#भारत की राजनीति

bolkar speaker

किसान आंदोलन किस कारण हुआ?

Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
0:54
हेलो जी बात तो आज आप का सवाल है कि किसान आंदोलन किस माननीय कृषि किसान आंदोलन और किसान लोगों ने जो प्रोडक्ट करना शुरू किया इस चीज के शुरुआत तब हुई जब हमारी सरकार द्वारा लागू हुआ था कि अब किसान मंडी के बाहर भी भेज सकते हैं जो भी उनके फल है किसानों का कहना था कि नहीं उनको कुछ इसमें बदलाव चाहिए कुछ चेंज चाहिए एमपी को लेकर और अगर यह बदलाव अगर वह नहीं करते हैं फ्री में तो वह बिल वापस लिया जाए कि मैं ही सरकार का कहना है कि नहीं जैसा भी है वैसे अप्लाई होगा यह काफी अच्छा है इसके सिर्फ और सिर्फ फायदे हैं किसानों को भड़काया जा रहा है लेकिन किसानों का कहना है कि वह अपना अच्छा बुरा समझते हैं किसी के भड़काने से वह नहीं भड़क सकती जिसके वजह से प्रोटेस्ट चलता रहा है
Helo jee baat to aaj aap ka savaal hai ki kisaan aandolan kis maananeey krshi kisaan aandolan aur kisaan logon ne jo prodakt karana shuroo kiya is cheej ke shuruaat tab huee jab hamaaree sarakaar dvaara laagoo hua tha ki ab kisaan mandee ke baahar bhee bhej sakate hain jo bhee unake phal hai kisaanon ka kahana tha ki nahin unako kuchh isamen badalaav chaahie kuchh chenj chaahie emapee ko lekar aur agar yah badalaav agar vah nahin karate hain phree mein to vah bil vaapas liya jae ki main hee sarakaar ka kahana hai ki nahin jaisa bhee hai vaise aplaee hoga yah kaaphee achchha hai isake sirph aur sirph phaayade hain kisaanon ko bhadakaaya ja raha hai lekin kisaanon ka kahana hai ki vah apana achchha bura samajhate hain kisee ke bhadakaane se vah nahin bhadak sakatee jisake vajah se protest chalata raha hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:10
नमस्ते दोस्तों आप का सवाल है किसान आंदोलन किस कारण हुआ तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर यह है हमारे देश में किसान आंदोलन के कई कारण है क्योंकि दोस्तों हमारे देश में किसान आंदोलन जब होता है जब किसानों की कोई समस्या होती है तब किसान आंदोलन होने का कारण बनता है जिस प्रकार हमारे देश की सरकार ने तीन काले कानून बनाए हैं फोन 3 काले काले कानूनों में सिर्फ पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए यह कानून बनाए हैं और हमारे अन्नदाता ओं को सिर्फ एक नुकसान देने के लिए यह कानून बने हैं क्योंकि इन तीन काले कानूनों में एमएसपी की कोई गारंटी नहीं है इसलिए हमारे देश के किसानों को को फायदा नहीं होने वाला इन तीन काले कानूनों से इसलिए हमारे देश के अन्नदाता किसान आंदोलन कर रहे हैं जिन से कई किसानों ने अपने प्राण त्याग दिए हैं अपने हक की लड़ाई के लिए धन्यवाद दोस्तों खुश रहो जय भारत माता की
Namaste doston aap ka savaal hai kisaan aandolan kis kaaran hua to doston aapake savaal ka uttar yah hai hamaare desh mein kisaan aandolan ke kaee kaaran hai kyonki doston hamaare desh mein kisaan aandolan jab hota hai jab kisaanon kee koee samasya hotee hai tab kisaan aandolan hone ka kaaran banata hai jis prakaar hamaare desh kee sarakaar ne teen kaale kaanoon banae hain phon 3 kaale kaale kaanoonon mein sirph poonjeepatiyon ko laabh pahunchaane ke lie yah kaanoon banae hain aur hamaare annadaata on ko sirph ek nukasaan dene ke lie yah kaanoon bane hain kyonki in teen kaale kaanoonon mein emesapee kee koee gaarantee nahin hai isalie hamaare desh ke kisaanon ko ko phaayada nahin hone vaala in teen kaale kaanoonon se isalie hamaare desh ke annadaata kisaan aandolan kar rahe hain jin se kaee kisaanon ne apane praan tyaag die hain apane hak kee ladaee ke lie dhanyavaad doston khush raho jay bhaarat maata kee

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
2:33
नमस्कार मैं प्रेम प्रकाश मिश्रा आपका बोल कर एक पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है किसान आंदोलन किस कारण हुआ तो जी मित्र किसान आंदोलन जिस कारण से हुआ है वह हमारे नए तीन कृषि कानून है जो तीन ने किसी कानून है इन कानूनों का किसान विरोध कर रहे हैं उनमें से पहला कानून कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य स्कोप संवर्धन बस सरलीकरण कानून 2020 से तैयार किया गया है और दूसरा कृषक कीमत आश्वासन यानी एमएसपी और सेवा कर कानून 2020 का नाम दिया गया और तीसरा आवश्यक वस्तु संशोधन कानून 2020 इन कानूनों के तहत किसान अपने कृषि उत्पादों की खरीद बिक्री एपीएमसी मंडी से अलग खुले बाजार में भी कर सकते हैं किसान इसी मुद्दे पर सबसे ज्यादा विरोध कर रहे हैं किसानों का कहना है कि अगर वे एफएमसी की मंडियों से बाहर बाजार दर्पण अपनी फसल भेजते हैं तो हो सकता है कि उन्हें थोड़े समय तक फायदा हो लेकिन बाद में एमएसपी की तरह निश्चित दर पर भुगतान की कोई गारंटी नहीं होगी प्रदर्शन कर रहे किसानों को इस बात की भी आशंका है कि इन कानूनों के रहते उन्हें न्यूनतम समर्थन मूल्य भी नहीं मिल पाएगा हालांकि सरकार का कहना है कि कृषि कानून एमएसपी सिस्टम और एपीएमसी मंडियों को प्रभावित नहीं करते हैं लेकिन किसान यह भी पूछ रहे हैं कि एपीएमसी मंडियों के नहीं रहने पर आढ़तियों और कमीशन एजेंटों का क्या होगा नए कानूनों के तहत अनुबंध खेती को मंजूरी दी गई है यानी अब किसान थोक विक्रेताओं प्रोसेसिंग इंडस्ट्री प्राइवेट कंपनी से सीधे अनुबंध करके अनाज का उत्पादन कर सकते हैं इसमें फसल की कीमत पर बात तय करके अनुबंध किया जा सकता है सरकार का दावा है कि इस प्रावधान से किसानों को पूरा मुनाफा होगा लेकिन किसान अनुबंध खेती का भी विरोध कर रहे हैं इसको लेकिन किसानों की दो प्रमुख चिंताएं हैं पहली चिंता तो यह है कि क्या ग्रामीण किसान निजी कंपनियों से अपने फसल की उचित कीमत के लिए मोलभाव की स्थिति में होगा और दूसरी चिंता यानी उन्हें आशंका है कि निजी कंपनियां गुणवत्ता के आधार पर उनके फसल की कीमत कर सकते हैं या खरीद बंद कर सकते हैं तो मित्र यही वे तीन कृषि कानून है जिन को लेकर किसान आंदोलन कर रहे हैं यदि आपको जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar main prem prakaash mishra aapaka bol kar ek par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai kisaan aandolan kis kaaran hua to jee mitr kisaan aandolan jis kaaran se hua hai vah hamaare nae teen krshi kaanoon hai jo teen ne kisee kaanoon hai in kaanoonon ka kisaan virodh kar rahe hain unamen se pahala kaanoon krshak upaj vyaapaar aur vaanijy skop sanvardhan bas saraleekaran kaanoon 2020 se taiyaar kiya gaya hai aur doosara krshak keemat aashvaasan yaanee emesapee aur seva kar kaanoon 2020 ka naam diya gaya aur teesara aavashyak vastu sanshodhan kaanoon 2020 in kaanoonon ke tahat kisaan apane krshi utpaadon kee khareed bikree epeeemasee mandee se alag khule baajaar mein bhee kar sakate hain kisaan isee mudde par sabase jyaada virodh kar rahe hain kisaanon ka kahana hai ki agar ve ephemasee kee mandiyon se baahar baajaar darpan apanee phasal bhejate hain to ho sakata hai ki unhen thode samay tak phaayada ho lekin baad mein emesapee kee tarah nishchit dar par bhugataan kee koee gaarantee nahin hogee pradarshan kar rahe kisaanon ko is baat kee bhee aashanka hai ki in kaanoonon ke rahate unhen nyoonatam samarthan mooly bhee nahin mil paega haalaanki sarakaar ka kahana hai ki krshi kaanoon emesapee sistam aur epeeemasee mandiyon ko prabhaavit nahin karate hain lekin kisaan yah bhee poochh rahe hain ki epeeemasee mandiyon ke nahin rahane par aadhatiyon aur kameeshan ejenton ka kya hoga nae kaanoonon ke tahat anubandh khetee ko manjooree dee gaee hai yaanee ab kisaan thok vikretaon prosesing indastree praivet kampanee se seedhe anubandh karake anaaj ka utpaadan kar sakate hain isamen phasal kee keemat par baat tay karake anubandh kiya ja sakata hai sarakaar ka daava hai ki is praavadhaan se kisaanon ko poora munaapha hoga lekin kisaan anubandh khetee ka bhee virodh kar rahe hain isako lekin kisaanon kee do pramukh chintaen hain pahalee chinta to yah hai ki kya graameen kisaan nijee kampaniyon se apane phasal kee uchit keemat ke lie molabhaav kee sthiti mein hoga aur doosaree chinta yaanee unhen aashanka hai ki nijee kampaniyaan gunavatta ke aadhaar par unake phasal kee keemat kar sakate hain ya khareed band kar sakate hain to mitr yahee ve teen krshi kaanoon hai jin ko lekar kisaan aandolan kar rahe hain yadi aapako javaab achchha laga ho to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:40
किसान आंदोलन का होने का मुख्य कारण यह था कि संसद में जब किसान का बिल पेश पेश किया गया तो उस पर कोई बहस नहीं हुई उसके गुण और अवगुण पर प्रकाश निराला संसद में इनका बहुमत है इन्होंने रातों-रात बिल पर हंसता करने जारी करके सब के दस्तखत करा करके उसको राज्यसभा में भेज दिया कि राज्यसभा में भारतीय जनता पार्टी का कतई बहुमत नहीं था बहुमत न होने के बाद भी इन लोगों ने उसको जबरदस्ती वहां पास पास करवा लिया तो पहले तो चोरी इन्होंने किए कि दूसरा यह कि उसमें जब किसी बात चोरी होती है तो लोगों के अंदर संख्या भी बढ़ जाते शंकर यह बैठ गई इससे किसानों का किसी भी तरह से ही तो नहीं है यह सरकार पूंजीपतियों के दलाल है पूंजी पतियों की दलाली के कारण वह किसानों का हित नहीं चाहती किसानों को अंदेशा है कि उनकी जमीन चली जाएगी उनके ऊपर जो है पूंजी पतियों के हिसाब से मतलब उस पर रखे जाएंगे सहीद समय दूध का दाम मिल पाएगा कि नहीं मिल पाएगा इस पर वह सरकार गारंटी चाहते हैं कि अगर उनको एमएसपी से अगर कोई कम मूल्य पर कोई सामान अगर उसे जबरदस्ती खरीदता है या नहीं खरीदता है तो जब भी खरीदा जाएगा तो उसी रेट पर खरीदा जाए जिस पर सरकार भी तय करती है तू सरकार से कहते हैं कि अगर उससे कम पर कोई खरीद है उस पर दबाव डालकर खरीदा जाए तो उसके खिलाफ आपराधिक मुकदमा चलाया जाए उनको जेल भेजा जाए तो सरकार इस पर कतई भी राजी नहीं और मंडियों को समाप्त करने के लिए सरकार जो जबानी जमा खर्च मौका देकर इस कारण किसान किसी भी तरह से कानून से समझौता करने के लिए तैयार नहीं हो कहते कानून को निरस्त कर दिए इसके बाद फिर जब दोबारा कानून हो तो बिल्कुल आम जनता के द्वारा इस पर चर्चा के बाद ही उसको प्रवाह प्रभावित किया जाए
Kisaan aandolan ka hone ka mukhy kaaran yah tha ki sansad mein jab kisaan ka bil pesh pesh kiya gaya to us par koee bahas nahin huee usake gun aur avagun par prakaash niraala sansad mein inaka bahumat hai inhonne raaton-raat bil par hansata karane jaaree karake sab ke dastakhat kara karake usako raajyasabha mein bhej diya ki raajyasabha mein bhaarateey janata paartee ka katee bahumat nahin tha bahumat na hone ke baad bhee in logon ne usako jabaradastee vahaan paas paas karava liya to pahale to choree inhonne kie ki doosara yah ki usamen jab kisee baat choree hotee hai to logon ke andar sankhya bhee badh jaate shankar yah baith gaee isase kisaanon ka kisee bhee tarah se hee to nahin hai yah sarakaar poonjeepatiyon ke dalaal hai poonjee patiyon kee dalaalee ke kaaran vah kisaanon ka hit nahin chaahatee kisaanon ko andesha hai ki unakee jameen chalee jaegee unake oopar jo hai poonjee patiyon ke hisaab se matalab us par rakhe jaenge saheed samay doodh ka daam mil paega ki nahin mil paega is par vah sarakaar gaarantee chaahate hain ki agar unako emesapee se agar koee kam mooly par koee saamaan agar use jabaradastee khareedata hai ya nahin khareedata hai to jab bhee khareeda jaega to usee ret par khareeda jae jis par sarakaar bhee tay karatee hai too sarakaar se kahate hain ki agar usase kam par koee khareed hai us par dabaav daalakar khareeda jae to usake khilaaph aaparaadhik mukadama chalaaya jae unako jel bheja jae to sarakaar is par katee bhee raajee nahin aur mandiyon ko samaapt karane ke lie sarakaar jo jabaanee jama kharch mauka dekar is kaaran kisaan kisee bhee tarah se kaanoon se samajhauta karane ke lie taiyaar nahin ho kahate kaanoon ko nirast kar die isake baad phir jab dobaara kaanoon ho to bilkul aam janata ke dvaara is par charcha ke baad hee usako pravaah prabhaavit kiya jae

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:54
नमस्कार दोस्तों बोलकर आप में स्वागत है और सवाल है आज का कि किसान आंदोलन किस कारण हुआ तो मेरा मानना यह है कि किसान आंदोलन नए जो पर्ची नियम बनाए गए थे उसको वापस लेने के लिए यह आंदोलन किया गया था क्योंकि उसमें किसानों को कोई फायदा नहीं हो रहा था घाटे में जा रहे थे इसलिए लोगों ने आंदोलन करना शुरू कर दिया था कि जो कानून कानून लगाए थे वह वापस लीजिए ताकि हम आसानी से खेती-बाड़ी कर सके और अनाज उत्पन्न कर चुका और किसी को भी सरकार की रेट के साथ शाम को भेज सकें
Namaskaar doston bolakar aap mein svaagat hai aur savaal hai aaj ka ki kisaan aandolan kis kaaran hua to mera maanana yah hai ki kisaan aandolan nae jo parchee niyam banae gae the usako vaapas lene ke lie yah aandolan kiya gaya tha kyonki usamen kisaanon ko koee phaayada nahin ho raha tha ghaate mein ja rahe the isalie logon ne aandolan karana shuroo kar diya tha ki jo kaanoon kaanoon lagae the vah vaapas leejie taaki ham aasaanee se khetee-baadee kar sake aur anaaj utpann kar chuka aur kisee ko bhee sarakaar kee ret ke saath shaam ko bhej saken

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College Student
1:38
नमस्कार श्रोताओं पिछले साल 20 सितंबर को यानी 2020 में तीन कृषि कानून पास किए गए थे राज्य सभा में और जिस प्रकार से पास की गए थे तो वह भी काफी कॉन्ट्रोवर्सी रही किस प्रकार से इनकी फांसी हुई वोट देना लेकिन साउंड वोट देगा यानी जो जितना ज्यादा तेज चल बाय चिल्लाएगा या नहीं अगर कोई पक्ष में है और एक पक्ष में तो पक्षी वाले गत्ते से चलाएंगे मति करेंगे जो भी है तो पक्ष में हो जाएगा वह कानून तो वोटिंग हुई है तो शुरुआत से इसमें कौन सी चल रही थी किसानों का आरोप था कि जब किसान कानून बनाए जा रहे थे तो किसी भी किसान संगठन से बात नहीं की गई उनसे राय नहीं ली गई कोई चेंज एशिया कोई सजेशंस नहीं लिए गए और काफी हल्ला मचा के पास हो गए थे और काफी उसके बाद से ही जो किसान हैं वह प्रदर्शन कर रहे हैं अपनी अपनी जगह से पंजाब से हरियाणा से और हर जगह जहां पर भी हैं जिनको अच्छे लग रहे हो लेकिन तब मीडिया की नजर इस पर नहीं गई जबकि सात दिसंबर में दिल्ली की तरफ बढ़े तब मीडिया में थोड़ा-बहुत ने कवर किया नेशनल मीडिया ने जी ने तब कवर किया कारण क्या है तो कारण हुई है कि तीन कृषि कानून जो आए हैं उन्हें उन से किसान सहमत नहीं हैं और वह ने वापस करवाना चाहते हैं कि यह तीनों बिल वापस हो जाएं तीनों कानून वापस ले ली जाए और वापिस से नए कानून आए लेकिन उसमें इनकी इनकी एक जगह उनकी एक आवास हूं जब कानून बने तो इनको भी पूछा जाए इनके कोई सदस्य उस मीटिंग में हो इस कमेटी में हूं
Namaskaar shrotaon pichhale saal 20 sitambar ko yaanee 2020 mein teen krshi kaanoon paas kie gae the raajy sabha mein aur jis prakaar se paas kee gae the to vah bhee kaaphee kontrovarsee rahee kis prakaar se inakee phaansee huee vot dena lekin saund vot dega yaanee jo jitana jyaada tej chal baay chillaega ya nahin agar koee paksh mein hai aur ek paksh mein to pakshee vaale gatte se chalaenge mati karenge jo bhee hai to paksh mein ho jaega vah kaanoon to voting huee hai to shuruaat se isamen kaun see chal rahee thee kisaanon ka aarop tha ki jab kisaan kaanoon banae ja rahe the to kisee bhee kisaan sangathan se baat nahin kee gaee unase raay nahin lee gaee koee chenj eshiya koee sajeshans nahin lie gae aur kaaphee halla macha ke paas ho gae the aur kaaphee usake baad se hee jo kisaan hain vah pradarshan kar rahe hain apanee apanee jagah se panjaab se hariyaana se aur har jagah jahaan par bhee hain jinako achchhe lag rahe ho lekin tab meediya kee najar is par nahin gaee jabaki saat disambar mein dillee kee taraph badhe tab meediya mein thoda-bahut ne kavar kiya neshanal meediya ne jee ne tab kavar kiya kaaran kya hai to kaaran huee hai ki teen krshi kaanoon jo aae hain unhen un se kisaan sahamat nahin hain aur vah ne vaapas karavaana chaahate hain ki yah teenon bil vaapas ho jaen teenon kaanoon vaapas le lee jae aur vaapis se nae kaanoon aae lekin usamen inakee inakee ek jagah unakee ek aavaas hoon jab kaanoon bane to inako bhee poochha jae inake koee sadasy us meeting mein ho is kametee mein hoon

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
1:02
केंद्र सरकार द्वारा कुछ ऐसे कानून किसी का मुलायम ने इसके लिए जो एक कानून सरकार जो एक केंद्र सरकार कानून है किसानों के लिए उन किसानों को किसी का नाम है उसका नाम कोई दिक्कत लगी तुम्हें सोचता हूं फिर भी कुछ जोश कॉल जो कुछ काम है कुछ काम है उसमें कुछ कॉल किया वह आपको सेंड किया करो पढ़िए भविष्य में आने वाली पीढ़ी के लिए खतरनाक हो सकता है जिससे कि हमारे आने वाली पीढ़ी को दर-दर भटकना पाकिस्तान से आंदोलन की शुरुआत की गई मांगों को लेकर किसानों में दिल्ली के बॉर्डर पर की प्रतिमा के सारे बॉर्डर सिंह के लिए इसलिए किसानों की शुरुआत हुई क्योंकि अगर कोई इंसान के लिए भविष्य के लिए खतरा बनते जा रहे हैं अभी नहीं हुई है ले लिया जाए
Kendr sarakaar dvaara kuchh aise kaanoon kisee ka mulaayam ne isake lie jo ek kaanoon sarakaar jo ek kendr sarakaar kaanoon hai kisaanon ke lie un kisaanon ko kisee ka naam hai usaka naam koee dikkat lagee tumhen sochata hoon phir bhee kuchh josh kol jo kuchh kaam hai kuchh kaam hai usamen kuchh kol kiya vah aapako send kiya karo padhie bhavishy mein aane vaalee peedhee ke lie khataranaak ho sakata hai jisase ki hamaare aane vaalee peedhee ko dar-dar bhatakana paakistaan se aandolan kee shuruaat kee gaee maangon ko lekar kisaanon mein dillee ke bordar par kee pratima ke saare bordar sinh ke lie isalie kisaanon kee shuruaat huee kyonki agar koee insaan ke lie bhavishy ke lie khatara banate ja rahe hain abhee nahin huee hai le liya jae

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:30
भाइयों बहनों चलिए मैं पहले इस प्रश्न को देखते हैं उसके बाद इसका विस्तार उत्तर देंगे दोस्तों इन वन प्रश्न पहुंचा है किसान आंदोलन किस कारण हुआ तो दोस्तों किसानों की जो मांगे वह सरकार पूरी नहीं कर रही है वह अपने हिसाब से कानून को लागू कर रही है इसीलिए आंदोलन खड़ा हुआ है तो दोस्तों में यही चाहूंगा किसानों के हित में कानून बन रहा है किसान वाला मकराना खेत में जाए किसान के साथ जितना हो अगर ऐसा हुआ तो यह आंदोलन छेड़ा रहेगा डीजे
Bhaiyon bahanon chalie main pahale is prashn ko dekhate hain usake baad isaka vistaar uttar denge doston in van prashn pahuncha hai kisaan aandolan kis kaaran hua to doston kisaanon kee jo maange vah sarakaar pooree nahin kar rahee hai vah apane hisaab se kaanoon ko laagoo kar rahee hai iseelie aandolan khada hua hai to doston mein yahee chaahoonga kisaanon ke hit mein kaanoon ban raha hai kisaan vaala makaraana khet mein jae kisaan ke saath jitana ho agar aisa hua to yah aandolan chheda rahega deeje

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
3:09
प्रश्न पूछा जा रहा है कि किसान आंदोलन किस कारण हुआ लेकिन क्या है ना कि बीजेपी ने या मोदी सरकार कहा जाए तो लोकसभा में किसान भी लेकर आई और उस समय लोगों से कहा कि किसान बिल पे हम कुछ नया जो बिल है उसे हम लाएंगे किसानों के फायदे के लिए और जब लोकसभा में पारित हुआ उसके बाद जब इन लोगों तक इसका संदेश पहुंचा कि हां इसमें बिल में यह चीजें हैं और इस तरीके से हम फायदा पहुंचाने की बात कर रहे हैं तू जब लोगों में पहुंचा किसान भाइयों के समीप पहुंचाया किसान आंदोलन ने किसान जो नेतृत्व करते हैं किसान आंदोलन के जो नेता है तो क्या हुआ कि उनके यहां किसान यूनियन नेता के पास पहुंचा तो इस बिल का विरोध करने लगे कि नहीं हमें इस बिल को नहीं चाहिए और बहुत सारे ऐसे नियम है जो पहले भी बना गए हैं पराली में संशोधन की बात कहा फिर सरकार नहीं मानी उसके अलावा यह भी कहा कि जो विद्युत से रिलेटेड जो नियम आए उसमें भी हमें दिक्कत हो रही है और उसमें सुधार होने चाहिए तो सरकार ने इस चीजों को नजरअंदाज करते हुए किसान बिल के लगे फायदे गिराने और किसान भाई लोग एक-दो दिन 4 दिन ऐसे ही सरकार से कहते रहे कि नहीं हमें इस बिल का बिल को नहीं चाहिए जिससे कि हमें क्या है कानूनी गारंटी नहीं मिल रही है और किसान इसमें क्या होंगी लाचार हो जाएंगे परेशान हो जाएंगे और 21e के अधीन हो जाएंगे जिससे कि हमें इस तरीके का नियम कानून नहीं चाहिए सरकार नहीं मानी उन्होंने समय दिया समय के खिलाफ जैसे ही समय बिता किसान भाई लोगों ने रोड पर उतारना शुरू कर दिया और एक तरह से धीरे-धीरे एक उग्र रूप ले लिया एक आंदोलन का रूप ले लिया और आज ऐसी समय है किला 60 दिन हो जाएंगे और आज भी सरकार और किसान के बीच जो बातें हैं दोनों लोग की तरफ से बातें अलग अलग तरीके से हो रही है और यही कारण था कि आज सरकार से किसान भाई लोग खफा है और कहीं ना कहीं एक बड़ा आंदोलन सरकार ने भी सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटा सुप्रीम कोर्ट ने भी इस भीड़ को रोकने की बात कही और कहा जाए कि बिल को रोक भी दिया है और इस पर भी किसान भाई लोग कह रहे हैं कि जब हम इसे बिल की जरूरत ही नहीं है इस बीच हमें फायदा नहीं है तो हमें इस तरह का बिल लाने की कोई जरूरत नहीं है या नहीं इस पर प्रतिबंध लगाने की जरूरत है हमें जो करना है बस सरकार इस बिल को वापस ले ले हम जैसे किसान हैं जिस तरीके से पुराने किसानों के लिए नियम कानून थे उसी पर हम सक्षम है और इस तरह से जारी रहेगा अगर यह सरकार मानती है तो किसान आंदोलन समाप्त हो जाएगा नहीं तो किसान आंदोलन आगे बढ़ेगा इसमें लगदी लगभग 150 से ज्यादा लोगों की मृत्यु हो चुकी है किसान आंदोलन में सरकार के लिए बहुत बड़ा एक संदेश है
Prashn poochha ja raha hai ki kisaan aandolan kis kaaran hua lekin kya hai na ki beejepee ne ya modee sarakaar kaha jae to lokasabha mein kisaan bhee lekar aaee aur us samay logon se kaha ki kisaan bil pe ham kuchh naya jo bil hai use ham laenge kisaanon ke phaayade ke lie aur jab lokasabha mein paarit hua usake baad jab in logon tak isaka sandesh pahuncha ki haan isamen bil mein yah cheejen hain aur is tareeke se ham phaayada pahunchaane kee baat kar rahe hain too jab logon mein pahuncha kisaan bhaiyon ke sameep pahunchaaya kisaan aandolan ne kisaan jo netrtv karate hain kisaan aandolan ke jo neta hai to kya hua ki unake yahaan kisaan yooniyan neta ke paas pahuncha to is bil ka virodh karane lage ki nahin hamen is bil ko nahin chaahie aur bahut saare aise niyam hai jo pahale bhee bana gae hain paraalee mein sanshodhan kee baat kaha phir sarakaar nahin maanee usake alaava yah bhee kaha ki jo vidyut se rileted jo niyam aae usamen bhee hamen dikkat ho rahee hai aur usamen sudhaar hone chaahie to sarakaar ne is cheejon ko najarandaaj karate hue kisaan bil ke lage phaayade giraane aur kisaan bhaee log ek-do din 4 din aise hee sarakaar se kahate rahe ki nahin hamen is bil ka bil ko nahin chaahie jisase ki hamen kya hai kaanoonee gaarantee nahin mil rahee hai aur kisaan isamen kya hongee laachaar ho jaenge pareshaan ho jaenge aur 21ai ke adheen ho jaenge jisase ki hamen is tareeke ka niyam kaanoon nahin chaahie sarakaar nahin maanee unhonne samay diya samay ke khilaaph jaise hee samay bita kisaan bhaee logon ne rod par utaarana shuroo kar diya aur ek tarah se dheere-dheere ek ugr roop le liya ek aandolan ka roop le liya aur aaj aisee samay hai kila 60 din ho jaenge aur aaj bhee sarakaar aur kisaan ke beech jo baaten hain donon log kee taraph se baaten alag alag tareeke se ho rahee hai aur yahee kaaran tha ki aaj sarakaar se kisaan bhaee log khapha hai aur kaheen na kaheen ek bada aandolan sarakaar ne bhee supreem kort ka daravaaja khatakhata supreem kort ne bhee is bheed ko rokane kee baat kahee aur kaha jae ki bil ko rok bhee diya hai aur is par bhee kisaan bhaee log kah rahe hain ki jab ham ise bil kee jaroorat hee nahin hai is beech hamen phaayada nahin hai to hamen is tarah ka bil laane kee koee jaroorat nahin hai ya nahin is par pratibandh lagaane kee jaroorat hai hamen jo karana hai bas sarakaar is bil ko vaapas le le ham jaise kisaan hain jis tareeke se puraane kisaanon ke lie niyam kaanoon the usee par ham saksham hai aur is tarah se jaaree rahega agar yah sarakaar maanatee hai to kisaan aandolan samaapt ho jaega nahin to kisaan aandolan aage badhega isamen lagadee lagabhag 150 se jyaada logon kee mrtyu ho chukee hai kisaan aandolan mein sarakaar ke lie bahut bada ek sandesh hai

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:29
नमस्कार दोस्तों यह भी न पूछा किसान आंदोलन किस कारण हुआ है देखिए किसान आंदोलन के पीछे सबसे बड़ा रीजन होने का कारण है जो इसके कानून की कुछ संशोधन को पारित किया गया है जून को जो है पास किया गया है तो उसके लिए के लिए किसान आंदोलन हुआ है जिसमें किसानों तथाकथित किसानों को शामिल किया गया है मुझसे इंफॉर्मेशन दी गई है कि यह कानून आपके हित में नहीं है तो उसी उन्हीं बातों में आकर बहुत कम को वापस करने की मांग के चक्कर में जो है आंदोलन पर बैठे हुए हैं क्यों को लगता है कि हमारी जमीन जो है एक और फिर सेक्टर में चली जाएगी जैसे कि वह बोलते हैं अंबानी अडानी हटा टाइम कुछ भी जाएगी इस तरह के शोषण की झांकी जैसा कि कुछ नहीं है जल्दी हमारी जमीन में चली जाएगी इस तरह की सोच है जहां आज भी खत्म हो जाएगी क्योंकि ऐसा कुछ नहीं है वह सिर्फ एक गलतफहमी का शिकार हो और उनको बुरी तरह से चीन में फंसाया गया है और बाकी मेरे हिसाब से तो अभी कोई किसान उसमें है नीच में वही है जैसे बीच में जो दलाल हैं बिचोली है वह बीच में निकली उठाकर तो उनका जो आप पैसा द्वारा का किसानों से उनका खत्म हो जाएगा उनके दलाली खत्म हो जाएगी जिसके कारण उन्हें यह सारे षड्यंत्र जो है रचा है ना मैं तो यही किसान आंदोलन का आशा करता हूं आपको आपके सवाल का जवाब मिल गया और लाइक कर सकता है सिर्फ एक बार
Namaskaar doston yah bhee na poochha kisaan aandolan kis kaaran hua hai dekhie kisaan aandolan ke peechhe sabase bada reejan hone ka kaaran hai jo isake kaanoon kee kuchh sanshodhan ko paarit kiya gaya hai joon ko jo hai paas kiya gaya hai to usake lie ke lie kisaan aandolan hua hai jisamen kisaanon tathaakathit kisaanon ko shaamil kiya gaya hai mujhase imphormeshan dee gaee hai ki yah kaanoon aapake hit mein nahin hai to usee unheen baaton mein aakar bahut kam ko vaapas karane kee maang ke chakkar mein jo hai aandolan par baithe hue hain kyon ko lagata hai ki hamaaree jameen jo hai ek aur phir sektar mein chalee jaegee jaise ki vah bolate hain ambaanee adaanee hata taim kuchh bhee jaegee is tarah ke shoshan kee jhaankee jaisa ki kuchh nahin hai jaldee hamaaree jameen mein chalee jaegee is tarah kee soch hai jahaan aaj bhee khatm ho jaegee kyonki aisa kuchh nahin hai vah sirph ek galataphahamee ka shikaar ho aur unako buree tarah se cheen mein phansaaya gaya hai aur baakee mere hisaab se to abhee koee kisaan usamen hai neech mein vahee hai jaise beech mein jo dalaal hain bicholee hai vah beech mein nikalee uthaakar to unaka jo aap paisa dvaara ka kisaanon se unaka khatm ho jaega unake dalaalee khatm ho jaegee jisake kaaran unhen yah saare shadyantr jo hai racha hai na main to yahee kisaan aandolan ka aasha karata hoon aapako aapake savaal ka javaab mil gaya aur laik kar sakata hai sirph ek baar

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:15
आपका सवाल है कि किसान आंदोलन किस कारण हुआ था वह किसान आंदोलन सरकार के द्वारा तीन अधिनियम लाए गए हैं इसके विरोध में किसान आदर्श चल रहा है धन्यवाद
Aapaka savaal hai ki kisaan aandolan kis kaaran hua tha vah kisaan aandolan sarakaar ke dvaara teen adhiniyam lae gae hain isake virodh mein kisaan aadarsh chal raha hai dhanyavaad

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:28
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है कि भवन आंदोलन किस कारण से हुआ तो फ्रेंड हम सभी जानते हैं कि किसान आंदोलन सरकार ने जो कानून बनाए हैं किसानों के संबंध में जो 19 कानूनों के विरोध में किसान आंदोलन कर रहे हैं नितिन कानून बनाए हैं सरकार ने किसानों के खेती के संबंधित कृषि से संबंधित में और किसानों को इस पर ऐतराज है इसलिए किसान आंदोलन कर रहे हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai ki bhavan aandolan kis kaaran se hua to phrend ham sabhee jaanate hain ki kisaan aandolan sarakaar ne jo kaanoon banae hain kisaanon ke sambandh mein jo 19 kaanoonon ke virodh mein kisaan aandolan kar rahe hain nitin kaanoon banae hain sarakaar ne kisaanon ke khetee ke sambandhit krshi se sambandhit mein aur kisaanon ko is par aitaraaj hai isalie kisaan aandolan kar rahe hain dhanyavaad

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
Qamar jahan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Qamar जी का जवाब
Student
1:19
की आप सभी को पता है कि देश के किसान लगभग दो महीनों से हाड़ कंपा देने वाली ठंड के बीच दिल्ली बॉर्डर पर बैठे हुए हैं कई लोगों ने किसान आंदोलन पर सवाल भी उठाए आंदोलन को लेकर कई नेताओं के विवादित बयान में हमारे सामने आए हैं पाकिस्तान और खाली स्थान लिंक भी ढूंढा गया लेकिन किसान अब तक डिगे नहीं है नहीं है ऐसे में देश को यह जानना बेहद जरूरी है कि किसानों की चिंता है क्या क्यों किसान पीछे हटने को तैयार नहीं है जैसा कि गौरतलब है कि केंद्र सरकार सितंबर महीने में तीन नए कृषि विधेयक लाए लाए थे जिन पर डांस पति की मुहर लगने के बाद अब कानून बन चुके हैं लेकिन किसानों को यह कानून रास नहीं आ रहे हैं किसानों का कहना है कि इन कानूनों से किसानों को नुकसान और निजी खरीदारों में बड़े कॉरपोरेट घरानों को फायदा होगा इसके साथ किसानों को फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य खत्म हो जाने का भी डर सता रहा है इसी विरोध प्रदर्शन की हिस्ट्री के पर पंजाब और हरियाणा के किसान 26 और 27 नवंबर से दिल्ली के कुछ के लिए निकले हैं हरियाणा सरकार द्वारा पंजाब से लगे सभी बॉर्डर सील की जाने के चलते किसान अंबाला करनाल बॉर्डर पर जमा है और लगातार आंदोलन कर रहे हैं
Kee aap sabhee ko pata hai ki desh ke kisaan lagabhag do maheenon se haad kampa dene vaalee thand ke beech dillee bordar par baithe hue hain kaee logon ne kisaan aandolan par savaal bhee uthae aandolan ko lekar kaee netaon ke vivaadit bayaan mein hamaare saamane aae hain paakistaan aur khaalee sthaan link bhee dhoondha gaya lekin kisaan ab tak dige nahin hai nahin hai aise mein desh ko yah jaanana behad jarooree hai ki kisaanon kee chinta hai kya kyon kisaan peechhe hatane ko taiyaar nahin hai jaisa ki gauratalab hai ki kendr sarakaar sitambar maheene mein teen nae krshi vidheyak lae lae the jin par daans pati kee muhar lagane ke baad ab kaanoon ban chuke hain lekin kisaanon ko yah kaanoon raas nahin aa rahe hain kisaanon ka kahana hai ki in kaanoonon se kisaanon ko nukasaan aur nijee khareedaaron mein bade koraporet gharaanon ko phaayada hoga isake saath kisaanon ko phasal ka nyoonatam samarthan mooly khatm ho jaane ka bhee dar sata raha hai isee virodh pradarshan kee histree ke par panjaab aur hariyaana ke kisaan 26 aur 27 navambar se dillee ke kuchh ke lie nikale hain hariyaana sarakaar dvaara panjaab se lage sabhee bordar seel kee jaane ke chalate kisaan ambaala karanaal bordar par jama hai aur lagaataar aandolan kar rahe hain

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक, संस्कृतभारती जयपुरमहानगर प्रचारप्रमुख और सन्देशप्रमुख
2:04
नमस्कार मित्र आप ने प्रश्न किया है किसान आंदोलन किस कारण हुआ मित्र किसान आंदोलन होने का कारण तो ऐसा देखे कुछ ज्यादा खास नहीं था पर फिर भी लोगों ने यूं कहे कि अपनी बेवकूफी और से क्योंकि जो वह जिस बिल का विरोध कर रहे हैं वह किसानों के पक्ष में है उनके हितकर है पर फिर भी वह इसका विरोध कर रहे हैं क्योंकि उन्हें गलत सूचनाएं दी गई है गलत बातें बताई गई है इसको ले करके आपको याद हो तो मोदी सरकार जो है किसानों के लिए एक बहुत अच्छा बिल लेकर आई थी एमएसपी अब इस बिल के अंदर अगर आप पढ़ेंगे इस बिल की पूरी डिटेल्स को तो आपको पता चलेगा कि यह बिल इन के लिए कितना लाभदायक है पर कुछ विपक्ष की पार्टियां जो है वह उन को भड़का कर और आंदोलन का जो है कि उन्होंने शुरू करवा दिया है और लगातार यह भी हमने देखा कि 26 जनवरी के दिन लाल किले पर जा कर के वहां इतना हंगामा किया तोड़फोड़ की उधर दिल्ली में भी यह सब क्यों किया जा रहा है यह सब कुछ जो अपवाद होते हैं उन्हीं का ही काम है कि वह किसान आंदोलन की आड़ में मतलब कि मोदी सरकार को गिराने की कोशिश कर रहे हैं तो इसलिए किसान आंदोलन हो रहा है अभी और होने का कोई रीजन भी नहीं था पर यह केवल चाहते हैं यह किसान यह चाहते हैं कि जो एमएसपी बिल जो आ रहा है उसे बिल्कुल रोक दिया जाए वह लागू नहीं हो क्योंकि यह हमारे पास हमारे लिए अच्छा नहीं है जबकि एमएसपी बिल जो है यह उनके लिए बहुत ही बढ़िया है इससे बहुत लाभ होने वाला है धन्यवाद
Namaskaar mitr aap ne prashn kiya hai kisaan aandolan kis kaaran hua mitr kisaan aandolan hone ka kaaran to aisa dekhe kuchh jyaada khaas nahin tha par phir bhee logon ne yoon kahe ki apanee bevakoophee aur se kyonki jo vah jis bil ka virodh kar rahe hain vah kisaanon ke paksh mein hai unake hitakar hai par phir bhee vah isaka virodh kar rahe hain kyonki unhen galat soochanaen dee gaee hai galat baaten bataee gaee hai isako le karake aapako yaad ho to modee sarakaar jo hai kisaanon ke lie ek bahut achchha bil lekar aaee thee emesapee ab is bil ke andar agar aap padhenge is bil kee pooree ditels ko to aapako pata chalega ki yah bil in ke lie kitana laabhadaayak hai par kuchh vipaksh kee paartiyaan jo hai vah un ko bhadaka kar aur aandolan ka jo hai ki unhonne shuroo karava diya hai aur lagaataar yah bhee hamane dekha ki 26 janavaree ke din laal kile par ja kar ke vahaan itana hangaama kiya todaphod kee udhar dillee mein bhee yah sab kyon kiya ja raha hai yah sab kuchh jo apavaad hote hain unheen ka hee kaam hai ki vah kisaan aandolan kee aad mein matalab ki modee sarakaar ko giraane kee koshish kar rahe hain to isalie kisaan aandolan ho raha hai abhee aur hone ka koee reejan bhee nahin tha par yah keval chaahate hain yah kisaan yah chaahate hain ki jo emesapee bil jo aa raha hai use bilkul rok diya jae vah laagoo nahin ho kyonki yah hamaare paas hamaare lie achchha nahin hai jabaki emesapee bil jo hai yah unake lie bahut hee badhiya hai isase bahut laabh hone vaala hai dhanyavaad

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
Nidu Rajput       Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidu जी का जवाब
Student Computer Science Education
1:17
नहीं है किसान आंदोलन किस कारण हुआ किसान आंदोलन इस कारण हुआ पहले जो किसान थे उनके पास दो अथॉरिटी मतलब वह अपने अनाज को अपने रेटों में अपनी बोली पर दूसरों को भेज सकते हैं अगर उस बोली के रेट को कोई नहीं लेता है तो वह उसी रेट में 2 किसानों ने बोली लगाई है वह उसी रेट में सरकार को बेच देते थे तो उनसे क्या होता था किसान अपना रेट निकालता था लेकिन अब क्या होगा अब जो के गवर्नमेंट स्कीम थी यह वाली जो चलती आ रही थी उसके बाद अब जो नया नियम आया है वह यह आया है कि किसान का कोई अपना रेट नहीं होगा सरकार खुद एक रेट डिसाइड करेगी जो प्राइवेट हो जाएगा और वह किसानों से किसी भी कीमत पर अनाज खरीदेगी और उसे ऊंचे दामों पर बेचे की जबकि किसान इस स्कीम को यह जो नियम है उसे मानने को तैयार नहीं है इसी कारण किसान आंदोलन कर रहे हैं और वह चाहते हैं कि उन्हें वही जो उनकी पुरानी स्कीम थी पुराना नियम था वही लागू किया जाए नया नियम हम नहीं फॉलो करेंगे धन्यवाद
Nahin hai kisaan aandolan kis kaaran hua kisaan aandolan is kaaran hua pahale jo kisaan the unake paas do athoritee matalab vah apane anaaj ko apane reton mein apanee bolee par doosaron ko bhej sakate hain agar us bolee ke ret ko koee nahin leta hai to vah usee ret mein 2 kisaanon ne bolee lagaee hai vah usee ret mein sarakaar ko bech dete the to unase kya hota tha kisaan apana ret nikaalata tha lekin ab kya hoga ab jo ke gavarnament skeem thee yah vaalee jo chalatee aa rahee thee usake baad ab jo naya niyam aaya hai vah yah aaya hai ki kisaan ka koee apana ret nahin hoga sarakaar khud ek ret disaid karegee jo praivet ho jaega aur vah kisaanon se kisee bhee keemat par anaaj khareedegee aur use oonche daamon par beche kee jabaki kisaan is skeem ko yah jo niyam hai use maanane ko taiyaar nahin hai isee kaaran kisaan aandolan kar rahe hain aur vah chaahate hain ki unhen vahee jo unakee puraanee skeem thee puraana niyam tha vahee laagoo kiya jae naya niyam ham nahin pholo karenge dhanyavaad

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
mohit Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए mohit जी का जवाब
H0tal
0:49
दोस्तों सवाल है किसान आंदोलन किस कारण हुआ दोस्तों आपको बता देते हैं कि किसान आंदोलन जो है वह हमारे देश में महंगाई प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है चाहे भी किसी चीज की हो जैसे आपको बता दें कि गन्ने की जो फसल है वह भी अत्यधिक महंगी नहीं खरीदी जाती है इस समय कि जो फसल धान थे वह भी बहुत महंगे नहीं थी कहने का मतलब है कि दानों की लागत भी नहीं इतने सस्ते धान थे इसलिए पंजाब के किसानों ने भाजपा सरकार के खिलाफ भूख हड़ताल युवा मोर्चा निकालना जरूरी कर दिया था इसलिए किसान आंदोलन हुआ धन्यवाद
Doston savaal hai kisaan aandolan kis kaaran hua doston aapako bata dete hain ki kisaan aandolan jo hai vah hamaare desh mein mahangaee pratidin badhatee hee ja rahee hai chaahe bhee kisee cheej kee ho jaise aapako bata den ki ganne kee jo phasal hai vah bhee atyadhik mahangee nahin khareedee jaatee hai is samay ki jo phasal dhaan the vah bhee bahut mahange nahin thee kahane ka matalab hai ki daanon kee laagat bhee nahin itane saste dhaan the isalie panjaab ke kisaanon ne bhaajapa sarakaar ke khilaaph bhookh hadataal yuva morcha nikaalana jarooree kar diya tha isalie kisaan aandolan hua dhanyavaad

bolkar speaker
किसान आंदोलन किस कारण हुआ?Kisaan Aandolan Kis Kaaran Hua
jai thakur Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए jai जी का जवाब
job
2:29

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान आंदोलन किस कारण हुआ किसान आंदोलन का कारण
URL copied to clipboard