#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?

Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
0:54
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष कहा जाता है कि हमारे भारत देश में विभिन्न राज्यों की गणना नहीं होती मुझे नहीं मिले थे तब सदा वल्लभभाई पटेल ही थे जिन्होंने सबको एक हाथ से हाथ एक साथ के साथ मिलाकर पूरे भारत की कन्या कारी आप कभी भारत की राष्ट्रीय उठा कर देखेंगे यार आप पहले कभी पढ़ कर देंगे तो आप देखेंगे कि उसमें कुछ कोई पहले कोई एतराज नहीं है जैसी आपकी जयपुर में अपना हरियाणा है दिल्ली या से पहले पूरा जॉनी वॉकर तेरे बस एक पूरा एक अखंड अखंड भारत व्रत होगा लेकिन विदेश में पढ़ने लग गए तो रखने लगा एक अखंड भारत का निर्माण किया
Saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kaha jaata hai ki hamaare bhaarat desh mein vibhinn raajyon kee ganana nahin hotee mujhe nahin mile the tab sada vallabhabhaee patel hee the jinhonne sabako ek haath se haath ek saath ke saath milaakar poore bhaarat kee kanya kaaree aap kabhee bhaarat kee raashtreey utha kar dekhenge yaar aap pahale kabhee padh kar denge to aap dekhenge ki usamen kuchh koee pahale koee etaraaj nahin hai jaisee aapakee jayapur mein apana hariyaana hai dillee ya se pahale poora jonee vokar tere bas ek poora ek akhand akhand bhaarat vrat hoga lekin videsh mein padhane lag gae to rakhane laga ek akhand bhaarat ka nirmaan kiya

और जवाब सुनें

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
Lali Shukla Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Lali जी का जवाब
Unknown
1:56
वंदे मातरम बहुत ही मस्त सवाल है कि सरदार बल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है तो जो देखी रे हाय सकते हैं जो हमारी स्वतंत्र भारत की पहली उपलब्धि थी और निर्विवाद रूप से पटेल साहब का विशेष योगदान था आप यहां पटेल साहब मैं सरदार वल्लभ भाई पटेल को बोल रही हूं तो नीतिगत जड़ता के लिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने उन्हें सरदार कुल्लू की उपाधि दी थी और बल्लभ भाई पटेल ने आजाद भारत में कितने साल राज्य बनाने में उल्लेखनीय योगदान दिया था इनका जो योगदान है कभी भुलाया नहीं जा सकता है आजादी के संघर्ष में उन्होंने जितना योगदान दिया से ज्यादा योगदान स्वतंत्र भारत को एक करने के लिए वहीं भारत के निर्माता का राष्ट्रीय एकता के बेजोड़ सरदार बल्लभ भाई पटेल के महत्व को सदैव याद रखा जाएगा भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन को एक नई दिशा देने के कारण सरदार पटेल ने राजनीति याद में गोरखपुर व्यक्तिगत में संगठन को संसार राजनीति सत्ता तथा राष्ट्रीय एकता के प्रति असीम शक्ति से उन्होंने नवजात गणराज्य की प्रारंभिक कहानियों का समाधान किया और यह गृह मंत्री ज्योति बन गई और उनकी जिम्मेदारियां दी हुई शॉपिंग की शादी के लिए गई है तो मेरे कहने का यह मतलब था धनी
Vande maataram bahut hee mast savaal hai ki saradaar ballabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai to jo dekhee re haay sakate hain jo hamaaree svatantr bhaarat kee pahalee upalabdhi thee aur nirvivaad roop se patel saahab ka vishesh yogadaan tha aap yahaan patel saahab main saradaar vallabh bhaee patel ko bol rahee hoon to neetigat jadata ke lie raashtrapita mahaatma gaandhee ne unhen saradaar kulloo kee upaadhi dee thee aur ballabh bhaee patel ne aajaad bhaarat mein kitane saal raajy banaane mein ullekhaneey yogadaan diya tha inaka jo yogadaan hai kabhee bhulaaya nahin ja sakata hai aajaadee ke sangharsh mein unhonne jitana yogadaan diya se jyaada yogadaan svatantr bhaarat ko ek karane ke lie vaheen bhaarat ke nirmaata ka raashtreey ekata ke bejod saradaar ballabh bhaee patel ke mahatv ko sadaiv yaad rakha jaega bhaarateey raashtreey aandolan ko ek naee disha dene ke kaaran saradaar patel ne raajaneeti yaad mein gorakhapur vyaktigat mein sangathan ko sansaar raajaneeti satta tatha raashtreey ekata ke prati aseem shakti se unhonne navajaat ganaraajy kee praarambhik kahaaniyon ka samaadhaan kiya aur yah grh mantree jyoti ban gaee aur unakee jimmedaariyaan dee huee shoping kee shaadee ke lie gaee hai to mere kahane ka yah matalab tha dhanee

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:29
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है कि सरदार वल्लभभाई पटेल जोक्स एक दृढ़ निश्चय व्यक्ति थे और अपने क्षमता की वजह से मतलब प्रशासनिक क्षमता और अद्भुत दृढ़ निश्चय निश्चय की वजह से इन्हें महात्मा गांधी ने इनके विश्वास और इनको कार्य क्षमता को देखते हुए भी उपाधि दी और वह आप समझते हैं कि आयरन मैन ऑफ इंडिया लौह पुरुष के नाम से जाने गए और महात्मा गांधी के द्वारा ही कहा गया पहली बार लौह पुरुष इंसान है सरदार वल्लभभाई पटेल आयरन मैन ऑफ इंडिया तो इनकी एक निश्चय दृढ़ निश्चय की वजह से हमारी यू देशी रियासतें थी एक सूत्र में बांधने और विलय करने में बहुत बड़ा उनका योगदान था भारतीय रियासतों के विलय में जो जिम्मेदारी सौंपी गई थी इन्होंने नीतिगत दृढ़ता से महात्मा गांधी जी के साथ मिलकर उन्होंने इतना ज्यादा मेहनत किया कि जो देसी रियासतों को एक कहा जाए कि विलय में सबसे अधिक योगदान इन्हीं का है इसी की वजह से इन्हें लौह पुरुष के रूप में जाना जाता है और आपको यह भी बता दें कि जब हमारा भारत स्वतंत्र हुआ उस समय 565 हरिया स्तिथि समस्या यह थी कि कुछ रियासतें स्वतंत्र भारत में रहना चाहती थी जबकि कुछ ऐसी थी जो पाकिस्तान से काफी दूर होने के बावजूद भी पाकिस्तान का हिस्सा बनना चाहती थी जिन्होंने इस तरह की कवायद शुरू हो गई थी तू सरदार वल्लभ भाई पटेल को जिम्मेदारियां सौंपा गया कि आप इन लोगों को आप अपने हिसाब से इन लोगों को बताइए समझाइए कि हां हमें पाकिस्तान में जाने में फायदा है कि भारत में रहने में फायदा भारत एक स्वतंत्र है और इस संविधान के थ्रू हम उनकी रक्षा की जिम्मेदारी लेते हैं बहुत सारे ऐसे बैठे हुए जो सरदार वल्लभभाई पटेल ने लोगों में जागरूकता फैलाई और देश को मिले कहा जाए कि देसी रियासतों में विलय करने के लिए बहुत ही अहम चीजें उठाए थे और इन्हीं की वजह से हमारी देशी रियासतें एक सूत में हो गई और इसी कारण से इनेलो पुरुष के रूप में जाना
Saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai ki saradaar vallabhabhaee patel joks ek drdh nishchay vyakti the aur apane kshamata kee vajah se matalab prashaasanik kshamata aur adbhut drdh nishchay nishchay kee vajah se inhen mahaatma gaandhee ne inake vishvaas aur inako kaary kshamata ko dekhate hue bhee upaadhi dee aur vah aap samajhate hain ki aayaran main oph indiya lauh purush ke naam se jaane gae aur mahaatma gaandhee ke dvaara hee kaha gaya pahalee baar lauh purush insaan hai saradaar vallabhabhaee patel aayaran main oph indiya to inakee ek nishchay drdh nishchay kee vajah se hamaaree yoo deshee riyaasaten thee ek sootr mein baandhane aur vilay karane mein bahut bada unaka yogadaan tha bhaarateey riyaasaton ke vilay mein jo jimmedaaree saumpee gaee thee inhonne neetigat drdhata se mahaatma gaandhee jee ke saath milakar unhonne itana jyaada mehanat kiya ki jo desee riyaasaton ko ek kaha jae ki vilay mein sabase adhik yogadaan inheen ka hai isee kee vajah se inhen lauh purush ke roop mein jaana jaata hai aur aapako yah bhee bata den ki jab hamaara bhaarat svatantr hua us samay 565 hariya stithi samasya yah thee ki kuchh riyaasaten svatantr bhaarat mein rahana chaahatee thee jabaki kuchh aisee thee jo paakistaan se kaaphee door hone ke baavajood bhee paakistaan ka hissa banana chaahatee thee jinhonne is tarah kee kavaayad shuroo ho gaee thee too saradaar vallabh bhaee patel ko jimmedaariyaan saumpa gaya ki aap in logon ko aap apane hisaab se in logon ko bataie samajhaie ki haan hamen paakistaan mein jaane mein phaayada hai ki bhaarat mein rahane mein phaayada bhaarat ek svatantr hai aur is sanvidhaan ke throo ham unakee raksha kee jimmedaaree lete hain bahut saare aise baithe hue jo saradaar vallabhabhaee patel ne logon mein jaagarookata phailaee aur desh ko mile kaha jae ki desee riyaasaton mein vilay karane ke lie bahut hee aham cheejen uthae the aur inheen kee vajah se hamaaree deshee riyaasaten ek soot mein ho gaee aur isee kaaran se inelo purush ke roop mein jaana

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:02
आज आपका सवाल है कि सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है सरदार वल्लभभाई पटेल को लौह पुरुष महात्मा गांधी जी ने यह नाम होने दिया था क्योंकि सरदार वल्लभभाई पटेल का मतलब आजादी में बहुत ही खास योगदान है और उन्होंने मतलब आजादी में और हीरा के जिस तरह से हमारे देश को आजादी मिली है जो पूरी तरह से प्रक्रिया है उसमें उसकी खास भूमिका है जिसके कारण मतलब लोग आज भी चाहे वह बुजुर्ग बच्चे हो आज भी सरदार वल्लभभाई पटेल को याद करते हैं तो आज भी लोग जाने क्यों नहीं मतलब भूल गए उनकी बातें उनके अनेक लोग आज भी बहुत ही शिद्दत से देखते हैं और समझते हैं और आवाज भी उन्हें याद करते हैं तो उनके योगदान को देखकर उनकी भूमिका को देखकर ही पुरुष कहा जाता है
Aaj aapaka savaal hai ki saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai saradaar vallabhabhaee patel ko lauh purush mahaatma gaandhee jee ne yah naam hone diya tha kyonki saradaar vallabhabhaee patel ka matalab aajaadee mein bahut hee khaas yogadaan hai aur unhonne matalab aajaadee mein aur heera ke jis tarah se hamaare desh ko aajaadee milee hai jo pooree tarah se prakriya hai usamen usakee khaas bhoomika hai jisake kaaran matalab log aaj bhee chaahe vah bujurg bachche ho aaj bhee saradaar vallabhabhaee patel ko yaad karate hain to aaj bhee log jaane kyon nahin matalab bhool gae unakee baaten unake anek log aaj bhee bahut hee shiddat se dekhate hain aur samajhate hain aur aavaaj bhee unhen yaad karate hain to unake yogadaan ko dekhakar unakee bhoomika ko dekhakar hee purush kaha jaata hai

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:38
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आप लोगों का प्रश्न है सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है तो फ्रेंड सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष कहा जाता है यह बिल्कुल सत्य बात है और वह लोह पुरुष थे इतनी ताकत थी और इतनी मजबूती से हर काम के लिए खड़े रहते थे कि उन्हें लोग पुरुष कहा गया उन्होंने देश के लिए बहुत सारे कार्य किए और भेजो कार ठान लेते थे उसे करके ही मानते थे इसीलिए उनको लौह पुरुष कहा गया है तो फ्रेंड अगर आपको मेरे जवाब पसंद आए तो प्लीज मुझे लाइक जरूर करते रहिएगा फ्रेंड ऐसे ही सपोर्ट करते रहिए मुझे आप लोगों का बहुत-बहुत धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aap logon ka prashn hai saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai to phrend saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kaha jaata hai yah bilkul saty baat hai aur vah loh purush the itanee taakat thee aur itanee majabootee se har kaam ke lie khade rahate the ki unhen log purush kaha gaya unhonne desh ke lie bahut saare kaary kie aur bhejo kaar thaan lete the use karake hee maanate the iseelie unako lauh purush kaha gaya hai to phrend agar aapako mere javaab pasand aae to pleej mujhe laik jaroor karate rahiega phrend aise hee saport karate rahie mujhe aap logon ka bahut-bahut dhanyavaad

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
घर पर ही रहता हूं बैटरी बनाने का कार्य करता हूं और मोबाइल रिचार्ज इत्यादि
0:39
सवाल है सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है देखिए देशी रियासतों का विलय स्वतंत्र भारत की पहली उपलब्धि थी और निर्विवाद रूप से पटेल जी का इसमें विशेष योगदान था नीतिगत जड़ता के लिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने उन्हें सरदार वल्लभ भाई पटेल के नाम से पुकारा था लोह पुरुष की उपाधि दी थी वल्लभ भाई पटेल ने आजाद भारत को एक विशाल राष्ट्र बनाने में उल्लेखनीय योगदान दिया है धन्यवाद
Savaal hai saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai dekhie deshee riyaasaton ka vilay svatantr bhaarat kee pahalee upalabdhi thee aur nirvivaad roop se patel jee ka isamen vishesh yogadaan tha neetigat jadata ke lie raashtrapita mahaatma gaandhee ne unhen saradaar vallabh bhaee patel ke naam se pukaara tha loh purush kee upaadhi dee thee vallabh bhaee patel ne aajaad bhaarat ko ek vishaal raashtr banaane mein ullekhaneey yogadaan diya hai dhanyavaad

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:28
कार बल्लभ भाई पटेल के जो फैसले होते तो राष्ट्रभक्ति के लिए होते थे वह जो भी निर्णय लेते थे वह बोल दिल्ली लेते थे चाहे उसमें देश का फायदा होना चाहिए और चाहे किसी व्यक्ति विशेष का फायदा हुए राजनीतिक दलों का फायदा हो या नहीं वह अपने सिर और बोल्ड निर्णय के लिए ही उन को लौह पुरुष कहा जाता था कि लव के समान उनके निर्णय बलवान होते थे और जनता को लाभ प्रदान करती इसलिए बोला पुरुष की संज्ञा दी गई थी
Kaar ballabh bhaee patel ke jo phaisale hote to raashtrabhakti ke lie hote the vah jo bhee nirnay lete the vah bol dillee lete the chaahe usamen desh ka phaayada hona chaahie aur chaahe kisee vyakti vishesh ka phaayada hue raajaneetik dalon ka phaayada ho ya nahin vah apane sir aur bold nirnay ke lie hee un ko lauh purush kaha jaata tha ki lav ke samaan unake nirnay balavaan hote the aur janata ko laabh pradaan karatee isalie bola purush kee sangya dee gaee thee

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
Vijay shankar pal Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Vijay जी का जवाब
My youtube channel - Tech with vijay
0:37
नमस्कार साथियों सवाल है सरदार बल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है तो साथियों देसी रियासतों का विलय स्वतंत्र भारत की पहली उपलब्धि थी और निर्विवाद रूप से पटेल का इसमें विशेष योगदान था साथियों नीतिगत दृढ़ता के लिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने उन्हें सरदार और पुरुष की उपाधि दी थी साथियों बल्लम भाई पटेल ने आजाद भारत को एक विशाल राष्ट्र बनाने में उल्लेखनीय योगदान दिया था कि आपको जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद साथियों
Namaskaar saathiyon savaal hai saradaar ballabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai to saathiyon desee riyaasaton ka vilay svatantr bhaarat kee pahalee upalabdhi thee aur nirvivaad roop se patel ka isamen vishesh yogadaan tha saathiyon neetigat drdhata ke lie raashtrapita mahaatma gaandhee ne unhen saradaar aur purush kee upaadhi dee thee saathiyon ballam bhaee patel ne aajaad bhaarat ko ek vishaal raashtr banaane mein ullekhaneey yogadaan diya tha ki aapako javaab pasand aaya hoga dhanyavaad saathiyon

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:45
नमस्कार दोस्तों बोलकर आप में स्वागत है सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है हम आपको बताता प्रशासनिक क्षमता और भूत दृढ़ निश्चय होना अर्थात देश जब आजाद हुआ तब वक्त 565 रियासतें थी और वल्लभभाई पटेल ने ब्रिटिश शासन को को दो विकल्प दिए कि या तो आप भारत को चुनो या पाकिस्तान को इसलिए उन्होंने भारत को चुना इसी वजह से सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष कहा जाता है
Namaskaar doston bolakar aap mein svaagat hai saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai ham aapako bataata prashaasanik kshamata aur bhoot drdh nishchay hona arthaat desh jab aajaad hua tab vakt 565 riyaasaten thee aur vallabhabhaee patel ne british shaasan ko ko do vikalp die ki ya to aap bhaarat ko chuno ya paakistaan ko isalie unhonne bhaarat ko chuna isee vajah se saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kaha jaata hai

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
PRAVIN KUMAR Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए PRAVIN जी का जवाब
Private teacher
1:22
आपका सवाल है सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है देखिए हम आपको बताना चाहेंगे कि पटेल जी जो थे उनके आलोचक अर्थात आलोचना करने वाले ही उन्हें एक बेहतरीन और बहुत कर्मठ रखा सच मानते आए हैं और कहा जाता है कि वे हर काम की बारीकियों को बहुत ही लगन के साथ समझते थे इसके बाद उसके गुण दोषों पर विचार करती है और फिर फैसला लीजिए उनके धैर्य और कार्यकुशलता की तारीफ महात्मा गांधी जीवनी करते रहे तुम से साफ पता चलता है कि उनके लव गुरु होने की सबसे बड़ी वजह है उनमें बहुत ज्यादा प्रशासनिक क्षमता और अद्भुत दृश्य होना विश्वास से आपको आपके सवाल का आंसर मिला होगा धन्यवाद
Aapaka savaal hai saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai dekhie ham aapako bataana chaahenge ki patel jee jo the unake aalochak arthaat aalochana karane vaale hee unhen ek behatareen aur bahut karmath rakha sach maanate aae hain aur kaha jaata hai ki ve har kaam kee baareekiyon ko bahut hee lagan ke saath samajhate the isake baad usake gun doshon par vichaar karatee hai aur phir phaisala leejie unake dhairy aur kaaryakushalata kee taareeph mahaatma gaandhee jeevanee karate rahe tum se saaph pata chalata hai ki unake lav guru hone kee sabase badee vajah hai unamen bahut jyaada prashaasanik kshamata aur adbhut drshy hona vishvaas se aapako aapake savaal ka aansar mila hoga dhanyavaad

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है तो भारत जब ब्रिटिश अनु से स्वतंत्र हुआ था तब ब्रिटिश ने एक कानून करके ब्रिटिश इंडिया का जो सत्ता की सत्ता जो होती है उसका ट्रांसफर ऑफ़ पॉवर कानून बनाकर सत्ता का ट्रांसफर भारतीयों के लिए किया था और उसके तहत वीडियो सोनिया का शासन व भारतीयों के को को सौंप दिया था लेकिन ब्रिटिश इंडिया जो है और भारत का जो इंडिया भारत का जो मैप वह अलग था कई राजा संस्था ने भारत में अब तक मिली नहीं हुए थे और उसी वक्त एक अलग देश पाकिस्तान बढ़ाने की मांग और दक्षिण में भी द्रविड़ स्थान बनाने की मांग और ऐसे कई नागालैंड भारत में कब शामिल भी नहीं हुआ था असम कश्मीर कश्मीर भी शामिल नहीं हुआ था ऐसी परिस्थितियां थी तो एक आगे की सोच भविष्य की सोच सरदार वल्लभ भाई पटेल जी ने दिखाई अगर यह देश स्वतंत्र भारत के मैं आपके आपके अंदर गोल गोल दिखाई देंगे चित्र दिखाई देगी और वहां पर भारत का शासन नहीं होगा और कोई लोकल राजा या संस्थान का शासन होगा या कुछ भी वहां पर हो सकता था कोई विदेशी शक्ति विवाह पर प्रभावी रह सकती थी तो इन को भारत में शामिल करना बहुत जरूरी था तब सरदार वल्लभ भाई पटेल जी ने साम दाम दंड भेद नीति का ओलंपिक करके हर तरीके से हर एक स्थान को भारत में शामिल करने की प्रयास किया उसमें वह सफल होगे ज्यादा तो संस्थान अपने आप विलीन हो गई हैदराबाद से हैदराबाद संस्थान में सजा पटेल जी ने पुलिस कार्रवाई की वहां का निजाम पूछा उसने अपनी एक खोज बनाकर वहां के लोकल एरिया पर जबरदस्ती करके और अत्याचार करने के लिए शुरू की अच्छी है और वह पाकिस्तान में शामिल होना चाहता था और राजा का नाम किशनगढ़ ना बनाएगी तो सरदार पटेल जी ने भेजी और यह जो रजाकर थे इनके ऐसे हाल बनाएगी इनका जो मुखिया था वह पाकिस्तान में चला गया और एक प्रमुख नेता था वह मारा गया कईयों की लाश एक साथ दफनाए गई भारत सरकार द्वारा और निजाम को का हैदराबाद संस्थान भारत में शामिल किया कुछ साल बाद गोवा में पुरुषों के पुरुषों को किस थे वहां पर भी पुलिस की कार्रवाई कर दी गई उसके पीछे भी सरदार वल्लभ भाई पटेल जी की सोच थी और 3 दिन में गोवा उर्दू कॉल से उस वक्त सब नंबर लिया गया और उस वक्त बड़े संघर्ष की स्थिति निर्माण हुई थी पुर्तगाल से सैनी की जहाज भारत की ओर निकले थे लेकिन बीच में उन्हें अरबोने भारत के दिशा में जाने के लिए रोक दिया भारत और अरब के संबंध अच्छे थे आज भी है तो एक संघर्ष हुआ पर खड़ा हो जाता कश्मीर में पाकिस्तानी घुसपैठियों ने और पोलियो ने कश्मीर में घुस घुस घुस कर राजधानी श्रीनगर तक एक आगे कुछ खींची और पूरा कश्मीर पाकिस्तान के हाथ में जाने की स्थिति निर्माण हो गई थी तब वहां का राजा राजा हरिसिंह था उसने सरदार वल्लभभाई पटेल को विनती की और कुछ शर्तों पर उसने कश्मीर को भारत में विलीन करने की तैयारी दिखाइए और वह भारत का भारत में कश्मीर शामिल हुआ लेकिन कुछ उसमें कुछ अटपटी अच्छे उसके बाद भारत की खोज वहां पर थे भेजी गई और उन्होंने उन्हें फिर पीछे धकेल धकेल कर आज का जो पाक अधिकृत कश्मीर है वहां तक आज की सीमा से जुड़े प्रत्येक शतावर ऐसा वार्ता को उनको पीछे शरीर दिया था तो ऐसी दूध का मुंह के कारण सरदार वल्लभभाई पटेल
Saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai to bhaarat jab british anu se svatantr hua tha tab british ne ek kaanoon karake british indiya ka jo satta kee satta jo hotee hai usaka traansaphar of povar kaanoon banaakar satta ka traansaphar bhaarateeyon ke lie kiya tha aur usake tahat veediyo soniya ka shaasan va bhaarateeyon ke ko ko saump diya tha lekin british indiya jo hai aur bhaarat ka jo indiya bhaarat ka jo maip vah alag tha kaee raaja sanstha ne bhaarat mein ab tak milee nahin hue the aur usee vakt ek alag desh paakistaan badhaane kee maang aur dakshin mein bhee dravid sthaan banaane kee maang aur aise kaee naagaalaind bhaarat mein kab shaamil bhee nahin hua tha asam kashmeer kashmeer bhee shaamil nahin hua tha aisee paristhitiyaan thee to ek aage kee soch bhavishy kee soch saradaar vallabh bhaee patel jee ne dikhaee agar yah desh svatantr bhaarat ke main aapake aapake andar gol gol dikhaee denge chitr dikhaee degee aur vahaan par bhaarat ka shaasan nahin hoga aur koee lokal raaja ya sansthaan ka shaasan hoga ya kuchh bhee vahaan par ho sakata tha koee videshee shakti vivaah par prabhaavee rah sakatee thee to in ko bhaarat mein shaamil karana bahut jarooree tha tab saradaar vallabh bhaee patel jee ne saam daam dand bhed neeti ka olampik karake har tareeke se har ek sthaan ko bhaarat mein shaamil karane kee prayaas kiya usamen vah saphal hoge jyaada to sansthaan apane aap vileen ho gaee haidaraabaad se haidaraabaad sansthaan mein saja patel jee ne pulis kaarravaee kee vahaan ka nijaam poochha usane apanee ek khoj banaakar vahaan ke lokal eriya par jabaradastee karake aur atyaachaar karane ke lie shuroo kee achchhee hai aur vah paakistaan mein shaamil hona chaahata tha aur raaja ka naam kishanagadh na banaegee to saradaar patel jee ne bhejee aur yah jo rajaakar the inake aise haal banaegee inaka jo mukhiya tha vah paakistaan mein chala gaya aur ek pramukh neta tha vah maara gaya kaeeyon kee laash ek saath daphanae gaee bhaarat sarakaar dvaara aur nijaam ko ka haidaraabaad sansthaan bhaarat mein shaamil kiya kuchh saal baad gova mein purushon ke purushon ko kis the vahaan par bhee pulis kee kaarravaee kar dee gaee usake peechhe bhee saradaar vallabh bhaee patel jee kee soch thee aur 3 din mein gova urdoo kol se us vakt sab nambar liya gaya aur us vakt bade sangharsh kee sthiti nirmaan huee thee purtagaal se sainee kee jahaaj bhaarat kee or nikale the lekin beech mein unhen arabone bhaarat ke disha mein jaane ke lie rok diya bhaarat aur arab ke sambandh achchhe the aaj bhee hai to ek sangharsh hua par khada ho jaata kashmeer mein paakistaanee ghusapaithiyon ne aur poliyo ne kashmeer mein ghus ghus ghus kar raajadhaanee shreenagar tak ek aage kuchh kheenchee aur poora kashmeer paakistaan ke haath mein jaane kee sthiti nirmaan ho gaee thee tab vahaan ka raaja raaja harisinh tha usane saradaar vallabhabhaee patel ko vinatee kee aur kuchh sharton par usane kashmeer ko bhaarat mein vileen karane kee taiyaaree dikhaie aur vah bhaarat ka bhaarat mein kashmeer shaamil hua lekin kuchh usamen kuchh atapatee achchhe usake baad bhaarat kee khoj vahaan par the bhejee gaee aur unhonne unhen phir peechhe dhakel dhakel kar aaj ka jo paak adhikrt kashmeer hai vahaan tak aaj kee seema se jude pratyek shataavar aisa vaarta ko unako peechhe shareer diya tha to aisee doodh ka munh ke kaaran saradaar vallabhabhaee patel

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:16
नमस्कार मैं ब्रहम प्रकाश मिश्र आपका मन करे पर हार्दिक स्वागत करता हूं आप का सवाल है सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है जी मित्र सरदार पटेल को भारत का लौह पुरुष कहने के पीछे एक बहुत बड़ी कहानी है और इस कहानी को हम इतने बहन कर सकते हैं भारत के गृह मंत्री बनने के बाद भारतीय रियासतों के विलय की जिम्मेदारी सरदार वल्लभ भाई पटेल जी को सौंपी गई थी उन्होंने अपने दायित्वों का निर्वहन करते हुए 600 छोटी बड़ी रियासतों का भारत में विलय कराया देसी रियासतों का विलय स्वतंत्र भारत की पहली उपलब्धि थी और निर्विवाद रूप से पटेल का इसमें विशेष योगदान रहा था इस योगदान को देखते हुए और नीतिगत जड़ता को देखते हुए महात्मा गांधी यानी राष्ट्रपिता जी ने उन्हें सरदार और लौह पुरुष की उपाधियां दी थी वल्लभ भाई पटेल ने आजाद भारत को एक विशाल राष्ट्र बनाने में उल्लेखनीय योगदान दिया और इस उल्लेखनीय योगदान और देश के प्रति उनके प्रयासों को देखते हुए महात्मा गांधी ने उन को लौह पुरुष की उपाधि प्रदान की थी धन्यवाद
Namaskaar main braham prakaash mishr aapaka man kare par haardik svaagat karata hoon aap ka savaal hai saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai jee mitr saradaar patel ko bhaarat ka lauh purush kahane ke peechhe ek bahut badee kahaanee hai aur is kahaanee ko ham itane bahan kar sakate hain bhaarat ke grh mantree banane ke baad bhaarateey riyaasaton ke vilay kee jimmedaaree saradaar vallabh bhaee patel jee ko saumpee gaee thee unhonne apane daayitvon ka nirvahan karate hue 600 chhotee badee riyaasaton ka bhaarat mein vilay karaaya desee riyaasaton ka vilay svatantr bhaarat kee pahalee upalabdhi thee aur nirvivaad roop se patel ka isamen vishesh yogadaan raha tha is yogadaan ko dekhate hue aur neetigat jadata ko dekhate hue mahaatma gaandhee yaanee raashtrapita jee ne unhen saradaar aur lauh purush kee upaadhiyaan dee thee vallabh bhaee patel ne aajaad bhaarat ko ek vishaal raashtr banaane mein ullekhaneey yogadaan diya aur is ullekhaneey yogadaan aur desh ke prati unake prayaason ko dekhate hue mahaatma gaandhee ne un ko lauh purush kee upaadhi pradaan kee thee dhanyavaad

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:31
सवाल है कि सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है सरदार पटेल कोई खास वजह से लौह पुरुष कहा जाता है आजादी के वक्त पटेल ने 562 रजवाड़ों को आजाद भारत की तरह शामिल किया कर लिया था सरदार पटेल ने देश की आजादी में बेहद खास योगदान दिया था पटेल पेशे से वकील थे भारत को एक राष्ट्र बनाने में वल्लभभाई पटेल की खास भूमिका है सरदार पटेल के विचार आज भी देश के लाखों युवाओं को प्रेरणा देते हैं
Savaal hai ki saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai saradaar patel koee khaas vajah se lauh purush kaha jaata hai aajaadee ke vakt patel ne 562 rajavaadon ko aajaad bhaarat kee tarah shaamil kiya kar liya tha saradaar patel ne desh kee aajaadee mein behad khaas yogadaan diya tha patel peshe se vakeel the bhaarat ko ek raashtr banaane mein vallabhabhaee patel kee khaas bhoomika hai saradaar patel ke vichaar aaj bhee desh ke laakhon yuvaon ko prerana dete hain

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
0:42
काराकाट वाले सरदार बल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है लव पुरुष का नाम ही ने महात्मा गांधी जी ने दिया था और विशेष योगदान है हमारे राष्ट्र के निर्माण में इनका क्योंकि हमारा देश स्वतंत्र होने के बाद विचित्र इंसान था इनका पीली सरदार बल्लभ भाई पटेल जी का विशेष योगदान दिया था चाहे किसी भी कार्य को करने में थे अब किसी का आना भी जरूरी होता है उसी तरीके से सरदार बल्लभ भाई पटेल जी ने काम किया था कि काम को देखते हुए महात्मा गांधी जी ने ऐसा नाम दिया किसी ने कहा जाने लगा जवाब पसंद आएगा आप लोग खुश रहिए दूसरों को भी खुश रखे
Kaaraakaat vaale saradaar ballabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai lav purush ka naam hee ne mahaatma gaandhee jee ne diya tha aur vishesh yogadaan hai hamaare raashtr ke nirmaan mein inaka kyonki hamaara desh svatantr hone ke baad vichitr insaan tha inaka peelee saradaar ballabh bhaee patel jee ka vishesh yogadaan diya tha chaahe kisee bhee kaary ko karane mein the ab kisee ka aana bhee jarooree hota hai usee tareeke se saradaar ballabh bhaee patel jee ne kaam kiya tha ki kaam ko dekhate hue mahaatma gaandhee jee ne aisa naam diya kisee ne kaha jaane laga javaab pasand aaega aap log khush rahie doosaron ko bhee khush rakhe

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
vineet Upadhyay  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vineet जी का जवाब
Unknown
2:58
हेलो डियर आपका प्रश्न है सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है सरदार वल्लभ भाई पटेल जी का एक बहुत ही इंपॉर्टेंट में मिलकर रोल रहा है हमारी भारत को अखंड बनाने में उनका बहुत बड़ा योगदान है जब हमारे भारत देश और पाकिस्तान का पार्टीशन हुआ था तो भारत एक अखंड देश नहीं था भारत में बहुत सारे छोटे छोटे राज्य और प्रदेश हुआ करते थे करीब करीब साडे पांच सौ के अतीत और प्रोविंसेस थे ट्रीट और प्रवेश के पास तीन ऑप्शन थे या तो वह इंडिपेंडेंट है या तो फिर पाकिस्तान के साथ जुड़ जाए फिर भारत के साथ जुड़ जाए डे हेप्पी चॉइसेज इफ यू वांट टू लीव इंडिपेंडेंट और कनेक्ट विद पाकिस्तान और कनेक्ट विद इंडिया टू जो हमारे सरदार वल्लभभाई पटेल थे वह उन्होंने एक अपना यहीं से उनका एक महत्वपूर्ण योगदान चालू होता है भारत के लिए वह जितने भी हमारे राज्य में भारत में जितने भी छोटे-छोटे राज्य और प्रदेश सचिव थे उन्होंने वहां वहां जाकर विजिट किया और वहां के राजाओं और छात्रों को बजाओ को सब को वहां की उनसे बातें कि उनको कन्वेंस किया हमारे अपने भारत देश के साथ जोड़ने के लिए और वहां के राजा और जो तानाशाह शासन शासन जो थे वहां की वह उनसे संतुष्ट थे और खुश हूं इसी की वजह से उन्होंने वह हमारे इंडिया के साथ धीरे-धीरे जोड़ना स्टार्ट हो गया और तभी से हमारा जो कृषि है भारत देश जो है वह पहले वह पहले के जमाने में स्काई टेक्निशियन था और उनकी वजह से ही हमारे जो भारत देश है आज यूनाइटेड नेशन बन गया है और वह उनका मिशन स्कूल इसमें यह रहा कि विदाउट एनी हम किसी को कुछ नुकसान पहुंचाए बिना खून खराबा शांति के साथ उन्होंने अपने साडे पांच सौ प्रदेश और राज्य को कमेंट किया आपने बाहर देश के साथ जुड़ने में जिसकी वजह से आज हमारा देश एक यूनाइटेड नेशन बन गया अखंड भारत बन गया और यही एक बात और दूसरी बात यह है कि पाकिस्तान और ब्रिटिश वाले जब भी हमारे ऊपर कभी भी कुछ कोशिश करते थे आक्रमण करने आप उसी करने कुछ सोचते तो यह हमेशा की लोहे की तरह खड़े रहते थे उनके सामने एक स्ट्रांग एंड टाइप की तरह ही इसीलिए वह जॉब करते हैं इतना रिस्पेक्ट इसीलिए उनको लव पुरुष कहा जाता है उम्मीद है समझ में
Helo diyar aapaka prashn hai saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai saradaar vallabh bhaee patel jee ka ek bahut hee importent mein milakar rol raha hai hamaaree bhaarat ko akhand banaane mein unaka bahut bada yogadaan hai jab hamaare bhaarat desh aur paakistaan ka paarteeshan hua tha to bhaarat ek akhand desh nahin tha bhaarat mein bahut saare chhote chhote raajy aur pradesh hua karate the kareeb kareeb saade paanch sau ke ateet aur provinses the treet aur pravesh ke paas teen opshan the ya to vah indipendent hai ya to phir paakistaan ke saath jud jae phir bhaarat ke saath jud jae de heppee choisej iph yoo vaant too leev indipendent aur kanekt vid paakistaan aur kanekt vid indiya too jo hamaare saradaar vallabhabhaee patel the vah unhonne ek apana yaheen se unaka ek mahatvapoorn yogadaan chaaloo hota hai bhaarat ke lie vah jitane bhee hamaare raajy mein bhaarat mein jitane bhee chhote-chhote raajy aur pradesh sachiv the unhonne vahaan vahaan jaakar vijit kiya aur vahaan ke raajaon aur chhaatron ko bajao ko sab ko vahaan kee unase baaten ki unako kanvens kiya hamaare apane bhaarat desh ke saath jodane ke lie aur vahaan ke raaja aur jo taanaashaah shaasan shaasan jo the vahaan kee vah unase santusht the aur khush hoon isee kee vajah se unhonne vah hamaare indiya ke saath dheere-dheere jodana staart ho gaya aur tabhee se hamaara jo krshi hai bhaarat desh jo hai vah pahale vah pahale ke jamaane mein skaee teknishiyan tha aur unakee vajah se hee hamaare jo bhaarat desh hai aaj yoonaited neshan ban gaya hai aur vah unaka mishan skool isamen yah raha ki vidaut enee ham kisee ko kuchh nukasaan pahunchae bina khoon kharaaba shaanti ke saath unhonne apane saade paanch sau pradesh aur raajy ko kament kiya aapane baahar desh ke saath judane mein jisakee vajah se aaj hamaara desh ek yoonaited neshan ban gaya akhand bhaarat ban gaya aur yahee ek baat aur doosaree baat yah hai ki paakistaan aur british vaale jab bhee hamaare oopar kabhee bhee kuchh koshish karate the aakraman karane aap usee karane kuchh sochate to yah hamesha kee lohe kee tarah khade rahate the unake saamane ek straang end taip kee tarah hee iseelie vah job karate hain itana rispekt iseelie unako lav purush kaha jaata hai ummeed hai samajh mein

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:40
10 वाले के सरदार बल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है तो सरदार पटेल को एक खास वजह से लोग पुरुष कहा जाता है आजादी के वक्त पटेल ने 562 रजवाड़ों को आजाद भारत की तरह शामिल तरफ शामिल किया और सरदार पटेल ने देश की आजादी में बहुत खास योगदान दिया था पटेल पेशे से वकील थे भारत को एक राष्ट्रीय बनाने में बल्लभ भाई पटेल की खास भूमिका है सरदार पटेल के विचार आज भी देश के लाखों युवाओं के लिए प्रेरणादायक है लैंग्वेज
10 vaale ke saradaar ballabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai to saradaar patel ko ek khaas vajah se log purush kaha jaata hai aajaadee ke vakt patel ne 562 rajavaadon ko aajaad bhaarat kee tarah shaamil taraph shaamil kiya aur saradaar patel ne desh kee aajaadee mein bahut khaas yogadaan diya tha patel peshe se vakeel the bhaarat ko ek raashtreey banaane mein ballabh bhaee patel kee khaas bhoomika hai saradaar patel ke vichaar aaj bhee desh ke laakhon yuvaon ke lie preranaadaayak hai laingvej

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
ravideep singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ravideep जी का जवाब
students
0:41

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:32
क्या आपका प्रश्न है सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है हां देखे सरदार साहब को लौह पुरुष यानी आयरन मैन ऑफ इंडिया भी कहा जाता है अब सवाल यह है कि उन्हें यह नाम क्यों दिया गया पाटिल को उनके आलोचक भी बेहतरीन और कर्मठ प्रशासक मानते आए हैं कहा जाता है कि वह हर गम की बारीकियों को बहुत हां तन्मयता और लगन से समझते थे
Kya aapaka prashn hai saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai haan dekhe saradaar saahab ko lauh purush yaanee aayaran main oph indiya bhee kaha jaata hai ab savaal yah hai ki unhen yah naam kyon diya gaya paatil ko unake aalochak bhee behatareen aur karmath prashaasak maanate aae hain kaha jaata hai ki vah har gam kee baareekiyon ko bahut haan tanmayata aur lagan se samajhate the

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
3:12
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है उसका नाम को दिया था एक ऐसे व्यक्तित्व थे यह देश के पहले गृह मंत्री थे हंगरी मंत्री रहते हुए निश्चित तौर पर भारत के 552 देशी रियासतें थी जोक बहुत तेजी से उभर रही थी अलग अलग राष्ट्र के रूप में विकसित होने के लिए और इंद्र सभी रियासतों को एक सूत्र में बांधना और भारत की एकता में लाकर फिर सोना है कि किसी लौह पुरुष केबल काम है यह इतनी दीक्षा रखना वाला व्यक्तित्व और देश की एकता अखंडता के बारे में सोचने वाले कहीं न कहीं पुरुष की तुलना की जाती है स्किन के बारे में बहुत सारी पॉपुलर है 1960 की बात है कि क्योंकि बैरिस्टर थे वकील थे और कोर्ट में डिसीजन ना हो जज के साथ कर रहे थे भाई और पता नहीं कोई आया और एक चिट्ठी पकड़ाया हॉट थी पढ़ करके उन्होंने अपनी पॉकेट में निकले और बहन जारी रखा और जब भैंस खत्म हुई तो पूछा दैनिक भी कौन सी सिटी आपने पढ़ा उन्होंने कहा कि मेरी पत्नी की मृत्यु हो गई थी आपके व्रत प्रत्येक अमृत होगी फिर भी आप तो उन्होंने कहा कि मेरा कर्तव्य था पत्नी थी चली गई कोई बात नहीं तो निश्चित तौर पर हो जो कर्तव्यनिष्ठा दिखाती है कर्तव्य परायणता जो दिखाती है उनके लौह पुरुष बनने का सोमनाथ मंदिर की पूरी तरह से तहस-नहस कर दिया गया उस समय पालन हेतु प्रधानमंत्री के उस का पुनरुद्धार करना जवाहरलाल नेहरू वाली कर रहे थे उन्होंने अपने दिल है शानदार बंदर जो आज भक्त विशाल का इमारत बनी है सोमनाथ मंदिर का परिणाम सरदार वल्लभभाई पटेल और कश्मीर का मुद्दा हो या राम जन्मभूमि का अगर वल्लभभाई पटेल की बातों को माना गया होता तो शायद ही मुद्दे होते कि नहीं तो निश्चित तौर पर योगदान है भारतीय इतिहास में वह पुरुष और सबसे पहले महात्मा गांधी ने ही इनको लो और उसकी तुलना उपाधि दी थी और तब से आज हम सभी सरदार वल्लभभाई हुए कार्य जो भी लोहा मनवा सकते हैं ओन्ली 552 विचारधारा और उसको एक सूत्र में पिरोना कितना अच्छा कठिन रहा होगा कितना चुनौतीपूर्ण रहा होगा उन्होंने करके दिखाया
Saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai usaka naam ko diya tha ek aise vyaktitv the yah desh ke pahale grh mantree the hangaree mantree rahate hue nishchit taur par bhaarat ke 552 deshee riyaasaten thee jok bahut tejee se ubhar rahee thee alag alag raashtr ke roop mein vikasit hone ke lie aur indr sabhee riyaasaton ko ek sootr mein baandhana aur bhaarat kee ekata mein laakar phir sona hai ki kisee lauh purush kebal kaam hai yah itanee deeksha rakhana vaala vyaktitv aur desh kee ekata akhandata ke baare mein sochane vaale kaheen na kaheen purush kee tulana kee jaatee hai skin ke baare mein bahut saaree popular hai 1960 kee baat hai ki kyonki bairistar the vakeel the aur kort mein diseejan na ho jaj ke saath kar rahe the bhaee aur pata nahin koee aaya aur ek chitthee pakadaaya hot thee padh karake unhonne apanee poket mein nikale aur bahan jaaree rakha aur jab bhains khatm huee to poochha dainik bhee kaun see sitee aapane padha unhonne kaha ki meree patnee kee mrtyu ho gaee thee aapake vrat pratyek amrt hogee phir bhee aap to unhonne kaha ki mera kartavy tha patnee thee chalee gaee koee baat nahin to nishchit taur par ho jo kartavyanishtha dikhaatee hai kartavy paraayanata jo dikhaatee hai unake lauh purush banane ka somanaath mandir kee pooree tarah se tahas-nahas kar diya gaya us samay paalan hetu pradhaanamantree ke us ka punaruddhaar karana javaaharalaal neharoo vaalee kar rahe the unhonne apane dil hai shaanadaar bandar jo aaj bhakt vishaal ka imaarat banee hai somanaath mandir ka parinaam saradaar vallabhabhaee patel aur kashmeer ka mudda ho ya raam janmabhoomi ka agar vallabhabhaee patel kee baaton ko maana gaya hota to shaayad hee mudde hote ki nahin to nishchit taur par yogadaan hai bhaarateey itihaas mein vah purush aur sabase pahale mahaatma gaandhee ne hee inako lo aur usakee tulana upaadhi dee thee aur tab se aaj ham sabhee saradaar vallabhabhaee hue kaary jo bhee loha manava sakate hain onlee 552 vichaaradhaara aur usako ek sootr mein pirona kitana achchha kathin raha hoga kitana chunauteepoorn raha hoga unhonne karake dikhaaya

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:47
नमस्ते दोस्तों आप का सवाल है सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है तो दोस्तों आपके सवाल को उत्तरीय है सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष इसलिए कहा जाता है कि उनमें नीतिगत जड़ता के लिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष की उपाधि दी थी वल्लभभाई पटेल ने आजाद भारत को एक विशाल राष्ट्र बनाने में बड़ा योगदान है धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Namaste doston aap ka savaal hai saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai to doston aapake savaal ko uttareey hai saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush isalie kaha jaata hai ki unamen neetigat jadata ke lie raashtrapita mahaatma gaandhee ne saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kee upaadhi dee thee vallabhabhaee patel ne aajaad bhaarat ko ek vishaal raashtr banaane mein bada yogadaan hai dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है?Sardar Vallabh Bhai Patel Ko Lauh Purush Kyun Kaha Jata Hai
डॉ0 सीता शुक्ला Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए डॉ0 जी का जवाब
Unknown
2:08
नमस्कार मित्र आपका प्रश्न है सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है तो सरदार वल्लभ भाई पटेल ने भारत के पहले उप प्रधानमंत्री के रूप में कार्य किया था यह बहुत ही अच्छे अधिवक्ता राजनेता और भारतीय राजनीति के और बहुत ही लोकप्रिय नेता थे सन् 1947 में भारत और पाकिस्तान के युद्ध के समय पटेल जी ने भारत के पहले गृहमंत्री के रूप में कार्य किया था इनका स्वतंत्र भारत को एक करने में महत्वपूर्ण योगदान रहा है जिसे भुलाया नहीं जा सकता है गृह मंत्री बनने के बाद ब्रिटिश शासन ने उनके सामने एक विकल्प रखा था कि वह भारत या पाकिस्तान में किसी एक को चुन लें लेकिन उस समय कुछ रिश्ते स्वतंत्र रहना चाहती थी कुछ रास्ते पाकिस्तान से बहुत दूर होने पर भी उनका हिस्सा बनना चाहती थी यह काम करना उनका बहुत ही मुश्किल था पटेल जी ने अपने साहस और सूझबूझ से अखंड भारत की सोच में बाधा बन रहे को दूर करने के लिए उनका यह लिया गया शंकर पर लोन संकल्पिता यह कार्य करना इतना आसान नहीं था सरदार वल्लभभाई पटेल हर काम को उनके गुण दोषों को समझकर बड़ी तन्मयता और लगन के साथ कार्य करते थे तभी उन्होंने बिना खून बहाए ही हो कर देख कर दिखाया सिर्फ हैदराबाद के ऑपरेशन पोलो के लिए उन्हें सेना भेजनी पड़ी थी हैदराबाद के निजाम ने भारत में विलय का प्रस्ताव स्वीकार कर दिया था बाद में उन्हें भी आज सर समर्पण करना पड़ा इस प्रकार पटेल जी ने 565 छोटी बड़ी रियासतों को भारतीय संघ में विलीनीकरण करके भारतीय एकता का निर्माण किया उन्होंने इतनी बड़ी संख्या में राज्यों का एकीकरण करने का साहस किया था भारत के एकीकरण के लिए ही उन्हें भारत का लौह पुरुष माना जाता है वे राष्ट्रीय एकता नवीन भारत के निर्माता के बेजोड़ शिल्पी थे उनके प्रशासनिक क्षमता नीति गद्रता के लिए राष्ट्रपति महात्मा गांधी ने उन्हें सादर और लाइव सोने सरदार और लौह पुरुष की उपाधि दी थी उनका एक विशाल राष्ट्र बनाने में उल्लेखनीय योगदान रहा है धन्यवाद
Namaskaar mitr aapaka prashn hai saradaar vallabh bhaee patel ko lauh purush kyon kaha jaata hai to saradaar vallabh bhaee patel ne bhaarat ke pahale up pradhaanamantree ke roop mein kaary kiya tha yah bahut hee achchhe adhivakta raajaneta aur bhaarateey raajaneeti ke aur bahut hee lokapriy neta the san 1947 mein bhaarat aur paakistaan ke yuddh ke samay patel jee ne bhaarat ke pahale grhamantree ke roop mein kaary kiya tha inaka svatantr bhaarat ko ek karane mein mahatvapoorn yogadaan raha hai jise bhulaaya nahin ja sakata hai grh mantree banane ke baad british shaasan ne unake saamane ek vikalp rakha tha ki vah bhaarat ya paakistaan mein kisee ek ko chun len lekin us samay kuchh rishte svatantr rahana chaahatee thee kuchh raaste paakistaan se bahut door hone par bhee unaka hissa banana chaahatee thee yah kaam karana unaka bahut hee mushkil tha patel jee ne apane saahas aur soojhaboojh se akhand bhaarat kee soch mein baadha ban rahe ko door karane ke lie unaka yah liya gaya shankar par lon sankalpita yah kaary karana itana aasaan nahin tha saradaar vallabhabhaee patel har kaam ko unake gun doshon ko samajhakar badee tanmayata aur lagan ke saath kaary karate the tabhee unhonne bina khoon bahae hee ho kar dekh kar dikhaaya sirph haidaraabaad ke opareshan polo ke lie unhen sena bhejanee padee thee haidaraabaad ke nijaam ne bhaarat mein vilay ka prastaav sveekaar kar diya tha baad mein unhen bhee aaj sar samarpan karana pada is prakaar patel jee ne 565 chhotee badee riyaasaton ko bhaarateey sangh mein vileeneekaran karake bhaarateey ekata ka nirmaan kiya unhonne itanee badee sankhya mein raajyon ka ekeekaran karane ka saahas kiya tha bhaarat ke ekeekaran ke lie hee unhen bhaarat ka lauh purush maana jaata hai ve raashtreey ekata naveen bhaarat ke nirmaata ke bejod shilpee the unake prashaasanik kshamata neeti gadrata ke lie raashtrapati mahaatma gaandhee ne unhen saadar aur laiv sone saradaar aur lauh purush kee upaadhi dee thee unaka ek vishaal raashtr banaane mein ullekhaneey yogadaan raha hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है सरदार वल्लभ भाई को लौह पुरुष क्यों कहा जाता है
URL copied to clipboard