#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker

क्या आने वाले वर्षों में कुछ और बीमारियाँ फैलना संभव है ?

Kya Ane Vale Varsho Mei Kuch Aur Bemariya Failna Sambhav Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
2:53
है क्या आने वाले वर्षों में कुछ और बीमारियां पहनना संभव है तो दोस्तों देखिए बीमारी कभी भी अपने हिसाब से ना तो अपने आप फैलती है और ना ही प्राकृतिक रूप से कोई बीमारी होती है हर 10 से 20 साल में एक नई बीमारी जन्म लेती है उसके पीछे का कारण है यह बीमारी बनाई जाती है यानी इन बीमारियों को तैयार किया जाता लैब में सवाल ये की बीमारी को लाइफ में तैयार क्योंकि तो दोस्त देखिए जब भी मेडिकल फील्ड और डॉक्टरी लाइन में जब भी मतदान जाता है तो जो डॉक्टर और मेडिकल की जोर दुनिया की जो बड़ी-बड़ी कंपनियां मिलकर कोई ऐसे वायरस को तैयार करती हैं जिससे कि जो है लोगों का मेडिकल की तरफ ध्यान आकर्षित प्रोसेस है मेडिकल और फील्ड और डॉक्टरी लाइन में जो है काफी हद तक सुधार आता है इनमें से देश शामिल है वह चाइना अमेरिका भी शामिल हो सकता है क्योंकि सन 2009 में अमेरिका से स्वाइन फ्लू निकला था दोनों ने जांच नहीं होने दी थी अपनी ऐसे ही कोरोनावायरस चाइना से निकला तो उन्होंने अपने लैब की जांच नहीं करवाई आने वाले समय में बीमारियां खेलेंगे नहीं खेलेंगे यह डिपेंड करता है कि मेडिकल लाइन को कितना फायदा हो रहा है या नुकसान हो रहा है जो भी उसे साफ से बीमारियां तय होती है जिसमें डब्ल्यूएचओ का भी हाथ होता है भारत का एक परसेंट नागरिक भी नहीं जानता था सैनिटाइजर क्या होता है इसका प्रयोग कैसे किया जाता है कोरोनावायरस के बाद दिमाग का सेंटर कैसे देखे थे और जो है डॉक्टरों की कैसे जो है आपने देखा होगा कि ड्रीम मेडिकल फील्ड में कितना इजाफा हुआ और दूसरा कारण होता है महामारी फैलने का बनाने का किसी देश को गिराना जब कोई विकसित देश सबसे आगे होता है तो जो विकासशील देश होते हैं उनका यह होता है कि इस देश को पीछे करने के लिए कोई नई बीमारी तैयार की जाए उन विकसित ओं की बराबरी की वजह से चाइना ने अमेरिका के लिए किया था तो अमेरिका इस चीज को समझ गया हम कुल मिलाकर यह कह सकते हैं कि जो भी बीमारी आने वाली होती है नई बीमारी व प्राकृतिक नहीं होती है वह तो बीमारियां होती हैं वह बायोलॉजिकल जो है सिम बंद हो रहे हैं जैविक हथियार के रूप में या यूं कह सकते हैं कि किसी वैज्ञानिक को दोहरा लैब में तैयार कराई जाती है फिर उसे कहा जाता है नया नाम लिया जा सकता है और उसने नाम के साथ एक नई बीमारी बनती है और उसके जरिए लोगों का पैसा खर्च होता है फिर वह पैसा जो है डॉक्टरों की जेब में और जो है अगर कोरोनावायरस बीमारी नहीं आती तो क्या एक ₹1000 का अब सब टीवी पर लगाएंगे 1000 का सब दिखा लगाएंगे तो दोस्तों देखिए कि कितना जबरदस्त उपाय
Hai kya aane vaale varshon mein kuchh aur beemaariyaan pahanana sambhav hai to doston dekhie beemaaree kabhee bhee apane hisaab se na to apane aap phailatee hai aur na hee praakrtik roop se koee beemaaree hotee hai har 10 se 20 saal mein ek naee beemaaree janm letee hai usake peechhe ka kaaran hai yah beemaaree banaee jaatee hai yaanee in beemaariyon ko taiyaar kiya jaata laib mein savaal ye kee beemaaree ko laiph mein taiyaar kyonki to dost dekhie jab bhee medikal pheeld aur doktaree lain mein jab bhee matadaan jaata hai to jo doktar aur medikal kee jor duniya kee jo badee-badee kampaniyaan milakar koee aise vaayaras ko taiyaar karatee hain jisase ki jo hai logon ka medikal kee taraph dhyaan aakarshit proses hai medikal aur pheeld aur doktaree lain mein jo hai kaaphee had tak sudhaar aata hai inamen se desh shaamil hai vah chaina amerika bhee shaamil ho sakata hai kyonki san 2009 mein amerika se svain phloo nikala tha donon ne jaanch nahin hone dee thee apanee aise hee koronaavaayaras chaina se nikala to unhonne apane laib kee jaanch nahin karavaee aane vaale samay mein beemaariyaan khelenge nahin khelenge yah dipend karata hai ki medikal lain ko kitana phaayada ho raha hai ya nukasaan ho raha hai jo bhee use saaph se beemaariyaan tay hotee hai jisamen dablyooecho ka bhee haath hota hai bhaarat ka ek parasent naagarik bhee nahin jaanata tha sainitaijar kya hota hai isaka prayog kaise kiya jaata hai koronaavaayaras ke baad dimaag ka sentar kaise dekhe the aur jo hai doktaron kee kaise jo hai aapane dekha hoga ki dreem medikal pheeld mein kitana ijaapha hua aur doosara kaaran hota hai mahaamaaree phailane ka banaane ka kisee desh ko giraana jab koee vikasit desh sabase aage hota hai to jo vikaasasheel desh hote hain unaka yah hota hai ki is desh ko peechhe karane ke lie koee naee beemaaree taiyaar kee jae un vikasit on kee baraabaree kee vajah se chaina ne amerika ke lie kiya tha to amerika is cheej ko samajh gaya ham kul milaakar yah kah sakate hain ki jo bhee beemaaree aane vaalee hotee hai naee beemaaree va praakrtik nahin hotee hai vah to beemaariyaan hotee hain vah baayolojikal jo hai sim band ho rahe hain jaivik hathiyaar ke roop mein ya yoon kah sakate hain ki kisee vaigyaanik ko dohara laib mein taiyaar karaee jaatee hai phir use kaha jaata hai naya naam liya ja sakata hai aur usane naam ke saath ek naee beemaaree banatee hai aur usake jarie logon ka paisa kharch hota hai phir vah paisa jo hai doktaron kee jeb mein aur jo hai agar koronaavaayaras beemaaree nahin aatee to kya ek ₹1000 ka ab sab teevee par lagaenge 1000 ka sab dikha lagaenge to doston dekhie ki kitana jabaradast upaay

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या आने वाले वर्षों में कुछ और बीमारियाँ फैलना संभव है
URL copied to clipboard