#भारत की राजनीति

आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
2:44
नमस्कार आपने पूछा है कि आज के किसानों के आंदोलन के लिए भारत सरकार जिम्मेवार है या किसान रविवार है या कोई बाहर का देखिए सामने जो दिख रहा है उसके आधार पर तो भारत सरकार और किसान दोनों जिम्मेवार हैं लेकिन अगर कोई बाहर की बात करें तो हार के अंदेशे से इनकार नहीं किया जा सकता अब इन्हीं पहलुओं में बात करते हैं किसान जिम्मेवार इस कारण से हैं उनको भारत सरकार की पुलिस से न्यू दिल्ली की पुलिस से एक कमिटमेंट किया था कि किन-किन मार्गों के ऊपर उनका जुलूस होगा कैसे होगा उनके क्या पैरामीटर्स होंगे यह तमाम चीजें उन्होंने लिखित रूप से पुलिस को दी थी उसके बाद उन्होंने उस सारे बैरिकेड तोड़े उन रास्तों को थोड़ा राजपूतों को थोड़ा और लाल किले तक पहुंच गए प्रशन इसे नकारा नहीं जा सकता है कि कोई अराजक तत्व होंगे लेकिन इस पूरी कार्यवाही पूरे आंदोलन की जिम्मेवारी संगठन प्रबंधकों का जिम्मेवारी थी कि वह उनके अंतर अधीन होकर ही काम करें उनके कंट्रोल में हो कर काम करें अब आती है दूसरी बात दूसरी तरफ यह वाक्य है कि भारत सरकार जैसा कि समाचारों से जानकारियां प्राप्त हुई होती हैं कि इनको पहले से ही अंदेशा था कि किसान इस तरह के क्या कर सकते हैं इस तरह का आंदोलन कर सकते हैं जिन्होंने उस बात के प्रति अपने आपको तैयार क्यों नहीं रखता हूं यह कहिए कि जहां यह लाल किले पर ऊपर तक पड़ जाते हैं उस जगह के के लिए उन्होंने कुछ भी क्यों नहीं किया तो इस तरह यह दोनों ही बातें स्पष्ट रूप से सामने आ रही है लेकिन जब झांकी मैंने बाहर की बात की तो बाहर का अप्रत्याशित रूप से उनके ऊपर हाथ ही है धन्यवाद
Namaskaar aapane poochha hai ki aaj ke kisaanon ke aandolan ke lie bhaarat sarakaar jimmevaar hai ya kisaan ravivaar hai ya koee baahar ka dekhie saamane jo dikh raha hai usake aadhaar par to bhaarat sarakaar aur kisaan donon jimmevaar hain lekin agar koee baahar kee baat karen to haar ke andeshe se inakaar nahin kiya ja sakata ab inheen pahaluon mein baat karate hain kisaan jimmevaar is kaaran se hain unako bhaarat sarakaar kee pulis se nyoo dillee kee pulis se ek kamitament kiya tha ki kin-kin maargon ke oopar unaka juloos hoga kaise hoga unake kya pairaameetars honge yah tamaam cheejen unhonne likhit roop se pulis ko dee thee usake baad unhonne us saare bairiked tode un raaston ko thoda raajapooton ko thoda aur laal kile tak pahunch gae prashan ise nakaara nahin ja sakata hai ki koee araajak tatv honge lekin is pooree kaaryavaahee poore aandolan kee jimmevaaree sangathan prabandhakon ka jimmevaaree thee ki vah unake antar adheen hokar hee kaam karen unake kantrol mein ho kar kaam karen ab aatee hai doosaree baat doosaree taraph yah vaaky hai ki bhaarat sarakaar jaisa ki samaachaaron se jaanakaariyaan praapt huee hotee hain ki inako pahale se hee andesha tha ki kisaan is tarah ke kya kar sakate hain is tarah ka aandolan kar sakate hain jinhonne us baat ke prati apane aapako taiyaar kyon nahin rakhata hoon yah kahie ki jahaan yah laal kile par oopar tak pad jaate hain us jagah ke ke lie unhonne kuchh bhee kyon nahin kiya to is tarah yah donon hee baaten spasht roop se saamane aa rahee hai lekin jab jhaankee mainne baahar kee baat kee to baahar ka apratyaashit roop se unake oopar haath hee hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
1:03
जी इस अलकापुरी करें सही है किसान ही जिम्मेदार है क्योंकि हमेशा करके इस आंदोलन को अमेरिका से कभी सफल नहीं किया जा सकते हैं क्योंकि हमारा देश में गांधी जी जैसे महापुरुष हुए हैं और वह हिंसा के पुजारी हैं और अपने हिंसा के बल पर बहुत से आंदोलन को जीता भी हैं अगर हिंसा करने पर सभी आ जाए तो देश में फिर क्या होगा और दूसरी बात जो लाल किले पर झंडा लगाया गया है एक कातिया 119 अंक का अगर जो अब कोई भी एंजेल करेगा तो अपने अपने कौम का झंडा लहराने लगेगा तो आने वाला भारत का भविष्य क्या होगा यह देखने वाली बात रहेगी
Jee is alakaapuree karen sahee hai kisaan hee jimmedaar hai kyonki hamesha karake is aandolan ko amerika se kabhee saphal nahin kiya ja sakate hain kyonki hamaara desh mein gaandhee jee jaise mahaapurush hue hain aur vah hinsa ke pujaaree hain aur apane hinsa ke bal par bahut se aandolan ko jeeta bhee hain agar hinsa karane par sabhee aa jae to desh mein phir kya hoga aur doosaree baat jo laal kile par jhanda lagaaya gaya hai ek kaatiya 119 ank ka agar jo ab koee bhee enjel karega to apane apane kaum ka jhanda laharaane lagega to aane vaala bhaarat ka bhavishy kya hoga yah dekhane vaalee baat rahegee

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
2:02
किसान आंदोलन के लिए किसान भी उतने ही जिम्मेदार हैं जितनी जिम्मेदार सरकार हैं क्योंकि यह भी आम भारतीयों की समस्याओं को नहीं समझ रहे हैं धर्म का पूर्ण राष्ट्रीय जाम किए बैठे हैं अरे आप इतनी ताकतवर मंत्रियों की कि बंद कीजिए इनकी सुविधाएं बंद कीजिए इन मंत्रियों को गिरी है लेकिन आप आम भारतीय कार जो रास्ता रोके हुए पड़े हैं सड़कों के हुए पड़े हैं उसे आम भारतीय परेशान हो रहा है यह मंत्री परेशान नहीं हो रहे हैं यह सरकार परेशान नहीं हो रही है अधिकारी परेशान नहीं हो रहे हैं क्योंकि इनके पास तो दवाई सुविधाएं बहुत सारी सुविधाएं इन के रास्ते जाम करने से काम भारतीय परेशान होता एक मजदूर पर परेशान होता है गरीब आदमी के धंधे चौपट हो जाते हैं उनके रास्ते बंद हो जाते हैं तो यह सब बातें इनको सोचनी चाहिए सरकार है वह पीछे हटने को तैयार नहीं है किसान मानने को तैयार नहीं है तो बताइए तो एक आम भारतीय की जिंदगी कैसी हो गई है नित रोज के जाम लगता सरकार है इतनी शक्ति नहीं रखती है कि जब जाम को खुलवाया सके किसान है जो आम लोगों की समस्याएं सुनने को तैयार नहीं है वे किसी गरीब आदमी का नहीं सोचते कि तुम अपने स्वार्थ के लिए रास्ता जाम क्यों बैठे हो तुमने एक आम भारतीय की समस्याएं बढ़ा दिए गरीब आदमी रो रहा है मजदूर हो रहा है उसको चूल्हे नहीं चल पा रहे हैं टैक्सी वाले परेशान हैं उन सड़क के किनारे वाला लगाने वाले छोटे दुकानदार परेशान है बच्चे परेशान है उनके स्कूल नहीं जा पाते हैं मेरी समझ में ही नहीं आता है क्या कि देश में हो क्या रहा है यह प्रजातंत्र का एक माहौल है एक मेरे विचार से प्रजातंत्र का एक मजाक क्यों की सरकारों में इतनी शक्ति नहीं कि जाम खुलवा सकें और लोग मानते नहीं यह दोनों तरफ से ही मेरे चाचा हठधर्मिता हो रही है परिणाम स्वरूप एक आम भारतीय दुखी है परेशान है वहां के बाशिंदों परेशान हैं उनके बच्चों की उम्र के निवाले चुन रहे हैं उनकी मजदूरों के घरों के चूल्हे ठंडे पड़ गए हैं एक गरीब आदमी बहुत बेहद दुखी है
Kisaan aandolan ke lie kisaan bhee utane hee jimmedaar hain jitanee jimmedaar sarakaar hain kyonki yah bhee aam bhaarateeyon kee samasyaon ko nahin samajh rahe hain dharm ka poorn raashtreey jaam kie baithe hain are aap itanee taakatavar mantriyon kee ki band keejie inakee suvidhaen band keejie in mantriyon ko giree hai lekin aap aam bhaarateey kaar jo raasta roke hue pade hain sadakon ke hue pade hain use aam bhaarateey pareshaan ho raha hai yah mantree pareshaan nahin ho rahe hain yah sarakaar pareshaan nahin ho rahee hai adhikaaree pareshaan nahin ho rahe hain kyonki inake paas to davaee suvidhaen bahut saaree suvidhaen in ke raaste jaam karane se kaam bhaarateey pareshaan hota ek majadoor par pareshaan hota hai gareeb aadamee ke dhandhe chaupat ho jaate hain unake raaste band ho jaate hain to yah sab baaten inako sochanee chaahie sarakaar hai vah peechhe hatane ko taiyaar nahin hai kisaan maanane ko taiyaar nahin hai to bataie to ek aam bhaarateey kee jindagee kaisee ho gaee hai nit roj ke jaam lagata sarakaar hai itanee shakti nahin rakhatee hai ki jab jaam ko khulavaaya sake kisaan hai jo aam logon kee samasyaen sunane ko taiyaar nahin hai ve kisee gareeb aadamee ka nahin sochate ki tum apane svaarth ke lie raasta jaam kyon baithe ho tumane ek aam bhaarateey kee samasyaen badha die gareeb aadamee ro raha hai majadoor ho raha hai usako choolhe nahin chal pa rahe hain taiksee vaale pareshaan hain un sadak ke kinaare vaala lagaane vaale chhote dukaanadaar pareshaan hai bachche pareshaan hai unake skool nahin ja paate hain meree samajh mein hee nahin aata hai kya ki desh mein ho kya raha hai yah prajaatantr ka ek maahaul hai ek mere vichaar se prajaatantr ka ek majaak kyon kee sarakaaron mein itanee shakti nahin ki jaam khulava saken aur log maanate nahin yah donon taraph se hee mere chaacha hathadharmita ho rahee hai parinaam svaroop ek aam bhaarateey dukhee hai pareshaan hai vahaan ke baashindon pareshaan hain unake bachchon kee umr ke nivaale chun rahe hain unakee majadooron ke gharon ke choolhe thande pad gae hain ek gareeb aadamee bahut behad dukhee hai

er. ramphal bind Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए er. जी का जवाब
Private job
0:36
प्रश्न आपका आज किसानों के आंदोलन के लिए भारत सरकार जिम्मेदारी किसान या फिर कोई बाहरी हमेशा पावर बैठे लोग ही जिम्मेदार होते हैं यानी कहा जाए तो हमेशा सरकारी जिम्मेदार होती है क्योंकि आज किसानों के आंदोलन की भारत सरकार जिम्मेदार है आज 60 से अधिक दिन हो गए हैं यदि भारत सरकार चाहती तो कौन कोई समाधान निकल गया होता और समाधान करने से संवाद से निकल सकता है
Prashn aapaka aaj kisaanon ke aandolan ke lie bhaarat sarakaar jimmedaaree kisaan ya phir koee baaharee hamesha paavar baithe log hee jimmedaar hote hain yaanee kaha jae to hamesha sarakaaree jimmedaar hotee hai kyonki aaj kisaanon ke aandolan kee bhaarat sarakaar jimmedaar hai aaj 60 se adhik din ho gae hain yadi bhaarat sarakaar chaahatee to kaun koee samaadhaan nikal gaya hota aur samaadhaan karane se sanvaad se nikal sakata hai

vijay goud Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Unknown
0:02

Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक, संस्कृतभारती जयपुरमहानगर प्रचारप्रमुख और सन्देशप्रमुख
1:52
नमस्कार मित्र आप ने प्रश्न किया है क्या आज किसानों के आंदोलन के लिए भारत सरकार जिम्मेदार है या किसान या कोई बाहरी तो मित्र किसान आंदोलन जो हो रहा है इसको लेकर के बहुत परेशानी लोगों को झेलनी पड़ रही है उनकी इस आंदोलन के कारण दिल्ली आ जाओ दिल्ली हाईवे है वह पूरी तरीके से बाधित है और उसी के द्वारा ही दिल्ली से कोई भी सामान जो है बाहर आता था अब वही जब बंद है तो बहुत सारी परेशानियां लोगों को झेलनी पड़ रही है अब सवाल आता है कि जैसे आपने पूछा कि यह किसान आंदोलन के जिम्मेदार है कौन बने के यहां पर भारत सरकार तो इसके जिम्मेदार नहीं है क्योंकि उन्होंने जो बिल बनाया है जो वह ले कर के आ रहे हैं वह इनके पक्ष में परंतु अभी यह बात किसान इतना समझते नहीं है तो जो तीसरी आंख जो तीसरा पक्ष एक और है यानी कि विपक्षी जो है वह इसका फायदा ले रहे हैं और उन्होंने किसानों को कुछ ऐसी बातें बताई है मलिक इस बिल को लेकर के गलत सूचनाएं उन तक पहुंचाई जिससे वह आक्रोश में आ चुके हैं और अब धरना प्रदर्शन कर रहे हैं तो इस आंदोलन को लेकर के जो जिम्मेदार है वह है तीसरी तीसरा व्यक्ति अर्थात विपक्षी दल जो है विपक्षी दल के द्वारा ही किसानों को भड़काया जा रहा है और इस आंदोलन को करवाया जा रहा है जिसमें उन वही वह लोग ही इसके जिम्मेदार है धन्यवाद
Namaskaar mitr aap ne prashn kiya hai kya aaj kisaanon ke aandolan ke lie bhaarat sarakaar jimmedaar hai ya kisaan ya koee baaharee to mitr kisaan aandolan jo ho raha hai isako lekar ke bahut pareshaanee logon ko jhelanee pad rahee hai unakee is aandolan ke kaaran dillee aa jao dillee haeeve hai vah pooree tareeke se baadhit hai aur usee ke dvaara hee dillee se koee bhee saamaan jo hai baahar aata tha ab vahee jab band hai to bahut saaree pareshaaniyaan logon ko jhelanee pad rahee hai ab savaal aata hai ki jaise aapane poochha ki yah kisaan aandolan ke jimmedaar hai kaun bane ke yahaan par bhaarat sarakaar to isake jimmedaar nahin hai kyonki unhonne jo bil banaaya hai jo vah le kar ke aa rahe hain vah inake paksh mein parantu abhee yah baat kisaan itana samajhate nahin hai to jo teesaree aankh jo teesara paksh ek aur hai yaanee ki vipakshee jo hai vah isaka phaayada le rahe hain aur unhonne kisaanon ko kuchh aisee baaten bataee hai malik is bil ko lekar ke galat soochanaen un tak pahunchaee jisase vah aakrosh mein aa chuke hain aur ab dharana pradarshan kar rahe hain to is aandolan ko lekar ke jo jimmedaar hai vah hai teesaree teesara vyakti arthaat vipakshee dal jo hai vipakshee dal ke dvaara hee kisaanon ko bhadakaaya ja raha hai aur is aandolan ko karavaaya ja raha hai jisamen un vahee vah log hee isake jimmedaar hai dhanyavaad

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
5:00
किसानों के आंदोलन के लिए भारत सरकार जिम्मेदार है या किसान या और कोई बाहरी किसान आंदोलन का नेतृत्व में शुरुआत की है लेकिन कल हमने पेमेंट में प्रधानमंत्री का भाषण सुना में प्रधानमंत्री ने पुराना प्रोविजन ही नया भी है यह नया परमिशन देने को सेट किया है किस जगह मझोले और मध्यम किसान इसका फायदा उठाया और जिस स्टेट को नहीं मारना है या जिसको नहीं मानना है तो निश्चित तौर पर ना माने और दूसरी बार तो खुले दिल से तैयार है वह कह रही है कि शांतनु भाई यह बैठकर हमारे साथ तुम कहीं भी मुझे लगता है कि यह प्रोग्राम ट्रायवित हो गया इस तरह से जिस तरह से खाली स्थान के कुछ बैनर्स नजर आया भिंडरवाला के नजर आया जिस तरह से कनाडा के द्वारा मैंने सिर्फ वोटिंग हुई है चित्तौड़ हो रही है दुर्भाग्यपूर्ण पहलू रही है इससे इंडिया के नाम से है खाली स्थान के नाम से है किसान आंदोलन तो एक बहाना हो गया है और उनके लिए निश्चित तौर पर हम लोग क्या कर रहे हैं कैसे नहीं किसान होता है तू 4 महीने 3 महीने या 120 दिन तक इंतजार करता है फसल को पकने और जब से वह फसल को बोलता है कभी निराई गुड़ाई कभी खाते ना पानी देना मौसम का सामना करता है वही राकेश टिकैत है या दूसरा किस्त कितने दिनों के अंदर बनारस छतरपुर मेरा तो मानना है कि आंदोलन में कहीं न कहीं विदेशी ताकतों का हाथ है खाली स्थान ग्रुप का हाल है और कुछ ऐसी चीजें जो भारत की प्रगति को जो है नीचे करना चाहती हो रिहाना कैसे आ सकती है कैसे कर सकती है उसको क्या मालूम केंद्र स्थान में किसानों की स्थिति क्या है दिवाली कैसे सेलिब्रेट कर रही है भारतीय सेना के बारे में कल्चर सोसायटी को कब तक हमारे यहां से होता है झारखंड से उसकी कंपनी है लेकिन सोच लीजिए हमको भारतीय के बारे में सरकार के प्रश्न पर इनवाइट क्या बोला कि भाई कानून बनना है मानी ना मानी लेकिन सिर्फ पंजाब हरियाणा किसान किसान किसान कान की हड्डी पर्सेंट आबादी किसानों की जमीनों को लेकर खेतीबाड़ी करते हैं जीवन यापन करते हैं तो लगता है किसानों ने सोनिया से किसी और का बंदा था पहले कि नहीं सरकार की खामियों को दूर करना कानून के लिए कानून बनाया जाए नाली बनाने वालों के खिलाफ की 77 किसान जिम्मेदारी दर्द है जो इसको फाइनल को सपोर्ट करें
Kisaanon ke aandolan ke lie bhaarat sarakaar jimmedaar hai ya kisaan ya aur koee baaharee kisaan aandolan ka netrtv mein shuruaat kee hai lekin kal hamane pement mein pradhaanamantree ka bhaashan suna mein pradhaanamantree ne puraana provijan hee naya bhee hai yah naya paramishan dene ko set kiya hai kis jagah majhole aur madhyam kisaan isaka phaayada uthaaya aur jis stet ko nahin maarana hai ya jisako nahin maanana hai to nishchit taur par na maane aur doosaree baar to khule dil se taiyaar hai vah kah rahee hai ki shaantanu bhaee yah baithakar hamaare saath tum kaheen bhee mujhe lagata hai ki yah prograam traayavit ho gaya is tarah se jis tarah se khaalee sthaan ke kuchh bainars najar aaya bhindaravaala ke najar aaya jis tarah se kanaada ke dvaara mainne sirph voting huee hai chittaud ho rahee hai durbhaagyapoorn pahaloo rahee hai isase indiya ke naam se hai khaalee sthaan ke naam se hai kisaan aandolan to ek bahaana ho gaya hai aur unake lie nishchit taur par ham log kya kar rahe hain kaise nahin kisaan hota hai too 4 maheene 3 maheene ya 120 din tak intajaar karata hai phasal ko pakane aur jab se vah phasal ko bolata hai kabhee niraee gudaee kabhee khaate na paanee dena mausam ka saamana karata hai vahee raakesh tikait hai ya doosara kist kitane dinon ke andar banaaras chhatarapur mera to maanana hai ki aandolan mein kaheen na kaheen videshee taakaton ka haath hai khaalee sthaan grup ka haal hai aur kuchh aisee cheejen jo bhaarat kee pragati ko jo hai neeche karana chaahatee ho rihaana kaise aa sakatee hai kaise kar sakatee hai usako kya maaloom kendr sthaan mein kisaanon kee sthiti kya hai divaalee kaise selibret kar rahee hai bhaarateey sena ke baare mein kalchar sosaayatee ko kab tak hamaare yahaan se hota hai jhaarakhand se usakee kampanee hai lekin soch leejie hamako bhaarateey ke baare mein sarakaar ke prashn par inavait kya bola ki bhaee kaanoon banana hai maanee na maanee lekin sirph panjaab hariyaana kisaan kisaan kisaan kaan kee haddee parsent aabaadee kisaanon kee jameenon ko lekar kheteebaadee karate hain jeevan yaapan karate hain to lagata hai kisaanon ne soniya se kisee aur ka banda tha pahale ki nahin sarakaar kee khaamiyon ko door karana kaanoon ke lie kaanoon banaaya jae naalee banaane vaalon ke khilaaph kee 77 kisaan jimmedaaree dard hai jo isako phainal ko saport karen

shekhar vishwakarma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए shekhar जी का जवाब
Academic Content developer at ConnectEd
2:00

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard