#रिश्ते और संबंध

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
0:34
एक स्त्री अगर धन चाहती है तो वह अपने पिता पति या भाई से भी ले सकती है परंतु हिंदू धर्म के अनुसार दहेज वर पक्ष को तब दिया जा सकता है जब वह आर्थिक रूप से सक्षम ना हो ऐसा स्वयं विष्णु जी ने भी किया है जहां तक बात रामायण की है जनक जी ने स्वेच्छा से प्रभु चरणों में अपनी संपत्ति समर्पित की थी
Ek stree agar dhan chaahatee hai to vah apane pita pati ya bhaee se bhee le sakatee hai parantu hindoo dharm ke anusaar dahej var paksh ko tab diya ja sakata hai jab vah aarthik roop se saksham na ho aisa svayan vishnu jee ne bhee kiya hai jahaan tak baat raamaayan kee hai janak jee ne svechchha se prabhu charanon mein apanee sampatti samarpit kee thee

और जवाब सुनें

T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:57
आपका जो प्रश्न है कि क्या दहेज एक कुप्रथा है या सिर्फ एक पिता का अपनी पुत्री के लिए प्रेम बहार है बहुत ही शानदार प्रश्न विकी हो सकता है प्रारंभ में भूतकाल में कहीं विशेष जगहों पर एक पिता अपनी पुत्री के लिए प्रेम उपहार स्वरूप कुछ वस्तुओं सामग्रियों को देने का चलन प्रचलन रहा हो लेकिन कालांतर में कमी आती है यह प्रथा उठा बनती है और निसंदेह मेरी दृष्टि में आज की स्थिति में अगर मैं देखता हूं तुम दहेज एक कुप्रथा है क्योंकि मैंने जो अक्सर अनुभव किया है एक समाज के अंदर किसी एक जाति के अंदर जब एक व्यक्ति दहेज देना है तो कई बार बल्कि मैं कहूंगा अक्षर अन्य लोगों के मन में भी जहां पर उनके लड़के हैं वह यह अपेक्षा करते हैं कि उनके लड़के को भी दहेज में बहुत कुछ मिले और आप अक्सर देखते हैं कि किस तरह से उस दहेज के चक्कर में लड़की को प्रताड़ना होती है उसको बुलाने मिलते हैं कई से कि उनकी हत्या तक हो जाती है तो निस्संदेह यह कुप्रथा कई बार एक पिता जो कि सक्षम नहीं है वह अपने घर को बेच देता है अपनी जमीन बेच देता है अपने गहने बेच देता हूं मेरी समझ से परे है इतना सब कुछ करने के बाद एक पिता जब कुछ उपहार वह देता है और अगर कोई सामने वाला व्यक्ति उसको लेकर के कुछ होता है तो तुम मुझे उसकी बुद्धि पर शर्म आती है मुझे उस व्यक्ति का पुरुष होने पर उस पर मुझे शर्म आती है और वह बच्ची जो जहां पर जा रही है शादी हो करके वह अपने जीवन में क्या संस्कार क्या उस व्यक्ति की प्रतिज्ञा प्रेमभाव लेकर जाएगी जीवन भर अपने पिता का हो चेहरा अपने पिता की वह तकलीफ हमेशा मन में लेकर के रहेगी क्या उस सामने वाले परिवार के प्रति उसकी लड़की के मन में प्रेम रहेगा यह दहेज एक कुप्रथा है और यह बिल्कुल खत्म होनी चाहिए यह शहर है इसको खत्म होना धन्यवाद
Aapaka jo prashn hai ki kya dahej ek kupratha hai ya sirph ek pita ka apanee putree ke lie prem bahaar hai bahut hee shaanadaar prashn vikee ho sakata hai praarambh mein bhootakaal mein kaheen vishesh jagahon par ek pita apanee putree ke lie prem upahaar svaroop kuchh vastuon saamagriyon ko dene ka chalan prachalan raha ho lekin kaalaantar mein kamee aatee hai yah pratha utha banatee hai aur nisandeh meree drshti mein aaj kee sthiti mein agar main dekhata hoon tum dahej ek kupratha hai kyonki mainne jo aksar anubhav kiya hai ek samaaj ke andar kisee ek jaati ke andar jab ek vyakti dahej dena hai to kaee baar balki main kahoonga akshar any logon ke man mein bhee jahaan par unake ladake hain vah yah apeksha karate hain ki unake ladake ko bhee dahej mein bahut kuchh mile aur aap aksar dekhate hain ki kis tarah se us dahej ke chakkar mein ladakee ko prataadana hotee hai usako bulaane milate hain kaee se ki unakee hatya tak ho jaatee hai to nissandeh yah kupratha kaee baar ek pita jo ki saksham nahin hai vah apane ghar ko bech deta hai apanee jameen bech deta hai apane gahane bech deta hoon meree samajh se pare hai itana sab kuchh karane ke baad ek pita jab kuchh upahaar vah deta hai aur agar koee saamane vaala vyakti usako lekar ke kuchh hota hai to tum mujhe usakee buddhi par sharm aatee hai mujhe us vyakti ka purush hone par us par mujhe sharm aatee hai aur vah bachchee jo jahaan par ja rahee hai shaadee ho karake vah apane jeevan mein kya sanskaar kya us vyakti kee pratigya premabhaav lekar jaegee jeevan bhar apane pita ka ho chehara apane pita kee vah takaleeph hamesha man mein lekar ke rahegee kya us saamane vaale parivaar ke prati usakee ladakee ke man mein prem rahega yah dahej ek kupratha hai aur yah bilkul khatm honee chaahie yah shahar hai isako khatm hona dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:56
होटल स्वागत है आपका आपका प्रश्न क्या दहेज एक कुप्रथा है या सिर्फ एक पिता को अपनी पुत्री के लिए प्रेम उपहार है तो फिर से जब तक पिता अपनी खुशी से अपनी पुत्री को कुछ दे रहा है तो वह दहेज नहीं है लेकिन जब लड़का अपनी तरफ से कुछ मांगा जाता है वह दहेज वाला दहेज प्रथा बहुत ही खराब है कुप्रथा है जिसके कारण कितनी सारी लड़कियों को जान से हाथ धोना पड़ता है शादी होने के बाद भी दहेज की मांग करते हैं मांग पूरी ना होने पर ले क्योंकि जान तक ले लेते हैं इसीलिए एक प्रथा है पिता अपनी बेटी को प्रेम स्वरूप को देना चाहता है तुम्हें दे सकता है लेकिन यह प्रथा के दौड़ने होना चाहिए दहेज प्रथा बहुत ही खराब करता है जो गरीब मां-बाप होते हैं उन पैसों के चक्कर में अपनी लड़की की शादी अच्छे घर में नहीं कर पाते हैं उनके पास दहेज नहीं होता है तो बेचारी परेशान हो जाते हैं इसलिए दहेज प्रथा बिल्कुल पूरी तरह से बंद हो जाना चाहिए धन्यवाद
Hotal svaagat hai aapaka aapaka prashn kya dahej ek kupratha hai ya sirph ek pita ko apanee putree ke lie prem upahaar hai to phir se jab tak pita apanee khushee se apanee putree ko kuchh de raha hai to vah dahej nahin hai lekin jab ladaka apanee taraph se kuchh maanga jaata hai vah dahej vaala dahej pratha bahut hee kharaab hai kupratha hai jisake kaaran kitanee saaree ladakiyon ko jaan se haath dhona padata hai shaadee hone ke baad bhee dahej kee maang karate hain maang pooree na hone par le kyonki jaan tak le lete hain iseelie ek pratha hai pita apanee betee ko prem svaroop ko dena chaahata hai tumhen de sakata hai lekin yah pratha ke daudane hona chaahie dahej pratha bahut hee kharaab karata hai jo gareeb maan-baap hote hain un paison ke chakkar mein apanee ladakee kee shaadee achchhe ghar mein nahin kar paate hain unake paas dahej nahin hota hai to bechaaree pareshaan ho jaate hain isalie dahej pratha bilkul pooree tarah se band ho jaana chaahie dhanyavaad

ravideep singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ravideep जी का जवाब
students
0:59

paramveer koshlaindra Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए paramveer जी का जवाब
Unknown
0:07
अगर इसको जबरदस्ती लिया जाए तो यह कुप्रथा है और अगर सुप्रीम से दिया जाए तो यह प्रेम भरा उपहार
Agar isako jabaradastee liya jae to yah kupratha hai aur agar supreem se diya jae to yah prem bhara upahaar

Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student 🇮🇳🇮🇳🇮🇳 mission Indian Army🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
1:21
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सवाल है दहेज प्रथा एक कुप्रथा है या सिर्फ एक पिता का अपनी पुत्री के लिए प्रेम अपार प्रेम की बात करें तो प्रेम उपहार जो होते हैं कि सीमा पर अच्छा लगता है सामना होता है कि मतलब आप प्रेम बार किसी से मांगा नहीं जाता है यानी कि आप हमें लंबा आपसे जो भी श्रद्धा हो या नहीं आपने देने की छमता आप जितना भी दे सकते हो या वह उस पर डिपेंड करता है लेकिन क्या होता है कि प्रेम उपहार मांगा नहीं जाता नहीं बात दहेज की तो दहेज निश्चित तौर पर एक कुप्रथा ही है क्योंकि निजी तौर पर ऐसा देखा जाते जब भी कोई गरीब बाप अपनी बेटी के लिए मतलब शादी का रिश्ता लेकर किसी लड़के के घर जाता है तो निश्चित तौर पर गया होता है कि सबसे पहले जो कारण होता है कुछ दहेज की किसी कारणों से करो शादी गोपी जाती है वह किताब में लिफ्ट तेरी को मदद नहीं दे पाता तो क्या उसकी जो पुत्री होते से काफी मुलायम ससुराल में जेल नहीं पड़ती है लोग मैंने तो ससुराल पक्ष के लोग होते काफी निंदा करते हैं उसकी मिस्टी करते हैं और उनसे ऐसा भी होता कहीं पर भी मतलब देखा जाता है कि जितना डांटते फटकार ते हैं कि वह मिलो अपनी आत्महत्या करने के लिए मजबूर हो जाती तो हमारे सबसे दो मतलब है तो इधर देखो प्रथा है मतलब ऐसा नहीं है कि हम लोग पिता जो होता है अपनी पुत्री को प्रेम उपहार देते तो मिस करता हूं सवाल का जवाब अच्छा लगा लूंगा
Namaskaar doston kaise hain aap savaal hai dahej pratha ek kupratha hai ya sirph ek pita ka apanee putree ke lie prem apaar prem kee baat karen to prem upahaar jo hote hain ki seema par achchha lagata hai saamana hota hai ki matalab aap prem baar kisee se maanga nahin jaata hai yaanee ki aap hamen lamba aapase jo bhee shraddha ho ya nahin aapane dene kee chhamata aap jitana bhee de sakate ho ya vah us par dipend karata hai lekin kya hota hai ki prem upahaar maanga nahin jaata nahin baat dahej kee to dahej nishchit taur par ek kupratha hee hai kyonki nijee taur par aisa dekha jaate jab bhee koee gareeb baap apanee betee ke lie matalab shaadee ka rishta lekar kisee ladake ke ghar jaata hai to nishchit taur par gaya hota hai ki sabase pahale jo kaaran hota hai kuchh dahej kee kisee kaaranon se karo shaadee gopee jaatee hai vah kitaab mein lipht teree ko madad nahin de paata to kya usakee jo putree hote se kaaphee mulaayam sasuraal mein jel nahin padatee hai log mainne to sasuraal paksh ke log hote kaaphee ninda karate hain usakee mistee karate hain aur unase aisa bhee hota kaheen par bhee matalab dekha jaata hai ki jitana daantate phatakaar te hain ki vah milo apanee aatmahatya karane ke lie majaboor ho jaatee to hamaare sabase do matalab hai to idhar dekho pratha hai matalab aisa nahin hai ki ham log pita jo hota hai apanee putree ko prem upahaar dete to mis karata hoon savaal ka javaab achchha laga loonga

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या दहेज एक कुप्रथा है या सिर्फ एक पिता का अपनी पुत्री के लिए प्रेम उपहार है क्या दहेज एक कुप्रथा है या पुत्री के लिए प्रेम उपहार है
URL copied to clipboard