#जीवन शैली

bolkar speaker

गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें?

Gusse Ko Kaise Kabu Karein Aur Kaise Sakaratmak Soch Se Door Karen
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:56
जैसे कि आपका प्रश्न है गुस्से को कैसे काबू करे हो आपकी सकारात्मक सोच से दूर करें लेकिन गुस्से में कुछ भी करने की वजह एक्सरसाइज करने लग जाए चलने लगे या फिर असीरियर पर उपनिषद और आप उसे कंट्रोल करने के लिए रोजना एक्सरसाइज करें जिससे स्विमिंग या वकील बोलने से पहले आप क्या बोल रहा है उस पर ध्यान देने की प्रैक्टिस करें इससे आप धीरे-धीरे गुस्से में जल्दी रिजेक्ट करने की आदत को छोड़ देंगे और तुरंत गुस्सा कंट्रोल करने के लिए लंबी सांसे ले कुछ अच्छी सी नारी या फोटो देखे गाना सुनाएं योगा करें या फिर कुछ अच्छा होने लग जाए अपने इमोशन को कभी भी कंट्रोल नहीं करना चाहिए इसलिए गुस्से में गलत रे करने की बजाय किसी ऐसे अपने से बात करें जो आपको समझा
Jaise ki aapaka prashn hai gusse ko kaise kaaboo kare ho aapakee sakaaraatmak soch se door karen lekin gusse mein kuchh bhee karane kee vajah eksarasaij karane lag jae chalane lage ya phir aseeriyar par upanishad aur aap use kantrol karane ke lie rojana eksarasaij karen jisase sviming ya vakeel bolane se pahale aap kya bol raha hai us par dhyaan dene kee praiktis karen isase aap dheere-dheere gusse mein jaldee rijekt karane kee aadat ko chhod denge aur turant gussa kantrol karane ke lie lambee saanse le kuchh achchhee see naaree ya photo dekhe gaana sunaen yoga karen ya phir kuchh achchha hone lag jae apane imoshan ko kabhee bhee kantrol nahin karana chaahie isalie gusse mein galat re karane kee bajaay kisee aise apane se baat karen jo aapako samajha

और जवाब सुनें

bolkar speaker
गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें?Gusse Ko Kaise Kabu Karein Aur Kaise Sakaratmak Soch Se Door Karen
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
1:20
बस वाले की गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सा काम सौ से दूर करें तो मनुष्य में घुसा प्राकृतिक एवं मानव स्वभाव है जो भी व्यक्ति मनुष्य के अंदर पाया जाता है बस फर्क सिर्फ इतना होता है कि कुछ लोगों में यह कम होता है कुछ लोगों में सामान्य होता है और कुछ लोगों में बहुत ज्यादा होता है जिन लोगों को मैं बहुत ज्यादा गुस्सा होता है वो लोग अक्सर तनाव के शिकार हो जाते हैं ना कुछ भी पसंद नहीं आता मैं किसी से भी बात करना पसंद नहीं करते अगर साधारण भाषा में कहा जाए तो अधिक उसे करने वाले लोग सिर्फ तनाव में रहते हैं क्योंकि यदि कुछ समय के लिए सोचने और समझने की शक्ति को धीरे-धीरे खत्म कर देता है बहुत अधिक गुस्सा आए तो आप इस वक्त स्थान को छोड़कर किसी दूसरे स्थान पर चले जाए और इसी विषय के बारे में न्यूज़ और उसका जिस पर आपको गुस्सा आए हैं आए हैं अधिक गुस्सा अक्षर तब आता है जब आप परेशान होते हैं या फिर आपके मन में मन शांत नहीं होता है अगर आप अपनी परेशानी अपने किसी दोस्त या किसी ऐसे व्यक्ति को बता सकते हैं जो आपको समझा है वह जरूर बताएं इसके गुस्सा कम और दिमाग शांत रहेंगे
Bas vaale kee gusse ko kaise kaaboo karen aur kaise sa kaam sau se door karen to manushy mein ghusa praakrtik evan maanav svabhaav hai jo bhee vyakti manushy ke andar paaya jaata hai bas phark sirph itana hota hai ki kuchh logon mein yah kam hota hai kuchh logon mein saamaany hota hai aur kuchh logon mein bahut jyaada hota hai jin logon ko main bahut jyaada gussa hota hai vo log aksar tanaav ke shikaar ho jaate hain na kuchh bhee pasand nahin aata main kisee se bhee baat karana pasand nahin karate agar saadhaaran bhaasha mein kaha jae to adhik use karane vaale log sirph tanaav mein rahate hain kyonki yadi kuchh samay ke lie sochane aur samajhane kee shakti ko dheere-dheere khatm kar deta hai bahut adhik gussa aae to aap is vakt sthaan ko chhodakar kisee doosare sthaan par chale jae aur isee vishay ke baare mein nyooz aur usaka jis par aapako gussa aae hain aae hain adhik gussa akshar tab aata hai jab aap pareshaan hote hain ya phir aapake man mein man shaant nahin hota hai agar aap apanee pareshaanee apane kisee dost ya kisee aise vyakti ko bata sakate hain jo aapako samajha hai vah jaroor bataen isake gussa kam aur dimaag shaant rahenge

bolkar speaker
गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें?Gusse Ko Kaise Kabu Karein Aur Kaise Sakaratmak Soch Se Door Karen
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
1:19
तो आप का सवाल है गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें तो सबसे पहले हम बात करेंगे गुस्सा आता है जब किसी से हमें झगड़ा हो जाता है फिर हमारे अंदर एक के एकाएक गुस्सा आ जाता है जो भी आपको गुस्सा आ जाए तो क्या करें गुस्से वाले व्यक्ति से खेलने के लिए दूर चले जाए उसी में फुल एचडी में आप पैदल स्त्रियों में एक स्टेटमेंट रिएक्शन आवश्यकता नहीं होती है आप अपना अक्षय कमरा या बिल्डिंग है तो उसमें छोड़कर एक बार बाहर घूमने तेल निकल जाए अपनी पहली प्रतिक्रिया को नियंत्रण में रखें आप पहली पति के अक्षर हिंसक और विनाशकारी और पूरी तरक्की हो सकती हैं तो यह चीजों का ध्यान रखें अगर आपको यह तरीका अच्छा लगता है तो आप डांस भी कर सकते या अपना फेवरेट सॉन्ग सुन सकते गुस्सा आए तो यह फोन लगा लो कानों के अंदर और अपना फेवरेट सॉन्ग सुनना शुरू कर दे या फिर आप एक गहरी सांस लें और व्यायाम करें केवल अपने स्वास्थ्य पर ध्यान केंद्रित करें कोशिश करें जिस चीज से आप भी परेशान हो तो उसे दिमाग में निकाल दे 150 तक उल्टी गिनती शुरू करें
To aap ka savaal hai gusse ko kaise kaaboo karen aur kaise sakaaraatmak soch se door karen to sabase pahale ham baat karenge gussa aata hai jab kisee se hamen jhagada ho jaata hai phir hamaare andar ek ke ekaek gussa aa jaata hai jo bhee aapako gussa aa jae to kya karen gusse vaale vyakti se khelane ke lie door chale jae usee mein phul echadee mein aap paidal striyon mein ek stetament riekshan aavashyakata nahin hotee hai aap apana akshay kamara ya bilding hai to usamen chhodakar ek baar baahar ghoomane tel nikal jae apanee pahalee pratikriya ko niyantran mein rakhen aap pahalee pati ke akshar hinsak aur vinaashakaaree aur pooree tarakkee ho sakatee hain to yah cheejon ka dhyaan rakhen agar aapako yah tareeka achchha lagata hai to aap daans bhee kar sakate ya apana phevaret song sun sakate gussa aae to yah phon laga lo kaanon ke andar aur apana phevaret song sunana shuroo kar de ya phir aap ek gaharee saans len aur vyaayaam karen keval apane svaasthy par dhyaan kendrit karen koshish karen jis cheej se aap bhee pareshaan ho to use dimaag mein nikaal de 150 tak ultee ginatee shuroo karen

bolkar speaker
गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें?Gusse Ko Kaise Kabu Karein Aur Kaise Sakaratmak Soch Se Door Karen
sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
2:52
हैप्पी रिपब्लिक डे सवाल ये है कि गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दुर्गा देखिए गुस्से को काबू करने के लिए हमें निरंतर प्रयास करने की जरूरत होगी 1 दिन की बात नहीं आएगी 1 दिन 2 दिन हमने प्रयास किया तो गुस्सा दूर हो जाएगा इसको बहुत कोशिश करना पड़ता है यह भी एक तरह से कोई एक बीमारी है गुस्सा और बहुत खतरनाक बीमारी है इस पर हमें जितना जल्दी हो उतना जल्दी काबू पाना चाहिए अन्यथा हमारा जीवन बर्बाद हो सकता है तो गुस्से को काबू करने के लिए सबसे अधिक मुझे लगता है कि मेडिटेशन करना चाहता है लगातार मेडिकेशन करें और प्रतिदिन उस पर प्रयास करना होगा मतलब जल्दी गुस्सा आता है तो आप दिमाग में यह रखें कि गुस्सा आ रही है आप अकेले हो जाएं बिल्कुल जी के पास नारायण बिल्कुल अकेले कमरे में अपने आप को बंद कर ले और बहुत गुस्सा आ कर आता है तो आप अपने गुस्से को कुछ कागज फाड़ कर ले तकिए को मुख्य मारकर कुछ भी इस तरह से अकेले में करके उससे को दूर कर ले हम लोगों के बीच में नारायण गुस्से के समय इसके लिए निरंतर प्रयास करना होगा हम ध्यान देना होगा प्रतिदिन बल्कि आप एक डायरी लिखी है और उस पर लिखी है प्रतिदिन कि आज मैंने इस बात पर गुस्सा किया और वह मुझे नहीं करना चाहिए था बिना गुस्से के काम चल सकता था तो प्रतिदिन उसको लिखे वही दिन इसको यह लिखें मैंने आज अपने गुस्से पर इतना काबू किया और इस बात पर गुस्सा आ रहा था उसको मैंने काबू किया मैं चुप रहा तो यह कर करते धीरे-धीरे क्या होगा कि ध्यान उस तरफ और हमेशा रहेगा और जब भी गुस्सा आएगा तो आपका ध्यान चला जाएगा कि नहीं मुझे गुस्सा नहीं करना है तो यह बातें सब ध्यान रखनी होगी अधिक से अधिक मतलब मैं तो यह कहूंगा कि शुद्ध खाने का है मतलब मतलब कि अपने हाथों की बनी हुई घर की चीज है सारी चीजें और हो सके तो शाकाहारी चीजें खाएं तो भी मुझे लगता है कि गुस्सा नहीं आएगा थैंक यू
Haippee ripablik de savaal ye hai ki gusse ko kaise kaaboo karen aur kaise sakaaraatmak soch se durga dekhie gusse ko kaaboo karane ke lie hamen nirantar prayaas karane kee jaroorat hogee 1 din kee baat nahin aaegee 1 din 2 din hamane prayaas kiya to gussa door ho jaega isako bahut koshish karana padata hai yah bhee ek tarah se koee ek beemaaree hai gussa aur bahut khataranaak beemaaree hai is par hamen jitana jaldee ho utana jaldee kaaboo paana chaahie anyatha hamaara jeevan barbaad ho sakata hai to gusse ko kaaboo karane ke lie sabase adhik mujhe lagata hai ki mediteshan karana chaahata hai lagaataar medikeshan karen aur pratidin us par prayaas karana hoga matalab jaldee gussa aata hai to aap dimaag mein yah rakhen ki gussa aa rahee hai aap akele ho jaen bilkul jee ke paas naaraayan bilkul akele kamare mein apane aap ko band kar le aur bahut gussa aa kar aata hai to aap apane gusse ko kuchh kaagaj phaad kar le takie ko mukhy maarakar kuchh bhee is tarah se akele mein karake usase ko door kar le ham logon ke beech mein naaraayan gusse ke samay isake lie nirantar prayaas karana hoga ham dhyaan dena hoga pratidin balki aap ek daayaree likhee hai aur us par likhee hai pratidin ki aaj mainne is baat par gussa kiya aur vah mujhe nahin karana chaahie tha bina gusse ke kaam chal sakata tha to pratidin usako likhe vahee din isako yah likhen mainne aaj apane gusse par itana kaaboo kiya aur is baat par gussa aa raha tha usako mainne kaaboo kiya main chup raha to yah kar karate dheere-dheere kya hoga ki dhyaan us taraph aur hamesha rahega aur jab bhee gussa aaega to aapaka dhyaan chala jaega ki nahin mujhe gussa nahin karana hai to yah baaten sab dhyaan rakhanee hogee adhik se adhik matalab main to yah kahoonga ki shuddh khaane ka hai matalab matalab ki apane haathon kee banee huee ghar kee cheej hai saaree cheejen aur ho sake to shaakaahaaree cheejen khaen to bhee mujhe lagata hai ki gussa nahin aaega thaink yoo

bolkar speaker
गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें?Gusse Ko Kaise Kabu Karein Aur Kaise Sakaratmak Soch Se Door Karen
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:11
नमस्ते दोस्तों आपका प्रश्न है गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर है गुस्से को काबू में करने के लिए आप को शांत रहना पड़ेगा अगर कोई भी गुस्सा करे आप पर तो आप शांत रहिए और वह अपने आप ही शांत हो जाएगा इसलिए अगर आप शांत नहीं होंगे और वह गुस्सा करेगा तो ज्यादा गुस्से में होंगे इसलिए एक को शांत रहना पड़ेगा तभी दूसरा अपने गुस्से पर कंट्रोल कर सकता है और आप सकारात्मक सोच से उन्हें मनाने की कोशिश करें अगर उनके अंदर नकारात्मक विचार हैं आपके प्रति तो आप उनको सकारात्मक तरीके से उनका जवाब दें और हम को समझाने की कोशिश करें जिनसे उनका गुस्से को कंट्रोल हो सके धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaste doston aapaka prashn hai gusse ko kaise kaaboo karen aur kaise sakaaraatmak soch se door karen to doston aapake savaal ka uttar hai gusse ko kaaboo mein karane ke lie aap ko shaant rahana padega agar koee bhee gussa kare aap par to aap shaant rahie aur vah apane aap hee shaant ho jaega isalie agar aap shaant nahin honge aur vah gussa karega to jyaada gusse mein honge isalie ek ko shaant rahana padega tabhee doosara apane gusse par kantrol kar sakata hai aur aap sakaaraatmak soch se unhen manaane kee koshish karen agar unake andar nakaaraatmak vichaar hain aapake prati to aap unako sakaaraatmak tareeke se unaka javaab den aur ham ko samajhaane kee koshish karen jinase unaka gusse ko kantrol ho sake dhanyavaad saathiyon khush raho

bolkar speaker
गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें?Gusse Ko Kaise Kabu Karein Aur Kaise Sakaratmak Soch Se Door Karen
Gulab Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gulab जी का जवाब
Unknown
2:01

bolkar speaker
गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें?Gusse Ko Kaise Kabu Karein Aur Kaise Sakaratmak Soch Se Door Karen
रंगन Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए रंगन जी का जवाब
Business,Student🤓
1:34
से को कैसे काबू करें और कैसे दर्द में सोचते हो सर काम बिना सोचे समझे कर देते हैं ना आप भी मानेंगे मैं तो बोलो कि हम उसके बाद जब कुछ गलती हो जाए तो हम लोग खुद को ही बोल देना हमेशा हम लोगों को क्या हो सकता है जो बात तो मैं काम कर रहा हूं उसे क्या हो सकती तुम सबसे पहले यह सोचना चाहिए तो अब जब आपको गुस्सा आएगा तो हमेशा कोशिश करना होगा कि आपकी गुस्से के ऐसे जोकर माफ करने वाले हो उससे क्या आपको या फिर आप को आप के वजह से किसी और को क्या नुकसान हो सकता है अगर आप भी चीज पर रविवार में बैठा भाव कि किसको क्या नुकसान हो रहा है आप गुस्से को कंट्रोल जरूर कर पाओगे और देखिए सकारात्मक सोच होता है वह नकारात्मक सोच अगर आप में रहेगा तो कोई भी काम कभी भी नहीं कर पाओगे लेकिन आप मैं अगर मतलब पॉजिटिव क्यों नहीं रहेगा ना तो फिर आप कोई भी काम भी करो लेकिन उसके लिए आपको पॉजिटिव थिंकिंग कर रखना होगा कि नकारात्मक सोच हम लोगों को डरा देता है और डर अजीज होता है दिन अगर मन में अगर डर रहेगा तो कोई भी काम नहीं कर पाओगे तो भी पॉजिटिव और अच्छे अच्छे काम कीजिए जितना हो सके दूसरे के लिए सोचे थे कि आप के साथ उसका भी बहुत सारा काम हो जाए
Se ko kaise kaaboo karen aur kaise dard mein sochate ho sar kaam bina soche samajhe kar dete hain na aap bhee maanenge main to bolo ki ham usake baad jab kuchh galatee ho jae to ham log khud ko hee bol dena hamesha ham logon ko kya ho sakata hai jo baat to main kaam kar raha hoon use kya ho sakatee tum sabase pahale yah sochana chaahie to ab jab aapako gussa aaega to hamesha koshish karana hoga ki aapakee gusse ke aise jokar maaph karane vaale ho usase kya aapako ya phir aap ko aap ke vajah se kisee aur ko kya nukasaan ho sakata hai agar aap bhee cheej par ravivaar mein baitha bhaav ki kisako kya nukasaan ho raha hai aap gusse ko kantrol jaroor kar paoge aur dekhie sakaaraatmak soch hota hai vah nakaaraatmak soch agar aap mein rahega to koee bhee kaam kabhee bhee nahin kar paoge lekin aap main agar matalab pojitiv kyon nahin rahega na to phir aap koee bhee kaam bhee karo lekin usake lie aapako pojitiv thinking kar rakhana hoga ki nakaaraatmak soch ham logon ko dara deta hai aur dar ajeej hota hai din agar man mein agar dar rahega to koee bhee kaam nahin kar paoge to bhee pojitiv aur achchhe achchhe kaam keejie jitana ho sake doosare ke lie soche the ki aap ke saath usaka bhee bahut saara kaam ho jae

bolkar speaker
गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें?Gusse Ko Kaise Kabu Karein Aur Kaise Sakaratmak Soch Se Door Karen
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:48
नमस्कार आकर प्रेस ने गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें तो देखिए एक प्रश्न तो मुझे सही लगता है कि गुस्से को कैसे काबू करें या में पूछा है लेकिन सकारात्मक सोच से दूर क्यों करना चाहते हैं वह मेरे समझ से परे है व्यक्ति को नकारात्मक सोच से दूर होना चाहिए सकारात्मक सोच के पास हमेशा रहना चाहिए सकारात्मक सोच अगर आप अपनी नहीं रखेंगे तो जीवन में आप उन्नति नहीं कर पाएंगे और गुस्से को शांत काबू रखने की बात है तो उसके लिए आप कोशिश करें कि जो भी बातें आपको बुरी लगती है तो आपके मन को पीड़ा देती है ऐसी बातों से खुद को दूर रखें तभी आप अपने गुस्से पर भी काफी हद तक आप पाएंगे मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Namaskaar aakar pres ne gusse ko kaise kaaboo karen aur kaise sakaaraatmak soch se door karen to dekhie ek prashn to mujhe sahee lagata hai ki gusse ko kaise kaaboo karen ya mein poochha hai lekin sakaaraatmak soch se door kyon karana chaahate hain vah mere samajh se pare hai vyakti ko nakaaraatmak soch se door hona chaahie sakaaraatmak soch ke paas hamesha rahana chaahie sakaaraatmak soch agar aap apanee nahin rakhenge to jeevan mein aap unnati nahin kar paenge aur gusse ko shaant kaaboo rakhane kee baat hai to usake lie aap koshish karen ki jo bhee baaten aapako buree lagatee hai to aapake man ko peeda detee hai aisee baaton se khud ko door rakhen tabhee aap apane gusse par bhee kaaphee had tak aap paenge meree shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें?Gusse Ko Kaise Kabu Karein Aur Kaise Sakaratmak Soch Se Door Karen
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:02
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है गुस्से को कैसे काबू में करें और नकारात्मक सोच सकारात्मक सोच से कैसे दूर करें दोस्तों अक्सर कई बार देखा जाता है कि गुस्सा बहुत आ जाता है कोई भी बात बुरा भला बोल देते हैं तो गुस्से में पता नहीं क्या क्या हो जाता है किसी का दिल दुखा देते हैं बेवजह दोस्तों आप भी अगर इन्हीं में से एक है और आपकी जिंदगी में हर चीज पर रोक लगा दी गई है उसे के कारण तो आइए हम जानकारी लेते हैं खबर डॉट ndtv.com के अनुसार जो कि बहुत ही उपयोगी दोस्तों जैसा कि हम बचपन से जानते हैं सभी को बधाई हो कि जब भी आपको गुस्सा आने लगे तो मुंह से कुछ भी बोलने से पहले 10 तक उल्टी गिनती गुस्से में कुछ भी गलत रिजेक्ट करने की बजाय एक्सरसाइज करने लग जाए चलने लगे या फिर चीटियों पर ऊपर नीचे थोड़ा आप इसे कंट्रोल करने के लिए रोजाना एक्सरसाइज करें स्विमिंग या वह तुरंत गुस्सा कंट्रोल करने के लिए लंबी सांसे ले कुछ अच्छी सीनरी फोटोस देखें गाना सुने सुविचार सुने यश्लोक सुने या पढ़े योगा करें या फिर कुछ अच्छा पढ़ने से अपने इमोशन को कभी भी कंट्रोल नहीं करना चाहिए इसलिए गुस्से में गलत रिजेक्ट करने के बजाय किसी अपने से बात करें जो आपको समझी तो बोलने से पहले आप क्या बोल रहे हैं तो उस पर ध्यान देने की प्रैक्टिस करें इससे आप धीरे-धीरे गुस्से में जल्दी याद करने की आदत छोड़ देंगे यह थे कुछ तरीके जिससे कि गुस्से को कंट्रोल हम कर सकते हैं उनको जरूर अपनाएं बहुत जन्मदिन होगा धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai gusse ko kaise kaaboo mein karen aur nakaaraatmak soch sakaaraatmak soch se kaise door karen doston aksar kaee baar dekha jaata hai ki gussa bahut aa jaata hai koee bhee baat bura bhala bol dete hain to gusse mein pata nahin kya kya ho jaata hai kisee ka dil dukha dete hain bevajah doston aap bhee agar inheen mein se ek hai aur aapakee jindagee mein har cheej par rok laga dee gaee hai use ke kaaran to aaie ham jaanakaaree lete hain khabar dot ndtv.chom ke anusaar jo ki bahut hee upayogee doston jaisa ki ham bachapan se jaanate hain sabhee ko badhaee ho ki jab bhee aapako gussa aane lage to munh se kuchh bhee bolane se pahale 10 tak ultee ginatee gusse mein kuchh bhee galat rijekt karane kee bajaay eksarasaij karane lag jae chalane lage ya phir cheetiyon par oopar neeche thoda aap ise kantrol karane ke lie rojaana eksarasaij karen sviming ya vah turant gussa kantrol karane ke lie lambee saanse le kuchh achchhee seenaree photos dekhen gaana sune suvichaar sune yashlok sune ya padhe yoga karen ya phir kuchh achchha padhane se apane imoshan ko kabhee bhee kantrol nahin karana chaahie isalie gusse mein galat rijekt karane ke bajaay kisee apane se baat karen jo aapako samajhee to bolane se pahale aap kya bol rahe hain to us par dhyaan dene kee praiktis karen isase aap dheere-dheere gusse mein jaldee yaad karane kee aadat chhod denge yah the kuchh tareeke jisase ki gusse ko kantrol ham kar sakate hain unako jaroor apanaen bahut janmadin hoga dhanyavaad

bolkar speaker
गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें?Gusse Ko Kaise Kabu Karein Aur Kaise Sakaratmak Soch Se Door Karen
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:19
गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर रहें दूर करें गुस्सा कब आता है जाता है या कोई कुछ अपशब्द कहते हैं या कोई कुछ ऐसा कह देता है जो हमें बर्दाश्त नहीं होता है तो गुस्सा आता है तो क्या होता है इस कंडीशन में हम भी कुछ सोच समझकर काम लेने चाहिए कभी-कभी ऐसा होता है कि कुछ लोग जाने का काम करते हैं और क्यों उनका काम होता है जाना उसके बाद सब काम आप करते हैं तो इस कंडीशन में क्या करें कि आप अपने गुस्से को कंट्रोल करो कंट्रोल करेंगे तभी आप को इससे फायदा होगा नहीं तो नुकसान के अलावा कुछ भी नहीं होता है तू बेशक है कि आप अपने गुस्से को कंट्रोल करने के लिए छोटी-छोटी बातों को इग्नोर मत ऐसा लगे कि हां मैं सुन रहा हूं लेकिन इसे कोई मुझे भाता नहीं है इसे दूरियां बना लीजिए जब कोई ऐसी बातें करता हूं तो आप उससे दूर हो जाएगी क्योंकि उसी में आपका फायदा होगा क्योंकि आपको जो भी नकारात्मक विचार हैं आपके ऊपर हावी नहीं होंगे आपको गुस्सा नहीं होगा आप एकदम माइंड फ्रेश रहेंगे तो आप सकारात्मक सोच में ही हमेशा रहेंगे जो आप को आगे बढ़ाने का काम करेगा
Gusse ko kaise kaaboo karen aur kaise sakaaraatmak soch se door rahen door karen gussa kab aata hai jaata hai ya koee kuchh apashabd kahate hain ya koee kuchh aisa kah deta hai jo hamen bardaasht nahin hota hai to gussa aata hai to kya hota hai is kandeeshan mein ham bhee kuchh soch samajhakar kaam lene chaahie kabhee-kabhee aisa hota hai ki kuchh log jaane ka kaam karate hain aur kyon unaka kaam hota hai jaana usake baad sab kaam aap karate hain to is kandeeshan mein kya karen ki aap apane gusse ko kantrol karo kantrol karenge tabhee aap ko isase phaayada hoga nahin to nukasaan ke alaava kuchh bhee nahin hota hai too beshak hai ki aap apane gusse ko kantrol karane ke lie chhotee-chhotee baaton ko ignor mat aisa lage ki haan main sun raha hoon lekin ise koee mujhe bhaata nahin hai ise dooriyaan bana leejie jab koee aisee baaten karata hoon to aap usase door ho jaegee kyonki usee mein aapaka phaayada hoga kyonki aapako jo bhee nakaaraatmak vichaar hain aapake oopar haavee nahin honge aapako gussa nahin hoga aap ekadam maind phresh rahenge to aap sakaaraatmak soch mein hee hamesha rahenge jo aap ko aage badhaane ka kaam karega

bolkar speaker
गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें?Gusse Ko Kaise Kabu Karein Aur Kaise Sakaratmak Soch Se Door Karen
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
3:00
नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर मतलब दूर करें उसे तो देखिए मैं बता दूं कि इंसान जो अपनी हैबिट गुस्सा हम आता नहीं है गुस्सा हम करते हैं पहले बात और यह हमारे धीरे-धीरे हार्दिक में शामिल हो जाता है जैसे क्या होता है कि जब हम को भी बात हमें मनवा ना होता है या फिर तुम गुस्सा करते हैं तो फिर इंसान समझ जाता है या फिर ऐसे एग्जांपल ए लोग छोटे बच्चों को प्यार से बात करो तो नहीं समझता है लेकिन गुस्सा करो तो वही तुरंत समझ जाएगा तो क्या होता है कि हमें छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करने की आदत हो जाती है क्योंकि हमारा सोसाइटी या फिर हमारे फैमिली में मन में ऐसा बना देते हैं क्योंकि अगर सीधी बात या कोई इंसान से गमना राम बात कर रहा है नरम होकर तो कोई सुनता नहीं है लेकिन वहीं अगर कोई गुस्सा करके बोलता है यह जैसे बात कर लो टीचर की तो कोई ऐसे टीचर प्यार से समझाता तो बच्चे नहीं समझते और भाई पर वह गुस्सा कर दिया तो सारे बच्चे शांत हो जाते हैं तो फिर क्या होता है इंसान का जो हैबिट है कि बनने लगता है और इंसान वह धीरे-धीरे गुस्सा उसके हार्दिक में शामिल हो जाता है और यह हम ना चाहते हुए भी हमारे डेली रूटीन में यह बन जाता है छोटी-छोटी बातों पर हम गुस्सा करने लगते हैं जिससे कि हमारा जो बात है या जल्दी से काम हो जाए हमारा इस काम के करने के लिए हम छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करने लगते हैं और यह हमारे धीरे-धीरे हां पेट में शामिल हो जाता है इससे हमारे बॉडी पर या मेंटल हेल्थ बहुत ज्यादा इफेक्ट पड़ता है तो हमें क्या ऐसे कैसे काबू करना चाहिए तो सबसे पहले तो हमें अपने पर ध्यान रखना चाहिए कि हम गुस्सा क्यों कर रहे हैं किस बात को लेकर गुस्सा करेगा कोई छोटी सी बात भी बोल देता तुम गुस्सा करते थे उस पर ध्यान रखना चाहिए और सबसे पहली बार जब आपको गुस्सा आप अपने पर ध्यान रखो कि हम गुस्सा कब कर रहे हैं जैसे किसी ने कोई बात आपको गुस्सा आ रहा है तो बस आप अपने को दो या 3 मिनट तक बस कंट्रोलर बस ब्लॉक बोली रिलैक्स रिलैक्स इज नॉट गुड फॉर हेल्थ जब यह बोलेंगे धीरे-धीरे आप रिलैक्स हो जाएंगे तो फिर यह आपके और आपको एक हफ्ते तक यह कंट्रोल करना पड़ेगा और धीरे-धीरे आपके डेली रूटीन में शामिल हो जाएगा क्योंकि गुस्सा करने से आपको ही नहीं बल्कि दूसरों को भी बहुत नुकसान होता है दूसरों को छोड़िए आप को सबसे ज्यादा नुकसान होता है आपका पूरा दिन खराब हो जाता है एक गुस्सा करोगे तो पूरा दिन खराब हो जाएगा और वही थॉट्स आपके दिमाग में चलता रहता है इससे बेटर यह है कि थोड़ा बहुत हम अपने को 2 मिनट 3 मिनट जब गुस्सा आ रहा है तो कंट्रोल कर ले जब उस टाइम हो अपने आप को कंट्रोल कर लेंगे तो यह गुस्सा है वह हमारा धीरे धीरे कम हो जाएगा और हमारे हाइट में शामिल हो जाएगा ना गुस्सा करने वाली आदत क्योंकि हम कोई भी हां बेटू से डेवलप करते हो और यह हमारे धीरे धीरे डेली रूटीन में शामिल हो जाते हो जाता है थैंक यू
Namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki gusse ko kaise kaaboo karen aur kaise sakaaraatmak soch se door matalab door karen use to dekhie main bata doon ki insaan jo apanee haibit gussa ham aata nahin hai gussa ham karate hain pahale baat aur yah hamaare dheere-dheere haardik mein shaamil ho jaata hai jaise kya hota hai ki jab ham ko bhee baat hamen manava na hota hai ya phir tum gussa karate hain to phir insaan samajh jaata hai ya phir aise egjaampal e log chhote bachchon ko pyaar se baat karo to nahin samajhata hai lekin gussa karo to vahee turant samajh jaega to kya hota hai ki hamen chhotee-chhotee baaton par gussa karane kee aadat ho jaatee hai kyonki hamaara sosaitee ya phir hamaare phaimilee mein man mein aisa bana dete hain kyonki agar seedhee baat ya koee insaan se gamana raam baat kar raha hai naram hokar to koee sunata nahin hai lekin vaheen agar koee gussa karake bolata hai yah jaise baat kar lo teechar kee to koee aise teechar pyaar se samajhaata to bachche nahin samajhate aur bhaee par vah gussa kar diya to saare bachche shaant ho jaate hain to phir kya hota hai insaan ka jo haibit hai ki banane lagata hai aur insaan vah dheere-dheere gussa usake haardik mein shaamil ho jaata hai aur yah ham na chaahate hue bhee hamaare delee rooteen mein yah ban jaata hai chhotee-chhotee baaton par ham gussa karane lagate hain jisase ki hamaara jo baat hai ya jaldee se kaam ho jae hamaara is kaam ke karane ke lie ham chhotee-chhotee baaton par gussa karane lagate hain aur yah hamaare dheere-dheere haan pet mein shaamil ho jaata hai isase hamaare bodee par ya mental helth bahut jyaada iphekt padata hai to hamen kya aise kaise kaaboo karana chaahie to sabase pahale to hamen apane par dhyaan rakhana chaahie ki ham gussa kyon kar rahe hain kis baat ko lekar gussa karega koee chhotee see baat bhee bol deta tum gussa karate the us par dhyaan rakhana chaahie aur sabase pahalee baar jab aapako gussa aap apane par dhyaan rakho ki ham gussa kab kar rahe hain jaise kisee ne koee baat aapako gussa aa raha hai to bas aap apane ko do ya 3 minat tak bas kantrolar bas blok bolee rilaiks rilaiks ij not gud phor helth jab yah bolenge dheere-dheere aap rilaiks ho jaenge to phir yah aapake aur aapako ek haphte tak yah kantrol karana padega aur dheere-dheere aapake delee rooteen mein shaamil ho jaega kyonki gussa karane se aapako hee nahin balki doosaron ko bhee bahut nukasaan hota hai doosaron ko chhodie aap ko sabase jyaada nukasaan hota hai aapaka poora din kharaab ho jaata hai ek gussa karoge to poora din kharaab ho jaega aur vahee thots aapake dimaag mein chalata rahata hai isase betar yah hai ki thoda bahut ham apane ko 2 minat 3 minat jab gussa aa raha hai to kantrol kar le jab us taim ho apane aap ko kantrol kar lenge to yah gussa hai vah hamaara dheere dheere kam ho jaega aur hamaare hait mein shaamil ho jaega na gussa karane vaalee aadat kyonki ham koee bhee haan betoo se devalap karate ho aur yah hamaare dheere dheere delee rooteen mein shaamil ho jaate ho jaata hai thaink yoo

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें गुस्से को कैसे काबू करें
URL copied to clipboard