#undefined

bolkar speaker

एड्स के लक्षण क्या हैं और इससे कैसे बचा जा सकता है?

Aids Ke Lakshan Kya Hain Aur Isse Kaise Bacha Ja Sakta Hain
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
3:09
एड्स के लक्षण क्या होते हैं और 8 से कैसे बचा जा सकता है पहले तो हम जानते हैं इसके लक्षण क्या होते हैं क्योंकि कुछ पता नहीं चलता है और यह डॉक्टर भी बताते हैं कि ऑक्सी फीस दी मामलों में में से 2 से 6 हफ्ते के भीतर ही फ्लू जैसे लक्षण दिखाई देने लगते हैं क्योंकि लगभग इसमें क्या होता है कि नॉर्मल अगर आपको एचआईवी संक्रमण है तो आपको नहीं पता चलता है और कोई महीने तक इस बीमारी के लक्षण दिखाई नहीं देते ना कि जब 80 फ़ीसदी तक लक्षणों को भूल जाते हैं एचआईवी का संक्रमण फैल जाता है तो आपको एक फ्लू जैसी बीमारी फ्लू जैसे लक्षण दिखाई देने लगते इसे हम एक क्यूट रिटेलर सिम रूम के नाम से जानते हैं एचआईवी संक्रमण के लक्षण है बुखार संक्रमण लगना जोड़ों में दर्द मांसपेशियों में दर्द पसीना आना हंस तौर पर रात में जो होती है जो पसीना आते हैं उसके अलावा ग्रंथियों का आकार बढ़ना त्वचा पर लाल रेस थकान बिना किसी लक्षण की कमी का वजन वजन जब घटने लगे बिना किसी कारण के पुलिस बनना चाहिए कि हमें ऐसी बीमारी तो नहीं है आप सबसे बड़ी बात है कि एचआईवी जो संक्रमण फैलता है अपितु लक्षण जान गए आप जानते हैं कि हम कुछ असंवैधानिक तरीके से हम अपना यौन संबंध करते हैं और उसे हमें पता नहीं रहता कि वह लोग कितने लोगों से मिल चुके हैं जो होती है वह हमारे लिए बहुत ज्यादा घातक हो सकते हैं तो इसके बचाव के लिए पूछा जा रहा है तुम्हें बचाव के लिए ही बता सकता हूं आपको कि आप पहले ट्रक्स के इंजेक्शन नीडल का शेयर ना करें ज्यादा एचआईवी फैलाने का काम करती है उसके संबंध किसी से बना रहे हैं या किसी के साथ तू आप अगर इसे बचाओ के साधन है कि आपको कंडोम का इस्तेमाल करना चाहिए क्या आप एचआईवी से ग्रसित जो भी औरतें होती हैं आज आज आदमी होते हैं उसे क्या दोनों लोग को बचा जा सकता है उसके अवस्था में क्या होती है जब कोई एचआईवी संक्रमित महिला है उसके बच्चों को संक्रमण ना हो उसके लिए उसे उचित दवाइयां लेनी चाहिए और टीवी डॉक्टर के माध्यम से कहा जाता है कि यह स्तनपान कराने से भी पश्चिमी भी वायरस का असर हो सकता है तो इसके लिए एक मां को क्या होना चाहिए कि उचित दवाइयां लेना चाहिए इसकी संभावना कम हो जाती है इसके अलावा खून चढ़ाने या रक्त के दौरान सुरक्षा बरतने से भी निभानी पड़ती है तो हमें रक्त चढ़ाने और खून चढ़ाने से क्या होती तो सुरक्षा बरतनी चाहिए वह पूरी तरह से ध्यान देना चाहिए तू यह सब बचाव है और इसके अलावा सबसे बड़ा बचावे की आपको एवं संबंध बना रहे हैं तो किसी और के साथ तू आप क्या करें कि जो सुरक्षा है उसे आपको खासा ध्यान दें तो मुझे लगता है कि आप इस से बच सकते हैं
Eds ke lakshan kya hote hain aur 8 se kaise bacha ja sakata hai pahale to ham jaanate hain isake lakshan kya hote hain kyonki kuchh pata nahin chalata hai aur yah doktar bhee bataate hain ki oksee phees dee maamalon mein mein se 2 se 6 haphte ke bheetar hee phloo jaise lakshan dikhaee dene lagate hain kyonki lagabhag isamen kya hota hai ki normal agar aapako echaeevee sankraman hai to aapako nahin pata chalata hai aur koee maheene tak is beemaaree ke lakshan dikhaee nahin dete na ki jab 80 feesadee tak lakshanon ko bhool jaate hain echaeevee ka sankraman phail jaata hai to aapako ek phloo jaisee beemaaree phloo jaise lakshan dikhaee dene lagate ise ham ek kyoot ritelar sim room ke naam se jaanate hain echaeevee sankraman ke lakshan hai bukhaar sankraman lagana jodon mein dard maansapeshiyon mein dard paseena aana hans taur par raat mein jo hotee hai jo paseena aate hain usake alaava granthiyon ka aakaar badhana tvacha par laal res thakaan bina kisee lakshan kee kamee ka vajan vajan jab ghatane lage bina kisee kaaran ke pulis banana chaahie ki hamen aisee beemaaree to nahin hai aap sabase badee baat hai ki echaeevee jo sankraman phailata hai apitu lakshan jaan gae aap jaanate hain ki ham kuchh asanvaidhaanik tareeke se ham apana yaun sambandh karate hain aur use hamen pata nahin rahata ki vah log kitane logon se mil chuke hain jo hotee hai vah hamaare lie bahut jyaada ghaatak ho sakate hain to isake bachaav ke lie poochha ja raha hai tumhen bachaav ke lie hee bata sakata hoon aapako ki aap pahale traks ke injekshan needal ka sheyar na karen jyaada echaeevee phailaane ka kaam karatee hai usake sambandh kisee se bana rahe hain ya kisee ke saath too aap agar ise bachao ke saadhan hai ki aapako kandom ka istemaal karana chaahie kya aap echaeevee se grasit jo bhee auraten hotee hain aaj aaj aadamee hote hain use kya donon log ko bacha ja sakata hai usake avastha mein kya hotee hai jab koee echaeevee sankramit mahila hai usake bachchon ko sankraman na ho usake lie use uchit davaiyaan lenee chaahie aur teevee doktar ke maadhyam se kaha jaata hai ki yah stanapaan karaane se bhee pashchimee bhee vaayaras ka asar ho sakata hai to isake lie ek maan ko kya hona chaahie ki uchit davaiyaan lena chaahie isakee sambhaavana kam ho jaatee hai isake alaava khoon chadhaane ya rakt ke dauraan suraksha baratane se bhee nibhaanee padatee hai to hamen rakt chadhaane aur khoon chadhaane se kya hotee to suraksha baratanee chaahie vah pooree tarah se dhyaan dena chaahie too yah sab bachaav hai aur isake alaava sabase bada bachaave kee aapako evan sambandh bana rahe hain to kisee aur ke saath too aap kya karen ki jo suraksha hai use aapako khaasa dhyaan den to mujhe lagata hai ki aap is se bach sakate hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
एड्स के लक्षण क्या हैं और इससे कैसे बचा जा सकता है?Aids Ke Lakshan Kya Hain Aur Isse Kaise Bacha Ja Sakta Hain
sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
2:30
गुड इवनिंग सवाल है कि एड्स के लक्षण क्या होते हैं और 8 से कैसे बचा जा सकता है देखिए एड्स के लक्षण बहुत जल्दी समझ में नहीं आते हैं इससे पहले तो होता है कि हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता जगह वह समाप्त हो जाती है किसी भी बीमारी से जो लड़ने के लिए हमारे अंदर इम्यून सिस्टम जो होता है वह क्लब इम्यूनिटी पावर जो हमारी होती है वह खत्म हो जाती है एड्स के रोगी की तो इसे कोई भी बीमारी तुरंत प्रभाव करती है हमें कुछ भी हो जाएगा तो फिर वह ठीक नहीं होगा मैं कुछ भी बहुत जल्दी हो जाएगा कोई भी बीमारी हमें तुरंत पकड़ लेगी और एड्स का लक्षण हमारे अंदर हो गया है तो यह बहुत बड़ा अपनी यही पहचान है कि मतलब अगर हम मतलब संक्रमित हो गया कोई तो फिर वह उसके ऊपर बीमारी के ऊपर बीमारी आती जाएगी और वह जल्दी ठीक नहीं होगी क्योंकि वह हमारी इमेज फीमेल सिस्टम को ही बर्बाद कर देता है उसकी पावर को खत्म कर देता है इसकी बहुत ही खतरनाक रोग है यह और इससे बचाव के लिए काफी दिनों से इसके बारे में बताया जाता है लेकिन फिर भी मैं बता देता हूं कि एड्स से बचाव के लिए हमें संक्रमित सुई ब्लड उस तरह और नहीं प्रोमिला से मतलब एक ही व्यक्ति द्वारा इंजेक्शन अगर दिया गया तो उसे दूसरे व्यक्ति को नहीं देना चाहिए ब्लड को एक ही ब्लड को दूसरे व्यक्ति द्वारा प्रयोग की आमलेट को प्रयोग में नहीं लाना चाहिए और इसके बाद जो है वह एक संक्रमित मां जो है अगर वह भी बच्चे को दूध पिलाती है तो उससे भी एड्स मतलब ब्लड कंटक से और और इसके बाद सुरक्षित सेक्स करना जरूरी है मतलब एक ही व्यक्ति जो है कई औरतों के साथ सेक्स करता है या एक ही औरत कई मर्दों के साथ सेक्स करती है और वह उनमें से कोई भी अगर एक संक्रमित होता है तो उससे भी अच्छा है बहुत तेजी से फैलता है तो इन सब चीजों का ध्यान रखना चाहिए 8 से बचाव के लिए थैंक यू
Gud ivaning savaal hai ki eds ke lakshan kya hote hain aur 8 se kaise bacha ja sakata hai dekhie eds ke lakshan bahut jaldee samajh mein nahin aate hain isase pahale to hota hai ki hamaaree rog pratirodhak kshamata jagah vah samaapt ho jaatee hai kisee bhee beemaaree se jo ladane ke lie hamaare andar imyoon sistam jo hota hai vah klab imyoonitee paavar jo hamaaree hotee hai vah khatm ho jaatee hai eds ke rogee kee to ise koee bhee beemaaree turant prabhaav karatee hai hamen kuchh bhee ho jaega to phir vah theek nahin hoga main kuchh bhee bahut jaldee ho jaega koee bhee beemaaree hamen turant pakad legee aur eds ka lakshan hamaare andar ho gaya hai to yah bahut bada apanee yahee pahachaan hai ki matalab agar ham matalab sankramit ho gaya koee to phir vah usake oopar beemaaree ke oopar beemaaree aatee jaegee aur vah jaldee theek nahin hogee kyonki vah hamaaree imej pheemel sistam ko hee barbaad kar deta hai usakee paavar ko khatm kar deta hai isakee bahut hee khataranaak rog hai yah aur isase bachaav ke lie kaaphee dinon se isake baare mein bataaya jaata hai lekin phir bhee main bata deta hoon ki eds se bachaav ke lie hamen sankramit suee blad us tarah aur nahin promila se matalab ek hee vyakti dvaara injekshan agar diya gaya to use doosare vyakti ko nahin dena chaahie blad ko ek hee blad ko doosare vyakti dvaara prayog kee aamalet ko prayog mein nahin laana chaahie aur isake baad jo hai vah ek sankramit maan jo hai agar vah bhee bachche ko doodh pilaatee hai to usase bhee eds matalab blad kantak se aur aur isake baad surakshit seks karana jarooree hai matalab ek hee vyakti jo hai kaee auraton ke saath seks karata hai ya ek hee aurat kaee mardon ke saath seks karatee hai aur vah unamen se koee bhee agar ek sankramit hota hai to usase bhee achchha hai bahut tejee se phailata hai to in sab cheejon ka dhyaan rakhana chaahie 8 se bachaav ke lie thaink yoo

bolkar speaker
एड्स के लक्षण क्या हैं और इससे कैसे बचा जा सकता है?Aids Ke Lakshan Kya Hain Aur Isse Kaise Bacha Ja Sakta Hain
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:42
तुझे क्या प्रॉब्लम है इसके लक्षण क्या होता है और ऐसे कैसे बात कर सकता है ऐसा भी वायरस का पहला लक्षण तो उसने छह हफ्तों के भेष में दिखाई देने लगता है इसमें शरीर का इम्यून सिस्टम बेगाना लगता है इस अवस्था को म्यूट रेट्रोवायरल सिंड्रोम यानी कि प्राइमरी एचआईवी इन्फेक्शन कहते हैं प्राइमरी अफीम मिलने पायलों की तरह लक्षण जैसे कि सिर दर्द डायरिया उल्टी था बंद गले का सूखना सूजन छाती पर लाल आर एस एस और बुखारी ने सभी के शुरुआती लक्षण फ्लोर की तरह 1 से 2 हफ्ते में रेट है
Tujhe kya problam hai isake lakshan kya hota hai aur aise kaise baat kar sakata hai aisa bhee vaayaras ka pahala lakshan to usane chhah haphton ke bhesh mein dikhaee dene lagata hai isamen shareer ka imyoon sistam begaana lagata hai is avastha ko myoot retrovaayaral sindrom yaanee ki praimaree echaeevee inphekshan kahate hain praimaree apheem milane paayalon kee tarah lakshan jaise ki sir dard daayariya ultee tha band gale ka sookhana soojan chhaatee par laal aar es es aur bukhaaree ne sabhee ke shuruaatee lakshan phlor kee tarah 1 se 2 haphte mein ret hai

bolkar speaker
एड्स के लक्षण क्या हैं और इससे कैसे बचा जा सकता है?Aids Ke Lakshan Kya Hain Aur Isse Kaise Bacha Ja Sakta Hain
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
1:48
दोस्तों आपका स्वागत के लक्षण क्या होते हैं ऐसे कैसे बचा जा सकता है तो ससुराल में बताओ चाहूंगा अर्थ क्या होता है यह एक विषाणु मुझसे तेज शरीर को बाहरी लोगों से सुरक्षा प्रदान करने वाला रक्त में मौजूद थी कोशिका सेल्स में मस्तिष्क की कोशिकाओं को प्रभावित करता है और धीरे-धीरे उन्हें क्या करता नष्ट कर देता है कुछ वर्षों के बाद लगभग 6 से 10 वर्ष यह सिद्ध हो जाती है तो कि शरीर क्या आम लोगों में कीटाणु अपना बचाव नहीं कर पाता और तरह-तरह के संक्रमण पैदा हो जाते हैं और इसे एचआईवी नामक विषाणु से होता है यह संघ में लगभग 12 सप्ताह के बाद रख चांस होती है इसका खतरा 1 से अधिक लोगों से यौन संबंध रखने वाले व्यक्ति को हो सकता है वेश्यावृत्ति करने वाले यौनसंपर्क से हो सकता है नशीली दवाई इंफेक्शन दवा लेने वाले व्यक्ति को सकता है पिता माता को एचआईवी संक्रमण के पश्चात पैदा होने वाले बच्चों को भी हो सकते हैं बिना जांच किए हुए रक्तदान करने वाले को भी हो सकता है और लोकेश रोग कैसे फैलता है अशोक के बताओ जीवनसाथी के अलावा किसी अन्य के संबंध में बताएं यौनसंपर्क के समय कंडोम का प्रयोग जरूर करें इस पीड़ित महिलाएं गर्भधारण न करें क्योंकि पैदा होने वाले शिशु को भी यह रोग हो सकता है और चिकित्सक उपकरणों को 20 मिनट पानी में उबालकर जीवाणु रहित करके उपयोग लेवे दूसरे व्यक्ति का प्रयोग किया हुआ पलट कामनाएं ले धन्यवाद
Doston aapaka svaagat ke lakshan kya hote hain aise kaise bacha ja sakata hai to sasuraal mein batao chaahoonga arth kya hota hai yah ek vishaanu mujhase tej shareer ko baaharee logon se suraksha pradaan karane vaala rakt mein maujood thee koshika sels mein mastishk kee koshikaon ko prabhaavit karata hai aur dheere-dheere unhen kya karata nasht kar deta hai kuchh varshon ke baad lagabhag 6 se 10 varsh yah siddh ho jaatee hai to ki shareer kya aam logon mein keetaanu apana bachaav nahin kar paata aur tarah-tarah ke sankraman paida ho jaate hain aur ise echaeevee naamak vishaanu se hota hai yah sangh mein lagabhag 12 saptaah ke baad rakh chaans hotee hai isaka khatara 1 se adhik logon se yaun sambandh rakhane vaale vyakti ko ho sakata hai veshyaavrtti karane vaale yaunasampark se ho sakata hai nasheelee davaee imphekshan dava lene vaale vyakti ko sakata hai pita maata ko echaeevee sankraman ke pashchaat paida hone vaale bachchon ko bhee ho sakate hain bina jaanch kie hue raktadaan karane vaale ko bhee ho sakata hai aur lokesh rog kaise phailata hai ashok ke batao jeevanasaathee ke alaava kisee any ke sambandh mein bataen yaunasampark ke samay kandom ka prayog jaroor karen is peedit mahilaen garbhadhaaran na karen kyonki paida hone vaale shishu ko bhee yah rog ho sakata hai aur chikitsak upakaranon ko 20 minat paanee mein ubaalakar jeevaanu rahit karake upayog leve doosare vyakti ka prayog kiya hua palat kaamanaen le dhanyavaad

bolkar speaker
एड्स के लक्षण क्या हैं और इससे कैसे बचा जा सकता है?Aids Ke Lakshan Kya Hain Aur Isse Kaise Bacha Ja Sakta Hain
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College Student
1:22
नमस्कार श्रोताओं ईद के लक्षण क्या है तो इसकी कोई खास लक्षण नहीं होते सामान्य तौर पर अन्य बीमारियों में होने वाले लक्षण ही होते हैं कैसे वजन में कमी होना 30% से ज्यादा डायरिया रहना लगातार बुखार बना लेना और प्रमुख लक्षण होते हैं तो आपकी यह करता है आप को अगर कोई रोग हो गया तो उसे कम करने की वजह उसको खत्म करने की बजाय वह आपकी बॉडी से रोक नहीं पाते हो वह धीरे धीरे बढ़ता है तेरे से छोटा जो काम भी आपके लिए निम्न सकता है अब इसके बच्चा कैसे जा सकता है तो जो अवेलेबल इनफॉरमेशन उसमें आता है आम यौन संबंध के समय निरोध का प्रयोग करना इसके अलावा सिरिंज और सुई को उपयोग ना करना जो इंपैक्टेड हो गई हो और एड्स पीड़ित महिलाएं गर्भधारण ना करें क्योंकि उनसे पैदा शिशु कोई रोक लग सकता है रक्त की आवश्यकता होने पर अनजान व्यक्ति से रक्त झाले और सुरक्षित रक्त के लिए एचआईवी जांच किया रखती ग्रहण करें और बचाव काफी जरूरी है क्योंकि इसके अब तक कोई ऐसी दवाई नहीं बनी है वैक्सीन नहीं बनी है जो उसको पूरा तरीके से सही कर दे
Namaskaar shrotaon eed ke lakshan kya hai to isakee koee khaas lakshan nahin hote saamaany taur par any beemaariyon mein hone vaale lakshan hee hote hain kaise vajan mein kamee hona 30% se jyaada daayariya rahana lagaataar bukhaar bana lena aur pramukh lakshan hote hain to aapakee yah karata hai aap ko agar koee rog ho gaya to use kam karane kee vajah usako khatm karane kee bajaay vah aapakee bodee se rok nahin paate ho vah dheere dheere badhata hai tere se chhota jo kaam bhee aapake lie nimn sakata hai ab isake bachcha kaise ja sakata hai to jo avelebal inaphorameshan usamen aata hai aam yaun sambandh ke samay nirodh ka prayog karana isake alaava sirinj aur suee ko upayog na karana jo impaikted ho gaee ho aur eds peedit mahilaen garbhadhaaran na karen kyonki unase paida shishu koee rok lag sakata hai rakt kee aavashyakata hone par anajaan vyakti se rakt jhaale aur surakshit rakt ke lie echaeevee jaanch kiya rakhatee grahan karen aur bachaav kaaphee jarooree hai kyonki isake ab tak koee aisee davaee nahin banee hai vaikseen nahin banee hai jo usako poora tareeke se sahee kar de

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • एड्स का कारण क्या है, एड्स के लक्षण, एड्स का पता कैसे चलता है
URL copied to clipboard