#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

धैर्य व कयारता में क्या अंतर है?

Dherya Va Kayarta Mein Kya Antar Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
0:53
सर दोस्तों आपका प्रश्न है धैर्य व कायरता में क्या अंतर है दोस्तों धैर्य का अर्थ होता है धीरज और संतोष रखना किसी वक्त भी कार्य को जल्दबाजी में नहीं करते हुए और धैर्य रखना जबकि कायरता वीरता शब्द का विलोम शब्द होती है जबकि वीरता का विलोम शब्द कायरता होता है और कायदा का अर्थ होता है कमजोर डरा हुआ तो इसलिए इन दोनों में फर्क सीधा-सीधा दिख रहा है यानी कि धीरज संतोष और कायरता यानी कि कमजोर तो इन दोनों का जो अर्थ है वह बिल्कुल ही एक दूसरे से भिन्न है दोनों अलग-अलग सार्थक शब्द है और दोनों ही अलग है धन्यवाद
Sar doston aapaka prashn hai dhairy va kaayarata mein kya antar hai doston dhairy ka arth hota hai dheeraj aur santosh rakhana kisee vakt bhee kaary ko jaldabaajee mein nahin karate hue aur dhairy rakhana jabaki kaayarata veerata shabd ka vilom shabd hotee hai jabaki veerata ka vilom shabd kaayarata hota hai aur kaayada ka arth hota hai kamajor dara hua to isalie in donon mein phark seedha-seedha dikh raha hai yaanee ki dheeraj santosh aur kaayarata yaanee ki kamajor to in donon ka jo arth hai vah bilkul hee ek doosare se bhinn hai donon alag-alag saarthak shabd hai aur donon hee alag hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
धैर्य व कयारता में क्या अंतर है?Dherya Va Kayarta Mein Kya Antar Hai
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:38
10 प्रश्न है धैर्य व कायरता में क्या अंतर है मैं आपको बताना चाहूंगा देखे धैर्य बहुत है जो किसी मुसीबत में कोई भी व्यक्ति धैर्य रखकर उस काम को करता है और वही कायरता में कोई भी व्यक्ति उसी को उसी मुश्किल परिस्थिति में छोड़ देने की सोच लेता है यही धैर्य गया था में अंतर है धन्यवाद
10 prashn hai dhairy va kaayarata mein kya antar hai main aapako bataana chaahoonga dekhe dhairy bahut hai jo kisee museebat mein koee bhee vyakti dhairy rakhakar us kaam ko karata hai aur vahee kaayarata mein koee bhee vyakti usee ko usee mushkil paristhiti mein chhod dene kee soch leta hai yahee dhairy gaya tha mein antar hai dhanyavaad

bolkar speaker
धैर्य व कयारता में क्या अंतर है?Dherya Va Kayarta Mein Kya Antar Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
0:57
वाले वक्त अभी क्या कर रहे हैं जो किसी मुश्किल वक्त में किसी व्यक्ति के पास रहता है जिसकी सोच लेती है उनकी कि नहीं हम इस मुश्किल वक्त को भी पार कर जाएंगे तो वह कण्हेरे हो रहा है लेकिन करता वही वही है कोई मुश्किल वक्त है और इतनी भेजी है सोचिए पता नहीं है पार होगा कि नहीं चल पाएगी कि नहीं डरते हैं तो इसे कायरता कहेंगे हर मुश्किल से बाहर निकलने के लिए पॉजिटिव सोचो ना जरा सोचो ना बहुत जरूरी होता है मुश्किल वक्त से निकालती है लेकिन अगर बात नहीं तू क्या था कहीं जाती है तू भी सवाल का जवाब पसंद है ना आप लोग को चाहिए दूसरों को भी खुश रखे धन्यवाद
Vaale vakt abhee kya kar rahe hain jo kisee mushkil vakt mein kisee vyakti ke paas rahata hai jisakee soch letee hai unakee ki nahin ham is mushkil vakt ko bhee paar kar jaenge to vah kanhere ho raha hai lekin karata vahee vahee hai koee mushkil vakt hai aur itanee bhejee hai sochie pata nahin hai paar hoga ki nahin chal paegee ki nahin darate hain to ise kaayarata kahenge har mushkil se baahar nikalane ke lie pojitiv socho na jara socho na bahut jarooree hota hai mushkil vakt se nikaalatee hai lekin agar baat nahin too kya tha kaheen jaatee hai too bhee savaal ka javaab pasand hai na aap log ko chaahie doosaron ko bhee khush rakhe dhanyavaad

bolkar speaker
धैर्य व कयारता में क्या अंतर है?Dherya Va Kayarta Mein Kya Antar Hai
Sumit Goswami Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sumit जी का जवाब
Engineering, psychology, philosophy, Technology, health & fitness
1:53
हेलो दोस्तों तो आपका क्वेश्चन है धैर्य व कायरता में क्या अंतर है तू धैर्यवान व्यक्ति कभी कायर नहीं हो सकता और कारण व्यक्ति कभी भी धैर्यवान नहीं हो सकता तो यह सबसे बड़ा डिफरेंस एंड धारी और कायदा के बीच में जो भी जवान होते हैं वह अपने लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर लेते हैं जबकि कायर व्यक्ति अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में असफल रह जाते हैं इसीलिए हमें धैर्य बनाए रखने की जरूरत होती है धैर्य बनाए रखेंगे तो हमें सफलता मिलनी ही मिलनी है और कायर बने रहना बहुत बड़ी गलती है अतः हमें धैर्यवान और संयम सील बनना चाहिए जो भी व्यक्ति धैर्यवान होते हैं वह अपने फील्ड में काफी सक्सेसफुल होते हैं और बड़ी-बड़ी ऊंचाइयों और बुलंदियों को हासिल करते हैं और जितने भी सक्सेसफुल लोग हुए हैं वह सभी धैर्यवान हुए हैं किसी भी सक्सेसफुल व्यक्ति का हिस्ट्री अगर देखा जाए तो उसके पीछे आपको पता चलेगा कि वह काफी धैर्यवान होते हैं क्योंकि वे काफी फेलवर को देखते हैं काफी बार असफल होते हैं लेकिन अगर धैर्य नहीं बनाए रखते तो आज वह इस सफलता के मुकाम पर नहीं होते आता हमें बुरे से बुरे वक्त में भी धैर्य बनाए रखना है और आगे बढ़ना है यही सफलता का मूल मंत्र है इसी के साथ आशा करता हूं कि आपको समझ में आया होगा धन्यवाद
Helo doston to aapaka kveshchan hai dhairy va kaayarata mein kya antar hai too dhairyavaan vyakti kabhee kaayar nahin ho sakata aur kaaran vyakti kabhee bhee dhairyavaan nahin ho sakata to yah sabase bada dipharens end dhaaree aur kaayada ke beech mein jo bhee javaan hote hain vah apane lakshy ko aasaanee se praapt kar lete hain jabaki kaayar vyakti apane lakshy ko praapt karane mein asaphal rah jaate hain iseelie hamen dhairy banae rakhane kee jaroorat hotee hai dhairy banae rakhenge to hamen saphalata milanee hee milanee hai aur kaayar bane rahana bahut badee galatee hai atah hamen dhairyavaan aur sanyam seel banana chaahie jo bhee vyakti dhairyavaan hote hain vah apane pheeld mein kaaphee saksesaphul hote hain aur badee-badee oonchaiyon aur bulandiyon ko haasil karate hain aur jitane bhee saksesaphul log hue hain vah sabhee dhairyavaan hue hain kisee bhee saksesaphul vyakti ka histree agar dekha jae to usake peechhe aapako pata chalega ki vah kaaphee dhairyavaan hote hain kyonki ve kaaphee phelavar ko dekhate hain kaaphee baar asaphal hote hain lekin agar dhairy nahin banae rakhate to aaj vah is saphalata ke mukaam par nahin hote aata hamen bure se bure vakt mein bhee dhairy banae rakhana hai aur aage badhana hai yahee saphalata ka mool mantr hai isee ke saath aasha karata hoon ki aapako samajh mein aaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
धैर्य व कयारता में क्या अंतर है?Dherya Va Kayarta Mein Kya Antar Hai
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
घर पर ही रहता हूं बैटरी बनाने का कार्य करता हूं और मोबाइल रिचार्ज इत्यादि
1:06
सवाल है घर विभाग कायरता में क्या अंतर है देखिए मेरे ख्याल से भरी एक शक्ति है जो भीतर से हमें मजबूत बनाती है वही कार्य हम धैर्य और पूरी निष्ठा के साथ करने का प्रयास करते हैं तो कार्य पूरे होने की संभावना ज्यादा बढ़ जाती है धैर्य धारण करना 1 गुण भी है पर जब जरूरत से ज्यादा धैर्य रखते जाए तो जमाना हमे कायर समझने लगता है जब हम ज्यादा सहन करने लगते हैं तो लोग अपनी हदें भूल जाते हैं सबके जीवन में कुछ ना कुछ समस्या होती ही है हम धैर्य के साथ समस्या का समाधान खोजने का प्रयास करेंगे तो जरूर हम समस्या हल कर सकते हैं पर अगर हम समस्या से मुंह फेर लेंगे तो वह कायरता खिलाएगी का हर व्यक्ति सामना नहीं करता लड़ता पीछे हटना और पीठ दिखाना कायरता के प्रमुख लक्षण हैं धन्यवाद
Savaal hai ghar vibhaag kaayarata mein kya antar hai dekhie mere khyaal se bharee ek shakti hai jo bheetar se hamen majaboot banaatee hai vahee kaary ham dhairy aur pooree nishtha ke saath karane ka prayaas karate hain to kaary poore hone kee sambhaavana jyaada badh jaatee hai dhairy dhaaran karana 1 gun bhee hai par jab jaroorat se jyaada dhairy rakhate jae to jamaana hame kaayar samajhane lagata hai jab ham jyaada sahan karane lagate hain to log apanee haden bhool jaate hain sabake jeevan mein kuchh na kuchh samasya hotee hee hai ham dhairy ke saath samasya ka samaadhaan khojane ka prayaas karenge to jaroor ham samasya hal kar sakate hain par agar ham samasya se munh pher lenge to vah kaayarata khilaegee ka har vyakti saamana nahin karata ladata peechhe hatana aur peeth dikhaana kaayarata ke pramukh lakshan hain dhanyavaad

bolkar speaker
धैर्य व कयारता में क्या अंतर है?Dherya Va Kayarta Mein Kya Antar Hai
Anand Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Anand जी का जवाब
Mathematics Teacher
0:33
सवाले धैर्य व कायरता में क्या अंतर है तो देखिए धारी जो होता है वह पैसेंजर किसी भी कार्य को करते समय आप आराम से जिस चीज को कहते हैं अपने अंदर रहकर शांत स्वभाव और कार्य को सोच समझकर करने की जो क्षमता होती है उसे घर जाते हैं लेकिन कायरता जो है वह बहुत अलग चीज है कायरता मतलब होता है किसी ने कार्य को करने कि आपके अंदर क्षमता नहीं होती है आप कायर होते हैं अब जाकर उसे हम कायरता कहते हैं
Savaale dhairy va kaayarata mein kya antar hai to dekhie dhaaree jo hota hai vah paisenjar kisee bhee kaary ko karate samay aap aaraam se jis cheej ko kahate hain apane andar rahakar shaant svabhaav aur kaary ko soch samajhakar karane kee jo kshamata hotee hai use ghar jaate hain lekin kaayarata jo hai vah bahut alag cheej hai kaayarata matalab hota hai kisee ne kaary ko karane ki aapake andar kshamata nahin hotee hai aap kaayar hote hain ab jaakar use ham kaayarata kahate hain

bolkar speaker
धैर्य व कयारता में क्या अंतर है?Dherya Va Kayarta Mein Kya Antar Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:29
काराकस ने धैर्य व कायरता में क्या अंतर है तो आपको बताना चाहेंगे देखी जो धैर्य है यह पॉजिटिविटी से भरा हुआ है जबकि कायरता नेगेटिविटी की बात है धैर्य रखना कोई भी व्यक्ति के जीवन में मुश्किल वक्त आए तो वहां पर ध्यान रखना परम आवश्यक है और अगर कोई व्यक्ति ठहरे रखता है तभी वह अपने जीवन में आगे सफलता प्राप्त कर पाता है उसी जगह अगर कोई व्यक्ति अपने मुसीबतों से बचकर भागना चाहता है तो वह कायरता कहलाती है मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Kaaraakas ne dhairy va kaayarata mein kya antar hai to aapako bataana chaahenge dekhee jo dhairy hai yah pojitivitee se bhara hua hai jabaki kaayarata negetivitee kee baat hai dhairy rakhana koee bhee vyakti ke jeevan mein mushkil vakt aae to vahaan par dhyaan rakhana param aavashyak hai aur agar koee vyakti thahare rakhata hai tabhee vah apane jeevan mein aage saphalata praapt kar paata hai usee jagah agar koee vyakti apane museebaton se bachakar bhaagana chaahata hai to vah kaayarata kahalaatee hai main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
धैर्य व कयारता में क्या अंतर है?Dherya Va Kayarta Mein Kya Antar Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
1:10
ससुराल की दरिया में कविता में क्या अंतर है तो मेरे ख्याल से तेरी एक सकती है जो भीतर से हमें मजबूत बनाती है को कोई कार्य अंधेरे से पूरी निष्ठा के साथ करने का प्रयास करते हैं तो पूरे कार्य होने की संभावना ज्यादा बढ़ जाती है धैर्य कारण 1 गुण भी हैं जब जरूरत से ज्यादा धैर्य रखते हैं जाए तो जमाना हमे कायर समझने लगते हैं सबसे सबके जीवन में कुछ ना कुछ समस्या होती हैं हमें धैर्य के साथ समझना समाधान खोजने का प्रयास करें तो जरूर हम समस्या का हल रह सकते अगर हम समस्याओं से मुंह फेर लेंगे तो कायर कल आए थे कई व्यक्ति सामना नहीं करता जुड़ता नहीं है पीछे हटता और पीठ दिखाना कायरता के लक्ष्य में देरी के साथ समस्याओं का सामना करना एक कौन है और कायरता कमजोरी कहलाती है मैं भी गलत हो सकता हूं पर मैंने मेरे विचार रखे हैं धन्यवाद
Sasuraal kee dariya mein kavita mein kya antar hai to mere khyaal se teree ek sakatee hai jo bheetar se hamen majaboot banaatee hai ko koee kaary andhere se pooree nishtha ke saath karane ka prayaas karate hain to poore kaary hone kee sambhaavana jyaada badh jaatee hai dhairy kaaran 1 gun bhee hain jab jaroorat se jyaada dhairy rakhate hain jae to jamaana hame kaayar samajhane lagate hain sabase sabake jeevan mein kuchh na kuchh samasya hotee hain hamen dhairy ke saath samajhana samaadhaan khojane ka prayaas karen to jaroor ham samasya ka hal rah sakate agar ham samasyaon se munh pher lenge to kaayar kal aae the kaee vyakti saamana nahin karata judata nahin hai peechhe hatata aur peeth dikhaana kaayarata ke lakshy mein deree ke saath samasyaon ka saamana karana ek kaun hai aur kaayarata kamajoree kahalaatee hai main bhee galat ho sakata hoon par mainne mere vichaar rakhe hain dhanyavaad

bolkar speaker
धैर्य व कयारता में क्या अंतर है?Dherya Va Kayarta Mein Kya Antar Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:55
स्वागत है आपका आपका प्रशांत है रेवा कायरता में क्या अंतर है तो फ्रेंड से धैर्य से होता है जब किसी चीज के लिए धीरज रखा जाए और कायरता वह होती है जब किसी को किसी से लड़ाई हो रही है या कोई बात हो रही है तुम चुप कर दो बाकी कहीं बैठ जाएं कायरता होती है या कोई सच नाम है अगर कहीं पर कोई गलत हो रहा है उन चुपचाप वहां से पीछे हट जाए और कोई भी सही गलत का फैसला न कर पाए भी कायरता होती है धैर्यवान मनु सच्चा होता है जो धैर्य करता है कि चलो यह चीज उसको मिल गई कोई बात नहीं अगली बार हमें भी मिलेगी यह दहेज होता है लेकिन कायरता में से होता है कि जैसे अगर किसी के साथ अन्याय हो रहा है वहां से गुजर रहे हैं और हमने उसको देखा और साथ बहुत ज्यादा गलत हो रहा है तो हां यह भी ना बोल सके कि आप ऐसा मत करिए और चुपचाप पीछे से चले जाएं और बंद करके फिर कायरता होती है धन्यवाद
Svaagat hai aapaka aapaka prashaant hai reva kaayarata mein kya antar hai to phrend se dhairy se hota hai jab kisee cheej ke lie dheeraj rakha jae aur kaayarata vah hotee hai jab kisee ko kisee se ladaee ho rahee hai ya koee baat ho rahee hai tum chup kar do baakee kaheen baith jaen kaayarata hotee hai ya koee sach naam hai agar kaheen par koee galat ho raha hai un chupachaap vahaan se peechhe hat jae aur koee bhee sahee galat ka phaisala na kar pae bhee kaayarata hotee hai dhairyavaan manu sachcha hota hai jo dhairy karata hai ki chalo yah cheej usako mil gaee koee baat nahin agalee baar hamen bhee milegee yah dahej hota hai lekin kaayarata mein se hota hai ki jaise agar kisee ke saath anyaay ho raha hai vahaan se gujar rahe hain aur hamane usako dekha aur saath bahut jyaada galat ho raha hai to haan yah bhee na bol sake ki aap aisa mat karie aur chupachaap peechhe se chale jaen aur band karake phir kaayarata hotee hai dhanyavaad

bolkar speaker
धैर्य व कयारता में क्या अंतर है?Dherya Va Kayarta Mein Kya Antar Hai
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:42
क्वेश्चन पूछा गया है कि धारे और कायरता में क्या अंतर है तो ठहरे हम सभी जानते हैं कि धारे मतलब कि मतलब इंतजार यह संयम अगर हम किसी भी कार्य के प्रति हम अगर संयम रखते हैं दूसरे के अंतर्गत रख सकते हैं लेकिन वही गया था जो कि से बिल्कुल भी नहीं क्योंकि तैयार था जो होता है इस निडरता कहीं जो हैं और अपोजिट वर्ड है कायरता को अगर हम सबसे अधिक अर्थ में अगर हम तो ले तो इसे इस तरह कह सकते हैं कि किसी व्यक्ति के प्रति जो है या हर किसी व्यक्ति के प्रति कोई व्यक्ति अगर डरता है तो उसे हम कार्य कर सकते हैं
Kveshchan poochha gaya hai ki dhaare aur kaayarata mein kya antar hai to thahare ham sabhee jaanate hain ki dhaare matalab ki matalab intajaar yah sanyam agar ham kisee bhee kaary ke prati ham agar sanyam rakhate hain doosare ke antargat rakh sakate hain lekin vahee gaya tha jo ki se bilkul bhee nahin kyonki taiyaar tha jo hota hai is nidarata kaheen jo hain aur apojit vard hai kaayarata ko agar ham sabase adhik arth mein agar ham to le to ise is tarah kah sakate hain ki kisee vyakti ke prati jo hai ya har kisee vyakti ke prati koee vyakti agar darata hai to use ham kaary kar sakate hain

bolkar speaker
धैर्य व कयारता में क्या अंतर है?Dherya Va Kayarta Mein Kya Antar Hai
neelam mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए neelam जी का जवाब
Job
2:11
नमस्कार दोस्तों मैंने अभी एक सवाल देखा है इसमें लिखा है तेरी और कायरता में क्या अंतर है तो दोस्त मेरे हिसाब से धैर्य जो होता है का अर्थ होता है किसी भी चीज में सब्र करना संतोष रखना और हिम्मत से उस चीज को करने जैसे किसी भी समस्या से मेहरबान बने रहना धीरज रखिए कि घबरा के पीछे नहीं हटना उस समस्या से लड़ना उसे धैर्य करते हैं किसी भी चीज में धीरज बनाए रखना संतोष करना आशुतोष नहीं शब्दों सकता है धैर्य का मतलब भी जल्दी हो सकता है संतोष उसका सही अर्थ नहीं है धैर्य का मतलब होता है कि किसी भी कार्य में चाहे वह समस्याएं कोई मुश्किल घड़ी अंदर हिम्मत न हारना धैर्य का मतलब हिम्मत न हारना और दोनों ही कायरता का मतलब होता है कि किसी भी चीज में मुंह चुप पीट-पीट मतलब पीठ दिखा कर भाग जाना करता होता है कि किसी भी कार्य को जैसी कोई समस्या आई और उसमें समस्या से लड़ना लड़के बल्कि अपने अपने मतलब पीछे हटना या फिर अपनी जान देने की कोशिश करना या भाग जाना किसी समस्या का सामना ना करना और धैर्य का मतलब होता है कि हिम्मत ना आना किसी भी कार्य में जैसे एक एग्जांपल के रूप में ले लीजिए दोनों को कि अगर कोई कार्य जैसे आप करना जा रहे हो और आपके सामने बहुत मुश्किल आ जाए तो आप धैर्य व धैर्य का उसमें अगर उदाहरण देखा जाए तो आप धैर्य के साथ हिम्मत ना हार के उस कार्य को करते रहो और उसे सफलता मिल जाएगी या दूसरा कायरता का वहां प्रयोग और करें तो होगा कि अगर कोई काम कर रहे हो और अगर कोई समस्या आपके सामने आकर खड़ी हो गई आपको उसमें लड़ाई करने तो आप उसमें कायरता दिखाकर पीठ पीछे करके वहां से भाग जाओ और उसी से सामना ना कर पाऊं तो धैर्य का मतलब होता है कि हिम्मत न हारना और कायरता का मतलब होता है कि डर के पीठ दिखा कर वहां से भाग जाना क्या आप उस समस्या का सामना ना करना तो दोस्तों मेरे सबसे तो यह यही जवाब है आगे अगर आपको अच्छा लगे तो लाइक और कमेंट करें सब्सक्राइब करें दोस्तों जय हिंद
Namaskaar doston mainne abhee ek savaal dekha hai isamen likha hai teree aur kaayarata mein kya antar hai to dost mere hisaab se dhairy jo hota hai ka arth hota hai kisee bhee cheej mein sabr karana santosh rakhana aur himmat se us cheej ko karane jaise kisee bhee samasya se meharabaan bane rahana dheeraj rakhie ki ghabara ke peechhe nahin hatana us samasya se ladana use dhairy karate hain kisee bhee cheej mein dheeraj banae rakhana santosh karana aashutosh nahin shabdon sakata hai dhairy ka matalab bhee jaldee ho sakata hai santosh usaka sahee arth nahin hai dhairy ka matalab hota hai ki kisee bhee kaary mein chaahe vah samasyaen koee mushkil ghadee andar himmat na haarana dhairy ka matalab himmat na haarana aur donon hee kaayarata ka matalab hota hai ki kisee bhee cheej mein munh chup peet-peet matalab peeth dikha kar bhaag jaana karata hota hai ki kisee bhee kaary ko jaisee koee samasya aaee aur usamen samasya se ladana ladake balki apane apane matalab peechhe hatana ya phir apanee jaan dene kee koshish karana ya bhaag jaana kisee samasya ka saamana na karana aur dhairy ka matalab hota hai ki himmat na aana kisee bhee kaary mein jaise ek egjaampal ke roop mein le leejie donon ko ki agar koee kaary jaise aap karana ja rahe ho aur aapake saamane bahut mushkil aa jae to aap dhairy va dhairy ka usamen agar udaaharan dekha jae to aap dhairy ke saath himmat na haar ke us kaary ko karate raho aur use saphalata mil jaegee ya doosara kaayarata ka vahaan prayog aur karen to hoga ki agar koee kaam kar rahe ho aur agar koee samasya aapake saamane aakar khadee ho gaee aapako usamen ladaee karane to aap usamen kaayarata dikhaakar peeth peechhe karake vahaan se bhaag jao aur usee se saamana na kar paoon to dhairy ka matalab hota hai ki himmat na haarana aur kaayarata ka matalab hota hai ki dar ke peeth dikha kar vahaan se bhaag jaana kya aap us samasya ka saamana na karana to doston mere sabase to yah yahee javaab hai aage agar aapako achchha lage to laik aur kament karen sabsakraib karen doston jay hind

bolkar speaker
धैर्य व कयारता में क्या अंतर है?Dherya Va Kayarta Mein Kya Antar Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
1:25
नमस्ते धैर्य कार्यक्रम में बहुत ज्यादा अंतर करता हुआ कि आपके पास कोई ट्रक सिचुएशन आया आप अपना पल्ला झाड़ के निकल गए मेरे से नहीं होगा मेरे को नहीं करना है क्या यह सिचुएशन ही नहीं ऐसा जिसमें मैं कुछ करूं मान लीजिए किसी को मेडिकल प्रॉब्लम है या फिर किसी को आपके गाइड की जरूरत है और आप सीधे निकल जाते हो कटनी कट लगते हो कि नहीं यह कुछ प्रॉब्लम नहीं है मैं मेरे पास टाइम नहीं है या फिर कोई और देख लेता है मतलब निकल जाता है अध्ययन क्या है आपका एजुकेशन टाइम एजुकेशन में अच्छा नहीं कर पा रहे हो आप आपका हील्स अच्छा नहीं चल रहा है आपको जॉब अच्छी नहीं मिल पा रही है लेकिन आप लगे हुए हो आप कोशिश कर रहे हो आप इंटरव्यू दे रहे हो आप पढ़ाई कर रहे हो लगे हुए हो मत बरस तक रास्ते की खोज में हो आप तो उसको धैर्य करते हैं हम यही अंतरिक्ष के प्रति लगाव रहता धैर्य से और कायरता में यह है कि लक्ष्य और जोक सही काम करना होता है वह आदमी करता नहीं है तो रिस्पांस उल्टी जहां निभाया जाए उसको धैर्य करते जहां रिस्पॉन्स नीति से आप निकल गया उसको कायरता करते हैं थैंक यू
Namaste dhairy kaaryakram mein bahut jyaada antar karata hua ki aapake paas koee trak sichueshan aaya aap apana palla jhaad ke nikal gae mere se nahin hoga mere ko nahin karana hai kya yah sichueshan hee nahin aisa jisamen main kuchh karoon maan leejie kisee ko medikal problam hai ya phir kisee ko aapake gaid kee jaroorat hai aur aap seedhe nikal jaate ho katanee kat lagate ho ki nahin yah kuchh problam nahin hai main mere paas taim nahin hai ya phir koee aur dekh leta hai matalab nikal jaata hai adhyayan kya hai aapaka ejukeshan taim ejukeshan mein achchha nahin kar pa rahe ho aap aapaka heels achchha nahin chal raha hai aapako job achchhee nahin mil pa rahee hai lekin aap lage hue ho aap koshish kar rahe ho aap intaravyoo de rahe ho aap padhaee kar rahe ho lage hue ho mat baras tak raaste kee khoj mein ho aap to usako dhairy karate hain ham yahee antariksh ke prati lagaav rahata dhairy se aur kaayarata mein yah hai ki lakshy aur jok sahee kaam karana hota hai vah aadamee karata nahin hai to rispaans ultee jahaan nibhaaya jae usako dhairy karate jahaan rispons neeti se aap nikal gaya usako kaayarata karate hain thaink yoo

bolkar speaker
धैर्य व कयारता में क्या अंतर है?Dherya Va Kayarta Mein Kya Antar Hai
Nadeem Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nadeem जी का जवाब
5000
0:31

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • धैर्य व कयारता में क्या अंतर है धैर्य व कयारता में अंतर
URL copied to clipboard