#खेल कूद

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:40
तो आज आप का सवाल है कि भारत अपने राष्ट्रीय खेल हॉकी में इतना कमजोर कैसे हो गया जबकि पहले हमारा लोहा दुनिया मानती थी तो देखिए अपने आसपास जिस चीज को देखते हमारा इंटरेस्ट भी बहुत बार उसी की ओर ही भागता है अभी हम लोग देखिए और क्रिकेट को लेकर एक बच्चा बच्चा हर एक प्लेयर के बारे में हर एक चीज की डिटेल में जानता पर वही हो की अभी की कोई इंटरेस्ट ही नहीं लेता है अब जहां जिस गिव मी जितना पैसा मिले जितना पैसा लगाया जाए सारे लोग उसी तरह ही भागते हैं मेरी सबसे नशे में हो कि तू बहुत सारी फैसिलिटी कैसे मतलब हर चीज में रहना चाहिए ताकि लोग चाहकर भी एविन को छोड़े नहीं और मतलब यह ज्यादा चर्चे मेरे और चर्चा में हमेशा आपको टीवी में हर एक जगह देखने के लिए मिलेगा जो पुरानी मैच हो चुके हैं वह भी दिखाया जाता लेकिन वही हॉकी बहुत ही कम दिखाया जाता है तू इंटरेस्ट इंसान का खत्म हो गया जिस वजह से इंसान अब हॉकी में इतना इंटरेस्ट ही नहीं लेता और बहुत बार क्या होता है ना कि लोग वह गेम खेलना भी बहुत बार कुछ गेम चाहते हैं लेकिन उसके जो सामान मिलते वह बहुत ही महंगा होता है जो आपके लिए फिट करना वह मुश्किल होता है सरकार की तरफ से मैं नहीं पाता तो बहुत सारे लोगों का इंटरेस्ट यहां पर भी दब जाता है तो यही सब मुझे कारण लगता है जिस वजह से हो कि इतना भी चर्चा में नहीं है ना ही कोई इतना खेलता है वही बाकी सब गेम की बात करें तो लोगों का ज्यादा उस में इंटरेस्ट जा रहा है लोग खेल रहे हैं हर एक जगह टीवी हुआ अपने ग्राउंड वह जगह वही सब चीज देखते क्रिकेट ही देखते हैं इसीलिए लोगों का इंटरेस्ट सिर्फ और सिर्फ मतलब यही सब चीज में जा रहा है
To aaj aap ka savaal hai ki bhaarat apane raashtreey khel hokee mein itana kamajor kaise ho gaya jabaki pahale hamaara loha duniya maanatee thee to dekhie apane aasapaas jis cheej ko dekhate hamaara intarest bhee bahut baar usee kee or hee bhaagata hai abhee ham log dekhie aur kriket ko lekar ek bachcha bachcha har ek pleyar ke baare mein har ek cheej kee ditel mein jaanata par vahee ho kee abhee kee koee intarest hee nahin leta hai ab jahaan jis giv mee jitana paisa mile jitana paisa lagaaya jae saare log usee tarah hee bhaagate hain meree sabase nashe mein ho ki too bahut saaree phaisilitee kaise matalab har cheej mein rahana chaahie taaki log chaahakar bhee evin ko chhode nahin aur matalab yah jyaada charche mere aur charcha mein hamesha aapako teevee mein har ek jagah dekhane ke lie milega jo puraanee maich ho chuke hain vah bhee dikhaaya jaata lekin vahee hokee bahut hee kam dikhaaya jaata hai too intarest insaan ka khatm ho gaya jis vajah se insaan ab hokee mein itana intarest hee nahin leta aur bahut baar kya hota hai na ki log vah gem khelana bhee bahut baar kuchh gem chaahate hain lekin usake jo saamaan milate vah bahut hee mahanga hota hai jo aapake lie phit karana vah mushkil hota hai sarakaar kee taraph se main nahin paata to bahut saare logon ka intarest yahaan par bhee dab jaata hai to yahee sab mujhe kaaran lagata hai jis vajah se ho ki itana bhee charcha mein nahin hai na hee koee itana khelata hai vahee baakee sab gem kee baat karen to logon ka jyaada us mein intarest ja raha hai log khel rahe hain har ek jagah teevee hua apane graund vah jagah vahee sab cheej dekhate kriket hee dekhate hain iseelie logon ka intarest sirph aur sirph matalab yahee sab cheej mein ja raha hai

और जवाब सुनें

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:35
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है भारत अपने राष्ट्रीय खेल हॉकी में इतना कमजोर कैसे हो गया है कि पहले हमारा लोहा दुनिया मानती थी इस खेल में तो फ्रेंडशिप हो कि मैं लोग ज्यादा इंटरेस्ट नहीं दिखा रहे हैं और क्रिकेट ज्यादा खेलते हैं उसमें ज्यादा इंटरेस्ट दिखाते हैं और वाकिंग में प्लेयर ज्यादा प्रैक्टिस नहीं करते ना ज्यादा ध्यान देते हैं और ना ही सरकार इस बात पर ज्यादा ध्यान दे रही है क्रिकेट कुछ लोग ज्यादा पसंद करते हैं उसे ही ज्यादा देखते हैं ज्यादा खेलते हैं और उसी की प्रैक्टिस भी कम हो गई है इसलिए यह कमजोर होता जा रहा है धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai bhaarat apane raashtreey khel hokee mein itana kamajor kaise ho gaya hai ki pahale hamaara loha duniya maanatee thee is khel mein to phrendaship ho ki main log jyaada intarest nahin dikha rahe hain aur kriket jyaada khelate hain usamen jyaada intarest dikhaate hain aur vaaking mein pleyar jyaada praiktis nahin karate na jyaada dhyaan dete hain aur na hee sarakaar is baat par jyaada dhyaan de rahee hai kriket kuchh log jyaada pasand karate hain use hee jyaada dekhate hain jyaada khelate hain aur usee kee praiktis bhee kam ho gaee hai isalie yah kamajor hota ja raha hai dhanyavaad

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:51
अपने राष्ट्रीय खेल हॉकी में इतना कमजोर कैसे हो गया जबकि पहले हमारा लोहा दुनिया मानती थी दोस्तों यदि बात करें होकर को लेकर के जन्मदाता तो इस हॉकी का ब्रिटेन है परंतु फिर भी शुरुआत में भारत में चला गया था इसलिए इसके जन्मभूमि भारत है दोस्तों भारत से जो है लोगों की के अंदर बहुत बड़ा प्लेयर था यह आज नहीं पहले के समय में था जब जब मेजर ध्यानचंद इस टीम में हुआ करते थे कहा जाता है कि ओलंपिक हो या कुछ भी हो यह तो मर गई थी फिर भी दोस्तों धीरे-धीरे हम देखने को मिलता है कि हमारे दोस्तों क्रिकेट कबड्डी इन खेलों के अंदर कुछ ज्यादा ही चला गया है कारण था और यही कारण है कि भूखी में जो है हम पिछड़े हुए जा रहे हैं
Apane raashtreey khel hokee mein itana kamajor kaise ho gaya jabaki pahale hamaara loha duniya maanatee thee doston yadi baat karen hokar ko lekar ke janmadaata to is hokee ka briten hai parantu phir bhee shuruaat mein bhaarat mein chala gaya tha isalie isake janmabhoomi bhaarat hai doston bhaarat se jo hai logon kee ke andar bahut bada pleyar tha yah aaj nahin pahale ke samay mein tha jab jab mejar dhyaanachand is teem mein hua karate the kaha jaata hai ki olampik ho ya kuchh bhee ho yah to mar gaee thee phir bhee doston dheere-dheere ham dekhane ko milata hai ki hamaare doston kriket kabaddee in khelon ke andar kuchh jyaada hee chala gaya hai kaaran tha aur yahee kaaran hai ki bhookhee mein jo hai ham pichhade hue ja rahe hain

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:52
लिखिए हमें देश हमारा जो है खिलाड़ियों से माना जाता है पहले हमारे हकीकत जादूगर ध्यानचंद थे बहुत अच्छे अच्छे लोग मतलब आगे के खिलाड़ी थे और दुनिया में उनका लोहा माना जाता था हॉकी के जादूगर कहलाते थे हाथी पर लोगों को फोकस कम हो गया यह प्रोफेशनल खेल हमारे यहां आ गया जिसको क्रिकेट कहता है विदेशी खेल है लेकिन वह हमारे छोटे प्रोफेशनल हो गया प्रोफेशनल होने का लोग उस पर ज्यादा इंटरेस्ट लेने लगे हाथी का उत्तर प्रसाद प्रसाद ने रहा कबड्डी को कुछ दिन तो प्रचार साफ होता है लेकिन यह जो खेल प्रोफेशनल होते चले जाते हैं उनका जो है प्रचार प्रसार के कारण उनको लोग ज्यादा देखना पसंद करते हैं लेकिन अभी भी हमारे देश का खेल है और जिस पर हम को ध्यान देना चाहिए सरकार को भी ध्यान देना चाहिए
Likhie hamen desh hamaara jo hai khilaadiyon se maana jaata hai pahale hamaare hakeekat jaadoogar dhyaanachand the bahut achchhe achchhe log matalab aage ke khilaadee the aur duniya mein unaka loha maana jaata tha hokee ke jaadoogar kahalaate the haathee par logon ko phokas kam ho gaya yah propheshanal khel hamaare yahaan aa gaya jisako kriket kahata hai videshee khel hai lekin vah hamaare chhote propheshanal ho gaya propheshanal hone ka log us par jyaada intarest lene lage haathee ka uttar prasaad prasaad ne raha kabaddee ko kuchh din to prachaar saaph hota hai lekin yah jo khel propheshanal hote chale jaate hain unaka jo hai prachaar prasaar ke kaaran unako log jyaada dekhana pasand karate hain lekin abhee bhee hamaare desh ka khel hai aur jis par ham ko dhyaan dena chaahie sarakaar ko bhee dhyaan dena chaahie

अनन्या सिहं Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए अनन्या जी का जवाब
शिक्षारत
1:04
इसलिए क्योंकि अब भारत के लोगों का इंटरेस्ट हॉकी में रहा ही नहीं इसलिए अब भारत हॉकी में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाता जबकि भारत का राष्ट्रीय खेल ही हो कि यहां पर क्रिकेट के फैंस अधिक है हॉकी के उतने नहीं है इसीलिए ऐसी हालत है हॉकी में भारत की यह क्रिकेट के इतनी फेन है तो यहां क्रिकेट के खिलाड़ी इतनी मोटिवेट होते हैं तो देखिए अभी और टेस्ट सीरीज ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले दिन की दूसरी इनिंग में उसने वह सभी 36 पर ऑल आउट हो गए थे लेकिन बहुत अच्छा कमबैक किया क्योंकि यहां फैंस इतने ज्यादा है और मोटिवेट करते हैं जबकि हॉकी के फैंस ने नहीं है इतने प्रशंसक नहीं है इसलिए भारत का अच्छा प्रदर्शन नहीं हो पाता है हॉकी में और हॉकी में लोगों का इंटरेस्ट नहीं होता इसलिए प्लेट भी अधिक सुनते हैं हॉकी को यही सब कारण कुल मिलाकर है
Isalie kyonki ab bhaarat ke logon ka intarest hokee mein raha hee nahin isalie ab bhaarat hokee mein achchha pradarshan nahin kar paata jabaki bhaarat ka raashtreey khel hee ho ki yahaan par kriket ke phains adhik hai hokee ke utane nahin hai iseelie aisee haalat hai hokee mein bhaarat kee yah kriket ke itanee phen hai to yahaan kriket ke khilaadee itanee motivet hote hain to dekhie abhee aur test seereej ostreliya ke khilaaph pahale din kee doosaree ining mein usane vah sabhee 36 par ol aaut ho gae the lekin bahut achchha kamabaik kiya kyonki yahaan phains itane jyaada hai aur motivet karate hain jabaki hokee ke phains ne nahin hai itane prashansak nahin hai isalie bhaarat ka achchha pradarshan nahin ho paata hai hokee mein aur hokee mein logon ka intarest nahin hota isalie plet bhee adhik sunate hain hokee ko yahee sab kaaran kul milaakar hai

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
2:11
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि भारत अपने राष्ट्रीय खेल हॉकी में इतना कमजोर कैसे हो गया जबकि पहले हमारा लोहा दुनिया मानती थी तो दोस्तों बिल्कुल इसका उत्तर स्पष्ट है क्योंकि अंग्रेजों के दिया हुआ जो क्रिकेट का गेम है पूरी राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय देशों में इस को प्राथमिकता दी जाती है इसमें जो खिलाड़ी हैं उनको प्रोत्साहन राशि बहुत अच्छी दी जाती है उसको स्पॉन्सर मिलते हैं अब है हॉकी हमारा राष्ट्रीय खेल लेकिन सरकार का रवैया भी काफी ढीला है पहले लोगों को प्रोत्साहित किया जाता है तो कितना है क्रिकेट इतना आगे नहीं था उस समय इतने टीवी नहीं थे इतने रेडियो नहीं होते थे लोग कमेंट्री बस सुना करते थे इतने साधन नहीं थे इतने चैनल्स नहीं थे और आजकल बहुत ज्यादा चीजें हो गई है तो उसमें हमारा हॉकी खेल दब गया है लेकिन सरकार चाहे तो अपने खेल को ऊपर कर सकती है उसमें लोगों को आकर्षित कर सकती है टूर्नामेंट करा सकती है लेकिन ऐसा कुछ नहीं होता है बीच में सरकार ने कबड्डी को प्रोत्साहित करने की कोशिश की तो देखिए प्रो कबड्डी में भी काफी लोग आए लेकिन सरकारी नहीं चाहती उसे भी बस ऐसा लगता है कि वहां के लोगों को क्रिकेट के मैच देखने में मजा आता है देखिए आज का क्रिकेट के खिलाड़ी कितने करोड़ों में बिकते हैं उनके विभिन्न विभिन्न प्रकार के जो है मैसेज कराए जाते हैं लेकिन और खेलों के मैसेज ऐसे नहीं कराए जाते ऐसा नहीं है कि वह देश का नाम नहीं रोशन कर सकते हैं हॉकी वाले अन्य खेल वाले लेकिन सरकार का ही रवैया ढीला रहता है ऐसा लगता है कि अंग्रेजों की छाप अभी सरकारों से हटी नहीं है वहीं केंद्र में क्रिकेट ही बना रहता है अन्य के अन्य जो है खेल निकृष्ट कोटि के माने जाने लग गए हैं और लोग बच्चे उस में कैरियर बनाने में जो है सब कुछ आते हैं आगे कदम नहीं बना पाते चाहे कितना भी हो नाम कर लेगा वह जाएगा बेचारा रेलवे स्टेशन से आएगा तो कोई गाड़ी नहीं आएगी ट्रीटमेंट के लिए तो वह कोशिश करता है कि क्रिकेटर ने अन्यथा बनाएं धन्यवाद
Namaskaar doston prashn hai ki bhaarat apane raashtreey khel hokee mein itana kamajor kaise ho gaya jabaki pahale hamaara loha duniya maanatee thee to doston bilkul isaka uttar spasht hai kyonki angrejon ke diya hua jo kriket ka gem hai pooree raashtreey antararaashtreey deshon mein is ko praathamikata dee jaatee hai isamen jo khilaadee hain unako protsaahan raashi bahut achchhee dee jaatee hai usako sponsar milate hain ab hai hokee hamaara raashtreey khel lekin sarakaar ka ravaiya bhee kaaphee dheela hai pahale logon ko protsaahit kiya jaata hai to kitana hai kriket itana aage nahin tha us samay itane teevee nahin the itane rediyo nahin hote the log kamentree bas suna karate the itane saadhan nahin the itane chainals nahin the aur aajakal bahut jyaada cheejen ho gaee hai to usamen hamaara hokee khel dab gaya hai lekin sarakaar chaahe to apane khel ko oopar kar sakatee hai usamen logon ko aakarshit kar sakatee hai toornaament kara sakatee hai lekin aisa kuchh nahin hota hai beech mein sarakaar ne kabaddee ko protsaahit karane kee koshish kee to dekhie pro kabaddee mein bhee kaaphee log aae lekin sarakaaree nahin chaahatee use bhee bas aisa lagata hai ki vahaan ke logon ko kriket ke maich dekhane mein maja aata hai dekhie aaj ka kriket ke khilaadee kitane karodon mein bikate hain unake vibhinn vibhinn prakaar ke jo hai maisej karae jaate hain lekin aur khelon ke maisej aise nahin karae jaate aisa nahin hai ki vah desh ka naam nahin roshan kar sakate hain hokee vaale any khel vaale lekin sarakaar ka hee ravaiya dheela rahata hai aisa lagata hai ki angrejon kee chhaap abhee sarakaaron se hatee nahin hai vaheen kendr mein kriket hee bana rahata hai any ke any jo hai khel nikrsht koti ke maane jaane lag gae hain aur log bachche us mein kairiyar banaane mein jo hai sab kuchh aate hain aage kadam nahin bana paate chaahe kitana bhee ho naam kar lega vah jaega bechaara relave steshan se aaega to koee gaadee nahin aaegee treetament ke lie to vah koshish karata hai ki kriketar ne anyatha banaen dhanyavaad

Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
Cricket Enthusiast | Educationist | YouTuber | Channel Name~ Sanjay kumar (Cricket Secret), Sanjay Kumar
3:51
भारत अपनी राष्ट्रीय खेल हाकी में इतना कमजोर कैसे हो गया जबकि पहले हमारा लोहा दुनिया मानती थी तो इसके पीछे कई रीजन हो सकते हैं जैसे पहले रीज़न तो यह है कि जो ब्रिटिश इंडिया हुआ करती थी तो उस समय हमारे जो देश है ब्रिटिश इंडिया इज उसमें कहलाता था तो इंग्लैंड की छुट्टी हुआ करती थी अब ग्रेट ब्रिटेन ब्रिटेन की टीम हुआ करती थी ओलंपिक में हॉकी नहीं खेला करते थे ब्रिटिश इंडिया को हाथी खिलाया करती थी तो उस समय आप समझ सकते हैं कि ब्रिटेन की टीम ना हुआ करती थी बल्कि बेटे इंडिया की टीम हुआ करती थी उस समय बहुत तगड़ी टीम हुआ करती थी हमारी देश की बहुत ही रिकॉर्ड बार काफी बार इंडिया ने रियो ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीते हैं और फिर अंता के बाद भी एक एक एक आद बार जीते हैं छोड़ मेडल तो फंसी पहला रिजल्ट गई है कि जब 1948 का ओलंपिक होने वाला था उसके पहले 1947 में भारत का विभाजन हो गया तो कुछ खिलाड़ी पाकिस्तान में चले गए और कुछ खिलाड़ी चले गए इंडिया में तो उस समय हम देखें तो पहली बार ब्रिटेन की जोडी हॉकी की टीम थी वह भाग ले रही थी उससे पहले 1918 या उसके पहले ही कभी लिया था उस भाग लिया था नहीं तो उसके खिलाफ विभागीय होने की वजह से वह काफी ज्यादा उन्नीस सौ सत्तर और अस्सी के दशक में बहुत ही ज्यादा अच्छा प्रदर्शन किया और उसने लगा था कुल मिलाकर 4 बार वर्ल्ड कप जीता है और वह तो नहीं देता है पाकिस्तान ने इंडियन वॉलपेपर जीता है वर्ल्ड कप एक बार जीता है एक या दो बार ही होता है तो इस तरह सेंड कर सकते हैं कि पहले खाके अच्छा था लेकिन अब क्या हुआ तबीयत ने जो सपोर्ट देखो नहीं करते थे जैसे जर्मनी था ठीक ठाक खेलता था इंग्लैंड ठीक ठाक हो कि खेलता था शुरुआत में अब क्या है कि नीदरलैंड बेल्जियम एंड इसको नीदरलैंड बोलते हैं इसके अलावा इंग्लैंड की टीम मैं जो कि ग्रेट ब्रिटेन के नाम से भी खेला करती है ऑस्ट्रेलिया उसके मलेशिया की बेटी मीठा ठीक-ठाक हो गई है यूएसबी खेलने लग गया है फ्रांस यह सारे के सारे जो देश हैं वहां की खेलते हैं न्यूजीलैंड विवाह की खेलता है यह सारे देश है उन्होंने काफी ज्यादा एडवांस तकनीक अपनाई है जबकि हमारे देश के जो खिलाड़ी हुआ करते थे उत्तर पर खेलने कि इतने ज्यादा आबादी नहीं हुआ करते थे यह सब लोग एस्ट्रोटर्फ में रखे जाते हैं ओलंपिक में तो मुझे याद है 2016 का ओलंपिक होने वाला था 2012 के ओलंपिक होने वाला था तो उस टाइम इंडिया का रिकॉर्ड चार्ट टीवी जो खेल रही थी उसमें सबसे खराब था और कोई मैं झूठी नहीं पाई तो इसे आपको यह पता चल सकता है कि जो यह यूरोपीय टीम सही होने का पिज़्ज़ा टेक्निकल एक्सपर्ट पर काम करके काफी जटिल फास्ट्रेक कर ली अपने आप को और जबकि जोहा की थी वह भी कभी फास्ट तरीके से लगने लगी और फील्ड की तो वही कहते हैं लेकिन नहीं आती बल्कि एस्ट्रोटर्फ बिक्री आती है पकड़ रही है तो उसमें भी इंडिया की तरफ से अच्छा प्रदर्शन किया गया लेकिन जहां एक बड़ी टीम से टक्कर हुई जो कि नीदरलैंड थी उसे हार गए और नीदरलैंड को मिल जाए मिलाकर और जीत लिया तो ऑस्ट्रेलिया या इस तरह की दो बड़ी टीमें होती है अगर उनसे अलग बड़े मच नहीं देंगे तब तक आप लोग बढ़कर इस तरह की चीजें नहीं जीतेंगे तो इससे फर्क तो पड़ता ही है और खास तौर पर आपने तो 83 में इंडिया ने जीता वर्ल्ड कप उसके बाद से क्रिकेट जो है भारत की एक पहचान बन गया और भारत के लोगों के बीच में सबसे लोकप्रिय खेल था वह हां कि ना रहकर के क्रिकेट हो गया इफेक्ट जरूर पढ़ा है धन्यवाद
Bhaarat apanee raashtreey khel haakee mein itana kamajor kaise ho gaya jabaki pahale hamaara loha duniya maanatee thee to isake peechhe kaee reejan ho sakate hain jaise pahale reezan to yah hai ki jo british indiya hua karatee thee to us samay hamaare jo desh hai british indiya ij usamen kahalaata tha to inglaind kee chhuttee hua karatee thee ab gret briten briten kee teem hua karatee thee olampik mein hokee nahin khela karate the british indiya ko haathee khilaaya karatee thee to us samay aap samajh sakate hain ki briten kee teem na hua karatee thee balki bete indiya kee teem hua karatee thee us samay bahut tagadee teem hua karatee thee hamaaree desh kee bahut hee rikord baar kaaphee baar indiya ne riyo olampik mein gold medal jeete hain aur phir anta ke baad bhee ek ek ek aad baar jeete hain chhod medal to phansee pahala rijalt gaee hai ki jab 1948 ka olampik hone vaala tha usake pahale 1947 mein bhaarat ka vibhaajan ho gaya to kuchh khilaadee paakistaan mein chale gae aur kuchh khilaadee chale gae indiya mein to us samay ham dekhen to pahalee baar briten kee jodee hokee kee teem thee vah bhaag le rahee thee usase pahale 1918 ya usake pahale hee kabhee liya tha us bhaag liya tha nahin to usake khilaaph vibhaageey hone kee vajah se vah kaaphee jyaada unnees sau sattar aur assee ke dashak mein bahut hee jyaada achchha pradarshan kiya aur usane laga tha kul milaakar 4 baar varld kap jeeta hai aur vah to nahin deta hai paakistaan ne indiyan volapepar jeeta hai varld kap ek baar jeeta hai ek ya do baar hee hota hai to is tarah send kar sakate hain ki pahale khaake achchha tha lekin ab kya hua tabeeyat ne jo saport dekho nahin karate the jaise jarmanee tha theek thaak khelata tha inglaind theek thaak ho ki khelata tha shuruaat mein ab kya hai ki needaralaind beljiyam end isako needaralaind bolate hain isake alaava inglaind kee teem main jo ki gret briten ke naam se bhee khela karatee hai ostreliya usake maleshiya kee betee meetha theek-thaak ho gaee hai yooesabee khelane lag gaya hai phraans yah saare ke saare jo desh hain vahaan kee khelate hain nyoojeelaind vivaah kee khelata hai yah saare desh hai unhonne kaaphee jyaada edavaans takaneek apanaee hai jabaki hamaare desh ke jo khilaadee hua karate the uttar par khelane ki itane jyaada aabaadee nahin hua karate the yah sab log estrotarph mein rakhe jaate hain olampik mein to mujhe yaad hai 2016 ka olampik hone vaala tha 2012 ke olampik hone vaala tha to us taim indiya ka rikord chaart teevee jo khel rahee thee usamen sabase kharaab tha aur koee main jhoothee nahin paee to ise aapako yah pata chal sakata hai ki jo yah yooropeey teem sahee hone ka pizza teknikal eksapart par kaam karake kaaphee jatil phaastrek kar lee apane aap ko aur jabaki joha kee thee vah bhee kabhee phaast tareeke se lagane lagee aur pheeld kee to vahee kahate hain lekin nahin aatee balki estrotarph bikree aatee hai pakad rahee hai to usamen bhee indiya kee taraph se achchha pradarshan kiya gaya lekin jahaan ek badee teem se takkar huee jo ki needaralaind thee use haar gae aur needaralaind ko mil jae milaakar aur jeet liya to ostreliya ya is tarah kee do badee teemen hotee hai agar unase alag bade mach nahin denge tab tak aap log badhakar is tarah kee cheejen nahin jeetenge to isase phark to padata hee hai aur khaas taur par aapane to 83 mein indiya ne jeeta varld kap usake baad se kriket jo hai bhaarat kee ek pahachaan ban gaya aur bhaarat ke logon ke beech mein sabase lokapriy khel tha vah haan ki na rahakar ke kriket ho gaya iphekt jaroor padha hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत अपने राष्ट्रीय खेल हॉकी में इतना कमजोर कैसे हो गया जबकि पहले हमारा लोहा दुनिया मानती थी, भारत अपने राष्ट्रीय खेल हॉकी में इतना कमजोर कैसे हो गया
URL copied to clipboard