#रिश्ते और संबंध

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:53
बिटिया दही शब्द की परिभाषा को याद करें और उसका उत्तर दें दहेज शब्द की परिभाषा यह है प्राचीन काल में जो दही दिया जाता था उसका कारण यह था कि बेटी वाला पसंद हो करके अपनी बेटी को नया जीवन जीने के लिए उसके रिश्तेदार उसके भाई बंधु और कुछ सेम जो कुछ देता था वही चलाता है लेकिन आज जो तुम देख रहे हो वह दहेज नहीं दहेज का भयंकर रूप है यह राक्षसी करते हैं आप किसी बेटी वाले को मजबूर करें कि वह 4000000 या 50 लाख दे अपनी जमीन जायदाद भेज दें क्योंकि उसे अपनी लड़की के लिए सुयोग्य वर ढूंढो क्योंकि उसे सुयोग्य पात्र चाहिए मैं आपसे सहमत हूं आप यह कह रहे हैं कि मैं भी पढ़ा लिखा और नौकरी वाला मत ढूंढ लेकिन एक बात बताइए बेटे क्या समाज में यदि हम बिना दहेज के नहीं जी सकते हैं आप दहेज के बल पर ही यह कह रहे हो आज किसी भी लड़के की नौकरी लग जाती तो उसके बाप की लॉटरी खुल जाती है वह अनाथ धूम धूम खोल करके मांगता है यदि पहले दहेज नहीं था तो क्या वह भोजन नहीं खाते थे लिखित संतोष बढ़ती चली गई है यह कहिए मान्यता मिल चुकी है क्या विवाह करने का मतलब यह है कि उस लड़की के पैर पक्ष को पूरी तरह से मिटा देना बर्बाद कर देना उसकी जमीन जायदाद बिकवा देना जो बेटी वाला और रिश्तेदार यदि खुशी से देते हैं जीवन जीने के लिए तो मैं सोच रहा हूं अनिश्चित नहीं है लेकिन किसी को बात भी किया जाए
Bitiya dahee shabd kee paribhaasha ko yaad karen aur usaka uttar den dahej shabd kee paribhaasha yah hai praacheen kaal mein jo dahee diya jaata tha usaka kaaran yah tha ki betee vaala pasand ho karake apanee betee ko naya jeevan jeene ke lie usake rishtedaar usake bhaee bandhu aur kuchh sem jo kuchh deta tha vahee chalaata hai lekin aaj jo tum dekh rahe ho vah dahej nahin dahej ka bhayankar roop hai yah raakshasee karate hain aap kisee betee vaale ko majaboor karen ki vah 4000000 ya 50 laakh de apanee jameen jaayadaad bhej den kyonki use apanee ladakee ke lie suyogy var dhoondho kyonki use suyogy paatr chaahie main aapase sahamat hoon aap yah kah rahe hain ki main bhee padha likha aur naukaree vaala mat dhoondh lekin ek baat bataie bete kya samaaj mein yadi ham bina dahej ke nahin jee sakate hain aap dahej ke bal par hee yah kah rahe ho aaj kisee bhee ladake kee naukaree lag jaatee to usake baap kee lotaree khul jaatee hai vah anaath dhoom dhoom khol karake maangata hai yadi pahale dahej nahin tha to kya vah bhojan nahin khaate the likhit santosh badhatee chalee gaee hai yah kahie maanyata mil chukee hai kya vivaah karane ka matalab yah hai ki us ladakee ke pair paksh ko pooree tarah se mita dena barbaad kar dena usakee jameen jaayadaad bikava dena jo betee vaala aur rishtedaar yadi khushee se dete hain jeevan jeene ke lie to main soch raha hoon anishchit nahin hai lekin kisee ko baat bhee kiya jae

और जवाब सुनें

KAUSHAL KUMAR SINGH Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए KAUSHAL जी का जवाब
Gmind institute
1:35
विकी आपका सवाल बिल्कुल ही गलत है और इनमें चोर आपका सवाल है कि आप ने एक तरफ तो कहा है कि दहेज लेना गलत है दूसरी तरफ आप ही कह रहे हैं कि एक लड़का है जिस को पढ़ाने के लिए पैसा लगता है और उस पैसे को आप दूसरे किसी लड़की के पिता से अब वसूल करना चाहते हैं तो बिल्कुल यह गलत सोच है और यह ट्रेडिशनल जो सोच है यही बदलने की जरूरत है क्योंकि किसी के पैसे से आप अमीर नहीं हो सकते और आपको अपना टैलेंट यानी लड़के को खुद अपने लिए जॉब अपॉर्चुनिटी और रोजगार के अवसर को तलाश करना है ना की किसी के दिए हुए पैसे या दान के अभी के या दहेज के से उसका बिजनेस चल सकता है या उसके घर में एक अच्छी खासी इनकम हो सकती है तो मुझे लगता है कि कहीं ना कहीं हर घर में लड़का भी होता है और लड़की भी होती है तो इस नजरिए से आप उसको कुछ क्वेश्चन को समझे कि आपके घर में भी जिस लड़के की बात आप कर रहे हैं अगर उस घर में लड़की होगी तो उसके लिए भी उसी तरह की प्रक्रिया आपको अपनानी पड़ेगी तो ऐसे में बेहतर यही है कि आप ना तो दहेज को ले और ना दे और वही यह समाज की एक बहुत बड़ी कुर्ती है इसको खत्म करने की जरूरत है तभी देश में सही तरीके से देश आगे बढ़ सकता है क्योंकि आपको पता होगा कि पूरे भारत भर में लगभग 10,000 से अधिक लड़कियां जो है वह दहेज प्रथा का शिकार होती हैं उनको प्रताड़ित किया जाता है चलाया जाता है मारी जाती है तो ऐसी स्थिति को देखते हुए इस प्रथा को बिल्कुल ही खत्म कर देना चाहिए और सरकार हालांकि इसके ऊपर कड़ा कानून बनाए हुए हैं लेकिन मुझे लगता है कि और अच्छे तरीके से इसका अनुपालन होना चाहिए
Vikee aapaka savaal bilkul hee galat hai aur inamen chor aapaka savaal hai ki aap ne ek taraph to kaha hai ki dahej lena galat hai doosaree taraph aap hee kah rahe hain ki ek ladaka hai jis ko padhaane ke lie paisa lagata hai aur us paise ko aap doosare kisee ladakee ke pita se ab vasool karana chaahate hain to bilkul yah galat soch hai aur yah tredishanal jo soch hai yahee badalane kee jaroorat hai kyonki kisee ke paise se aap ameer nahin ho sakate aur aapako apana tailent yaanee ladake ko khud apane lie job aporchunitee aur rojagaar ke avasar ko talaash karana hai na kee kisee ke die hue paise ya daan ke abhee ke ya dahej ke se usaka bijanes chal sakata hai ya usake ghar mein ek achchhee khaasee inakam ho sakatee hai to mujhe lagata hai ki kaheen na kaheen har ghar mein ladaka bhee hota hai aur ladakee bhee hotee hai to is najarie se aap usako kuchh kveshchan ko samajhe ki aapake ghar mein bhee jis ladake kee baat aap kar rahe hain agar us ghar mein ladakee hogee to usake lie bhee usee tarah kee prakriya aapako apanaanee padegee to aise mein behatar yahee hai ki aap na to dahej ko le aur na de aur vahee yah samaaj kee ek bahut badee kurtee hai isako khatm karane kee jaroorat hai tabhee desh mein sahee tareeke se desh aage badh sakata hai kyonki aapako pata hoga ki poore bhaarat bhar mein lagabhag 10,000 se adhik ladakiyaan jo hai vah dahej pratha ka shikaar hotee hain unako prataadit kiya jaata hai chalaaya jaata hai maaree jaatee hai to aisee sthiti ko dekhate hue is pratha ko bilkul hee khatm kar dena chaahie aur sarakaar haalaanki isake oopar kada kaanoon banae hue hain lekin mujhe lagata hai ki aur achchhe tareeke se isaka anupaalan hona chaahie

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:43
जनता कहती है कि दहेज लेना गलत है देखिए जितना आपके बदल के पढ़ाने में बाप का पैसा खर्च होता है उतना लड़की के पास आने में भी बाप का पैसा खर्च होता है वह तो अपना खुद ही एक कन्या को अपने घर में देता है पर दहेज लेकर कोई शादी नहीं करेगा तब तो आपका लड़का कुंवारा रह जाएगा कोई जरूरी थोड़ी है कि आप शादी कर ले कर ले कर दहेज जो है दहेज की वजह से जो लोग ही लोग होते हैं कितनी लड़कियां जला दी जाती है मार दी जाती हैं वह करो टाइप के लोग होते हैं जो टाइप से लड़कियों को बचाने के लिए यह व्यवस्था की गई है और जो व्यक्ति अपने घर परिवार बच्चों को खिला पिला नहीं सकता कमाल करके उसको शादी करना ही नहीं चाहिए ऐसे लोगों के लिए दहेज प्रथा बनाई गई है
Janata kahatee hai ki dahej lena galat hai dekhie jitana aapake badal ke padhaane mein baap ka paisa kharch hota hai utana ladakee ke paas aane mein bhee baap ka paisa kharch hota hai vah to apana khud hee ek kanya ko apane ghar mein deta hai par dahej lekar koee shaadee nahin karega tab to aapaka ladaka kunvaara rah jaega koee jarooree thodee hai ki aap shaadee kar le kar le kar dahej jo hai dahej kee vajah se jo log hee log hote hain kitanee ladakiyaan jala dee jaatee hai maar dee jaatee hain vah karo taip ke log hote hain jo taip se ladakiyon ko bachaane ke lie yah vyavastha kee gaee hai aur jo vyakti apane ghar parivaar bachchon ko khila pila nahin sakata kamaal karake usako shaadee karana hee nahin chaahie aise logon ke lie dahej pratha banaee gaee hai

nav kishor aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nav जी का जवाब
Service
1:25
नमस्कार आपका प्रश्न है कि जनता कहती है कि दहेज लेना गलत है तो फिर क्या पढ़ा-लिखा लड़का ढूंढना सही है क्या लड़के के पिता का लड़के को पढ़ाने में पैसा नहीं लगता लेकिन दोस्त बहुत गलत राय आपकी आप क्या समझते हैं कि सिर्फ लड़का ही पढ़ता लिखता है लड़की को पढ़ाई लिखाई नहीं जाता यह लड़की को ऊपर पैसा खर्च नहीं किया जाता क्या बचपन से लेकर जवानी तक लड़की ऐसी बड़ी हो जाती है उसका पालन-पोषण उसका खान-पान उसके कपड़े लगते वह सब कहां से आते हैं वह क्या फ्री में आते हैं या फिर लड़कों को क्या अलग से कुछ वैरायटी दी जाती है अलग से कोई सुविधा दी जाती है आपकी सोच गलत है पढ़ा-लिखा लड़का ढूंढना ठीक है आजकल पढ़ा-लिखा लड़की भी ढूंढते हैं लोग भी ऐसी बात नहीं है पढ़ी-लिखी लड़की ढूंढते हैं ताकि उनको भी लालच होता कि कल को अगर मालूम लड़की पड़ी थी क्या हो सकता है वह घर के कामकाज के अलावा कोई नौकरी भी कर सकती है कोई बिजनेस कर सकती है जिससे घर की आमदनी पड़े अब क्या हम यह कह दे कि मैं लड़की को पढ़ाने में पैसा लगाया लड़की को जो पढ़ी लिखी लड़की है उसके लिए आपको हमें कुछ देना है ऐसा नहीं है आपकी बहुत सोच गलत है लेकिन लड़की और लड़का दोनों अच्छे पढ़े लिखे होने चाहिए अच्छे परिवार से ताल्लुक होना चाहिए और अच्छा व्यवहार अच्छा मन होना चाहिए यह सबसे जरूरी बात है दहेज लेना या देना पापा और मैं समझता हूं कि जो भी आदमी दहेज मांगता है वह मेरी नजर में सबसे ज्यादा बेकार और लालची किस्म का आदमी है ऐसे आदमी को तो कानून के अनुसार उचित सजा देनी चाहिए धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki janata kahatee hai ki dahej lena galat hai to phir kya padha-likha ladaka dhoondhana sahee hai kya ladake ke pita ka ladake ko padhaane mein paisa nahin lagata lekin dost bahut galat raay aapakee aap kya samajhate hain ki sirph ladaka hee padhata likhata hai ladakee ko padhaee likhaee nahin jaata yah ladakee ko oopar paisa kharch nahin kiya jaata kya bachapan se lekar javaanee tak ladakee aisee badee ho jaatee hai usaka paalan-poshan usaka khaan-paan usake kapade lagate vah sab kahaan se aate hain vah kya phree mein aate hain ya phir ladakon ko kya alag se kuchh vairaayatee dee jaatee hai alag se koee suvidha dee jaatee hai aapakee soch galat hai padha-likha ladaka dhoondhana theek hai aajakal padha-likha ladakee bhee dhoondhate hain log bhee aisee baat nahin hai padhee-likhee ladakee dhoondhate hain taaki unako bhee laalach hota ki kal ko agar maaloom ladakee padee thee kya ho sakata hai vah ghar ke kaamakaaj ke alaava koee naukaree bhee kar sakatee hai koee bijanes kar sakatee hai jisase ghar kee aamadanee pade ab kya ham yah kah de ki main ladakee ko padhaane mein paisa lagaaya ladakee ko jo padhee likhee ladakee hai usake lie aapako hamen kuchh dena hai aisa nahin hai aapakee bahut soch galat hai lekin ladakee aur ladaka donon achchhe padhe likhe hone chaahie achchhe parivaar se taalluk hona chaahie aur achchha vyavahaar achchha man hona chaahie yah sabase jarooree baat hai dahej lena ya dena paapa aur main samajhata hoon ki jo bhee aadamee dahej maangata hai vah meree najar mein sabase jyaada bekaar aur laalachee kism ka aadamee hai aise aadamee ko to kaanoon ke anusaar uchit saja denee chaahie dhanyavaad

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:28
हेलो जीवन तो आज आपका सवाल है कि जनता कहती है कि दहेज लेना गलत है तो फिर क्या पढ़ा-लिखा लड़का ढूंढना सही है क्या लड़के के पिता का लड़के को पढ़ाने में पैसे खर्च नहीं होता तो यह सारी बातें जो आपके मन में है यह सब अलग-अलग बन गई है जी हां लेना ही लेना है यह ऐसे नहीं हुआ था दहेज पहले क्या था कि अगर लड़की ससुराल जाती है तो उनके मम्मी-पापा जो भी अपनी तरफ से गिफ्ट दे सकते हैं किस तरह का तोहफा गिफ्ट देते थे डिमांड नहीं किया जाता था ऐसे ही अपनी तरफ से उनके नंबर भी जो भी हो यह धीरे-धीरे धीरे-धीरे आपको मत लड़कों की तरफ से बोलना पड़ा फोन करना पड़ा तेरा का दहेज प्रथा बन गई क्या मतलब आज से कितने सारे क्राइम सोने लगे यह ब्लॉग बनाना पड़ा कि वह सब दहेज के लिए अभी तक जबरदस्ती हो गई कि नहीं देना ही देना है अब तुम्हें इससे भी ज्यादा देना है जैसे जैसे समय बढ़ रहा है इससे भी गाना देना कि लड़का लड़का है कि लड़की को भी पढ़ाने में पैसा खर्च होता है लड़की भी तो पढ़ लिखकर अपने मम्मी पापा कितने पैसे खर्च करके जाती है पाल पोस कर मम्मी पापा इतना बड़ा करते फिर वह फिलहाल शादी करके अपने ससुराल चली जाती है तो वह तो कुछ नहीं बोलती है कि मुझे पढ़ा लिखा कर इतना बढ़ेगी और फिर मैं चली गई वहां और पढ़ी लिखी रहती है फिर भी जॉब नहीं कर पाती जबकि टैलेंट होता है तो पैसा तो उसका भी खर्च होगा फिर दहेज में भी देना पड़ता है लड़का को जो पढ़ाया जाता है लड़का कोई नहीं लड़का लड़की दोनों को पढ़ा जाता है दोनों की जगह पैसा खर्चा हम पढ़े थे इसलिए नहीं है कि हां हमें मतलब शादी करना है हम इसलिए पढ़ते हैं हमें नॉलेज लेना मिस देश दुनिया में है कुछ हमें जानकारियां होनी चाहिए लड़का ढूंढने की आती है तो इंसान दिखता है कि अगर मेरी बेटी कहां जा रही है तू वह मतलब लड़का जॉब करता है या नहीं वेल सेटल है या नहीं ताकि अच्छे से रह पाए उसकी बेटी ही नहीं परिवार और उनका जहां पुजारी हस्बैंड फ्यूचर में जब उनकी फैमिली होंगे तो बच्चे से रहता है अगर आप की व्यवस्था नहीं जाती लड़की को बिना नहीं लगता है कि जॉब करने दिया जाएगा नहीं शामली वहां की कैसी है यह सब अलग-अलग जगह पर है यह सब अलग-अलग कांसेप्ट है सबके साथ ऐसा ही होता है
Helo jeevan to aaj aapaka savaal hai ki janata kahatee hai ki dahej lena galat hai to phir kya padha-likha ladaka dhoondhana sahee hai kya ladake ke pita ka ladake ko padhaane mein paise kharch nahin hota to yah saaree baaten jo aapake man mein hai yah sab alag-alag ban gaee hai jee haan lena hee lena hai yah aise nahin hua tha dahej pahale kya tha ki agar ladakee sasuraal jaatee hai to unake mammee-paapa jo bhee apanee taraph se gipht de sakate hain kis tarah ka tohapha gipht dete the dimaand nahin kiya jaata tha aise hee apanee taraph se unake nambar bhee jo bhee ho yah dheere-dheere dheere-dheere aapako mat ladakon kee taraph se bolana pada phon karana pada tera ka dahej pratha ban gaee kya matalab aaj se kitane saare kraim sone lage yah blog banaana pada ki vah sab dahej ke lie abhee tak jabaradastee ho gaee ki nahin dena hee dena hai ab tumhen isase bhee jyaada dena hai jaise jaise samay badh raha hai isase bhee gaana dena ki ladaka ladaka hai ki ladakee ko bhee padhaane mein paisa kharch hota hai ladakee bhee to padh likhakar apane mammee paapa kitane paise kharch karake jaatee hai paal pos kar mammee paapa itana bada karate phir vah philahaal shaadee karake apane sasuraal chalee jaatee hai to vah to kuchh nahin bolatee hai ki mujhe padha likha kar itana badhegee aur phir main chalee gaee vahaan aur padhee likhee rahatee hai phir bhee job nahin kar paatee jabaki tailent hota hai to paisa to usaka bhee kharch hoga phir dahej mein bhee dena padata hai ladaka ko jo padhaaya jaata hai ladaka koee nahin ladaka ladakee donon ko padha jaata hai donon kee jagah paisa kharcha ham padhe the isalie nahin hai ki haan hamen matalab shaadee karana hai ham isalie padhate hain hamen nolej lena mis desh duniya mein hai kuchh hamen jaanakaariyaan honee chaahie ladaka dhoondhane kee aatee hai to insaan dikhata hai ki agar meree betee kahaan ja rahee hai too vah matalab ladaka job karata hai ya nahin vel setal hai ya nahin taaki achchhe se rah pae usakee betee hee nahin parivaar aur unaka jahaan pujaaree hasbaind phyoochar mein jab unakee phaimilee honge to bachche se rahata hai agar aap kee vyavastha nahin jaatee ladakee ko bina nahin lagata hai ki job karane diya jaega nahin shaamalee vahaan kee kaisee hai yah sab alag-alag jagah par hai yah sab alag-alag kaansept hai sabake saath aisa hee hota hai

Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:15
जनता कहती है कि दहेज लेना गलत है तो फिर क्या पढ़ा-लिखा लड़का ढूंढना सही है क्या लड़के के पिता लड़के को पढ़ाने में मैं समझ गया मैं इंटर का क्वेश्चन क्वेश्चन है कि अगर लड़का पड़ रहा है और उसके मम्मी पद पिताजी उस को पढ़ाने में इतना पैसा इन्वेस्ट कर रहे हैं तो वह पैसा निकालेंगे कहां से दहेज लेकर निकालेंगे अगर ऐसे सोचते हो आप तो यह एकदम ही गलत कंसेप्ट है सबसे पहली बार आप पढ़ लिख रहे हो इसलिए नहीं कि आपकी बहुत अच्छी जगह शादी हो जाए और आपको बहुत अच्छी पत्नी मिल जाए आप पढ़ लिख से इसलिए रहे हो क्योंकि आपको पढ़ना है उसके लिए यह दिमाग से पहले निकाल दीजिए कि मैं पढ़ चुका हूं क्योंकि अगर आप हो ना हो तो फ्री में एजुकेशन बहुत अच्छा जगह लेने के बहुत सारे रास्ते उसको चूस कीजिए आपको मां बाप को ही पैसा नहीं लगाना पड़ेगा आपको बैंक का लोन में मिल जाएगा और आप बहुत बेहतरीन से बेहतरीन इंस्टिट्यूशन में शिक्षा पा सकते हो भारत देश के और यह यह सोच अगर सोच की न्यू अगर यह है कि मैंने मेरे बेटे पर पैसा लगाया है और आप मुझे लड़के वालों की तरफ से वापस चाहिए यह पैसा तो यह एकदम ही गलत सोच है अगर यही लड़की की तरफ से सोचे कई सारी अच्छी लड़कियां हैं कि जिनके लड़की जिनके मां बाप ने उनके ऊपर पैसा खर्च किया उनको बहुत अच्छा पढ़ाया लिखा है जिंदगी और पाला है और इतना सब कुछ पालने के बाद एक गधे के हाथ में दे दिया अब तो उनको भी तो लगेगा फिर फिर क्या क्या लड़के वाले दहेज दे देते हैं लड़कियों को कि आप लड़की लेकर आ रहे हो वह लड़की को सुसंस्कृत किया लड़की को पढ़ाया लिखाया टाइम अपना बस पीता है उसको बड़ा किया है पैदा किया है तो यह सिस्टम से उल्टे तरीके से नहीं काम करना चाहिए क्योंकि यही एक सोच सही नहीं है सर्च दूसरे तरीके से भी सही हो सकती है कि लड़की ने एक लड़के को दे रहा हूं तो लड़की वालों ने भी पैसा मांगना चाहिए अगर लड़का पढ़ा लिखा है तो लड़के वाले ने पैसा मांगना चाहिए यह दोनों की दोनों सोच गलत है शादी एक अलग कंसेप्ट शादी में जीवन का मिलन होता है और वहां पर आप कुछ एक बहुत बेहतरीन क्रिएट करते फ्लाइट क्रिएट करते हो आगे जाकर आपके बच्चे हो वह सोच के साथ अगर आप आगे बढ़ो गे तो वहां अब अपने बच्चों के
Janata kahatee hai ki dahej lena galat hai to phir kya padha-likha ladaka dhoondhana sahee hai kya ladake ke pita ladake ko padhaane mein main samajh gaya main intar ka kveshchan kveshchan hai ki agar ladaka pad raha hai aur usake mammee pad pitaajee us ko padhaane mein itana paisa invest kar rahe hain to vah paisa nikaalenge kahaan se dahej lekar nikaalenge agar aise sochate ho aap to yah ekadam hee galat kansept hai sabase pahalee baar aap padh likh rahe ho isalie nahin ki aapakee bahut achchhee jagah shaadee ho jae aur aapako bahut achchhee patnee mil jae aap padh likh se isalie rahe ho kyonki aapako padhana hai usake lie yah dimaag se pahale nikaal deejie ki main padh chuka hoon kyonki agar aap ho na ho to phree mein ejukeshan bahut achchha jagah lene ke bahut saare raaste usako choos keejie aapako maan baap ko hee paisa nahin lagaana padega aapako baink ka lon mein mil jaega aur aap bahut behatareen se behatareen instityooshan mein shiksha pa sakate ho bhaarat desh ke aur yah yah soch agar soch kee nyoo agar yah hai ki mainne mere bete par paisa lagaaya hai aur aap mujhe ladake vaalon kee taraph se vaapas chaahie yah paisa to yah ekadam hee galat soch hai agar yahee ladakee kee taraph se soche kaee saaree achchhee ladakiyaan hain ki jinake ladakee jinake maan baap ne unake oopar paisa kharch kiya unako bahut achchha padhaaya likha hai jindagee aur paala hai aur itana sab kuchh paalane ke baad ek gadhe ke haath mein de diya ab to unako bhee to lagega phir phir kya kya ladake vaale dahej de dete hain ladakiyon ko ki aap ladakee lekar aa rahe ho vah ladakee ko susanskrt kiya ladakee ko padhaaya likhaaya taim apana bas peeta hai usako bada kiya hai paida kiya hai to yah sistam se ulte tareeke se nahin kaam karana chaahie kyonki yahee ek soch sahee nahin hai sarch doosare tareeke se bhee sahee ho sakatee hai ki ladakee ne ek ladake ko de raha hoon to ladakee vaalon ne bhee paisa maangana chaahie agar ladaka padha likha hai to ladake vaale ne paisa maangana chaahie yah donon kee donon soch galat hai shaadee ek alag kansept shaadee mein jeevan ka milan hota hai aur vahaan par aap kuchh ek bahut behatareen kriet karate phlait kriet karate ho aage jaakar aapake bachche ho vah soch ke saath agar aap aage badho ge to vahaan ab apane bachchon ke

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:56
घर आकर दृष्टि जनता कहती है कि दहेज लेना गलत है तो फिर क्या पढ़ा-लिखा लड़का ढूंढना सही है क्या लड़के के पिता को लड़के को पढ़ाने में पैसा खर्च नहीं होता तो देखिए अच्छी शिक्षा दिखा देना ना अपनी संतान को यह तो प्रत्येक मां-बाप का कर्तव्य होता है अब अगर आप यह सोच रहे हैं कि आप अपने बेटे पर खर्चा इसलिए कर रहे हैं ताकि उसको दहेज के रूप में वसूला जा सके तो यह सरासर गलत है दहेज के लिए ना तो आप किसी को बातें कर सकते हैं और ना ही समाज में इसको रितिका समर्थन किया जा सकता है आप अगर अपनी संतान को पढ़ाते हैं तो लड़की वाले भी अपनी संतान को पढ़ाते हैं पढ़ी-लिखी लड़की अगर समाज में आती है तो वह समाज और सबने बनता है तो इसमें आप अपनी सोच से बाहर निकलिए जोड़ी वाली सोच के साथ अगर आप आगे बढ़ेंगे तो यह आपको ही आगे जाकर प्रॉब्लम देगा मैं शुभकामनाएं आपके साथ है धन्यवाद
Ghar aakar drshti janata kahatee hai ki dahej lena galat hai to phir kya padha-likha ladaka dhoondhana sahee hai kya ladake ke pita ko ladake ko padhaane mein paisa kharch nahin hota to dekhie achchhee shiksha dikha dena na apanee santaan ko yah to pratyek maan-baap ka kartavy hota hai ab agar aap yah soch rahe hain ki aap apane bete par kharcha isalie kar rahe hain taaki usako dahej ke roop mein vasoola ja sake to yah saraasar galat hai dahej ke lie na to aap kisee ko baaten kar sakate hain aur na hee samaaj mein isako ritika samarthan kiya ja sakata hai aap agar apanee santaan ko padhaate hain to ladakee vaale bhee apanee santaan ko padhaate hain padhee-likhee ladakee agar samaaj mein aatee hai to vah samaaj aur sabane banata hai to isamen aap apanee soch se baahar nikalie jodee vaalee soch ke saath agar aap aage badhenge to yah aapako hee aage jaakar problam dega main shubhakaamanaen aapake saath hai dhanyavaad

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:40
नमस्ते साथियों आपके सवाल का उत्तर यह है दहेज लेना हमारे देश के समाज में अच्छा नहीं मानते हैं क्योंकि दहेज जो गरीब माता-पिता दे नहीं पाते हैं इसलिए गरीब के बच्चे शादी में दहेज एक बांदा का काम करता है और पढ़ा लिखा या नौकरी वाला लड़का इसीलिए ढूंढते हैं क्योंकि लड़की पढ़ी-लिखी या नौकरी लगी है तो उसकी योग्यता दो के मुताबिक ही लड़का को ढूंढते हैं धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaste saathiyon aapake savaal ka uttar yah hai dahej lena hamaare desh ke samaaj mein achchha nahin maanate hain kyonki dahej jo gareeb maata-pita de nahin paate hain isalie gareeb ke bachche shaadee mein dahej ek baanda ka kaam karata hai aur padha likha ya naukaree vaala ladaka iseelie dhoondhate hain kyonki ladakee padhee-likhee ya naukaree lagee hai to usakee yogyata do ke mutaabik hee ladaka ko dhoondhate hain dhanyavaad saathiyon khush raho

Krishankant kumawat Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Krishankant जी का जवाब
Unknown
1:08
ढाका दी है कि दहेज लेना गलत बिल्कुल यह दहेज लेना गलत है लेकिन ऐसा नहीं है कि लड़कियों को पढ़ाया नहीं जाए और उसको पढ़ा लिखा नहीं करना बिना पढ़ा लिखा है शादी कर लेनी चेन्नई दहेज एक कानूनी अपराध किसी लड़की के पिता गरीब है तो उससे कर लेना पैसे लेना उनसे अच्छा लगेगा कि समाज के लिए घातक आने वाली वीडियो में इसका गलत प्रभाव पड़ सकता है गरीबी गरीबी से जूझ रहे मां-बाप दहेज कहां से लाएंगे दहेज कानून अपराध और मेरे हिसाब से सरकार को ऐसे कानून बना देने चाहिए कि कोई भी अगर कहीं पर भी दहेज लेता हुआ पाए जाए तो उसको सीधा जेल में दहेज नहीं लेना चाहिए और ना ही दहेज देना चाहिए भेज देने वाले को और दहेज देने वाले को दोनों को ही सजा मिलनी चाहिए धन्यवाद
Dhaaka dee hai ki dahej lena galat bilkul yah dahej lena galat hai lekin aisa nahin hai ki ladakiyon ko padhaaya nahin jae aur usako padha likha nahin karana bina padha likha hai shaadee kar lenee chennee dahej ek kaanoonee aparaadh kisee ladakee ke pita gareeb hai to usase kar lena paise lena unase achchha lagega ki samaaj ke lie ghaatak aane vaalee veediyo mein isaka galat prabhaav pad sakata hai gareebee gareebee se joojh rahe maan-baap dahej kahaan se laenge dahej kaanoon aparaadh aur mere hisaab se sarakaar ko aise kaanoon bana dene chaahie ki koee bhee agar kaheen par bhee dahej leta hua pae jae to usako seedha jel mein dahej nahin lena chaahie aur na hee dahej dena chaahie bhej dene vaale ko aur dahej dene vaale ko donon ko hee saja milanee chaahie dhanyavaad

neelam mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए neelam जी का जवाब
Job
2:55
नमस्कार दोस्तों एक मित्र का सवाल है कि जब तक होती है कि दहेज लेना गलत है तो क्या फिर पढ़ा-लिखा ढूंढना सही है क्या लड़की के पिता को लड़के में पढ़ाने में पैसा नहीं लगता तो दोस्त आपकी सोच बहुत खराब है मेरी बात आपको बुरी लगेगी लेकिन जिसने भी यह सवाल पूछा है उसकी सोच बहुत खराब है क्योंकि आप कह रहे हो कि दहेज लेना गलत है तो पढ़ा-लिखा लड़का जी बिल्कुल बड़ा लड़का लड़का इंसान हर आदमी से टूटता है कि वह अपने दम पर अपने पैरों पर खड़ा होकर आत्मनिर्भर बनेगा और आगे उसका भविष्य क्यों रहेगा उसकी लड़की देना चाहता है उस लड़की की लाइफ भी सिक्योर रहेगी तो आपको बता दें आपने पूछा है कि लड़के में पढ़ाने में पैसा लगता है तो क्या वह पैसा लड़की वालों से वसूल किया जाना चाहिए क्या आप लड़की वालों से पूछ कर अपने लड़के को पढ़ा रहे हो कि मैं कितना पढ़ा हूं तुम्हारी लड़की के लिए नहीं आप अपने लड़की लड़की को पढ़ा रहे हो तो अपने फ्यूचर के लिए पढ़ा रहे हो आप परिवार की खुशियों के लिए पढ़ा रहे उसको बेस्ट फ्यूचर के लिए उसकी ब्राइट फ्यूचर के लिए आप उसे पढ़ा रहे हो क्यों अपना हाथ में विनिर्माण बंद कर बेरोजगारी से नहीं लड़ेगा वह पढ़ लिखकर अच्छा आदमी बनेगा अच्छा संस्कार आएगा तो आपके परिवार का नाम रोशन होगा आप उस लड़की के लिए उसे नहीं पढ़ा रहे हो जो उसे जोड़ने वाली है और और क्षमा करना मित्र जो लड़की आपके घर में दुल्हन बनकर आएगी जिसे आप दहेज की मांग कर रहे हो वह लड़की क्या अनपढ़ है उस लड़की को भी पढ़ाने लिखाने में पालने पहुंचने में पैसा लगा है उसके मां-बाप ने भी बहुत मेहनत करके उसे पढ़ाया लिखाया और तमाम गुण और सब कुछ सिखा कर आपके घर भेज दिया और ऊपर से उसके लिए पैसे भी दिए अरे आपको तो आपको खुश हो जाना चाहिए आपको उस लड़की को जिंदगी भर के लिए उसको अपने मां-बाप से अलग अपने परिवार अपने दोस्त मित्रों से अपने रिश्तेदारों से अलग करके आप उन्हें अपने पास लेकर आते हो और नौकरानी की तरह आपके घर में हर व्यक्ति के खुशियों का वह ध्यान रखती है उसके बावजूद आप उसके मां-बाप से पैसे मांगते हो और बोल रहे हो कि लड़की की पढ़ाई पैसा लगा है तो पढ़ इस तरह से तो देखा जाए तो आप लड़के वालों को लड़की वालों को पैसा देना चाहिए क्योंकि जो लड़की पढ़ लेकर आपके घर में आएगी उसकी सारी शिक्षा उसकी सारी संस्कार आपके काम आएंगे आप अपने लड़के को मैं पढ़ाने में जो पैसा लगाए हो वह आपके लड़के का पढ़ाई लिखाई आपके साथ उनके संस्कार आपके काम आएंगे लड़की वालों के काम नहीं आएंगे और लड़की जो पढ़ ली के संस्कार से के जो कुर्सी के आपके घर में आएगी वह आपके घर में आपके बच्चों में बांटेगी आपके परिवार में खुशियां देगी और उसका पैसा तो वह लोग नहीं मानते हैं और आप अपने लड़के को पढ़ाने के लिए जो खर्च किया है उसके लिए आप पैसा की बात करते हो तो आपकी सोच बहुत खराब है ऐसी सोच के कारण ही आज देश में दहेज प्रथा अभी तक चली है और इससे बहुत सारी लड़कियों के साथ गलत हो रहा है दोस्त अपनी सोच को बदलिए देश बदलेगा धन्यवाद मित्र जय हिंद
Namaskaar doston ek mitr ka savaal hai ki jab tak hotee hai ki dahej lena galat hai to kya phir padha-likha dhoondhana sahee hai kya ladakee ke pita ko ladake mein padhaane mein paisa nahin lagata to dost aapakee soch bahut kharaab hai meree baat aapako buree lagegee lekin jisane bhee yah savaal poochha hai usakee soch bahut kharaab hai kyonki aap kah rahe ho ki dahej lena galat hai to padha-likha ladaka jee bilkul bada ladaka ladaka insaan har aadamee se tootata hai ki vah apane dam par apane pairon par khada hokar aatmanirbhar banega aur aage usaka bhavishy kyon rahega usakee ladakee dena chaahata hai us ladakee kee laiph bhee sikyor rahegee to aapako bata den aapane poochha hai ki ladake mein padhaane mein paisa lagata hai to kya vah paisa ladakee vaalon se vasool kiya jaana chaahie kya aap ladakee vaalon se poochh kar apane ladake ko padha rahe ho ki main kitana padha hoon tumhaaree ladakee ke lie nahin aap apane ladakee ladakee ko padha rahe ho to apane phyoochar ke lie padha rahe ho aap parivaar kee khushiyon ke lie padha rahe usako best phyoochar ke lie usakee brait phyoochar ke lie aap use padha rahe ho kyon apana haath mein vinirmaan band kar berojagaaree se nahin ladega vah padh likhakar achchha aadamee banega achchha sanskaar aaega to aapake parivaar ka naam roshan hoga aap us ladakee ke lie use nahin padha rahe ho jo use jodane vaalee hai aur aur kshama karana mitr jo ladakee aapake ghar mein dulhan banakar aaegee jise aap dahej kee maang kar rahe ho vah ladakee kya anapadh hai us ladakee ko bhee padhaane likhaane mein paalane pahunchane mein paisa laga hai usake maan-baap ne bhee bahut mehanat karake use padhaaya likhaaya aur tamaam gun aur sab kuchh sikha kar aapake ghar bhej diya aur oopar se usake lie paise bhee die are aapako to aapako khush ho jaana chaahie aapako us ladakee ko jindagee bhar ke lie usako apane maan-baap se alag apane parivaar apane dost mitron se apane rishtedaaron se alag karake aap unhen apane paas lekar aate ho aur naukaraanee kee tarah aapake ghar mein har vyakti ke khushiyon ka vah dhyaan rakhatee hai usake baavajood aap usake maan-baap se paise maangate ho aur bol rahe ho ki ladakee kee padhaee paisa laga hai to padh is tarah se to dekha jae to aap ladake vaalon ko ladakee vaalon ko paisa dena chaahie kyonki jo ladakee padh lekar aapake ghar mein aaegee usakee saaree shiksha usakee saaree sanskaar aapake kaam aaenge aap apane ladake ko main padhaane mein jo paisa lagae ho vah aapake ladake ka padhaee likhaee aapake saath unake sanskaar aapake kaam aaenge ladakee vaalon ke kaam nahin aaenge aur ladakee jo padh lee ke sanskaar se ke jo kursee ke aapake ghar mein aaegee vah aapake ghar mein aapake bachchon mein baantegee aapake parivaar mein khushiyaan degee aur usaka paisa to vah log nahin maanate hain aur aap apane ladake ko padhaane ke lie jo kharch kiya hai usake lie aap paisa kee baat karate ho to aapakee soch bahut kharaab hai aisee soch ke kaaran hee aaj desh mein dahej pratha abhee tak chalee hai aur isase bahut saaree ladakiyon ke saath galat ho raha hai dost apanee soch ko badalie desh badalega dhanyavaad mitr jay hind

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • समाज किसे कहते है..क्या देहज लेना क़ानूनी अपराद है ?
URL copied to clipboard