#undefined

srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
1:03
वेलकम से प्रार्थना है गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है और 72 वें गणतंत्र दिवस पर क्या आप कोई कविता सुना सकते हैं मैं आपको बताना चाहता हूं कि गणतंत्र दिवस कब से मनाया जाता है गणतंत्र दिवस हमारा संविधान बना था 949 में 1949 1949 में 26 जनवरी 1949 में हमारा संविधान बना और फिर 19 और 26 जनवरी 1950 में इसे लागू किया गया उसी उसी से हर वर्ष में 26 जनवरी को रिपब्लिक डे मनाते हैं धन्यवाद और अब को सुनना था गाना कोई कविता तो मैंने कविता गा चुकी है गा रखी है आप मेरे मेरे सबका मेरे फोन पर मेरे होम पेज पर आप उस गान गीत को देख सकते हैं धन्यवाद
Velakam se praarthana hai ganatantr divas kyon manaaya jaata hai aur 72 ven ganatantr divas par kya aap koee kavita suna sakate hain main aapako bataana chaahata hoon ki ganatantr divas kab se manaaya jaata hai ganatantr divas hamaara sanvidhaan bana tha 949 mein 1949 1949 mein 26 janavaree 1949 mein hamaara sanvidhaan bana aur phir 19 aur 26 janavaree 1950 mein ise laagoo kiya gaya usee usee se har varsh mein 26 janavaree ko ripablik de manaate hain dhanyavaad aur ab ko sunana tha gaana koee kavita to mainne kavita ga chukee hai ga rakhee hai aap mere mere sabaka mere phon par mere hom pej par aap us gaan geet ko dekh sakate hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
Unknown
4:58
सवाल से गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है 72 में गणतंत्र दिवस पर क्या आप कोई कविता सुना सकते हैं देखिए देश के राष्ट्रीय त्योहारों में से एक गणतंत्र दिवस के दिन देशवासी स्वतंत्रता सेनानियों व वीर योद्धाओं को स्मरण करते हैं देश की आजादी के करीब ढाई साल बाद 1950 में 26 जनवरी को भारत को संविधान मिला था बता दें कि सन 1948 के आरंभ में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने संविधान सभा की पहली बार संविधान की रूपरेखा प्रस्तुत की थी हालांकि इनमें कुछ संशोधनों के बाद नवंबर 1949 में इसे एक्सेप्ट कर लिया गया और 26 जनवरी 1950 को संविधान पारित हुआ तब से हर साल इस दिन भारत में गणतंत्र दिवस मनाया जाता है इस वर्ष देश अपना 72 वहां रिपब्लिक डे मनाने जा रहा है बता दें कि भारत का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान कहा जाता है 26 जनवरी के दिन हमारे देश में गणतंत्र दिवस का त्यौहार बड़ी ही खुशियों के साथ धूमधाम से मनाया जाता है इस राष्ट्रीय पर्व के अवसर पर अनेक सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है भक्ति गीत राष्ट्र गीतों के साथ यह पर्व बड़े धूम-धाम से पूरे भारतवर्ष में मनाया जाता है यही बात कविता सुनाने की तो माह जनवरी 26 को हम सब गणतंत्र मनाते हैं और देखो फिर आकर गीत खुशी के गाते हैं संविधान में आजादी वाला बच्चों इस दिन आया है इसने दुनिया में भारत को नवगढ़ तंत्र बनाया है क्या करना है और नहीं क्या संविधान बतलाता भारत में रहने वालों का सबसे गहरा नाता यह अधिकार हमें देता है उन्नति करने वाला ऊंची नीच का भेद न करता ब्राम्हण हो या लाला हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई भाई भाई सबसे पहले संविधान ने बात यही है बतलाई इसके बाद बताई बातें जन-जन के हित वाली पढ़ने में यह सब लगती है बातें बड़ी निराली लेकर सीता कहीं कभी भी ऊंचे पद पा सकते और बड़ा व्यापार नियम से दुनिया में छा सकते देश हमारा रहे कहीं हम काम सभी कर सकते पंचायत से एमपी तक का हम चुनाव लड़ सकते लेकर सस्ता लेकर सताता विधान से शक्तिमान हो सकते और देश की इस धरती पर जो चाहे कर सकते लेकिन संविधान को पढ़कर मानवता को जानो अधिकारों के साथ जुड़े कर्तव्यों को पहचानो इन्हीं पंक्तियों के साथ इन्हीं शब्दों के साथ पूरे देशवासियों को अपने बोलकर पूरे परिवार को गणतंत्र दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं बहुत-बहुत बधाई हो गणतंत्र दिवस की जय हिंद जय भारत जय हिंद जय भारत भारत माता की जय भारत माता की जय वंदे मातरम वंदे मातरम जय हिंद जय भारत
Savaal se ganatantr divas kyon manaaya jaata hai 72 mein ganatantr divas par kya aap koee kavita suna sakate hain dekhie desh ke raashtreey tyohaaron mein se ek ganatantr divas ke din deshavaasee svatantrata senaaniyon va veer yoddhaon ko smaran karate hain desh kee aajaadee ke kareeb dhaee saal baad 1950 mein 26 janavaree ko bhaarat ko sanvidhaan mila tha bata den ki san 1948 ke aarambh mein doktar bheemaraav ambedakar ne sanvidhaan sabha kee pahalee baar sanvidhaan kee rooparekha prastut kee thee haalaanki inamen kuchh sanshodhanon ke baad navambar 1949 mein ise eksept kar liya gaya aur 26 janavaree 1950 ko sanvidhaan paarit hua tab se har saal is din bhaarat mein ganatantr divas manaaya jaata hai is varsh desh apana 72 vahaan ripablik de manaane ja raha hai bata den ki bhaarat ka sanvidhaan duniya ka sabase bada likhit sanvidhaan kaha jaata hai 26 janavaree ke din hamaare desh mein ganatantr divas ka tyauhaar badee hee khushiyon ke saath dhoomadhaam se manaaya jaata hai is raashtreey parv ke avasar par anek saanskrtik kaaryakramon ka aayojan kiya jaata hai bhakti geet raashtr geeton ke saath yah parv bade dhoom-dhaam se poore bhaaratavarsh mein manaaya jaata hai yahee baat kavita sunaane kee to maah janavaree 26 ko ham sab ganatantr manaate hain aur dekho phir aakar geet khushee ke gaate hain sanvidhaan mein aajaadee vaala bachchon is din aaya hai isane duniya mein bhaarat ko navagadh tantr banaaya hai kya karana hai aur nahin kya sanvidhaan batalaata bhaarat mein rahane vaalon ka sabase gahara naata yah adhikaar hamen deta hai unnati karane vaala oonchee neech ka bhed na karata braamhan ho ya laala hindoo muslim sikh eesaee bhaee bhaee sabase pahale sanvidhaan ne baat yahee hai batalaee isake baad bataee baaten jan-jan ke hit vaalee padhane mein yah sab lagatee hai baaten badee niraalee lekar seeta kaheen kabhee bhee oonche pad pa sakate aur bada vyaapaar niyam se duniya mein chha sakate desh hamaara rahe kaheen ham kaam sabhee kar sakate panchaayat se emapee tak ka ham chunaav lad sakate lekar sasta lekar sataata vidhaan se shaktimaan ho sakate aur desh kee is dharatee par jo chaahe kar sakate lekin sanvidhaan ko padhakar maanavata ko jaano adhikaaron ke saath jude kartavyon ko pahachaano inheen panktiyon ke saath inheen shabdon ke saath poore deshavaasiyon ko apane bolakar poore parivaar ko ganatantr divas kee dher saaree shubhakaamanaen bahut-bahut badhaee ho ganatantr divas kee jay hind jay bhaarat jay hind jay bhaarat bhaarat maata kee jay bhaarat maata kee jay vande maataram vande maataram jay hind jay bhaarat

Ankit Singh Rajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ankit जी का जवाब
Student
0:49
हेलो एवरीवन फर्स्ट आफ ऑल आई विश यू ए वेरी हैप्पी रिपब्लिक डे एक क्वेश्चन है गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है एक्चुअली इसके पहले जब 26 नवंबर 1949 को हमारा अपना खुद का संविधान बन गया था तो उसके ठीक कुछ महीने बाद मतलब 26 जनवरी 1950 को पूरे देश में अपना संविधान लागू होगी इसलिए ही हम लोग 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाते हैं गणतंत्र का मतलब होता है एक ऐसा राष्ट्र जिसका रास्ता अध्यक्ष का चुनाव होता है यहां पर वन साबुन अच्छा सा नहीं होता है मतलब जो प्रधानमंत्री है उनके पुत्र अब अगले बार प्रधानमंत्री ने जो चुनाव जीतकर जाएगा वहीं प्रधानमंत्री बने यही होता है कर तंत्र का
Helo evareevan pharst aaph ol aaee vish yoo e veree haippee ripablik de ek kveshchan hai ganatantr divas kyon manaaya jaata hai ekchualee isake pahale jab 26 navambar 1949 ko hamaara apana khud ka sanvidhaan ban gaya tha to usake theek kuchh maheene baad matalab 26 janavaree 1950 ko poore desh mein apana sanvidhaan laagoo hogee isalie hee ham log 26 janavaree ko ganatantr divas manaate hain ganatantr ka matalab hota hai ek aisa raashtr jisaka raasta adhyaksh ka chunaav hota hai yahaan par van saabun achchha sa nahin hota hai matalab jo pradhaanamantree hai unake putr ab agale baar pradhaanamantree ne jo chunaav jeetakar jaega vaheen pradhaanamantree bane yahee hota hai kar tantr ka

ravideep singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ravideep जी का जवाब
students
0:52

Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
0:43
नमस्कार सोता गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है तो गणतंत्र दिवस का मतलब होता है जिस दिन हमने कॉन्स्टिट्यूशन को ऑफिशल इंप्लीमेंट किया था तो गणतंत्र कहे या रिपब्लिक है तो इसका मतलब होता है कि अब से यानी इसी दिन से 1950 में हमने यह वादा किया था कि यह देश अब से हम चलाएंगे भारतीय चलाएंगे भारतीय लोग अपने प्रतिनिधि को सुनेंगे और प्रतिनिधि लोग हम भारतीय लोगों के लिए कानून आएंगे क्योंकि इससे पहले जो अंग्रेज लोग थे वह कानून हम लोग के लिए लेकिन अब हम रिपब्लिक हम अपना खुद बनाएंगे धन्यवाद
Namaskaar sota ganatantr divas kyon manaaya jaata hai to ganatantr divas ka matalab hota hai jis din hamane konstityooshan ko ophishal impleement kiya tha to ganatantr kahe ya ripablik hai to isaka matalab hota hai ki ab se yaanee isee din se 1950 mein hamane yah vaada kiya tha ki yah desh ab se ham chalaenge bhaarateey chalaenge bhaarateey log apane pratinidhi ko sunenge aur pratinidhi log ham bhaarateey logon ke lie kaanoon aaenge kyonki isase pahale jo angrej log the vah kaanoon ham log ke lie lekin ab ham ripablik ham apana khud banaenge dhanyavaad

Sandeep chhipa Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sandeep जी का जवाब
social worker (MSW)
1:21
तंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है बेहतर वे गणतंत्र दिवस पर क्या आप कोई कविता सुना सकते हैं 26 जनवरी 1950 को भारत का संविधान अस्तित्व में आया इस ने भारत को चलाने वाले दस्तावेज भारत सरकार अधिनियम 1935 की जगह ली और हमारा देश एक नया गणतंत्र बना अब 2021 में आकर जब हम मुश्किल में बीते 10 महीने से पीछे मुड़कर देखते हैं तो पाते हैं कि हम भारतीयों ने जिंदगी के जीने के नए दस्तावेजों की तैयारी तैयार कर लिया है वह जो शायद ज्यादातर लोगों के लिए रोजमर्रा की जिंदगी चलाने की नियमों की नई किताबों की तरह होगा इसीलिए आपको मैंने जानकारी बताई इसके अलावा बात करते हैं कविता की कविता के लिए कोशिश करता हूं देखा कविता आती है या नहीं आती है छोटी सी कविता का देता हूं हमारे देश के लिए मेरे देश की धरती मेरे देश की धरती सोना उगले उगले हीरे मोती मेरे देश की धरती मेरे देश की धरती जय हिंद जय भारत सभी मित्र सभी मित्रों को 72 वें गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Tantr divas kyon manaaya jaata hai behatar ve ganatantr divas par kya aap koee kavita suna sakate hain 26 janavaree 1950 ko bhaarat ka sanvidhaan astitv mein aaya is ne bhaarat ko chalaane vaale dastaavej bhaarat sarakaar adhiniyam 1935 kee jagah lee aur hamaara desh ek naya ganatantr bana ab 2021 mein aakar jab ham mushkil mein beete 10 maheene se peechhe mudakar dekhate hain to paate hain ki ham bhaarateeyon ne jindagee ke jeene ke nae dastaavejon kee taiyaaree taiyaar kar liya hai vah jo shaayad jyaadaatar logon ke lie rojamarra kee jindagee chalaane kee niyamon kee naee kitaabon kee tarah hoga iseelie aapako mainne jaanakaaree bataee isake alaava baat karate hain kavita kee kavita ke lie koshish karata hoon dekha kavita aatee hai ya nahin aatee hai chhotee see kavita ka deta hoon hamaare desh ke lie mere desh kee dharatee mere desh kee dharatee sona ugale ugale heere motee mere desh kee dharatee mere desh kee dharatee jay hind jay bhaarat sabhee mitr sabhee mitron ko 72 ven ganatantr divas kee haardik shubhakaamanaen

Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
1:59
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सवाल है गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है वहां पर भी गणतंत्र दिवस पर क्या आप कोई कविता सुना सकती तो देखिए गणतंत्र दिवस इसलिए माना जाता है क्योंकि आज दिनांक 26 जनवरी सन 1950 को भारत ने गणतंत्र लागू हुआ था यानी कि जो देश का संविधान था इसी दिन में लागू किया गया था तो इसी प्रकार मतलब हर साल 26 जनवरी को हम गणतंत्रता दिवस के रूप में मनाते हैं तभी तो ज्यादा मुझे आती नहीं क्योंकि मैं ज्यादा कब तक नया शिवानी का कोई इंटरेस्ट नहीं है लेकिन हम आपको इस बार मिलो अपने देश का तो राष्ट्रगान और सुना सकता हूं क्योंकि देखिए मेरी जान मान तो कोई आती नहीं क्योंकि मैं ज्यादा गाना बनाने का शौक नहीं आता हूं फिर भी देश के राष्ट्रगान का सवाल है तो निश्चित तौर पर मैं आपको अपने देश का राष्ट्रगान अवश्य सुनूंगा तो इस प्रकार है तो देखिए जया हे भारत भाग्य विधाता पंजाब सिंध गुजरात मराठा विंध्य हिमाचल यमुना गंगा उच्छल जलधि तरंग तव शुभ नामे जागे तव शुभ आशिष मागे गाहे तव जय गाथा गण मंगल दायक जाया है भारत भाग्य विधाता जय हे जय हे जय हे जय जय तो मतलब हमारा भी देखिए कब तक साथ दिया लेकिन ज्यादा अच्छा नहीं लगा कोई बात नहीं
Namaskaar doston kaise hain aap savaal hai ganatantr divas kyon manaaya jaata hai vahaan par bhee ganatantr divas par kya aap koee kavita suna sakatee to dekhie ganatantr divas isalie maana jaata hai kyonki aaj dinaank 26 janavaree san 1950 ko bhaarat ne ganatantr laagoo hua tha yaanee ki jo desh ka sanvidhaan tha isee din mein laagoo kiya gaya tha to isee prakaar matalab har saal 26 janavaree ko ham ganatantrata divas ke roop mein manaate hain tabhee to jyaada mujhe aatee nahin kyonki main jyaada kab tak naya shivaanee ka koee intarest nahin hai lekin ham aapako is baar milo apane desh ka to raashtragaan aur suna sakata hoon kyonki dekhie meree jaan maan to koee aatee nahin kyonki main jyaada gaana banaane ka shauk nahin aata hoon phir bhee desh ke raashtragaan ka savaal hai to nishchit taur par main aapako apane desh ka raashtragaan avashy sunoonga to is prakaar hai to dekhie jaya he bhaarat bhaagy vidhaata panjaab sindh gujaraat maraatha vindhy himaachal yamuna ganga uchchhal jaladhi tarang tav shubh naame jaage tav shubh aashish maage gaahe tav jay gaatha gan mangal daayak jaaya hai bhaarat bhaagy vidhaata jay he jay he jay he jay jay to matalab hamaara bhee dekhie kab tak saath diya lekin jyaada achchha nahin laga koee baat nahin

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:34
गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है और भाजपा में गधे पर आपका कोई कविता सुना सकते हैं गणतंत्र दिवस की डेट हमारे यहां इस संविधान को मान्यता दी गई थी सन 1945 में भारत आजाद हुआ था उसके बाद भारत में संविधान बनाएगा तो उस संविधान को गणतंत्र के मान्यता दी गई थी इसलिए उसने 26 जनवरी 1950 को मान्यता देने के बाद 2 दिन संविधान दिवस चलो दिवस मनाया गया सबसे अच्छी कविता में अपना के सारे जहां से अच्छा हिंदुस्तान हमारा हम बुलबुले हैं इसकी यह गुलसिता
Ganatantr divas kyon manaaya jaata hai aur bhaajapa mein gadhe par aapaka koee kavita suna sakate hain ganatantr divas kee det hamaare yahaan is sanvidhaan ko maanyata dee gaee thee san 1945 mein bhaarat aajaad hua tha usake baad bhaarat mein sanvidhaan banaega to us sanvidhaan ko ganatantr ke maanyata dee gaee thee isalie usane 26 janavaree 1950 ko maanyata dene ke baad 2 din sanvidhaan divas chalo divas manaaya gaya sabase achchhee kavita mein apana ke saare jahaan se achchha hindustaan hamaara ham bulabule hain isakee yah gulasita

Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
0:32
आपका सवाल है कि गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है बोतल गणतंत्र दिवस पर क्या कोई कविता सुना सकते हैं तो गणतंत्र दिवस भारत को 15 अगस्त 1949 को आजाद हुआ था और 26 जनवरी 1950 को इस के संविधान को आत्म सम्मान किया गया था जिसके तहत भारत को देश के क्रोध का लोकतांत्रिक संप्रभु और गणतंत्र देश घोषित किया था इसलिए हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है धन्यवाद
Aapaka savaal hai ki ganatantr divas kyon manaaya jaata hai botal ganatantr divas par kya koee kavita suna sakate hain to ganatantr divas bhaarat ko 15 agast 1949 ko aajaad hua tha aur 26 janavaree 1950 ko is ke sanvidhaan ko aatm sammaan kiya gaya tha jisake tahat bhaarat ko desh ke krodh ka lokataantrik samprabhu aur ganatantr desh ghoshit kiya tha isalie har saal 26 janavaree ko ganatantr divas ke roop mein manaaya jaata hai dhanyavaad

Usha Gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Usha जी का जवाब
Housewife
2:38
तुझे क्या कि गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है बात वे गणतंत्र पर क्या आप कोई कविता सुना सकती हैं चलिए पहले हम आपको बता दें कि गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता संसार 1950 में 26 जनवरी के दिन ही हमारे देश में संविधान लागू हुआ था जिस के उपलक्ष में हड़ताल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है एक का तंत्र गणराज्य बनने के लिए भारतीय संविधान सभा द्वारा 26 नवंबर 1949 को संविधान अपनाया गया था लेकिन इसे 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया था चलिए आपको कविता सुनाते हैं तिरंगा लहराता है अपनी पूरी शान से हमें मिली आजादी वीर शहीदों के बलिदान की आजादी के लिए हमारी लंबी चली लड़ाई थी लाखों लोगों ने प्राणों से कीमत बढ़ी चुकाई थी व्यापारी बनकर आए और चलते हम पर राज किया हम को आपस में लगवाने की नीति अपनाई थी हमने अपना गौरव पाया अपने स्वाभिमान से हमें मिली आजादी वीर शहीदों के बलिदान से गांधी तिलक सुभाष जवाहर का प्यारा यह दिल से जियो और जीने दो का सबको देता संदेश प्रहरी बनकर खड़ा हिमालय जिसके उत्तर द्वार पर हिंद महासागर दक्षिण में इसके लिए विशेष लगी गूंजने दसों दिशाएं भी रोके यशकांत हमें मिली आजादी वीर शहीदों के बलिदान से हमें हमारी मातृभूमि से इतना मिला दुलारे उसके आंचल की छाया से यह छोटा संसार है हमने कविता के आगे अपना शीश झुकाएंगे सच पूछो तो पूरा विश्व हमारा ही परिवार है मित्र शांति की तीली हवाई अपने हिंदुस्तान से हमें मिली आजादी वीर शहीदों के बलिदान से जय हिंद हैप्पी रिपब्लिक डे धन्यवाद
Tujhe kya ki ganatantr divas kyon manaaya jaata hai baat ve ganatantr par kya aap koee kavita suna sakatee hain chalie pahale ham aapako bata den ki ganatantr divas kyon manaaya jaata sansaar 1950 mein 26 janavaree ke din hee hamaare desh mein sanvidhaan laagoo hua tha jis ke upalaksh mein hadataal 26 janavaree ko ganatantr divas ke roop mein manaaya jaata hai ek ka tantr ganaraajy banane ke lie bhaarateey sanvidhaan sabha dvaara 26 navambar 1949 ko sanvidhaan apanaaya gaya tha lekin ise 26 janavaree 1950 ko laagoo kiya gaya tha chalie aapako kavita sunaate hain tiranga laharaata hai apanee pooree shaan se hamen milee aajaadee veer shaheedon ke balidaan kee aajaadee ke lie hamaaree lambee chalee ladaee thee laakhon logon ne praanon se keemat badhee chukaee thee vyaapaaree banakar aae aur chalate ham par raaj kiya ham ko aapas mein lagavaane kee neeti apanaee thee hamane apana gaurav paaya apane svaabhimaan se hamen milee aajaadee veer shaheedon ke balidaan se gaandhee tilak subhaash javaahar ka pyaara yah dil se jiyo aur jeene do ka sabako deta sandesh praharee banakar khada himaalay jisake uttar dvaar par hind mahaasaagar dakshin mein isake lie vishesh lagee goonjane dason dishaen bhee roke yashakaant hamen milee aajaadee veer shaheedon ke balidaan se hamen hamaaree maatrbhoomi se itana mila dulaare usake aanchal kee chhaaya se yah chhota sansaar hai hamane kavita ke aage apana sheesh jhukaenge sach poochho to poora vishv hamaara hee parivaar hai mitr shaanti kee teelee havaee apane hindustaan se hamen milee aajaadee veer shaheedon ke balidaan se jay hind haippee ripablik de dhanyavaad

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:34
नमस्कार गणतंत्र दिवस सिर्फ इसलिए बनाया जाता है क्योंकि हमारा देश तो 15 अगस्त 1947 को आजाद हो गया था लेकिन उस वक्त हमारे पास कोई अधिकार नहीं थी कोलकाता भी नहीं थी कोई कानून नहीं था तो भारत के लोगों के द्वारा जो अधिकार बनाएंगे जो कानून बनाए गए संविधान बनाएंगे जो कर्तव्य बनाएंगे तुमको लागू किया गया 26 जनवरी 1950 को हमारा संविधान लागू हुआ इसीलिए गणतंत्र दिवस मनाया जाता है धन्यवाद
Namaskaar ganatantr divas sirph isalie banaaya jaata hai kyonki hamaara desh to 15 agast 1947 ko aajaad ho gaya tha lekin us vakt hamaare paas koee adhikaar nahin thee kolakaata bhee nahin thee koee kaanoon nahin tha to bhaarat ke logon ke dvaara jo adhikaar banaenge jo kaanoon banae gae sanvidhaan banaenge jo kartavy banaenge tumako laagoo kiya gaya 26 janavaree 1950 ko hamaara sanvidhaan laagoo hua iseelie ganatantr divas manaaya jaata hai dhanyavaad

Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:43
सर दोस्तों आपका प्रश्न है गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है बेहतर में गणतंत्र दिवस पर क्या आप कोई कविता सुना सकते हैं दोस्तों देश में संविधान की स्थापना दिवस के रूप में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है 26 जनवरी सन 1950 को हमारा संविधान लागू हुआ था तो इसलिए 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में खुशी के साथ मनाया जाता है तो देश का पहला गणतंत्र दिवस 24 जनवरी सन 1950 को मनाया गया था इसके बाद हर साल से बड़े ही हर्षोल्लास और खुशी खुशी के साथ मनाया जाता है और इस साल यानी 2021 में जनवरी महीने में बेहतर में गणतंत्र दिवस मनाया गया उस दिन गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्ली के इंडिया गेट पर भव्य परेड का आयोजन किया गया था सेना नौसेना वायु सेना 339 में भाग लेते हैं उसके साथ ही देश के विभिन्न राज्यों की जो झलकियां है झांकियां दिखाई दे जाती हैं उनका प्रदर्शन किया जाता है और गणतंत्र दिवस पर इंडिया गेट पर देश के राष्ट्रपति 2000 ओपन करते हैं देश में गणतंत्र दिवस एक राष्ट्रीय पर्व की तरह मनाया जाता है इस दिन भारत में भारत सरकार अधिनियम एक्ट 1935 को निरस्त कर नया संविधान लागू करते हुए नए संविधान को पारित कर दिया गया था तो सबसे पहले सभी जनवरी 1929 को लाहौर कांग्रेस अधिवेशन में भारत को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने का प्रस्ताव पेश किया गया कांग्रेस अधिवेशन के इस प्रस्ताव को नामंजूर कर दिया गया था इसके बाद 26 जनवरी 1950 को कांग्रेसी भारत को पूर्ण करना गणराज्य की घोषणा कर दी थी वही संविधान निर्माण 9 दिसंबर 1946 को हुई थी जिसके निर्माण में कुल 2 साल 11 माह और 18 दिन लग गए संविधान के बनने के बाद समिति ने 26 नवंबर 1949 को संविधान सभा पति को सौंप दिया जिसके बाद 24 जनवरी 1950 को आधिकारिक तौर पर संविधान को लागू करते हुए और गणतंत्र दिवस की शुरुआत हुई थी दोस्तों बता दें कि इस दिन को गणतंत्र दिवस के रूप में इसलिए चुना गया क्योंकि 26 जनवरी 1929 को पहली बार भारत को पूर्ण गणराज्य का प्रस्ताव पेश किया गया तो दोस्तों आशा करता हूं यह जानकारी बहुत ही अच्छी लगी होगी क्योंकि मेरे पास कविता तो खुद की लिखी हुई नहीं है हां एक राष्ट्रभाषा हिंदी पर लिखी हुई है जोकि से मेल नहीं खाती है तो इसलिए धन्यवाद
Sar doston aapaka prashn hai ganatantr divas kyon manaaya jaata hai behatar mein ganatantr divas par kya aap koee kavita suna sakate hain doston desh mein sanvidhaan kee sthaapana divas ke roop mein 26 janavaree ko ganatantr divas manaaya jaata hai 26 janavaree san 1950 ko hamaara sanvidhaan laagoo hua tha to isalie 26 janavaree ko ganatantr divas ke roop mein khushee ke saath manaaya jaata hai to desh ka pahala ganatantr divas 24 janavaree san 1950 ko manaaya gaya tha isake baad har saal se bade hee harshollaas aur khushee khushee ke saath manaaya jaata hai aur is saal yaanee 2021 mein janavaree maheene mein behatar mein ganatantr divas manaaya gaya us din ganatantr divas ke mauke par dillee ke indiya get par bhavy pared ka aayojan kiya gaya tha sena nausena vaayu sena 339 mein bhaag lete hain usake saath hee desh ke vibhinn raajyon kee jo jhalakiyaan hai jhaankiyaan dikhaee de jaatee hain unaka pradarshan kiya jaata hai aur ganatantr divas par indiya get par desh ke raashtrapati 2000 opan karate hain desh mein ganatantr divas ek raashtreey parv kee tarah manaaya jaata hai is din bhaarat mein bhaarat sarakaar adhiniyam ekt 1935 ko nirast kar naya sanvidhaan laagoo karate hue nae sanvidhaan ko paarit kar diya gaya tha to sabase pahale sabhee janavaree 1929 ko laahaur kaangres adhiveshan mein bhaarat ko poorn raajy ka darja dilaane ka prastaav pesh kiya gaya kaangres adhiveshan ke is prastaav ko naamanjoor kar diya gaya tha isake baad 26 janavaree 1950 ko kaangresee bhaarat ko poorn karana ganaraajy kee ghoshana kar dee thee vahee sanvidhaan nirmaan 9 disambar 1946 ko huee thee jisake nirmaan mein kul 2 saal 11 maah aur 18 din lag gae sanvidhaan ke banane ke baad samiti ne 26 navambar 1949 ko sanvidhaan sabha pati ko saump diya jisake baad 24 janavaree 1950 ko aadhikaarik taur par sanvidhaan ko laagoo karate hue aur ganatantr divas kee shuruaat huee thee doston bata den ki is din ko ganatantr divas ke roop mein isalie chuna gaya kyonki 26 janavaree 1929 ko pahalee baar bhaarat ko poorn ganaraajy ka prastaav pesh kiya gaya to doston aasha karata hoon yah jaanakaaree bahut hee achchhee lagee hogee kyonki mere paas kavita to khud kee likhee huee nahin hai haan ek raashtrabhaasha hindee par likhee huee hai joki se mel nahin khaatee hai to isalie dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है 72 वें गणतंत्र दिवस पर क्या आप कोई कविता सुना सकते हैं गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है
URL copied to clipboard