#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

मनोविज्ञान में क्रोध क्या है?

Manovigyaan Mei Krodh Kya Hai
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:31
क्या आपका प्रश्न है या मनोविज्ञान में क्रोध क्या है देखें मनोविज्ञान में क्रोध एक प्राकृतिक भावना है ईसा पूर्व 2020 से 2000 ईस्वी तक या कल के बीच लिखे गए अन्य शास्त्रों में खुद को एक कर रख दिया है सर जी भाऊ कहां गया है अमेरिका फिजियोलॉजिकल एसोसिएशन ने गुस्से को विपरीत परिस्थितियों के प्रति एक क्या सहज अभिव्यक्ति कहां के हैं
Kya aapaka prashn hai ya manovigyaan mein krodh kya hai dekhen manovigyaan mein krodh ek praakrtik bhaavana hai eesa poorv 2020 se 2000 eesvee tak ya kal ke beech likhe gae any shaastron mein khud ko ek kar rakh diya hai sar jee bhaoo kahaan gaya hai amerika phijiyolojikal esosieshan ne gusse ko vipareet paristhitiyon ke prati ek kya sahaj abhivyakti kahaan ke hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
मनोविज्ञान में क्रोध क्या है?Manovigyaan Mei Krodh Kya Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
3:14
दोस्तों आपका प्रश्न है मनोविज्ञान में क्रोध है क्या है दोस्तों hindustan.com की एक पोस्ट के अनुसार क्रोध एक प्राकृतिक भावना है ईसापुर को 200 वर्षों से 200 ईसवी तक के काल के बीच लिखे गए नाट्यशास्त्र में क्रोध को एक रस या नैसर्गिक भाव कहा गया है अमेरिकन फिजियोलॉजिकल एसोसिएशन ने गुस्से को विपरीत परिस्थितियों के प्रति एक सहज अभिव्यक्ति कहा गया है इस उग्र प्रदर्शन वाले भाव से हम अपने ऊपर लगे आरोपों से अपनी रक्षा करते हैं लिहाजा अपने अस्तित्व रक्षा के लिए क्रोध भी जरूरी होता है आधुनिक जीवन शैली किसी भी व्यक्ति को तनाव में धकेल सकती हैं अब जबकि हजारों लोगों को अपने रोजगार और घरों से हाथ धोना पड़ रहा है और यहां तक कि सेवानिवृत्त लोगों के सुरक्षित राशि अभी बाजारी पुत्र पुत्र के कारण गायब होती जा रही हैं इस लिहाज से इस काल को एस ओ एंजायटी या व्यग्रता का युग कहा जा सकता है इसके विपरीत यह भी सच है कि कुछ लोग चाहे उनकी आर्थिक या पारिवारिक स्थिति कैसी भी हो हमेशा तनाव में ही रहते हैं दरअसल पैदाइशी तनावग्रस्त होते हैं दोस्तों क्रोध जो है वह बेचैनी और तनाव को बढ़ावा देते हैं जनाब डर से अलग होता है इंसान या किसी अन्य जीवित प्राणी को डर उसके सामने मौजूदगी से दिल से लगता है इसके विपरीत तनाव में व्यक्ति अपने निर्णय करने की क्षमता को लेकर उलझा रहता है व्यक्ति इस दौरान तब क्या होगा के भंवर में फंस कर रह जाता है लेकिन जब डर कामकाज से उलझने लगता है तो तनाव क्लीनिकल एंजायटी डिसऑर्डर का रूप ले लेता है इसके अपने कई रूप होते हैं जिसमें पैनिंग सोशल एंजायटी फोबिया ऑब्सेसिव कंपल्सिव post-traumatic स्ट्रेस को सबसे ऊपर एंजायटी डिसऑर्डर है चिंता दिमाग में अमीदला में अत्यधिक हलचल के कारण उत्पन्न होती है जो दिमाग के बीच का हिस्सा होता है दिमाग का यह हिस्सा नहीं तो और किसी खतरे का सामना होने की सूरत में सजग होता है अपने साधारण काम के दौरान निकला नए वातावरण के प्रति शारीरिक क्रियात्मक उत्तर देता है इस क्रिया में भावनात्मक अनुभव की समस्त यादें होती है लेकिन प्रधान के अध्ययनों से मुताबिक विशिष्ट मानसिक बनावट वाले लोगों की लोगों में m1 दिला अतिथि आत्मक होता है तो दोस्तों यदि आपको गुस्से की समस्या है क्रोध की समस्या है तो उनको पहचानने की जरूरत है लोगों को टाइप है और टाइप भी पर्सनैलिटी केदारपुर पहचाने टाइप ए पर्सनैलिटी के लोग होते हैं जिनकी किसी वस्तु को प्राप्त करने की इच्छा ज्यादा तीव्र होती है ऐसे लोगों को गुस्सा बहुत जल्दी आता है वह जल्द ही धैर्य खो बैठते हैं आप भी श्रेणी दोस्तों जैसे कि धैर्य की कमी खाना जल्दी जल्दी खाना बेचैनी कामकाज के दौरान चिरचिरापन गुस्से के दौरान खुद को नुकसान पहुंचाना यह गुस्से के प्रमुख कारण धन्यवाद
Doston aapaka prashn hai manovigyaan mein krodh hai kya hai doston hindustan.chom kee ek post ke anusaar krodh ek praakrtik bhaavana hai eesaapur ko 200 varshon se 200 eesavee tak ke kaal ke beech likhe gae naatyashaastr mein krodh ko ek ras ya naisargik bhaav kaha gaya hai amerikan phijiyolojikal esosieshan ne gusse ko vipareet paristhitiyon ke prati ek sahaj abhivyakti kaha gaya hai is ugr pradarshan vaale bhaav se ham apane oopar lage aaropon se apanee raksha karate hain lihaaja apane astitv raksha ke lie krodh bhee jarooree hota hai aadhunik jeevan shailee kisee bhee vyakti ko tanaav mein dhakel sakatee hain ab jabaki hajaaron logon ko apane rojagaar aur gharon se haath dhona pad raha hai aur yahaan tak ki sevaanivrtt logon ke surakshit raashi abhee baajaaree putr putr ke kaaran gaayab hotee ja rahee hain is lihaaj se is kaal ko es o enjaayatee ya vyagrata ka yug kaha ja sakata hai isake vipareet yah bhee sach hai ki kuchh log chaahe unakee aarthik ya paarivaarik sthiti kaisee bhee ho hamesha tanaav mein hee rahate hain darasal paidaishee tanaavagrast hote hain doston krodh jo hai vah bechainee aur tanaav ko badhaava dete hain janaab dar se alag hota hai insaan ya kisee any jeevit praanee ko dar usake saamane maujoodagee se dil se lagata hai isake vipareet tanaav mein vyakti apane nirnay karane kee kshamata ko lekar ulajha rahata hai vyakti is dauraan tab kya hoga ke bhanvar mein phans kar rah jaata hai lekin jab dar kaamakaaj se ulajhane lagata hai to tanaav kleenikal enjaayatee disordar ka roop le leta hai isake apane kaee roop hote hain jisamen paining soshal enjaayatee phobiya obsesiv kampalsiv post-traumatich stres ko sabase oopar enjaayatee disordar hai chinta dimaag mein ameedala mein atyadhik halachal ke kaaran utpann hotee hai jo dimaag ke beech ka hissa hota hai dimaag ka yah hissa nahin to aur kisee khatare ka saamana hone kee soorat mein sajag hota hai apane saadhaaran kaam ke dauraan nikala nae vaataavaran ke prati shaareerik kriyaatmak uttar deta hai is kriya mein bhaavanaatmak anubhav kee samast yaaden hotee hai lekin pradhaan ke adhyayanon se mutaabik vishisht maanasik banaavat vaale logon kee logon mein m1 dila atithi aatmak hota hai to doston yadi aapako gusse kee samasya hai krodh kee samasya hai to unako pahachaanane kee jaroorat hai logon ko taip hai aur taip bhee parsanailitee kedaarapur pahachaane taip e parsanailitee ke log hote hain jinakee kisee vastu ko praapt karane kee ichchha jyaada teevr hotee hai aise logon ko gussa bahut jaldee aata hai vah jald hee dhairy kho baithate hain aap bhee shrenee doston jaise ki dhairy kee kamee khaana jaldee jaldee khaana bechainee kaamakaaj ke dauraan chirachiraapan gusse ke dauraan khud ko nukasaan pahunchaana yah gusse ke pramukh kaaran dhanyavaad

bolkar speaker
मनोविज्ञान में क्रोध क्या है?Manovigyaan Mei Krodh Kya Hai
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
घर पर ही रहता हूं बैटरी बनाने का कार्य करता हूं और मोबाइल रिचार्ज इत्यादि
0:48
सवाल है मनोविज्ञान में क्रोध क्या है देखिए मनोविज्ञान में क्रोध एक प्राकृतिक भावना है ईसा पूर्व 200 वर्षों से 200 ईसवी तक काल के बीच लिखे गए नाट्य शास्त्रों में क्रोध को एक रस या नैसर्गिक भाव कहा गया है अमेरिकन फिजियोलॉजिकल एसोसिएशन ने गुस्से को विपरीत परिस्थितियों के प्रति एक सहज अभिव्यक्ति कहा गया है इस उग्र प्रदर्शन वाले भाव से हम अपने ऊपर लगे आरोपों से अपनी रक्षा करने का प्रयास करते हैं लिहाजा अपनी अपने अस्तित्व रक्षा के लिए कुछ क्रोध भी जरूरी होता है धन्यवाद
Savaal hai manovigyaan mein krodh kya hai dekhie manovigyaan mein krodh ek praakrtik bhaavana hai eesa poorv 200 varshon se 200 eesavee tak kaal ke beech likhe gae naaty shaastron mein krodh ko ek ras ya naisargik bhaav kaha gaya hai amerikan phijiyolojikal esosieshan ne gusse ko vipareet paristhitiyon ke prati ek sahaj abhivyakti kaha gaya hai is ugr pradarshan vaale bhaav se ham apane oopar lage aaropon se apanee raksha karane ka prayaas karate hain lihaaja apanee apane astitv raksha ke lie kuchh krodh bhee jarooree hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
मनोविज्ञान में क्रोध क्या है?Manovigyaan Mei Krodh Kya Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:24
आपका सवाल है कि मनोविज्ञान में सो जाएं तो क्रोध एक रसिया नर्स नर्स भाव क्या रहा जाते हैं क्रोध को विपरीत परिस्थितियों में प्रति एवं सहज अभिव्यक्ति का गए हैं क्रोध एक प्राकृतिक भावना है
Aapaka savaal hai ki manovigyaan mein so jaen to krodh ek rasiya nars nars bhaav kya raha jaate hain krodh ko vipareet paristhitiyon mein prati evan sahaj abhivyakti ka gae hain krodh ek praakrtik bhaavana hai

bolkar speaker
मनोविज्ञान में क्रोध क्या है?Manovigyaan Mei Krodh Kya Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:40
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न मनोविज्ञान में क्यों नहीं किया है तो फ्रेंड चाहिए हमारी मन की ही एक राशि है और यह हमारे दिमाग हमारे मन से ही होता है इस प्रकार खुशी के भाव दुख का भाव होते हैं उसी प्रकार को क्रोध कभी भाव हमारे मन में होता है यह एक प्राकृतिक प्राकृतिक होता है वह सब पता है जिस प्रकार से हंसते हैं बोलते हैं खुश होते हैं दुखी होते हैं उसी प्रकार से हमारे अंदर क्रोध भी होता है जब इंसान को अत्यधिक गुस्सा आता है या किसी बात पर नाराज हो जाता है क्रोध आ जाता है धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn manovigyaan mein kyon nahin kiya hai to phrend chaahie hamaaree man kee hee ek raashi hai aur yah hamaare dimaag hamaare man se hee hota hai is prakaar khushee ke bhaav dukh ka bhaav hote hain usee prakaar ko krodh kabhee bhaav hamaare man mein hota hai yah ek praakrtik praakrtik hota hai vah sab pata hai jis prakaar se hansate hain bolate hain khush hote hain dukhee hote hain usee prakaar se hamaare andar krodh bhee hota hai jab insaan ko atyadhik gussa aata hai ya kisee baat par naaraaj ho jaata hai krodh aa jaata hai dhanyavaad

bolkar speaker
मनोविज्ञान में क्रोध क्या है?Manovigyaan Mei Krodh Kya Hai
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:48
हाथरस क्वेश्चन पूछा गया है कि मानव विज्ञान में क्रोध क्या होता है तो मनोविज्ञान हम सभी जानते हैं कि यह जो होता है मानसिक रूप से होता है हर व्यक्ति की इच्छाओं से लेकर उसके कार्यों को जो हैं का विवरण ही मनोविज्ञान का लाता है और इसी मनोविज्ञान में अगर हम क्रोध को परिभाषित करते जब कोई व्यक्ति किसी भी जो है बात के प्रति जो है गुस्सा आ जाना यहां अत्याधिक को सजाना जो है क्रोध का एक कारण होता है इसमें क्या होता है कि यदि किसी व्यक्ति को कोई बात करे जो पसंद नहीं है कोई भी बात पसंद नहीं है लेकिन हम उसको जो है उसके मानसिक रूप से हम बार-बार उसे जो हैं प्रताड़ित करते हैं तो क्या होता है कि क्रोध जो था उस व्यक्ति को आ जाता है
Haatharas kveshchan poochha gaya hai ki maanav vigyaan mein krodh kya hota hai to manovigyaan ham sabhee jaanate hain ki yah jo hota hai maanasik roop se hota hai har vyakti kee ichchhaon se lekar usake kaaryon ko jo hain ka vivaran hee manovigyaan ka laata hai aur isee manovigyaan mein agar ham krodh ko paribhaashit karate jab koee vyakti kisee bhee jo hai baat ke prati jo hai gussa aa jaana yahaan atyaadhik ko sajaana jo hai krodh ka ek kaaran hota hai isamen kya hota hai ki yadi kisee vyakti ko koee baat kare jo pasand nahin hai koee bhee baat pasand nahin hai lekin ham usako jo hai usake maanasik roop se ham baar-baar use jo hain prataadit karate hain to kya hota hai ki krodh jo tha us vyakti ko aa jaata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मनोविज्ञान में क्रोध क्या है क्रोध क्या है
URL copied to clipboard