#रिश्ते और संबंध

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:54
हेलो शिवांशु आज आपका सवाल है कि ज्ञान बांटने से बढ़ता है तो आजकल के लोग ज्ञान को छुपाते क्यों है अगर सभी वैज्ञानिकों ने अपने अपने विचारों को छुपाया होता तो आज हमारी जिंदगी कैसी होती पूरी तरह सही है कि ज्ञान बांटने से ही बढ़ता है लेकिन आगे क्या होता है जब हम किसी चीज के लिए पड़ते हैं किसी चीज के लिए प्रिपेयर करते हैं तो बीच में अगर कोई हमसे डाउट पूछने के लिए आता है तो मुझे क्लियर कर देते हैं लेकिन जब आपके खुद के कुछ प्रोजेक्ट खुद का कुछ प्रेजेंटेशन है अगर वह भी आप पूरी तरह से अपने दोस्त की हेल्प कर देते तो पूरी तरह से कॉपी कर देता है वैसे मैं आपकी भी मार्क्स कट हो जाते हैं आपके दोस्त का दिमाग कट हो जाता या फिर कभी कदार वह अगर ऐसा बोले कि नहीं उसका ही अपना खुद का ही प्रेजेंटेशन है तो आप इस जगह पर मतलब फस जाते हैं तो किसी की मदद करना अगर कोई कहीं पर फल जा रहा है तो क्लियर करना कि हां टॉपिक क्या है प्रेजेंटेशन क्या किस तरह से पेमेंट करना वह बता दीजिए लेकिन आप क्या कर रहे हो हम पर्सनली क्या कर रहे हो वह किसी को नहीं बता सकते क्योंकि यहां पर अगर हम बोलेंगे कि ज्ञान को बांटने से बढ़ता है तो हम क्या ए टू जेड अपने सारे जो भी हमारे प्रोसेस जो भी हमने जिस तरह से भी बनाए जो सिगरेट नहीं रखना वह भी तुम किसी को नहीं बता सकते हो ना कोई भी हमें तो पूरा हूबहू हमारे जैसे कर दूं कुछ नहीं रहेगा हम भी करेंगे वह भी कहीं फस जाता है कहीं पर किसी को कुछ समझ नहीं आता या फिर टीचर साथ कौन सी एक्सपेरिमेंट देने के लिए बोले या फिर अगर एग्जाम के समय अगर कोई भी टॉपिक को लेकर उसे कोई डाउट है तो वह बता दे लेकिन ऐसा नहीं कर सकते कि हां हमने एग्जाम में सारी चीज लिख लिया अब ज्ञान तो बांटने से बढ़ता है हम सब उसे अपना पेपर दिखा दे तो दोनों के मार्क्स कैसे हो जाएंगे और फिर हम लोग जरूरी नहीं कि उसके अंडरटेकर अच्छा हुआ या फिर वह कहीं पर अगर ज्यादा चलेगा हमसे कोई गलती हो गया तो उसके ज्यादा मार्क्स आ जाएंगे और सब सब्जेक्ट में अगर हुआ और ज्यादा अच्छा है और हम कमजोर है तो वह मेरे से भी लिख लेगा और बाकी सब में भी तेज सब्जेक्ट में उसका भी अच्छा हो जाएगा तो सोच समझकर हम किसी को क्लियर करते जितना करना चाहिए जितना हेल्प कर सकते मुन्ना करते हैं यह नहीं कितने सारे अविष्कार सारी फिल्में हम किसी को बता दे ज्ञानी को ने भी देखी यही अबू करते थे अपना पढ़ाई लिखाई जिस तरह से जो भी था जो भी अविष्कार करते थे उन्होंने मतलब हमें बताएं जब भी कोई देखे मेहनत करता है तो किस तरह से कर रहा है वह नहीं बताता लेकिन जब उस मेहनत रंग लाता है अगर कुछ बन जाता तो सारी दुनिया को बताना जरूरी होता है क्योंकि एक तरफ से हमने जितना भी मेहनत किया है वह रंग लाया है तो हमें लोगों को बताना भी है क्योंकि अब कुछ हमारे देश के लिए हमारी फैमिली के लिए सब के लिए अगर कुछ साल पहले तो आपको तू तो मतलब एक नागिन बाहर आएगा वह बताना ही है तो हम कुछ चीजें बता सकते हैं मदद कर सकते किसी के लेकिन अपना खुद का भी अविष्कार खुद का कोई व्यक्ति रिबन पूरा कॉपी करने के लिए क्यों नहीं रह सकते
Helo shivaanshu aaj aapaka savaal hai ki gyaan baantane se badhata hai to aajakal ke log gyaan ko chhupaate kyon hai agar sabhee vaigyaanikon ne apane apane vichaaron ko chhupaaya hota to aaj hamaaree jindagee kaisee hotee pooree tarah sahee hai ki gyaan baantane se hee badhata hai lekin aage kya hota hai jab ham kisee cheej ke lie padate hain kisee cheej ke lie pripeyar karate hain to beech mein agar koee hamase daut poochhane ke lie aata hai to mujhe kliyar kar dete hain lekin jab aapake khud ke kuchh projekt khud ka kuchh prejenteshan hai agar vah bhee aap pooree tarah se apane dost kee help kar dete to pooree tarah se kopee kar deta hai vaise main aapakee bhee maarks kat ho jaate hain aapake dost ka dimaag kat ho jaata ya phir kabhee kadaar vah agar aisa bole ki nahin usaka hee apana khud ka hee prejenteshan hai to aap is jagah par matalab phas jaate hain to kisee kee madad karana agar koee kaheen par phal ja raha hai to kliyar karana ki haan topik kya hai prejenteshan kya kis tarah se pement karana vah bata deejie lekin aap kya kar rahe ho ham parsanalee kya kar rahe ho vah kisee ko nahin bata sakate kyonki yahaan par agar ham bolenge ki gyaan ko baantane se badhata hai to ham kya e too jed apane saare jo bhee hamaare proses jo bhee hamane jis tarah se bhee banae jo sigaret nahin rakhana vah bhee tum kisee ko nahin bata sakate ho na koee bhee hamen to poora hoobahoo hamaare jaise kar doon kuchh nahin rahega ham bhee karenge vah bhee kaheen phas jaata hai kaheen par kisee ko kuchh samajh nahin aata ya phir teechar saath kaun see eksaperiment dene ke lie bole ya phir agar egjaam ke samay agar koee bhee topik ko lekar use koee daut hai to vah bata de lekin aisa nahin kar sakate ki haan hamane egjaam mein saaree cheej likh liya ab gyaan to baantane se badhata hai ham sab use apana pepar dikha de to donon ke maarks kaise ho jaenge aur phir ham log jarooree nahin ki usake andaratekar achchha hua ya phir vah kaheen par agar jyaada chalega hamase koee galatee ho gaya to usake jyaada maarks aa jaenge aur sab sabjekt mein agar hua aur jyaada achchha hai aur ham kamajor hai to vah mere se bhee likh lega aur baakee sab mein bhee tej sabjekt mein usaka bhee achchha ho jaega to soch samajhakar ham kisee ko kliyar karate jitana karana chaahie jitana help kar sakate munna karate hain yah nahin kitane saare avishkaar saaree philmen ham kisee ko bata de gyaanee ko ne bhee dekhee yahee aboo karate the apana padhaee likhaee jis tarah se jo bhee tha jo bhee avishkaar karate the unhonne matalab hamen bataen jab bhee koee dekhe mehanat karata hai to kis tarah se kar raha hai vah nahin bataata lekin jab us mehanat rang laata hai agar kuchh ban jaata to saaree duniya ko bataana jarooree hota hai kyonki ek taraph se hamane jitana bhee mehanat kiya hai vah rang laaya hai to hamen logon ko bataana bhee hai kyonki ab kuchh hamaare desh ke lie hamaaree phaimilee ke lie sab ke lie agar kuchh saal pahale to aapako too to matalab ek naagin baahar aaega vah bataana hee hai to ham kuchh cheejen bata sakate hain madad kar sakate kisee ke lekin apana khud ka bhee avishkaar khud ka koee vyakti riban poora kopee karane ke lie kyon nahin rah sakate

और जवाब सुनें

pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
2:39
नमस्कार आपका सवाल है ज्ञान बांटने से बढ़ता है तो आजकल के लोग ज्ञान को छुपाते क्यों है अगर तभी वैज्ञानिकों ने अपने अपने ज्ञान अधिकारों को छुपाया होता तो आज कैसा होता है कि लोग अपने ज्ञान को छुपाते हैं बल्कि यह बात सच है कि ज्ञान बांटने से बढ़ता है खुशियां बांटने से बढ़ती है हमें पढ़ना भी चाहिए क्योंकि आप अकेले खुश होकर के अकेले ज्ञान ले करके क्या करेंगे और जो ज्ञान बांटते हैं किसी को तुझ से प्यार बढ़ता है क्योंकि जितनी बार हम जैसे कुछ भी पढ़ते हैं अगर जितनी बार हमारे माइंड में आता है तुझे कितनी बार किसी को बताते हैं उतना ही वह हमें याद होता जाता हूं कभी नहीं बोलता है यह बात बिल्कुल सच है और जहां तक आपका सवाल है लोग अपने ज्ञान को छुपाते हैं इसलिए ऐसा नहीं है कि लोग अपने ज्ञान को छुपाते हैं जबकि वहां पर लोग कुछ बोलने से कतराते हैं जहां पर जैसे कि मान लीजिए कुछ बातें हो रही है उसे लोग अपने अपने ज्ञान को देने में लगे हुए हैं कोई चारा नहीं है ऐसा होता है यह बात सच है कोई गलती नहीं है बस वहां पर कुछ बुद्धिमान लोग नहीं होते हैं बल्कि सभी होते हैं बैटरी को सेवर मोड़ रहने वाले होते हैं जिनको क्वेश्चन आंसर पता है फिर भी वह नहीं बताना चाहते क्योंकि उस पर भी कमेंट हो जाएगा और उन्हें लगता है कि यहां पर कुछ कहने लायक है तू वहां पर नहीं कहते हैं क्योंकि उन्हें ऐसा नहीं है क्योंकि वहां पर की जरूरत है लोग अपनी अपनी बातों को रखते हैं और रेस्ट सब एक दूसरे से ऊपर बनने की कोशिश करते तो वहां पर कुछ लोग आते हो तेजू नहीं बताता नहीं है कि कोई अपने ज्ञान को छुपाना चाहता है कि क्या करेंगे हमारे ज्ञान से किसी को सद्बुद्धि आती है और अच्छा लगता है तो हमें भी अच्छा ही लगेगा किसी को बताते हुए कुछ भी और किसी को कुछ शेयर कहते हुए और जहां तक बात है अभी का वैज्ञानिक ने अपने अपने अधिकार को छुपाया होता है देखती होगी तो बहुत वैज्ञानिकों ने ऐसा किया और हमारे लिए किया जिनको हम जितनी बार नमन करें वह कम है क्योंकि जितनी टेक्नोलॉजी आई है जो कुछ भी मेरे समझ में ना आए हैं इस धोखाधड़ी बेचैनी को कुछ दिन है जिसकी वजह से आज हमने देख लो जी के साथ अच्छे तरीके से रहते हैं तो नीचे वालों का जवाब पसंद आएगा और जिन्होंने सवाल पूछा था उनको मेरा आभार और बहुत-बहुत धन्यवाद आपका कुछ दिन देकर मुझे अच्छा लगा मिस करते हैं सवाल का जवाब भी पसंद आएगा हमेशा खुश रहिए दूसरों को भी खुश रखें धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai gyaan baantane se badhata hai to aajakal ke log gyaan ko chhupaate kyon hai agar tabhee vaigyaanikon ne apane apane gyaan adhikaaron ko chhupaaya hota to aaj kaisa hota hai ki log apane gyaan ko chhupaate hain balki yah baat sach hai ki gyaan baantane se badhata hai khushiyaan baantane se badhatee hai hamen padhana bhee chaahie kyonki aap akele khush hokar ke akele gyaan le karake kya karenge aur jo gyaan baantate hain kisee ko tujh se pyaar badhata hai kyonki jitanee baar ham jaise kuchh bhee padhate hain agar jitanee baar hamaare maind mein aata hai tujhe kitanee baar kisee ko bataate hain utana hee vah hamen yaad hota jaata hoon kabhee nahin bolata hai yah baat bilkul sach hai aur jahaan tak aapaka savaal hai log apane gyaan ko chhupaate hain isalie aisa nahin hai ki log apane gyaan ko chhupaate hain jabaki vahaan par log kuchh bolane se kataraate hain jahaan par jaise ki maan leejie kuchh baaten ho rahee hai use log apane apane gyaan ko dene mein lage hue hain koee chaara nahin hai aisa hota hai yah baat sach hai koee galatee nahin hai bas vahaan par kuchh buddhimaan log nahin hote hain balki sabhee hote hain baitaree ko sevar mod rahane vaale hote hain jinako kveshchan aansar pata hai phir bhee vah nahin bataana chaahate kyonki us par bhee kament ho jaega aur unhen lagata hai ki yahaan par kuchh kahane laayak hai too vahaan par nahin kahate hain kyonki unhen aisa nahin hai kyonki vahaan par kee jaroorat hai log apanee apanee baaton ko rakhate hain aur rest sab ek doosare se oopar banane kee koshish karate to vahaan par kuchh log aate ho tejoo nahin bataata nahin hai ki koee apane gyaan ko chhupaana chaahata hai ki kya karenge hamaare gyaan se kisee ko sadbuddhi aatee hai aur achchha lagata hai to hamen bhee achchha hee lagega kisee ko bataate hue kuchh bhee aur kisee ko kuchh sheyar kahate hue aur jahaan tak baat hai abhee ka vaigyaanik ne apane apane adhikaar ko chhupaaya hota hai dekhatee hogee to bahut vaigyaanikon ne aisa kiya aur hamaare lie kiya jinako ham jitanee baar naman karen vah kam hai kyonki jitanee teknolojee aaee hai jo kuchh bhee mere samajh mein na aae hain is dhokhaadhadee bechainee ko kuchh din hai jisakee vajah se aaj hamane dekh lo jee ke saath achchhe tareeke se rahate hain to neeche vaalon ka javaab pasand aaega aur jinhonne savaal poochha tha unako mera aabhaar aur bahut-bahut dhanyavaad aapaka kuchh din dekar mujhe achchha laga mis karate hain savaal ka javaab bhee pasand aaega hamesha khush rahie doosaron ko bhee khush rakhen dhanyavaad

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:31
दोस्तों प्रार्थना की ज्ञान बांटने से बढ़ता है और आजकल के लोग ध्यान को छुपाते क्यों है अगर सभी वैज्ञानिक ने अपने आविष्कारों को छुपाया होता तो आज हमारी स्थिति कुछ और होती तो दोस्तों बात है वैज्ञानिकों की तो ऐसा नहीं है कि वैज्ञानिक कोई चीज जब शोध करते हैं कोई चीज अगर दुनिया में नहीं रहती है तो उसको छुपाते हैं वह उनके पास पूरा खाका किताबों के रूप में सूचीबद्ध रहता है और कई बार तो और सरकारों को भी डाटा शेयर करते हैं कोई अहम जानकारी होती है तो वैज्ञानिकों के बारे में तो ऐसा नहीं कहा जा सकता है हां बात ही करते हैं कई लोग अपनी ज्ञान को नहीं मानते हैं दोस्तों कई ऐसे प्रोफेशन सोते हैं ऐसे व्यवसाय हैं इसमें ज्ञान उसको डर रहता है कि कंपटीशन आजकल ज्यादा है तो कहीं उसके ज्ञान से कोई इसका लाभ ना ले पाए के पास काफी अच्छी पूंजी होती है उस ज्ञान को और किसी का किया केवल ज्ञान होता है वह ध्यान से पैसे कमा रहा था है तो तू ही पति ऐसा सोचता है कि मैं ज्ञान को पता कर लूं और तू भी ऐड करके उससे भी आगे निकलने की कोशिश कर जाता हूं कई बार ऐसा वह सफल भी हो जाता है तो बहुत सारे लोग चाहे आपका है चिकित्सक हूं चाहे वकील हूं चाय अध्यापक हूं बहुत सारी चीजें शेयर नहीं करते सारी चीजें अगर वह साझा कर देंगे तो जो उनके जीवन यापन उसी आधार पर चलता है तो इसलिए वह नहीं कर पाते अन्यथा आप ऐसे दीजिए सारी वह आपको ज्ञान शेयर करेंगे आज कल व्यवसायीकरण ज्यादा हो चुका है और लोग भी बहुत ज्यादा चालू हो गया व्यवसायीकरण इसलिए भी हुआ तो यही कारण है क्या और कोई कारण नहीं हो सकता है धन्यवाद
Doston praarthana kee gyaan baantane se badhata hai aur aajakal ke log dhyaan ko chhupaate kyon hai agar sabhee vaigyaanik ne apane aavishkaaron ko chhupaaya hota to aaj hamaaree sthiti kuchh aur hotee to doston baat hai vaigyaanikon kee to aisa nahin hai ki vaigyaanik koee cheej jab shodh karate hain koee cheej agar duniya mein nahin rahatee hai to usako chhupaate hain vah unake paas poora khaaka kitaabon ke roop mein soocheebaddh rahata hai aur kaee baar to aur sarakaaron ko bhee daata sheyar karate hain koee aham jaanakaaree hotee hai to vaigyaanikon ke baare mein to aisa nahin kaha ja sakata hai haan baat hee karate hain kaee log apanee gyaan ko nahin maanate hain doston kaee aise propheshan sote hain aise vyavasaay hain isamen gyaan usako dar rahata hai ki kampateeshan aajakal jyaada hai to kaheen usake gyaan se koee isaka laabh na le pae ke paas kaaphee achchhee poonjee hotee hai us gyaan ko aur kisee ka kiya keval gyaan hota hai vah dhyaan se paise kama raha tha hai to too hee pati aisa sochata hai ki main gyaan ko pata kar loon aur too bhee aid karake usase bhee aage nikalane kee koshish kar jaata hoon kaee baar aisa vah saphal bhee ho jaata hai to bahut saare log chaahe aapaka hai chikitsak hoon chaahe vakeel hoon chaay adhyaapak hoon bahut saaree cheejen sheyar nahin karate saaree cheejen agar vah saajha kar denge to jo unake jeevan yaapan usee aadhaar par chalata hai to isalie vah nahin kar paate anyatha aap aise deejie saaree vah aapako gyaan sheyar karenge aaj kal vyavasaayeekaran jyaada ho chuka hai aur log bhee bahut jyaada chaaloo ho gaya vyavasaayeekaran isalie bhee hua to yahee kaaran hai kya aur koee kaaran nahin ho sakata hai dhanyavaad

anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
1:27
यह बात तो सच है कि ज्ञान बांटने से ज्ञान बढ़ता है लेकिन आजकल के लोग ज्ञान को छुपाते हैं क्योंकि कुछ लोग ऐसे होते हैं जो किसी का ज्ञान लेना नहीं चाहते और कोई लेना भी चाहता है तो वह ईश्वर विश्वास ही नहीं करते पता और कुछ ऐसे होते हैं जो बता तो देते हैं लेकिन कभी-कभी कुछ भी झूठ भी बोल जाते हैं हर कुछ लोग ऐसे होते हैं जो कि यह सोचते हैं कि मैं अगर इसको मेरे वैज्ञानिक कोई भी प्रयोग के बारे में मैं इसको बताऊंगा तो कहीं यह ज्यादा सफल ना हो जाए कि वह मतलब कि मेरे से आगे ना बढ़ जाए कि मैं जितना पैसा कमाता हूं से ज्यादा ना कमाल है इस तरह से भी लोग अपना ज्ञान किसी को नहीं दे पाते लेकिन पहले की दुनिया और आपकी दुनिया में बहुत अंतर है पहले लोगों पर विश्वास किया करते थे लेकिन आज के समय में विश्वास बहुत कम लोग करते हैं लेकिन विश्वासघात बहुत ज्यादा करते हैं लोग आज के समय की बात यह जो ज्ञान देता है उसकी बात को जो लोग सही सुनता तो उसमें उल्टी उल्टी बात जोड़कर आगे फैलाता है तो ठीक इसी तरह से हुआ व्यक्ति बदनाम हो जाता है
Yah baat to sach hai ki gyaan baantane se gyaan badhata hai lekin aajakal ke log gyaan ko chhupaate hain kyonki kuchh log aise hote hain jo kisee ka gyaan lena nahin chaahate aur koee lena bhee chaahata hai to vah eeshvar vishvaas hee nahin karate pata aur kuchh aise hote hain jo bata to dete hain lekin kabhee-kabhee kuchh bhee jhooth bhee bol jaate hain har kuchh log aise hote hain jo ki yah sochate hain ki main agar isako mere vaigyaanik koee bhee prayog ke baare mein main isako bataoonga to kaheen yah jyaada saphal na ho jae ki vah matalab ki mere se aage na badh jae ki main jitana paisa kamaata hoon se jyaada na kamaal hai is tarah se bhee log apana gyaan kisee ko nahin de paate lekin pahale kee duniya aur aapakee duniya mein bahut antar hai pahale logon par vishvaas kiya karate the lekin aaj ke samay mein vishvaas bahut kam log karate hain lekin vishvaasaghaat bahut jyaada karate hain log aaj ke samay kee baat yah jo gyaan deta hai usakee baat ko jo log sahee sunata to usamen ultee ultee baat jodakar aage phailaata hai to theek isee tarah se hua vyakti badanaam ho jaata hai

Gulab Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gulab जी का जवाब
Unknown
2:36

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:44
स्वागत है आपका आपका प्रश्न ज्ञान बांटने से बढ़ता है तो आज कल मिलो ज्ञान को छुपाते क्यों नहीं अगर सभी वैज्ञानिक ने अपने अपने अधिकारों को छुपाया होता तो हमारा क्या होता तो फ्रेंड से बात सच है ज्ञान बांटने से बढ़ता है जिसके पास जो ज्ञान है उसे बताना चाहिए बोलना चाहिए कि आजकल लोग पैसे व्यवसाय बिजनेस के कारण छुपाते हैं कोई वैज्ञानिक भी जो होते हैं वह पैसे लेते हैं तब कोई जानकारी बताते हैं फ्री में कोई किसी का काम नहीं करता है इसलिए पैसों की वजह से ही कोई कोई अविष्कारों को छुपा लिया जाता है जब पैसों की बात हो जाती है उसके बाद में बात बाहर आती है और जो टीचर लोग होते हैं वह भी तो बिना पैसे तनख्वाह के काम नहीं करते पढ़ाते नहीं यह तो सब पैसों की वजह से हो रहा है धन्यवाद
Svaagat hai aapaka aapaka prashn gyaan baantane se badhata hai to aaj kal milo gyaan ko chhupaate kyon nahin agar sabhee vaigyaanik ne apane apane adhikaaron ko chhupaaya hota to hamaara kya hota to phrend se baat sach hai gyaan baantane se badhata hai jisake paas jo gyaan hai use bataana chaahie bolana chaahie ki aajakal log paise vyavasaay bijanes ke kaaran chhupaate hain koee vaigyaanik bhee jo hote hain vah paise lete hain tab koee jaanakaaree bataate hain phree mein koee kisee ka kaam nahin karata hai isalie paison kee vajah se hee koee koee avishkaaron ko chhupa liya jaata hai jab paison kee baat ho jaatee hai usake baad mein baat baahar aatee hai aur jo teechar log hote hain vah bhee to bina paise tanakhvaah ke kaam nahin karate padhaate nahin yah to sab paison kee vajah se ho raha hai dhanyavaad

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:02
नहीं पड़ता है तो आजकल के लोग गम को छुपाते क्यों बगैर सभी वैज्ञानिकों ने अपने विचारों को छुपाया होता तो बात तो आपकी सही है दोस्त को मानते हैं कि ज्ञान जितना बाटेंगे उतना बेहतर होगा लेकिन मैं छुपा कौन रहा है देखी झुकते तो वही लोग हैं जो ज्ञान सो ज्ञान समझते ज्ञान के माध्यम से कहते हैं हम जितना एक दूसरे से शेयर करें जितना एक दूसरे के सामने रखेंगे और जितने एक दूसरे पर खर्च करेंगे वह निश्चित तौर पर उसका पोस्ट पर पड़ता है तो लिखे ज्ञान के माध्यम से वे का 22 का ठाठ का 16% बढ़ा सकते हैं और निश्चित तौर पर ज्ञान को मैं जहां तक आपने वैज्ञानिकों ने रिसर्च को ही लोगों की भलाई के लिए देश की भलाई के लिए सामान्य जनता के भलाई के लिए और देश के विकास के लिए अभी तो गुड नाईट भाई इतने कम समय में जो रिसर्च की वैक्सीन का ज्ञान कहीं तो प्रतीक्षा तो भाई आम इंसान तो खुश रहते हैं जो अपने घर पर भी टीचर को देख ले वह कभी भी अपने ज्ञान को छुपाता नहीं इन लोगों पर बैठता है और कुछ लोग से बातें होंगी लेकिन मुझे तो ऐसा नहीं लगता है कि लोग छुपाते जब ज्ञान के प्रोफेशन में होगी तो नहीं और अधिकतर हम देखें जो कंप्यूटर एग्जाम ने शिंदे के बच्चे अच्छे हॉस्टल हो जाते हैं इस स्तर पर लोगों की काउंसलिंग करते हैं गानों को बढ़ाते हैं बताते हैं
Nahin padata hai to aajakal ke log gam ko chhupaate kyon bagair sabhee vaigyaanikon ne apane vichaaron ko chhupaaya hota to baat to aapakee sahee hai dost ko maanate hain ki gyaan jitana baatenge utana behatar hoga lekin main chhupa kaun raha hai dekhee jhukate to vahee log hain jo gyaan so gyaan samajhate gyaan ke maadhyam se kahate hain ham jitana ek doosare se sheyar karen jitana ek doosare ke saamane rakhenge aur jitane ek doosare par kharch karenge vah nishchit taur par usaka post par padata hai to likhe gyaan ke maadhyam se ve ka 22 ka thaath ka 16% badha sakate hain aur nishchit taur par gyaan ko main jahaan tak aapane vaigyaanikon ne risarch ko hee logon kee bhalaee ke lie desh kee bhalaee ke lie saamaany janata ke bhalaee ke lie aur desh ke vikaas ke lie abhee to gud naeet bhaee itane kam samay mein jo risarch kee vaikseen ka gyaan kaheen to prateeksha to bhaee aam insaan to khush rahate hain jo apane ghar par bhee teechar ko dekh le vah kabhee bhee apane gyaan ko chhupaata nahin in logon par baithata hai aur kuchh log se baaten hongee lekin mujhe to aisa nahin lagata hai ki log chhupaate jab gyaan ke propheshan mein hogee to nahin aur adhikatar ham dekhen jo kampyootar egjaam ne shinde ke bachche achchhe hostal ho jaate hain is star par logon kee kaunsaling karate hain gaanon ko badhaate hain bataate hain

srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
1:15
टीकम फ्रेंड्स प्रश्न है ज्ञान बांटने से बढ़ता है तो आजकल के लोग ज्ञान को छुपाते क्यों हैं अगर सभी वैज्ञानिक ने अपने-अपने आविष्कारों को छुपाया हो तो तो आज हमारी क्या हालत होती मैं बताना चाहता हूं ज्ञान बांटने से बढ़ता है और जो नहीं बताता वह इसलिए नहीं बताता क्योंकि मुझे लगता है कि मैं नहीं से बताया तो यह मुझ से भी आगे निकल जाएगा और वह यह नहीं जानता कि ज्ञान बांटने से बढ़ता है और यह बात सही है जी हां वैज्ञानिकों ने अगर हमें अविष्कार के बारे में नहीं बताया होता तो आज हम ना इस मुकाम पर होते ना हमारा यह देश हमारा भी यह दुनिया इसे टेक्नोलॉजी की होती क्योंकि वैज्ञानिकों का ही इसमें हाथ है जो हमारा देश इस मुकाम पर है हमारी पूरी दुनिया इस टेक्नोलॉजी के जमाने में है जहां मैसेज यहां से वहां आसपास हो सकते हैं तो पहले तो मैसेज का आदान प्रदान करने के लिए चिट्ठी लिखनी पड़ती थी अब तो एक मैसेज से ही काम हो जाता है धन्यवाद
Teekam phrends prashn hai gyaan baantane se badhata hai to aajakal ke log gyaan ko chhupaate kyon hain agar sabhee vaigyaanik ne apane-apane aavishkaaron ko chhupaaya ho to to aaj hamaaree kya haalat hotee main bataana chaahata hoon gyaan baantane se badhata hai aur jo nahin bataata vah isalie nahin bataata kyonki mujhe lagata hai ki main nahin se bataaya to yah mujh se bhee aage nikal jaega aur vah yah nahin jaanata ki gyaan baantane se badhata hai aur yah baat sahee hai jee haan vaigyaanikon ne agar hamen avishkaar ke baare mein nahin bataaya hota to aaj ham na is mukaam par hote na hamaara yah desh hamaara bhee yah duniya ise teknolojee kee hotee kyonki vaigyaanikon ka hee isamen haath hai jo hamaara desh is mukaam par hai hamaaree pooree duniya is teknolojee ke jamaane mein hai jahaan maisej yahaan se vahaan aasapaas ho sakate hain to pahale to maisej ka aadaan pradaan karane ke lie chitthee likhanee padatee thee ab to ek maisej se hee kaam ho jaata hai dhanyavaad

Mohitrajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Mohitrajput जी का जवाब
Unknown
0:40
तुम्हें पूछा जाना पड़ता है और सब लोग छुपाते हैं छुपाते दुनिया में ऐसे बहुत से ऐसे लोग हैं जिंदगी में कभी तुम ना तो जरूर मिल जाएंगे ठीक है
Tumhen poochha jaana padata hai aur sab log chhupaate hain chhupaate duniya mein aise bahut se aise log hain jindagee mein kabhee tum na to jaroor mil jaenge theek hai

Anand Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Anand जी का जवाब
Mathematics Teacher
0:42
बहुत अच्छा करने का मन हो गया बताया गया है ज्ञान बांटने से बढ़ता है तो आजकल की लड़कियां हमसे छुपाते चाहिए अगर सभी वैज्ञानिकों ने एक ऐसे आविष्कारों को झुकाया बाद क्या होता है तो बिल्कुल सही बात है तुमको अगर वैज्ञानिक अपना ज्ञान अपने आविष्कार छुपाते स्वयं आसाराम और सुखद नहीं होता इसलिए जान आप अपना जो है वह बताएं वितरित करें तो आजकल वो आने लगे हैं ज्ञान को छुपाना नहीं चाहिए आपके द्वारा देश का अपमान गाना विज्ञान का सच्चा उपयोग है
Bahut achchha karane ka man ho gaya bataaya gaya hai gyaan baantane se badhata hai to aajakal kee ladakiyaan hamase chhupaate chaahie agar sabhee vaigyaanikon ne ek aise aavishkaaron ko jhukaaya baad kya hota hai to bilkul sahee baat hai tumako agar vaigyaanik apana gyaan apane aavishkaar chhupaate svayan aasaaraam aur sukhad nahin hota isalie jaan aap apana jo hai vah bataen vitarit karen to aajakal vo aane lage hain gyaan ko chhupaana nahin chaahie aapake dvaara desh ka apamaan gaana vigyaan ka sachcha upayog hai

Aditya Dangayach  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Aditya जी का जवाब
Student
2:27
जानना चाहते हैं कि ज्ञान बढ़ाने से पढ़ता है तो आजकल के लोग अपने ज्ञान को छुपाते क्यों है अगर सभी वैज्ञानिकों ने अपने अविष्कार को छुपाया होगा तो आज आज हम भी वैसे ही होते जैसे लेते हैं कि ज्ञान बांटने से बढ़ता है सीबीआई ने कैसे कटेगी चलता है कि आपके पास कुछ ज्ञान है कि आपने कुछ पढ़ाई करिए एग्जाम के लिए अगर आपने किसी दूसरे को बताया तो हो सकता है आपके मन में एक बात है क्या कर रहे हो बता दूंगा तो यह तो मुझसे ज्यादा नंबर लिया है क्या हो सकते हैं उनसे ज्यादा पढ़ ले मुझसे ज्यादा नंबर ला सकता है इस प्रकार की बातें हमारे मन में रह जाती है कई बार ऐसा होता है कि अगर हमने किसी को कुछ पढ़ाया या फिर किसी का कुछ मदद की पढ़ने में बाद में पता चला कि वह बंदा आपसे ज्यादा माल ले आया ऐसे तो हम किसी को कुछ पढ़ाएंगे ही नहीं तो क्या करोगे तो फिर हमारे मानते हैं दूसरों की वजह से भी लोग अपना छुपाती है कि जैसे कि एग्जाम में चीटिंग के बाद अगर आप जैसे कि ज्ञान बांटने से बढ़ता है तो उधर भी आप एक तरीके अपना ज्ञान बांट रहे हो लेकिन अपनी आते हैं कि अगर आपने चीटिंग कर दो चैटिंग चैटिंग में सामने वाले की मदद कर दी और स्वाभिमान के चलते हैं जैसे मैं आप को नहीं पकड़ा और फिर आकर आप उसके ज्यादा पैसा भी हो सकता है कि उसके ज्यादा नंबर आ जाओ और आपके कम नंबर आ जाए तेरा टीचर यह चीज देख ले आपके मार्क्स की काट सकता है दोनों के मास्टर सकता है एक ही वजह होती है कि टीचर अपने नंबर मत माफ कीजिएगा के लोग अपना ज्ञान दोस्तों को निभाते लेकिन देखिए यह तो गलत तरीका होता है कि ज्ञान को बांटने का कोई किसी भी परीक्षा केकड़ी में किसी का भी ज्ञान एक दूसरे को में नई वार्ता चाहिए उसको समय सिर्फ अपने अपने ज्ञान की परीक्षा करनी चाहिए कि मुझे कितना आता है लेकिन अगर इसे सामान्य सामान्य रूप में भी ज्ञान बांटने बिल्कुल सही होता है कि आप सामने किसी को कुछ ज्ञान दे रहे हैं ऐसे वक्त में आपको अपनी इंसल्ट की चिंता नहीं करनी चाहिए कि अगर सामने वाले को मैं ज्ञान दे दूंगा तो वह मुझसे ज्यादा क्या नहीं हो जाएगा तो कभी भी आपको इस चीज की चिंता नहीं करनी चाहिए और हमेशा ज्ञान बांटते रहना चाहिए और आशा करता हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा इसी प्रकार मुझसे और सवालों के जवाब पाने के लिए मुझे सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Jaanana chaahate hain ki gyaan badhaane se padhata hai to aajakal ke log apane gyaan ko chhupaate kyon hai agar sabhee vaigyaanikon ne apane avishkaar ko chhupaaya hoga to aaj aaj ham bhee vaise hee hote jaise lete hain ki gyaan baantane se badhata hai seebeeaee ne kaise kategee chalata hai ki aapake paas kuchh gyaan hai ki aapane kuchh padhaee karie egjaam ke lie agar aapane kisee doosare ko bataaya to ho sakata hai aapake man mein ek baat hai kya kar rahe ho bata doonga to yah to mujhase jyaada nambar liya hai kya ho sakate hain unase jyaada padh le mujhase jyaada nambar la sakata hai is prakaar kee baaten hamaare man mein rah jaatee hai kaee baar aisa hota hai ki agar hamane kisee ko kuchh padhaaya ya phir kisee ka kuchh madad kee padhane mein baad mein pata chala ki vah banda aapase jyaada maal le aaya aise to ham kisee ko kuchh padhaenge hee nahin to kya karoge to phir hamaare maanate hain doosaron kee vajah se bhee log apana chhupaatee hai ki jaise ki egjaam mein cheeting ke baad agar aap jaise ki gyaan baantane se badhata hai to udhar bhee aap ek tareeke apana gyaan baant rahe ho lekin apanee aate hain ki agar aapane cheeting kar do chaiting chaiting mein saamane vaale kee madad kar dee aur svaabhimaan ke chalate hain jaise main aap ko nahin pakada aur phir aakar aap usake jyaada paisa bhee ho sakata hai ki usake jyaada nambar aa jao aur aapake kam nambar aa jae tera teechar yah cheej dekh le aapake maarks kee kaat sakata hai donon ke maastar sakata hai ek hee vajah hotee hai ki teechar apane nambar mat maaph keejiega ke log apana gyaan doston ko nibhaate lekin dekhie yah to galat tareeka hota hai ki gyaan ko baantane ka koee kisee bhee pareeksha kekadee mein kisee ka bhee gyaan ek doosare ko mein naee vaarta chaahie usako samay sirph apane apane gyaan kee pareeksha karanee chaahie ki mujhe kitana aata hai lekin agar ise saamaany saamaany roop mein bhee gyaan baantane bilkul sahee hota hai ki aap saamane kisee ko kuchh gyaan de rahe hain aise vakt mein aapako apanee insalt kee chinta nahin karanee chaahie ki agar saamane vaale ko main gyaan de doonga to vah mujhase jyaada kya nahin ho jaega to kabhee bhee aapako is cheej kee chinta nahin karanee chaahie aur hamesha gyaan baantate rahana chaahie aur aasha karata hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga isee prakaar mujhase aur savaalon ke javaab paane ke lie mujhe sabsakraib karen dhanyavaad

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:39
दीपक से दीपक जलता है प्रकाश पड़ता है जान जितना बांटो के उतना ज्ञान आपका बढ़ेगा और कहते अनूप भैया से विद्या विषम यदि आपने अपनी प्राप्त किसी विद्या का वितरण नहीं किया है उस पर अभ्यास नहीं किया है तो निश्चित मान कर चलो कि 1 दिनों से आप भूल जाएंगे और वो जहर के समान आपको हो जाएगी जितना दूसरों को ज्ञान बाटेंगे जितना प्रकाश फैल आएंगे उतना अंधकार मिटेगा अज्ञान का अंधकार में हटेगा आप को यश मिलेगा आपको लोगों की दुआएं मिलेंगी आप भलाई के कार्य कर रहे हैं अंधकार को बढ़ाना राक्षस भर्ती है और अज्ञान के अंधकार को मिटाना देवत्व की है हमारे पूर्वजों ने भी ऐसा किया था कि हमारे पूर्वजों ने ऐसा नहीं किया होता उन तपस्वी ऋषि-मुनियों ने या ज्ञान का वितरण नहीं किया होता तो आज तुम और हम तक वेदों का ज्ञान नहीं आ पाता बिदुपुर शिव पुराण आदि का ज्ञान नहीं आ पाता वैज्ञानिकों ने अविष्कार किए हैं यह नोनी छुपाई होते तो आज तो हम विज्ञान की सुविधाओं का लाभ नहीं ले पाते इसलिए हमारा तुम्हारा नैतिक कर्तव्य बनता है ज्योति से ज्योति जलाते फिर और ज्ञान का प्रकाश फैलाते रहो
Deepak se deepak jalata hai prakaash padata hai jaan jitana baanto ke utana gyaan aapaka badhega aur kahate anoop bhaiya se vidya visham yadi aapane apanee praapt kisee vidya ka vitaran nahin kiya hai us par abhyaas nahin kiya hai to nishchit maan kar chalo ki 1 dinon se aap bhool jaenge aur vo jahar ke samaan aapako ho jaegee jitana doosaron ko gyaan baatenge jitana prakaash phail aaenge utana andhakaar mitega agyaan ka andhakaar mein hatega aap ko yash milega aapako logon kee duaen milengee aap bhalaee ke kaary kar rahe hain andhakaar ko badhaana raakshas bhartee hai aur agyaan ke andhakaar ko mitaana devatv kee hai hamaare poorvajon ne bhee aisa kiya tha ki hamaare poorvajon ne aisa nahin kiya hota un tapasvee rshi-muniyon ne ya gyaan ka vitaran nahin kiya hota to aaj tum aur ham tak vedon ka gyaan nahin aa paata bidupur shiv puraan aadi ka gyaan nahin aa paata vaigyaanikon ne avishkaar kie hain yah nonee chhupaee hote to aaj to ham vigyaan kee suvidhaon ka laabh nahin le paate isalie hamaara tumhaara naitik kartavy banata hai jyoti se jyoti jalaate phir aur gyaan ka prakaash phailaate raho

Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
4:47
जी हां यह बिल्कुल सही है कि ज्ञान बांटने से बढ़ता है और बांटना भी चाहिए अगर आपके पास किसी चीज की नॉलेज है और सामने वाले को अगर आप बताते हैं या उसको चाहिए होता है उसका उसके काम होने वाले जाती हैं अब वह ज्ञान आता है वह तत्व एक्सपीरियंस हो या तजुर्बा अगर किसी काम आता है और क्या खराबी है गाना चाहिए ना क्यों नहीं करते भाई लोग इसलिए नहीं करते हैं क्योंकि अगर मैं कुछ शेयर कर दूंगा तो वह उस चीज को अपना लेगा उसका फायदा हो जाएगा लोग इसलिए भी नहीं शेयर करते कि मेरी नॉलेज मेरी अर्जित की हुई है मेरी अपनी बनाई हुई है भाई हुई है मैंने उसको डेवलप किया है मैंने उस पर बहुत है मेहनत किया है तो मैं ऐसे ही दान में किसी को कैसे दे दूं यह भी बात है कुछ लोग इसलिए नहीं करते क्योंकि वही उनका व्यवसाय होता है पैसा होता है चलो ठीक है अच्छी बात है वही जो आपका पैसा है जो आपका हुनर है टैलेंट है जो चीज आपने मॉड्यूल के कोच के रूप में ट्रेनिंग के रूप में तैयार किया वह छोड़ना शेयर करेंगे किसी के साथ किलो गई है शेयर कर लो और तुम ही ट्रेनिंग कर लो नहीं ऐसा नहीं होता आया है याद सिंपल सी बात है जहां पर जो एप्रोप्रियेट है इंसान को वह करना चाहिए जहां पर ज्ञान शेयर करने की बात है वहां पर कर देना चाहिए अपने बारे में अपने हित के बारे में सोचना हमेशा हंसता है शायद सही नहीं होता आपको सोचना चाहिए लेकिन अगर कुछ शेयर करने से आपको कुछ नुकसान नहीं होता तो क्या फर्क पड़ता है शेयर कर दो इसे मान लो छोटी सी बात है अगर मान लो अब आप किसी के साथ है ना कहीं पर हैं आप हमारे दोस्तों के साथ हैं और वहां पर कुछ हादसा होते हैं किसी दोस्त को छोटा जाती है या आज चल जाता है कुछ हो जाता है और आपको बताया कि ऐसे में क्या करना चाहिए आपको पता है कि यह दवाई लगाई आइए इमीडिएट रिलीफ देता है तो आपको पता है तो क्या आप कहिए फर्ज नहीं बनता कि आप उसकी मदद करें अपने ज्ञान के जरिए तो सिंपल सी बात है भाई मैं नहीं सर ऐसी होते हैं और इसी तरीके से करवा लो कोई आपसे सवाल पूछता है उसको नहीं पता किसी को न कोई रास्ता पूछता है उसको नहीं पता कोई कुछ जानना चाहता है और आपके पास वह आने वाले है या इंफॉर्मेशन ए तो शेयर कर दो क्या जाता है खुशी जाता ओके नाम से होता है कि कुछ किसी को पढ़ाते हैं समझाते हैं बताते हैं तो आपके माइंड में रिफ्रेश होती है जब हम बोलते हैं ना ज्ञान बांटने से बढ़ता है तो वह इस तरीके से बढ़ता है कि वह पहली बात तो वह रिफ्रेश हो जाती है कि चलो भाई जो आपने पढ़ा है सीखा है सब जाए जाने उसको अपने रिफ्रेश कर लिया दूसरी बात यह है कि भाई जब आप बता रहे होते पढ़ा रहे होते हो तो सामने वाला कुछ सवाल पूछ सकता है नजरिए का फिर हो सकता है आपको भी ज्ञान मिलता आप भी थोड़े और जागरूक हो जाते हो आप पर भी समझ आता नहीं है जो बोल रहे हैं वह सही है इसको इस तरीके से देखा जा सकता है उस पर आप और ही सोच करते हो और आप अपने नॉलेज को और बढ़ा सकते हो तो कई सारी बातें हैं अब बात होती है कि सभी वैज्ञानिकों ने अपने अगर आविष्कार को नहीं से किया होता तो दुनिया जैसी नहीं होती बगैर जब किसी चीज की खोज कर रहे होते हैं तब वह कुछ शेयर नहीं करते आप यह सोच कर देखें वह कब शेयर करते हैं जब कोई चीज पूरी तो पूरी तरीके से फंस जाते हैं उनको पूरा ग्रुप में जाते हैं उनको आश्वासन हो जाता है कि जब वह खोज कर रहे थे या जो उनको मिला है वह यह है यह है इसका तरीका यह है वगैरा-वगैरा के तरीके से दुनिया के समक्ष रखते हैं और उसके बाद में इस द प्रिंसिपल उस प्रिंसिपल के आधार पर लोग कुछ और बना सकते हैं चीजें आविष्कार कर सकते हैं और नया वह सारी अलग कहानियां अब साइंटिस्ट ऐसा क्यों करता है साइंटिस्ट पहले छुपा के रखते हो रखना भी चाहिए भाई रोज वह जो जो एक्सपेरिमेंट कर रहा है प्रयोग कर रहा है पढ़ रहा है रिचार्ज करा क्या उसको बताने की जरूरत है नहीं ना जब तक कोई चीज नहीं जाती फाइनेंस में नहीं आ जाती है ऐसा होने के बाद भी वह बहुत सतर्कता से सोच समझ के उन चीजों को प्रस्तुत करता है क्योंकि उसको उस चीज को अपने नाम करवाना जरूरी होता है नहीं तो कोई और क्रेडिट ले लेगा उसकी खोज का उसके आविष्कार किया जो भी कुछ उससे उसने उपलब्धि भाई इतनी सारी बातें होती हैं और देखना होता है तो इसमें कोई गलती नहीं है
Jee haan yah bilkul sahee hai ki gyaan baantane se badhata hai aur baantana bhee chaahie agar aapake paas kisee cheej kee nolej hai aur saamane vaale ko agar aap bataate hain ya usako chaahie hota hai usaka usake kaam hone vaale jaatee hain ab vah gyaan aata hai vah tatv eksapeeriyans ho ya tajurba agar kisee kaam aata hai aur kya kharaabee hai gaana chaahie na kyon nahin karate bhaee log isalie nahin karate hain kyonki agar main kuchh sheyar kar doonga to vah us cheej ko apana lega usaka phaayada ho jaega log isalie bhee nahin sheyar karate ki meree nolej meree arjit kee huee hai meree apanee banaee huee hai bhaee huee hai mainne usako devalap kiya hai mainne us par bahut hai mehanat kiya hai to main aise hee daan mein kisee ko kaise de doon yah bhee baat hai kuchh log isalie nahin karate kyonki vahee unaka vyavasaay hota hai paisa hota hai chalo theek hai achchhee baat hai vahee jo aapaka paisa hai jo aapaka hunar hai tailent hai jo cheej aapane modyool ke koch ke roop mein trening ke roop mein taiyaar kiya vah chhodana sheyar karenge kisee ke saath kilo gaee hai sheyar kar lo aur tum hee trening kar lo nahin aisa nahin hota aaya hai yaad simpal see baat hai jahaan par jo epropriyet hai insaan ko vah karana chaahie jahaan par gyaan sheyar karane kee baat hai vahaan par kar dena chaahie apane baare mein apane hit ke baare mein sochana hamesha hansata hai shaayad sahee nahin hota aapako sochana chaahie lekin agar kuchh sheyar karane se aapako kuchh nukasaan nahin hota to kya phark padata hai sheyar kar do ise maan lo chhotee see baat hai agar maan lo ab aap kisee ke saath hai na kaheen par hain aap hamaare doston ke saath hain aur vahaan par kuchh haadasa hote hain kisee dost ko chhota jaatee hai ya aaj chal jaata hai kuchh ho jaata hai aur aapako bataaya ki aise mein kya karana chaahie aapako pata hai ki yah davaee lagaee aaie imeediet rileeph deta hai to aapako pata hai to kya aap kahie pharj nahin banata ki aap usakee madad karen apane gyaan ke jarie to simpal see baat hai bhaee main nahin sar aisee hote hain aur isee tareeke se karava lo koee aapase savaal poochhata hai usako nahin pata kisee ko na koee raasta poochhata hai usako nahin pata koee kuchh jaanana chaahata hai aur aapake paas vah aane vaale hai ya imphormeshan e to sheyar kar do kya jaata hai khushee jaata oke naam se hota hai ki kuchh kisee ko padhaate hain samajhaate hain bataate hain to aapake maind mein riphresh hotee hai jab ham bolate hain na gyaan baantane se badhata hai to vah is tareeke se badhata hai ki vah pahalee baat to vah riphresh ho jaatee hai ki chalo bhaee jo aapane padha hai seekha hai sab jae jaane usako apane riphresh kar liya doosaree baat yah hai ki bhaee jab aap bata rahe hote padha rahe hote ho to saamane vaala kuchh savaal poochh sakata hai najarie ka phir ho sakata hai aapako bhee gyaan milata aap bhee thode aur jaagarook ho jaate ho aap par bhee samajh aata nahin hai jo bol rahe hain vah sahee hai isako is tareeke se dekha ja sakata hai us par aap aur hee soch karate ho aur aap apane nolej ko aur badha sakate ho to kaee saaree baaten hain ab baat hotee hai ki sabhee vaigyaanikon ne apane agar aavishkaar ko nahin se kiya hota to duniya jaisee nahin hotee bagair jab kisee cheej kee khoj kar rahe hote hain tab vah kuchh sheyar nahin karate aap yah soch kar dekhen vah kab sheyar karate hain jab koee cheej pooree to pooree tareeke se phans jaate hain unako poora grup mein jaate hain unako aashvaasan ho jaata hai ki jab vah khoj kar rahe the ya jo unako mila hai vah yah hai yah hai isaka tareeka yah hai vagaira-vagaira ke tareeke se duniya ke samaksh rakhate hain aur usake baad mein is da prinsipal us prinsipal ke aadhaar par log kuchh aur bana sakate hain cheejen aavishkaar kar sakate hain aur naya vah saaree alag kahaaniyaan ab saintist aisa kyon karata hai saintist pahale chhupa ke rakhate ho rakhana bhee chaahie bhaee roj vah jo jo eksaperiment kar raha hai prayog kar raha hai padh raha hai richaarj kara kya usako bataane kee jaroorat hai nahin na jab tak koee cheej nahin jaatee phainens mein nahin aa jaatee hai aisa hone ke baad bhee vah bahut satarkata se soch samajh ke un cheejon ko prastut karata hai kyonki usako us cheej ko apane naam karavaana jarooree hota hai nahin to koee aur kredit le lega usakee khoj ka usake aavishkaar kiya jo bhee kuchh usase usane upalabdhi bhaee itanee saaree baaten hotee hain aur dekhana hota hai to isamen koee galatee nahin hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अगर वैज्ञानिक अपने आविष्कार छुपाते तो हमारी जिंदगी कैसी होती,
URL copied to clipboard