगा और कि हम जानते हैं किस चीज से सहमे हुए हैं कि फ्यूचर के अंदर यह जो बिल है यह आपको नुकसान देगा तो सीधी बात है दोस्तों अपने अधिकार के लिए आप आंदोलन कर सकते हैं और यह वापस लेने के लिए दोस्तों यह उनका एकाधिकार है जो संभव है जिस समूह के लिए आपने कोई चीज बनाई है यदि वह समझ जाए तो उसका स्वागत भी कर सकती है और उसको विरोध भी कर सकते हैं और क्योंकि हम जानते हैं कि संजीव को पूरी तरीके से विरोध कर रहे हैं तो दे कि मैं तो सिर्फ इसको एकाधिकार के जरिए देखता हूं क्योंकि हर किसी को विरोध करने का अधिकार है और सभी जानते हैं किसानों के पास भी चीज को लेकर के अधिकार उसका विरोध कर सकें तो मैं इसको एक विरोध के दर्जे से देखता हूं ना की किसी और तरीके से
Kisaanon kee krshi kaanoonon ko sarakaar se vaapas lene kee jid ko aap kya samajhate hain doston main isako ek adhikaar ke taur par samast hoon kyonki jab koee sarakaar apanee janata ke lie koee bhee bil laagoo karatee hai to janata kee bhalaee ke lie karatee hai parantu janata us cheej ko yah jariya bhee detee hai kya isase phaayada hoga ya nukasaan hoga aur ki ham jaanate hain kis cheej se sahame hue hain ki phyoochar ke andar yah jo bil hai yah aapako nukasaan dega to seedhee baat hai doston apane adhikaar ke lie aap aandolan kar sakate hain aur yah vaapas lene ke lie doston yah unaka ekaadhikaar hai jo sambhav hai jis samooh ke lie aapane koee cheej banaee hai yadi vah samajh jae to usaka svaagat bhee kar sakatee hai aur usako virodh bhee kar sakate hain aur kyonki ham jaanate hain ki sanjeev ko pooree tareeke se virodh kar rahe hain to de ki main to sirph isako ekaadhikaar ke jarie dekhata hoon kyonki har kisee ko virodh karane ka adhikaar hai aur sabhee jaanate hain kisaanon ke paas bhee cheej ko lekar ke adhikaar usaka virodh kar saken to main isako ek virodh ke darje se dekhata hoon na kee kisee aur tareeke se

और जवाब सुनें

bolkar speaker
किसानों की कृषि कानूनों को सरकार से वापस लेने की जिद को आप क्या समझते हैं?Kisano Ke Krishi Kanuno Ko Sarkar Se Vapas Lene Ki Jid Ko Aap Kya Samjhate Hain
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
1:57
नमस्कार किसानों की कृषि कानूनों को सरकार से वापस लेने की चित्र को आप क्या समझते हैं तो किसी भी एक स्थिति के दो पहलू होते हैं इसके भी दोपहर में एक हो सकता है कि सरकार पर किसानों को ज्यादा भरोसा नहीं है कि केवल किसान नहीं बल्कि कई सारे सारे लोग सरकार की नीतियों से परेशान हैं और सरकार कहती तो है उनसे कि हम आपकी बातों पर ध्यान देंगे लेकिन सिर्फ आप भूल जाती है तो किसानों को भी से दिक्कत हो यह शंका हो कि वह भी कह दिया कि ठीक है ठीक है 1 साल के तक हम रुक रहे हैं लेकिन शायद सरकार 1 साल बाद भी कुछ ना करें तो उनको यह डर है यही कारण हो सकता है कि किसान जो है जो से हेडिंग ऐड कर रहे हैं वह इसे सही से समझ नहीं पा रहे हैं या पता नहीं क्यों ऐसा कर रहे हैं क्योंकि जो कानून अच्छे तो हैं थियोरेटिकली लेकर इंप्लीमेंटेशन विश का अच्छा करा जाए तो कानून में कोई ज्यादा बुराई नहीं है क्योंकि देखे जो अभी हमारे आज के कानून हैं अगर वह असरदार होते तो वह हमारे किसानों की आमदनी भी अच्छी खासी होती लेकिन नहीं है कहीं ना कहीं उस में गड़बड़ी है जो अभी हमारे सिस्टम है तू उसको सही करने की बजाय सरकार नया कानून लाई है वह यह कानून भी अच्छे हैं लेकिन अगर इसको सही से नहीं देखा जाए तो यह भी पुराने कानूनों की तरह हो जाएंगे इसमें भी कातिल बन जाएंगी कुछ लोगों की मोनोपोली हो जाएगी और वापस से किसानों के यह तो ऐसे ही बैठी रहेगी तो दो कारण हो सकते एक तो शंका और एक है हम सरकार पर आम कम भरोसा और सरकार के एमपी मेंटेशन करने के तरीके पर भी कम भरोसा होना
Namaskaar kisaanon kee krshi kaanoonon ko sarakaar se vaapas lene kee chitr ko aap kya samajhate hain to kisee bhee ek sthiti ke do pahaloo hote hain isake bhee dopahar mein ek ho sakata hai ki sarakaar par kisaanon ko jyaada bharosa nahin hai ki keval kisaan nahin balki kaee saare saare log sarakaar kee neetiyon se pareshaan hain aur sarakaar kahatee to hai unase ki ham aapakee baaton par dhyaan denge lekin sirph aap bhool jaatee hai to kisaanon ko bhee se dikkat ho yah shanka ho ki vah bhee kah diya ki theek hai theek hai 1 saal ke tak ham ruk rahe hain lekin shaayad sarakaar 1 saal baad bhee kuchh na karen to unako yah dar hai yahee kaaran ho sakata hai ki kisaan jo hai jo se heding aid kar rahe hain vah ise sahee se samajh nahin pa rahe hain ya pata nahin kyon aisa kar rahe hain kyonki jo kaanoon achchhe to hain thiyoretikalee lekar impleementeshan vish ka achchha kara jae to kaanoon mein koee jyaada buraee nahin hai kyonki dekhe jo abhee hamaare aaj ke kaanoon hain agar vah asaradaar hote to vah hamaare kisaanon kee aamadanee bhee achchhee khaasee hotee lekin nahin hai kaheen na kaheen us mein gadabadee hai jo abhee hamaare sistam hai too usako sahee karane kee bajaay sarakaar naya kaanoon laee hai vah yah kaanoon bhee achchhe hain lekin agar isako sahee se nahin dekha jae to yah bhee puraane kaanoonon kee tarah ho jaenge isamen bhee kaatil ban jaengee kuchh logon kee monopolee ho jaegee aur vaapas se kisaanon ke yah to aise hee baithee rahegee to do kaaran ho sakate ek to shanka aur ek hai ham sarakaar par aam kam bharosa aur sarakaar ke emapee menteshan karane ke tareeke par bhee kam bharosa hona

bolkar speaker
किसानों की कृषि कानूनों को सरकार से वापस लेने की जिद को आप क्या समझते हैं?Kisano Ke Krishi Kanuno Ko Sarkar Se Vapas Lene Ki Jid Ko Aap Kya Samjhate Hain
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Personal Life guidance session book Appointment ID - discoveryourjourney23@gmail.com
2:58
प्रश्न है किसानों की कृषि कानून को सरकार से वापस लेने की जिद को आप क्या समझते हैं मैं सिर्फ इतना ही कहूंगी कि जितने भी किसान थे उनका प्रदर्शन हो रही वहां किसान ने कुछ होंगे और वह ऐसे किसान हैं जिन्हें फर्क नहीं पड़ता कि किसान की व्रत हो रही है कि नहीं हो रही है ठीक है उनमें से बहुत सारे ऐसे आतंकवादी लोग देख रहे कि किस तरीके से पुलिस वालों पर हमला किया गया यह किसान विरोधी बिल जो भी किसान बकाया है उसके विरोध का प्रदर्शन नहीं हो रहा है भारत की गरिमा को ठेस पहुंचाया जा रहा है भारत के लाल किले को तोड़ फोड़ दिया गया क्या ऐसा कुछ करते कोई किसान अपने ही देश को नुकसान कौन पहुंचाएगा तो उनमें जो मैंने पहले भी आपको बताया कि उन्हें जो भी आतंकवादी है उस सब मिलकर यह सारी चीजें पर उसने पता नहीं चल पा रहा है किसी को इतने बड़े-बड़े ट्रैक्टर लेकर पुलिस वालों पर हमला कर रहे हैं यह क्या सही है किसी की जान लेने के ऊपर उतारू हो गए हैं क्या यह सही है कि आप लोग को देखी होगी पकड़नी होगी कि किसान बिल से फंसे किसानों की हित के लिए आया इतने सारे लोग कर्ज के चक्कर में फांसी लगा लेते थे वहीं ने निकाला गया था कितने सालों से चल रहा था अब एक नियम निकलेगी किसान अपनी सब्जियां अपने कोडिंग भेज सकती हैं किसान अपनी सब्जियां कंपनियों को भी सेल कर सकते हैं किसान अपनी सब्जियों को इस एक मंडी में अगर नहीं दिख रही तो दूसरे मंडी में चल कर सकती है सिर्फ इतना है छोटा सा नहीं है बस उस चीज को इतना बड़ा बना दिया गया जो प्रदर्शन कर रहे हैं वह अमीर किसान है जो कि इतनी पसंद करी किसानों की ग्रोथ को रोकने के लिए कर रहे हैं अगर वह सच में अच्छी की शान होती है तो यह सब नहीं करते पंजाब साइड से ही क्यों पूरे किसान आ रहे हैं राजस्थान मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ से क्यों नहीं आ रहे हैं मुझे पता है कि यह सारी चीजें हुई है उनकी हिट कि नहीं हुई है वह भी दवाइयां खरीद सकते हैं जबकि सब्जियों का सही दाम मिलेगा दवाइयां करी साथ में खाना घड़ी सत्य अपने बच्चों को पढ़ा सकूं कि प्रॉफिट के बारे में कोई नहीं सोच रहा है हां सब यह सोचने किसान दिल वापस हो जाए वापस हो जाएगी अगर आपके पास इतना पैसा है कि अब गाड़ी ले सकते सोने चांदी जैसा क्या किसानों का हक नहीं है कि वह आप को जिंदा रखने के लिए सब्जियां दे रहे हैं सब्जियां जो जो इंसान की भी इंपोर्टेंट है वह अच्छे से अच्छे दाम में चलकर कार लेने के लिए तो आप लोग इतने सारे पैसे उड़ा देते हैं क्या आप ₹20 ₹30 की सब्जियां नहीं दे सकते वह भी जिंदा रहने के लिए मीन तो आपकी लाइफ है ना आप रहेंगे तभी तो का रहेगी आप रहेंगे तभी तो सोने चांदी आएंगे जब वह खाने पीने के लिए इतना मेहनत करते हैं तो उनको उनका सही दाम भी तो मिलना चाहिए ना यह चीज देखिए
Prashn hai kisaanon kee krshi kaanoon ko sarakaar se vaapas lene kee jid ko aap kya samajhate hain main sirph itana hee kahoongee ki jitane bhee kisaan the unaka pradarshan ho rahee vahaan kisaan ne kuchh honge aur vah aise kisaan hain jinhen phark nahin padata ki kisaan kee vrat ho rahee hai ki nahin ho rahee hai theek hai unamen se bahut saare aise aatankavaadee log dekh rahe ki kis tareeke se pulis vaalon par hamala kiya gaya yah kisaan virodhee bil jo bhee kisaan bakaaya hai usake virodh ka pradarshan nahin ho raha hai bhaarat kee garima ko thes pahunchaaya ja raha hai bhaarat ke laal kile ko tod phod diya gaya kya aisa kuchh karate koee kisaan apane hee desh ko nukasaan kaun pahunchaega to unamen jo mainne pahale bhee aapako bataaya ki unhen jo bhee aatankavaadee hai us sab milakar yah saaree cheejen par usane pata nahin chal pa raha hai kisee ko itane bade-bade traiktar lekar pulis vaalon par hamala kar rahe hain yah kya sahee hai kisee kee jaan lene ke oopar utaaroo ho gae hain kya yah sahee hai ki aap log ko dekhee hogee pakadanee hogee ki kisaan bil se phanse kisaanon kee hit ke lie aaya itane saare log karj ke chakkar mein phaansee laga lete the vaheen ne nikaala gaya tha kitane saalon se chal raha tha ab ek niyam nikalegee kisaan apanee sabjiyaan apane koding bhej sakatee hain kisaan apanee sabjiyaan kampaniyon ko bhee sel kar sakate hain kisaan apanee sabjiyon ko is ek mandee mein agar nahin dikh rahee to doosare mandee mein chal kar sakatee hai sirph itana hai chhota sa nahin hai bas us cheej ko itana bada bana diya gaya jo pradarshan kar rahe hain vah ameer kisaan hai jo ki itanee pasand karee kisaanon kee groth ko rokane ke lie kar rahe hain agar vah sach mein achchhee kee shaan hotee hai to yah sab nahin karate panjaab said se hee kyon poore kisaan aa rahe hain raajasthaan madhy pradesh chhatteesagadh se kyon nahin aa rahe hain mujhe pata hai ki yah saaree cheejen huee hai unakee hit ki nahin huee hai vah bhee davaiyaan khareed sakate hain jabaki sabjiyon ka sahee daam milega davaiyaan karee saath mein khaana ghadee saty apane bachchon ko padha sakoon ki prophit ke baare mein koee nahin soch raha hai haan sab yah sochane kisaan dil vaapas ho jae vaapas ho jaegee agar aapake paas itana paisa hai ki ab gaadee le sakate sone chaandee jaisa kya kisaanon ka hak nahin hai ki vah aap ko jinda rakhane ke lie sabjiyaan de rahe hain sabjiyaan jo jo insaan kee bhee importent hai vah achchhe se achchhe daam mein chalakar kaar lene ke lie to aap log itane saare paise uda dete hain kya aap ₹20 ₹30 kee sabjiyaan nahin de sakate vah bhee jinda rahane ke lie meen to aapakee laiph hai na aap rahenge tabhee to ka rahegee aap rahenge tabhee to sone chaandee aaenge jab vah khaane peene ke lie itana mehanat karate hain to unako unaka sahee daam bhee to milana chaahie na yah cheej dekhie

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसानों की कृषि कानूनों को सरकार से वापस लेने की जिद को आप क्या समझते हैं कृषि कानूनों को सरकार से वापस लेने की जिद
URL copied to clipboard