#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

एक विवाह का सिद्धांत किसने प्रस्तुत किया?

Ek Vivah Ka Siddhant Kisne Prastut Kiya
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
1:21
प्रश्न है एक विवाह का सिद्धांत किसने प्रस्तुत किया दोस्तों देखिए एक विवाह का सिद्धांत जो है रावण नाथ उपाध्याय ने शिव पुराण में प्रस्तुत किया था यह जो है निर्णय उन्होंने स्त्री के संरक्षक संरक्षण को लेकर लिया था क्योंकि स्त्री सशक्तिकरण में ऐसा निर्णय इसीलिए लिया गया था लोग एक से अधिक विवाह के कारण स्त्री के सम्मान नहीं करते थे इतना सम्मान नहीं मिलता था एक विवाह के बाद स्त्री का सम्मान मिलना मिलने लगा था और अंशु शास्त्री का जीवन का भी प्रश्न था क्योंकि निरंतर गिरते महिलाओं के जिस हिसाब से सुरक्षा को देखते हुए ऐसा निर्णय लिया था क्योंकि उन्हें यह ज्ञात था कि आने वाले समय में इससे भी बुरा समय आएगा जो कि स्त्रियों के लिए आगे चलकर घातक होगा अगर उस समय में उन्होंने यह निर्णय नहीं लिया होता एक विवाह का आज के समय के और जो पुरुष है वह उसका दुरूपयोग करके कई स्त्रियों को अपना शिकार बना सकते थे और उनका जीवन नष्ट कर सकते रहे यही कारण है कि उन्होंने अपनी दिव्य दृष्टि से पता करके यह पता कर लिया कि आने वाला समय और ज्यादा खतरनाक है इसीलिए उन्होंने ऐसा निर्णय लिया था जय माता दी जय हिंदुस्तान
Prashn hai ek vivaah ka siddhaant kisane prastut kiya doston dekhie ek vivaah ka siddhaant jo hai raavan naath upaadhyaay ne shiv puraan mein prastut kiya tha yah jo hai nirnay unhonne stree ke sanrakshak sanrakshan ko lekar liya tha kyonki stree sashaktikaran mein aisa nirnay iseelie liya gaya tha log ek se adhik vivaah ke kaaran stree ke sammaan nahin karate the itana sammaan nahin milata tha ek vivaah ke baad stree ka sammaan milana milane laga tha aur anshu shaastree ka jeevan ka bhee prashn tha kyonki nirantar girate mahilaon ke jis hisaab se suraksha ko dekhate hue aisa nirnay liya tha kyonki unhen yah gyaat tha ki aane vaale samay mein isase bhee bura samay aaega jo ki striyon ke lie aage chalakar ghaatak hoga agar us samay mein unhonne yah nirnay nahin liya hota ek vivaah ka aaj ke samay ke aur jo purush hai vah usaka duroopayog karake kaee striyon ko apana shikaar bana sakate the aur unaka jeevan nasht kar sakate rahe yahee kaaran hai ki unhonne apanee divy drshti se pata karake yah pata kar liya ki aane vaala samay aur jyaada khataranaak hai iseelie unhonne aisa nirnay liya tha jay maata dee jay hindustaan

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या विवाह एक सामाजिक संस्था है, विवाह के प्रमुख उद्देश्य क्या है, हिन्दू विवाह एक धार्मिक संस्कार है किसने कहा
URL copied to clipboard