#भारत की राजनीति

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:01
नमस्कार दोस्तों आपका प्रसन्न है किसान आंदोलनकारी गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में जो गुंडागर्दी कर रहे हैं क्या यह सही है तो दोस्तों आपके प्रश्न का उत्तर यह है गणतंत्र दिवस पर हिंसा करना बहुत ही गलत है हमारे देश का दुर्भाग्य है कि हमारे देश की सरकार के नाक के नीचे हमारे देश के अन्नदाता 60 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं लेकिन हमारे देश की सरकार नींद में सो रही है जो तीन काले कानून को वापस नहीं दे रही है जो हमारे देश के अन्नदाता का सब्र टूट गया है जो हिंसा के लिए मजबूर किया है जो गलत भी है लेकिन हमारे देश की सरकार की भी गलती है जो किसानों की मांग को नजरअंदाज किया है धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaskaar doston aapaka prasann hai kisaan aandolanakaaree ganatantr divas par dillee mein jo gundaagardee kar rahe hain kya yah sahee hai to doston aapake prashn ka uttar yah hai ganatantr divas par hinsa karana bahut hee galat hai hamaare desh ka durbhaagy hai ki hamaare desh kee sarakaar ke naak ke neeche hamaare desh ke annadaata 60 dinon se aandolan kar rahe hain lekin hamaare desh kee sarakaar neend mein so rahee hai jo teen kaale kaanoon ko vaapas nahin de rahee hai jo hamaare desh ke annadaata ka sabr toot gaya hai jo hinsa ke lie majaboor kiya hai jo galat bhee hai lekin hamaare desh kee sarakaar kee bhee galatee hai jo kisaanon kee maang ko najarandaaj kiya hai dhanyavaad saathiyon khush raho

और जवाब सुनें

Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
1:32
नमस्कार श्रोता हिंसा चाहे कोई भी करे कभी भी सही नहीं होती जो यह किया गया गुंडागर्दी तुम जितना मैंने पढ़ा है ऐसा नहीं है कि सभी किसान संगठनों ने क्या अगर 40 किसान संगठन है तो उसमें से केवल एक या दो किसान संगठन थे जिन्होंने एक गुंडागर्दी की है बाकी सब अपने रास्ते पर ही जा रहे थे इनमें से कुछ 12 थे को छोटी संख्या तीन लोगों की लेकिन तब भी उन्होंने काफी उपद्रव मचा दिया और इसकी कड़ी निंदा करने की है और किसान यूनियन के जो भी हेड है जो भी किसान संगठन के हेड हैं उन सब ने इसकी निंदा की है उन्होंने कहा कि हमारी गलती है कि हमने लोगों को बुलाया था और अपनी गलती मान रहे हैं वह लोग कि उनकी वजह से ही कहीं ना कहीं यह गलत हुई है क्योंकि देखी हिंसा करने से कुछ फायदा नहीं होगा सरकार को एक और बहाना मिल जाएगा जो प्रोटेस्ट करें शांति से उन पर भी लाठीचार्ज कर दिया जाएगा इसके चलते उल्लू के आम जनता उनके बीच भी इनकी गलत छवि बनेगी कि यह लोग गुंडे लोग हैं और यह अपने हक की जगह पर वामपंथी जो पार्टी है उनका समर्थन करने के लिए आए हैं क्योंकि रिपोर्ट पर अपना तिरंगा लगाने से कुछ मतलब नहीं बनता उल्टा पूरी भारत जनता के समक्ष उनकी काफी खराब छवि गई है और जिस प्रकाशकों ने लाठीचार्ज किया जो लाठी मारी पुलिस को जैसे भगाया उन्होंने और पुलिस को हाथ जोड़ना पड़ रहा हूं के सामने तो वह काफी गलत चीज थी
Namaskaar shrota hinsa chaahe koee bhee kare kabhee bhee sahee nahin hotee jo yah kiya gaya gundaagardee tum jitana mainne padha hai aisa nahin hai ki sabhee kisaan sangathanon ne kya agar 40 kisaan sangathan hai to usamen se keval ek ya do kisaan sangathan the jinhonne ek gundaagardee kee hai baakee sab apane raaste par hee ja rahe the inamen se kuchh 12 the ko chhotee sankhya teen logon kee lekin tab bhee unhonne kaaphee upadrav macha diya aur isakee kadee ninda karane kee hai aur kisaan yooniyan ke jo bhee hed hai jo bhee kisaan sangathan ke hed hain un sab ne isakee ninda kee hai unhonne kaha ki hamaaree galatee hai ki hamane logon ko bulaaya tha aur apanee galatee maan rahe hain vah log ki unakee vajah se hee kaheen na kaheen yah galat huee hai kyonki dekhee hinsa karane se kuchh phaayada nahin hoga sarakaar ko ek aur bahaana mil jaega jo protest karen shaanti se un par bhee laatheechaarj kar diya jaega isake chalate ulloo ke aam janata unake beech bhee inakee galat chhavi banegee ki yah log gunde log hain aur yah apane hak kee jagah par vaamapanthee jo paartee hai unaka samarthan karane ke lie aae hain kyonki riport par apana tiranga lagaane se kuchh matalab nahin banata ulta pooree bhaarat janata ke samaksh unakee kaaphee kharaab chhavi gaee hai aur jis prakaashakon ne laatheechaarj kiya jo laathee maaree pulis ko jaise bhagaaya unhonne aur pulis ko haath jodana pad raha hoon ke saamane to vah kaaphee galat cheej thee

Abhishek Shukla  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Abhishek जी का जवाब
Motivational speaker
4:58
कल जो हुआ गणतंत्र दिवस के दिन वह काफी ज्यादा निराशाजनक स्थिति पैदा हुई है दिल्ली में वह ना केवल देशवासियों के लिए बाकी अन्य देशों में भी काफी ज्यादा है इसका मजाक बनाया हम भारतीय दोस्तों चाहे आज का वह किसान हो चाहे वह आज का बस दूर हो चाहे वह किसी भी फील्ड से हो दोस्तों यह कोई भी नहीं चाहेगा कि देश की संपत्ति को हम खुद को नुकसान पहुंचा मैं टिप्पणी उन लोगों को देना चाहूंगा इसमें जो कि वाकई में अपने देश के लिए ना सोच कर अपने उन कुरीतियों और उन गतिविधियों की वजह से शर्मसार हुए जो कि ना केवल आज तक कभी नहीं हुआ और किसी ने नहीं किया वह चीजें हुई है आज प्लेटफार्म में लाखों लोग करोड़ों लोग जुड़े हुए हैं उनमें कुछ हमारे किसान भाई हैं कुछ मजदूर है कुछ विद्यार्थी है तो कुछ काम काज वाले भी लोग हैं मैं उन सभी उसे एक संदेश पहुंचाना चाहूंगा वह किसान भाइयों को कि यह मिट्टी हमारी है यह देश हमारा यह लोग हमारे हैं तो आप ऐसा क्यों क्यों ऐसा दुर्व्यवहार किया आपने क्यों ऐसे लोगों तक इतना ज्यादा अपने आक्रोश किया कि इंसानियत तक भूल गए कर लोग इंसानियत भूल गए लोग आपने देखा कैसे चढ़ाए जा रहे हो तलवारे चलाई जा रही है आप किस से चला रहे हैं क्या यूनिफार्म पहना इंसान और किसान का वेशभूषा यदि आपने डाली है हिंदी सोंग्स ऑफ इंसानियत भूल जाएंगे क्या आप उन लोगों पर लाठी चलाने से पहले यह नहीं सोचा कि उनका भी परिवार रहा होगा जरा यदि आपके साथ जस्ट ऑपोजिट क्या होता है उन लोगों ने पुलिस वालों के भी अधिकार है कि वह धारा 144 लगा करके आपको उस पर सेव है तो सजा दे सकते थे लेकिन वहां पर उन्होंने अपने नियम का पालन किया तो फिर आपने क्यों नहीं किया वायदे तो आपने सब किया लेकिन उसे निभाया क्यों नहीं कानून व्यवस्था को पता थी कि इतनी ज्यादा नहीं हो पाएगी जितना आप सोचे थे लेकिन क्यों आपने ऐसा किया जरा इस बारे में सोचेगा जरा उस देश के लिए सोचेगा जिस देश में आप रहते हैं हां माना हमने कि आप की शान है अपना जुगाड़ से हैं आप नहीं तो हम नहीं लेकिन आप यह भी तो माने सब भारतीय हैं तो आप एक अलग सा आंदोलन फैलाने का कोशिश किया इतने दिन चुपचाप से क्यों इतने आक्रोश में 1 दिन के लिए आपने इतने सारे जो कल गतिविधियां की उससे ना केवल हमारा देश काफी देशों के सामने हमारे जो है तो हमें शर्मसार होना पड़ा तो ऐसी गतिविधियां क्यों देश में रहकर के उसका भला ना सोच कर कि आप उसके जो है तो इतनी ज्यादा खराब भावना रखेंगे तो देश कैसे माफ करेगा आपको उन चीजों के बारे में सोचकर वाकई काफी दुख हुआ कल जब मैं चीजों को देख रहा था तो काफी दुख पहुंचा और इस बारे में जरूर सोचे कि क्या अन्य देश का प्रधानमंत्री अभी होता तो क्या वह कुछ एक्शन लेता सोची आपके प्रधानमंत्री जी जो हैं तो आप पर इतने नम्रता पूर्वक जो है तो आप शांतिपूर्वक जो है तो इन चीजों को जो है जो सेटअप कर रहे हैं इतना देख देख कर इन सभी चीजों का तो उनका जो है तो ठीक है उधर की परीक्षा नाले और सभी से गुजारिश करूंगा कि आप जो हैं तो उन चीजों को दोबारा कभी ना करें जिससे कि हम जो है तो संसार होना पड़ेगा
Kal jo hua ganatantr divas ke din vah kaaphee jyaada niraashaajanak sthiti paida huee hai dillee mein vah na keval deshavaasiyon ke lie baakee any deshon mein bhee kaaphee jyaada hai isaka majaak banaaya ham bhaarateey doston chaahe aaj ka vah kisaan ho chaahe vah aaj ka bas door ho chaahe vah kisee bhee pheeld se ho doston yah koee bhee nahin chaahega ki desh kee sampatti ko ham khud ko nukasaan pahuncha main tippanee un logon ko dena chaahoonga isamen jo ki vaakee mein apane desh ke lie na soch kar apane un kureetiyon aur un gatividhiyon kee vajah se sharmasaar hue jo ki na keval aaj tak kabhee nahin hua aur kisee ne nahin kiya vah cheejen huee hai aaj pletaphaarm mein laakhon log karodon log jude hue hain unamen kuchh hamaare kisaan bhaee hain kuchh majadoor hai kuchh vidyaarthee hai to kuchh kaam kaaj vaale bhee log hain main un sabhee use ek sandesh pahunchaana chaahoonga vah kisaan bhaiyon ko ki yah mittee hamaaree hai yah desh hamaara yah log hamaare hain to aap aisa kyon kyon aisa durvyavahaar kiya aapane kyon aise logon tak itana jyaada apane aakrosh kiya ki insaaniyat tak bhool gae kar log insaaniyat bhool gae log aapane dekha kaise chadhae ja rahe ho talavaare chalaee ja rahee hai aap kis se chala rahe hain kya yooniphaarm pahana insaan aur kisaan ka veshabhoosha yadi aapane daalee hai hindee songs oph insaaniyat bhool jaenge kya aap un logon par laathee chalaane se pahale yah nahin socha ki unaka bhee parivaar raha hoga jara yadi aapake saath jast opojit kya hota hai un logon ne pulis vaalon ke bhee adhikaar hai ki vah dhaara 144 laga karake aapako us par sev hai to saja de sakate the lekin vahaan par unhonne apane niyam ka paalan kiya to phir aapane kyon nahin kiya vaayade to aapane sab kiya lekin use nibhaaya kyon nahin kaanoon vyavastha ko pata thee ki itanee jyaada nahin ho paegee jitana aap soche the lekin kyon aapane aisa kiya jara is baare mein sochega jara us desh ke lie sochega jis desh mein aap rahate hain haan maana hamane ki aap kee shaan hai apana jugaad se hain aap nahin to ham nahin lekin aap yah bhee to maane sab bhaarateey hain to aap ek alag sa aandolan phailaane ka koshish kiya itane din chupachaap se kyon itane aakrosh mein 1 din ke lie aapane itane saare jo kal gatividhiyaan kee usase na keval hamaara desh kaaphee deshon ke saamane hamaare jo hai to hamen sharmasaar hona pada to aisee gatividhiyaan kyon desh mein rahakar ke usaka bhala na soch kar ki aap usake jo hai to itanee jyaada kharaab bhaavana rakhenge to desh kaise maaph karega aapako un cheejon ke baare mein sochakar vaakee kaaphee dukh hua kal jab main cheejon ko dekh raha tha to kaaphee dukh pahuncha aur is baare mein jaroor soche ki kya any desh ka pradhaanamantree abhee hota to kya vah kuchh ekshan leta sochee aapake pradhaanamantree jee jo hain to aap par itane namrata poorvak jo hai to aap shaantipoorvak jo hai to in cheejon ko jo hai jo setap kar rahe hain itana dekh dekh kar in sabhee cheejon ka to unaka jo hai to theek hai udhar kee pareeksha naale aur sabhee se gujaarish karoonga ki aap jo hain to un cheejon ko dobaara kabhee na karen jisase ki ham jo hai to sansaar hona padega

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:50
अबे साले के किसान आंदोलन का भी गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में जो गुंडागर्दी करते हैं क्या वह सही है तू है मेरे ख्याल से अपना राष्ट्रीय ध्वज का अपमान करके दूसरा राष्ट्रीय ध्वज लगा रहे हैं तो इससे बड़ी कोई बात हो ही नहीं सकती क्योंकि अपने देश के झंडे का अपमान किया गया रहे हैं फिर हम गणतंत्र दिवस मना रहे हैं हमें संविधान की शपथ लेने के बाद वह रुके हुए हैं अंडे खा रहे हैं या किसानों के सामने आंतकवादी शुभकामनाएं
Abe saale ke kisaan aandolan ka bhee ganatantr divas par dillee mein jo gundaagardee karate hain kya vah sahee hai too hai mere khyaal se apana raashtreey dhvaj ka apamaan karake doosara raashtreey dhvaj laga rahe hain to isase badee koee baat ho hee nahin sakatee kyonki apane desh ke jhande ka apamaan kiya gaya rahe hain phir ham ganatantr divas mana rahe hain hamen sanvidhaan kee shapath lene ke baad vah ruke hue hain ande kha rahe hain ya kisaanon ke saamane aantakavaadee shubhakaamanaen

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
4:48
आंदोलनकारी जो यह 26 जनवरी सन 2021 के दिन जो अराजकता का माहौल या 15 या गुंडागर्दी यह कार्य किए गए थे वह नेता नथी अनुच्छेद देश विरोधी देशद्रोही और अराजकता के कार्य थे उनकी समस्त संसार ने निंदा की है गणित हैं और मेरा मानना चाहता कि है वो किसान वर्ग जिसे भारत के लोग अन्नदाता कहकर के सम्मानित उपाधि से अलंकृत करते थे जिस किसान को अहिंसा वादी माना जाता था सीधा सच्चा माना जाता था सच्चाई में किसान तो वही ईमानदार है सच्चा है अन्नदाता भी है लेकिन किसानों की गलती यह थी कि इन लोगों ने जो अलगाववादी देश का विभाजन चाहने वाले देश की बर्बादी चाहने वाले देश के दुश्मनों के एजेंट लोगों को जो समर्थन दिया था उनको इन किसानों को उचित यह था कि ऐसी लीडर्स को यह लोग अपने आंदोलन से पार करते मुझे अन्ना हजारे ने किया था यदि किया होता तो आज ही संसार में कुख्यात नहीं होते होते ना भारतवासी उनसे घृणा करते ना की समस्त भारतवासियों के कोप का भाजन बनते सच्चाई यह है क्योंकि यह जो 37 लीटर भारत सरकार ने पकड़े हैं यह सारे इन सब की एक भारी षड्यंत्र था इन सब का वह एक भारी भारत को बर्बाद करने का भारत को बदनाम करने का इनका षड्यंत्र था इसलिए इन्हें 30 लीटर मुख्य आरोपी या मुख्य षड्यंत्रकारी देशद्रोही देश अपराधी मानते हुए राजद्रोह का केस चलाना चाहिए देशद्रोह का केस चलना चाहिए और इनको अब समय आ गया है कि भारतीय पुलिस इनसे योग गलवाय कौन-कौन सी देश विरोधी गतिविधियों में संलग्न हैं देश को क्या कृषि यंत्र में फंसाना चाहते थे यदि तुम कल्पना करो मैं तो भारत सरकार की ओर पुलिस डिपार्टमेंट की सराहना करूंगा इस बात के लिए भारत सरकार ने संयम से कार्य लिया और उपचार इन दिल्ली पुलिस सारा सहन करती रही 350 पुलिसकर्मियों को इन्होंने मारा उन्होंने घायल कर दिया यदि पुलिस ने भी प्रत्युत्तर दे दिया होता तो आज भी भारत का जो भारत के विरोधी पत्रकार हैं जो भारत विरोधी मीडिया है वह आज सारे संसार में चिल्ला चिल्ला के कह रहा हूं उतर के देखो किसानों पर कितना जुल्म किया जा रहा है दानापुर किस तरह अत्याचार किया जा रहा है और यह सारे वीडियो सारे संसार में फैला देते और आज पाकिस्तान चाइना कनाडा जैसे भारत विरोधी देश आज इस पूरे संसार में फैलाते और भारत को कुत्ता कर देते भारत को बदनाम कर देते मैं इस ऐप के माध्यम से भारत के दिल्ली पुलिस के जवानों को धन्यवाद देना चाहूंगा उनके साथ संवेदना व्यक्त करता हूं उन्होंने किस महंता के साथ इनके कर्मों को इनके अत्याचारों को इनकी लाठी डंडों की मार को जिला वास्तव में वह धन्यवाद के पात्र हैं उन्होंने भारत माता को लज्जित होने से बचा लिया है लेकिन हां यह किसानों के नाम पर एक कलंक का दाग लग गया है इसमें गलती किसानों की सत्य ही थी ऐसे सरकारी नेताओं के चेहरे नहीं पहचान सके और जिन्होंने आज खुद ने कुकर्म किए थे और बिचारे भारतीय किसानों को सीधे सच्चे किसानों को इसका नाम बदनाम कर दिया है जबकि इसमें देश के तुम्हारा चाहने वाले देश के विरुद्ध षडयंत्र करने वाले इंडस का में दोष है मुख्य दोष है और राजदीप सिंह सरदार सरदेसाई जैसे पत्रकारों का भी दोष है जिन्होंने झूठी भ्रामक न्यूज़ दी और इस उपद्रव में आग में घी का कार्य किया ऐसे लोगों को भारत सरकार को वोटों की राजनीति छोड़ करके इन लोगों को राजद्रोह जैसे कि शो में संगीन के समय फसल करते उनको सजा देनी चाहिए जिससे कि भविष्य में कोई इस प्रकार की अराजकता की कार्य ना करें भविष्य में कोई देश विरोधी कार्य ना कर सकें और भविष्य में कोई देश के राष्ट्र ध्वज का अपमान करने के साहस न जुटा सके ऐसे दो साथियों को निश्चित रूप से ही पनिशमेंट मिलना चाहिए मैं इस बात का पुरजोर समर्थन करता हूं
Aandolanakaaree jo yah 26 janavaree san 2021 ke din jo araajakata ka maahaul ya 15 ya gundaagardee yah kaary kie gae the vah neta nathee anuchchhed desh virodhee deshadrohee aur araajakata ke kaary the unakee samast sansaar ne ninda kee hai ganit hain aur mera maanana chaahata ki hai vo kisaan varg jise bhaarat ke log annadaata kahakar ke sammaanit upaadhi se alankrt karate the jis kisaan ko ahinsa vaadee maana jaata tha seedha sachcha maana jaata tha sachchaee mein kisaan to vahee eemaanadaar hai sachcha hai annadaata bhee hai lekin kisaanon kee galatee yah thee ki in logon ne jo alagaavavaadee desh ka vibhaajan chaahane vaale desh kee barbaadee chaahane vaale desh ke dushmanon ke ejent logon ko jo samarthan diya tha unako in kisaanon ko uchit yah tha ki aisee leedars ko yah log apane aandolan se paar karate mujhe anna hajaare ne kiya tha yadi kiya hota to aaj hee sansaar mein kukhyaat nahin hote hote na bhaaratavaasee unase ghrna karate na kee samast bhaaratavaasiyon ke kop ka bhaajan banate sachchaee yah hai kyonki yah jo 37 leetar bhaarat sarakaar ne pakade hain yah saare in sab kee ek bhaaree shadyantr tha in sab ka vah ek bhaaree bhaarat ko barbaad karane ka bhaarat ko badanaam karane ka inaka shadyantr tha isalie inhen 30 leetar mukhy aaropee ya mukhy shadyantrakaaree deshadrohee desh aparaadhee maanate hue raajadroh ka kes chalaana chaahie deshadroh ka kes chalana chaahie aur inako ab samay aa gaya hai ki bhaarateey pulis inase yog galavaay kaun-kaun see desh virodhee gatividhiyon mein sanlagn hain desh ko kya krshi yantr mein phansaana chaahate the yadi tum kalpana karo main to bhaarat sarakaar kee or pulis dipaartament kee saraahana karoonga is baat ke lie bhaarat sarakaar ne sanyam se kaary liya aur upachaar in dillee pulis saara sahan karatee rahee 350 pulisakarmiyon ko inhonne maara unhonne ghaayal kar diya yadi pulis ne bhee pratyuttar de diya hota to aaj bhee bhaarat ka jo bhaarat ke virodhee patrakaar hain jo bhaarat virodhee meediya hai vah aaj saare sansaar mein chilla chilla ke kah raha hoon utar ke dekho kisaanon par kitana julm kiya ja raha hai daanaapur kis tarah atyaachaar kiya ja raha hai aur yah saare veediyo saare sansaar mein phaila dete aur aaj paakistaan chaina kanaada jaise bhaarat virodhee desh aaj is poore sansaar mein phailaate aur bhaarat ko kutta kar dete bhaarat ko badanaam kar dete main is aip ke maadhyam se bhaarat ke dillee pulis ke javaanon ko dhanyavaad dena chaahoonga unake saath sanvedana vyakt karata hoon unhonne kis mahanta ke saath inake karmon ko inake atyaachaaron ko inakee laathee dandon kee maar ko jila vaastav mein vah dhanyavaad ke paatr hain unhonne bhaarat maata ko lajjit hone se bacha liya hai lekin haan yah kisaanon ke naam par ek kalank ka daag lag gaya hai isamen galatee kisaanon kee saty hee thee aise sarakaaree netaon ke chehare nahin pahachaan sake aur jinhonne aaj khud ne kukarm kie the aur bichaare bhaarateey kisaanon ko seedhe sachche kisaanon ko isaka naam badanaam kar diya hai jabaki isamen desh ke tumhaara chaahane vaale desh ke viruddh shadayantr karane vaale indas ka mein dosh hai mukhy dosh hai aur raajadeep sinh saradaar saradesaee jaise patrakaaron ka bhee dosh hai jinhonne jhoothee bhraamak nyooz dee aur is upadrav mein aag mein ghee ka kaary kiya aise logon ko bhaarat sarakaar ko voton kee raajaneeti chhod karake in logon ko raajadroh jaise ki sho mein sangeen ke samay phasal karate unako saja denee chaahie jisase ki bhavishy mein koee is prakaar kee araajakata kee kaary na karen bhavishy mein koee desh virodhee kaary na kar saken aur bhavishy mein koee desh ke raashtr dhvaj ka apamaan karane ke saahas na juta sake aise do saathiyon ko nishchit roop se hee panishament milana chaahie main is baat ka purajor samarthan karata hoon

Naman Singh Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Naman जी का जवाब
Student & Social worker
2:55
नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है कि किसान आंदोलन का गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में जो गुंडागर्दी कर रहे हैं क्या यह सही है यह बिल्कुल भी सही नहीं है क्योंकि यह गणतंत्र दिवस भारत का एक बहुत बड़ा पर्व है भारत की आजादी का बहुत बड़ा पर्व है और इस पर्व पर देश का अपमान करने के राजा हम किसी को नहीं दे सकते क्योंकि यह भारत की संप्रभुता एकता और उसकी इज्जत और उस हमारे मन में भारत का यह सब इन चीजों के कारण ही है तो जो कुछ भी ना दिल्ली में जो हुआ जो भी चीजें हुई है वह बहुत ही गलत है शर्मसार करने वाली है पर हम सिर्फ एक पहलू को ही देख पा रहे हैं हम दूसरी बहनों की तरफ बिल्कुल भी गौर नहीं कर पा रहे हैं जी क्यों रैली हुई रैली के दौरान लाल किले तक जो प्रदर्शनकारी पहुंचे लाल किले में जो कुछ भी हुआ वह हम सबके सामने है तो सवाल ये उठता है कि जब लालकिले तक जाने का कोई रूठता ही नहीं तो शान प्रदर्शनकारी वहां तक कैसे पहुंचे दूसरी बात यह है कि जो बात सामने आई है और जो हमें बताई नहीं जा रही है जिन रूटों से होकर किसानों को अपना रैली निकालनी थी उन रूटों में बैरिकेट्स लगा दिए गए थे और दिल्ली की तरफ जाने वाले रास्ते पर एक छोटे-मोटे बैरिकेड लगाए गए थे और के कारण जो सूट था उस रूट को बंद कर दिल्ली के रूप में कम वेरी ग्रेट लगाए गए और वह जल्दी वहां से वह तोड़ने में सफल रहे और दिल्ली के अंदर घुस गए अब सवाल यह है किस रूट से भटकाने की कोशिश क्यों की गई दूसरा सवाल यह भी होता है सिर्फ एक व्यक्ति का नाम इस पूरे जो गणतंत्र दिवस पर कितनी है सिर्फ एक तो व्यक्ति का नाम इसमें शामिल हो रहा है यह किसान आंदोलनकारी नहीं थी किसान आंदोलन को बदनाम करने के लिए यह साजिश रची गई एक व्यक्ति जो ना किसान आंदोलन आंदोलन में था ना किसान रैली में था फिर भी वह डायरेक्ट लाल किला पहुंचता है और लाल किले में श्रीनगर के वहां से निकल जाता है आज तक उस पर कोई कार्यवाही नहीं की जाती है तो इस पर सवालिया निशान को उठना स्वाभाविक है तो मैं नहीं मानता कि यह गलती हुई है पर यह किसान आंदोलनकारी नहीं थी किसान तो नहीं सकते भाइयों ऐसा कभी नहीं कर सकते हमें बांटने की कोशिश की जा रही है धन्यवाद
Namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai ki kisaan aandolan ka ganatantr divas par dillee mein jo gundaagardee kar rahe hain kya yah sahee hai yah bilkul bhee sahee nahin hai kyonki yah ganatantr divas bhaarat ka ek bahut bada parv hai bhaarat kee aajaadee ka bahut bada parv hai aur is parv par desh ka apamaan karane ke raaja ham kisee ko nahin de sakate kyonki yah bhaarat kee samprabhuta ekata aur usakee ijjat aur us hamaare man mein bhaarat ka yah sab in cheejon ke kaaran hee hai to jo kuchh bhee na dillee mein jo hua jo bhee cheejen huee hai vah bahut hee galat hai sharmasaar karane vaalee hai par ham sirph ek pahaloo ko hee dekh pa rahe hain ham doosaree bahanon kee taraph bilkul bhee gaur nahin kar pa rahe hain jee kyon railee huee railee ke dauraan laal kile tak jo pradarshanakaaree pahunche laal kile mein jo kuchh bhee hua vah ham sabake saamane hai to savaal ye uthata hai ki jab laalakile tak jaane ka koee roothata hee nahin to shaan pradarshanakaaree vahaan tak kaise pahunche doosaree baat yah hai ki jo baat saamane aaee hai aur jo hamen bataee nahin ja rahee hai jin rooton se hokar kisaanon ko apana railee nikaalanee thee un rooton mein bairikets laga die gae the aur dillee kee taraph jaane vaale raaste par ek chhote-mote bairiked lagae gae the aur ke kaaran jo soot tha us root ko band kar dillee ke roop mein kam veree gret lagae gae aur vah jaldee vahaan se vah todane mein saphal rahe aur dillee ke andar ghus gae ab savaal yah hai kis root se bhatakaane kee koshish kyon kee gaee doosara savaal yah bhee hota hai sirph ek vyakti ka naam is poore jo ganatantr divas par kitanee hai sirph ek to vyakti ka naam isamen shaamil ho raha hai yah kisaan aandolanakaaree nahin thee kisaan aandolan ko badanaam karane ke lie yah saajish rachee gaee ek vyakti jo na kisaan aandolan aandolan mein tha na kisaan railee mein tha phir bhee vah daayarekt laal kila pahunchata hai aur laal kile mein shreenagar ke vahaan se nikal jaata hai aaj tak us par koee kaaryavaahee nahin kee jaatee hai to is par savaaliya nishaan ko uthana svaabhaavik hai to main nahin maanata ki yah galatee huee hai par yah kisaan aandolanakaaree nahin thee kisaan to nahin sakate bhaiyon aisa kabhee nahin kar sakate hamen baantane kee koshish kee ja rahee hai dhanyavaad

saurabh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए saurabh जी का जवाब
Unknown
0:05

Charmi Jain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Charmi जी का जवाब
Unknown
2:01
हिंदी दिवस पर दिल्ली में जो गुंडा करती हुई है उस पर हम सबको खेत हैं किसानों के साथ पूरा देश खड़ा है पहले भी खड़ा था अभी खड़ा है लेकिन जो गुंडागर्दी हुई है लाल किले पर जो हमारी तिरंगे का अपमान हुआ है उसे हम कभी भी स्वीकार नहीं करेंगे देशद्रोही होने इन आंदोलनकारियों ने जिन्होंने हमारे देश की छवि बिगाड़ी है विदेशी ताकतों को मौका दे दिया है कि वह भारत के खिलाफ साजिशें रची रची रची और और हमारे नए भारत पर जो कि काफी प्रगति शील है उसका नाम पूरे विश्व में खराब किया जाए और उनके खिलाफ षड्यंत्र रचा जाए इनमें से कई ऐसे लोग हैं जो पैसों के लिए हमारे देश का नाम खराब करना चाहते हैं किसान भाई हमेशा से ही सरकारों की वजह से परेशान रहे हैं और यह हम सब समझते हैं लेकिन देश की छवि बिगाड़ना ना तो हमें स्वीकार होगा और ना ही हम इसे दोबारा होने देंगे बाकी बात नहीं की तो किसान आंदोलन की तो हममें से हर कोई किसानों के साथ है अगर किसानों के साथ गलत हुआ है और अगर उनके साथ गलत होता रहा है तो भी हम इस वक्त चाहेंगे कि मोदी सरकार उसे सही करें जो भाजपा की सरकार केंद्र में है वह हमारे किसान भाइयों बहनों को मदद करें ताकि वह अपने पुराने कई सालों के कई वर्षों के कई दशकों के जो उनके गांव है उसे खरीदने के बजाय उन्हें उन पर मलहम लगाएं मुझे ऐसा लगता है कि यह जो गुंडागर्दी हुई थी गणतंत्र दिवस पर किसानों की नहीं बल्कि दूसरी पॉलीटिकल पावर की थी जो लेफ्ट में अभी ऑपरेशन में बैठे हुए हैं उनकी एक चाल थी ताकि देश का नाम तो खराब हो ही हो मोदी सरकार या भाजपा सरकार जैसे भी आप उन्हें बनाना चाहिए उनका भी नाम खराब हो मुझे ऐसा लगता है कि किसानों के नाम पर यह राजनीति छोड़ कर उन्हें किसानों की सच में मदद कर चाहिए
Hindee divas par dillee mein jo gunda karatee huee hai us par ham sabako khet hain kisaanon ke saath poora desh khada hai pahale bhee khada tha abhee khada hai lekin jo gundaagardee huee hai laal kile par jo hamaaree tirange ka apamaan hua hai use ham kabhee bhee sveekaar nahin karenge deshadrohee hone in aandolanakaariyon ne jinhonne hamaare desh kee chhavi bigaadee hai videshee taakaton ko mauka de diya hai ki vah bhaarat ke khilaaph saajishen rachee rachee rachee aur aur hamaare nae bhaarat par jo ki kaaphee pragati sheel hai usaka naam poore vishv mein kharaab kiya jae aur unake khilaaph shadyantr racha jae inamen se kaee aise log hain jo paison ke lie hamaare desh ka naam kharaab karana chaahate hain kisaan bhaee hamesha se hee sarakaaron kee vajah se pareshaan rahe hain aur yah ham sab samajhate hain lekin desh kee chhavi bigaadana na to hamen sveekaar hoga aur na hee ham ise dobaara hone denge baakee baat nahin kee to kisaan aandolan kee to hamamen se har koee kisaanon ke saath hai agar kisaanon ke saath galat hua hai aur agar unake saath galat hota raha hai to bhee ham is vakt chaahenge ki modee sarakaar use sahee karen jo bhaajapa kee sarakaar kendr mein hai vah hamaare kisaan bhaiyon bahanon ko madad karen taaki vah apane puraane kaee saalon ke kaee varshon ke kaee dashakon ke jo unake gaanv hai use khareedane ke bajaay unhen un par malaham lagaen mujhe aisa lagata hai ki yah jo gundaagardee huee thee ganatantr divas par kisaanon kee nahin balki doosaree poleetikal paavar kee thee jo lepht mein abhee opareshan mein baithe hue hain unakee ek chaal thee taaki desh ka naam to kharaab ho hee ho modee sarakaar ya bhaajapa sarakaar jaise bhee aap unhen banaana chaahie unaka bhee naam kharaab ho mujhe aisa lagata hai ki kisaanon ke naam par yah raajaneeti chhod kar unhen kisaanon kee sach mein madad kar chaahie

राम सिंह Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए राम जी का जवाब
शिक्षण
1:15
नमस्कार दोस्तों मैं रामसिंग पंकज जैसे कि आपने पूछा कि किसान आंदोलन कार्यक्रम तंत्र दिवस पर दिल्ली में जो गुंडागर्दी कर रहे क्या बोलते हैं कि पहले तो आप ने सवाल किया उसने कहना कि गलती है आप पर गुंडागर्दी सब देना कहीं ना कहीं गलत है आप कुछ प्रस्तुत करना चैट सेंड करना चाहिए क्या पुसद पर गुंडागर्दी हमारे किसान आंदोलन करना कोई भी गलत बात नहीं आप सरकारी कर्मचारी है आंदोलन का नगद बात नहीं है विद्यार्थी है तो भारतीय राजनीति का पढ़ते हैं तो राजनीतिक सामाजिक और पढ़ते हैं पॉलीटिकल सोशलाइजेशन और दूसरा राजनीतिक सुधारी करण होता है सुधार के लिए होता तो उसके अंडे होते हैं एक तो शांतिपूर्ण सह अस्तित्व के तौर पर आंदोलन करते हैं और राज्य की लोक कल्याणकारी बनाने के एक बहुत ही महत्वपूर्ण साधन रखना है लेकिन हर धर्म में आंदोलन किसान नेता है उनका यह जो प्रकाशन की गलतियां है वही समय में पता नहीं कहां लुकाछिपी कर गई थी तो उनको पूरी योजना बनानी थी जो कुछ लोग थे जो इस प्रकार गलत कर रही थी लाल किले पर कुछ सही मायने में गलत

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान आंदोलनकारी गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में जो गुंडागर्दी कर रहे हैं क्या यह सही है गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में गुंडागर्दी
URL copied to clipboard