#जीवन शैली

bolkar speaker

तन और मन में किस की संतुष्टि बेहतर होती है उसके बेहतर होने के पीछे क्या कारण है?

Tan Aur Man Mei Kis Ki Santushti Behtar Hoti Hai Uske Behtar Hone Ke Peche Kya Karan Hai
ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
0:46
सवाल पूछा गया है तन और मन में किसके संतुष्टि बेहतर है और उसके बेहतर होने के पीछे का क्या कारण है देखो तन की संतुष्टि तो बहुत आसानी से मिल जाती पर मन की संतुष्टि मिलना बहुत ही मुश्किल है और अगर आप मेरे मन में संतुष्टि आप अपने जीवन से संतुष्ट है आप जहां रह रहे हैं उस जगह से संतुष्ट आप जो कर रहे हैं उस काम से संतुष्ट तुझसे बड़ी संतुष्टि आपको जीवन में कभी नहीं मिल सकती क्योंकि असल में अगर आपका मन खुश है मन संतुष्ट है तब हर जगह में हर माहौल में आसानी से रह सकते लेकिन अगर आपका मन संतुष्ट नहीं है तो लाखों सुख-सुविधाओं के बाद भी आप में एक अलग सी बेचैनी रहेगी उम्मीद करती हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai tan aur man mein kisake santushti behatar hai aur usake behatar hone ke peechhe ka kya kaaran hai dekho tan kee santushti to bahut aasaanee se mil jaatee par man kee santushti milana bahut hee mushkil hai aur agar aap mere man mein santushti aap apane jeevan se santusht hai aap jahaan rah rahe hain us jagah se santusht aap jo kar rahe hain us kaam se santusht tujhase badee santushti aapako jeevan mein kabhee nahin mil sakatee kyonki asal mein agar aapaka man khush hai man santusht hai tab har jagah mein har maahaul mein aasaanee se rah sakate lekin agar aapaka man santusht nahin hai to laakhon sukh-suvidhaon ke baad bhee aap mein ek alag see bechainee rahegee ummeed karatee hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
तन और मन में किस की संतुष्टि बेहतर होती है उसके बेहतर होने के पीछे क्या कारण है?Tan Aur Man Mei Kis Ki Santushti Behtar Hoti Hai Uske Behtar Hone Ke Peche Kya Karan Hai
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Life coach
2:58
कृष्ण है तन और मन में किस की संतुष्टि बेहतर है उसके बेहतर होने के पीछे क्या कारण है तो जो हंड्रेड परसेंट में 97% लोग हैं तन की संतुष्टि के लिए तुझे ही पता ही नहीं है कि वह कहां भाग रहे हैं उन्हें लगता है कि मन की संतुष्टि तन की संतुष्टि ही है वह इसलिए भक्ति लेकिन जब जो समझदार व्यक्ति अपनी लाइफ में देखना समझ समझना देखना शुरु करते हैं वह लोग देख पाते हैं कि मन की संतुष्टि सबसे ज्यादा बेहतरीन मना कर शांत रहेगा तो हम तन से अर्थात बाहर के लेवल से बहुत अच्छे से कार्य कर पाएंगे तो जी परसेंट लोग हैं मन की संतुष्टि के पीछे भागते कारण है कि जैसे एग्जांपल फॉर में मैं हमेशा मन की संतुष्टि की संतुष्टि तो मिल ही जाएगी लेकिन मन की संतुष्टि अगर मिल गई तो आपको धमकी भी मिल जाती है तो मैंने अपने मन को जाना शुरु किया रिसर्च करना शुरू किया तब मुझे झुमरू होता है वह कस्तूरी की खुशबू ढूंढते ढूंढते हैं दूर-दूर तड़पता है उसकी खुशबू उसी के अंदर जाती है अनकंडीशनल लव का भंडार होता है इंसान नाईट होता है वह किसी और के अंदर नहीं होता पूरे लोग इधर के लिए भटकते हैं ना तो क्यों भटकते हैं वह इसलिए भटकती है क्योंकि वह सिर्फ उन्हीं के अंदर है जिसे ब्लॉक भटकता है कढ़ी की कढ़ी और कढ़ी खुशबू सी के अंदर रहती है वैसे ही फिर मैंने अपने आप को यह रिसर्च किया और जाना मेरे ही अंदर पुस्तक भंडार है और ब्रह्मांड कहीं और भी हमारे ही अंदर है और जो भी मैंने एग्जांपल फॉर वजह से गीता रामायण की सारी चीजें जो हुई है जो भी हमारी ग्रंथों में लिखा है यह कहानी है जैसे गीता समुद्र मंथन के बारे में हमने सुना है और यह हमारे ही अंदर हुआ इस चीज को मैंने बहुत रिसर्च किया कभी आप लोगों से शेयर करूंगी अपनी बीवी और वीडियोस में ठीक है सॉरी तू यह सारी चीजें जो घटनाएं हमारे अंदर ही होती है इस चीज को समझने में बहुत टाइम तो लगा लेकिन यह किस चीज को मैं नहीं समझते तो यह जरूरी है यार कि मन की संतुष्टि बहुत ज्यादा जरूरी है अगर हमारा मन शांत रहा इसमें रहे तो हम क्या करेंगे जितना खुद को प्यार करती हो उतना अल्लाह सबको स्प्रेड भी करेंगे हमारे अंदर से गुस्साए ईगो जाने से यह भावना ही खत्म हो जाएंगे यही कारण होता है कि स्वयं को बेहतरीन बनाने के पीछे भागोगे ना देखना आपको फाइनैंशल लेवल में भी स्टेबिलिटी मिलेगी और मन अगर शांत होता है ना तो देखना आपकी बॉडी में भी ग्रोथ होगा आपके चेहरे में भी लिखा कि आप अपने आप में सुधार कर रहे हैं अपने आपको प्योर कर रहे हैं तो जब आप अपने अंदर गंगा की तरह पवित्र स्थान आएंगे तो आप मन से भी उत्तम से भी दोनों में खूबसूरत
Krshn hai tan aur man mein kis kee santushti behatar hai usake behatar hone ke peechhe kya kaaran hai to jo handred parasent mein 97% log hain tan kee santushti ke lie tujhe hee pata hee nahin hai ki vah kahaan bhaag rahe hain unhen lagata hai ki man kee santushti tan kee santushti hee hai vah isalie bhakti lekin jab jo samajhadaar vyakti apanee laiph mein dekhana samajh samajhana dekhana shuru karate hain vah log dekh paate hain ki man kee santushti sabase jyaada behatareen mana kar shaant rahega to ham tan se arthaat baahar ke leval se bahut achchhe se kaary kar paenge to jee parasent log hain man kee santushti ke peechhe bhaagate kaaran hai ki jaise egjaampal phor mein main hamesha man kee santushti kee santushti to mil hee jaegee lekin man kee santushti agar mil gaee to aapako dhamakee bhee mil jaatee hai to mainne apane man ko jaana shuru kiya risarch karana shuroo kiya tab mujhe jhumaroo hota hai vah kastooree kee khushaboo dhoondhate dhoondhate hain door-door tadapata hai usakee khushaboo usee ke andar jaatee hai anakandeeshanal lav ka bhandaar hota hai insaan naeet hota hai vah kisee aur ke andar nahin hota poore log idhar ke lie bhatakate hain na to kyon bhatakate hain vah isalie bhatakatee hai kyonki vah sirph unheen ke andar hai jise blok bhatakata hai kadhee kee kadhee aur kadhee khushaboo see ke andar rahatee hai vaise hee phir mainne apane aap ko yah risarch kiya aur jaana mere hee andar pustak bhandaar hai aur brahmaand kaheen aur bhee hamaare hee andar hai aur jo bhee mainne egjaampal phor vajah se geeta raamaayan kee saaree cheejen jo huee hai jo bhee hamaaree granthon mein likha hai yah kahaanee hai jaise geeta samudr manthan ke baare mein hamane suna hai aur yah hamaare hee andar hua is cheej ko mainne bahut risarch kiya kabhee aap logon se sheyar karoongee apanee beevee aur veediyos mein theek hai soree too yah saaree cheejen jo ghatanaen hamaare andar hee hotee hai is cheej ko samajhane mein bahut taim to laga lekin yah kis cheej ko main nahin samajhate to yah jarooree hai yaar ki man kee santushti bahut jyaada jarooree hai agar hamaara man shaant raha isamen rahe to ham kya karenge jitana khud ko pyaar karatee ho utana allaah sabako spred bhee karenge hamaare andar se gussae eego jaane se yah bhaavana hee khatm ho jaenge yahee kaaran hota hai ki svayan ko behatareen banaane ke peechhe bhaagoge na dekhana aapako phainainshal leval mein bhee stebilitee milegee aur man agar shaant hota hai na to dekhana aapakee bodee mein bhee groth hoga aapake chehare mein bhee likha ki aap apane aap mein sudhaar kar rahe hain apane aapako pyor kar rahe hain to jab aap apane andar ganga kee tarah pavitr sthaan aaenge to aap man se bhee uttam se bhee donon mein khoobasoorat

bolkar speaker
तन और मन में किस की संतुष्टि बेहतर होती है उसके बेहतर होने के पीछे क्या कारण है?Tan Aur Man Mei Kis Ki Santushti Behtar Hoti Hai Uske Behtar Hone Ke Peche Kya Karan Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:05
रेगिस्तान की संतुष्टि और मन की संतुष्टि की दोनों अलग-अलग चीजें माने जब संतुष्ट होता है तो उसको सांसारिक था बिल्कुल बेकार लगती है और तन की संतुष्टि के लिए कहीं हो सेक्स चाहता है कहीं अच्छे बहुजन चाहता है करिश्मा समाज में मान-सम्मान चाहता है रंग गोरा चाहता है कहीं वह अपना आकर्षण दिखाना चाहता है कहीं और लोगों के बीच में अब तो बनना चाहता है तो यह जो है यह जो की प्रक्रिया हेलो की प्रक्रिया है मनुष्य को उसके काम क्रोध मद और लोभ मोह इन सब से जुड़े रहते हैं लेकिन जो मन से जो सुंदर आपका होगा आपके अंदर विनम्रता होगी आपके अंदर लोगों को सम्मान करने की भावना हो गए आपके आपके अंदर विद्युत आओगी आप अच्छी सी चीजों से पड़ेंगे भगवान पर भरोसा रखेंगे कि अमन की जो जो सुंदरता है उमर कि जब संतुष्टि हो जाएगी और मन की संतुष्टि कैसे होगी कि कर्मण्ए वाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन आप अपना कर्म कीजिए और फल की इच्छा ना कीजिए फलों भगवान को तो छोड़ दी जिस दिन आपने ज्ञान प्राप्त कर लिया उस दिन आपके मन की संतुष्टि पूरी हो जाएगी और टंकी संतुष्टि तो आज तक इस जीवन में कभी कोई नहीं कर पाया
Registaan kee santushti aur man kee santushti kee donon alag-alag cheejen maane jab santusht hota hai to usako saansaarik tha bilkul bekaar lagatee hai aur tan kee santushti ke lie kaheen ho seks chaahata hai kaheen achchhe bahujan chaahata hai karishma samaaj mein maan-sammaan chaahata hai rang gora chaahata hai kaheen vah apana aakarshan dikhaana chaahata hai kaheen aur logon ke beech mein ab to banana chaahata hai to yah jo hai yah jo kee prakriya helo kee prakriya hai manushy ko usake kaam krodh mad aur lobh moh in sab se jude rahate hain lekin jo man se jo sundar aapaka hoga aapake andar vinamrata hogee aapake andar logon ko sammaan karane kee bhaavana ho gae aapake aapake andar vidyut aaogee aap achchhee see cheejon se padenge bhagavaan par bharosa rakhenge ki aman kee jo jo sundarata hai umar ki jab santushti ho jaegee aur man kee santushti kaise hogee ki karmane vaadhikaaraste ma phaleshu kadaachan aap apana karm keejie aur phal kee ichchha na keejie phalon bhagavaan ko to chhod dee jis din aapane gyaan praapt kar liya us din aapake man kee santushti pooree ho jaegee aur tankee santushti to aaj tak is jeevan mein kabhee koee nahin kar paaya

bolkar speaker
तन और मन में किस की संतुष्टि बेहतर होती है उसके बेहतर होने के पीछे क्या कारण है?Tan Aur Man Mei Kis Ki Santushti Behtar Hoti Hai Uske Behtar Hone Ke Peche Kya Karan Hai
A.k.s. Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए A.k.s. जी का जवाब
Teacher
2:41
तन और मन में अगर हमें किसी के घर संतुष्टि करनी है हमें चाहिए मन की संतुष्टि करना इसलिए मन जो होता है वह हमारे शरीर से कार्य करवाता है हमारे शरीर के ऊपर मन हमेशा रहता है जो मन कहता है वही हमारा शरीर कार्य करता है हमारे मन में चलता है यह को करना है या फिर हमारे मन में जो लालच आता है उसी का इंजॉय करता है दर्द सहना पड़ता है नीचे ही पड़ती है उनके अधिकार होता है जो है मन के अधीन है और मन जो कहता है वही करता है जो है हमको हर तरह से संतुष्ट करके बचा जा सकता है लेकिन शरीर जो है वह मन के अधीन जब होती है तो मन उससे अनेकों प्रकार के अच्छे और बुरे कार्य करवाता है ऐसे में जो कष्ट या सुख जो भी मिलता है वह हमारे शरीर को ही मिलता है ना कि मन को मन का क्या है मन एक ऐसा अंधा होता है जिसे कभी भी भरा नहीं जा सकता है मगर हम कोई भी चीज खाते हैं पीते हैं तन मन जो है वह दूसरी चीज के लिए और चेष्टा करने लगता है उस चीज भर गया फिर आप दूसरी चीज की ओर अग्रसर हो जाते हैं कि आपको नींद आने लगती है या फिर आप और किसी कार्य में लग जाते हैं आपको दूसरा दे देता है उसको छोड़ कर के हमें अगर अपने मन को कंट्रोल करने और मन को संतुष्ट कर कर लें जिससे हमारा शरीर जो है वह ऑटोमेटिक लीवर संतुष्ट हो जाएगा इसलिए जो हमारे शरीर को चलाने वाला है जो कार्यवाहक नेता है हम हमें जो चाहिए कि उस नेता को कंट्रोल होना चाहिए जो लीडर है तो मन हमारे शरीर का लीडर होता है जो मन कहता है वही करता है तो मन को कंट्रोल कर के मन को संतोष करके हम अपने शरीर को संतुष्टि प्रदान कर सकते हैं इसलिए हमें चाहिए हमेशा मन के पिछले गाने से बल्कि मन को कंट्रोल करके हमेशा अपने को संतुष्ट करने के लिए मन को काबू करना चाहिए ऑटोमैटिक कि हमारी तन को जो है संतुष्टि मिल जाएगी धन्यवाद
Tan aur man mein agar hamen kisee ke ghar santushti karanee hai hamen chaahie man kee santushti karana isalie man jo hota hai vah hamaare shareer se kaary karavaata hai hamaare shareer ke oopar man hamesha rahata hai jo man kahata hai vahee hamaara shareer kaary karata hai hamaare man mein chalata hai yah ko karana hai ya phir hamaare man mein jo laalach aata hai usee ka injoy karata hai dard sahana padata hai neeche hee padatee hai unake adhikaar hota hai jo hai man ke adheen hai aur man jo kahata hai vahee karata hai jo hai hamako har tarah se santusht karake bacha ja sakata hai lekin shareer jo hai vah man ke adheen jab hotee hai to man usase anekon prakaar ke achchhe aur bure kaary karavaata hai aise mein jo kasht ya sukh jo bhee milata hai vah hamaare shareer ko hee milata hai na ki man ko man ka kya hai man ek aisa andha hota hai jise kabhee bhee bhara nahin ja sakata hai magar ham koee bhee cheej khaate hain peete hain tan man jo hai vah doosaree cheej ke lie aur cheshta karane lagata hai us cheej bhar gaya phir aap doosaree cheej kee or agrasar ho jaate hain ki aapako neend aane lagatee hai ya phir aap aur kisee kaary mein lag jaate hain aapako doosara de deta hai usako chhod kar ke hamen agar apane man ko kantrol karane aur man ko santusht kar kar len jisase hamaara shareer jo hai vah otometik leevar santusht ho jaega isalie jo hamaare shareer ko chalaane vaala hai jo kaaryavaahak neta hai ham hamen jo chaahie ki us neta ko kantrol hona chaahie jo leedar hai to man hamaare shareer ka leedar hota hai jo man kahata hai vahee karata hai to man ko kantrol kar ke man ko santosh karake ham apane shareer ko santushti pradaan kar sakate hain isalie hamen chaahie hamesha man ke pichhale gaane se balki man ko kantrol karake hamesha apane ko santusht karane ke lie man ko kaaboo karana chaahie otomaitik ki hamaaree tan ko jo hai santushti mil jaegee dhanyavaad

bolkar speaker
तन और मन में किस की संतुष्टि बेहतर होती है उसके बेहतर होने के पीछे क्या कारण है?Tan Aur Man Mei Kis Ki Santushti Behtar Hoti Hai Uske Behtar Hone Ke Peche Kya Karan Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
2:28
भैया आपका प्रश्न तन और मन में किस-किस संतुष्टि बेहतर होती है उसके बेहतर होने के पीछे क्या कारण है देखिए तन और मन में जो है वह 1 सप्ताह है अपने आप में समझे आपने परिपूर्ण सकता और वह हिंदुओं का एक तरह से पूरा पांच इंद्रियां जो है उनका घर है और एक सीमा तक उसकी संतुष्टि आवश्यक भी होती है और इनका स्वामी जो है मर जाने के लिए कहीं कीर्तन की कुछ समस्याओं को आवश्यक है इसे भूखे प्यासे वासना है काम है क्रोध मद लोभ है लेकिन मन से खुश रखता है समझे आपने इसलिए मन की संतुष्टि तन की संतुष्टि पर प्रभावी मानी जा सकती है जन मन चंगा तो कठौती में गंगा वाली जो बात कही गई है वह मन ही इसीलिए मन को इंद्रियों का स्वामी कहा गया है समझे आप ना तो मन संतुष्ट हो जाए तो तनख्वा संतुष्ट होना बहुत कठिन नहीं होता है लेकिन जब मन संतोषी माता के तंतु संतुष्टि हुई है फिर एंजॉय निष्प्रभावी हो जाती है आदमी अपने मन की संतुष्टि के लिए तन से ऊपर उठकर दूसरों का स्पेशल शुरू करता है इसलिए तन और मन में किस की संतुष्टि बेहतर होती तो निश्चित रूप से मानकर संतुष्ट होना आवश्यक है अगर मन संतुष्ट हो गया तो तन को वशीभूत करके संतुष्ट कर लेता है लगी तन की कुछ मूलभूत आवश्यकताएं हैं लेकिन मंजू है उन्हें फिर यह सीमा में रखता है और उसे बाहर नहीं जाने देता है लेकिन जब मन संतुष्ट नहीं होता है तो आदमी को भगवान भी देवता भी बना सकता और राक्षसी बना सकता है इसलिए मेरे विचार से मन की संतुष्टि भी ज्यादा अच्छी है जो सब के ऊपर हम खुश रख सकता है स्वयं संतुष्ट होने पर और ऐसे ही व्यक्ति को गोस्वामी कहा जाता है और हमारे महापुरुष जो है इन्हें गोसवामी यों की कैटेगरी में आते हैं जो अपने मन को संतुष्टि करते हैं और दूसरों को शिक्षा देते
Bhaiya aapaka prashn tan aur man mein kis-kis santushti behatar hotee hai usake behatar hone ke peechhe kya kaaran hai dekhie tan aur man mein jo hai vah 1 saptaah hai apane aap mein samajhe aapane paripoorn sakata aur vah hinduon ka ek tarah se poora paanch indriyaan jo hai unaka ghar hai aur ek seema tak usakee santushti aavashyak bhee hotee hai aur inaka svaamee jo hai mar jaane ke lie kaheen keertan kee kuchh samasyaon ko aavashyak hai ise bhookhe pyaase vaasana hai kaam hai krodh mad lobh hai lekin man se khush rakhata hai samajhe aapane isalie man kee santushti tan kee santushti par prabhaavee maanee ja sakatee hai jan man changa to kathautee mein ganga vaalee jo baat kahee gaee hai vah man hee iseelie man ko indriyon ka svaamee kaha gaya hai samajhe aap na to man santusht ho jae to tanakhva santusht hona bahut kathin nahin hota hai lekin jab man santoshee maata ke tantu santushti huee hai phir enjoy nishprabhaavee ho jaatee hai aadamee apane man kee santushti ke lie tan se oopar uthakar doosaron ka speshal shuroo karata hai isalie tan aur man mein kis kee santushti behatar hotee to nishchit roop se maanakar santusht hona aavashyak hai agar man santusht ho gaya to tan ko vasheebhoot karake santusht kar leta hai lagee tan kee kuchh moolabhoot aavashyakataen hain lekin manjoo hai unhen phir yah seema mein rakhata hai aur use baahar nahin jaane deta hai lekin jab man santusht nahin hota hai to aadamee ko bhagavaan bhee devata bhee bana sakata aur raakshasee bana sakata hai isalie mere vichaar se man kee santushti bhee jyaada achchhee hai jo sab ke oopar ham khush rakh sakata hai svayan santusht hone par aur aise hee vyakti ko gosvaamee kaha jaata hai aur hamaare mahaapurush jo hai inhen gosavaamee yon kee kaitegaree mein aate hain jo apane man ko santushti karate hain aur doosaron ko shiksha dete

bolkar speaker
तन और मन में किस की संतुष्टि बेहतर होती है उसके बेहतर होने के पीछे क्या कारण है?Tan Aur Man Mei Kis Ki Santushti Behtar Hoti Hai Uske Behtar Hone Ke Peche Kya Karan Hai
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
1:08
हाय फ्रेंड्स क्वेश्चन पूछा गया है कि तन और मन में किस की संतुष्टि ज्योति हैं बेहतर होती हैं उसके बेहतर होने के पीछे क्या कारण होते हैं किसी भी जो व्यक्ति के तन और मन होता है उसकी चुने आपको संख्या तो अंग के रूप में होता है क्योंकि अगर किसी व्यक्ति का तन अगर अच्छा हुआ और उसका मन भी अच्छा तू हर किसी को के देख प्रति जो है वह अगर व्यवहार अच्छा लगता है तो वह जो होता है हर किसी को सुख दे सकता है और समृद्धि दे सकता है और साथ ही साथ उसके साथ रहने वाले व्यक्ति जो है उसके साथ खुश रह सकते हैं इन दोनों में से एक को चुनना भी हो तो ज्यादातर जो है मन की जो जो भी जो होती है संतुष्टि कोशिश चुनिया जो होता है सार्थक होता है कि किसी व्यक्ति के अंदर अंदर जो हैं अगर तन्हा जाओ लेकिन अगर उसका मन जो है ग्रुप को बोलता हो या किसी के प्रति अच्छा व्यवहार नहीं करता है तो वह जो निरर्थक हो जाता है उसके साथ रहने वाले व्यक्ति कभी भी सोते हैं खुश नहीं रह पाएंगे
Haay phrends kveshchan poochha gaya hai ki tan aur man mein kis kee santushti jyoti hain behatar hotee hain usake behatar hone ke peechhe kya kaaran hote hain kisee bhee jo vyakti ke tan aur man hota hai usakee chune aapako sankhya to ang ke roop mein hota hai kyonki agar kisee vyakti ka tan agar achchha hua aur usaka man bhee achchha too har kisee ko ke dekh prati jo hai vah agar vyavahaar achchha lagata hai to vah jo hota hai har kisee ko sukh de sakata hai aur samrddhi de sakata hai aur saath hee saath usake saath rahane vaale vyakti jo hai usake saath khush rah sakate hain in donon mein se ek ko chunana bhee ho to jyaadaatar jo hai man kee jo jo bhee jo hotee hai santushti koshish chuniya jo hota hai saarthak hota hai ki kisee vyakti ke andar andar jo hain agar tanha jao lekin agar usaka man jo hai grup ko bolata ho ya kisee ke prati achchha vyavahaar nahin karata hai to vah jo nirarthak ho jaata hai usake saath rahane vaale vyakti kabhee bhee sote hain khush nahin rah paenge

bolkar speaker
तन और मन में किस की संतुष्टि बेहतर होती है उसके बेहतर होने के पीछे क्या कारण है?Tan Aur Man Mei Kis Ki Santushti Behtar Hoti Hai Uske Behtar Hone Ke Peche Kya Karan Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:31
आकाश आवाज है कि तन और मन में किस की संतुष्टि बेहतर होती है और उसके बेहतर होने के पीछे क्या कारण है तो मेरे विचार में तो हमेशा से ही मन की संतुष्टि होना बेहद जरूरी होता है क्योंकि अगर आप मन से संतुष्ट हैं तो आपका दिमाग शांत रहेगा आप हर एक चीज को हर एक परिस्थिति को हर एक क्वेश्चन को अच्छे तरीके से सोच पाएंगे समझ पाएंगे किस प्रॉब्लम को कैसे टैकल करना है कैसे डील करना है किस व्यक्ति के साथ में किस सिचुएशन के साथ में आप अच्छे से समझ पाएंगे इसलिए मन से संतुष्ट होना बेहद जरूरी होता है आपका दिन शुभ रहे थे नेपाल
Aakaash aavaaj hai ki tan aur man mein kis kee santushti behatar hotee hai aur usake behatar hone ke peechhe kya kaaran hai to mere vichaar mein to hamesha se hee man kee santushti hona behad jarooree hota hai kyonki agar aap man se santusht hain to aapaka dimaag shaant rahega aap har ek cheej ko har ek paristhiti ko har ek kveshchan ko achchhe tareeke se soch paenge samajh paenge kis problam ko kaise taikal karana hai kaise deel karana hai kis vyakti ke saath mein kis sichueshan ke saath mein aap achchhe se samajh paenge isalie man se santusht hona behad jarooree hota hai aapaka din shubh rahe the nepaal

bolkar speaker
तन और मन में किस की संतुष्टि बेहतर होती है उसके बेहतर होने के पीछे क्या कारण है?Tan Aur Man Mei Kis Ki Santushti Behtar Hoti Hai Uske Behtar Hone Ke Peche Kya Karan Hai
Ram Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Fhoramen
0:05
ऐसा कौन सा चीज है शादी में दिखाई नहीं देता

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • तन और मन में किस की संतुष्टि बेहतर होती है तन और मन
URL copied to clipboard