#जीवन शैली

bolkar speaker

क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है?

Kya Kisi Ki Ninda Karne Se Man Ko Sukoon Milta Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
2:06
मकर राशि वाले के किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है तो जी नहीं ऐसा बिल्कुल भी नहीं है क्योंकि अगर हम किसी की निंदा करते करते हैं उनके मन में कुछ बातें झूठी नहीं पाते और किसी बात जानते तो दिल कहे नहीं निभाते भी किसी को नहीं कहेंगे वह अपनी मुझे जानते हो उसे बाहर निकालना भी जानते हैं और किसी की बुराई का नजर से कुछ लोगों की आदत ही होती है बिना बुराई किए हुए भी नहीं आता है तुझे सुकून नहीं कहेंगे क्योंकि उनके पेट में भारत में आ चुकी है और राज्य से निकालना बहुत ही मुश्किल है जबकि उनके खुद के प्रयास से ही उनकी यह बुराई दूर हो सकेगी तथा न ही किसी की निंदा करने से किसी की बुराई करने से हमें सुकून मिलता है तो बिल्कुल भी नहीं आती हमारी अंजुमन की बातें होती हैं फिर जो भी आप जानते हैं वह बिना कहे वह नहीं रहता शाहरुख खान की बुराई का नगर उनकी आदत में है तो है बहुत बड़ी अच्छी कह सकते हैं जिनमें बहुत बड़ी बुराई है जिसे दूर करना केवल उन्हीं के हाथ में होता है दूसरी बात करके भी नहीं कर पाएंगे कि सब लोग जानते हैं कि मालिश अगर मेरे बारे में कोई बुराई करें मुझे पता है कि वह मेरी बुराई करते हैं तो उसके लिए क्या कर सकते हैं करते हैं तो वह अपनी या नहीं वह अपनी छवि खराब कर रहे हैं दूसरों की नजर में ठीक है क्या वो इंसान मेरी बुराई जाकर 2:00 चुके बात कर रहा है क्या सब जरूरी नहीं कि वो इंसान आगे बढ़ाई मेरे सामने अधिकारी ऐसा करते हैं सर और सर हमने पहचान नहीं पाते हमें लगता है कि अमेरिकी बुराई सुन रहे हैं और हमें ऐसा लगता है कि वह दूसरे की बुराई नहीं करते लेकिन जो इंसान आज तक करते हैं उन सब की बुनाई दूसरे के पास जाकर करते हैं और खून बिल्कुल भी नहीं मिलता क्योंकि मन की शादी तुम्हारी तुम्हें चाहते हैं सवाल का जवाब पसंद आएगा आप लोग खुश रहिए दूसरों को भी खुश रखे देने वाला
Makar raashi vaale ke kisee kee ninda karane se man ko sukoon milata hai to jee nahin aisa bilkul bhee nahin hai kyonki agar ham kisee kee ninda karate karate hain unake man mein kuchh baaten jhoothee nahin paate aur kisee baat jaanate to dil kahe nahin nibhaate bhee kisee ko nahin kahenge vah apanee mujhe jaanate ho use baahar nikaalana bhee jaanate hain aur kisee kee buraee ka najar se kuchh logon kee aadat hee hotee hai bina buraee kie hue bhee nahin aata hai tujhe sukoon nahin kahenge kyonki unake pet mein bhaarat mein aa chukee hai aur raajy se nikaalana bahut hee mushkil hai jabaki unake khud ke prayaas se hee unakee yah buraee door ho sakegee tatha na hee kisee kee ninda karane se kisee kee buraee karane se hamen sukoon milata hai to bilkul bhee nahin aatee hamaaree anjuman kee baaten hotee hain phir jo bhee aap jaanate hain vah bina kahe vah nahin rahata shaaharukh khaan kee buraee ka nagar unakee aadat mein hai to hai bahut badee achchhee kah sakate hain jinamen bahut badee buraee hai jise door karana keval unheen ke haath mein hota hai doosaree baat karake bhee nahin kar paenge ki sab log jaanate hain ki maalish agar mere baare mein koee buraee karen mujhe pata hai ki vah meree buraee karate hain to usake lie kya kar sakate hain karate hain to vah apanee ya nahin vah apanee chhavi kharaab kar rahe hain doosaron kee najar mein theek hai kya vo insaan meree buraee jaakar 2:00 chuke baat kar raha hai kya sab jarooree nahin ki vo insaan aage badhaee mere saamane adhikaaree aisa karate hain sar aur sar hamane pahachaan nahin paate hamen lagata hai ki amerikee buraee sun rahe hain aur hamen aisa lagata hai ki vah doosare kee buraee nahin karate lekin jo insaan aaj tak karate hain un sab kee bunaee doosare ke paas jaakar karate hain aur khoon bilkul bhee nahin milata kyonki man kee shaadee tumhaaree tumhen chaahate hain savaal ka javaab pasand aaega aap log khush rahie doosaron ko bhee khush rakhe dene vaala

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है?Kya Kisi Ki Ninda Karne Se Man Ko Sukoon Milta Hai
Anand Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Anand जी का जवाब
Mathematics Teacher
0:41
सर वाले क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है तो देखिए जो निंदा है यह हमें नहीं करनी चाहिए किसी भी व्यक्ति की क्योंकि देखे किसी की निंदा करने का अर्थ यह है कि आप उस व्यक्ति के बारे में उसकी गलतियां बता रहे हैं तो मैं सामने वाले व्यक्ति के लिए फायदेमंद होता है उसे उसकी गलतियों को पता चलता है फिर वह अपने आप अपनी गलतियों को सुधार कार्य करता है लेकिन आप अगर किसी की निंदा करते हैं तो आप यह सोचकर करें कि आपके अंदर भी कुछ बुराइयां हो सकती हैं सामने वाला व्यक्ति भी आपकी निंदा कर सकता है तुम्हें ना हमें किसी व्यक्ति की नहीं करनी चाहिए
Sar vaale kya kisee kee ninda karane se man ko sukoon milata hai to dekhie jo ninda hai yah hamen nahin karanee chaahie kisee bhee vyakti kee kyonki dekhe kisee kee ninda karane ka arth yah hai ki aap us vyakti ke baare mein usakee galatiyaan bata rahe hain to main saamane vaale vyakti ke lie phaayademand hota hai use usakee galatiyon ko pata chalata hai phir vah apane aap apanee galatiyon ko sudhaar kaary karata hai lekin aap agar kisee kee ninda karate hain to aap yah sochakar karen ki aapake andar bhee kuchh buraiyaan ho sakatee hain saamane vaala vyakti bhee aapakee ninda kar sakata hai tumhen na hamen kisee vyakti kee nahin karanee chaahie

bolkar speaker
क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है?Kya Kisi Ki Ninda Karne Se Man Ko Sukoon Milta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:46
जीवन आपको किसने क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है नहीं फ्रेंड से बिल्कुल ही गलत बात है वह बिल्कुल ही गलत सोच है कभी किसी की निंदा करने से मन को सुकून नहीं मिलना चाहिए हर व्यक्ति के नेता करते समय यह भी सोचना चाहिए किसी को कि हमारे अंदर भी कुछ कमियां है अगर हम किसी की निंदा या बुराई कर रहे हैं तो कोई हमारी भी करता होगा कोई भी व्यक्ति तरह से परिपूर्ण नहीं होता है रात में कुछ ना कुछ कमी होती है इसलिए कभी भी किसी की पहली बात तो निंदा नहीं करनी चाहिए और मन को सुकून तो बिल्कुल भी नहीं मिलना चाहिए मम्मी की निंदा करता है भगवान उसे कभी खुश नहीं होते हैं और उसे कभी अच्छा फल नहीं देते हैं इसलिए कभी किसी की निंदा नहीं करनी चाहिए अपने अंदर भी अपनी कमियों को देखना चाहिए धन्यवाद
Jeevan aapako kisane kya kisee kee ninda karane se man ko sukoon milata hai nahin phrend se bilkul hee galat baat hai vah bilkul hee galat soch hai kabhee kisee kee ninda karane se man ko sukoon nahin milana chaahie har vyakti ke neta karate samay yah bhee sochana chaahie kisee ko ki hamaare andar bhee kuchh kamiyaan hai agar ham kisee kee ninda ya buraee kar rahe hain to koee hamaaree bhee karata hoga koee bhee vyakti tarah se paripoorn nahin hota hai raat mein kuchh na kuchh kamee hotee hai isalie kabhee bhee kisee kee pahalee baat to ninda nahin karanee chaahie aur man ko sukoon to bilkul bhee nahin milana chaahie mammee kee ninda karata hai bhagavaan use kabhee khush nahin hote hain aur use kabhee achchha phal nahin dete hain isalie kabhee kisee kee ninda nahin karanee chaahie apane andar bhee apanee kamiyon ko dekhana chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है?Kya Kisi Ki Ninda Karne Se Man Ko Sukoon Milta Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:04
सवाल पूछा गया है कि क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है या नहीं बहुत ही खूब प्रश्न है और सवाल करता को बता दें कि निंदा जो है वह तो सबसे पहले तो एक बुराई है वह पूरी दुनिया जानती है कि निंदा की बुराई होती है और इंसान अगर किसी भी चीज किसी भी चीज का ध्यान करें अब ध्यान पैसा वाला ध्यान नहीं कि हम लोग हाथ पांव जंप करके योगासन में बैठकर पद्मासन में बैठ जाएं और उसका ध्यान करें पैसा वाला ध्यान नहीं परंतु हमारा मन किसी भी चीज को चर्चा में ले आ रहा है या किसी के बारे में सोच रहा है तो हमारा मन वैसा ही हो जाएगा तो अगर हम बुराई के बारे में ज्यादा सोचते हैं आधा चर्चा करते हैं या उसकी कल हमने उसका स्वभाव ऐसा हो गया कि हमने उसकी निंदा कर ली तो हमने ना तो कभी उससे तो उसको सामने वाले को तो फायदा नहीं होगा कुछ भी ना ही उसको कुछ नुकसान है परंतु उसका ध्यान करके हमने अपना जो मन है वह ज्यादा बिगाड़ दिया यह नॉर्मल सी बात है इसमें कोई बड़ा साइंस नहीं है कि सामने वाला जैसा हम लोग सोचेंगे वैसा हम लोग बन जाएंगे तो अगर बुराई के बारे में सोचते हैं या चर्चा कर रहे हैं तो सीधी सी बातें बुरी आदतें या बुरी चीजें बुरे सोच हमारे दिमाग में आना शुरू हो जाएगा इसलिए जितना हो सके धंधा से बच्चे और अपनी जिंदगी को एक अच्छी चीजों के लिए अच्छे अच्छे गुण जो होते हैं सामने वालों के इंसान के अंदर निंदा को दूर करके अच्छे गुणों के बारे में ज्यादा चर्चा करें तो आपका खुद का मन भी शुद्ध होना शुरू हो जाएगा उम्मीद करता हूं इस छोटे से जवाब के साथ आप संतुष्ट रहे होंगे अगर हां तो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जुड़ जाएगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki kya kisee kee ninda karane se man ko sukoon milata hai ya nahin bahut hee khoob prashn hai aur savaal karata ko bata den ki ninda jo hai vah to sabase pahale to ek buraee hai vah pooree duniya jaanatee hai ki ninda kee buraee hotee hai aur insaan agar kisee bhee cheej kisee bhee cheej ka dhyaan karen ab dhyaan paisa vaala dhyaan nahin ki ham log haath paanv jamp karake yogaasan mein baithakar padmaasan mein baith jaen aur usaka dhyaan karen paisa vaala dhyaan nahin parantu hamaara man kisee bhee cheej ko charcha mein le aa raha hai ya kisee ke baare mein soch raha hai to hamaara man vaisa hee ho jaega to agar ham buraee ke baare mein jyaada sochate hain aadha charcha karate hain ya usakee kal hamane usaka svabhaav aisa ho gaya ki hamane usakee ninda kar lee to hamane na to kabhee usase to usako saamane vaale ko to phaayada nahin hoga kuchh bhee na hee usako kuchh nukasaan hai parantu usaka dhyaan karake hamane apana jo man hai vah jyaada bigaad diya yah normal see baat hai isamen koee bada sains nahin hai ki saamane vaala jaisa ham log sochenge vaisa ham log ban jaenge to agar buraee ke baare mein sochate hain ya charcha kar rahe hain to seedhee see baaten buree aadaten ya buree cheejen bure soch hamaare dimaag mein aana shuroo ho jaega isalie jitana ho sake dhandha se bachche aur apanee jindagee ko ek achchhee cheejon ke lie achchhe achchhe gun jo hote hain saamane vaalon ke insaan ke andar ninda ko door karake achchhe gunon ke baare mein jyaada charcha karen to aapaka khud ka man bhee shuddh hona shuroo ho jaega ummeed karata hoon is chhote se javaab ke saath aap santusht rahe honge agar haan to apane agale savaal ke saath mujhase jaroor jud jaega dhanyavaad

bolkar speaker
क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है?Kya Kisi Ki Ninda Karne Se Man Ko Sukoon Milta Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
2:07
नमस्कार दोस्तों ने पूछा क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है देखिए जीजा अपने प्रश्न करा है उसका जवाब आपको खुद से भी मिल जाएगा क्योंकि इंसान जो है मुझसे जो है वही हैं उनमें चीज बड़ी कॉमन है कि वह हमेशा बहुत ही कम लोग हैं जो इस तरह की बातों में तकलीफ ज्यादा मुझे एक दूसरे के बारे में अच्छा बुरा जो भी है उसके बारे में डिस्कस करते हैं कि किसी की बुराई करते हैं तो सुकून हो सकता है मिलता है या फिर भी चीज के बारे में सोचें कि जब आपके द्वारा किसी के लिए आप किसी से कुछ डिस्कशन करते हैं जरूरी नहीं आपकी सब घर की बात नहीं है अपनी माता जी के साथ अपने किसी दोस्त के बारे में डिस्कशन करते हैं अपने भाई के साथ से दोस्ती लड़की के बारे में डिस्कशन करते हैं इंक्लूड होती है तो आपको कैसा लगता है उसका अनुभव आपको खुद होगा तू सुकून तो मिलता है लेकिन अगर आप किसी के लिए गलत अपने खुद के पर्सनल स्वार्थ के लिए आपको इस तरह की हरकत करते हैं किसी के लिए गलत बोलते हैं किसी के बारे में झूठ आप गलत बोलते हैं गलत धंधा करते हैं आपको तो आपका तो उल्लू सीधा हो जाएगा आप को सुकून मिलेगा लेकिन सूची कि वह चीज उसके लिए कितनी गलत है जिसके बारे में आप गलत चीजों को अपने मुंह से खून होता है वह तो उस लक्ष्य को तो आपको मिल जाएगा बिल्कुल मिलता है ऐसा नहीं है कि सुकून नहीं मिलता है वह तो क्या किया जाए उसके बारे में कैसे सोच रखते हैं उसी प्रकार जग्गू अच्छा लगता है कि हां मैंने सुल्तान की तलवार
Namaskaar doston ne poochha kya kisee kee ninda karane se man ko sukoon milata hai dekhie jeeja apane prashn kara hai usaka javaab aapako khud se bhee mil jaega kyonki insaan jo hai mujhase jo hai vahee hain unamen cheej badee koman hai ki vah hamesha bahut hee kam log hain jo is tarah kee baaton mein takaleeph jyaada mujhe ek doosare ke baare mein achchha bura jo bhee hai usake baare mein diskas karate hain ki kisee kee buraee karate hain to sukoon ho sakata hai milata hai ya phir bhee cheej ke baare mein sochen ki jab aapake dvaara kisee ke lie aap kisee se kuchh diskashan karate hain jarooree nahin aapakee sab ghar kee baat nahin hai apanee maata jee ke saath apane kisee dost ke baare mein diskashan karate hain apane bhaee ke saath se dostee ladakee ke baare mein diskashan karate hain inklood hotee hai to aapako kaisa lagata hai usaka anubhav aapako khud hoga too sukoon to milata hai lekin agar aap kisee ke lie galat apane khud ke parsanal svaarth ke lie aapako is tarah kee harakat karate hain kisee ke lie galat bolate hain kisee ke baare mein jhooth aap galat bolate hain galat dhandha karate hain aapako to aapaka to ulloo seedha ho jaega aap ko sukoon milega lekin soochee ki vah cheej usake lie kitanee galat hai jisake baare mein aap galat cheejon ko apane munh se khoon hota hai vah to us lakshy ko to aapako mil jaega bilkul milata hai aisa nahin hai ki sukoon nahin milata hai vah to kya kiya jae usake baare mein kaise soch rakhate hain usee prakaar jaggoo achchha lagata hai ki haan mainne sultaan kee talavaar

bolkar speaker
क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है?Kya Kisi Ki Ninda Karne Se Man Ko Sukoon Milta Hai
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:27
प्रश्न है क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है आगे निंदा करने से केवल सैनिक जो सुख की प्राप्त होती है वैसे भी दुनिया के समान गोल सुखों के पीछे ही तो हम पागल होते हैं क्योंकि परमसुख तो साकर आत्मकथा और समर्पण और भक्ति के बिना उल्टा नहीं अवनींद्र से प्राप्त जरा सोचो को मिल जाए तो वही चाहिए निंदा करना भी मनुष्य का स्वभाव है
Prashn hai kya kisee kee ninda karane se man ko sukoon milata hai aage ninda karane se keval sainik jo sukh kee praapt hotee hai vaise bhee duniya ke samaan gol sukhon ke peechhe hee to ham paagal hote hain kyonki paramasukh to saakar aatmakatha aur samarpan aur bhakti ke bina ulta nahin avaneendr se praapt jara socho ko mil jae to vahee chaahie ninda karana bhee manushy ka svabhaav hai

bolkar speaker
क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है?Kya Kisi Ki Ninda Karne Se Man Ko Sukoon Milta Hai
paramveer koshlaindra Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए paramveer जी का जवाब
Unknown
0:12
आ सको तो मिलता है क्योंकि आदमी अगर किसी को विक्रम से नहीं हरा पाता तो फिर उसकी निंदा करता है जिससे वह अपने आप को मतलब समझ लेता मन में कि मैंने उसको हर आदमी
Aa sako to milata hai kyonki aadamee agar kisee ko vikram se nahin hara paata to phir usakee ninda karata hai jisase vah apane aap ko matalab samajh leta man mein ki mainne usako har aadamee

bolkar speaker
क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है?Kya Kisi Ki Ninda Karne Se Man Ko Sukoon Milta Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:26
प्रश्न क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है तो देखिए कुछ लोगों की प्रवृत्ति निंदा की होती निंदक नियरे राखिए आप ना तो उनकी तो प्रवृत्ति होती है और शायद जिसके मन में जो भाव आ जाता है यह उसे पूरा कर लेता तो सुकून तो मिलता होगा संतुष्टि मिलती होगी तो आपके प्रश्न का उत्तर मेरे लिए सकारात्मक है हेलो हेलो आज के बाद सीरियल एपिसोड पर एक आपको लगा है 11 पॉइंट 370 के साथ करवा लिया अरे पहले तू यह बताएं बोल कहां से रहे हैं थोड़ा सा दो-चार किस तरह गई है उसे मैं किसी भी बिना बदले बदले खत्म करना चाहता हूं रिटायर हो रहा हूं मुझे कोई आपका कॉल होल्ड बदला है
Prashn kya kisee kee ninda karane se man ko sukoon milata hai to dekhie kuchh logon kee pravrtti ninda kee hotee nindak niyare raakhie aap na to unakee to pravrtti hotee hai aur shaayad jisake man mein jo bhaav aa jaata hai yah use poora kar leta to sukoon to milata hoga santushti milatee hogee to aapake prashn ka uttar mere lie sakaaraatmak hai helo helo aaj ke baad seeriyal episod par ek aapako laga hai 11 point 370 ke saath karava liya are pahale too yah bataen bol kahaan se rahe hain thoda sa do-chaar kis tarah gaee hai use main kisee bhee bina badale badale khatm karana chaahata hoon ritaayar ho raha hoon mujhe koee aapaka kol hold badala hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है निंदा करने से मन को सुकून
URL copied to clipboard