#भारत की राजनीति

nav kishor aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nav जी का जवाब
Service
2:13
नमस्कार आपका प्रश्न है कि भारतीय संविधान की किस धारा के अंतर्गत किसान आंदोलन और आंदोलनकारियों को रास्ता रोककर सामान्य जनजीवन बाधित और निजी संपत्ति या सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का अधिकार है लेकिन यह तो अभी तक कोई भी संविधान की ऐसी कोई धारा नहीं है जिसमें कि आप अपने आंदोलन के लिए या आंदोलनकारियों के लिए जनजीवन को बाधित करने का अधिकार दिया गया हो या कोई निजी या सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का अधिकार दिया था ऐसा कोई भी अभी तक धारा नहीं है और ना ही बनेगी क्योंकि आप अपने पर्सनल मैटर के लिए लड़ रहे हैं अगर हम लोग कोई आंदोलन कर रहे हैं सरकार के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं तो वह हम अपने पर्सनल हित के लिए कर रहे हैं या जो व्यक्ति अपने आवाज उठा रहा है या आंदोलन कर रहा है तो वह अपने जो भी उसको वह दुख है परेशानियों उसके लिए वह लड़ रहा है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि वह किसी का जनजीवन बाधित करें या मतलब किसी ऐसे व्यक्ति को वह नुकसान पहुंचा है या उसको रोकने की कोशिश करें जिसका उस मैटर से कोई लेना-देना नहीं अब हम लोग जो हैं ठीक है किसान लोग अपनी जगह सही है हम यह नहीं कहते कि वह लोग गलत हैं आप आंदोलन कर रहे हैं तो ठीक कर रहे हैं उन्हें कोई परेशानी होगी तभी तो वह आंदोलन कर रहे हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वह रास्ता रोके या फिर संपत्ति को नुकसान पहुंचाए और कोई ऐसा मतलब पथराव करें या कोई और हिंसा कार्रवाई करें ऐसा उनको अधिकार नहीं दिया क्या ना ही कोई संविधान में अधिकार है यह सब वह गलत कर रहे हैं ठीक है आवाज उठानी चाहिए विरोध करना चाहिए लेकिन शांतिपूर्ण ढंग से अगर सरकार हमारी बात नहीं सुन रही है तो उसके लिए भारतीय न्यायपालिका खुली हुई है हम कोर्ट में जाकर के लड़ सकते हैं सरकार के खिलाफ एक एप्लीकेशन डाल सकते हैं सरकार के खिलाफ और टेस्ट कर सकते हैं जो भी झगड़ा है जो भी डिस्प्यूट है वह शांतिपूर्ण ढंग से हटाना चाहिए और इसके अलावा कोई भी ऐसा काम नहीं करना चाहिए जो कानून के विरुद्ध हो या कानून को नहीं तोड़ना चाहिए धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki bhaarateey sanvidhaan kee kis dhaara ke antargat kisaan aandolan aur aandolanakaariyon ko raasta rokakar saamaany janajeevan baadhit aur nijee sampatti ya sarakaaree sampatti ko nukasaan pahunchaane ka adhikaar hai lekin yah to abhee tak koee bhee sanvidhaan kee aisee koee dhaara nahin hai jisamen ki aap apane aandolan ke lie ya aandolanakaariyon ke lie janajeevan ko baadhit karane ka adhikaar diya gaya ho ya koee nijee ya sarakaaree sampatti ko nukasaan pahunchaane ka adhikaar diya tha aisa koee bhee abhee tak dhaara nahin hai aur na hee banegee kyonki aap apane parsanal maitar ke lie lad rahe hain agar ham log koee aandolan kar rahe hain sarakaar ke khilaaph aavaaj utha rahe hain to vah ham apane parsanal hit ke lie kar rahe hain ya jo vyakti apane aavaaj utha raha hai ya aandolan kar raha hai to vah apane jo bhee usako vah dukh hai pareshaaniyon usake lie vah lad raha hai lekin isaka matalab yah nahin ki vah kisee ka janajeevan baadhit karen ya matalab kisee aise vyakti ko vah nukasaan pahuncha hai ya usako rokane kee koshish karen jisaka us maitar se koee lena-dena nahin ab ham log jo hain theek hai kisaan log apanee jagah sahee hai ham yah nahin kahate ki vah log galat hain aap aandolan kar rahe hain to theek kar rahe hain unhen koee pareshaanee hogee tabhee to vah aandolan kar rahe hain lekin isaka matalab yah nahin hai ki vah raasta roke ya phir sampatti ko nukasaan pahunchae aur koee aisa matalab patharaav karen ya koee aur hinsa kaarravaee karen aisa unako adhikaar nahin diya kya na hee koee sanvidhaan mein adhikaar hai yah sab vah galat kar rahe hain theek hai aavaaj uthaanee chaahie virodh karana chaahie lekin shaantipoorn dhang se agar sarakaar hamaaree baat nahin sun rahee hai to usake lie bhaarateey nyaayapaalika khulee huee hai ham kort mein jaakar ke lad sakate hain sarakaar ke khilaaph ek epleekeshan daal sakate hain sarakaar ke khilaaph aur test kar sakate hain jo bhee jhagada hai jo bhee dispyoot hai vah shaantipoorn dhang se hataana chaahie aur isake alaava koee bhee aisa kaam nahin karana chaahie jo kaanoon ke viruddh ho ya kaanoon ko nahin todana chaahie dhanyavaad
  • सवाल पूछने के लिए ऐप डाउनलोड करें
  • सवाल पूछने के लिए ऎप डाउनलोड करें
  • Download App

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत का संविधान किसने लिखा, क्या भारत का सविधान किसानो के पक्ष में है, भारतीया सविधान के अनुसार किसानो का आंदोलन सही है या गलत
URL copied to clipboard