#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?

Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:21
ई वांट टू आज आपका सवाल यह कि पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यों झुक जाता है पीछे की तरफ क्यों नहीं होता है आपको पता होगा कि जब हम चलते हैं और मैं जब रास्ते में चलते हैं तब बेमेतरा का दबाव देते हैं मतलबी प्रेशर डालते हैं जिस वजह से मदद साइट करके आता हम आगे अपने कदम को बढ़ाते हैं नॉर्मल हमें कोई प्रॉब्लम नहीं होता है नॉर्मल सा है लेवल सिम है पहाड़ में क्या ऊपर खबर होती है कहीं पहुंचा कहीं पर नहीं था लेकिन रास्ता रोड क्या था नॉर्मल चलता रहता तो स्ट्रीट उसमें हमें कोई प्रॉब्लम नहीं होता है हल्का लाइट नहीं है मतलब है सब कैसे लगाते हैं रोड में जिसकी वजह से हम आगे बढ़ते हैं लेकिन पहाड़ में देखे क्या होता पर्वत पर मैं क्या बताऊं पर खबर होती है जिसकी वजह से आप कुछ ज्यादा प्रेशर लगाना पड़ता जब भी इंसान प्रेशर लगाता है तो वह झुक कर ही लगाता कोई भी सामान देखिए अगर आप उठाते तो आगे की ओर उठा आगे की ओर पकड़ के तेरी उठाते हैं प्रश्न लगाते हैं और जब हम चढ़ते भी हैं तो हम आगे की ओर मतलब ऐसे नीचे थोड़ा यू करियम प्रेशर लगा देता कि जैसे कि रोड में चलते तो पैसे लगाकर थोड़ा सा अभी मैं ज्यादा लगा रहे थे जैसे ज्यादा झुक जा रहे हैं तो इसीलिए जहां पर भी हम चलते हैं कहीं पर भी ऊपर खबर हो तो ऐसा लगता है कि हम आगे छोड़ चुके हैं
Ee vaant too aaj aapaka savaal yah ki pahaad par chadhate samay manushy aage kee taraph kyon jhuk jaata hai peechhe kee taraph kyon nahin hota hai aapako pata hoga ki jab ham chalate hain aur main jab raaste mein chalate hain tab bemetara ka dabaav dete hain matalabee preshar daalate hain jis vajah se madad sait karake aata ham aage apane kadam ko badhaate hain normal hamen koee problam nahin hota hai normal sa hai leval sim hai pahaad mein kya oopar khabar hotee hai kaheen pahuncha kaheen par nahin tha lekin raasta rod kya tha normal chalata rahata to street usamen hamen koee problam nahin hota hai halka lait nahin hai matalab hai sab kaise lagaate hain rod mein jisakee vajah se ham aage badhate hain lekin pahaad mein dekhe kya hota parvat par main kya bataoon par khabar hotee hai jisakee vajah se aap kuchh jyaada preshar lagaana padata jab bhee insaan preshar lagaata hai to vah jhuk kar hee lagaata koee bhee saamaan dekhie agar aap uthaate to aage kee or utha aage kee or pakad ke teree uthaate hain prashn lagaate hain aur jab ham chadhate bhee hain to ham aage kee or matalab aise neeche thoda yoo kariyam preshar laga deta ki jaise ki rod mein chalate to paise lagaakar thoda sa abhee main jyaada laga rahe the jaise jyaada jhuk ja rahe hain to iseelie jahaan par bhee ham chalate hain kaheen par bhee oopar khabar ho to aisa lagata hai ki ham aage chhod chuke hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
1:48
सुनील कुमार चौधरी जी के माध्यम से यह अनुरोध इस प्रश्न आया है कि पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यों झुक जाता है पीछे तरफ क्यों नहीं छुपता देखिए आपने फिजिक्स से यानी बहुत तेजी से यह प्रार्थना किया है हम लोग पढ़ते हैं पहाड़ हो या सीढ़ी हो वहां भी हम आगे झुकते हैं और इसका मुख्य कारण है कि ग्रेविटेशनल फोर्स काम करता है जिसको हिंदी में गर्भवती औरत या केंद्र कहते हैं कि होता है कि आगे हम इसलिए झुकते हैं ताकि हमारा ग्रुप व केंद्र है और उनके पांव के बीच से होकर जो गुजरता है तथा जो अधिक संतुलन आती तो प्राप्त होता है इसे या नहीं आपको एक अस्तित्व प्राप्त होता है कि आप अपना बैलेंस बना रखे और हम सभी जानते हैं कि यह पृथ्वी जो है ग्रेविटेशनल फोर्स पर ही आधारित है यानी कोई भी चीज हम ऊपर फेंकते हैं तो नीचे आता है इसी प्रकार हम लोग गुरुत्वाकर्षण केंद्र के वजह से इस पृथ्वी पर बने हुए हैं नहीं तो हम ऊपर उड़ जाते और शायद ऐसा होता लेकिन इसके वजह से जो है हम लोग पृथ्वी पर बने हुए हैं यही मुख्य कारण है कि जब हम सभी पर या जो भी उचित स्थान होते हैं वहां चढ़ने के लिए हमें आगे के झोका करना होता है और पीसा की झुकी हुई मीनार इसी पर काम करता है जैसे आप देखे हो ना कि पीसा की झुकी मीनार जो है झुका हुआ रहता है तो उसके बीच बीच में ₹1 स्थाई के अंदर जो है काम करता है जिसकी वजह से वह गीता नहीं है जबकि झुका हुआ दिखाई देता है ठीक उसी प्रकार जो है शिर्डी या पहाड़ पर चढ़ते समय हमारे साथ ऐसा होता है मुझे लगता है कि आपके प्रश्नों के जवाब दे दिया है धन्यवाद
Suneel kumaar chaudharee jee ke maadhyam se yah anurodh is prashn aaya hai ki pahaad par chadhate samay manushy aage kee taraph kyon jhuk jaata hai peechhe taraph kyon nahin chhupata dekhie aapane phijiks se yaanee bahut tejee se yah praarthana kiya hai ham log padhate hain pahaad ho ya seedhee ho vahaan bhee ham aage jhukate hain aur isaka mukhy kaaran hai ki greviteshanal phors kaam karata hai jisako hindee mein garbhavatee aurat ya kendr kahate hain ki hota hai ki aage ham isalie jhukate hain taaki hamaara grup va kendr hai aur unake paanv ke beech se hokar jo gujarata hai tatha jo adhik santulan aatee to praapt hota hai ise ya nahin aapako ek astitv praapt hota hai ki aap apana bailens bana rakhe aur ham sabhee jaanate hain ki yah prthvee jo hai greviteshanal phors par hee aadhaarit hai yaanee koee bhee cheej ham oopar phenkate hain to neeche aata hai isee prakaar ham log gurutvaakarshan kendr ke vajah se is prthvee par bane hue hain nahin to ham oopar ud jaate aur shaayad aisa hota lekin isake vajah se jo hai ham log prthvee par bane hue hain yahee mukhy kaaran hai ki jab ham sabhee par ya jo bhee uchit sthaan hote hain vahaan chadhane ke lie hamen aage ke jhoka karana hota hai aur peesa kee jhukee huee meenaar isee par kaam karata hai jaise aap dekhe ho na ki peesa kee jhukee meenaar jo hai jhuka hua rahata hai to usake beech beech mein ₹1 sthaee ke andar jo hai kaam karata hai jisakee vajah se vah geeta nahin hai jabaki jhuka hua dikhaee deta hai theek usee prakaar jo hai shirdee ya pahaad par chadhate samay hamaare saath aisa hota hai mujhe lagata hai ki aapake prashnon ke javaab de diya hai dhanyavaad

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
Vicky Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vicky जी का जवाब
अभी हम पढ़ाई करते हैं
0:31
₹70 में कितने थाने में बैठा हूं अब तो
₹70 mein kitane thaane mein baitha hoon ab to

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
0:32
हेलो फ्रेंड्स आप का सवाल है पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य के आगे की तरफ क्यों रुका जाता है पीछे की तरफ क्यों नहीं झुकता तो आपके सवाल का जवाब है कि पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य का कुर्ता क्षण बाल पहाड़ की तरफ रहता है जिसे कारण व्यक्ति पीछे की ओर नहीं झुकता बल्कि आगे की ओर मुतासिर करण के गाने पार की तरफ झुकता है धन्यवाद दोस्तों आपको सवाल पसंद आया तो लाइक जरूर कीजिए

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
3:30
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यों झुक जाता है पीछे तरफ क्यों नहीं यह पृथ्वी के पृथ्वी के ग्रेविटेशनल फोर्स के कारण मनुष्य के को ऐसा करना पड़ता है और जो प्राइवेट टेबल फॉर होता है वह जो मांस होता है जितना बड़ा मांस जिसको हम वेट कर सकते हैं ज्यादा लेट वाली चीजें जो है वो जल्दी खींचता है पृथ्वी का अपना ग्रेविटेशनल फोर्स हमेशा काम करता है उसकी उसी कारण हम पृथ्वी से चिपक चिपक के जी रहे हैं जो हुए होते हैं पार करते समय पहाड़ एक पृथ्वी का जो जमीन का पर तिल होता है उससे एक कोण में एक एंगल में खड़ा होता है और पहाड़ की अपनी एक ग्रेविटेशन होती है वह पृथ्वी से बहुत कम होती है और वह पूरी तरह से हमें खींच कर उस पर चिपका नहीं सकती है और उस वक्त पत्रिका ग्रेविटेशनल फोर्स काम करता है अगर वह वेट को बैलेंस नहीं किया तो आदमी अपनी पीठ पीछे गिर सकता है इसलिए जो ग्रह शैली है उसको ग्रेविटेशन के साथ डांस करने के लिए शरीर को आगे झुक झुक आने के बाद उसका रेट जो है शरीर के ऊपरी भाग का आपने पेड़ों के ऊपर पड़ जाता है और पेड़ जो होते हैं वह उसी के जमीन के ग्रेविटेशनल फोर्स को कंट्रोल कर कर रहे होते बैलेंस कर रहे होते तो इस इस कारण पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ झुक जाता है और यह उसका शरीर और मन दोनों के मार्फत यह एक प्रिया घट जाती है और अनुभव के साथ मनुष्य सीख जाता है धन्यवाद
Pahaad par chadhate samay manushy aage kee taraph kyon jhuk jaata hai peechhe taraph kyon nahin yah prthvee ke prthvee ke greviteshanal phors ke kaaran manushy ke ko aisa karana padata hai aur jo praivet tebal phor hota hai vah jo maans hota hai jitana bada maans jisako ham vet kar sakate hain jyaada let vaalee cheejen jo hai vo jaldee kheenchata hai prthvee ka apana greviteshanal phors hamesha kaam karata hai usakee usee kaaran ham prthvee se chipak chipak ke jee rahe hain jo hue hote hain paar karate samay pahaad ek prthvee ka jo jameen ka par til hota hai usase ek kon mein ek engal mein khada hota hai aur pahaad kee apanee ek greviteshan hotee hai vah prthvee se bahut kam hotee hai aur vah pooree tarah se hamen kheench kar us par chipaka nahin sakatee hai aur us vakt patrika greviteshanal phors kaam karata hai agar vah vet ko bailens nahin kiya to aadamee apanee peeth peechhe gir sakata hai isalie jo grah shailee hai usako greviteshan ke saath daans karane ke lie shareer ko aage jhuk jhuk aane ke baad usaka ret jo hai shareer ke ooparee bhaag ka aapane pedon ke oopar pad jaata hai aur ped jo hote hain vah usee ke jameen ke greviteshanal phors ko kantrol kar kar rahe hote bailens kar rahe hote to is is kaaran par chadhate samay manushy aage kee taraph jhuk jaata hai aur yah usaka shareer aur man donon ke maarphat yah ek priya ghat jaatee hai aur anubhav ke saath manushy seekh jaata hai dhanyavaad

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
Ramlal Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ramlal जी का जवाब
Students
0:51

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:16
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य के बाद की तरफ से झुक जाता है और पीछे की तरफ क्यों नहीं झुकता पहाड़ पर निश्चित तौर पर ऊंचाई होती है और ऊंचाई पर चढ़ने के लिए हमें अपनी बॉडी वेट को आग तरफ कन्वर्ट करना पड़ेगा यानी कि हमारा जो शरीर का मांस इंडेक्स है जिसको आप वेट कर रहे हैं उसको आगे रखना पड़ेगा ताकि हमारा मूवमेंट तभी हो पाएगा अगर हम पीछे की तरफ कर देते हैं और वह दबाव पीछे हमारा पड़ जाएगा कंपनी के डिजाइन तो जब हम आगे की तरफ करते हैं और डूब कर के चलते हैं फिर सिर्फ तौर पर पृथ्वी से हमारा घर्षण बल का नियंत्रण बना रहा था और हमारा बेटा की पिक्चर्स जाता है जिससे हम मुंह करने में गति हुए हमें सहायक होता है ऐसा नहीं कह रहे हैं तो निश्चित तौर पर हम पीछे की तरफ उड़ जाए तो कभी भी पार्टी क्षेत्रों पर चढ़ने के लिए हम सभी सहारा लेते हैं कभी लकड़ी का यादव रसिया निश्चित तौर पर अपना वेट कन्वर्ट कर देते हैं जिससे हम अच्छी तरह से कर सकें
Pahaad par chadhate samay manushy ke baad kee taraph se jhuk jaata hai aur peechhe kee taraph kyon nahin jhukata pahaad par nishchit taur par oonchaee hotee hai aur oonchaee par chadhane ke lie hamen apanee bodee vet ko aag taraph kanvart karana padega yaanee ki hamaara jo shareer ka maans indeks hai jisako aap vet kar rahe hain usako aage rakhana padega taaki hamaara moovament tabhee ho paega agar ham peechhe kee taraph kar dete hain aur vah dabaav peechhe hamaara pad jaega kampanee ke dijain to jab ham aage kee taraph karate hain aur doob kar ke chalate hain phir sirph taur par prthvee se hamaara gharshan bal ka niyantran bana raha tha aur hamaara beta kee pikchars jaata hai jisase ham munh karane mein gati hue hamen sahaayak hota hai aisa nahin kah rahe hain to nishchit taur par ham peechhe kee taraph ud jae to kabhee bhee paartee kshetron par chadhane ke lie ham sabhee sahaara lete hain kabhee lakadee ka yaadav rasiya nishchit taur par apana vet kanvart kar dete hain jisase ham achchhee tarah se kar saken

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
nav kishor aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nav जी का जवाब
Service
0:38
नमस्कार आपका सवाल है कि पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यों झुक जाता है पीछे की तरफ क्यों नहीं झुकता है भाई साहब पहले आप मुझे एक बात बताइए कि आप पहाड़ पर जब चढ़ते हैं तो आप पीछे की तरफ चढ़ते हैं पीछे की तरफ से चढ़ते हैं आगे की तरफ से चढ़ते हैं अपना मुंह किधर की डायरेक्शन में रखते हैं पहाड़ के ऊपर की तरफ रखते हैं पीछे की तरफ मतलब उल्टा हो गया चढ़ते हैं पहाड़ पर आप पहले इस बात का जवाब दीजिए उसके बाद हम आपको आपके क्वेश्चन का समझाएंगे मुझे लगता है आप बहुत ही बेवकूफ किस्म के आदमी है बहुत ही मूर्ख आदमी है जो आप हमारा टाइम समय बर्बाद करते हैं ऐसे क्वेश्चन मत लाइए हमारे सामने
Namaskaar aapaka savaal hai ki pahaad par chadhate samay manushy aage kee taraph kyon jhuk jaata hai peechhe kee taraph kyon nahin jhukata hai bhaee saahab pahale aap mujhe ek baat bataie ki aap pahaad par jab chadhate hain to aap peechhe kee taraph chadhate hain peechhe kee taraph se chadhate hain aage kee taraph se chadhate hain apana munh kidhar kee daayarekshan mein rakhate hain pahaad ke oopar kee taraph rakhate hain peechhe kee taraph matalab ulta ho gaya chadhate hain pahaad par aap pahale is baat ka javaab deejie usake baad ham aapako aapake kveshchan ka samajhaenge mujhe lagata hai aap bahut hee bevakooph kism ke aadamee hai bahut hee moorkh aadamee hai jo aap hamaara taim samay barbaad karate hain aise kveshchan mat laie hamaare saamane

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:01
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यों झुक जाता है पीछे तरफ क्यों नहीं रुकता है देखे आप अगर मान लूं कि आप एक कुएं के तट पर खड़े हो एक साइड जमीन है एक साइड खाइए एक कुआं है अगर आपको एक साइड देखोगे तो आपको ए में गिर जाओगे क्योंकि ग्रेविटी आपको गुरुत्वाकर्षण आपको जिस साइड से वेट होगा उसको सेट खींचेगा अब जवाब पहाड़ी पर होते हो तो अब इसको क्या करते हम लोग जब तक है उसको बदल देते हैं पहाड़ी में पहाड़ी में आप जब चलोगे तो अभी ऐसे की एक साइड अशोक होगी वहां पर उस साइड अगर आपका वेट चाहता है या फिर आपका सेंटर ऑफ ग्रेविटी आपका अगर उस साइड जाता है तो क्या होगा कि ग्रेविटी आपको ब्लॉक कर के आप गिर जाओगे और आपको और अब चैट भी नहीं पाओगे लेकिन अगर आपको ऊपर चढ़ना है तो आप एक थोड़ा झुक जाओगे नीचे झुकने से क्या होगा कि एक तो आपको ग्रेविटी का प्रॉपर सपोर्ट मिलेगा ऊपर चढ़ने में आप सेंटर जो आपका वेट का सेंटर है उसको मेंटेन करोगे क्योंकि पहाड़ की तीव्र इच्छा है अगर सीधा रोड होता है तो सीधे रोड पर आप सीधे खड़े होते हो और आगे चलते हो और पहाड़ पर अगर आपको आगे चलना है तो आप सीधे खड़े हो क्या आगे नहीं चल सकते हो क्योंकि आपका जो नीचे का प्लेन है वह तेरा हो चुका है उसके साथ आपको आपका सेंटर ऑफ ग्रेविटी मेंटेन करने के इच्छुक तो आगे की तरफ ताकि बॉडी को सपोर्ट मिलता रहे और पौड़ी अपने आप आगे चढ़ते रहते हो और उसको ग्रेविटी का सपोर्ट नीचे से पहाड़ के नीचे से मिलते जाता है लेकिन अगर आप सीधा होकर अगर चाहने की कोशिश करोगे भी पा पहाड़ी के ऊपर तो आपको बहुत ज्यादा कष्ट करने पड़ेंगे और दूसरा यह है कि अगर आपका जो पेट का सेंट थोड़ा पीछे के साथ टाइप किया तो आप सुसाइड गया तो आप गिर भी सकते हैं
Pahaad par chadhate samay manushy aage kee taraph kyon jhuk jaata hai peechhe taraph kyon nahin rukata hai dekhe aap agar maan loon ki aap ek kuen ke tat par khade ho ek said jameen hai ek said khaie ek kuaan hai agar aapako ek said dekhoge to aapako e mein gir jaoge kyonki grevitee aapako gurutvaakarshan aapako jis said se vet hoga usako set kheenchega ab javaab pahaadee par hote ho to ab isako kya karate ham log jab tak hai usako badal dete hain pahaadee mein pahaadee mein aap jab chaloge to abhee aise kee ek said ashok hogee vahaan par us said agar aapaka vet chaahata hai ya phir aapaka sentar oph grevitee aapaka agar us said jaata hai to kya hoga ki grevitee aapako blok kar ke aap gir jaoge aur aapako aur ab chait bhee nahin paoge lekin agar aapako oopar chadhana hai to aap ek thoda jhuk jaoge neeche jhukane se kya hoga ki ek to aapako grevitee ka propar saport milega oopar chadhane mein aap sentar jo aapaka vet ka sentar hai usako menten karoge kyonki pahaad kee teevr ichchha hai agar seedha rod hota hai to seedhe rod par aap seedhe khade hote ho aur aage chalate ho aur pahaad par agar aapako aage chalana hai to aap seedhe khade ho kya aage nahin chal sakate ho kyonki aapaka jo neeche ka plen hai vah tera ho chuka hai usake saath aapako aapaka sentar oph grevitee menten karane ke ichchhuk to aage kee taraph taaki bodee ko saport milata rahe aur paudee apane aap aage chadhate rahate ho aur usako grevitee ka saport neeche se pahaad ke neeche se milate jaata hai lekin agar aap seedha hokar agar chaahane kee koshish karoge bhee pa pahaadee ke oopar to aapako bahut jyaada kasht karane padenge aur doosara yah hai ki agar aapaka jo pet ka sent thoda peechhe ke saath taip kiya to aap susaid gaya to aap gir bhee sakate hain

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
Pradumn kumar Vajpayee Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Pradumn जी का जवाब
Bijneas9369174848
1:05
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ से झुक जाता है पीछे की तरफ से नहीं झुकता तो दोस्तों शरीर का बैलेंस शरीर के बैलेंस को बनाने के लिए हमें अपने आपको कई तरीके से मोड़ करना पड़ता है जैसे कि हम ढलान पर हैं तभी हम रोक रोक के कदम रखते हैं और आगे की ओर ही रुके हुए होते हैं ठीक उसी प्रकार से जब हम पहाड़ पर चढ़ते हैं तो हम अपने भार को आगे की ओर झुका कर चलते हैं अगर हम पीछे की ओर हल्का शरीर में शरीर को ढीला रखेंगे तो हम पलता खा कर नीचे गिर जाएंगे चढ़ाई पर हम अपने पैरों की मजबूती के लिए अपने शरीर को आगे की ओर झुकाते हैं इससे हमारा प्रेशर बहुत तगड़ा पड़ता है और हम ऊपर की ओर जाते हैं धन्यवाद
Pahaad par chadhate samay manushy aage kee taraph se jhuk jaata hai peechhe kee taraph se nahin jhukata to doston shareer ka bailens shareer ke bailens ko banaane ke lie hamen apane aapako kaee tareeke se mod karana padata hai jaise ki ham dhalaan par hain tabhee ham rok rok ke kadam rakhate hain aur aage kee or hee ruke hue hote hain theek usee prakaar se jab ham pahaad par chadhate hain to ham apane bhaar ko aage kee or jhuka kar chalate hain agar ham peechhe kee or halka shareer mein shareer ko dheela rakhenge to ham palata kha kar neeche gir jaenge chadhaee par ham apane pairon kee majabootee ke lie apane shareer ko aage kee or jhukaate hain isase hamaara preshar bahut tagada padata hai aur ham oopar kee or jaate hain dhanyavaad

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:38
जैन प्रश्न है पहाड़ के चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यों झुक जाते हैं और पीछे की तरफ क्यों नहीं झुकते मैं आपको बताना चाहूंगा पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आ गई इसलिए झुकते हैं क्योंकि पहाड़ चढ़ते समय इंसान के अगर वह पीछे झूठ है तो वह पीछे की ओर गिर सकता है इसके कारण वह पहाड़ चढ़ते समय उस पहाड़ को शर्ट के झुककर चढ़ता है जिससे वह से चढ़ने सहारा मिलता है धन्यवाद
Jain prashn hai pahaad ke chadhate samay manushy aage kee taraph kyon jhuk jaate hain aur peechhe kee taraph kyon nahin jhukate main aapako bataana chaahoonga pahaad par chadhate samay manushy aa gaee isalie jhukate hain kyonki pahaad chadhate samay insaan ke agar vah peechhe jhooth hai to vah peechhe kee or gir sakata hai isake kaaran vah pahaad chadhate samay us pahaad ko shart ke jhukakar chadhata hai jisase vah se chadhane sahaara milata hai dhanyavaad

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:29
चारा काटने पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यों झुक जाते हैं पीछे की तरफ क्यों नहीं झुकता है तो आपको बता दें देखिए कांसेप्ट होता है फिजिक्स का सेंटर ऑफ ग्रेविटी हर एक चीज के अपनी सेंट्रो ग्रेविटी होती है अब यहां पर कोई मनुष्य है जो कि पाठ चल रहा है तो उसको अपने बॉडी की सेंट्रो ग्रेविटी मेंटेन करने के लिए आगे झुकना पड़ता है अन्यथा वह पीछे पड़ पर उड़द जाएगा मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Chaara kaatane pahaad par chadhate samay manushy aage kee taraph kyon jhuk jaate hain peechhe kee taraph kyon nahin jhukata hai to aapako bata den dekhie kaansept hota hai phijiks ka sentar oph grevitee har ek cheej ke apanee sentro grevitee hotee hai ab yahaan par koee manushy hai jo ki paath chal raha hai to usako apane bodee kee sentro grevitee menten karane ke lie aage jhukana padata hai anyatha vah peechhe pad par udad jaega main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:21
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यों झुक जाता है पीछे की तरफ क्यों नहीं रुकता है दोस्तों इसके पीछे कारण है समतल धरती का गुरुत्वाकर्षण बल दोस्तों हम किसी के सहारे पहाड़ पर तो उतर जाते हैं लेकिन चढ़ते हुए हमें ना पता लगती है जो लगता है तो को क्यों लगता है और चलते हुए हम आगे भी झुक जाते हैं आगे झुकते ही आगे झुकते हुए ही हम सरलता से पहाड़ को बाहर जा सकते हैं घाट पर अगर हम जीते हुए ना हो तो इतनी सरलता से भी नहीं छोड़ सकते और हम पीछे गिर भी सकते हैं इसके पीछे कारण यह भी है कि हमारा तो बाहर है तो सीधे रहने से पीछे की तरफ जाता हो जाता है जब हम कोई भी दाया बाया घुटना ऊपर करके और पेड़ पहाड़ का जो हुबली सिटी होती है या फिर ऊपरी कोई पत्थर होता है उस पर जब हम पैर रखते हैं तो मरा कमर के ऊपर का जो भाग है वह पीछे की तरफ एक बार नकेल जाता है यानी पीछे की तरफ हो जाता है जिस कारण से हमारे पूरे शरीर में पीछे की तरफ ज्यादा भार हो जाने से और हमें गिरने की आशंका बनी रहती है कि हम गिर जाएंगे नीचे तो इसलिए हमारा में बैलेंस बनाने के लिए और अब हम थोड़ा सा आगे की ओर झुक जाते हैं ताकि जितना भार पीछे उनसे कहीं ज्यादा भार हमारा आगे हो जाए तो हम पीछे नहीं भूलेंगे बाई चांस कभी आगे हल्का सा धकेल भी दिया जाए आगे गुड भी जाए तो भी हम किसी के ऊपर वाली सीडी गोबर के पत्थर को पकड़कर और अपनी पकड़ बना सकते हैं और गिरने से बच्चा लेकिन दोस्तों पीछे जब हम सीधे और आगे पहुंचा करके उनकी सीडी पर रखने की कोशिश करते हैं तो बाहर हमारा पीछे चला जाता है सिर की तरफ कमर की तरफ ज्यादा हो जाता है जिसकी वजह से गिरने के चांस ज्यादा रहते हैं तो किस लिए बाहर का बैलेंस आगे बढ़ाने के लिए और हम झुकते हुए चाहते हैं ताकि हम गिरे नहीं धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai pahaad par chadhate samay manushy aage kee taraph kyon jhuk jaata hai peechhe kee taraph kyon nahin rukata hai doston isake peechhe kaaran hai samatal dharatee ka gurutvaakarshan bal doston ham kisee ke sahaare pahaad par to utar jaate hain lekin chadhate hue hamen na pata lagatee hai jo lagata hai to ko kyon lagata hai aur chalate hue ham aage bhee jhuk jaate hain aage jhukate hee aage jhukate hue hee ham saralata se pahaad ko baahar ja sakate hain ghaat par agar ham jeete hue na ho to itanee saralata se bhee nahin chhod sakate aur ham peechhe gir bhee sakate hain isake peechhe kaaran yah bhee hai ki hamaara to baahar hai to seedhe rahane se peechhe kee taraph jaata ho jaata hai jab ham koee bhee daaya baaya ghutana oopar karake aur ped pahaad ka jo hubalee sitee hotee hai ya phir ooparee koee patthar hota hai us par jab ham pair rakhate hain to mara kamar ke oopar ka jo bhaag hai vah peechhe kee taraph ek baar nakel jaata hai yaanee peechhe kee taraph ho jaata hai jis kaaran se hamaare poore shareer mein peechhe kee taraph jyaada bhaar ho jaane se aur hamen girane kee aashanka banee rahatee hai ki ham gir jaenge neeche to isalie hamaara mein bailens banaane ke lie aur ab ham thoda sa aage kee or jhuk jaate hain taaki jitana bhaar peechhe unase kaheen jyaada bhaar hamaara aage ho jae to ham peechhe nahin bhoolenge baee chaans kabhee aage halka sa dhakel bhee diya jae aage gud bhee jae to bhee ham kisee ke oopar vaalee seedee gobar ke patthar ko pakadakar aur apanee pakad bana sakate hain aur girane se bachcha lekin doston peechhe jab ham seedhe aur aage pahuncha karake unakee seedee par rakhane kee koshish karate hain to baahar hamaara peechhe chala jaata hai sir kee taraph kamar kee taraph jyaada ho jaata hai jisakee vajah se girane ke chaans jyaada rahate hain to kis lie baahar ka bailens aage badhaane ke lie aur ham jhukate hue chaahate hain taaki ham gire nahin dhanyavaad

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:24
क्वेश्चन पूछा गया कि पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यों झुक जाता है पीछे की तरफ क्यों नहीं झुकता तू तो कोई भी व्यक्ति अगर पहाड़ पर चढ़ा था इसकी ऊंचाई पर जो है चढ़ना कोशिश करना ही पड़ता है तू अपना सारा जो भी शरीर के बल होती है आगे की तरफ जो है छुपा लेता है इस स्थिति में जो होता है वह आगे की तरफ झुक जाता है
Kveshchan poochha gaya ki pahaad par chadhate samay manushy aage kee taraph kyon jhuk jaata hai peechhe kee taraph kyon nahin jhukata too to koee bhee vyakti agar pahaad par chadha tha isakee oonchaee par jo hai chadhana koshish karana hee padata hai too apana saara jo bhee shareer ke bal hotee hai aage kee taraph jo hai chhupa leta hai is sthiti mein jo hota hai vah aage kee taraph jhuk jaata hai

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:16
साले की पहाड़ पर चढ़ते समय मनीष आगे की तरफ क्यों झुक जाता है पीछे की तरफ क्यों नहीं रूकता था देखी बॉडी को बैलेंस करेंगे जब आप तभी आप आगे चल पाएंगे आगे बढ़ पाएंगे पहाड़ चल पाएंगे और इस बॉडी बालन सिंह के लिए बहुत जरूरी है शरीर को आगे की तरफ चुकाना आपका दिन शुभ रहे थे निवाद
Saale kee pahaad par chadhate samay maneesh aage kee taraph kyon jhuk jaata hai peechhe kee taraph kyon nahin rookata tha dekhee bodee ko bailens karenge jab aap tabhee aap aage chal paenge aage badh paenge pahaad chal paenge aur is bodee baalan sinh ke lie bahut jarooree hai shareer ko aage kee taraph chukaana aapaka din shubh rahe the nivaad

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:12
नमस्कार साथियों आपके प्रश्न का उत्तर इस प्रकार से है जब हम सीधा खड़े होते हैं तो हमारा गुरुत्व केंद्र हमारे पैरों के बीच में ही होता है इस कारण से हम संतुलित होकर खड़े रहते हैं और सामान्य मैदान में चलने पर यह गुरुत्व केंद्र चलने की दिशा में बदलता रहता है लेकिन यह संतुलित अवस्था से इधर-उधर विचलित नहीं होता है जब हम मैदान के अध्यक्ष पहाड़ की ऊंचाई पर चढ़ते हैं तो हमारा ग्रुप को केंद्र आगे की ओर बढ़ जाता है इसलिए हमें संतुलित करने के लिए हमें भी आगे की ओर झुकना पड़ता है नहीं तो हम संतुलित होकर गिर सकते हैं ठीक इसी तरह जब हम पहाड़ से नीचे की ओर उतर रहे होते हैं तो हमारा गुरुत्व केंद्र पीछे की ओर बढ़ जाता है आता है इसे संतुलित करने के लिए हमें पीछे की ओर झुकना पड़ता है दूसरे पहाड़ों पर करते समय हमें गिर ना जाए इसके लिए पहाड़ों पर चढ़ते समय आगे की ओर उतरते समय पीछे की ओर जुड़ना आवश्यक होता है धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaskaar saathiyon aapake prashn ka uttar is prakaar se hai jab ham seedha khade hote hain to hamaara gurutv kendr hamaare pairon ke beech mein hee hota hai is kaaran se ham santulit hokar khade rahate hain aur saamaany maidaan mein chalane par yah gurutv kendr chalane kee disha mein badalata rahata hai lekin yah santulit avastha se idhar-udhar vichalit nahin hota hai jab ham maidaan ke adhyaksh pahaad kee oonchaee par chadhate hain to hamaara grup ko kendr aage kee or badh jaata hai isalie hamen santulit karane ke lie hamen bhee aage kee or jhukana padata hai nahin to ham santulit hokar gir sakate hain theek isee tarah jab ham pahaad se neeche kee or utar rahe hote hain to hamaara gurutv kendr peechhe kee or badh jaata hai aata hai ise santulit karane ke lie hamen peechhe kee or jhukana padata hai doosare pahaadon par karate samay hamen gir na jae isake lie pahaadon par chadhate samay aage kee or utarate samay peechhe kee or judana aavashyak hota hai dhanyavaad saathiyon khush raho

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:33
एनके सिंह फेसबुक जाओ अधिक माल बेचने वाले ने ऑपरेशन देखना उसका दिन का उत्तर दें चलिए पर चढ़ते समय मनुष्य की तरफ क्यों जाता पीछे की तरफ क्यों नहीं झुकता नहीं आगे की तरफ उंगली जुदा दत्ता के पीछे गिर ना पड़ता है अगर किसी तरह लगेगा तो उसका बैलेंस बिगड़ जाएगा और वह नीचे गिर जाएगा आराम से नीचे गिरेगा चोट लग सकती है असली वाली जो कह रहे थे उसका बैलेंस बना रहा है कोई दिक्कत ना हो आसानी से पार पिक्चर
Enake sinh phesabuk jao adhik maal bechane vaale ne opareshan dekhana usaka din ka uttar den chalie par chadhate samay manushy kee taraph kyon jaata peechhe kee taraph kyon nahin jhukata nahin aage kee taraph ungalee juda datta ke peechhe gir na padata hai agar kisee tarah lagega to usaka bailens bigad jaega aur vah neeche gir jaega aaraam se neeche girega chot lag sakatee hai asalee vaalee jo kah rahe the usaka bailens bana raha hai koee dikkat na ho aasaanee se paar pikchar

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:21
आपका प्रश्न है कि पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यों झुक जाता है पीछे की तरफ क्यों नहीं झुकता है क्या होता है ना कि जब हम भारत के चलते तो पूछा ही होती है पूजा होती थी कि क्या होता है ना कि जब हमारी जो गुरुत्वाकर्षण बल होता है उन नीचे की तरह काम करता है जैसे हम अगर पीछे जाएंगे ना तो हमारे हमारा बैलेंस ही बिगड़ जाएगा हम नीचे गिर जाएंगे इस गुरुत्वाकर्षण बल जो बैलेंस डिसबैलेंस होता है उसको हम बैलेंस बनाने के लिए क्या होता की आगे की तरफ झुक जाते हैं जिससे कि हमें क्या होता है कि पहाड़ से अंत तक जो भी पहाड़ होता है आप जो हाइट होती है उस पर हम क्या होते चिपके रहते हैं तो जो हम अपना फोर्स क्या कर रहे हो उस उस ऊंचाई पर लगाते हैं उस पहाड़ बेला ने जब अपना जो भी हम फोन लगाते हैं तो उसे हम पकड़ने की कोशिश करते हैं लेकिन फिर भी हमें गुरुत्वाकर्षण बल नीचे की तरफ खींचता है तो हम क्या करते हैं उसमें बैलेंस को बनाए रखने के लिए हम क्या अपने शरीर को और आगे की तरफ झुका देते हैं जब झुका देते हैं तो क्या होता है कि हम अपने बैलेंस को बनाकर रखते हैं और आगे धीरे-धीरे हम बढ़ते जाते हैं इसी वजह से क्या होता है कि हम गिरने के लिए हम बचने के लिए क्योंकि हाइट पर जाते हैं तो वह बचने के लिए ही हम क्या करें पीछे की तरफ नहीं झुकते हैं हम आगे की तरह झुकते हैं
Aapaka prashn hai ki pahaad par chadhate samay manushy aage kee taraph kyon jhuk jaata hai peechhe kee taraph kyon nahin jhukata hai kya hota hai na ki jab ham bhaarat ke chalate to poochha hee hotee hai pooja hotee thee ki kya hota hai na ki jab hamaaree jo gurutvaakarshan bal hota hai un neeche kee tarah kaam karata hai jaise ham agar peechhe jaenge na to hamaare hamaara bailens hee bigad jaega ham neeche gir jaenge is gurutvaakarshan bal jo bailens disabailens hota hai usako ham bailens banaane ke lie kya hota kee aage kee taraph jhuk jaate hain jisase ki hamen kya hota hai ki pahaad se ant tak jo bhee pahaad hota hai aap jo hait hotee hai us par ham kya hote chipake rahate hain to jo ham apana phors kya kar rahe ho us us oonchaee par lagaate hain us pahaad bela ne jab apana jo bhee ham phon lagaate hain to use ham pakadane kee koshish karate hain lekin phir bhee hamen gurutvaakarshan bal neeche kee taraph kheenchata hai to ham kya karate hain usamen bailens ko banae rakhane ke lie ham kya apane shareer ko aur aage kee taraph jhuka dete hain jab jhuka dete hain to kya hota hai ki ham apane bailens ko banaakar rakhate hain aur aage dheere-dheere ham badhate jaate hain isee vajah se kya hota hai ki ham girane ke lie ham bachane ke lie kyonki hait par jaate hain to vah bachane ke lie hee ham kya karen peechhe kee taraph nahin jhukate hain ham aage kee tarah jhukate hain

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
Prince Khan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prince जी का जवाब
Unknown
0:25

bolkar speaker
पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है?Pahad Par Chadhte Samay Manushya Aage Ki Taraf Kyun Jhuk Jata Hai Piche Taraf Kyun Nahi Jhukta Hai
Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक, संस्कृतभारती जयपुरमहानगर प्रचारप्रमुख और सन्देशप्रमुख
1:46
नमस्कार मित्र आप ने प्रश्न किया है पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यों झुक जाता है पीछे की तरफ क्यों नहीं झुकता है मित्र पहाड़ यह बताता है जिसे हम जब पहाड़ पर चढ़ते हैं तो पहाड़ के द्वारा यह में बताया जाता है कि चाहे व्यक्ति कितनी ही ऊंचाइयों पर चढ़ जाए कितनी ऊंचाई प्राप्त कर ले पर फिर भी उसे हमेशा जोक करके ही रहना चाहिए आपने देखा होगा कि जब कोई सामान्य व्यक्ति होता है और अगर उसके पास में अच्छी नौकरी हो गई खूब पैसा हो गया एकदम से ही या मेहनत करके जैसे भी मान लीजिए तो उसे थोड़ा गर्म होगा और वैसा करके चलेगा जबकि यह होना नहीं चाहिए आप चाहे कितने ही पैसे वाले हो और फिर भी आपको नॉर्मल व्यक्ति जो करके ही रहना होगा पहाड़ भी यही सिखाता है कि जवाब इतनी ऊंचाई तक आ चुके हैं तो भी आप अगर झुककर के रहे हैं तो आप बहुत अच्छे इंसान हैं और यदि आप जो कर के नहीं चल पा रहे हैं इस ऊंचाई पर आने पर भी बिल्कुल सीधे चलेंगे तो ऐसा करके चलेंगे ठीक तरीके से ही अच्छे व्यक्तियों के लक्षण नहीं है तो पहाड़ भी देख ली हो या चाहे दुनिया में कोई सी भी चीज हो वह हमें कुछ नहीं कुछ सिखाती है उससे हमें कोई शिक्षा मिलती है तो पहाड़ से हमें यही शिक्षा मिलती है कि चाहे कितनी भी ऊंचाइयों पर हो पर हमेशा चुप करके ही रहे लव लोगों के सामने हमेशा प्रेम भाव से रहे उनके साथ अच्छा व्यवहार करें धन्यवाद
Namaskaar mitr aap ne prashn kiya hai pahaad par chadhate samay manushy aage kee taraph kyon jhuk jaata hai peechhe kee taraph kyon nahin jhukata hai mitr pahaad yah bataata hai jise ham jab pahaad par chadhate hain to pahaad ke dvaara yah mein bataaya jaata hai ki chaahe vyakti kitanee hee oonchaiyon par chadh jae kitanee oonchaee praapt kar le par phir bhee use hamesha jok karake hee rahana chaahie aapane dekha hoga ki jab koee saamaany vyakti hota hai aur agar usake paas mein achchhee naukaree ho gaee khoob paisa ho gaya ekadam se hee ya mehanat karake jaise bhee maan leejie to use thoda garm hoga aur vaisa karake chalega jabaki yah hona nahin chaahie aap chaahe kitane hee paise vaale ho aur phir bhee aapako normal vyakti jo karake hee rahana hoga pahaad bhee yahee sikhaata hai ki javaab itanee oonchaee tak aa chuke hain to bhee aap agar jhukakar ke rahe hain to aap bahut achchhe insaan hain aur yadi aap jo kar ke nahin chal pa rahe hain is oonchaee par aane par bhee bilkul seedhe chalenge to aisa karake chalenge theek tareeke se hee achchhe vyaktiyon ke lakshan nahin hai to pahaad bhee dekh lee ho ya chaahe duniya mein koee see bhee cheej ho vah hamen kuchh nahin kuchh sikhaatee hai usase hamen koee shiksha milatee hai to pahaad se hamen yahee shiksha milatee hai ki chaahe kitanee bhee oonchaiyon par ho par hamesha chup karake hee rahe lav logon ke saamane hamesha prem bhaav se rahe unake saath achchha vyavahaar karen dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है पीछे तरफ क्यो नही झुकता है पहाड़ पर चढ़ते समय मनुष्य आगे की तरफ क्यो झुक जाता है
URL copied to clipboard