#भारत की राजनीति

Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
1:31
ही सवाल आज 26 जनवरी के बाद बहुत से लोगों के मन में आ रहा है कि क्यों करते दिवस के मौके पर राजधानी में जबरदस्त प्रदर्शन किया गया वह दुनिया क्या संदेश दिखा देखिए जब भी हम कोई अपने आप को जब भी हम कोई अपने घर भी कोई त्यौहार मनाते हैं कोई खुशी का माहौल बनाते करो उस समय कोई उस तूफान में कलेश हो जाए उस तोहार में कभी कोई ऐसी भावना एक इसमें भावना ठीक रहा तो फिर लड़ाई हो जाए तो वह हर कोई है वह दिन हर कोई नहीं भूलता जी हां ऐसे ही रहेगा आपको याद होगा पिछले वर्ष जब जब अमेरिका के राष्ट्रपति पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत भारत में भारत में मैं हूं दिल्ली में हिंदू मुस्लिम के झगड़े शुरू हो गए 10 अकारांत चाहे कोई कुछ भी रहा हो लेकिन वह दिन आज कोई बुरा कुछ पता हो कि राष्ट्रपति के आने बाद जब वह अपने हावडी मोदी के कार्यक्रम में लगे हुए थे तब दिल्ली में हिंदू मुस्लिम के झगड़े हो रहे थे मैं आकर आपको बता दूं मैं आप पर किसी भी कास्ट को किसी भी जाति को टारगेट नहीं कर रहा हूं कि झगड़े किसने शुरू की बचपन बता रहा हूं भारत ने अपनी पुत्री के साथ गणतंत्र दिवस मनाया और गणतंत्र दिवस समाप्ति के बाद ही दिल्ली में ऐसे किसानों ने इंडिया में कौन किसान हैं कौन है उन्होंने से पूछ कर दी तू दिल्ली के तमाम इलाकों में थोड़ा थोड़ी मशीन लग गए दिल्ली पुलिस से लड़ गए लाल किले की प्राचीर प्रखंडों में ठंडी लगने लग गए यह बहुत ही शर्मसार रहेगा और शायद इस बात को कोई भारत के ऊपर अच्छी हो नजरिया मिलेगा मैं समझता हूं कि यह भारत के लिए बहुत ही खराब बात होगी
Hee savaal aaj 26 janavaree ke baad bahut se logon ke man mein aa raha hai ki kyon karate divas ke mauke par raajadhaanee mein jabaradast pradarshan kiya gaya vah duniya kya sandesh dikha dekhie jab bhee ham koee apane aap ko jab bhee ham koee apane ghar bhee koee tyauhaar manaate hain koee khushee ka maahaul banaate karo us samay koee us toophaan mein kalesh ho jae us tohaar mein kabhee koee aisee bhaavana ek isamen bhaavana theek raha to phir ladaee ho jae to vah har koee hai vah din har koee nahin bhoolata jee haan aise hee rahega aapako yaad hoga pichhale varsh jab jab amerika ke raashtrapati poorv raashtrapati donaald tramp bhaarat bhaarat mein bhaarat mein main hoon dillee mein hindoo muslim ke jhagade shuroo ho gae 10 akaaraant chaahe koee kuchh bhee raha ho lekin vah din aaj koee bura kuchh pata ho ki raashtrapati ke aane baad jab vah apane haavadee modee ke kaaryakram mein lage hue the tab dillee mein hindoo muslim ke jhagade ho rahe the main aakar aapako bata doon main aap par kisee bhee kaast ko kisee bhee jaati ko taaraget nahin kar raha hoon ki jhagade kisane shuroo kee bachapan bata raha hoon bhaarat ne apanee putree ke saath ganatantr divas manaaya aur ganatantr divas samaapti ke baad hee dillee mein aise kisaanon ne indiya mein kaun kisaan hain kaun hai unhonne se poochh kar dee too dillee ke tamaam ilaakon mein thoda thodee masheen lag gae dillee pulis se lad gae laal kile kee praacheer prakhandon mein thandee lagane lag gae yah bahut hee sharmasaar rahega aur shaayad is baat ko koee bhaarat ke oopar achchhee ho najariya milega main samajhata hoon ki yah bhaarat ke lie bahut hee kharaab baat hogee

और जवाब सुनें

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
2:25
किसानों में अराजकता को जो भी है दिल्ली में किया है या भारतीय राष्ट्रीय ध्वज के साथ में जिस प्रकार का अमित आचरण इन्होंने किया है वह बता रहा है सारी दुनिया को यह संदेश दे रहा है कि भारत में नियम बहुत कमजोर हैं भारत में वोटों की राजनीति होती है तुष्टीकरण की राजनीति है और इसकी गंदी राजनीति के परिणाम स्वरूप इस प्रकार के दृश्य उपस्थित होते हैं पहली बार देश में राष्ट्रीय ध्वज की गरिमा को लांच करने का प्रयास किया गया है और जो जनता के द्वारा तो लेते हैं किंतु वोटों की राजनीति को रफा-दफा कर देगी क्योंकि इसी प्रकार की जाती है हड़ताल होती है रात में सोते हैं और विभिन्न प्रकार चित्तौड़ को राष्ट्रीय संपत्ति को नुकसान पहुंचाया जाता है लोग ट्रेनों में आग लगा देते हैं बसों में आग लगा देते हैं रास्ते तो कर देते हैं रास्ते जाम कर लेते हैं लेकिन भारत ने जो नियम इतने कमजोर हैं वोटों की राजनीति इस कदर गंदी है कि राजस्व को नुकसान पहुंच जाएं लेकिन वोटों की खातिर पता है यह सरकारें कुछ नहीं करती है जबकि नाइस ऑर्डर के लिए वोटों की राजनीति पर ध्यान ना दे करके जो राज की संपत्ति को नुकसान पहुंचाते हैं उनको पनिशमेंट अवश्य किया जाना चाहिए क्योंकि अंग्रेजी में एक कहावत है कि दीप दस्ते लग जाएगी यदि आपने बच्चे को डांटना मत करना बंद कर दिया और अनुशासन का महत्व समझाया तो वह बच्चा निकलते ही आगे जाकर भविष्य में बिगड़ जाएगा और अनुशासन हीन बन जाएगा ठीक यही स्थिति भाग भारत में भारत के नियम कमजोर है इतने लक्षण है भारत में वोटों की गंदी राजनीति राजनीतिक पार्टियां करती हैं परिणाम स्वरूप राज्य संपत्ति को बहुत नुकसान कर दिया जाता है और पीछे रफा-दफा कर दिया जाता है

Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College Student
0:56
नमस्कार श्रोताओं ने प्रदर्शन किया ताकि उन्हें तलाश कर रहते हैं इंडिया वाले जिस प्रकार से नहीं दिखा रहे थे वह भी अच्छा नहीं था और वह चाहते तो काफी ज्यादा देखा जाएगा रिपब्लिक डे करेंगे तो इंटरनेशनल गारमेंट पर जल्दी से जल्दी कुछ आप एक्शन ले वापस ले या जो भी हो तो एक प्रकार से संदेश भेजना चाह रहे हैं वह इंटरनेशनल लेवल पर यह हमारे साथ गलत हो रहा है और हमें अपनी राइट्स नहीं मिलने हैं और एक प्रकार से प्रेशर बनाया जा रहा है सरकार पर
Namaskaar shrotaon ne pradarshan kiya taaki unhen talaash kar rahate hain indiya vaale jis prakaar se nahin dikha rahe the vah bhee achchha nahin tha aur vah chaahate to kaaphee jyaada dekha jaega ripablik de karenge to intaraneshanal gaarament par jaldee se jaldee kuchh aap ekshan le vaapas le ya jo bhee ho to ek prakaar se sandesh bhejana chaah rahe hain vah intaraneshanal leval par yah hamaare saath galat ho raha hai aur hamen apanee raits nahin milane hain aur ek prakaar se preshar banaaya ja raha hai sarakaar par

sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
1:36
हैप्पी रिपब्लिक डे सवाल है कि गणतंत्र दिवस पर किसानों का देश की राजधानी पर जबरदस्त का प्रदर्शन दुनिया को क्या संदेश है देखिए यह बिल्कुल अच्छा संदेश नहीं देगा और मैं तो अभी यह सामने रिकॉर्ड कर रहा हूं तो सारा मामला ही बिगड़ गया है जबरदस्त उग्र प्रदर्शन हो रहा है लाठियां भांजनी पड़ी पुलिस को गोली छोड़नी पड़ी आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े किसानों का ऐसा रूप है यह तो मुझे नहीं लगता कि यह किसान है किसान के रूप में बिल्कुल यह उपद्रवी तो इस तरह से नहीं होना चाहिए था बिल्कुल यह दुर्भाग्यपूर्ण है हमारे देश के लिए सरकार को बिल्कुल की इजाजत ही नहीं देनी चाहिए थी सरकार ने पता नहीं क्यों क्या सोचकर इसकी इजाजत दे दी ट्रैक्टर से रैली निकालने यह इसके पीछे अराजक तत्व है जो भी इस प्रदर्शन का सपोर्ट जो लोग कर रहे हैं वह दोषी हैं इसके पीछे आप सरकार से अपनी बातें जो है शांति पूर्वक भरता करिए नहीं मान रही है सरकार तो फिर आप धरना कीजिए प्रदर्शन कीजिए भूख हड़ताल कीजिए आप मतलब बापू ने हमें संदेश जो दिया है तो बिल्कुल उसका ही पालन करना है लोकतंत्र में उसी की जगह हिंसा की जगह नहीं है आप लगातार करते जाएं प्रदर्शन
Haippee ripablik de savaal hai ki ganatantr divas par kisaanon ka desh kee raajadhaanee par jabaradast ka pradarshan duniya ko kya sandesh hai dekhie yah bilkul achchha sandesh nahin dega aur main to abhee yah saamane rikord kar raha hoon to saara maamala hee bigad gaya hai jabaradast ugr pradarshan ho raha hai laathiyaan bhaanjanee padee pulis ko golee chhodanee padee aansoo gais ke gole chhodane pade kisaanon ka aisa roop hai yah to mujhe nahin lagata ki yah kisaan hai kisaan ke roop mein bilkul yah upadravee to is tarah se nahin hona chaahie tha bilkul yah durbhaagyapoorn hai hamaare desh ke lie sarakaar ko bilkul kee ijaajat hee nahin denee chaahie thee sarakaar ne pata nahin kyon kya sochakar isakee ijaajat de dee traiktar se railee nikaalane yah isake peechhe araajak tatv hai jo bhee is pradarshan ka saport jo log kar rahe hain vah doshee hain isake peechhe aap sarakaar se apanee baaten jo hai shaanti poorvak bharata karie nahin maan rahee hai sarakaar to phir aap dharana keejie pradarshan keejie bhookh hadataal keejie aap matalab baapoo ne hamen sandesh jo diya hai to bilkul usaka hee paalan karana hai lokatantr mein usee kee jagah hinsa kee jagah nahin hai aap lagaataar karate jaen pradarshan

arjun sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए arjun जी का जवाब
Motor mechanic
1:23
आप सवाल पूछे हैं गणतंत्र दिवस पर किसान का देश की राजधानी पर जबरदस्त का प्रदर्शन दुनिया को क्या संदेश देगा तो मैं बता दूं कि दुनिया भारत पर हंसेगा और 134 करोड़ वाले देश जनसंख्या वाले देश पर जो हम लोग को शर्मसार करने वाली बात है जो चंद राजनेताओं के कारण हमारे देश को काले अक्षर में इतिहास लिखा जाएगा दिल्ली के सरकार जो शाहीन बाग के समर्थन में खड़ा रहता है और कांग्रेस जो चीन और पाकिस्तान के साथ खड़ा साथ देता है सिर्फ मोदी को गिराने के लिए आज किसानों के नाम पर जो आतंकी का साथ देने वाले देश से को शर्मसार कर दिया यह बहुत दुखद बात है हमारे देश के लिए देश सर्वोपरि है पहले हम देश के साथ होंगे तभी यह इस तरह की घटना को रोक पाएंगे जय हिंद जय भारत
Aap savaal poochhe hain ganatantr divas par kisaan ka desh kee raajadhaanee par jabaradast ka pradarshan duniya ko kya sandesh dega to main bata doon ki duniya bhaarat par hansega aur 134 karod vaale desh janasankhya vaale desh par jo ham log ko sharmasaar karane vaalee baat hai jo chand raajanetaon ke kaaran hamaare desh ko kaale akshar mein itihaas likha jaega dillee ke sarakaar jo shaaheen baag ke samarthan mein khada rahata hai aur kaangres jo cheen aur paakistaan ke saath khada saath deta hai sirph modee ko giraane ke lie aaj kisaanon ke naam par jo aatankee ka saath dene vaale desh se ko sharmasaar kar diya yah bahut dukhad baat hai hamaare desh ke lie desh sarvopari hai pahale ham desh ke saath honge tabhee yah is tarah kee ghatana ko rok paenge jay hind jay bhaarat

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:44
गणतंत्र दिवस पर किसानों का देश की राजधानी पर जबरदस्त का प्रदर्शन दुनिया को क्या संदेश देता कि जब हम कहीं फंक्शन जैसे हम नॉर्मल का फंक्शन करते हैं उसमें कुछ अराजक प्रदर्शनी अराजक तत्व हो जाते हैं जिसे क्या होती है कि कुछ गड़बड़ियां हो जाती है जो हम ना चाहते हुए भी वह चीजें करनी पड़ती है यहां झगड़े फसाद या मारपीट या जैसे कुछ ऐसे मामले हो जाए उस प्रदर्शन को पूरी तरह से कमजोर बना देता है और बड़ी ही कहां जाएगी को लोगों में बदनामी होने लगती है तो कहीं ना कहीं हमारी कमियों को दर्शाता है उसी प्रकार क्या है कि यह जो किसान आंदोलन है वह भी एक सरकार की कमियां ही है कि आज अभी 2 महीने से इसका प्रदर्शन चल रहा है फिर भी आज जो किसानों का सबसे जबरदस्त प्रदर्शन राजधानी दिल्ली में हो रहा है और उसकी प्रति गुड भीड़ भी हुई है और लोगों में कहा जाए कि एक तरफ से पुलिस के द्वारा आंसू गैस के गोले भी छोड़ने पड़े बहुत सारी ऐसी प्रक्रिया हुई जो कुछ नुकसान भी हुआ है किसानों के प्रति तू दिखे चीजें हमारी कमजोरी को हमारी सरकार की रणनीति को दर्शाती है दुनिया दुनिया लेवल पर की प्रदर्शन इस तरह के होते हैं तो कहीं ना कहीं एक कमियां है कमियां सरकार के द्वारा है और हमारी कमियों की वजह से इस तरह के जो भी दंगा प्रसाद याद जो भी गलत तरीके से प्रदर्शन हो रहे हैं तो कहीं ना कहीं कमियां है जो सरकार ने सरकार को नहीं दिख रहे हैं लोगों को दिख रहे हैं अब
Ganatantr divas par kisaanon ka desh kee raajadhaanee par jabaradast ka pradarshan duniya ko kya sandesh deta ki jab ham kaheen phankshan jaise ham normal ka phankshan karate hain usamen kuchh araajak pradarshanee araajak tatv ho jaate hain jise kya hotee hai ki kuchh gadabadiyaan ho jaatee hai jo ham na chaahate hue bhee vah cheejen karanee padatee hai yahaan jhagade phasaad ya maarapeet ya jaise kuchh aise maamale ho jae us pradarshan ko pooree tarah se kamajor bana deta hai aur badee hee kahaan jaegee ko logon mein badanaamee hone lagatee hai to kaheen na kaheen hamaaree kamiyon ko darshaata hai usee prakaar kya hai ki yah jo kisaan aandolan hai vah bhee ek sarakaar kee kamiyaan hee hai ki aaj abhee 2 maheene se isaka pradarshan chal raha hai phir bhee aaj jo kisaanon ka sabase jabaradast pradarshan raajadhaanee dillee mein ho raha hai aur usakee prati gud bheed bhee huee hai aur logon mein kaha jae ki ek taraph se pulis ke dvaara aansoo gais ke gole bhee chhodane pade bahut saaree aisee prakriya huee jo kuchh nukasaan bhee hua hai kisaanon ke prati too dikhe cheejen hamaaree kamajoree ko hamaaree sarakaar kee rananeeti ko darshaatee hai duniya duniya leval par kee pradarshan is tarah ke hote hain to kaheen na kaheen ek kamiyaan hai kamiyaan sarakaar ke dvaara hai aur hamaaree kamiyon kee vajah se is tarah ke jo bhee danga prasaad yaad jo bhee galat tareeke se pradarshan ho rahe hain to kaheen na kaheen kamiyaan hai jo sarakaar ne sarakaar ko nahin dikh rahe hain logon ko dikh rahe hain ab

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:43
जो भी हुआ आज गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में वह बिल्कुल सही नहीं है लेकिन सबसे बड़ी समस्या है कि जो हम भीड़ होती है भीड़ का कोई मां बाप ने हो तब भी क्रीड का कोई कंट्रोल नहीं होता है और यह जो प्रदर्शन हुआ वह दुनिया में हमारे देश को शर्मसार करेगा हमारे देश की इज्जत घटेगी इस प्रकार अमेरिका में पिछले दिनों हुआ तो अमेरिका के लोग कहा लोगों ने कहा कि अमेरिका में जो हो रहा है अच्छा नहीं हो रहा है उसी प्रकार का हो रहा है किसानों के नाम पर जिन्होंने भी किया उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था धन्यवाद
Jo bhee hua aaj ganatantr divas par dillee mein vah bilkul sahee nahin hai lekin sabase badee samasya hai ki jo ham bheed hotee hai bheed ka koee maan baap ne ho tab bhee kreed ka koee kantrol nahin hota hai aur yah jo pradarshan hua vah duniya mein hamaare desh ko sharmasaar karega hamaare desh kee ijjat ghategee is prakaar amerika mein pichhale dinon hua to amerika ke log kaha logon ne kaha ki amerika mein jo ho raha hai achchha nahin ho raha hai usee prakaar ka ho raha hai kisaanon ke naam par jinhonne bhee kiya unhen aisa nahin karana chaahie tha dhanyavaad

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
गणतंत्र दिवस पर किसानों का देश की राजधानी पर जबरदस्त प्रदर्शन बलिया को क्या संदेश देता है भारत के इतिहास में बहुत महत्वपूर्ण घटना है आज की घटना किशन भैया कोई भी भटक हो समाज का इसने अपनी चुनी हुई है प्रतिनिधियों नेताओं और सरकारों के ऊपर अव्यवस्था के ऊपर विद्रोह किया है मुजरा अच्छे कामों के लिए बेहोश हो या बुरे कर्मों के भेजो के लिए में हो एक जबरदस्त धक्का नहीं है हमारे देश का जिसकी केंद्र सत्ता बहुत कम है मजबूत है लेकिन उसके उससे भी ज्यादा मजबूत आम लोगों की सकता है आप लोगों पर चाहते हैं तो सबको खिला सकते हैं या उखाड़ कर फेंक सकते तो इसी तरीके का वाक्य गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में हंगामा मचा और इसका कारण किसानों के संदर्भ में मनाई गई टीम किशन कन्वेंशन किशन नहीं चाहते हैं उसके लिए याद दिला हो रहा है अगर किसान नहीं चाहते सरकर की जाती है मालिक जनता है या जनता के चुने प्रतिनिधि जो चाहती है वह प्रति रंगोली करना पड़ता है इस तरीके का काम डेमोक्रेसी में होता है लेकिन एक बार सत्तात्मक में आ जाने के बाद सब तो सिर्फ सरकार की होती है ऐसा जो समाज पिछले 70 साल से देश में फैलाया गया लोगों ने भी उसको स्वीकार किया यहां पर बहुत बड़ी गलती हो गई जनता ने मांग की कोशिश करनी चाहिए और की जा सकती है लेकिन इच्छाशक्ति नहीं होती तो करने के लिए बहुत सारी चीजें और देश के अंदर है उनका उपयोग करने की नियत नहीं कुछ स्वार्थी लोगों से डिस्को चला जाता है और जो उसका धंधा ही सिर को काटने का है उसके साथ मैसेज कर देने से क्या फायदा है लेकिन हर बार यही भूल हो गई लोगों ने अपने ऑडियो है उसके अधिकार को समझा नहीं उन्होंने वह सो ₹200 में बेच दे दिया तो इसका परिणाम में होने वाले अगर पसंद करते हुए लोग वोटिंग करते हैं पैसा ना लेकर तो पूछ सकते थे और पृथ्वी को भी जनता की सुननी पड़ती लेकिन यह बात तो निश्चित हो गई कि अभी देश में भी और पूरे विश्व में संदेश मिल गया कि जनता के खिलाफ अगर कुछ निर्णय लिया है ऐसा जनता को लगता है तो जनता आक्रमक होकर गुस्सा को ही पढ़ कर देख सकती है अमेरिका में भी ऐसे संदेश साल में अगर पूरी दुनिया ने देखा लेकिन एक लोक सही पिंजड़े उस्मानपुर मजबूत है नागरिकों में लोकशाही खिचड़ी मजबूत है भारत में भी वह अब ज्यादा से ज्यादा मजबूत होती जा रही है यह संदेश दुनिया को मिला है कारण को कि कोई भी हो लोग को कोई भी हो लेकिन वह सरकार को झुका सकते हैं यह संदेश
Ganatantr divas par kisaanon ka desh kee raajadhaanee par jabaradast pradarshan baliya ko kya sandesh deta hai bhaarat ke itihaas mein bahut mahatvapoorn ghatana hai aaj kee ghatana kishan bhaiya koee bhee bhatak ho samaaj ka isane apanee chunee huee hai pratinidhiyon netaon aur sarakaaron ke oopar avyavastha ke oopar vidroh kiya hai mujara achchhe kaamon ke lie behosh ho ya bure karmon ke bhejo ke lie mein ho ek jabaradast dhakka nahin hai hamaare desh ka jisakee kendr satta bahut kam hai majaboot hai lekin usake usase bhee jyaada majaboot aam logon kee sakata hai aap logon par chaahate hain to sabako khila sakate hain ya ukhaad kar phenk sakate to isee tareeke ka vaaky ganatantr divas par dillee mein hangaama macha aur isaka kaaran kisaanon ke sandarbh mein manaee gaee teem kishan kanvenshan kishan nahin chaahate hain usake lie yaad dila ho raha hai agar kisaan nahin chaahate sarakar kee jaatee hai maalik janata hai ya janata ke chune pratinidhi jo chaahatee hai vah prati rangolee karana padata hai is tareeke ka kaam demokresee mein hota hai lekin ek baar sattaatmak mein aa jaane ke baad sab to sirph sarakaar kee hotee hai aisa jo samaaj pichhale 70 saal se desh mein phailaaya gaya logon ne bhee usako sveekaar kiya yahaan par bahut badee galatee ho gaee janata ne maang kee koshish karanee chaahie aur kee ja sakatee hai lekin ichchhaashakti nahin hotee to karane ke lie bahut saaree cheejen aur desh ke andar hai unaka upayog karane kee niyat nahin kuchh svaarthee logon se disko chala jaata hai aur jo usaka dhandha hee sir ko kaatane ka hai usake saath maisej kar dene se kya phaayada hai lekin har baar yahee bhool ho gaee logon ne apane odiyo hai usake adhikaar ko samajha nahin unhonne vah so ₹200 mein bech de diya to isaka parinaam mein hone vaale agar pasand karate hue log voting karate hain paisa na lekar to poochh sakate the aur prthvee ko bhee janata kee sunanee padatee lekin yah baat to nishchit ho gaee ki abhee desh mein bhee aur poore vishv mein sandesh mil gaya ki janata ke khilaaph agar kuchh nirnay liya hai aisa janata ko lagata hai to janata aakramak hokar gussa ko hee padh kar dekh sakatee hai amerika mein bhee aise sandesh saal mein agar pooree duniya ne dekha lekin ek lok sahee pinjade usmaanapur majaboot hai naagarikon mein lokashaahee khichadee majaboot hai bhaarat mein bhee vah ab jyaada se jyaada majaboot hotee ja rahee hai yah sandesh duniya ko mila hai kaaran ko ki koee bhee ho log ko koee bhee ho lekin vah sarakaar ko jhuka sakate hain yah sandesh

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:59
नमस्ते दोस्तों आज आपका प्रश्न है गणतंत्र दिवस पर किसानों का देश की राजधानी पर जबरदस्त का प्रदर्शन दुनिया को क्या संदेश दे दोस्तों आपके प्रश्न का उत्तर यह है गणतंत्र दिवस पर हमारे अन्नदाता जब भारत की राजधानी पर जबरदस्त प्रदर्शन कर रहे हैं तो दुनिया को यह संदेश मिलेगा कि हमारे देश में लोकतंत्र मजबूत है जो हमारे अन्नदाता अपने हित के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं और हमारे देश की सरकार नींद में सोई हुई है जो तीन काले कानून बनाए हैं उनको वापस नहीं ले रही है और हमारे देश के अन्नदाता अपने पेट के लिए और गणतंत्र दिवस पर भी अपना आंदोलन को कर रहे हैं धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaste doston aaj aapaka prashn hai ganatantr divas par kisaanon ka desh kee raajadhaanee par jabaradast ka pradarshan duniya ko kya sandesh de doston aapake prashn ka uttar yah hai ganatantr divas par hamaare annadaata jab bhaarat kee raajadhaanee par jabaradast pradarshan kar rahe hain to duniya ko yah sandesh milega ki hamaare desh mein lokatantr majaboot hai jo hamaare annadaata apane hit ke lie ladaee lad rahe hain aur hamaare desh kee sarakaar neend mein soee huee hai jo teen kaale kaanoon banae hain unako vaapas nahin le rahee hai aur hamaare desh ke annadaata apane pet ke lie aur ganatantr divas par bhee apana aandolan ko kar rahe hain dhanyavaad saathiyon khush raho

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
1:01
कारा का प्रश्न बैंक गणतंत्र दिवस पर किसानों का देश की राजधानी पर जबरदस्त प्रदर्शन दुनिया को क्या संदेश देगा को बता दें देखे यहां पर कहीं ना कहीं सरकार ने भी जानबूझकर प्रदर्शनकारी है उनको छोड़ दी जिससे कि वह जिस कारण से या जिस काम से राजधानी में घुसे और जिसमें उत्पात मचाया कई जगह पर कई जगह काफी अच्छे से उन्होंने टाटा रैली निकाली लेकिन काफी सारी जगह पर उन्होंने संयम खो दिया और कई सारी ऐसी हरकतें करें तो यहां पर बोलना भी उचित नहीं है तो वह सारा चेहरा भी उस भीड़ का दिखाई दे सरकार भी शायद कहीं ना कहीं है चाहती थी और पूरे देश ने वह चेहरा देखा है और इससे खुश किसानों ने ही अपने आंदोलन को कमजोर किया है आपका क्या कीमत है इस बारे में अपना मत कमेंट सेक्शन में जो जाहिर करें मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Kaara ka prashn baink ganatantr divas par kisaanon ka desh kee raajadhaanee par jabaradast pradarshan duniya ko kya sandesh dega ko bata den dekhe yahaan par kaheen na kaheen sarakaar ne bhee jaanaboojhakar pradarshanakaaree hai unako chhod dee jisase ki vah jis kaaran se ya jis kaam se raajadhaanee mein ghuse aur jisamen utpaat machaaya kaee jagah par kaee jagah kaaphee achchhe se unhonne taata railee nikaalee lekin kaaphee saaree jagah par unhonne sanyam kho diya aur kaee saaree aisee harakaten karen to yahaan par bolana bhee uchit nahin hai to vah saara chehara bhee us bheed ka dikhaee de sarakaar bhee shaayad kaheen na kaheen hai chaahatee thee aur poore desh ne vah chehara dekha hai aur isase khush kisaanon ne hee apane aandolan ko kamajor kiya hai aapaka kya keemat hai is baare mein apana mat kament sekshan mein jo jaahir karen main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:58
आपका प्रश्न है कि गणतंत्र दिवस पर किसानों का देश की राजधानी पर जबरदस्त का प्रदर्शन दुनिया को क्या संदेश देना दुनिया को क्या संदेश देगा बात की बात है लेकिन हमारे देश में जो संदेश गया है वह बहुत गलत है और यकीन मानिए आज के इस किसानों के प्रदर्शन से बल्कि यूपीए कि किसानों के भेष में कुछ गुंडों ने जिस तरह की हरकत हमारे राष्ट्रीय पर्व पर की है हमारे राष्ट्रीय पर्व को कलंकित करने का प्रयास किया यकीन मानिए इन अराजक तत्वों से इन गुंडों से इन देशद्रोहियों से हर सरकार को कोई बात नहीं करनी है राष्ट्रीय पर्व हमारी आन बान शान है उस राष्ट्रीय पर्व पर जहां पर हम अपने आप को अपने संविधान को लेकर के गौरवान्वित महसूस करते हैं उस राष्ट्रीय पर्व को इस भारत मां को आजमाने कितनी पीड़ा को लाल किले पर दूसरा झंडा फहराना पुलिस वालों के साथ मारपीट करने 10 1015 गुंडे मिलकर के एक लेडीस पुलिस को मारते हुए देख तलवारों से पुलिस पर हमला कर 21 तरह का आंदोलन है और यह कौन सा किसान बिल का विरोध है यह मुझे स्पष्ट लगता है यह अति हो चुकी है हद से ज्यादा हो चुका है और अब इस सरकार को इन गुंडों से इन अराजक तत्वों से कोई बात नहीं करनी चाहिए जो व्यक्ति अपने देश के संविधान का जो इतना बड़ा पर्व है उसको इतनी तकलीफ हो जा सकता है उसको कलंकित कर सकता है उस व्यक्ति से क्या बात हुई है हालांकि मैं जानता हूं कि सारे किसान ऐसे नहीं और किसानों के वेश में यह गुंडे थे जिन्होंने इस तरह की हरकत की लेकिन यह जितने किसान आंदोलन की जो अपने आप को नेता बताते थे किसानों का नेता बताते थे नरेश टिकैत विकेट जितने यह सब किसान नेता है वह सब कहां रो रहे थे तब तो उन्होंने वायदा किया था कि हमारे वॉलिंटियर्स को संभाल रहे हैं यकीन मानिए हमारे देश का आज के दिन बहुत बुरा नाम हुआ है और विश्व में बहुत बुरा जिसकी मैं बहुत दुखी हूं
Aapaka prashn hai ki ganatantr divas par kisaanon ka desh kee raajadhaanee par jabaradast ka pradarshan duniya ko kya sandesh dena duniya ko kya sandesh dega baat kee baat hai lekin hamaare desh mein jo sandesh gaya hai vah bahut galat hai aur yakeen maanie aaj ke is kisaanon ke pradarshan se balki yoopeee ki kisaanon ke bhesh mein kuchh gundon ne jis tarah kee harakat hamaare raashtreey parv par kee hai hamaare raashtreey parv ko kalankit karane ka prayaas kiya yakeen maanie in araajak tatvon se in gundon se in deshadrohiyon se har sarakaar ko koee baat nahin karanee hai raashtreey parv hamaaree aan baan shaan hai us raashtreey parv par jahaan par ham apane aap ko apane sanvidhaan ko lekar ke gauravaanvit mahasoos karate hain us raashtreey parv ko is bhaarat maan ko aajamaane kitanee peeda ko laal kile par doosara jhanda phaharaana pulis vaalon ke saath maarapeet karane 10 1015 gunde milakar ke ek ledees pulis ko maarate hue dekh talavaaron se pulis par hamala kar 21 tarah ka aandolan hai aur yah kaun sa kisaan bil ka virodh hai yah mujhe spasht lagata hai yah ati ho chukee hai had se jyaada ho chuka hai aur ab is sarakaar ko in gundon se in araajak tatvon se koee baat nahin karanee chaahie jo vyakti apane desh ke sanvidhaan ka jo itana bada parv hai usako itanee takaleeph ho ja sakata hai usako kalankit kar sakata hai us vyakti se kya baat huee hai haalaanki main jaanata hoon ki saare kisaan aise nahin aur kisaanon ke vesh mein yah gunde the jinhonne is tarah kee harakat kee lekin yah jitane kisaan aandolan kee jo apane aap ko neta bataate the kisaanon ka neta bataate the naresh tikait viket jitane yah sab kisaan neta hai vah sab kahaan ro rahe the tab to unhonne vaayada kiya tha ki hamaare volintiyars ko sambhaal rahe hain yakeen maanie hamaare desh ka aaj ke din bahut bura naam hua hai aur vishv mein bahut bura jisakee main bahut dukhee hoon

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • गणतंत्र दिवस पर किसानों का देश की राजधानी पर जबरदस्त का प्रदर्शन दुनिया को क्या संदेश देगा किसानों का देश की राजधानी पर जबरदस्त का प्रदर्शन दुनिया को क्या संदेश देगा
URL copied to clipboard