#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?

Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:52
नमस्कार छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व समझाने के लिए आपने प्रोत्साहित कीजिए उन्हें बताएंगे कि पढ़ने से क्या होता है पढ़ने से क्या फायदा है जिसे उन्हें बताइए क्या आप पढ़ोगे तो आप मतलब अपने सपनों को पूरा कर सकोगे आप जो बनना चाहते हैं वह बन जाओगे आप क्यों खिलौने खेलना चाहते हैं आपकी जो इच्छा है वह पूरी करोगे यानी आप जीवन में खुशियों को प्राप्त करोगे या पढ़ोगे तो आपको मतलब वह सब कुछ मिलेगा जो अभी चाहते हैं और आगे जाओगे और बच्चों को इसके अलावा आप उसे प्रोत्साहित कीजिए कि अगर तुम अच्छा पढ़ोगे तो मैं तुम्हें शादी के दिन आऊंगा मैं तुम्हें वहां घुमाने ले जाऊंगा या कुछ भी आप सकारात्मक प्रोत्साहन दीजिए तो बच्चे पढ़ने की ओर ललितंगी पढ़ने के महत्व को समझ लेंगे धन्यवाद
Namaskaar chhote bachchon ko padhaee ka mahatv samajhaane ke lie aapane protsaahit keejie unhen bataenge ki padhane se kya hota hai padhane se kya phaayada hai jise unhen bataie kya aap padhoge to aap matalab apane sapanon ko poora kar sakoge aap jo banana chaahate hain vah ban jaoge aap kyon khilaune khelana chaahate hain aapakee jo ichchha hai vah pooree karoge yaanee aap jeevan mein khushiyon ko praapt karoge ya padhoge to aapako matalab vah sab kuchh milega jo abhee chaahate hain aur aage jaoge aur bachchon ko isake alaava aap use protsaahit keejie ki agar tum achchha padhoge to main tumhen shaadee ke din aaoonga main tumhen vahaan ghumaane le jaoonga ya kuchh bhee aap sakaaraatmak protsaahan deejie to bachche padhane kee or lalitangee padhane ke mahatv ko samajh lenge dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
1:38
राकेश वालों की छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं तो अगर आप अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए मोटिवेट करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप पढ़ाई करते समय आप समय निकालकर अपने बच्चों के साथ बैठे इस समय फोन या लैपटॉप में लगने की वजह आप उसकी मदद करें या अपने ऑफिस का काम निपटा लें नंबर नहीं कुछ सीखने की उम्मीद है अक्सर माता-पिता अपने बच्चों को अच्छे नंबर लाने पर जोर देते हैं जबकि ऐसा बिल्कुल नहीं करना गलत है बच्चों के लिए लर्निंग स्टाइल को समझे आपके लिए यह समझना बहुत जरूरी है कि आपके बच्चे की सीखने की याद करने की क्षमता कैसी है वह बोल बोलकर याद करता है या लिख लिख लिख लिख कर याद करता है कौन से मैं जल्दी आ जाता है इसमें आप को पढ़ाने में ऐसा नबी बच्चे की बात सुनी सुनी चाहिए खेलने पर ने गुस्सा करे कोई लालच नहीं दे बच्चों को पढ़ने के प्रति करने का सबसे सरल तरीका है कि आपने इसकी तरीके से बढ़ने देना कि इन्हें वही ईश्वर या लालच नहीं देनी चाहिए अगर आपसे कोई लालच देकर पढ़ने के लिए बैठा दे तो उस समय आप उस समय वह पढ़ लेगा लेकिन उसके मन में पढ़ाई को लेकर कोई रुचि पैदा नहीं हो पाएगी इसे आसानी से बात का ध्यान रखकर आप भी अपने बच्चों की पढ़ाई में मदद कर सकते हैं धन्यवाद
Raakesh vaalon kee chhote bachchon ko padhaee ka mahatv kaise samajha sakate hain to agar aap apane bachchon ko padhaane ke lie motivet karane ka sabase achchha tareeka hai ki aap padhaee karate samay aap samay nikaalakar apane bachchon ke saath baithe is samay phon ya laipatop mein lagane kee vajah aap usakee madad karen ya apane ophis ka kaam nipata len nambar nahin kuchh seekhane kee ummeed hai aksar maata-pita apane bachchon ko achchhe nambar laane par jor dete hain jabaki aisa bilkul nahin karana galat hai bachchon ke lie larning stail ko samajhe aapake lie yah samajhana bahut jarooree hai ki aapake bachche kee seekhane kee yaad karane kee kshamata kaisee hai vah bol bolakar yaad karata hai ya likh likh likh likh kar yaad karata hai kaun se main jaldee aa jaata hai isamen aap ko padhaane mein aisa nabee bachche kee baat sunee sunee chaahie khelane par ne gussa kare koee laalach nahin de bachchon ko padhane ke prati karane ka sabase saral tareeka hai ki aapane isakee tareeke se badhane dena ki inhen vahee eeshvar ya laalach nahin denee chaahie agar aapase koee laalach dekar padhane ke lie baitha de to us samay aap us samay vah padh lega lekin usake man mein padhaee ko lekar koee ruchi paida nahin ho paegee ise aasaanee se baat ka dhyaan rakhakar aap bhee apane bachchon kee padhaee mein madad kar sakate hain dhanyavaad

bolkar speaker
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
0:42
दोस्तों आप का सवाल है कि छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं तो छोटा सबसे पहले मैं कहना जाऊंगा छोटे बच्चों को सबसे पहले तो उसके माता-पिता साइट्स को आकर्षित करेंगे जो कहेंगे वही करेगा वह पैसे तो और उसके गुरुजन जो कहेंगे वही करेगा तो सबसे पहले उसे पढ़ाई के बारे में समझाएंगे तो पढ़ाई करेगा उसको जितना ध्यान दे सकते हैं तो उसकी वजह से ही मकान की नहीं होती है वही मजबूत होती है तो मकान मजबूत होता है वैसे ही मैं छोटे बच्चों से ही पहले ही इस बात से कुछ अच्छा शुरू हो जाता है तो उसकी न्यू मजबूत हो जाती उसके बाद एकदम होशियार हो जाता है
Doston aap ka savaal hai ki chhote bachchon ko padhaee ka mahatv kaise samajha sakate hain to chhota sabase pahale main kahana jaoonga chhote bachchon ko sabase pahale to usake maata-pita saits ko aakarshit karenge jo kahenge vahee karega vah paise to aur usake gurujan jo kahenge vahee karega to sabase pahale use padhaee ke baare mein samajhaenge to padhaee karega usako jitana dhyaan de sakate hain to usakee vajah se hee makaan kee nahin hotee hai vahee majaboot hotee hai to makaan majaboot hota hai vaise hee main chhote bachchon se hee pahale hee is baat se kuchh achchha shuroo ho jaata hai to usakee nyoo majaboot ho jaatee usake baad ekadam hoshiyaar ho jaata hai

bolkar speaker
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
1:19
नमस्कार छोटों छोटे बच्चे को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं उनके बुक्स रखेंगे तो उनको लगेगा कि यह जो पिक है 20 पन्नों की 100 पन्नों की जो बुक है बस यही पढ़ाई है और इसको पढ़ लेंगे इसको जल्दी जल्दी पढ़ कर खत्म कर देंगे और उनकी बस हो गया अब यही करना है और थक जाएंगे जरूरी यह है कि बच्चों को जो पढ़ाएं उनको बताएं कि उनके लिए यह जरूरी क्यों है अगर आपने एडमिशन शिकारी है कि वनप्लस वन यह होता है और काउंटिंग सिखा रही है तो बताएं कि यह काफी जरूरी है जिंदगी में जो हमारी लाइफ ने बनाई वह कौन सी चीज है जो हमें आनी चाहिए ताकि हमें से एक तरीके से नॉर्मल g5s एकाउंटिंग काफी जरूरी है सामान की खरीद और लेन-देन में तो हमें अगर कोई नया कॉन्सेप्ट समझाने उसे कोई नहीं समझा रहे हैं कोई नई स्टोरी सुना रहे तो उसका एक प्रैक्टिकल एप्लीकेशन में बताना चाहिए कि हम जो तुम्हें सिखाते हैं वह तुम कैसे लाइफ में यूज कर सकते तो अगर इस तरीके से पढ़ आएंगे तो वह ज्यादा ध्यान से सुनेंगे आप की बात धन्यवाद
Namaskaar chhoton chhote bachche ko padhaee ka mahatv kaise samajha sakate hain unake buks rakhenge to unako lagega ki yah jo pik hai 20 pannon kee 100 pannon kee jo buk hai bas yahee padhaee hai aur isako padh lenge isako jaldee jaldee padh kar khatm kar denge aur unakee bas ho gaya ab yahee karana hai aur thak jaenge jarooree yah hai ki bachchon ko jo padhaen unako bataen ki unake lie yah jarooree kyon hai agar aapane edamishan shikaaree hai ki vanaplas van yah hota hai aur kaunting sikha rahee hai to bataen ki yah kaaphee jarooree hai jindagee mein jo hamaaree laiph ne banaee vah kaun see cheej hai jo hamen aanee chaahie taaki hamen se ek tareeke se normal g5s ekaunting kaaphee jarooree hai saamaan kee khareed aur len-den mein to hamen agar koee naya konsept samajhaane use koee nahin samajha rahe hain koee naee storee suna rahe to usaka ek praiktikal epleekeshan mein bataana chaahie ki ham jo tumhen sikhaate hain vah tum kaise laiph mein yooj kar sakate to agar is tareeke se padh aaenge to vah jyaada dhyaan se sunenge aap kee baat dhanyavaad

bolkar speaker
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
1:41
हैप्पी रिपब्लिक डे सवाल यह है कि छोटे बच्चों को पढ़ाई के मध्य कैसे समझा सकते हैं लेकिन छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व यूनियन भाई के विषय में लक्सर देकर नहीं समझा सकता है उसके लिए उनके सामने उदाहरण प्रस्तुत करना मतलब कहानी के रूप में उन्हें कुछ वैसे ही कहानियों का चयन करना होगा कि उस कहानी के माध्यम से पढ़ाई के महत्व को समझाया जा सकता है या कुछ इस तरह की फिल्में दिखा कर कुछ इस तरह के सामने मतलब प्रत्यक्ष रूप से कुछ वैसा उदाहरण प्रस्तुत करके ही सफाई का महत्व समझाया जा सकता है कुछ भी तो इसके बाद बच्चों को पहले इंटरेस्ट जगाना होता है भाई के प्रति उनका इंटरेस्ट जब जागेगा तभी वह पढ़ाई में मन लगाने था हमारे कहने से नहीं पड़ता है वह तो और दूर होते चले मुझे लगता है कि जितना जिस बच्चे को पढ़ाई के लिए कहा जाता के पार पार करो और उसको मुझे लगता है कि उसकी पढ़ाई के प्रति दूरी बढ़ती जाती है इसलिए उदाहरण देकर और कहानियों के माध्यम से ही बच्चों को पढ़ाई का महत्व समझाया जा सकता है प्रैक्टिकल ही मतलब कुछ भी प्रैक्टिकल में इस तरह की बातें दिखा कर समझा कर तभी पढ़ाई का महत्व ने समझाया जा सकता है थैंक यू
Haippee ripablik de savaal yah hai ki chhote bachchon ko padhaee ke madhy kaise samajha sakate hain lekin chhote bachchon ko padhaee ka mahatv yooniyan bhaee ke vishay mein laksar dekar nahin samajha sakata hai usake lie unake saamane udaaharan prastut karana matalab kahaanee ke roop mein unhen kuchh vaise hee kahaaniyon ka chayan karana hoga ki us kahaanee ke maadhyam se padhaee ke mahatv ko samajhaaya ja sakata hai ya kuchh is tarah kee philmen dikha kar kuchh is tarah ke saamane matalab pratyaksh roop se kuchh vaisa udaaharan prastut karake hee saphaee ka mahatv samajhaaya ja sakata hai kuchh bhee to isake baad bachchon ko pahale intarest jagaana hota hai bhaee ke prati unaka intarest jab jaagega tabhee vah padhaee mein man lagaane tha hamaare kahane se nahin padata hai vah to aur door hote chale mujhe lagata hai ki jitana jis bachche ko padhaee ke lie kaha jaata ke paar paar karo aur usako mujhe lagata hai ki usakee padhaee ke prati dooree badhatee jaatee hai isalie udaaharan dekar aur kahaaniyon ke maadhyam se hee bachchon ko padhaee ka mahatv samajhaaya ja sakata hai praiktikal hee matalab kuchh bhee praiktikal mein is tarah kee baaten dikha kar samajha kar tabhee padhaee ka mahatv ne samajhaaya ja sakata hai thaink yoo

bolkar speaker
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:44
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर यह है छोटे बच्चे को पढ़ाई का महत्व इस प्रकार से समझा सकते हैं कि शिक्षा के बगैर मनुष्य का जीवन अंधकार है क्योंकि शिक्षा के बगैर आप कोई भी काम नहीं कर सकते हर काम में शिक्षा का ज्ञान होना बहुत ही जरूरी है तभी हम कुछ अच्छा कार्य कर सकते हैं इसलिए छोटे बच्चे को पढ़ाई का महत्व के बारे में समझाना चाहिए धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaskaar doston aapaka prashn hai chhote bachchon ko padhaee ka mahatv kaise samajha sakate hain to doston aapake savaal ka uttar yah hai chhote bachche ko padhaee ka mahatv is prakaar se samajha sakate hain ki shiksha ke bagair manushy ka jeevan andhakaar hai kyonki shiksha ke bagair aap koee bhee kaam nahin kar sakate har kaam mein shiksha ka gyaan hona bahut hee jarooree hai tabhee ham kuchh achchha kaary kar sakate hain isalie chhote bachche ko padhaee ka mahatv ke baare mein samajhaana chaahie dhanyavaad saathiyon khush raho

bolkar speaker
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
4:55
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है कि छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं दोस्तों छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व समझाना बहुत ही जरूरी होता है क्योंकि जो वर्तमान समय आधुनिक समय में देखने को मिल रहा है और जो आधुनिक सुविधा हम जैसे लोग मिले रहे हैं तो दोस्तों वह जो सुविधा है वह पढ़ाई के बिना बिल्कुल भी काम की नहीं है या उनका उचित नहीं है इसलिए पढ़ाई तो जरूर ही करनी होती है उनको समझाना चाहिए कि आगे जैसे-जैसे जो नया जमाना आता है नया समय आने वाला है एक तो वह इलेक्ट्रॉनिक का जमाना आने वाला है जो नए नए गैजेट्स है वह आजकल सभी घरों में उपलब्ध होते जा रहे हैं तो उनको चलाने की इनको उनका उनको ऑपरेटिंग ऑपरेटिंग करने के लिए भी एक अनपढ़ के बस की बात नहीं होती है तो इसके लिए पढ़ाई बहुत ही जरूरी हो गई है वर्तमान समय में जो घर में जितनी भी लग्जरी चीजें हैं उनको ऑपरेट करने के लिए जो गैजेट्स है उनको चलाने के लिए तो जहां तक संभव है हिंदी और अंग्रेजी का ज्ञान होना बहुत ही जरूरी होता है और बच्चे पढ़ लिख कर के और सभी कुछ अच्छा कुछ बड़ा बिजनेस दो या जो भी अपने-अपने जॉब्स में काम करते हैं तो धीरे-धीरे तो उनकी भाषा है लैंग्वेज है वह भी विनोद इन हिंदी और इंग्लिश रिमिक्स होती जा रही है तो एक तो वह भाषा नहीं समझ पाएंगे तो इसलिए जो बच्चे का व्यावहारिक ज्ञान है और जो बेसिक ज्ञान है पढ़ाई के बिना संभव नहीं है यदि वह निरंतर स्कूल जाकर के और अपनी पढ़ाई करते हैं तो वह वह सभी चीजें जग्गू सभी ज्ञान उन्हें मिल सकता है जो कि आने वाले कुछ वर्षों में उन्हें चाहिए वैसे तो अभी तो शिक्षित समाज हुआ है और धीरे-धीरे हो ही रहा है उनकी प्रगति जो है वह हो रही है तो उनमें एक सामान्य बच्चे का एक अनपढ़ बच्चे का रहना बिलकुल ही मुश्किल भरा हो गया है क्योंकि जिस बच्चे को कुछ भी नहीं आता है उनका एक सामान्य परिवार में रहना मुश्किल से आई है और उसे बिल्कुल ऐसा लगता है कि जैसे कि कहीं पर उसका अपमान हो रहा हूं पड़ा तू यह जो कढ़ाई है बहुत ही जरूरी है अपने माता-पिता के सपनों को पूरा करने के लिए अपना भविष्य सुधारने के लिए अपना कैरियर बनाने के लिए और आने वाली जो पी ली है उसको देख पाने के लिए और अपने बच्चों को भी जो आने वाली पीढ़ी की जोड़ी है उनको प्राप्त करवाने के लिए पढ़ाई जरूरी हो जाती है दोस्तों पढ़ाई हमारी हमारे जीवन का आधार होता है बच्चों को चाहिए कि सुबह और शाम अपनी दिनचर्या बना करके और टाइम टेबल के अनुसार रोज थोड़ा थोड़ा पढ़ें और घर में माता-पिता के द्वारा बड़ों के द्वारा उन्हें यदि व्यवहारिक ज्ञान भी दिया जाए पढ़ाई के अलावा तो वह बहुत ही ज्यादा जरूरी हो जाता है और पढ़ाई से पहले यदि व्यवहारिक ज्ञान उन्हें मिलता रहे थोड़ा बहुत है वह बुजुर्ग आदमी से वह एक अच्छे सर से हो या अपने घर में बड़े सदस्यों के द्वारा हो तो बहुत ही अच्छा हो जाता है फिर व्यावहारिक ज्ञान मिलने से बच्चे खुद ब खुद आगे बढ़ने लगते हैं पढ़ाई में निरंतर उसकी प्रगति होती रहती है स्वयं समझने लगते हैं कि पढ़ाई क्या चीज है उसको समझाने की जरूरत नहीं है उनका जो व्यवहार है जो प्रथम उसकी घर में बेसिक जानकारी है बड़ों का आदर करना सुनना मौन रहना और बुरी संगति में नहीं पड़ना दोस्तों ऐसे बहुत सारे उदाहरण है जो कि बच्चों को समझाने चाहिए उसको समझाने के दौरान बाद ही बच्चे अच्छे से पढ़ाई कर सकते हैं और पढ़ाई का महत्व समझ सकते हैं तो उसे शांत वातावरण भी चाहिए होता है शांत वातावरण में अच्छे वातावरण में माहौल में पड़ेगा तो बच्चा जरूर आगे बढ़ेगा और पढ़ाई के महत्व को समझ पाएगा धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai ki chhote bachchon ko padhaee ka mahatv kaise samajha sakate hain doston chhote bachchon ko padhaee ka mahatv samajhaana bahut hee jarooree hota hai kyonki jo vartamaan samay aadhunik samay mein dekhane ko mil raha hai aur jo aadhunik suvidha ham jaise log mile rahe hain to doston vah jo suvidha hai vah padhaee ke bina bilkul bhee kaam kee nahin hai ya unaka uchit nahin hai isalie padhaee to jaroor hee karanee hotee hai unako samajhaana chaahie ki aage jaise-jaise jo naya jamaana aata hai naya samay aane vaala hai ek to vah ilektronik ka jamaana aane vaala hai jo nae nae gaijets hai vah aajakal sabhee gharon mein upalabdh hote ja rahe hain to unako chalaane kee inako unaka unako opareting opareting karane ke lie bhee ek anapadh ke bas kee baat nahin hotee hai to isake lie padhaee bahut hee jarooree ho gaee hai vartamaan samay mein jo ghar mein jitanee bhee lagjaree cheejen hain unako oparet karane ke lie jo gaijets hai unako chalaane ke lie to jahaan tak sambhav hai hindee aur angrejee ka gyaan hona bahut hee jarooree hota hai aur bachche padh likh kar ke aur sabhee kuchh achchha kuchh bada bijanes do ya jo bhee apane-apane jobs mein kaam karate hain to dheere-dheere to unakee bhaasha hai laingvej hai vah bhee vinod in hindee aur inglish rimiks hotee ja rahee hai to ek to vah bhaasha nahin samajh paenge to isalie jo bachche ka vyaavahaarik gyaan hai aur jo besik gyaan hai padhaee ke bina sambhav nahin hai yadi vah nirantar skool jaakar ke aur apanee padhaee karate hain to vah vah sabhee cheejen jaggoo sabhee gyaan unhen mil sakata hai jo ki aane vaale kuchh varshon mein unhen chaahie vaise to abhee to shikshit samaaj hua hai aur dheere-dheere ho hee raha hai unakee pragati jo hai vah ho rahee hai to unamen ek saamaany bachche ka ek anapadh bachche ka rahana bilakul hee mushkil bhara ho gaya hai kyonki jis bachche ko kuchh bhee nahin aata hai unaka ek saamaany parivaar mein rahana mushkil se aaee hai aur use bilkul aisa lagata hai ki jaise ki kaheen par usaka apamaan ho raha hoon pada too yah jo kadhaee hai bahut hee jarooree hai apane maata-pita ke sapanon ko poora karane ke lie apana bhavishy sudhaarane ke lie apana kairiyar banaane ke lie aur aane vaalee jo pee lee hai usako dekh paane ke lie aur apane bachchon ko bhee jo aane vaalee peedhee kee jodee hai unako praapt karavaane ke lie padhaee jarooree ho jaatee hai doston padhaee hamaaree hamaare jeevan ka aadhaar hota hai bachchon ko chaahie ki subah aur shaam apanee dinacharya bana karake aur taim tebal ke anusaar roj thoda thoda padhen aur ghar mein maata-pita ke dvaara badon ke dvaara unhen yadi vyavahaarik gyaan bhee diya jae padhaee ke alaava to vah bahut hee jyaada jarooree ho jaata hai aur padhaee se pahale yadi vyavahaarik gyaan unhen milata rahe thoda bahut hai vah bujurg aadamee se vah ek achchhe sar se ho ya apane ghar mein bade sadasyon ke dvaara ho to bahut hee achchha ho jaata hai phir vyaavahaarik gyaan milane se bachche khud ba khud aage badhane lagate hain padhaee mein nirantar usakee pragati hotee rahatee hai svayan samajhane lagate hain ki padhaee kya cheej hai usako samajhaane kee jaroorat nahin hai unaka jo vyavahaar hai jo pratham usakee ghar mein besik jaanakaaree hai badon ka aadar karana sunana maun rahana aur buree sangati mein nahin padana doston aise bahut saare udaaharan hai jo ki bachchon ko samajhaane chaahie usako samajhaane ke dauraan baad hee bachche achchhe se padhaee kar sakate hain aur padhaee ka mahatv samajh sakate hain to use shaant vaataavaran bhee chaahie hota hai shaant vaataavaran mein achchhe vaataavaran mein maahaul mein padega to bachcha jaroor aage badhega aur padhaee ke mahatv ko samajh paega dhanyavaad

bolkar speaker
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:59
हेलो फ्रेंड नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं छोटे बच्चों को मैं कुछ तरीके बताना चाहता हूं उनकी वजह से उन्हें जो है पढ़ाई का महत्व समझाया जा सकता है उसी की फ्रेंड लाल इसका नाम तो आप सभी ने सुना होगा यूं तो हमें बचपन से सिखाया जाते की लालच करना बुरी बला है लेकिन कहीं न कहीं लालच का भी एक अहम रोल होता है क्योंकि छोटे बच्चे जो होते हैं आपने देखा होगा टॉफी वगैरा चॉकलेट वगैरह वगैरह के पीछे बहुत तेजी आकर्षित होते हैं उन्हें चॉकलेट देते हैं ऐसे दिखाते हैं उन्हें प्रकाशित लालच दिलाएं कि अगर आप पढ़ेंगे जो है तभी आप किसी मुकाम पर पहुंच सकते हैं जैसे आप उन्हें पैसे दें और ने भी यह बताएं कि जब आप पढ़े तभी आपके पास भी पैसा आएगा इस तरीके से उन्हें मोटिवेट करें बताएं कि किस तरीके से पैसा आएगा क्या करना चाहिए क्या नहीं करना चाहिए सेंड इसका एक एग्जांपल देता हूं जो कि रियल्टी है एकदम पूरा मेरा एक भांजा है फ्रेंड हो फर्स्ट स्टैंडर्ड में है अभी और वह उसकी एक है जिस एक लगन होती है कि मैं कितनी जल्दी बड़ा हो जाओ अभी छोटा सा है बच्चा है उसमें चाहत है कि मैं कितनी तेजी से बड़ा हो जाऊं और कुछ करने लगो फ्रेंड आप विश्वास नहीं मानेंगे हो पढ़ाई लिखाई में इतना तेज है कि आप उससे फर्स्ट्सटेंडर का कहीं से भी चाहे गिनती पहाड़ा इंग्लिश हुआ या फिर क ख ग घ हुआ कहीं से भी कुछ भी आप पूछ लीजिए फ्रेंड वह आपको तुरंत जवाब बताएगा फ्रेंड यहां तक कि वह कुछ ऐसे क्वेश्चन करता है कुछ ऐसे प्रश्न उत्तर पूछता है कि जिन नाथों के पास भी वह जवाब नहीं होता लेकिन पता नहीं कैसे फ्रेंड उसका दिमाग कितना तेज है स्ट्रांग है वह क्वेश्चन जो क्वेश्चन को पूछता है उसका आंसर भी तुरंत वह खुद ही बता देता है इसका आंसर यही होगा फ्रेंड बच्चों को थोड़ा सा लालच दिखाइए उन्हें अपने सर्किल में बिठाई है थोड़ा सा एग्जांपल दीजिए कि आपके पास पड़ोस में एक लड़की कैसे हैं अगर नहीं पढ़ाई होगी तो उनके जैसे हो जाएंगे गंदे हो जाएंगे और अगर पढ़ाई होती है तो जो है अच्छे इंसान बनेंगे अच्छी तरीके से जान मिलेगी अच्छा पैसा आएगा तू ने निम्न कटेरी से समझाया जा सकता है मोटिवेशन स्टोरी उन्हें सुनाइए जैसे कि बच्चों को कहानियां पसंद होती हैं तो बच्चों को ऐसी मोरल कहानियां सुनाई जाए फ्रेंड जिनमें उन्हें एक उत्साह जागृत हो कुछ करने की कुछ कर जाने की एक उत्साह जागृत हो आशा है कि आप सभी को जवाब पसंद है
Helo phrend namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai chhote bachchon ko padhaee ka mahatv kaise samajha sakate hain chhote bachchon ko main kuchh tareeke bataana chaahata hoon unakee vajah se unhen jo hai padhaee ka mahatv samajhaaya ja sakata hai usee kee phrend laal isaka naam to aap sabhee ne suna hoga yoon to hamen bachapan se sikhaaya jaate kee laalach karana buree bala hai lekin kaheen na kaheen laalach ka bhee ek aham rol hota hai kyonki chhote bachche jo hote hain aapane dekha hoga tophee vagaira chokalet vagairah vagairah ke peechhe bahut tejee aakarshit hote hain unhen chokalet dete hain aise dikhaate hain unhen prakaashit laalach dilaen ki agar aap padhenge jo hai tabhee aap kisee mukaam par pahunch sakate hain jaise aap unhen paise den aur ne bhee yah bataen ki jab aap padhe tabhee aapake paas bhee paisa aaega is tareeke se unhen motivet karen bataen ki kis tareeke se paisa aaega kya karana chaahie kya nahin karana chaahie send isaka ek egjaampal deta hoon jo ki riyaltee hai ekadam poora mera ek bhaanja hai phrend ho pharst staindard mein hai abhee aur vah usakee ek hai jis ek lagan hotee hai ki main kitanee jaldee bada ho jao abhee chhota sa hai bachcha hai usamen chaahat hai ki main kitanee tejee se bada ho jaoon aur kuchh karane lago phrend aap vishvaas nahin maanenge ho padhaee likhaee mein itana tej hai ki aap usase pharstsatendar ka kaheen se bhee chaahe ginatee pahaada inglish hua ya phir ka kh ga gh hua kaheen se bhee kuchh bhee aap poochh leejie phrend vah aapako turant javaab bataega phrend yahaan tak ki vah kuchh aise kveshchan karata hai kuchh aise prashn uttar poochhata hai ki jin naathon ke paas bhee vah javaab nahin hota lekin pata nahin kaise phrend usaka dimaag kitana tej hai straang hai vah kveshchan jo kveshchan ko poochhata hai usaka aansar bhee turant vah khud hee bata deta hai isaka aansar yahee hoga phrend bachchon ko thoda sa laalach dikhaie unhen apane sarkil mein bithaee hai thoda sa egjaampal deejie ki aapake paas pados mein ek ladakee kaise hain agar nahin padhaee hogee to unake jaise ho jaenge gande ho jaenge aur agar padhaee hotee hai to jo hai achchhe insaan banenge achchhee tareeke se jaan milegee achchha paisa aaega too ne nimn kateree se samajhaaya ja sakata hai motiveshan storee unhen sunaie jaise ki bachchon ko kahaaniyaan pasand hotee hain to bachchon ko aisee moral kahaaniyaan sunaee jae phrend jinamen unhen ek utsaah jaagrt ho kuchh karane kee kuchh kar jaane kee ek utsaah jaagrt ho aasha hai ki aap sabhee ko javaab pasand hai

bolkar speaker
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं बच्चों के हम जो बताते हैं वह नहीं हम लोग करते हैं वही हो सकते हैं हमेशा अपने आजू-बाजू में देखने के बाद हमें पता चलेगा कि जो बड़े लोग करते हैं वह छोटे लोग कर बच्चे करते हैं तो पढ़ाने का मामला बाद में आता है पहले हमें अपने अंदर खेसारी पढ़ाई के रिजल्ट क्यों होते हैं परिणाम जो होते हैं वह हमें अपने व्यक्तिमत्व में दिखनी चाहिए तो हमारे को अनुकरण करेंगे पढ़ाई से लिखना आएगा और ना आएगा कंप्यूटर चलाना आएगा स्कूटर चलाने आएगी टैक्सी चलाने आएगी यहां तक कि आकाश कुमार लड़ाई में धूप चलने भाई आ जाएंगे एवं को दिखाना पड़ता है इस तरह की व्यवस्था शिक्षा व्यवस्था में क्यों हम दिखा सके कैसा ऐसा सब है और यह सब पढ़ाई के बाद होता कॉलेज कॉलेज होता है कॉलेज में भी पढ़ना होता है प्रैक्टिकल होता है एग्जाम होते हैं नौकरी अमित पवार मित्र यह सपने वो किस तरह से देखें यह सोचकर हमें उसी जिम में दिखाने होंगे 4 दिन 4 मिनट के अंदर कभी भी हम बच्चों को नहीं पढ़ा सकते आपको आश्चर्य लगेगा लेकिन यह सच्चाई क्या है आज शिक्षा व्यवस्था का परिणाम जैसे 2 साल की कारावास की कर्म स्कूलों के विद्यार्थी की क्लास है उसको महसूस होता है इतना ही क्या शाम 5:00 बजे जब टूटता है तो इसे बाहर निकलता है कि जैसे जेल से निकलता है निकला निकला है वानंद से वहीं पर मिलना चाहता हूं पिंटू कॉलिंग रहना नहीं सिखाया जाता उसको स्पर्धा सिखाई जाती कंपटीशन सिखाई जाती है उसको धन की लालसा दिखाई जाती है उदाहरण दिए जाते हैं कि और कर तुम मुझे बनना और कब तुम वह बनना और उसकी पिक्चर का मुख्य आकर्षण उस व्यक्ति ने कमाया हुआ धन धन होता है लेकिन हम उन्हें इमानदारी नहीं सिखाते आदर्श जीवन पद्धति क्या होती है और कौन जीता है कैसे जीता है कौन हो लोग हमको दिखाइए दिखाते नहीं तुम मेरे कहने का मतलब यह है कि इस प्रश्न के संदर्भ में मैंने संदर्भ में मैंने बच्चों की जो पूर्ति होती है जो देखकर सीख जाती थी उनको नहीं ज्यादा सकते इस वक्त इसको प्वाइंट आउट करना था उसे शिक्षा का रास्ता सातवीं की परीक्षा किस तरह से शिक्षा दी जाए बच्चों को एकाग्रता करने के कौन से खिलाड़ी खेलने दिया जाए जैसे घुड़सवारी सन तीरंदाजी कुछ ऐसे खेल होते हैं शब्दों के गोले होते हैं गणित के व्यक्ति विशेष होते इसके लिए एक बार इस पर की शिक्षा पद्धति इंटरनेट पर है वह शिक्षकों ने पूरी देखनी चाहिए और ऐसी अन्य सभी से इस कपूरा में शिक्षक ने पहले करना चाहिए
Chhote bachchon ko padhaee ka mahatv kaise samajha sakate hain bachchon ke ham jo bataate hain vah nahin ham log karate hain vahee ho sakate hain hamesha apane aajoo-baajoo mein dekhane ke baad hamen pata chalega ki jo bade log karate hain vah chhote log kar bachche karate hain to padhaane ka maamala baad mein aata hai pahale hamen apane andar khesaaree padhaee ke rijalt kyon hote hain parinaam jo hote hain vah hamen apane vyaktimatv mein dikhanee chaahie to hamaare ko anukaran karenge padhaee se likhana aaega aur na aaega kampyootar chalaana aaega skootar chalaane aaegee taiksee chalaane aaegee yahaan tak ki aakaash kumaar ladaee mein dhoop chalane bhaee aa jaenge evan ko dikhaana padata hai is tarah kee vyavastha shiksha vyavastha mein kyon ham dikha sake kaisa aisa sab hai aur yah sab padhaee ke baad hota kolej kolej hota hai kolej mein bhee padhana hota hai praiktikal hota hai egjaam hote hain naukaree amit pavaar mitr yah sapane vo kis tarah se dekhen yah sochakar hamen usee jim mein dikhaane honge 4 din 4 minat ke andar kabhee bhee ham bachchon ko nahin padha sakate aapako aashchary lagega lekin yah sachchaee kya hai aaj shiksha vyavastha ka parinaam jaise 2 saal kee kaaraavaas kee karm skoolon ke vidyaarthee kee klaas hai usako mahasoos hota hai itana hee kya shaam 5:00 baje jab tootata hai to ise baahar nikalata hai ki jaise jel se nikalata hai nikala nikala hai vaanand se vaheen par milana chaahata hoon pintoo koling rahana nahin sikhaaya jaata usako spardha sikhaee jaatee kampateeshan sikhaee jaatee hai usako dhan kee laalasa dikhaee jaatee hai udaaharan die jaate hain ki aur kar tum mujhe banana aur kab tum vah banana aur usakee pikchar ka mukhy aakarshan us vyakti ne kamaaya hua dhan dhan hota hai lekin ham unhen imaanadaaree nahin sikhaate aadarsh jeevan paddhati kya hotee hai aur kaun jeeta hai kaise jeeta hai kaun ho log hamako dikhaie dikhaate nahin tum mere kahane ka matalab yah hai ki is prashn ke sandarbh mein mainne sandarbh mein mainne bachchon kee jo poorti hotee hai jo dekhakar seekh jaatee thee unako nahin jyaada sakate is vakt isako pvaint aaut karana tha use shiksha ka raasta saataveen kee pareeksha kis tarah se shiksha dee jae bachchon ko ekaagrata karane ke kaun se khilaadee khelane diya jae jaise ghudasavaaree san teerandaajee kuchh aise khel hote hain shabdon ke gole hote hain ganit ke vyakti vishesh hote isake lie ek baar is par kee shiksha paddhati intaranet par hai vah shikshakon ne pooree dekhanee chaahie aur aisee any sabhee se is kapoora mein shikshak ne pahale karana chaahie

bolkar speaker
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
1:30
नमस्कार दोस्तों कैसे हो सब वाले छोटे बच्चों को पढ़ाई का मांस कैसे समझा सकती थी लेकिन निश्चित तौर पर छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व समझा सकते हैं कि देखिए उन पर किसी भी प्रकार की कोई भी मना एक इल्जाम बापू ने मतलब टाइट भी ना करें क्योंकि अगर बच्चा आपका मतलब मैं से प्रेरित आ सकता है कि इसका मतलब जो भी कहो मैं स्कूल में कॉलेज में मिल अब जो भी कुछ उसे दिया जाता है तो उसे देख लीजिए होमवर्क अपना आराम से कर रहा है नहीं कर रहा था कि उसे समझाते जाए कि बेटा आप पढ़ो लिखो आगे बढ़ो सरकारी नौकरी अरे कोई भी बंद है तो उसी तरह तुम भी बन जाओगे अगर तुम पढ़ लिख जाओगे तो बोलोगे तुम्हें इधर-उधर दर-दर की ठोकरें नहीं खानी पड़ेगी और एक अच्छे मित्र बनोगे उनके कक्ष भारत के नागरिक बन जाओगे और समाज में आपका नाम होगा अगर आप जाओगे तो यही सब बातें उसे बताएं अगर निश्चित तौर पर समझेगा तो निश्चित को पढ़ाई के महत्व को समझेगा और अपनी पढ़ाई करेगा तुम ही करता हूं सवाल का जवाब अच्छा लगा होगा धन्यवाद
Namaskaar doston kaise ho sab vaale chhote bachchon ko padhaee ka maans kaise samajha sakatee thee lekin nishchit taur par chhote bachchon ko padhaee ka mahatv samajha sakate hain ki dekhie un par kisee bhee prakaar kee koee bhee mana ek iljaam baapoo ne matalab tait bhee na karen kyonki agar bachcha aapaka matalab main se prerit aa sakata hai ki isaka matalab jo bhee kaho main skool mein kolej mein mil ab jo bhee kuchh use diya jaata hai to use dekh leejie homavark apana aaraam se kar raha hai nahin kar raha tha ki use samajhaate jae ki beta aap padho likho aage badho sarakaaree naukaree are koee bhee band hai to usee tarah tum bhee ban jaoge agar tum padh likh jaoge to bologe tumhen idhar-udhar dar-dar kee thokaren nahin khaanee padegee aur ek achchhe mitr banoge unake kaksh bhaarat ke naagarik ban jaoge aur samaaj mein aapaka naam hoga agar aap jaoge to yahee sab baaten use bataen agar nishchit taur par samajhega to nishchit ko padhaee ke mahatv ko samajhega aur apanee padhaee karega tum hee karata hoon savaal ka javaab achchha laga hoga dhanyavaad

bolkar speaker
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:46
खरा कपास में छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं तो आपको बताए जाएंगे देखे पढ़ाई का महत्व समझाने के लिए उनको प्रेरित करना होगा मोटिवेट करना होगा आज इतने प्यार से आप बच्चों को समझा सके प्रेरित कर सके उतना ही अच्छा रहेगा हालांकि छोटे उम्र में बहुत ज्यादा बच्चों को डांटा मारा नहीं जाता तो ऐसा कुछ भी मत करिएगा उनको अपने अंदर से इस बात की अनुभूति होनी चाहिए इस बात के प्रेरणा होनी चाहिए कि हां यह काम उनके लिए ही है उनको ही आगे पढ़ाई करनी चाहिए जिससे कि उनके जीवन में प्रगति के पथ पर चल सके तो उनको प्रेरित करिए तभी आप बच्चे भी आगे बढ़ पाएंगे में शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Khara kapaas mein chhote bachchon ko padhaee ka mahatv kaise samajha sakate hain to aapako batae jaenge dekhe padhaee ka mahatv samajhaane ke lie unako prerit karana hoga motivet karana hoga aaj itane pyaar se aap bachchon ko samajha sake prerit kar sake utana hee achchha rahega haalaanki chhote umr mein bahut jyaada bachchon ko daanta maara nahin jaata to aisa kuchh bhee mat kariega unako apane andar se is baat kee anubhooti honee chaahie is baat ke prerana honee chaahie ki haan yah kaam unake lie hee hai unako hee aage padhaee karanee chaahie jisase ki unake jeevan mein pragati ke path par chal sake to unako prerit karie tabhee aap bachche bhee aage badh paenge mein shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
Om Prakash Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Om जी का जवाब
Now in home
1:09
नमस्कार आपका पर्सनल के छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं तो सबसे पहले तो उसको ज्यादा टाइप नहीं करने वाला राधा डांटना नहीं है और कमी नहीं रहती और पढ़ाई के लिए उस को मर्यादा मछली नहीं दिखाना कि आप उसको बोलना बड़ी बड़ी किताब दे दे और वह पढ़े बिना तो उसको ऐसा करें आप किसको चला लेते हैं इतना दे दूंगा कि अगर तुम इतना कर लोगे इतना पढ़ लोगे तब मैं तुम्हें इतना पढ़ोगे तब तुम्हारे काम आएगा जॉब के लिए ही नहीं कर जाती है तुम्हारे आगे काम आएगा तो वह मौत नहीं लगेगा तो मैं मैं की जगह ना हो सकी
Namaskaar aapaka parsanal ke chhote bachchon ko padhaee ka mahatv kaise samajha sakate hain to sabase pahale to usako jyaada taip nahin karane vaala raadha daantana nahin hai aur kamee nahin rahatee aur padhaee ke lie us ko maryaada machhalee nahin dikhaana ki aap usako bolana badee badee kitaab de de aur vah padhe bina to usako aisa karen aap kisako chala lete hain itana de doonga ki agar tum itana kar loge itana padh loge tab main tumhen itana padhoge tab tumhaare kaam aaega job ke lie hee nahin kar jaatee hai tumhaare aage kaam aaega to vah maut nahin lagega to main main kee jagah na ho sakee

bolkar speaker
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
1:42
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं नहीं छोटे बच्चे एनालिसिस पर नहीं पहुंच सकते हैं कि उस पढ़ाई का मतलब क्या है हमें पढ़ाई क्यों पानी भरा होता है उसमें उसको मजा आने चाहिए क्योंकि उसको अगर हम बोलेंगे अभी पढ़ ले नहीं तो तुझे नौकरी नहीं मिलेंगे या मैं तो यह नेगेटिव कंडीशनिंग करके कोई मतलब नहीं तो क्या डर दिखा कर कर उससे पढ़ाई कर आना चाहते हो तो कर लेगा लेकिन उससे कुछ होगा नहीं क्योंकि इंग्लैंड विन लोडिंग फास्ट है कि उसका क्यूरोसिटी और उसका इंटरेस्ट है उसमें प्लेफुल तरीके से जनरेट करना किस तरीके से बच्चा नई नई चीजों को सकता है हाउ हाउ केशन होता है कैसे कि कोई चीज कैसे होती है क्यों होती है यह होते क्यों रे से रिक्वेस्ट है आजकल ऐसा हुआ है कि अगर आप इंटरनेट पर भी देखोगे सर्च करके तो यह क्वेश्चन पूछो कैसे अनुभूत कम सर्च है इस चीज का लेकिन यही चीज हमें बच्चों में इंस्टॉल करनी होती है अपने आप ही उसको इंटरेस्ट आने लगता है उसको जिसमें इंटरेस्ट होगा उसका कैसे का जवाब जल्दी ढूंढने लगता है तो इस तरीके से बच्चों में एक 1 तरीके से डालना होता है किसी भी पढ़ाई को अगर उसको बिठाकर क्लास देंगे तो बच्चा नहीं लेने वाला आपसे क्लास और वह बेस्ट भी हो जाएंगे और यही प्रॉब्लम अपने एजुकेशन सिस्टम के भी है अभी एजुकेशन सिस्टम के अंदर में यह चीज को प्राप्त करना बहुत जरूरी है यह ऐसी जगह खराब होती है तो बच्चे अपने आप ही बहुत अच्छा करेंगे अपनी लाइफ में बहुत अच्छे नॉलेज के साथ में और बहुत अच्छी मेहनत के साथ में
Chhote bachchon ko padhaee ka mahatv kaise samajha sakate hain nahin chhote bachche enaalisis par nahin pahunch sakate hain ki us padhaee ka matalab kya hai hamen padhaee kyon paanee bhara hota hai usamen usako maja aane chaahie kyonki usako agar ham bolenge abhee padh le nahin to tujhe naukaree nahin milenge ya main to yah negetiv kandeeshaning karake koee matalab nahin to kya dar dikha kar kar usase padhaee kar aana chaahate ho to kar lega lekin usase kuchh hoga nahin kyonki inglaind vin loding phaast hai ki usaka kyoorositee aur usaka intarest hai usamen plephul tareeke se janaret karana kis tareeke se bachcha naee naee cheejon ko sakata hai hau hau keshan hota hai kaise ki koee cheej kaise hotee hai kyon hotee hai yah hote kyon re se rikvest hai aajakal aisa hua hai ki agar aap intaranet par bhee dekhoge sarch karake to yah kveshchan poochho kaise anubhoot kam sarch hai is cheej ka lekin yahee cheej hamen bachchon mein instol karanee hotee hai apane aap hee usako intarest aane lagata hai usako jisamen intarest hoga usaka kaise ka javaab jaldee dhoondhane lagata hai to is tareeke se bachchon mein ek 1 tareeke se daalana hota hai kisee bhee padhaee ko agar usako bithaakar klaas denge to bachcha nahin lene vaala aapase klaas aur vah best bhee ho jaenge aur yahee problam apane ejukeshan sistam ke bhee hai abhee ejukeshan sistam ke andar mein yah cheej ko praapt karana bahut jarooree hai yah aisee jagah kharaab hotee hai to bachche apane aap hee bahut achchha karenge apanee laiph mein bahut achchhe nolej ke saath mein aur bahut achchhee mehanat ke saath mein

bolkar speaker
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:17
नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं तो मैं यह बता दूं कि बड़े लोगों को समझाने पर तो वह समझ ही नहीं पाते कि वह पढ़ाई का महत्व क्या है क्योंकि आप नोटिस की होंगे कि बड़े स्टूडेंट भी बहुत ज्यादा लंबा होते हैं क्योंकि उनके पास सोचने समझने की शक्ति होती है तभी भी वह पढ़ाई नहीं करते हैं उन्हें मस्ती पसंद है किसी भी इंसान को उसी काम को करने में मजा आता है जिसमें गारमेंट हो या फिर उसे कहा उसी काम को बोलो अच्छे से करते हैं तो मैं बच्चों के लिए यही कहूंगी कि उन्हें पढ़ाई का मतलब एक तरह का गेम गेम की तरह उन्हें समझाओ की वजह से क्या को गेम में मजा आता है बच्चों का ऐसा संगम के जैसे आपको गेम में मजा आता है उसे पढ़ाई मत करना चाहिए जैसे कि गेम गेम है वह लोग पढ़ाई करें होने लगेगी बातों पर भी उन्हें बहुत ज्यादा ऑनलाइन करना क्या भाव तुमने तो कर लिया मेरे को तो भरोसा ही नहीं था कि तुम कर पाओगी अरे इतनी बड़ी डिफिकल्टी थी तुमने कर लिया देखो बताओ आगे आगे यह वाला डांस खाइए करना है तो फिर जब बच्चों में प्रोत्साहन आएगा यह किसी भी इंसान को जब मोटिवेट किया जाता है तो फिर उसको उसे मजा आता है और फिर वह उस काम को करता है तो बच्चे को क्या करना चाहिए गाना नहीं चाहिए किसी भी छोटी-छोटी गलतियां भी करते हैं तो उसमें डांटना नहीं चाहिए और उसे मोटिवेट करना चाहिए और उसे पढ़ाई ऐसे करवानी चाहिए जैसे गेम हो उसमें उसको एकदम इंजॉय मतलब गेम खेलता है तो को एकदम एंजॉय होकर खेलता है वैसे भी पढ़ाई करे तो इंजॉय की तरह कर जब यह हालत हो जाएगी तो फिर वह धीरे-धीरे बड़ा होगा तो उसे हम कोई स्टोरी सुना सकते हैं क्योंकि कोई भी बच्चा के कटे की स्टोरी बहुत अच्छे से सुनता और समझता स्टोरी सुना सकते हैं धीरे धीरे धीरे धीरे धीरे उसमें मतलब स्टोरी किस ने ऐसा किया तो सोसाइटी को चेंज किया है ऐसे किया उसने वैसे किया तो फिर वह उसका दिमाग है वह धीरे-धीरे कैच करने लगेगा और फिर वह धीरे-धीरे पढ़ाई के प्रति मोटिवेट होने लगेगा और बड़ा होगा तो वह खुद पे खुद समझ जाएगा थैंक यू
Namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki chhote bachchon ko padhaee ka mahatv kaise samajha sakate hain to main yah bata doon ki bade logon ko samajhaane par to vah samajh hee nahin paate ki vah padhaee ka mahatv kya hai kyonki aap notis kee honge ki bade stoodent bhee bahut jyaada lamba hote hain kyonki unake paas sochane samajhane kee shakti hotee hai tabhee bhee vah padhaee nahin karate hain unhen mastee pasand hai kisee bhee insaan ko usee kaam ko karane mein maja aata hai jisamen gaarament ho ya phir use kaha usee kaam ko bolo achchhe se karate hain to main bachchon ke lie yahee kahoongee ki unhen padhaee ka matalab ek tarah ka gem gem kee tarah unhen samajhao kee vajah se kya ko gem mein maja aata hai bachchon ka aisa sangam ke jaise aapako gem mein maja aata hai use padhaee mat karana chaahie jaise ki gem gem hai vah log padhaee karen hone lagegee baaton par bhee unhen bahut jyaada onalain karana kya bhaav tumane to kar liya mere ko to bharosa hee nahin tha ki tum kar paogee are itanee badee diphikaltee thee tumane kar liya dekho batao aage aage yah vaala daans khaie karana hai to phir jab bachchon mein protsaahan aaega yah kisee bhee insaan ko jab motivet kiya jaata hai to phir usako use maja aata hai aur phir vah us kaam ko karata hai to bachche ko kya karana chaahie gaana nahin chaahie kisee bhee chhotee-chhotee galatiyaan bhee karate hain to usamen daantana nahin chaahie aur use motivet karana chaahie aur use padhaee aise karavaanee chaahie jaise gem ho usamen usako ekadam injoy matalab gem khelata hai to ko ekadam enjoy hokar khelata hai vaise bhee padhaee kare to injoy kee tarah kar jab yah haalat ho jaegee to phir vah dheere-dheere bada hoga to use ham koee storee suna sakate hain kyonki koee bhee bachcha ke kate kee storee bahut achchhe se sunata aur samajhata storee suna sakate hain dheere dheere dheere dheere dheere usamen matalab storee kis ne aisa kiya to sosaitee ko chenj kiya hai aise kiya usane vaise kiya to phir vah usaka dimaag hai vah dheere-dheere kaich karane lagega aur phir vah dheere-dheere padhaee ke prati motivet hone lagega aur bada hoga to vah khud pe khud samajh jaega thaink yoo

bolkar speaker
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:59
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं तो छोटे बच्चे जो होते हैं बड़े चंचल होते हैं हम सभी जानते हैं और उन्हें जो हैं आसानी से समझा पाना जो होता है मुश्किल होता है अगर हम पढ़ाई के क्षेत्र के बात करें तो और छोटे बच्चों को उस से रिलेटेड अगर हम भी समझाना हो तो हम जान अपने आसपास के परिवेश में जितने भी पढ़ाई से प्राप्त होने वाले सफल जो है व्यक्तियों से परिचय करेंगे जिससे क्या होता है कि बच्चों के अंदर जान मोटिवेट होता है तथा बच्चे जो है मोटिवेशनल होते हैं जिससे क्या होते हैं कि वह पढ़ाई के महत्व को समझेंगे कि पढ़ाई करने से होता है वह भविष्य में क्या कर सकते हैं इसके अलावा हम कहानी के माध्यम से भी बच्चों को जो है उसको प्रेरित करेंगे की पढ़ाई का महत्व जो है हमारे जीवन में कितना है
Chhote bachchon ko padhaee ka mahatv kaise samajha sakate hain to chhote bachche jo hote hain bade chanchal hote hain ham sabhee jaanate hain aur unhen jo hain aasaanee se samajha paana jo hota hai mushkil hota hai agar ham padhaee ke kshetr ke baat karen to aur chhote bachchon ko us se rileted agar ham bhee samajhaana ho to ham jaan apane aasapaas ke parivesh mein jitane bhee padhaee se praapt hone vaale saphal jo hai vyaktiyon se parichay karenge jisase kya hota hai ki bachchon ke andar jaan motivet hota hai tatha bachche jo hai motiveshanal hote hain jisase kya hote hain ki vah padhaee ke mahatv ko samajhenge ki padhaee karane se hota hai vah bhavishy mein kya kar sakate hain isake alaava ham kahaanee ke maadhyam se bhee bachchon ko jo hai usako prerit karenge kee padhaee ka mahatv jo hai hamaare jeevan mein kitana hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • बच्चों को कैसे पढ़ाये, पढ़ाई में मन लगाने के टोटके, कैसे पढ़ाई में कमजोर छात्रों को सुधारने के लिए
URL copied to clipboard