#undefined

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:44
आज आप का सवाल है कि हम कभी-कभी अपनी पसंद आने वाले कार्यों को करने में भी टाल मटोल क्यों कर देते हैं और इस से कैसे निजात पाए जाए पेपर बताइए क्या होता है कि जैसे कि मुझे बैडमिंटन खेलना पसंद है तो मैं दूर जाती हो जाती हूं फिर एक गलत टाइप का हो जाता है तो दोस्तों के साथ जाना आदत हो जाता है कोई दोस्त नहीं जा रहे हैं कभी तो पसंद है पर फिर भी हम तुमसे अकेले नहीं सकते क्योंकि एक तरह का आदत हो जा देखनी दोस्तों के साथ ही जाना है उसे समझना बहुत जरूरी है कि हमेशा इंसान आपके साथ हमेशा नहीं रह सकते आपको कभी ना खुद के लिए कुछ पसंद है तो आपको पहले भी करना पड़ेगा तो आपकी भी जो पसंदीदा कहां मैं आपका मन नहीं कर रहा है कभी कदार टालमटोल इसका मतलब या तो आप बहुत रेगुलर उसे बहुत ज्यादा गुस्सा है क्या तो फिर आप आलसी हैं आप समझ नहीं रहे कि वह काम का क्या महत्व है अब क्यों कर रहे हैं करने से क्या होगा करने से क्या नहीं होगा अपने पसंदीदा काम को करने के लिए खुद को अहमद उत्सुकता जाना चाहिए कि आप लोग जैसा भी हम अपने पसंदीदा करने जा रहे हो जाते हैं या फिर से काम में बिजी रहते तो हम याद करते हैं कि आज हमें उस दिन पसंदीदा कुछ मेरा फेवरेट ऐसा कुछ काम था या फिर इस तरह की चीजें सोचिए अपना पसंदीदा है तब से मैंने यह सोचा कि आपको कितना काम पसंद है आपको करना कितना जरूरी है अभी सोचकर एक्साइटेड हुई है कि हां कुछ अच्छाई कर रहे हम यह मेरा ही कुछ अपडेट है तो ऐसे में आप खुद को कुछ भी काम करने के लिए आप मतलब खुद को वहां तक ला पाएंगे
Aaj aap ka savaal hai ki ham kabhee-kabhee apanee pasand aane vaale kaaryon ko karane mein bhee taal matol kyon kar dete hain aur is se kaise nijaat pae jae pepar bataie kya hota hai ki jaise ki mujhe baidamintan khelana pasand hai to main door jaatee ho jaatee hoon phir ek galat taip ka ho jaata hai to doston ke saath jaana aadat ho jaata hai koee dost nahin ja rahe hain kabhee to pasand hai par phir bhee ham tumase akele nahin sakate kyonki ek tarah ka aadat ho ja dekhanee doston ke saath hee jaana hai use samajhana bahut jarooree hai ki hamesha insaan aapake saath hamesha nahin rah sakate aapako kabhee na khud ke lie kuchh pasand hai to aapako pahale bhee karana padega to aapakee bhee jo pasandeeda kahaan main aapaka man nahin kar raha hai kabhee kadaar taalamatol isaka matalab ya to aap bahut regular use bahut jyaada gussa hai kya to phir aap aalasee hain aap samajh nahin rahe ki vah kaam ka kya mahatv hai ab kyon kar rahe hain karane se kya hoga karane se kya nahin hoga apane pasandeeda kaam ko karane ke lie khud ko ahamad utsukata jaana chaahie ki aap log jaisa bhee ham apane pasandeeda karane ja rahe ho jaate hain ya phir se kaam mein bijee rahate to ham yaad karate hain ki aaj hamen us din pasandeeda kuchh mera phevaret aisa kuchh kaam tha ya phir is tarah kee cheejen sochie apana pasandeeda hai tab se mainne yah socha ki aapako kitana kaam pasand hai aapako karana kitana jarooree hai abhee sochakar eksaited huee hai ki haan kuchh achchhaee kar rahe ham yah mera hee kuchh apadet hai to aise mein aap khud ko kuchh bhee kaam karane ke lie aap matalab khud ko vahaan tak la paenge

और जवाब सुनें

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:42
आपका आपका प्रश्न हम कभी-कभी अपनी पसंद आने वाले कार्यों को करने में भी टाल मटोल क्यों करते हैं और इस से कैसे निजात पाया जाए बताएं तो फ्रेंड से हम लोग कभी-कभी अपने करने वाले कामों को इसलिए टालमटोल कर देते हैं कि हम बाद में कर लेंगे और मैं काम आसानी से कर लेते हैं उसके बाद में कर लेंगे पर कभी भी इंसान को अपने कार्यों को टाल मटोल नहीं करना चाहिए जो भी काम है उसी टाइम खत्म कर देना चाहिए फिर बाद में बैठना चाहिए और हमें यह सोचना चाहिए कि हम काम करेंगे तभी हमारा शरीर रहेगा और आलस हमें बिल्कुल भी नहीं करना है ना काम करेंगे उतना हमारा शरीर तंदुरुस्त रहेगा धन्यवाद
Aapaka aapaka prashn ham kabhee-kabhee apanee pasand aane vaale kaaryon ko karane mein bhee taal matol kyon karate hain aur is se kaise nijaat paaya jae bataen to phrend se ham log kabhee-kabhee apane karane vaale kaamon ko isalie taalamatol kar dete hain ki ham baad mein kar lenge aur main kaam aasaanee se kar lete hain usake baad mein kar lenge par kabhee bhee insaan ko apane kaaryon ko taal matol nahin karana chaahie jo bhee kaam hai usee taim khatm kar dena chaahie phir baad mein baithana chaahie aur hamen yah sochana chaahie ki ham kaam karenge tabhee hamaara shareer rahega aur aalas hamen bilkul bhee nahin karana hai na kaam karenge utana hamaara shareer tandurust rahega dhanyavaad

ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
1:00
बाल पूछा गया है हम कभी-कभी अपने पसंद आने वाले कार्य को भी करने में टालमटोल क्यों कर देते हैं और इसे कैसे निजात पाए हैं कृपया बताइए तो देखे कई बार ऐसा होता है क्या मुख्यालय के चक्कर में वह काम भी नहीं करते जो हमको असल में पसंद है लेकिन मैं अगर आप ऐसा ही करते रहेंगे तो धीरे-धीरे आप आलसी हो जाएंगे और आपको अपनी पसंद की चीजों से भी इंटरेस्ट का जाएगा अगर आप और अभी जो टाइम गुजरा है लोग दोनों का समय जो बोल सकते जब आप पूरी तरीके से सब चीज छोड़ दिए थे तो यह काफी कॉमन परेशानी है जो लोगों को देखने मिल रही थी उसमें आलस से ज्यादा हो गया तो देखिए आप धीरे-धीरे उसको ठीक करने की कोशिश कीजिए आप शुरुआत में थोड़ा कम टाइम दीजिए फिर उसके बाद धीरे-धीरे आप किसी भी चीज को करने का टाइम बढ़ाते जाएंगे तो आप आसानी से जो है अपने कामों को करने में जो है इंटरेस्ट आपका फिर से ज्यादा लगेगा उम्मीद करती हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्य
Baal poochha gaya hai ham kabhee-kabhee apane pasand aane vaale kaary ko bhee karane mein taalamatol kyon kar dete hain aur ise kaise nijaat pae hain krpaya bataie to dekhe kaee baar aisa hota hai kya mukhyaalay ke chakkar mein vah kaam bhee nahin karate jo hamako asal mein pasand hai lekin main agar aap aisa hee karate rahenge to dheere-dheere aap aalasee ho jaenge aur aapako apanee pasand kee cheejon se bhee intarest ka jaega agar aap aur abhee jo taim gujara hai log donon ka samay jo bol sakate jab aap pooree tareeke se sab cheej chhod die the to yah kaaphee koman pareshaanee hai jo logon ko dekhane mil rahee thee usamen aalas se jyaada ho gaya to dekhie aap dheere-dheere usako theek karane kee koshish keejie aap shuruaat mein thoda kam taim deejie phir usake baad dheere-dheere aap kisee bhee cheej ko karane ka taim badhaate jaenge to aap aasaanee se jo hai apane kaamon ko karane mein jo hai intarest aapaka phir se jyaada lagega ummeed karatee hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga dhany

pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:27
नमस्कार आकाश वाले हम कभी-कभी अपनी पसंद आने वाले कार्यों को करने में टालमटोल क्यों करते हैं और इससे निजात कैसे पाएं ऐसा नहीं है कि जो समय काम पसंद हो वह हम ना करें लेकिन कुछ वजह से जैसे कि हो सकता है कि मेरी सोचते हो कि हम जो करने जा रहे हैं मैं तो पसंद है क्या वह हमारे आसपास के लोगों पसंद होगा या नहीं लोग क्या सोचेंगे कि यह सारी बातें नहीं होती है जिसकी वजह से हमें जो काम पसंद है उसे भी करने में हम कतराते हैं जबकि जून में काम पसंद है जैसे के लिए कुछ करना चाहिए था कुछ करना चाहिए अगर वो अच्छा काम है तो कर सकते हैं और अगर मैं तो सोचती है तो कैसा इसको कई लोग सोचते हैं कि यह काम करने से लोग क्या सोचेंगे तो ऐसा करने से और सुनने से जो है हम बहुत ही पीछे चले जाते हैं और जो हमारे काम होते हैं वह रुक जाते हैं क्योंकि बहुत सारे लोग होते हैं जो तुझसे बिछड़ने नहीं बहुत ज्यादा अपना टाइम वेस्ट करते हैं तुझे पता भी नहीं चलता तुम्हारा टाइम कितना है सॉरी सब से बचने के लिए आपको ज्यादा सोचता नहीं है अगर आपको काम पसंद है तो आप कर सकते हैं तो वह काम अच्छा है किसी से उसको और नुकसान नहीं होने वाला है और किसी की भलाई होने वाली आपकी खुद की भलाई होने वाली है तो आप बेशक कर सकते हैं और बस इतना करना है कि लोगों की बातों को थोड़ा अनदेखा करने की कोशिश करनी चाहिए कि मैं करते हैं सवाल का जवाब पसंद आए आप हमेशा खुश रहिए दूसरों को भी खुश रखे धन्यवाद
Namaskaar aakaash vaale ham kabhee-kabhee apanee pasand aane vaale kaaryon ko karane mein taalamatol kyon karate hain aur isase nijaat kaise paen aisa nahin hai ki jo samay kaam pasand ho vah ham na karen lekin kuchh vajah se jaise ki ho sakata hai ki meree sochate ho ki ham jo karane ja rahe hain main to pasand hai kya vah hamaare aasapaas ke logon pasand hoga ya nahin log kya sochenge ki yah saaree baaten nahin hotee hai jisakee vajah se hamen jo kaam pasand hai use bhee karane mein ham kataraate hain jabaki joon mein kaam pasand hai jaise ke lie kuchh karana chaahie tha kuchh karana chaahie agar vo achchha kaam hai to kar sakate hain aur agar main to sochatee hai to kaisa isako kaee log sochate hain ki yah kaam karane se log kya sochenge to aisa karane se aur sunane se jo hai ham bahut hee peechhe chale jaate hain aur jo hamaare kaam hote hain vah ruk jaate hain kyonki bahut saare log hote hain jo tujhase bichhadane nahin bahut jyaada apana taim vest karate hain tujhe pata bhee nahin chalata tumhaara taim kitana hai soree sab se bachane ke lie aapako jyaada sochata nahin hai agar aapako kaam pasand hai to aap kar sakate hain to vah kaam achchha hai kisee se usako aur nukasaan nahin hone vaala hai aur kisee kee bhalaee hone vaalee aapakee khud kee bhalaee hone vaalee hai to aap beshak kar sakate hain aur bas itana karana hai ki logon kee baaton ko thoda anadekha karane kee koshish karanee chaahie ki main karate hain savaal ka javaab pasand aae aap hamesha khush rahie doosaron ko bhee khush rakhe dhanyavaad

Mohitrajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Mohitrajput जी का जवाब
Unknown
0:35
तुमने कहा है कि हम अपने पसंदीदा कार्य को भी नहीं करते बहाने मारते हैं उसे निजात कैसे पाएं अगर तुम सच में अपने मनपसंद कार्य को करना चाहती हो तो सुना होगा क्यों करना ही है जैसे कि मैं हूं आखिर में पढ़ कर आता हूं और शाम को गेम ही खेलता हूं थोड़ी लेट करता हूं करता जरूर हूं एक समय बना रखा है मैंने कुछ चीजों का ठीक है वह करता जरूर कुछ टाइम निकाल कर अपने मन की बात मानो और वह काम करो जो तुम चाहती हो
Tumane kaha hai ki ham apane pasandeeda kaary ko bhee nahin karate bahaane maarate hain use nijaat kaise paen agar tum sach mein apane manapasand kaary ko karana chaahatee ho to suna hoga kyon karana hee hai jaise ki main hoon aakhir mein padh kar aata hoon aur shaam ko gem hee khelata hoon thodee let karata hoon karata jaroor hoon ek samay bana rakha hai mainne kuchh cheejon ka theek hai vah karata jaroor kuchh taim nikaal kar apane man kee baat maano aur vah kaam karo jo tum chaahatee ho

paramveer koshlaindra Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए paramveer जी का जवाब
Unknown
0:21
सबसे आसान सा तरीका है 3:00 सेकेंडरी सेकेंडरी में क्या होता है कि जल्दी हम को काम करना है 3 सेकंड में सोचने करना है नहीं करना तो क्यों कितनी सैलरी कुछ होने लग जाता है 3 सेकंड का समय ले सोचे और करें यह हंड्रेड एंड 1% नकली काम करें
Sabase aasaan sa tareeka hai 3:00 sekendaree sekendaree mein kya hota hai ki jaldee ham ko kaam karana hai 3 sekand mein sochane karana hai nahin karana to kyon kitanee sailaree kuchh hone lag jaata hai 3 sekand ka samay le soche aur karen yah handred end 1% nakalee kaam karen

Gulab Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gulab जी का जवाब
Unknown
1:35

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हम कभी कभी अकेले में क्या सोचने लगते है ..कभी-कभी गार्डन
URL copied to clipboard