#भारत की राजनीति

bolkar speaker

बिहार और उत्तर प्रदेश में उद्योग ना लगने का सबसे बड़ा कारण क्या है?

Bihar Aur Uttar Pradesh Mei Udyog Na Lagne Ka Sabse Bada Karan Kya Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:07
घर और उत्तर प्रदेश में उद्योग लगाने का सबसे बड़ा कारण वहां पर वहां की सरकारों की उदासीनता पाई गई थी और दूसरा उदासीनता के साथ-साथ आप देखेंगे कि फॉरेन इन्वेस्टमेंट हो या बड़ी इंडस्ट्री को इन्होंने कभी माफी नहीं किया और दूसरी बात है कि यहां पर उत्तर प्रदेश बिहार के मजदूर पुरम हर संदेश के किनारे जाते हैं लेकिन वहां पर आम देखेंगे अभी भी थोड़ा सा बोलबाला है गुंडागर्दी और हो शायरी है टेंशन है और कहीं नहीं गए रंगदारी है और इन सारी चीजों के कारण से जो इंटरेस्ट लिस्ट होता है वह कहीं न कहीं जाने से दूर भागता है और इस कारण से वह इतनी सारी चीजों से दूर हुआ अब तक इन सरकारों को योगी सरकार जो उत्तर प्रदेश में पिछले कई सालों से बात कर रही है अभी जो फॉरेन इन्वेस्टमेंट है आज जो है उसमें तो थर्ड रैंक पर आया है तो मैं उत्तर प्रदेश को ऐसे नहीं कहा जा सकता है दूसरा लेकिन दोनों खास करके उत्तर प्रदेश में 2 घंटा स्ट्रक्चर हो रहे हैं रोड है रेलवे से और भी कई चीजें अभी भी हाईवेज नहीं उसने एक्सप्रेसवे नहीं है जिसके कारण से एंड तक लिस्ट को प्रॉब्लम होती है और बड़ी बड़ी इंडस्ट्री तो बड़ी मुश्किल से उधर कर तक जाता रही है कहीं ना कहीं सरकारों के द्वारा सही सब टीवी का आश्वासन देना सही माहौल ना बनाना और बहुत सारे कारण है और शायद यही कारण है कि दोनों राज्य काफी पिछड़े हैं और बिहार की स्थिति और भी खराब है
Ghar aur uttar pradesh mein udyog lagaane ka sabase bada kaaran vahaan par vahaan kee sarakaaron kee udaaseenata paee gaee thee aur doosara udaaseenata ke saath-saath aap dekhenge ki phoren investament ho ya badee indastree ko inhonne kabhee maaphee nahin kiya aur doosaree baat hai ki yahaan par uttar pradesh bihaar ke majadoor puram har sandesh ke kinaare jaate hain lekin vahaan par aam dekhenge abhee bhee thoda sa bolabaala hai gundaagardee aur ho shaayaree hai tenshan hai aur kaheen nahin gae rangadaaree hai aur in saaree cheejon ke kaaran se jo intarest list hota hai vah kaheen na kaheen jaane se door bhaagata hai aur is kaaran se vah itanee saaree cheejon se door hua ab tak in sarakaaron ko yogee sarakaar jo uttar pradesh mein pichhale kaee saalon se baat kar rahee hai abhee jo phoren investament hai aaj jo hai usamen to thard raink par aaya hai to main uttar pradesh ko aise nahin kaha ja sakata hai doosara lekin donon khaas karake uttar pradesh mein 2 ghanta strakchar ho rahe hain rod hai relave se aur bhee kaee cheejen abhee bhee haeevej nahin usane eksapresave nahin hai jisake kaaran se end tak list ko problam hotee hai aur badee badee indastree to badee mushkil se udhar kar tak jaata rahee hai kaheen na kaheen sarakaaron ke dvaara sahee sab teevee ka aashvaasan dena sahee maahaul na banaana aur bahut saare kaaran hai aur shaayad yahee kaaran hai ki donon raajy kaaphee pichhade hain aur bihaar kee sthiti aur bhee kharaab hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
बिहार और उत्तर प्रदेश में उद्योग ना लगने का सबसे बड़ा कारण क्या है?Bihar Aur Uttar Pradesh Mei Udyog Na Lagne Ka Sabse Bada Karan Kya Hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
1:46
जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि बिहार और उत्तर प्रदेश में उद्योग ना लगाने का सबसे बड़ा कारण क्या है तो देखिए बता दें कि जो हम लोग का उत्तर प्रदेश और बिहार है वह आपका जो रीजन है वो बहुत फर्टाइल है और वह खेती के लिए बहुत अच्छा है वहां पर प्रोडक्शन बहुत अच्छा होता है तो यही सब रीजन है अगर कहीं पर भी उद्योग लगाया जाता है तो वहां की जो जमीन है वह बंजर हो जाती है उसी लिए जो उत्तर प्रदेश है और बिहार एक्ट यह जमीन पर मतलब बहुत कम उद्योग लगाया जाता है क्योंकि अगर उद्योग लगा दिया जाएगा तो वहां की जो जमीन है वह खेती लायक नहीं रहेंगे अगर खेती मतलब और और जैसे नीचे का देख लिया जाए जिससे ढक्कन ओपन साइट देखा जाए तो खेती लायक नहीं है इसलिए माफ इस्टैबलिश्ड करेंगे तो फिर इतना बड़ा कोई मतलब इफेक्ट नहीं पड़ेगा लेकिन अगर हम किसी ऐसे जमीन को मतलब खराब कर रहे हैं जिससे हमें प्रोडक्शन हो रहा है तो हम अपने पैर पर कुल्हाड़ी मांगे तो मारेंगे कोई भी सरकार ऐसा नहीं करती है इसीलिए और वह ऐसे जमीन को सेलेक्ट कर दिया है जान जो बंजर हो अगर तू बंदर है तो वह ऐसी बातें क्यों प्रोडक्शन नहीं कर रही है मत लो उसमें प्रोडक्शन नहीं हो रहा किसी चीज का उस जमीन को इंडस्ट्री के लिए उद्योग के लिए यूज करती है लेकिन अगर जो जमीन फर्टाइल है हम उसको क्या करेंगे कि बंजर में कन्वर्ट कर देंगे तो सिचुएशन हम लोग तो बहुत खराब हो जाएगा और जैसे कि आप जानते हो कि हम लोग का जो पापुलेशन है वह सेकंड तो कैसे होगा अगर सरकार ऐसे स्टेप लेने लगे तो फिर वह उसकी सरकार गिर जाएगी और अब कोई भी कोई भी मतलब किसान है वह अपना ऐसा जमीन गवर्नमेंट को उद्योग के लिए नहीं देगा
Jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki bihaar aur uttar pradesh mein udyog na lagaane ka sabase bada kaaran kya hai to dekhie bata den ki jo ham log ka uttar pradesh aur bihaar hai vah aapaka jo reejan hai vo bahut phartail hai aur vah khetee ke lie bahut achchha hai vahaan par prodakshan bahut achchha hota hai to yahee sab reejan hai agar kaheen par bhee udyog lagaaya jaata hai to vahaan kee jo jameen hai vah banjar ho jaatee hai usee lie jo uttar pradesh hai aur bihaar ekt yah jameen par matalab bahut kam udyog lagaaya jaata hai kyonki agar udyog laga diya jaega to vahaan kee jo jameen hai vah khetee laayak nahin rahenge agar khetee matalab aur aur jaise neeche ka dekh liya jae jisase dhakkan opan sait dekha jae to khetee laayak nahin hai isalie maaph istaibalishd karenge to phir itana bada koee matalab iphekt nahin padega lekin agar ham kisee aise jameen ko matalab kharaab kar rahe hain jisase hamen prodakshan ho raha hai to ham apane pair par kulhaadee maange to maarenge koee bhee sarakaar aisa nahin karatee hai iseelie aur vah aise jameen ko selekt kar diya hai jaan jo banjar ho agar too bandar hai to vah aisee baaten kyon prodakshan nahin kar rahee hai mat lo usamen prodakshan nahin ho raha kisee cheej ka us jameen ko indastree ke lie udyog ke lie yooj karatee hai lekin agar jo jameen phartail hai ham usako kya karenge ki banjar mein kanvart kar denge to sichueshan ham log to bahut kharaab ho jaega aur jaise ki aap jaanate ho ki ham log ka jo paapuleshan hai vah sekand to kaise hoga agar sarakaar aise step lene lage to phir vah usakee sarakaar gir jaegee aur ab koee bhee koee bhee matalab kisaan hai vah apana aisa jameen gavarnament ko udyog ke lie nahin dega

bolkar speaker
बिहार और उत्तर प्रदेश में उद्योग ना लगने का सबसे बड़ा कारण क्या है?Bihar Aur Uttar Pradesh Mei Udyog Na Lagne Ka Sabse Bada Karan Kya Hai
paramveer koshlaindra Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए paramveer जी का जवाब
Unknown
0:08
जमीन बाबू भैया जमीन जमीन की जो कॉस्ट है वह बहुत ही ज्यादा है वहां पर इसलिए नहीं लगा दे वहां पर
Jameen baaboo bhaiya jameen jameen kee jo kost hai vah bahut hee jyaada hai vahaan par isalie nahin laga de vahaan par

bolkar speaker
बिहार और उत्तर प्रदेश में उद्योग ना लगने का सबसे बड़ा कारण क्या है?Bihar Aur Uttar Pradesh Mei Udyog Na Lagne Ka Sabse Bada Karan Kya Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
बिहार और उत्तर प्रदेश में उद्योग ना लगने का सबसे बड़ा कारण क्या है बिहार और उत्तर प्रदेश भारत के डेमोक्रेसी के अंदर होते हुए भी इन राज्यों में सामंतवादी व्यवस्था समाज व्यवस्था और उसके साथ-साथ मनुवादी समाज व्यवस्था बनी हुई है और इसमें अभी भी उतना ज्यादा बदलाव नहीं हुआ है जिसके कारण वह पुर गरीबी बहुत ज्यादा है पढ़ाई भी बहुत ज्यादा है कम है क्योंकि पढ़ाई के लिए और शिक्षा के लिए वहां पर प्रबोधन नहीं हुआ है कहा कि सरकार उन्हें जो जरूरी इंफ्रास्ट्रक्चर होता है मेरी सड़क पानी यह बनाया नहीं इतना भक्कम जैसी महाराष्ट्र ने बनाया हुआ था किसी का कारण महाराष्ट्र में उद्योग आने लगे रहे और भारत भर के लोग मजदूर श्रमिक वकील वर्कर्स यहां पर काम करते हैं और उत्तर प्रदेश बिहार जाति में संकुचित उक्ति से आपस में लड़कर और उसने की नीचे की भावना जताकर उसी दबके में ले रहे क्योंकि एक बहुत मूर्खता वाली जाति पति की सोच अनेक देवी देवताओं की अनावश्यक भक्ति और कर्मकांड पंडित पुरोहित और ब्राह्मणों का समाज के लोगों के मन के ऊपर एक प्रकार का प्रभाव होना धर्म के बाबत में अंधविश्वास कर्म सिद्धांत पुनर्जन्म का सिद्धांत एचडी पुरानी वैदिक पंडित है और जहां भी वह है वह कम विकास हुआ है और जहां वह नहीं है जैसे साउथ इंडिया के सभी राज्य में लंबी ज्यादा विकास हुआ है और उत्तरी राज्यों में कस्टम हुआ है और सबसे महत्वपूर्ण विकास होता है मुझे का विकास ज्ञान का विकास वह तो बहुत कम है क्योंकि उसके बाद ही डेमोक्रेटिक वैल्यूज गुडेल हो सकती है महाराष्ट्र में कुछ हद तक हुई है अब इसका कारण महाराष्ट्र में एक संगठित रूप से जातिवादी व्यवस्था मनुवादी विचार सामंतवादी व्यवस्था अंधविश्वास विरोधी आंदोलन और मोमेंट्स किसानों के आंदोलन साहित्य कोका प्रभाव शिक्षा के लिए किए गए प्रयास ऐसी कई बातों से थोड़ा बहुत तुलना में महाराष्ट्र पुरवा में हो गए हैं लेकिन यह राज्य बिल्कुल जानवर की तरह सोच रखते जब जाती पार्टी का मुद्दा आता है और धर्म विश का मुद्दा आता है वे जानवर बन जाते हैं यह का विकास ना होने का दिन है तो इसे प्रदेशों में उद्योगपति या उद्योग जगह जो होता है वह इन्वेस्टमेंट नहीं करता है उसको एक सुरक्षितता जरूरी होती है और इन बातों के कारण बिहार और उत्तर प्रदेश में जॉनी लीवर बंगाल में लगे केरला में लगे गुजरात में लगे लेकिन यह जो हिंदी भाषा का जो है उसमें
Bihaar aur uttar pradesh mein udyog na lagane ka sabase bada kaaran kya hai bihaar aur uttar pradesh bhaarat ke demokresee ke andar hote hue bhee in raajyon mein saamantavaadee vyavastha samaaj vyavastha aur usake saath-saath manuvaadee samaaj vyavastha banee huee hai aur isamen abhee bhee utana jyaada badalaav nahin hua hai jisake kaaran vah pur gareebee bahut jyaada hai padhaee bhee bahut jyaada hai kam hai kyonki padhaee ke lie aur shiksha ke lie vahaan par prabodhan nahin hua hai kaha ki sarakaar unhen jo jarooree imphraastrakchar hota hai meree sadak paanee yah banaaya nahin itana bhakkam jaisee mahaaraashtr ne banaaya hua tha kisee ka kaaran mahaaraashtr mein udyog aane lage rahe aur bhaarat bhar ke log majadoor shramik vakeel varkars yahaan par kaam karate hain aur uttar pradesh bihaar jaati mein sankuchit ukti se aapas mein ladakar aur usane kee neeche kee bhaavana jataakar usee dabake mein le rahe kyonki ek bahut moorkhata vaalee jaati pati kee soch anek devee devataon kee anaavashyak bhakti aur karmakaand pandit purohit aur braahmanon ka samaaj ke logon ke man ke oopar ek prakaar ka prabhaav hona dharm ke baabat mein andhavishvaas karm siddhaant punarjanm ka siddhaant echadee puraanee vaidik pandit hai aur jahaan bhee vah hai vah kam vikaas hua hai aur jahaan vah nahin hai jaise sauth indiya ke sabhee raajy mein lambee jyaada vikaas hua hai aur uttaree raajyon mein kastam hua hai aur sabase mahatvapoorn vikaas hota hai mujhe ka vikaas gyaan ka vikaas vah to bahut kam hai kyonki usake baad hee demokretik vailyooj gudel ho sakatee hai mahaaraashtr mein kuchh had tak huee hai ab isaka kaaran mahaaraashtr mein ek sangathit roop se jaativaadee vyavastha manuvaadee vichaar saamantavaadee vyavastha andhavishvaas virodhee aandolan aur moments kisaanon ke aandolan saahity koka prabhaav shiksha ke lie kie gae prayaas aisee kaee baaton se thoda bahut tulana mein mahaaraashtr purava mein ho gae hain lekin yah raajy bilkul jaanavar kee tarah soch rakhate jab jaatee paartee ka mudda aata hai aur dharm vish ka mudda aata hai ve jaanavar ban jaate hain yah ka vikaas na hone ka din hai to ise pradeshon mein udyogapati ya udyog jagah jo hota hai vah investament nahin karata hai usako ek surakshitata jarooree hotee hai aur in baaton ke kaaran bihaar aur uttar pradesh mein jonee leevar bangaal mein lage kerala mein lage gujaraat mein lage lekin yah jo hindee bhaasha ka jo hai usamen

bolkar speaker
बिहार और उत्तर प्रदेश में उद्योग ना लगने का सबसे बड़ा कारण क्या है?Bihar Aur Uttar Pradesh Mei Udyog Na Lagne Ka Sabse Bada Karan Kya Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:05
जैसा कि दोस्तों आपका प्रश्न है बिहार और उत्तर प्रदेश में उद्योग का नया लगने का सबसे बड़ा कारण क्या है तो दोस्तों आपके प्रश्न का उत्तर यह है बिहार और उत्तर प्रदेश में उद्योग का ना लगने का कारण सबसे बड़ा यह है कि वहां की राजनीतिक सरकारों की इच्छा शक्ति नहीं है क्योंकि अगर उन बिहार और उत्तर प्रदेश की सरकार में अगर इच्छा शक्ति होती कुछ करने की लोगों को रोजगार सर्जन करने की तो जरूर बिहार में भी और उत्तर प्रदेश में भी उद्योग लग सकते थे लेकिन उनके अंदर यह जज्बा नहीं है इनकी वजह से वहां उद्योग नहीं लग पा रहे हैं जिनसे कई लाखों लोग बेरोजगार हो रहे हैं जो एक दूसरे राज्य में अपना जीविका चला रहे हैं धन्यवाद साथियों खुश रहो
Jaisa ki doston aapaka prashn hai bihaar aur uttar pradesh mein udyog ka naya lagane ka sabase bada kaaran kya hai to doston aapake prashn ka uttar yah hai bihaar aur uttar pradesh mein udyog ka na lagane ka kaaran sabase bada yah hai ki vahaan kee raajaneetik sarakaaron kee ichchha shakti nahin hai kyonki agar un bihaar aur uttar pradesh kee sarakaar mein agar ichchha shakti hotee kuchh karane kee logon ko rojagaar sarjan karane kee to jaroor bihaar mein bhee aur uttar pradesh mein bhee udyog lag sakate the lekin unake andar yah jajba nahin hai inakee vajah se vahaan udyog nahin lag pa rahe hain jinase kaee laakhon log berojagaar ho rahe hain jo ek doosare raajy mein apana jeevika chala rahe hain dhanyavaad saathiyon khush raho

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • बिहार और उत्तर प्रदेश में उद्योग ना लगने का सबसे बड़ा कारण क्या है, बिहार और उत्तर प्रदेश में उद्योग ना लगने का सबसे बड़ा कारण
URL copied to clipboard