#जीवन शैली

bolkar speaker

काली मोटी लड़कियों को लेकर समाज इतना निष्ठुर क्यों है?

Kali Moti Ladkiyo Ko Lekar Samaj Itna Nishthur Kyin Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
काली मोटी लड़कियों को लेकर समाज इतना निष्ठुर को है सहज रूप से धनेश्वरी को सभी चीजें जितनी बोलो जी उसका इंसान तिरस्कार करता है कोविड-19 अच्छी चीजें लगती है शिकार करता है तो ऐसी बात होती है लेकिन लेकिन इंसान इसको कुछ नहीं कर सकता यह उस देखने वाली इंसान की समझ के ऊपर डिपेंड करता है अब पति को सही ढंग से समझाएं की प्रकृति भी इस तरह के जीव जंतु भी है और इंसान भी होते हैं और वसुदेव कुटुंबकम की भावना उसमें निर्माण हो जाती है अभी जो कुरूपता है उसे विज्ञापन अपने हाथ में नहीं है गोष्टी जन्म के साथ होती है और कहां पर जन्म लेना है 91 नहीं होता है यह बात है अगर समाज ने समझ लिया तो ऐसे व्यक्तियों के प्रति गणना के बजाय एक तरीके से अच्छा बर्ताव अच्छा कम्युनिकेशन कर सकता है और कोई ग्रुप है तो हमें क्या प्रॉब्लम है भोजपुरी जिंदगी जीने का अधिकार है और हम भी कितने समय तक सुंदर रहते हैं एक ऐसा समय भी आता है जब हम ग्रुप बन जाते हैं की बातें समझ लेनी चाहिए कोई हमेशा के लिए सुंदर नहीं है परिवर्तन बहुत बड़ी चीज है और वह कुछ नियम है सृष्टि का जाना जरूरी है यहां पर लड़कियों की बात है तो ऐसा कई बार देखा जाता है काली और मोटी लड़कियों को लेकर समाज निष्ठुर होता है यह समाज का लक्षण है जिसमें शिक्षा की कमी है जरूर कमी है और संस्कारों की कमी सही समाज इस तरह का बर्ताव करता है इसलिए हमारे देश में जो शिक्षा और बहुत ज्यादा बढ़ने की आवश्यकता है और उसकी राष्ट्रीय शिक्षण किसको कहा जाता है तो वह होने के बाद मनुष्य के मूल्य बन जाती जिंदगी जीने के मूल्य को समझ नहीं रखता है क्योंकि उसके मिट्टी का फ्रिज होता है बढ़ता है और इतना कम पढ़ा लिखा है और ऑस्ट्रेलिया सिस्टमैटिकली की व्यवस्था होती है शिक्षा व्यवस्था करते हो गुजरता नहीं विश्नोई सीकरी धरनाई लेकर जालंधर में लेकर जिंदगी गुजरता है उसने उससे ऐसी गलतियां हो जाती है लेकिन कई बार ऐसे ही व्यक्ति उसको संकट के समय में मदद करते हैं बहुत सुंदर लोकेशन तुम जाकर उसको पता चलता है कि रुकती नहीं घूमने कुमकुम कुमकुम आता है
Kaalee motee ladakiyon ko lekar samaaj itana nishthur ko hai sahaj roop se dhaneshvaree ko sabhee cheejen jitanee bolo jee usaka insaan tiraskaar karata hai kovid-19 achchhee cheejen lagatee hai shikaar karata hai to aisee baat hotee hai lekin lekin insaan isako kuchh nahin kar sakata yah us dekhane vaalee insaan kee samajh ke oopar dipend karata hai ab pati ko sahee dhang se samajhaen kee prakrti bhee is tarah ke jeev jantu bhee hai aur insaan bhee hote hain aur vasudev kutumbakam kee bhaavana usamen nirmaan ho jaatee hai abhee jo kuroopata hai use vigyaapan apane haath mein nahin hai goshtee janm ke saath hotee hai aur kahaan par janm lena hai 91 nahin hota hai yah baat hai agar samaaj ne samajh liya to aise vyaktiyon ke prati ganana ke bajaay ek tareeke se achchha bartaav achchha kamyunikeshan kar sakata hai aur koee grup hai to hamen kya problam hai bhojapuree jindagee jeene ka adhikaar hai aur ham bhee kitane samay tak sundar rahate hain ek aisa samay bhee aata hai jab ham grup ban jaate hain kee baaten samajh lenee chaahie koee hamesha ke lie sundar nahin hai parivartan bahut badee cheej hai aur vah kuchh niyam hai srshti ka jaana jarooree hai yahaan par ladakiyon kee baat hai to aisa kaee baar dekha jaata hai kaalee aur motee ladakiyon ko lekar samaaj nishthur hota hai yah samaaj ka lakshan hai jisamen shiksha kee kamee hai jaroor kamee hai aur sanskaaron kee kamee sahee samaaj is tarah ka bartaav karata hai isalie hamaare desh mein jo shiksha aur bahut jyaada badhane kee aavashyakata hai aur usakee raashtreey shikshan kisako kaha jaata hai to vah hone ke baad manushy ke mooly ban jaatee jindagee jeene ke mooly ko samajh nahin rakhata hai kyonki usake mittee ka phrij hota hai badhata hai aur itana kam padha likha hai aur ostreliya sistamaitikalee kee vyavastha hotee hai shiksha vyavastha karate ho gujarata nahin vishnoee seekaree dharanaee lekar jaalandhar mein lekar jindagee gujarata hai usane usase aisee galatiyaan ho jaatee hai lekin kaee baar aise hee vyakti usako sankat ke samay mein madad karate hain bahut sundar lokeshan tum jaakar usako pata chalata hai ki rukatee nahin ghoomane kumakum kumakum aata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
काली मोटी लड़कियों को लेकर समाज इतना निष्ठुर क्यों है?Kali Moti Ladkiyo Ko Lekar Samaj Itna Nishthur Kyin Hai
Abhishek Shukla ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Abhishek जी का जवाब
Motivational speaker
1:05
आज के समय में जो है तो लोगों को केवल सुंदरता ही दिखती है इस वजह से जो है तो समाज जो है तो सुंदर व्यक्ति दिखने वाले व्यक्तियों को ज्यादा आकर्षक का केंद्र में अंतर यदि अगर देखेंगे आप दूसरी ओर तो जो व्यक्ति जो है तो तेरे मोटापे का शिकार हो चुका है या फिर क्या लीजिए कि उसमें जो है तो रंगभेद है तो इस वजह से जो समाज से अलग ही एक नजरिए से देख रहा है आज के समय में और अधिक लोग जो हैं तो उन्हें उनके स्वभाव से नहीं पसंद करते हैं अधिकतम लोग जो है ना तो आज के समय में रंगभेद देखते हैं जिनका रंग गोरा होता है उन्हें अधिक पसंद किया जा रहा है जिसमें जो काले हैं उन्हें कम पसंद किया जा रहा है सबके अपने-अपने मानसिकता है इसमें और कुछ नहीं दोस्तों लेकिन मेरा मानना ऐसा है कि लोगों को जो है तो रंगभेद पर ना भरोसा करके जो है तो लोगों का विचार उनकी स्वभाव को देख करके उन्हें पसंद करना चाहिए और नजरअंदाज करना बाकी आपके अपने जमाजा दोस्तों यह है हमारे विचार धन्यवाद
Aaj ke samay mein jo hai to logon ko keval sundarata hee dikhatee hai is vajah se jo hai to samaaj jo hai to sundar vyakti dikhane vaale vyaktiyon ko jyaada aakarshak ka kendr mein antar yadi agar dekhenge aap doosaree or to jo vyakti jo hai to tere motaape ka shikaar ho chuka hai ya phir kya leejie ki usamen jo hai to rangabhed hai to is vajah se jo samaaj se alag hee ek najarie se dekh raha hai aaj ke samay mein aur adhik log jo hain to unhen unake svabhaav se nahin pasand karate hain adhikatam log jo hai na to aaj ke samay mein rangabhed dekhate hain jinaka rang gora hota hai unhen adhik pasand kiya ja raha hai jisamen jo kaale hain unhen kam pasand kiya ja raha hai sabake apane-apane maanasikata hai isamen aur kuchh nahin doston lekin mera maanana aisa hai ki logon ko jo hai to rangabhed par na bharosa karake jo hai to logon ka vichaar unakee svabhaav ko dekh karake unhen pasand karana chaahie aur najarandaaj karana baakee aapake apane jamaaja doston yah hai hamaare vichaar dhanyavaad

bolkar speaker
काली मोटी लड़कियों को लेकर समाज इतना निष्ठुर क्यों है?Kali Moti Ladkiyo Ko Lekar Samaj Itna Nishthur Kyin Hai
Naayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Naayank जी का जवाब
College
1:32
नमस्कार सुता काली मोटी लड़कियों को लेकर समाज इतना निष्ठुर क्यों है तो मोटी की बात करें मोटापे मोटापे की बात करते हैं तो सोसाइटी ने एक रूल से बना दिया है कि जो पतले लोग होंगे वही अच्छे लगेंगे यानी वही सुंदर लोग हैं जो पतले हैं खासकर लड़कियां लेने की बात करें तो यह कहीं ना कहीं वाइट सुप्रीमेसी की बात आ जाती है इसमें वाइट सपने में सियानी यह आईडिया की जो वाइट लोग हैं जिनकी जो गोरे लोग हैं वह पीपल ऑफ कलर्स यानी जो जो काले लोग हैं यानी ब्लैक पीपल जो होते हैं या भूरे रंग ऐसे इंडियन ओरेशन से उनसे बेहतर होते हैं जो खासकर अमेरिका और ब्रिटेन और यूरोप में होती है लेकिन कहीं ना कहीं भारत में भी इसका असर है हम चाहे सफेद लोग ना हो गोरे लोग ना हो लेकिन हम भी कहीं ना कहीं ऐसी चीजें करके कि काला काला है यह तो यह सुंदर नहीं है तो ऐसी बातें करके हम कहीं ना कहीं व्हाट्सएप पर मैसेज जो एक गलत भावना है गलत आईडिया है उसको कहीं ना कहीं हम सपोर्ट करते हैं तो इन सब के चलते जो हिस्टोरिकल विजन सेंड हिस्टोरिकल ब्रीफ से हमारे पहले से ही चले आ रहे हैं उनके कारण हम काले लोग मोटे लोग और इस प्रकार के लोगों को हम निष्ठुर भावना से देखते हैं
Namaskaar suta kaalee motee ladakiyon ko lekar samaaj itana nishthur kyon hai to motee kee baat karen motaape motaape kee baat karate hain to sosaitee ne ek rool se bana diya hai ki jo patale log honge vahee achchhe lagenge yaanee vahee sundar log hain jo patale hain khaasakar ladakiyaan lene kee baat karen to yah kaheen na kaheen vait supreemesee kee baat aa jaatee hai isamen vait sapane mein siyaanee yah aaeediya kee jo vait log hain jinakee jo gore log hain vah peepal oph kalars yaanee jo jo kaale log hain yaanee blaik peepal jo hote hain ya bhoore rang aise indiyan oreshan se unase behatar hote hain jo khaasakar amerika aur briten aur yoorop mein hotee hai lekin kaheen na kaheen bhaarat mein bhee isaka asar hai ham chaahe saphed log na ho gore log na ho lekin ham bhee kaheen na kaheen aisee cheejen karake ki kaala kaala hai yah to yah sundar nahin hai to aisee baaten karake ham kaheen na kaheen vhaatsep par maisej jo ek galat bhaavana hai galat aaeediya hai usako kaheen na kaheen ham saport karate hain to in sab ke chalate jo historikal vijan send historikal breeph se hamaare pahale se hee chale aa rahe hain unake kaaran ham kaale log mote log aur is prakaar ke logon ko ham nishthur bhaavana se dekhate hain

bolkar speaker
काली मोटी लड़कियों को लेकर समाज इतना निष्ठुर क्यों है?Kali Moti Ladkiyo Ko Lekar Samaj Itna Nishthur Kyin Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:34
वाले की काली मोटी लड़कियों को ले करके आज समाज नानी छुट्टियों है तो दिखाइए आज के समाज की ही दिक्कत नहीं है कि हमेशा से ही समाज की ब्रह्मा रही है कि समाज के जो व्यक्ति हैं जो लोग हैं वह कभी भी एक कालिया मोटी लड़की को नहीं है सब करते हैं जल्दी उठा एक व्यक्ति को जो है सुंदर लड़कियां ही पसंद है अपने घर परिवार के लिए अगर कभी उन्हें अपने घर में बहू चाहिए लड़की की चाहिए भले ही वह आरक्षण से कैसे भी हो इस चीज को पार्टी नहीं देते हैं बाद में चाहे वह चीज के लिए पछताते रहे
Vaale kee kaalee motee ladakiyon ko le karake aaj samaaj naanee chhuttiyon hai to dikhaie aaj ke samaaj kee hee dikkat nahin hai ki hamesha se hee samaaj kee brahma rahee hai ki samaaj ke jo vyakti hain jo log hain vah kabhee bhee ek kaaliya motee ladakee ko nahin hai sab karate hain jaldee utha ek vyakti ko jo hai sundar ladakiyaan hee pasand hai apane ghar parivaar ke lie agar kabhee unhen apane ghar mein bahoo chaahie ladakee kee chaahie bhale hee vah aarakshan se kaise bhee ho is cheej ko paartee nahin dete hain baad mein chaahe vah cheej ke lie pachhataate rahe

bolkar speaker
काली मोटी लड़कियों को लेकर समाज इतना निष्ठुर क्यों है?Kali Moti Ladkiyo Ko Lekar Samaj Itna Nishthur Kyin Hai
Mohitrajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Mohitrajput जी का जवाब
Unknown
0:47
काली और मोटी लड़कियों को लेकर समाज इतना अंतर फर्क नहीं पड़ता कोविड-19 होता है जो अपने पूरे शरीर का ध्यान रखता है मोटे मोटे लोग पर भगवान की देन नहीं होते हो खा खा कर मोटे हो जाते हैं ठीक है मोटे लोग खा खा के लोग हो जाते हैं ना मोटी लड़कियां भागी हो जाती है भाई उनको देखना चाहिए यार ठीक है उनका कुछ नहीं कर सकते वैसे इनमें कुछ भी फर्क नहीं होता
Kaalee aur motee ladakiyon ko lekar samaaj itana antar phark nahin padata kovid-19 hota hai jo apane poore shareer ka dhyaan rakhata hai mote mote log par bhagavaan kee den nahin hote ho kha kha kar mote ho jaate hain theek hai mote log kha kha ke log ho jaate hain na motee ladakiyaan bhaagee ho jaatee hai bhaee unako dekhana chaahie yaar theek hai unaka kuchh nahin kar sakate vaise inamen kuchh bhee phark nahin hota

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • काली मोटी लड़कियों को लेकर समाज इतना निष्ठुर क्यों है
URL copied to clipboard