#undefined

bolkar speaker

जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है?

Jab Bhe Main Kahe Bahar Jaata Hu Meri Tabiyat Kyun Kharab Ho Jati Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:34
तो आज आप का सवाल है कि जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है तो सिर्फ आपके साथ ऐसा कुछ होता है कि मतलब हम जब भी कोई चीज ऐड कर लेता आपने देखा होगा कि अब मतलब अगर आपने ऐसा कभी नहीं किया तो कोशिश की जाएगी फिर अगर हो गया होगा तो मैं भी आपने लेट कर पाएंगे आपने जवाब थोड़ा लेट तक अगर आप जगते हैं अगर आप 1 दिन मतलब 12:01 बजे फिर से कुछ खा लेते हैं दूसरे दिन फिर से 12:00 बजे कुछ खाते तीसरे दिन फिर से खाते छोटा दिन आपको अपने आप से उसी टाइम में भूख लगने लगेगा और आप ऐसा सोचेंगे नहीं कि आज मुझे खाना लेकिन उस टाइम पर आपको भूख लगेगा इसका मतलब यह क्या आपके बॉडी उस तरह से एडजस्ट कर लिया डट कर लिया अब आपको इस समय है करना ही करना तो क्या होता है कि जब हम कोई भी काम करने चंपारण में है तो इस तरह से हमारी बॉडी भी मतलब एडिट कर ली है एडजेस्ट कर ले तो हम इस तरह के वातावरण में श्री टेबल हो जैसे भरा वातावरण की चीज होती होता है जर्नी हम करते हैं यात्रा से हम आते हैं बहुत सारे लोगों को जर्नी बर्दाश्त नहीं होता एलर्जी होता जिस वजह से उल्टी होना सर दर्द होना तो तबीयत खराब हो जाती है दूसरा वहां का पानी और फिर वहां का वातावरण में भी आपको सूट नहीं कर पा रहा है दूसरों को सूट कर रहा इसमें ऐसा नहीं कि आप हेल्प आफ हेल्दी नहीं है दूसरा कोई एलर्जी नाम की भी कोई चीज होती है जिससे मतलब इंसान को होता है तो आपको वहां का वातावरण आपको वहां का पानी आपका जैसा वहां का कंडीशन वह सुख नहीं करा इसने बहुत सारे लोगों के साथ ऐसा होता है कि जब वह एक जगह से दूसरी जगह जाते हैं जब वह घूमने के पद से हो या फिर काम की परपस से हो उनका उनकी तबीयत खराब हुई जाती कुछ समय के लिए जाते हैं तो वहां से आते तो जब तक में एक दिन रेस्ट और फिर अच्छे से अलग खाना-पीना यह सब नहीं होता है तू मतलब सर इतना दर्द होता है तो जब हम एक ही प्ले सीमेंट और एक ही जगह की बात कर रहे हैं ज्यादा नहीं दो-तीन घंटे दूरी अनजाते तू हमें वह प्लेस और वे शुरू वातावरण हम मतलब यह नहीं कर पाते तो फिर और अगर आप दूर दूर जाएंगे घूमने फिरने तो सोचा ऐसा हर एक इंसान के साथ आप खुश होगा ही होगा इसमें डरने की बात नहीं है बस यह कि जब आप वहां से आते भी चीज को नजरअंदाज मत कीजिए अगर आप की तबीयत खराब हो रही है तो रेस्ट कीजिए मेडिसिन लीजिए या फिर अपने खान-पान पर अपने हल का ध्यान देना
To aaj aap ka savaal hai ki jab bhee main kaheen baahar jaata hoon meree tabeeyat kyon kharaab ho jaatee hai to sirph aapake saath aisa kuchh hota hai ki matalab ham jab bhee koee cheej aid kar leta aapane dekha hoga ki ab matalab agar aapane aisa kabhee nahin kiya to koshish kee jaegee phir agar ho gaya hoga to main bhee aapane let kar paenge aapane javaab thoda let tak agar aap jagate hain agar aap 1 din matalab 12:01 baje phir se kuchh kha lete hain doosare din phir se 12:00 baje kuchh khaate teesare din phir se khaate chhota din aapako apane aap se usee taim mein bhookh lagane lagega aur aap aisa sochenge nahin ki aaj mujhe khaana lekin us taim par aapako bhookh lagega isaka matalab yah kya aapake bodee us tarah se edajast kar liya dat kar liya ab aapako is samay hai karana hee karana to kya hota hai ki jab ham koee bhee kaam karane champaaran mein hai to is tarah se hamaaree bodee bhee matalab edit kar lee hai edajest kar le to ham is tarah ke vaataavaran mein shree tebal ho jaise bhara vaataavaran kee cheej hotee hota hai jarnee ham karate hain yaatra se ham aate hain bahut saare logon ko jarnee bardaasht nahin hota elarjee hota jis vajah se ultee hona sar dard hona to tabeeyat kharaab ho jaatee hai doosara vahaan ka paanee aur phir vahaan ka vaataavaran mein bhee aapako soot nahin kar pa raha hai doosaron ko soot kar raha isamen aisa nahin ki aap help aaph heldee nahin hai doosara koee elarjee naam kee bhee koee cheej hotee hai jisase matalab insaan ko hota hai to aapako vahaan ka vaataavaran aapako vahaan ka paanee aapaka jaisa vahaan ka kandeeshan vah sukh nahin kara isane bahut saare logon ke saath aisa hota hai ki jab vah ek jagah se doosaree jagah jaate hain jab vah ghoomane ke pad se ho ya phir kaam kee parapas se ho unaka unakee tabeeyat kharaab huee jaatee kuchh samay ke lie jaate hain to vahaan se aate to jab tak mein ek din rest aur phir achchhe se alag khaana-peena yah sab nahin hota hai too matalab sar itana dard hota hai to jab ham ek hee ple seement aur ek hee jagah kee baat kar rahe hain jyaada nahin do-teen ghante dooree anajaate too hamen vah ples aur ve shuroo vaataavaran ham matalab yah nahin kar paate to phir aur agar aap door door jaenge ghoomane phirane to socha aisa har ek insaan ke saath aap khush hoga hee hoga isamen darane kee baat nahin hai bas yah ki jab aap vahaan se aate bhee cheej ko najarandaaj mat keejie agar aap kee tabeeyat kharaab ho rahee hai to rest keejie medisin leejie ya phir apane khaan-paan par apane hal ka dhyaan dena

और जवाब सुनें

bolkar speaker
जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है?Jab Bhe Main Kahe Bahar Jaata Hu Meri Tabiyat Kyun Kharab Ho Jati Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:59
जब आप घर से बाहर जाते तो आपकी तबीयत खराब हो जाती है इसका भी अंदाजा है यह तो आप घरवालों को मिस बहुत करते हैं गुस्सा आपको बाहर का पानी भी सूट नहीं कर सकता है यह भी हो सकता है तीसरा आप जाते हैं तो बीच में हो सकता है कि आपको जर्नी के एलर्जी हो जाती हो जुकाम हो जाता हो सर्दी हो जाता है इस कारण से आपकी यूनिटी बहुत कमजोर हो सकती है किस कारण से ऐसा हो सकता है तो थोड़ा सा आप अपनी मिनिटी को बढ़ाइए और बाहर की चीजें जरा कम खाइए तेल मसाले वाली चीजें कम खाइए गुनगुना पानी अपना घर के साथ ले जाइए रास्ते में जब भी जरूरत हो उसको पीजिए और नाक में मांस का प्रयोग कीजिए ताकि किसी भी तरह की आवाज क्षेत्र वायु जो आपके नाक में प्रवेश न कर सके और कोरोनावायरस हो सके जवाब थोड़ा चित्र से अपना बचाव करेंगे तो आप स्वस्थ रहेंगे और क्योंकि अपने शरीर को स्वस्थ अपने मंत्री बचाकर के रखना है
Jab aap ghar se baahar jaate to aapakee tabeeyat kharaab ho jaatee hai isaka bhee andaaja hai yah to aap gharavaalon ko mis bahut karate hain gussa aapako baahar ka paanee bhee soot nahin kar sakata hai yah bhee ho sakata hai teesara aap jaate hain to beech mein ho sakata hai ki aapako jarnee ke elarjee ho jaatee ho jukaam ho jaata ho sardee ho jaata hai is kaaran se aapakee yoonitee bahut kamajor ho sakatee hai kis kaaran se aisa ho sakata hai to thoda sa aap apanee minitee ko badhaie aur baahar kee cheejen jara kam khaie tel masaale vaalee cheejen kam khaie gunaguna paanee apana ghar ke saath le jaie raaste mein jab bhee jaroorat ho usako peejie aur naak mein maans ka prayog keejie taaki kisee bhee tarah kee aavaaj kshetr vaayu jo aapake naak mein pravesh na kar sake aur koronaavaayaras ho sake javaab thoda chitr se apana bachaav karenge to aap svasth rahenge aur kyonki apane shareer ko svasth apane mantree bachaakar ke rakhana hai

bolkar speaker
जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है?Jab Bhe Main Kahe Bahar Jaata Hu Meri Tabiyat Kyun Kharab Ho Jati Hai
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:32

bolkar speaker
जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है?Jab Bhe Main Kahe Bahar Jaata Hu Meri Tabiyat Kyun Kharab Ho Jati Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:44
उसने जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं तो मेरी तबीयत खराब क्यों खराब हो जाती दिखी क्या है ना कि आपका इन्वायरमेंट जो होता है जैसे आपको चेंज होता है तो आप उस इन गारमेंट में जाते हैं तो आप की आटोमेटिक सर्दी जुखाम बुखार जैसे लक्षण लग जाते हैं तो इस को कंट्रोल करने के लिए आपको क्या है कि वहां जाने की जहां जाते हैं वहां का पानी पानी व 9 पिए तो के लिए बेस्ट होगा जब वहां पर रहेंगे तो सबसे बड़ा इफेक्ट होता है पानी पानी ऐसा चीज है कि हमारे शरीर में और ज्यादा इंफेक्शन भी फैला देता है जिसकी वजह से हमारे इंफेक्शन दूर भी होते हैं वही होता है कि जब हमारे जैसे हम यहां पर है हमारे लिए पानी का दिक्कत नहीं है हम भी बाहर कहीं जाते हैं तो वहां का पानी जैसे पीते तो हमें सर्दी जुखाम बुखार जैसे लक्षण हो जाते हैं क्योंकि सर्दी जुखाम होते हैं तो ऑटोमेटिक बुखार उसके साथ ही आ जाती परेशानी होती है तो हमें क्या करना चाहिए कि हमें वहां का पानी नो पीके हमें कुछ ऐसे फिल्टर वाले पानी पीने चाहिए जिससे कि हमारी सेहत को फायदेमंद दे तो हमें उस चीज को ध्यान देना चाहिए और हमें एक खास का ध्यान देना चाहिए कि हम कहीं जाते हैं तो हां ज्यादा देर समय लार देर समय रोकने की कोशिश ना करें और वहां हो सके तो पानी का बर्ताव करें जिससे कि आप इस समस्या जोगी दूर हो जाएगी इसके अलावा आप क्या करें वहां जाते हैं तो गर्म करके अगर पानी पीते हैं तो आपके लिए भी फायदेमंद हो जाए उसके अलावा क्या है कि कहीं जाते होंगे तो इन्वायरमेंट जो होगा आपके लिए जान दे होगा तो आप एक डॉक्टर की सलाह भी ले सकते हो उसके अलावा कुछ टेबलेट वह डॉक्टर दे सकता है जैसे कि आप जाएंगे वहां जैसे टेबलेट खाएंगे तो आपको जो कमियां होंगी वह दूर तो प्रॉब्लम होगी आपके अंदर जो कमी होगी उसे क्या करेगा उसको एक रूप में बैकअप के रूप में रखेगा जैसे कि आप की तबीयत खराब नहीं हो
Usane jab bhee main kaheen baahar jaata hoon to meree tabeeyat kharaab kyon kharaab ho jaatee dikhee kya hai na ki aapaka invaayarament jo hota hai jaise aapako chenj hota hai to aap us in gaarament mein jaate hain to aap kee aatometik sardee jukhaam bukhaar jaise lakshan lag jaate hain to is ko kantrol karane ke lie aapako kya hai ki vahaan jaane kee jahaan jaate hain vahaan ka paanee paanee va 9 pie to ke lie best hoga jab vahaan par rahenge to sabase bada iphekt hota hai paanee paanee aisa cheej hai ki hamaare shareer mein aur jyaada imphekshan bhee phaila deta hai jisakee vajah se hamaare imphekshan door bhee hote hain vahee hota hai ki jab hamaare jaise ham yahaan par hai hamaare lie paanee ka dikkat nahin hai ham bhee baahar kaheen jaate hain to vahaan ka paanee jaise peete to hamen sardee jukhaam bukhaar jaise lakshan ho jaate hain kyonki sardee jukhaam hote hain to otometik bukhaar usake saath hee aa jaatee pareshaanee hotee hai to hamen kya karana chaahie ki hamen vahaan ka paanee no peeke hamen kuchh aise philtar vaale paanee peene chaahie jisase ki hamaaree sehat ko phaayademand de to hamen us cheej ko dhyaan dena chaahie aur hamen ek khaas ka dhyaan dena chaahie ki ham kaheen jaate hain to haan jyaada der samay laar der samay rokane kee koshish na karen aur vahaan ho sake to paanee ka bartaav karen jisase ki aap is samasya jogee door ho jaegee isake alaava aap kya karen vahaan jaate hain to garm karake agar paanee peete hain to aapake lie bhee phaayademand ho jae usake alaava kya hai ki kaheen jaate honge to invaayarament jo hoga aapake lie jaan de hoga to aap ek doktar kee salaah bhee le sakate ho usake alaava kuchh tebalet vah doktar de sakata hai jaise ki aap jaenge vahaan jaise tebalet khaenge to aapako jo kamiyaan hongee vah door to problam hogee aapake andar jo kamee hogee use kya karega usako ek roop mein baikap ke roop mein rakhega jaise ki aap kee tabeeyat kharaab nahin ho

bolkar speaker
जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है?Jab Bhe Main Kahe Bahar Jaata Hu Meri Tabiyat Kyun Kharab Ho Jati Hai
Mohitrajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Mohitrajput जी का जवाब
Unknown
0:19
जब भी बाहर जाता हूं मेरी तबीयत खराब हो जाती है घर में रहो तो अच्छा पास रहता है बाहर चले जाओ तो बिगड़ जाता है क्यों होता है आपके साथ नहीं बहुत लोगों के साथ होता है सब ठीक है
Jab bhee baahar jaata hoon meree tabeeyat kharaab ho jaatee hai ghar mein raho to achchha paas rahata hai baahar chale jao to bigad jaata hai kyon hota hai aapake saath nahin bahut logon ke saath hota hai sab theek hai

bolkar speaker
जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है?Jab Bhe Main Kahe Bahar Jaata Hu Meri Tabiyat Kyun Kharab Ho Jati Hai
sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
1:25
इतने सवाल यह है कि जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं तो मेरी तबीयत खराब हो जाती है देख इसके पीछे तो यही कारण हो सकता है कि आपका बॉडी जो है और जस्ट नहीं हो पाता है बाहर आप घर से बाहर मतलब बाहर निकलते हैं तो वहां के इन्वायरमेंट में या कहीं भी घर के बाहर अब आपका बॉडी एडजेस्टेबल नहीं है आपके मतलब प्रतिरोधक क्षमता जो है वह वहां पर काम नहीं कर पाती है तो इसके लिए यह अच्छी बात तो नहीं है आपको अपनी बॉडी को कहीं भी एडजेस्टेबल बनाना चाहिए बनाना पड़ता है अन्यथा मुश्किल हो जाएगी आपके लिए मुश्किल होगी तो इसके लिए आप डॉक्टर से सलाह लेने कि क्यों मतलब मुझे लगता है कि इम्यून सिस्टम में आपका कहीं कुछ गड़बड़ी है उसको ठीक कराने की जरूरत है हो जाता है कभी-कभी तो होता हर किसी के साथ भी हो सकता है लेकिन हमेशा हो तो यह ठीक नहीं है इसके लिए आपको चेकअप जरूर करा लेना चाहिए ठीक है कि हमेशा तबीयत कैसे खराब हो जाती है थैंक यू
Itane savaal yah hai ki jab bhee main kaheen baahar jaata hoon to meree tabeeyat kharaab ho jaatee hai dekh isake peechhe to yahee kaaran ho sakata hai ki aapaka bodee jo hai aur jast nahin ho paata hai baahar aap ghar se baahar matalab baahar nikalate hain to vahaan ke invaayarament mein ya kaheen bhee ghar ke baahar ab aapaka bodee edajestebal nahin hai aapake matalab pratirodhak kshamata jo hai vah vahaan par kaam nahin kar paatee hai to isake lie yah achchhee baat to nahin hai aapako apanee bodee ko kaheen bhee edajestebal banaana chaahie banaana padata hai anyatha mushkil ho jaegee aapake lie mushkil hogee to isake lie aap doktar se salaah lene ki kyon matalab mujhe lagata hai ki imyoon sistam mein aapaka kaheen kuchh gadabadee hai usako theek karaane kee jaroorat hai ho jaata hai kabhee-kabhee to hota har kisee ke saath bhee ho sakata hai lekin hamesha ho to yah theek nahin hai isake lie aapako chekap jaroor kara lena chaahie theek hai ki hamesha tabeeyat kaise kharaab ho jaatee hai thaink yoo

bolkar speaker
जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है?Jab Bhe Main Kahe Bahar Jaata Hu Meri Tabiyat Kyun Kharab Ho Jati Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:12
नमस्ते साथियों आपका प्रश्न है जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं तो मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है तो दोस्तों आपके प्रश्न का उत्तर है जब आप बाहर जाते हैं तो यात्रा करते हैं और यात्रा अब या तो ट्रेन से करते हो या बस से करते हो तो आप के बंदे करते हो तो तेल चढ़ जाता है आपके दिमाग में जिनसे आपका जी घबराने लग जाता है और अगर आप एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाते हो तो वातावरण हमारा क्लाइमेंट चेंज हो जाता है दिन से भी आपकी तबीयत में कुछ कुछ असर पड़ता है इसीलिए खराब हो जाता है तो इनका हमारे स्वास्थ्य का ध्यान रखना बहुत ही जरूरी है और आप जब आपकी तबीयत खराब हो जाए तो आप हेल्थ को सुधारने के लिए कुछ टेबलेट रखें जिनसे आपकी हेल्प में कुछ राहत महसूस हो सके धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaste saathiyon aapaka prashn hai jab bhee main kaheen baahar jaata hoon to meree tabeeyat kyon kharaab ho jaatee hai to doston aapake prashn ka uttar hai jab aap baahar jaate hain to yaatra karate hain aur yaatra ab ya to tren se karate ho ya bas se karate ho to aap ke bande karate ho to tel chadh jaata hai aapake dimaag mein jinase aapaka jee ghabaraane lag jaata hai aur agar aap ek sthaan se doosare sthaan par jaate ho to vaataavaran hamaara klaiment chenj ho jaata hai din se bhee aapakee tabeeyat mein kuchh kuchh asar padata hai iseelie kharaab ho jaata hai to inaka hamaare svaasthy ka dhyaan rakhana bahut hee jarooree hai aur aap jab aapakee tabeeyat kharaab ho jae to aap helth ko sudhaarane ke lie kuchh tebalet rakhen jinase aapakee help mein kuchh raahat mahasoos ho sake dhanyavaad saathiyon khush raho

bolkar speaker
जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है?Jab Bhe Main Kahe Bahar Jaata Hu Meri Tabiyat Kyun Kharab Ho Jati Hai
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:59
आपने पूछा है कि जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं तो मेरी तबीयत क्यों खराब है इसलिए अंदर किसी प्रकार का कोई हार का कोई कारण नहीं है यह सिर्फ है आपके आपके शरीर पर सिर्फ जलवायु का प्रभाव है आप जहां रह रहे हैं वहां की जलवायु आपके ऊपर सटीक बैठ रही है यह समझ जी वहां की जलवायु आपके अनुकूल है लेकिन जहां भी आप जाते हैं तो उस प्रकार की जलवायु नहीं मिलती है इस कारण आप बीमार हो जाते हैं आपकी तबीयत खराब हो जाती है इसके अतिरिक्त और कोई कारण नहीं है कि आप की तबीयत खराब सिर्फ और सिर्फ के गाने
Aapane poochha hai ki jab bhee main kaheen baahar jaata hoon to meree tabeeyat kyon kharaab hai isalie andar kisee prakaar ka koee haar ka koee kaaran nahin hai yah sirph hai aapake aapake shareer par sirph jalavaayu ka prabhaav hai aap jahaan rah rahe hain vahaan kee jalavaayu aapake oopar sateek baith rahee hai yah samajh jee vahaan kee jalavaayu aapake anukool hai lekin jahaan bhee aap jaate hain to us prakaar kee jalavaayu nahin milatee hai is kaaran aap beemaar ho jaate hain aapakee tabeeyat kharaab ho jaatee hai isake atirikt aur koee kaaran nahin hai ki aap kee tabeeyat kharaab sirph aur sirph ke gaane

bolkar speaker
जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है?Jab Bhe Main Kahe Bahar Jaata Hu Meri Tabiyat Kyun Kharab Ho Jati Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब होती है एक बात तो यह है कि आपने जो है एक सोच बनाई हुई हुई है कि मैं बाहर जाता हूं या बाहर खाता हूं तो फिर तबीयत बिगड़ जाती है सत्तर से अस्सी परसेंट बीमारियां मोनू शारीरिक होती है साइकोसोमेटिक होती है और केवल 20% बीमारियां असली बीमारी होती है इसलिए जो दूर दराज क्षेत्रों में रहने वाले आदिवासियों और अंडमान निकोबार जैसे बेटू बेटमा पर जो लोग रहते हुए उनको मेरी सीट का पता भी नहीं है डॉक्टर का भी पता नहीं है पिक बहुत अच्छा पिक नहीं चलता रहता है क्योंकि उनको आज उनके बालों के बारे में मालूम ही नहीं है इसलिए वह डरते भी नहीं है उनको एक ही मालूम है कि जब आदमी बड़ा हो जाता है तो मरता है या कोई एक्सीडेंट हो जाता है तो मरता है लेकिन इसके लिए इस तरह की आधुनिक एलोपैथिक दवाइयां बनी हुई है एवं को मालूम ही नहीं है और ऐसे जंगलों में सरकारी कोई आदमी भी नहीं जाता है लेकिन मुझे दे लेकिन जो शहरों में रहते हैं और पढ़े लिखे होते हैं वो इस मेडिकल साइंस में घुसने का प्रयास करते होते तो जनरल नॉलेज डॉक्टर इन तो डॉक्टर ने तो अपनी अपने डर को ज्यादा से ज्यादा ज्यादा से ज्यादा शरीर की हर बीमारी को एनकाउंटर करके सामना करके देखा है और उनके जैसे भी है उसका कोई आश्चर्य नहीं लगता तनु बनने में काफी पास्ता 5 से 7 साल लगते लेकिन आम आदमी की कैसी स्थिति नहीं होती और वह आशंकाओं से भर जाता है अब मैं बीमार नहीं भी हो तो उसको बीमार है ऐसा लगता है तो कई लोगों की मृत्यु कब होती है थोड़ा सा भी वातावरण में चेंज हो जाए तो उनको थकावट हो जाती है टेंपरेचर आ जाता है अच्छा नहीं लगता और तबीयत भी लड़की की गड़ जाने की तकरार तकरार करते हैं लेकिन इसका उपाय कीजिए कि दूर दूर तक घूमना चाहिए और हमारी बॉडी को हर एक वातावरण के लिए शुभ करके रखना चाहिए किसी भी तरह का इंवॉल्वमेंट हो या कहीं का भी खाना हो या पानी वह खाने के बाद उसने होता है श्री बचाता है ऐसी स्थिति प्राप्त करने के लिए एस यू प्रवीण सिंह को किस करना चाहिए तब जाकर एक ही मिलिट्री भर्ती बनती है मेरा एक मित्र है को एक पार्टी का कार्य करता है तो उसको कोई भी किसी भी चीज का डर नहीं लगता है ना कि पुरुष को सोने का प्रॉब्लम है नहीं तो नहीं तो उसका पर भी उसको ऐसा कभी प्रॉब्लम नहीं आता कभी तो ऐसा ही रेल में बैठ जाता है यहां से दिल्ली तक भी जाकर आता है खड़ी खड़ी है सो जा सो सकता है और उसके जेब में से कितने पैसे नहीं होते कि कोई चोरी करेगा और सामान भी नहीं होता इस स्टैंड पर वह कभी भी नींद ले सकता है रात को स्टेशन पर ही मैं बहुत मिठाई हुए होते हैं बाबरी सो जाता है और उसको नींद भी आती है और बाद में उठता भी फिर आगे प्रवास के लिए जाता है सिर्फ एक पेपर वर्तमान पत्रिका न्यूज़ पेपर डालता है नीचे उस पर महसूस होता है रेलवे में सीधा खड़ा हूं 18 घंटे में खड़ा करके जाता है और एक खड़े रहते हैं वह खड़े-खड़े ही नींद भी लेता है क्योंकि उस दिन इतनी भीड़ होती है और वह उसको कुछ नहीं लगता है मैं एक बार उससे उसके साथ अंदर अंदर गया जिसे रेल छुट्टी लगने लगी उसी में घबरा गया होगा मेरा सोचना कठिन हो गया मेरा बैग निकल कर करके जल्दी से लड़की बहुत कुछ इस बात की है कि तुम जाओ मुझे यह नहीं सहन कर सकता तो गए अभी आया मैं इस तरीके से शब्द क्या होता है
Jab bhee main kaheen baahar jaata hoon meree tabeeyat kyon kharaab hotee hai ek baat to yah hai ki aapane jo hai ek soch banaee huee huee hai ki main baahar jaata hoon ya baahar khaata hoon to phir tabeeyat bigad jaatee hai sattar se assee parasent beemaariyaan monoo shaareerik hotee hai saikosometik hotee hai aur keval 20% beemaariyaan asalee beemaaree hotee hai isalie jo door daraaj kshetron mein rahane vaale aadivaasiyon aur andamaan nikobaar jaise betoo betama par jo log rahate hue unako meree seet ka pata bhee nahin hai doktar ka bhee pata nahin hai pik bahut achchha pik nahin chalata rahata hai kyonki unako aaj unake baalon ke baare mein maaloom hee nahin hai isalie vah darate bhee nahin hai unako ek hee maaloom hai ki jab aadamee bada ho jaata hai to marata hai ya koee ekseedent ho jaata hai to marata hai lekin isake lie is tarah kee aadhunik elopaithik davaiyaan banee huee hai evan ko maaloom hee nahin hai aur aise jangalon mein sarakaaree koee aadamee bhee nahin jaata hai lekin mujhe de lekin jo shaharon mein rahate hain aur padhe likhe hote hain vo is medikal sains mein ghusane ka prayaas karate hote to janaral nolej doktar in to doktar ne to apanee apane dar ko jyaada se jyaada jyaada se jyaada shareer kee har beemaaree ko enakauntar karake saamana karake dekha hai aur unake jaise bhee hai usaka koee aashchary nahin lagata tanu banane mein kaaphee paasta 5 se 7 saal lagate lekin aam aadamee kee kaisee sthiti nahin hotee aur vah aashankaon se bhar jaata hai ab main beemaar nahin bhee ho to usako beemaar hai aisa lagata hai to kaee logon kee mrtyu kab hotee hai thoda sa bhee vaataavaran mein chenj ho jae to unako thakaavat ho jaatee hai temparechar aa jaata hai achchha nahin lagata aur tabeeyat bhee ladakee kee gad jaane kee takaraar takaraar karate hain lekin isaka upaay keejie ki door door tak ghoomana chaahie aur hamaaree bodee ko har ek vaataavaran ke lie shubh karake rakhana chaahie kisee bhee tarah ka involvament ho ya kaheen ka bhee khaana ho ya paanee vah khaane ke baad usane hota hai shree bachaata hai aisee sthiti praapt karane ke lie es yoo praveen sinh ko kis karana chaahie tab jaakar ek hee militree bhartee banatee hai mera ek mitr hai ko ek paartee ka kaary karata hai to usako koee bhee kisee bhee cheej ka dar nahin lagata hai na ki purush ko sone ka problam hai nahin to nahin to usaka par bhee usako aisa kabhee problam nahin aata kabhee to aisa hee rel mein baith jaata hai yahaan se dillee tak bhee jaakar aata hai khadee khadee hai so ja so sakata hai aur usake jeb mein se kitane paise nahin hote ki koee choree karega aur saamaan bhee nahin hota is staind par vah kabhee bhee neend le sakata hai raat ko steshan par hee main bahut mithaee hue hote hain baabaree so jaata hai aur usako neend bhee aatee hai aur baad mein uthata bhee phir aage pravaas ke lie jaata hai sirph ek pepar vartamaan patrika nyooz pepar daalata hai neeche us par mahasoos hota hai relave mein seedha khada hoon 18 ghante mein khada karake jaata hai aur ek khade rahate hain vah khade-khade hee neend bhee leta hai kyonki us din itanee bheed hotee hai aur vah usako kuchh nahin lagata hai main ek baar usase usake saath andar andar gaya jise rel chhuttee lagane lagee usee mein ghabara gaya hoga mera sochana kathin ho gaya mera baig nikal kar karake jaldee se ladakee bahut kuchh is baat kee hai ki tum jao mujhe yah nahin sahan kar sakata to gae abhee aaya main is tareeke se shabd kya hota hai

bolkar speaker
जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है?Jab Bhe Main Kahe Bahar Jaata Hu Meri Tabiyat Kyun Kharab Ho Jati Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:24
कहां रखा प्रश्न जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है तो आपको बताना चाहेंगे थी कि अगर इस तरह की परेशानी आपके सामने आ रही है तो ऐसे में एक बार अपने तरीके से अपने डॉक्टर से कंसल्ट जरूर करें ताकि जो भी इसके रिकॉर्डिंग कोई समस्या है वह प्रॉब्लम है तो उसका नया वातावरण हो सके भी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Kahaan rakha prashn jab bhee main kaheen baahar jaata hoon meree tabeeyat kyon kharaab ho jaatee hai to aapako bataana chaahenge thee ki agar is tarah kee pareshaanee aapake saamane aa rahee hai to aise mein ek baar apane tareeke se apane doktar se kansalt jaroor karen taaki jo bhee isake rikording koee samasya hai vah problam hai to usaka naya vaataavaran ho sake bhee shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है?Jab Bhe Main Kahe Bahar Jaata Hu Meri Tabiyat Kyun Kharab Ho Jati Hai
mohit Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए mohit जी का जवाब
H0tal
0:29
कुछ तो सवाल है जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है तो दोस्तों कोई इंसान ऐसे होते हैं जो ज्यादातर कहीं जाते भी नहीं है ज्यादातर अपने गांव या घर या शहर में भी रहते हैं तो अचानक में उन्हें कहीं जाना पड़ता है तो जैसे उन्हें बाहर का पानी सूट नहीं करता और हवा भी सूट नहीं करती उससे की तबीयत खराब हो सकती है धन्यवाद
Kuchh to savaal hai jab bhee main kaheen baahar jaata hoon meree tabeeyat kyon kharaab ho jaatee hai to doston koee insaan aise hote hain jo jyaadaatar kaheen jaate bhee nahin hai jyaadaatar apane gaanv ya ghar ya shahar mein bhee rahate hain to achaanak mein unhen kaheen jaana padata hai to jaise unhen baahar ka paanee soot nahin karata aur hava bhee soot nahin karatee usase kee tabeeyat kharaab ho sakatee hai dhanyavaad

bolkar speaker
जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है?Jab Bhe Main Kahe Bahar Jaata Hu Meri Tabiyat Kyun Kharab Ho Jati Hai
lalit Netam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lalit जी का जवाब
Unknown
4:10
आपका सवाल है जब भी आप कहीं बाहर जाते तो आपका तबीयत खराब हो जाता तो क्यों होता है ऐसा कारण जानना चाहते हो ठीक है तो यह तो उसका जवाब मैं आपको दूं सकता हूं कि इसका दो चीज है कि आपको डॉक्टर के पास एक बार चेकअप करा लेना चाहिए कि आपकी शरीर में कुछ प्रभाव पड़ रहा है या फिर कुछ हो सकता केसरी केसरी में कुछ प्रॉब्लम हो गई आपको कारण घूमना हो जब तक आप कारण नहीं पता करोगे आपको बार-बार यह तकलीफ रहेगी इसलिए कारण को पहले पता करो एक कारण तो बना को बता दिया आप डॉक्टर के पास जाकर फुल बॉडी चेकअप करा लीजिए कि कैसे आपकी बॉडी एनवायरनमेंट कैसा है क्या प्रभाव पड़ता पर शरीर में या घर से बाहर निकलते तो आप तबीयत खराब हो रहे हो आप लोग और दूसरा कारण हो सकते आपको माइंड थे सबकॉन्शियस माइंड आनी कि आप अपने मन में बैठा के रखी हो क्या जब भी बाहर जाओगे घर से तो आपका तबीयत खराब हो जाएगा आपके मन में ऐसे सोच कर रख दी वहां पर शक लगता मुझे तो ए कारण भी हो सकते हैं क्यों ऐसा हो रहा हो सकते आपने 11 या फिर दोबारा ऐसा हुआ हुआ क्या अपने घर से बाहर गए और अचानक आपकी तबीयत खराब हुआ इनमें के कारण ठीक है तो अब बाहर एक दो बार हुआ ऐसा माल लेते हो तो हो गया एक दो बार लेकिन शराब गए उस टाइम तो आप कुछ परवाह नहीं है लेकिन अपने मन में सोच लिया कि मैं जब भी बाहर जाती हूं तो शरीर तबीयत खराब हो जाता है तू फिर से आपको बिना कुछ किया आप जो मन में सोच लेना उसी का प्रभाव होता है आप को बुखार लग जाएगा या नहीं सोचने से आपके मन से भी एक प्रॉब्लम हो सकती आप अपने मन को चेक करो कि आप पूछते हो घर से बाहर निकलने के साथ क्या वही सोचते हो कि मेरी तबीयत खराब हो जाएगी फिर से बाहर निकलूंगा तो आप अपने मन को ना एक करो आपके मन में जो थॉट चले ना उसी के प्रभाव के अंतर्गत खराब होता है यह है दूसरा करें पहला कारण आपको आपका पीस शरीर में कोई तबीयत खराब है या फिर कोई बीमारी तो आप चेकअप करा लीजिए डॉक्टर के पास अगर कोई प्रॉब्लम है तो दूसरा कारण है कि आपके मन में खुद आप ऐसा सोच लेते हो कि आप घर से बाहर निकलोगे तो आपकी तबीयत खराब थी आपके साथ होगा यह मन की शक्ति है आप यह समझ लीजिए आप मेरा अपमान में अच्छा सोचोगे कि मेरे साथ जो भी होगा अच्छा होगा मैं सोचता हूं मैं खुश हूं आपके साथ वही हूं मन में बहुत शक्ति है आप मन की शक्ति को समझ मन हमारा बहुत शक्तिशाली है इसे आप छोटा-मोटा यह मत समझना कि यह मन बहुत शक्तिशाली है जो चीज आप सोचोगे ना वैसा ही होगा कैसा डॉक्टर लोग जो दवाई देते ना पता होगा आप दवाई दे देता है आप ही खा लो अभी तबीयत ठीक हो जाएगी लेकिन उसमें सबसे ज्यादा दवाई काम नहीं करते उसमें दवाई तो दवा के काम है कि 50% दवाई काम कर देगा लेकिन छुट्टी पर हमारा मन हमारा शरीर काम करता है ठीक है अभी का काम होता है कि उनकी सारी को ठीक करना भगवान ने बनाए हमें हमारे शरीर को जो हम फोटो डिलीट कर देना तो हमारे से में पड़ता है जो चापेकर काम करके देखना एक गिलास पानी लेने की एक गिलास में एक प्लान पानी लेना और पानी के सामने आप बैठ जाना और पानी को देखना और मंथ और क्लिक करना कि मैं स्वस्थ हूं मैं स्वस्थ हूं मैं स्वस्थ हूं ऐसा ऑफ 108 बार आप मन में बोलने या फिर आप पानी के सामने आप बोलना 108 ठीक है 108 पर ऑफिस 2112 बोलना सच्चे दिल से कि मैं स्वस्थ हूं मैं स्वस्थ हूं पानी को अपने सामने रखना अब इज नॉट गेट करो ना उसका प्रभाव पानी पर भी पड़ता है खाना पर भी पड़ता है तो पानी चार्ज हो जाएगा जब आप यह फोटो लेकिन मैं सोचता हूं ठीक है पानी जब 4 गया उस पानी को आप पी लीजिए आपको अच्छा खेल होगा खाकर तबीयत पहले से भी अच्छा लगेगा आपको अनिल स्वस्थ हो जाएगा आप ऐसा पूरे दिन करोगे ना तो आपका से जल्द से जल्द आपको ठीक हो जाएगा और घर से बाहर निकलते हैं तो भगवान को याद कर के देख लो भगवान को अपने साथ लेकर चले जाओ भगवान आप मेरे साथ चलो मेरी रक्षा करना मेरी मदद करना ठीक है आप बोलना भगवान को आप जो भी इष्ट देवी देवता को मानते हो उसे प्रार्थना करना कि भगवान चलिए मेरे साथ मेरे रक्षक में मेरी मदद करना और बुरा मत कुछ ना आपको मैं ही नहीं बोलूंगा आदमी भी तो तुझे सोचो कि मुझे भी तुझे आपके साथ होगी ठीक है ना अच्छा सोचकर आप घर से निकलो नई चीजें मत सोचो आपको साथ सब कुछ अच्छा ही होगा धन्यवाद
Aapaka savaal hai jab bhee aap kaheen baahar jaate to aapaka tabeeyat kharaab ho jaata to kyon hota hai aisa kaaran jaanana chaahate ho theek hai to yah to usaka javaab main aapako doon sakata hoon ki isaka do cheej hai ki aapako doktar ke paas ek baar chekap kara lena chaahie ki aapakee shareer mein kuchh prabhaav pad raha hai ya phir kuchh ho sakata kesaree kesaree mein kuchh problam ho gaee aapako kaaran ghoomana ho jab tak aap kaaran nahin pata karoge aapako baar-baar yah takaleeph rahegee isalie kaaran ko pahale pata karo ek kaaran to bana ko bata diya aap doktar ke paas jaakar phul bodee chekap kara leejie ki kaise aapakee bodee enavaayaranament kaisa hai kya prabhaav padata par shareer mein ya ghar se baahar nikalate to aap tabeeyat kharaab ho rahe ho aap log aur doosara kaaran ho sakate aapako maind the sabakonshiyas maind aanee ki aap apane man mein baitha ke rakhee ho kya jab bhee baahar jaoge ghar se to aapaka tabeeyat kharaab ho jaega aapake man mein aise soch kar rakh dee vahaan par shak lagata mujhe to e kaaran bhee ho sakate hain kyon aisa ho raha ho sakate aapane 11 ya phir dobaara aisa hua hua kya apane ghar se baahar gae aur achaanak aapakee tabeeyat kharaab hua inamen ke kaaran theek hai to ab baahar ek do baar hua aisa maal lete ho to ho gaya ek do baar lekin sharaab gae us taim to aap kuchh paravaah nahin hai lekin apane man mein soch liya ki main jab bhee baahar jaatee hoon to shareer tabeeyat kharaab ho jaata hai too phir se aapako bina kuchh kiya aap jo man mein soch lena usee ka prabhaav hota hai aap ko bukhaar lag jaega ya nahin sochane se aapake man se bhee ek problam ho sakatee aap apane man ko chek karo ki aap poochhate ho ghar se baahar nikalane ke saath kya vahee sochate ho ki meree tabeeyat kharaab ho jaegee phir se baahar nikaloonga to aap apane man ko na ek karo aapake man mein jo thot chale na usee ke prabhaav ke antargat kharaab hota hai yah hai doosara karen pahala kaaran aapako aapaka pees shareer mein koee tabeeyat kharaab hai ya phir koee beemaaree to aap chekap kara leejie doktar ke paas agar koee problam hai to doosara kaaran hai ki aapake man mein khud aap aisa soch lete ho ki aap ghar se baahar nikaloge to aapakee tabeeyat kharaab thee aapake saath hoga yah man kee shakti hai aap yah samajh leejie aap mera apamaan mein achchha sochoge ki mere saath jo bhee hoga achchha hoga main sochata hoon main khush hoon aapake saath vahee hoon man mein bahut shakti hai aap man kee shakti ko samajh man hamaara bahut shaktishaalee hai ise aap chhota-mota yah mat samajhana ki yah man bahut shaktishaalee hai jo cheej aap sochoge na vaisa hee hoga kaisa doktar log jo davaee dete na pata hoga aap davaee de deta hai aap hee kha lo abhee tabeeyat theek ho jaegee lekin usamen sabase jyaada davaee kaam nahin karate usamen davaee to dava ke kaam hai ki 50% davaee kaam kar dega lekin chhuttee par hamaara man hamaara shareer kaam karata hai theek hai abhee ka kaam hota hai ki unakee saaree ko theek karana bhagavaan ne banae hamen hamaare shareer ko jo ham photo dileet kar dena to hamaare se mein padata hai jo chaapekar kaam karake dekhana ek gilaas paanee lene kee ek gilaas mein ek plaan paanee lena aur paanee ke saamane aap baith jaana aur paanee ko dekhana aur manth aur klik karana ki main svasth hoon main svasth hoon main svasth hoon aisa oph 108 baar aap man mein bolane ya phir aap paanee ke saamane aap bolana 108 theek hai 108 par ophis 2112 bolana sachche dil se ki main svasth hoon main svasth hoon paanee ko apane saamane rakhana ab ij not get karo na usaka prabhaav paanee par bhee padata hai khaana par bhee padata hai to paanee chaarj ho jaega jab aap yah photo lekin main sochata hoon theek hai paanee jab 4 gaya us paanee ko aap pee leejie aapako achchha khel hoga khaakar tabeeyat pahale se bhee achchha lagega aapako anil svasth ho jaega aap aisa poore din karoge na to aapaka se jald se jald aapako theek ho jaega aur ghar se baahar nikalate hain to bhagavaan ko yaad kar ke dekh lo bhagavaan ko apane saath lekar chale jao bhagavaan aap mere saath chalo meree raksha karana meree madad karana theek hai aap bolana bhagavaan ko aap jo bhee isht devee devata ko maanate ho use praarthana karana ki bhagavaan chalie mere saath mere rakshak mein meree madad karana aur bura mat kuchh na aapako main hee nahin boloonga aadamee bhee to tujhe socho ki mujhe bhee tujhe aapake saath hogee theek hai na achchha sochakar aap ghar se nikalo naee cheejen mat socho aapako saath sab kuchh achchha hee hoga dhanyavaad

bolkar speaker
जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है?Jab Bhe Main Kahe Bahar Jaata Hu Meri Tabiyat Kyun Kharab Ho Jati Hai
Rahul chaudhary Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:29
सवाल 1 चपटी में कहीं पटना की सबसे बड़ी कंपनी है और आप कैसे हैं आप उत्तम पटेल के घर चलेंगे प्रीफेक्ट मना लेती थी अब तेरी तबीयत खराब कहीं ना कहीं मटन और अर्जुन को एक कारण है लेकिन वगैरा लगा के रखना टू व्हीलर बिकाऊ है आपको धन्यवाद
Savaal 1 chapatee mein kaheen patana kee sabase badee kampanee hai aur aap kaise hain aap uttam patel ke ghar chalenge preephekt mana letee thee ab teree tabeeyat kharaab kaheen na kaheen matan aur arjun ko ek kaaran hai lekin vagaira laga ke rakhana too vheelar bikaoo hai aapako dhanyavaad

bolkar speaker
जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है?Jab Bhe Main Kahe Bahar Jaata Hu Meri Tabiyat Kyun Kharab Ho Jati Hai
Dukh kaise mite Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dukh जी का जवाब
Unknown
2:30
आप पूछे जब भी मैं कहीं बाहर जा तू मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है देखो आपकी यूनिटी पावर है ना वह कमजोर है इसलिए कभी खराब हो जाती है खान-पान का ध्यान की भक्ति करें क्योंकि करेंगे तो हमारी टेंशन होता है तनाव होता है तो उसे और मानसिक शादीशुदा नहीं हो सकता हो सकता नेपाल सरकार की मानसिकता से थोड़ा दान देने का विचार के साथ सो रुपए कमाते एक चिड़िया उनको कुछ भी सोचते हो फिर पूछे किसी के पास में हो शिव शक्ति से सबसे दूर जाती है वेरी-वेरी अच्छा बाबू भाई इससे मिल गया तू कुछ भी सोच मेरी बात विश्वास हो जाए तो पूरी झूठ नहीं बोलता हूं आप विश्वास है कि आप सबसे अच्छे हो जाएगी और यह तबीयत खराब हो जाएगी
Aap poochhe jab bhee main kaheen baahar ja too meree tabeeyat kyon kharaab ho jaatee hai dekho aapakee yoonitee paavar hai na vah kamajor hai isalie kabhee kharaab ho jaatee hai khaan-paan ka dhyaan kee bhakti karen kyonki karenge to hamaaree tenshan hota hai tanaav hota hai to use aur maanasik shaadeeshuda nahin ho sakata ho sakata nepaal sarakaar kee maanasikata se thoda daan dene ka vichaar ke saath so rupe kamaate ek chidiya unako kuchh bhee sochate ho phir poochhe kisee ke paas mein ho shiv shakti se sabase door jaatee hai veree-veree achchha baaboo bhaee isase mil gaya too kuchh bhee soch meree baat vishvaas ho jae to pooree jhooth nahin bolata hoon aap vishvaas hai ki aap sabase achchhe ho jaegee aur yah tabeeyat kharaab ho jaegee

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है
URL copied to clipboard