#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

हमें अपनी भाषा का प्रसार कहां-कहां करना चाहिए?

Hame Apni Bhasha Ka Prasaar Kaha Kaha Karna Chaiye
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
0:52
हेलो बिट्टू आज आपका सवाल है कि हमें अपनी भाषा का प्रचार कहां-कहां करना चाहिए तो देखिए हम प्रचार और तब करते हैं जब हमें लोगों को कुछ समझाना होता है आगे कोई मैसेज देना होता है या फिर अगर करना होता है तो यह सब जगह 754 करते हैं जो भी मिले तो भाषा की बात करें तो जहां पर जिस एरिया में हमारी भाषा बोली जाती है इतना महत्व उस भाषा को नहीं दिया जा रहा है वहां पर मैं कुछ समझाना एक भाषा का महत्व क्या है लोगों को समझाना है किसका इंपॉर्टेंट क्या है इसे कैसे यूज करना है क्यों करना है अतुल यह सब जगह पर जहां पर मैं ऐसा सब जगह देखने के लिए मिल रहा है जहां पर लोग महत्व नहीं दे रहे इस भाषा को कम यूज कर रहे हैं इन्हें पता नहीं है गलत सोच रहे हैं तो ऐसे सब जगह पर हमें अपनी भाषा का प्रचार करना चाहिए
Helo bittoo aaj aapaka savaal hai ki hamen apanee bhaasha ka prachaar kahaan-kahaan karana chaahie to dekhie ham prachaar aur tab karate hain jab hamen logon ko kuchh samajhaana hota hai aage koee maisej dena hota hai ya phir agar karana hota hai to yah sab jagah 754 karate hain jo bhee mile to bhaasha kee baat karen to jahaan par jis eriya mein hamaaree bhaasha bolee jaatee hai itana mahatv us bhaasha ko nahin diya ja raha hai vahaan par main kuchh samajhaana ek bhaasha ka mahatv kya hai logon ko samajhaana hai kisaka importent kya hai ise kaise yooj karana hai kyon karana hai atul yah sab jagah par jahaan par main aisa sab jagah dekhane ke lie mil raha hai jahaan par log mahatv nahin de rahe is bhaasha ko kam yooj kar rahe hain inhen pata nahin hai galat soch rahe hain to aise sab jagah par hamen apanee bhaasha ka prachaar karana chaahie

और जवाब सुनें

bolkar speaker
हमें अपनी भाषा का प्रसार कहां-कहां करना चाहिए?Hame Apni Bhasha Ka Prasaar Kaha Kaha Karna Chaiye
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:03
हमें अपनी भाषा का प्रचार कहां-कहां करना चाहिए कि प्रसारण किया जाता है जहां उस चीज की उपलब्धता ना हो तुझे समारोह में हिंदी भाषा भाषी क्षेत्र के हैं तो हमें ऐसे क्षेत्रों में भाषा के प्रसार करना चाहिए यह लोग हिंदी भाषा जानते हो इसे उड़िया भाषा है तमिल है मलयालम है कि भाषाएं जमालो हिंदी नहीं जानते हैं तो वहां पर हिंदी का प्रचार था अगर आप करेंगे तो देश की समृद्ध भाषा से जुड़ेंगे और हिंदी के गुणों को पहचानेंगे इसलिए अपने क्षेत्र की भाषा का उपयोग तथा प्रचार-प्रसार है वैसी जाऊं भाषा की उपलब्धता ना हो और वहां लोग आपकी भाषा को ना जानते हैं ऐसी जगहों में भाषा का प्रचार प्रसार किया जाए जिससे हिंदी राष्ट्रभाषा नहीं है हिंदी राजभाषा है बहुत से क्षेत्रों में अभी भी अंग्रेजी बोली जाती है इसलिए अंग्रेजी का विरोध कीजिए और हिंदी का प्रचार-प्रसार कीजिए उन क्षेत्रों में हिंदी का प्रचार प्रसार की गई जहां पर लोग हिंदी नहीं जानते हैं कि अगर करते हैं आज के लिए बहुत बड़ा काम आप करेंगे
Hamen apanee bhaasha ka prachaar kahaan-kahaan karana chaahie ki prasaaran kiya jaata hai jahaan us cheej kee upalabdhata na ho tujhe samaaroh mein hindee bhaasha bhaashee kshetr ke hain to hamen aise kshetron mein bhaasha ke prasaar karana chaahie yah log hindee bhaasha jaanate ho ise udiya bhaasha hai tamil hai malayaalam hai ki bhaashaen jamaalo hindee nahin jaanate hain to vahaan par hindee ka prachaar tha agar aap karenge to desh kee samrddh bhaasha se judenge aur hindee ke gunon ko pahachaanenge isalie apane kshetr kee bhaasha ka upayog tatha prachaar-prasaar hai vaisee jaoon bhaasha kee upalabdhata na ho aur vahaan log aapakee bhaasha ko na jaanate hain aisee jagahon mein bhaasha ka prachaar prasaar kiya jae jisase hindee raashtrabhaasha nahin hai hindee raajabhaasha hai bahut se kshetron mein abhee bhee angrejee bolee jaatee hai isalie angrejee ka virodh keejie aur hindee ka prachaar-prasaar keejie un kshetron mein hindee ka prachaar prasaar kee gaee jahaan par log hindee nahin jaanate hain ki agar karate hain aaj ke lie bahut bada kaam aap karenge

bolkar speaker
हमें अपनी भाषा का प्रसार कहां-कहां करना चाहिए?Hame Apni Bhasha Ka Prasaar Kaha Kaha Karna Chaiye
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:42
स्वागत है आपका आपका फेस नहीं हमें अपनी भाषा का प्रश्न कहां-कहां करना चाहिए तो फ्रेंड समय अपनी भाषा का प्रसार ऐसी जगह करना चाहिए जहां पर लोगों को हिंदी ना आती हो तो वहीं पर हमें इसका इसका उस को बढ़ावा देना चाहिए उड़ीसा में आंध्र प्रदेश में दक्षिण के तरफ हिंदी कम बोली और पढ़ी जाती है तो वहां पर करना चाहिए उन लोगों को दक्षिण की तरफ जो भी क्षेत्र है जैसी आंध्र प्रदेश तमिलनाडु और केरल है तरफ करना चाहिए इसका प्रचार-प्रसार धन्यवाद
Svaagat hai aapaka aapaka phes nahin hamen apanee bhaasha ka prashn kahaan-kahaan karana chaahie to phrend samay apanee bhaasha ka prasaar aisee jagah karana chaahie jahaan par logon ko hindee na aatee ho to vaheen par hamen isaka isaka us ko badhaava dena chaahie udeesa mein aandhr pradesh mein dakshin ke taraph hindee kam bolee aur padhee jaatee hai to vahaan par karana chaahie un logon ko dakshin kee taraph jo bhee kshetr hai jaisee aandhr pradesh tamilanaadu aur keral hai taraph karana chaahie isaka prachaar-prasaar dhanyavaad

bolkar speaker
हमें अपनी भाषा का प्रसार कहां-कहां करना चाहिए?Hame Apni Bhasha Ka Prasaar Kaha Kaha Karna Chaiye
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:52
मैं अपनी भाषा का प्रचार प्रसार सरकारी कार्यों में को अदालत में करना चाहिए तथा किसी व्यक्ति के समक्ष संख्या शाम आमने-सामने हो तब भी बोलना चाहिए ताकि लोगों को अपनी भाषा हिंदी तो हिंदी में बात करना चाहिए हिंदी में बात करेंगे तो कुछ अच्छा लगेगा और जैसे कि किसी में भाषा मेल मिलाप से बोलते तो थोड़ा अजीब सा लगता है इसे अच्छी तरह से हिंदी में भाषा करते हो तो ऐसे लगता है यह व्यक्ति बहुत अच्छा इतना अच्छा बोल रहा है तथा भारत की मातृभाषा हिंदी है
Main apanee bhaasha ka prachaar prasaar sarakaaree kaaryon mein ko adaalat mein karana chaahie tatha kisee vyakti ke samaksh sankhya shaam aamane-saamane ho tab bhee bolana chaahie taaki logon ko apanee bhaasha hindee to hindee mein baat karana chaahie hindee mein baat karenge to kuchh achchha lagega aur jaise ki kisee mein bhaasha mel milaap se bolate to thoda ajeeb sa lagata hai ise achchhee tarah se hindee mein bhaasha karate ho to aise lagata hai yah vyakti bahut achchha itana achchha bol raha hai tatha bhaarat kee maatrbhaasha hindee hai

bolkar speaker
हमें अपनी भाषा का प्रसार कहां-कहां करना चाहिए?Hame Apni Bhasha Ka Prasaar Kaha Kaha Karna Chaiye
Dnyaneshwar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dnyaneshwar जी का जवाब
No
0:55

bolkar speaker
हमें अपनी भाषा का प्रसार कहां-कहां करना चाहिए?Hame Apni Bhasha Ka Prasaar Kaha Kaha Karna Chaiye
KANHAIYA  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए KANHAIYA जी का जवाब
Student
1:16

bolkar speaker
हमें अपनी भाषा का प्रसार कहां-कहां करना चाहिए?Hame Apni Bhasha Ka Prasaar Kaha Kaha Karna Chaiye
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
हमें अपनी भाषा का प्रसाद कहां-कहां करना चाहिए कि तो हमारी मातृभाषा होती है जो हमारी मम्मी बोली जाती है जो पहले बच्चा है अपने एक नैसर्गिक सिस्टम होती है उसकी भाषा सीखने की उस पर भी काफी संशोधन हुआ है और हो रहा है क्या कि बच्चा भाषा कैसे सीखता है और कुछ छोटे-छोटे बच्चे होते हैं अपने घर में गुजराती बोलते हैं और अमर सई कॉन्फ्रेंस मराठी बोलती मेरे मित्र के डिस्टेंपर से शरीर बनता है और भाषा कैसे सीखता है और इतनी नहीं एक से कहीं ज्यादा भाषा इंसान सेक्स होता है कई लोग सीखे यह सिर्फ से कह नहीं है उस भाषा के पंडित हुए हैं मां जी पी वी नरसिंह राव 8 भाषा के भाषाओं की पंडित अपनी भाषा मातृभाषा होती है वह मुझे पूर्ण होती है क्योंकि हम अपनी नस्ल की भावना ही जो है वह मातृभाषा में व्यक्त करते हैं और जो स्पॉन्टेनियस हमारे जो रिएक्शन होती है मातृभाषा में और हमारा देश बहुत कॉम्प्लिकेटेड की भाषाओं के लिए भी तो हमारी एक राष्ट्रभाषा होती है जो कि आप इनकी मेजॉरिटी के पास लेकिन को राष्ट्रभाषा का दर्जा नहीं मिला है लेकिन वह बड़े पैमाने पर बोली जाती है हिंदी भाषा और अलग-अलग राज्यों के बीच लोगों को कम्युनिकेशन करने में सहायक होती है और अगर हमें जानकर दुनिया में पूरे विश्व में देखना है कम्युनिकेट करना है तू भी एक भाषा है इंग्लिश और दूसरी भी है चाइनीस भी बड़ी भाषा है फ्रिज भाषा की बहुत बड़ी है जर्मन है हिंदी और विदेशी विदेशी भाषा तो हमारा इक्विटी को तो इस संदर्भ में क्या रवैया होना चाहिए इसका एक नियम भी है कि जब हम अपनी मातृभाषा में शिक्षा सीखने में बहुत आसानी होती है वह समझने में बहुत आसानी होती है और इसलिए चाइना में चाइना की न्यूज़ चैनल भाषा हिंदी भाषा लिपि जो है वह चित्र लिपि अब चीनी भाषा में सारी पढ़ाई होती है पहली कक्षा से लेकर एमबीबीएस एमडी चाय पी ली एक भाषण मोदी तू किसी पर डिपेंड नहीं जापानीज जापानीज भाषा में पढ़ते हैं उनको अंग्रेजी बोलने वाले मिलते नहीं है चाइना भी भारत से मंगवा होता है इंग्लिश टीचर कहने का मतलब यह है कि मातृभाषा में बिकने के कारण ही देश तरक्की कर रहे समस्त रखी कर रहे के प्रथम चुनाव अपनी मातृभाषा का करना चाहिए इसके प्रचार प्रचार के लिए हमें मातृभाषा में गर्मी पहले बोलना चाहिए बातें करना चाहिए हिमाचल मातृभाषा में लिखना चाहिए मातृ भाषा का साहित्य पढ़ना चाहिए इंटरटेनमेंट के कार्यक्रम की मातृभाषा में देखनी चाहिए फिल्मी भी अपनी मातृभाषा को भी ज्यादा करके देखनी चाहिए अगर मातृभाषा में बनाने चाहिए पूरी पहली कक्षा से लेकर पीएचडी तक अपनी भाषा में करना चाहिए इसकी और उसके प्रसार के लिए ज्यादा करके सरकार की अगर की इच्छा शक्ति कम होती है तो समाज भी साथ देता है और समाज के अंदर ऐसे विद्वान होते हैं कि हर एक तरह का अभ्यासक्रम होता है वापी लोकल भाषा में बना सकते हैं लेकिन इच्छाशक्ति चाहिए सरकार की समझकर एक जो एलाइट प्लस होता है उसने उस में इंटरेस्ट लेना चाहिए क्योंकि से नीचे मैं तो चली आती अनुकरण किया जाता है तो इस वर्ग में अपनी अपनी मातृभाषा को सम्मान देना चाहिए उसको वहां पर करना चाहिए ऐसी बातों से आशिक
Hamen apanee bhaasha ka prasaad kahaan-kahaan karana chaahie ki to hamaaree maatrbhaasha hotee hai jo hamaaree mammee bolee jaatee hai jo pahale bachcha hai apane ek naisargik sistam hotee hai usakee bhaasha seekhane kee us par bhee kaaphee sanshodhan hua hai aur ho raha hai kya ki bachcha bhaasha kaise seekhata hai aur kuchh chhote-chhote bachche hote hain apane ghar mein gujaraatee bolate hain aur amar saee konphrens maraathee bolatee mere mitr ke distempar se shareer banata hai aur bhaasha kaise seekhata hai aur itanee nahin ek se kaheen jyaada bhaasha insaan seks hota hai kaee log seekhe yah sirph se kah nahin hai us bhaasha ke pandit hue hain maan jee pee vee narasinh raav 8 bhaasha ke bhaashaon kee pandit apanee bhaasha maatrbhaasha hotee hai vah mujhe poorn hotee hai kyonki ham apanee nasl kee bhaavana hee jo hai vah maatrbhaasha mein vyakt karate hain aur jo sponteniyas hamaare jo riekshan hotee hai maatrbhaasha mein aur hamaara desh bahut kompliketed kee bhaashaon ke lie bhee to hamaaree ek raashtrabhaasha hotee hai jo ki aap inakee mejoritee ke paas lekin ko raashtrabhaasha ka darja nahin mila hai lekin vah bade paimaane par bolee jaatee hai hindee bhaasha aur alag-alag raajyon ke beech logon ko kamyunikeshan karane mein sahaayak hotee hai aur agar hamen jaanakar duniya mein poore vishv mein dekhana hai kamyuniket karana hai too bhee ek bhaasha hai inglish aur doosaree bhee hai chainees bhee badee bhaasha hai phrij bhaasha kee bahut badee hai jarman hai hindee aur videshee videshee bhaasha to hamaara ikvitee ko to is sandarbh mein kya ravaiya hona chaahie isaka ek niyam bhee hai ki jab ham apanee maatrbhaasha mein shiksha seekhane mein bahut aasaanee hotee hai vah samajhane mein bahut aasaanee hotee hai aur isalie chaina mein chaina kee nyooz chainal bhaasha hindee bhaasha lipi jo hai vah chitr lipi ab cheenee bhaasha mein saaree padhaee hotee hai pahalee kaksha se lekar emabeebeees emadee chaay pee lee ek bhaashan modee too kisee par dipend nahin jaapaaneej jaapaaneej bhaasha mein padhate hain unako angrejee bolane vaale milate nahin hai chaina bhee bhaarat se mangava hota hai inglish teechar kahane ka matalab yah hai ki maatrbhaasha mein bikane ke kaaran hee desh tarakkee kar rahe samast rakhee kar rahe ke pratham chunaav apanee maatrbhaasha ka karana chaahie isake prachaar prachaar ke lie hamen maatrbhaasha mein garmee pahale bolana chaahie baaten karana chaahie himaachal maatrbhaasha mein likhana chaahie maatr bhaasha ka saahity padhana chaahie intaratenament ke kaaryakram kee maatrbhaasha mein dekhanee chaahie philmee bhee apanee maatrbhaasha ko bhee jyaada karake dekhanee chaahie agar maatrbhaasha mein banaane chaahie pooree pahalee kaksha se lekar peeechadee tak apanee bhaasha mein karana chaahie isakee aur usake prasaar ke lie jyaada karake sarakaar kee agar kee ichchha shakti kam hotee hai to samaaj bhee saath deta hai aur samaaj ke andar aise vidvaan hote hain ki har ek tarah ka abhyaasakram hota hai vaapee lokal bhaasha mein bana sakate hain lekin ichchhaashakti chaahie sarakaar kee samajhakar ek jo elait plas hota hai usane us mein intarest lena chaahie kyonki se neeche main to chalee aatee anukaran kiya jaata hai to is varg mein apanee apanee maatrbhaasha ko sammaan dena chaahie usako vahaan par karana chaahie aisee baaton se aashik

bolkar speaker
हमें अपनी भाषा का प्रसार कहां-कहां करना चाहिए?Hame Apni Bhasha Ka Prasaar Kaha Kaha Karna Chaiye
Nadeem Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nadeem जी का जवाब
5000
0:20

bolkar speaker
हमें अपनी भाषा का प्रसार कहां-कहां करना चाहिए?Hame Apni Bhasha Ka Prasaar Kaha Kaha Karna Chaiye
rohit paste Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए rohit जी का जवाब
Unknown
0:47
हमें अपनी भाषा का प्रचार प्रसार पहले से खुद से घर से गली से गांव से तालुके से जिले से प्रांत से करना चाहिए और उसके बाद हम आगे बढ़ सकते हैं अगर हम खुद ही अपनी मातृभाषा का इस्तेमाल ना करें तो यह विदेशी भाषाओं पर हावी होकर भविष्य में हमें उनकी गुलामी करनी पड़ी थी आप ही कर्म थोड़ी-थोड़ी खुला में गर्मी पड़ रही है आगे भविष्य में आप फिर गुलाम हो सकते हैं इसलिए हमें खुद की भाषा का प्रसार ज्यादा से ज्यादा कर कर खुद भाषा बोलना चाहिए
Hamen apanee bhaasha ka prachaar prasaar pahale se khud se ghar se galee se gaanv se taaluke se jile se praant se karana chaahie aur usake baad ham aage badh sakate hain agar ham khud hee apanee maatrbhaasha ka istemaal na karen to yah videshee bhaashaon par haavee hokar bhavishy mein hamen unakee gulaamee karanee padee thee aap hee karm thodee-thodee khula mein garmee pad rahee hai aage bhavishy mein aap phir gulaam ho sakate hain isalie hamen khud kee bhaasha ka prasaar jyaada se jyaada kar kar khud bhaasha bolana chaahie

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हमें अपनी भाषा का प्रसार कहां-कहां करना चाहिए अपनी भाषा का प्रसार कहां करना चाहिए
URL copied to clipboard