#भारत की राजनीति

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:06
यह सवाल अशोक जी के द्वारा पूछा गया कि दोस्तों जिस तरह की तरह किसान फसल उगाना जानता है और फसल काटना भी ठीक उसी प्रकार जानता है उसी तरह देश की सत्ता सौंपना भी जानता है और सत्ता लेना भी जानता है हकीकत बात है क्योंकि इस देश की किसानों के साथ-साथ देश के हर एक लो इस किसान भाइयों से जुड़े हैं क्योंकि हमारे देश की 70 परसेंट जनसंख्या गया है किसानों पर निर्भर है किसानों की उपजाऊ हुई चीजों को खाकर हम अपनी जीवन जीवन को चलाने का काम करते हैं तो कहीं ना कहीं हम कहा जाता है कि भारत में लोकतांत्रिक देश है और लोगों के हिसाब से ही हम श्रद्धा को चुनते हैं तू एक किसान जिस तरह से सत्ता चुनते हैं उसी तरह से गिराने का भी काम करते हैं मतलब अगर एक समय मेहनत करें तो एक अच्छी से अच्छी फसल उगा सकते हैं और मेहनत करते हुए भी चाहेंगे कि कम से कम फसल भी हुआ सकते हैं क्योंकि उनकी डिपेंड होते कितना मेहनत करें कितना लगन करेंगे थोड़ा सा कम मेहनत करेंगे तो कम उपज होती है लेकिन मैं आपको बता दूं की सबसे अच्छी बात यह है कि जो भी किसान है अगर सत्ता में लाना चाहते हैं तो लाना जानते हैं तो सत्ता से गिराना भी जानते हैं मैं बस यही कहूंगा दोस्तों की फसल जितना भी किसान मेहनत करते हैं और इसका रिजल्ट हमें मिलता है कि हमें सस्ते से सस्ते अनाज मिलता है उसी तरह इस देश का जो आंदोलन चल रहा है किसान भाइयों का ही नहीं इस पूरे देश का किसान आंदोलन है और उसका आने वाले समय में इसका रिजल्ट सभी को देखने को मिलेगा और मुझे विश्वास है और मैं ही कहूंगा कि इसका रिजल्ट बखूबी सबके सामने आएगा जो लोग नहीं जानते हो वह भी जान जाएंगे
Yah savaal ashok jee ke dvaara poochha gaya ki doston jis tarah kee tarah kisaan phasal ugaana jaanata hai aur phasal kaatana bhee theek usee prakaar jaanata hai usee tarah desh kee satta saumpana bhee jaanata hai aur satta lena bhee jaanata hai hakeekat baat hai kyonki is desh kee kisaanon ke saath-saath desh ke har ek lo is kisaan bhaiyon se jude hain kyonki hamaare desh kee 70 parasent janasankhya gaya hai kisaanon par nirbhar hai kisaanon kee upajaoo huee cheejon ko khaakar ham apanee jeevan jeevan ko chalaane ka kaam karate hain to kaheen na kaheen ham kaha jaata hai ki bhaarat mein lokataantrik desh hai aur logon ke hisaab se hee ham shraddha ko chunate hain too ek kisaan jis tarah se satta chunate hain usee tarah se giraane ka bhee kaam karate hain matalab agar ek samay mehanat karen to ek achchhee se achchhee phasal uga sakate hain aur mehanat karate hue bhee chaahenge ki kam se kam phasal bhee hua sakate hain kyonki unakee dipend hote kitana mehanat karen kitana lagan karenge thoda sa kam mehanat karenge to kam upaj hotee hai lekin main aapako bata doon kee sabase achchhee baat yah hai ki jo bhee kisaan hai agar satta mein laana chaahate hain to laana jaanate hain to satta se giraana bhee jaanate hain main bas yahee kahoonga doston kee phasal jitana bhee kisaan mehanat karate hain aur isaka rijalt hamen milata hai ki hamen saste se saste anaaj milata hai usee tarah is desh ka jo aandolan chal raha hai kisaan bhaiyon ka hee nahin is poore desh ka kisaan aandolan hai aur usaka aane vaale samay mein isaka rijalt sabhee ko dekhane ko milega aur mujhe vishvaas hai aur main hee kahoonga ki isaka rijalt bakhoobee sabake saamane aaega jo log nahin jaanate ho vah bhee jaan jaenge

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान आंदोलन, किसानों को क्यों नहीं मिल रहा लाभ, फसल नुकसान का मुआवजा
URL copied to clipboard