#जीवन शैली

bolkar speaker

क्यों मनुष्य को सुख-दुख ईश्वर स्वयं देता है?

Kyun Manushya Ko Sukh Dukh Ishvar Svayam Deta Hai
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:31
है कि आपने प्रश्न उठता है कि मनुष्य को सुख दुख एक्सरसाइज बताएं देखें आपके यहां ध्यान देने की बात यह है कि रिसोर्ट आपके कर्मों का फल है तो दोगे सर का प्रकोप क्यों वास्तव में ऐसा तो कभी अपने भक्तों पर कुपित होते ही नहीं है जिस तरह मनुष्य अपनी संतान की रक्षा हरकतें करता है उसी तरह इस साल भी अपने भक्तों को दुखों से बचाने के लिए सक्रिय हो जाते हैं
Hai ki aapane prashn uthata hai ki manushy ko sukh dukh eksarasaij bataen dekhen aapake yahaan dhyaan dene kee baat yah hai ki risort aapake karmon ka phal hai to doge sar ka prakop kyon vaastav mein aisa to kabhee apane bhakton par kupit hote hee nahin hai jis tarah manushy apanee santaan kee raksha harakaten karata hai usee tarah is saal bhee apane bhakton ko dukhon se bachaane ke lie sakriy ho jaate hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्यों मनुष्य को सुख-दुख ईश्वर स्वयं देता है?Kyun Manushya Ko Sukh Dukh Ishvar Svayam Deta Hai
lalit Netam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lalit जी का जवाब
Unknown
2:58
का सवाल है क्यों मनुष्य को सुख दुख ईश्वर स्वयं देता है तो क्या जवाब है लोग बोलते हैं ना कि ईश्वर हमें सुख दे रहा है हमें यह दे रहा है तू तेरा है इसका जवाब है एक बात बताओ अगर भगवान हमारी भाग्य लिखता ना हम सभी लोगों का भाग्य लिखता तो कितना सुंदर भाग्य होते हैं भगवान हमारे भाग्य लिखें इतना सुंदर भाग्य होता है आप खुद सोच लेना भगवान हमारे क्यों इतना सब कुछ दुख देगा यार भगवान अगर हमारा भाग्य लिखता तो कितना सुंदर हो भाग्य ले लेकिन ऐसा नहीं है भगवान हमारा भाग्य नहीं लिखता यह बात आप याद रख लो भगवान हमारा भाग्य नहीं लिखता यार हमारे कर्म हमारे सोच हमारी भाग यानी कि हम खुद भाग्य लिख रहे हैं भगवान ने वह कलम हमारे हाथों में रख दी है ठीक है मैं आपको बता दूं हमसे भी कार्टून है और हमारी जो परमपिता परमात्मा भगवान जो वह भी रात में परमपिता परमात्मा तो भगवान हम सभी को इस धरती पर क्यों भेजा आपने अपना पाठ करने के लिए और हम सभी एक आत्मा रात में तेरी को चलाती है तो यह मत सोचो कि हम से मनुष्य शरीर है इसे भी का भूल जाओ सही कौन चलाने वाली कार तो मैं हम सभी रात में आई शरीर शरीर के माध्यम से कर्म करे को अच्छा सोच रहा अच्छा कर रहे हैं लोग बार भला करें पूरा करें तो उसका फल अमेजन में मिल रहा है या फिर अगले जनम में भुगतना पड़ा जो भी आपको सुख दुख मिल रहा है ना यार वह फास्ट फास्ट जन्म है ना पिछले जन्म का फल है वह यह मत सोचो कि भगवान आपको सुख दुख दे रहा है वह आपके कर्मों का फल है इसलिए आपको मिल रहा है धरती पर धरती पर आपकी लाइफ में आपका भाग्य आप खुद लिखते हो आपकी पालय कलां की कहानी की लकी कलम आपके हाथों में है आपकी सोच आप जो सोच रहे हो वैसा आपको मिलने वाला है तो यह मत सोच कि भगवान हमारे भाग्य लिखते हैं भगवान हमारा भाग्य नहीं लिखते हम अपना भाग्य लिख रहे हैं अपनी सोच से अपने कर्मों के हिसाब से अपना भाग्य लिख रहे हैं हर पल हर सेकंड आप जो भी सोच रहे उसका प्रभाव पड़ता है आपकी लाइफ में तो अच्छा सोचो अच्छा कर्म करो आपका हां जी आप खुद लिख रहे हो हर पल हर सके यह भूल जाओ कि भगवान हमें सुख-दुख दिखता है आप खुद आकर खुद प्यारी आप जो कर्म की हो ना कुछ कर्मों का फल आप भुगत रहे हो इस जनम में मिल रहे हैं पिछले दिनों में आपने जो भी कर्म किए वह उसी का फल है इस दिन में आपको मिल जाए अगर आपको जानना कि पूछ लेना मैं आपने क्या-क्या कर्म किए थे आप कौन थी पिछले में आप लड़का के लड़की थी तो आप पास्ट लाइफ रिग्रेशन करा करा सकते हैं उनके बारे में अगर आपको जानकारी चाहिए पास्ट लाइफ रिग्रेशन क्या है इसके माध्यम से आप पीछे ना मैं भी जा सकते हो के बारे में जानना चाहते तो गूगल कीजिए कि पास्ट लाइफ रिग्रेशन क्या होता है पिछले साल में आप कैसे जा सकते हो पिछले जन्म में कौन थे क्योंकि आप कैसे पता करते तो आप जाकर किसी जो भी ब्रिटेन में होते हैं ना वहां पर गूगल पर सर्च कर आपको हमें डिटेल मिल जाएगी पास्ट लाइफ रिग्रेशन है वहां का पता कर सकता मैं आपको भी शुभ दुकान है वह हमारे कर्मों का ही फल है हमने पिछले दिनों में कुछ कोई कम कोई ना कोई कर्म की थी उसी का फल हम इस जन्म में मिल रहा है ठीक है अब अभी जो कर्म करो उसका फल आपको आने वाले टाइम में आपको मिलने वाले तो अच्छे कर्म की सूची
Ka savaal hai kyon manushy ko sukh dukh eeshvar svayan deta hai to kya javaab hai log bolate hain na ki eeshvar hamen sukh de raha hai hamen yah de raha hai too tera hai isaka javaab hai ek baat batao agar bhagavaan hamaaree bhaagy likhata na ham sabhee logon ka bhaagy likhata to kitana sundar bhaagy hote hain bhagavaan hamaare bhaagy likhen itana sundar bhaagy hota hai aap khud soch lena bhagavaan hamaare kyon itana sab kuchh dukh dega yaar bhagavaan agar hamaara bhaagy likhata to kitana sundar ho bhaagy le lekin aisa nahin hai bhagavaan hamaara bhaagy nahin likhata yah baat aap yaad rakh lo bhagavaan hamaara bhaagy nahin likhata yaar hamaare karm hamaare soch hamaaree bhaag yaanee ki ham khud bhaagy likh rahe hain bhagavaan ne vah kalam hamaare haathon mein rakh dee hai theek hai main aapako bata doon hamase bhee kaartoon hai aur hamaaree jo paramapita paramaatma bhagavaan jo vah bhee raat mein paramapita paramaatma to bhagavaan ham sabhee ko is dharatee par kyon bheja aapane apana paath karane ke lie aur ham sabhee ek aatma raat mein teree ko chalaatee hai to yah mat socho ki ham se manushy shareer hai ise bhee ka bhool jao sahee kaun chalaane vaalee kaar to main ham sabhee raat mein aaee shareer shareer ke maadhyam se karm kare ko achchha soch raha achchha kar rahe hain log baar bhala karen poora karen to usaka phal amejan mein mil raha hai ya phir agale janam mein bhugatana pada jo bhee aapako sukh dukh mil raha hai na yaar vah phaast phaast janm hai na pichhale janm ka phal hai vah yah mat socho ki bhagavaan aapako sukh dukh de raha hai vah aapake karmon ka phal hai isalie aapako mil raha hai dharatee par dharatee par aapakee laiph mein aapaka bhaagy aap khud likhate ho aapakee paalay kalaan kee kahaanee kee lakee kalam aapake haathon mein hai aapakee soch aap jo soch rahe ho vaisa aapako milane vaala hai to yah mat soch ki bhagavaan hamaare bhaagy likhate hain bhagavaan hamaara bhaagy nahin likhate ham apana bhaagy likh rahe hain apanee soch se apane karmon ke hisaab se apana bhaagy likh rahe hain har pal har sekand aap jo bhee soch rahe usaka prabhaav padata hai aapakee laiph mein to achchha socho achchha karm karo aapaka haan jee aap khud likh rahe ho har pal har sake yah bhool jao ki bhagavaan hamen sukh-dukh dikhata hai aap khud aakar khud pyaaree aap jo karm kee ho na kuchh karmon ka phal aap bhugat rahe ho is janam mein mil rahe hain pichhale dinon mein aapane jo bhee karm kie vah usee ka phal hai is din mein aapako mil jae agar aapako jaanana ki poochh lena main aapane kya-kya karm kie the aap kaun thee pichhale mein aap ladaka ke ladakee thee to aap paast laiph rigreshan kara kara sakate hain unake baare mein agar aapako jaanakaaree chaahie paast laiph rigreshan kya hai isake maadhyam se aap peechhe na main bhee ja sakate ho ke baare mein jaanana chaahate to googal keejie ki paast laiph rigreshan kya hota hai pichhale saal mein aap kaise ja sakate ho pichhale janm mein kaun the kyonki aap kaise pata karate to aap jaakar kisee jo bhee briten mein hote hain na vahaan par googal par sarch kar aapako hamen ditel mil jaegee paast laiph rigreshan hai vahaan ka pata kar sakata main aapako bhee shubh dukaan hai vah hamaare karmon ka hee phal hai hamane pichhale dinon mein kuchh koee kam koee na koee karm kee thee usee ka phal ham is janm mein mil raha hai theek hai ab abhee jo karm karo usaka phal aapako aane vaale taim mein aapako milane vaale to achchhe karm kee soochee

bolkar speaker
क्यों मनुष्य को सुख-दुख ईश्वर स्वयं देता है?Kyun Manushya Ko Sukh Dukh Ishvar Svayam Deta Hai
Gopal rana Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gopal जी का जवाब
Unknown
1:28
ऐसा कहा जाता है कि मनुष्य के सुख-दुख ईश्वर रहते हैं वे स्वयं लेता है इसमें सच्चाई भी पूर्ण आधार है तू किस में सच्चाई भी है और नहीं हूं क्योंकि यह डिपेंड करता है इंसान की कर्म कर्म फल पर अगर वह इंसान वही सच्चा कर्म करता है तो उसे अभिषेक बहुत मिलता है लेकिन बाद में सुस्ती आती हैं तो लेटर यह करता है कि हम उस हीरे की पहचान जोहरी करता है ठीक है तो मेरे के पास में डिलीवरी करता हो तो जरूर करता है कि वह तरसता है तू दिखता है कि वह उसका बिल में है या नहीं है अगर उसका बिल में है तो उसे उसी रूप में देखे जा जो उसे सच्चाई के माध्यम से अवगत करवाएगा दूसरी तरफ हम डिफेंडर कर सकते ईश्वर हमारी अच्छी अच्छी कर्म और पूरी करो को निर्धारित करते हैं हमें सुख और दुख संडे को देखता हुआ देते हैं और इंसान का मन से भी दुखी होता है तो वह अपनी दृढ़ विश्वास के साथ हुए अत्यंत दुख हो चुका एक के दरवाजे की तरफ से अपने भीतर रख सकता है
Aisa kaha jaata hai ki manushy ke sukh-dukh eeshvar rahate hain ve svayan leta hai isamen sachchaee bhee poorn aadhaar hai too kis mein sachchaee bhee hai aur nahin hoon kyonki yah dipend karata hai insaan kee karm karm phal par agar vah insaan vahee sachcha karm karata hai to use abhishek bahut milata hai lekin baad mein sustee aatee hain to letar yah karata hai ki ham us heere kee pahachaan joharee karata hai theek hai to mere ke paas mein dileevaree karata ho to jaroor karata hai ki vah tarasata hai too dikhata hai ki vah usaka bil mein hai ya nahin hai agar usaka bil mein hai to use usee roop mein dekhe ja jo use sachchaee ke maadhyam se avagat karavaega doosaree taraph ham diphendar kar sakate eeshvar hamaaree achchhee achchhee karm aur pooree karo ko nirdhaarit karate hain hamen sukh aur dukh sande ko dekhata hua dete hain aur insaan ka man se bhee dukhee hota hai to vah apanee drdh vishvaas ke saath hue atyant dukh ho chuka ek ke daravaaje kee taraph se apane bheetar rakh sakata hai

bolkar speaker
क्यों मनुष्य को सुख-दुख ईश्वर स्वयं देता है?Kyun Manushya Ko Sukh Dukh Ishvar Svayam Deta Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:40
नमस्ते दोस्तों आपका प्रश्न है क्यों मनुष्य को सुख दुख है ईश्वर स्वयं देता है तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर यह है मनुष्य जैसा कर्म करता है वैसा ही मनुष्य को फल प्राप्त होता है अगर हम अच्छा कर्म करेंगे तो हमें अच्छा ही फल प्राप्त होगा इसलिए मनुष्य को कर्म करता रहना चाहिए और हल्के नहीं करना चाहिए क्योंकि मनुष्य का काम कर्म करने का है फल की इच्छा नहीं करना चाहिए क्योंकि फल तो ईश्वर आप जैसा कर्म करेंगे फल भी उसी के अनुरूप आपको मिलता रहेगा धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaste doston aapaka prashn hai kyon manushy ko sukh dukh hai eeshvar svayan deta hai to doston aapake savaal ka uttar yah hai manushy jaisa karm karata hai vaisa hee manushy ko phal praapt hota hai agar ham achchha karm karenge to hamen achchha hee phal praapt hoga isalie manushy ko karm karata rahana chaahie aur halke nahin karana chaahie kyonki manushy ka kaam karm karane ka hai phal kee ichchha nahin karana chaahie kyonki phal to eeshvar aap jaisa karm karenge phal bhee usee ke anuroop aapako milata rahega dhanyavaad saathiyon khush raho

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard