#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

कवि ने ऐसा क्यों कहा है कि संसार बौरा गया है?

Kavi Ne Aisa Kyun Kaha Hai Ki Sansaar Baura Gaya Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:33
आपका प्रश्न है कभी ने ऐसा क्यों कहा कि संसार बौरा गया है आपने कभी किया पंक्ति नहीं लिखी पूरी देखिए जीवन दो तरह चलता है एक लौकिक और अलौकिक अलौकिक मैंने जो सांसारिक था में जो लगा हुआ है वह लौकिक जीवन है और जो ईश्वर पर जो अपने मन मस्तिष्क को लगाता है वह लव के अलौकिक माने जो गैर सांसारिक एक ऐसा संसार जो इस संसार से परे है जिसमें केवल ईश्वरी सत्ता का वास है तो जब मनुष्य केवल अपने ही उदर पूर्ति के लिए परिवार के लिए स्वार्थ पूर्ति के लिए सारे काम करता रहता है और वह अपने जीवन को नष्ट करके भगवानपुर से बिल्कुल अपने आपको ब्लॉक मार लेता है ऐसी स्थिति में यह कहा जाता है कि यह केवल स्वार्थी जीवन जी रहा है जिसे कहते हैं ना कि आत्मा में परमात्मा का वास है इस प्रभु ने आपके अंदर एक परमात्मा रूपी अपना एक प्रतिनिधि एक आत्मा आपके अंदर दे दी है उस आत्मा की बात को ना मानकर के केवल आप क्यों जीवन चलाने के लिए आप कुछ करते हैं यहां कुछ आए हैं आया है तो जाएगा राजा रंक फकीर कोई सिंहासन चढ़ चले कोई मदन जी तोमर ना सबको है क्या वह स्वार्थ में रख कर के मरे चाहे मानवी सेवा से मरे चाहिए स्वर में भक्ति करके बड़े अपने निजी कर्म को जो दिल्ली वाले कर उनको कीजिए और इस पर को भी अपने मन में स्थायित्व बनाए रखिए नहीं तो यही कहेंगे कि संसार बौरा गया है केवल अपने स्वार्थ के लिए जी रहा है ईश्वर के लिए कुछ नहीं कर रहा है जिसके लिए ईश्वर ने को भेजा है कि कर्म कीजिए कर्मण्ए वाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन
Aapaka prashn hai kabhee ne aisa kyon kaha ki sansaar baura gaya hai aapane kabhee kiya pankti nahin likhee pooree dekhie jeevan do tarah chalata hai ek laukik aur alaukik alaukik mainne jo saansaarik tha mein jo laga hua hai vah laukik jeevan hai aur jo eeshvar par jo apane man mastishk ko lagaata hai vah lav ke alaukik maane jo gair saansaarik ek aisa sansaar jo is sansaar se pare hai jisamen keval eeshvaree satta ka vaas hai to jab manushy keval apane hee udar poorti ke lie parivaar ke lie svaarth poorti ke lie saare kaam karata rahata hai aur vah apane jeevan ko nasht karake bhagavaanapur se bilkul apane aapako blok maar leta hai aisee sthiti mein yah kaha jaata hai ki yah keval svaarthee jeevan jee raha hai jise kahate hain na ki aatma mein paramaatma ka vaas hai is prabhu ne aapake andar ek paramaatma roopee apana ek pratinidhi ek aatma aapake andar de dee hai us aatma kee baat ko na maanakar ke keval aap kyon jeevan chalaane ke lie aap kuchh karate hain yahaan kuchh aae hain aaya hai to jaega raaja rank phakeer koee sinhaasan chadh chale koee madan jee tomar na sabako hai kya vah svaarth mein rakh kar ke mare chaahe maanavee seva se mare chaahie svar mein bhakti karake bade apane nijee karm ko jo dillee vaale kar unako keejie aur is par ko bhee apane man mein sthaayitv banae rakhie nahin to yahee kahenge ki sansaar baura gaya hai keval apane svaarth ke lie jee raha hai eeshvar ke lie kuchh nahin kar raha hai jisake lie eeshvar ne ko bheja hai ki karm keejie karmane vaadhikaaraste ma phaleshu kadaachan

और जवाब सुनें

bolkar speaker
कवि ने ऐसा क्यों कहा है कि संसार बौरा गया है?Kavi Ne Aisa Kyun Kaha Hai Ki Sansaar Baura Gaya Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:34
हेलो एवरीवन आपका प्रश्न कवि ने ऐसा क्यों कहा है कि संसार अधूरा है तो बोरा का मतलब गूंगा होता है फ्रेंड तो कभी नहीं इसलिए कहा होगा कि एक दौरा है क्योंकि आजकल देखिए जब भी कोई जुल्म होता है किसी के ऊपर कोई बात होती है तो इंसान उसको देख कर भी अनदेखा कर देता है एवं चुप रह जाता है तो ऐसा कहा गया कि वह बोरा बन गया है फिर बोलता नहीं है और लोग बस अपने काम से मतलब रखते हैं किसी के ऊपर कोई भी विपत्ति आए कुछ आए किसी को कुछ भी होता रहे आजकल लोगों को फर्क नहीं पड़ता और लोग गोरे बन जाते हैं इसलिए कभी ने कहा है कि इस बार बोला है धन्यवाद
Helo evareevan aapaka prashn kavi ne aisa kyon kaha hai ki sansaar adhoora hai to bora ka matalab goonga hota hai phrend to kabhee nahin isalie kaha hoga ki ek daura hai kyonki aajakal dekhie jab bhee koee julm hota hai kisee ke oopar koee baat hotee hai to insaan usako dekh kar bhee anadekha kar deta hai evan chup rah jaata hai to aisa kaha gaya ki vah bora ban gaya hai phir bolata nahin hai aur log bas apane kaam se matalab rakhate hain kisee ke oopar koee bhee vipatti aae kuchh aae kisee ko kuchh bhee hota rahe aajakal logon ko phark nahin padata aur log gore ban jaate hain isalie kabhee ne kaha hai ki is baar bola hai dhanyavaad

bolkar speaker
कवि ने ऐसा क्यों कहा है कि संसार बौरा गया है?Kavi Ne Aisa Kyun Kaha Hai Ki Sansaar Baura Gaya Hai
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Laxmi जी का जवाब
LDS Motivational speaker khabri app,Poetrywriterdv YouTube channel,
1:30
कृष्ण है कभी नहीं ऐसा क्यों कहा कि संसार बार आ गया तो दोस्तों पहले तो मैं नहीं समझ पा रही थी लेकिन अब मुझे बहुत अच्छी सी क्लियर हो चुका है कि हां संसार पूरी तरह बहाल टेलीविजन में फंसा हुआ है उन्हें सांसारिक चीजों में इतनी रुचि हो गई है कि वह वह है कौन वह यह बहुत हम इस दुनिया में क्यों आए हैं किस मकसद से आए हैं हम यह भूल चुके हैं हमने बहुत सारे ऐसे कर्म किए हैं जो हमें मिलते हैं और हमें लगता है कि भगवान हमारे साथ दौरा करके बहुत ही सारी चीजें होती हैं जिसके कारण हम समझ ही नहीं पा रहे कि हम हैं का लेकिन अगर आप की आंखों से पर्दा हटे गा आपने कोई रंग रंग चश्मा लगाया है वह चश्मा हटे गा तब आपको समझ में आएगा कि सच में यह जो भी हो रहा है ना पूरी तरह से भ्रम है गुस्सा भ्रम है अहंकार धर्म है यह बहुत सारी सी चीज है जो जहां पर पूरी तरह हावी हो गई है और इन चीजों को हम अपने ऊपर हावी होने की देर है हमारी कमी की शक्ल अच्छी नहीं है ना ही हम किसी से अच्छे से बात कर पा रहे नहीं हम अपनी रिलेशनशिप को बिल्डअप कर पा रहे हैं तो बहुत ऐसी चीजें हैं जिसने हमें दिख रहा है पूरी तरीके से कि संसार सच में वह आ गया है तो कभी नहीं इसीलिए कहा क्योंकि उन्हें महसूस हो गया था कि वह है इनकी समझ
Krshn hai kabhee nahin aisa kyon kaha ki sansaar baar aa gaya to doston pahale to main nahin samajh pa rahee thee lekin ab mujhe bahut achchhee see kliyar ho chuka hai ki haan sansaar pooree tarah bahaal teleevijan mein phansa hua hai unhen saansaarik cheejon mein itanee ruchi ho gaee hai ki vah vah hai kaun vah yah bahut ham is duniya mein kyon aae hain kis makasad se aae hain ham yah bhool chuke hain hamane bahut saare aise karm kie hain jo hamen milate hain aur hamen lagata hai ki bhagavaan hamaare saath daura karake bahut hee saaree cheejen hotee hain jisake kaaran ham samajh hee nahin pa rahe ki ham hain ka lekin agar aap kee aankhon se parda hate ga aapane koee rang rang chashma lagaaya hai vah chashma hate ga tab aapako samajh mein aaega ki sach mein yah jo bhee ho raha hai na pooree tarah se bhram hai gussa bhram hai ahankaar dharm hai yah bahut saaree see cheej hai jo jahaan par pooree tarah haavee ho gaee hai aur in cheejon ko ham apane oopar haavee hone kee der hai hamaaree kamee kee shakl achchhee nahin hai na hee ham kisee se achchhe se baat kar pa rahe nahin ham apanee rileshanaship ko bildap kar pa rahe hain to bahut aisee cheejen hain jisane hamen dikh raha hai pooree tareeke se ki sansaar sach mein vah aa gaya hai to kabhee nahin iseelie kaha kyonki unhen mahasoos ho gaya tha ki vah hai inakee samajh

bolkar speaker
कवि ने ऐसा क्यों कहा है कि संसार बौरा गया है?Kavi Ne Aisa Kyun Kaha Hai Ki Sansaar Baura Gaya Hai
Shivangi Dixit.  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Shivangi जी का जवाब
Unknown
0:22
कभी ने ऐसा क्यों कहा कि संसार बोरा गया है दी कि कभी जी ने सच ही कहा है क्योंकि उन्होंने ऐसा बोला कि जब तक के सामने आता है तो सत्य जो है वह संतान नहीं सुन पाता नहीं से सहन कर पाता है ना ही उस पर लोग उस पर विश्वास कर पाते हैं वह जो बातें होती है फोन को अच्छी नहीं लगती है इसमें से कवि ने कहा कि संसार बोला क्या है मतलब पागल सा हो गया है
Kabhee ne aisa kyon kaha ki sansaar bora gaya hai dee ki kabhee jee ne sach hee kaha hai kyonki unhonne aisa bola ki jab tak ke saamane aata hai to saty jo hai vah santaan nahin sun paata nahin se sahan kar paata hai na hee us par log us par vishvaas kar paate hain vah jo baaten hotee hai phon ko achchhee nahin lagatee hai isamen se kavi ne kaha ki sansaar bola kya hai matalab paagal sa ho gaya hai

bolkar speaker
कवि ने ऐसा क्यों कहा है कि संसार बौरा गया है?Kavi Ne Aisa Kyun Kaha Hai Ki Sansaar Baura Gaya Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:00
नए तरीके के संसार भरा गया है पुराना किसे कहते जब इंसान को खुद ही न समझ में आए क्या कर रहे हो क्या करना चाहिए जिस दिन इस धरती पर आए और सही गलत में फर्क ना समझ में आया था सुबह राणा कहते हैं इस दुनिया में बहुत सारे लोग हैं जो कि गलत रास्ते पर चलने लगते हैं और उनके मन में तो तरीके के विचार चलते हैं इस तरीके की कई सारी बातें हैं जिससे हो सकता कभी बुरा लगा हो कभी नहीं हो सकता ऐसा इसलिए कहा कि उन्हें लगता है कि जो संसार है वह बोला गया पूरे संसार को तो हम नहीं लेकिन हां कुछ लोग समाज में ऐसे हैं जो गलत रास्ते पर चलकर एक अपना जीवन यापन करना समझते हैं लेकिन ऐसा नहीं होना चाहिए क्योंकि हमें खुशी पर उनकी जिंदगी मिली है और जिंदगी में हमें अच्छे कर्म करने चाहिए अच्छे विचार रखने चाहिए दो मित्र थे सवाल का जवाब पसंद आएगा आप लोग को चाहिए दूसरों को भी चाहिए धन्यवाद
Nae tareeke ke sansaar bhara gaya hai puraana kise kahate jab insaan ko khud hee na samajh mein aae kya kar rahe ho kya karana chaahie jis din is dharatee par aae aur sahee galat mein phark na samajh mein aaya tha subah raana kahate hain is duniya mein bahut saare log hain jo ki galat raaste par chalane lagate hain aur unake man mein to tareeke ke vichaar chalate hain is tareeke kee kaee saaree baaten hain jisase ho sakata kabhee bura laga ho kabhee nahin ho sakata aisa isalie kaha ki unhen lagata hai ki jo sansaar hai vah bola gaya poore sansaar ko to ham nahin lekin haan kuchh log samaaj mein aise hain jo galat raaste par chalakar ek apana jeevan yaapan karana samajhate hain lekin aisa nahin hona chaahie kyonki hamen khushee par unakee jindagee milee hai aur jindagee mein hamen achchhe karm karane chaahie achchhe vichaar rakhane chaahie do mitr the savaal ka javaab pasand aaega aap log ko chaahie doosaron ko bhee chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
कवि ने ऐसा क्यों कहा है कि संसार बौरा गया है?Kavi Ne Aisa Kyun Kaha Hai Ki Sansaar Baura Gaya Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:24
आपका सवाल है कि कवि ने ऐसा क्यों कहा था कि संसार बोरा गए हैं तो कवि ने इसलिए कहा है क्योंकि संसार के लोग सच और सहन नहीं कर पाते हैं और न ही इससे पर विश्वास करते हैं उन्हें झूठ पर विश्वास हो जाते हैं इसलिए कहा गया है धन्यवाद
Aapaka savaal hai ki kavi ne aisa kyon kaha tha ki sansaar bora gae hain to kavi ne isalie kaha hai kyonki sansaar ke log sach aur sahan nahin kar paate hain aur na hee isase par vishvaas karate hain unhen jhooth par vishvaas ho jaate hain isalie kaha gaya hai dhanyavaad

bolkar speaker
कवि ने ऐसा क्यों कहा है कि संसार बौरा गया है?Kavi Ne Aisa Kyun Kaha Hai Ki Sansaar Baura Gaya Hai
SONU VERMA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए SONU जी का जवाब
Student
0:55
कैट ने ऐसा क्यों कहा कि संसार हो रहा गया इसका मुख्य कारण यह है कि संसार में ब्लॉक सभी लालची हो गए हैं वह पैसो के पीछे भागते रहते हैं और धन दौलत वितरित करते रहते हैं इससे भी अपना सारा जीवन इसी में व्यतीत कर देते हैं और जिंदगी में खुशियों का आनंद नहीं उठा पाते हैं तभी ने इन्हीं लोगों को देखकर बताया है कि यह संसार माया मोह के चक्कर में मारा गया है और इसी लालच की वजह से संसार एक दूसरे की वस्तुओं को चिंता रहा है इसलिए हमको अपने जीवन में जो भी चीजें मिले उसी में खुशी रखनी चाहिए और हमें जीवन अच्छा है पिक करना चाहिए
Kait ne aisa kyon kaha ki sansaar ho raha gaya isaka mukhy kaaran yah hai ki sansaar mein blok sabhee laalachee ho gae hain vah paiso ke peechhe bhaagate rahate hain aur dhan daulat vitarit karate rahate hain isase bhee apana saara jeevan isee mein vyateet kar dete hain aur jindagee mein khushiyon ka aanand nahin utha paate hain tabhee ne inheen logon ko dekhakar bataaya hai ki yah sansaar maaya moh ke chakkar mein maara gaya hai aur isee laalach kee vajah se sansaar ek doosare kee vastuon ko chinta raha hai isalie hamako apane jeevan mein jo bhee cheejen mile usee mein khushee rakhanee chaahie aur hamen jeevan achchha hai pik karana chaahie

bolkar speaker
कवि ने ऐसा क्यों कहा है कि संसार बौरा गया है?Kavi Ne Aisa Kyun Kaha Hai Ki Sansaar Baura Gaya Hai
SONU VERMA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए SONU जी का जवाब
Student
0:55
कैट ने ऐसा क्यों कहा कि संसार हो रहा गया इसका मुख्य कारण यह है कि संसार में ब्लॉक सभी लालची हो गए हैं वह पैसो के पीछे भागते रहते हैं और धन दौलत वितरित करते रहते हैं इससे भी अपना सारा जीवन इसी में व्यतीत कर देते हैं और जिंदगी में खुशियों का आनंद नहीं उठा पाते हैं तभी ने इन्हीं लोगों को देखकर बताया है कि यह संसार माया मोह के चक्कर में मारा गया है और इसी लालच की वजह से संसार एक दूसरे की वस्तुओं को चिंता रहा है इसलिए हमको अपने जीवन में जो भी चीजें मिले उसी में खुशी रखनी चाहिए और हमें जीवन अच्छा है पिक करना चाहिए
Kait ne aisa kyon kaha ki sansaar ho raha gaya isaka mukhy kaaran yah hai ki sansaar mein blok sabhee laalachee ho gae hain vah paiso ke peechhe bhaagate rahate hain aur dhan daulat vitarit karate rahate hain isase bhee apana saara jeevan isee mein vyateet kar dete hain aur jindagee mein khushiyon ka aanand nahin utha paate hain tabhee ne inheen logon ko dekhakar bataaya hai ki yah sansaar maaya moh ke chakkar mein maara gaya hai aur isee laalach kee vajah se sansaar ek doosare kee vastuon ko chinta raha hai isalie hamako apane jeevan mein jo bhee cheejen mile usee mein khushee rakhanee chaahie aur hamen jeevan achchha hai pik karana chaahie

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कवि ने ऐसा क्यों कहा है कि संसार बौरा गया है
URL copied to clipboard