#खेल कूद

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
1:36
जी मल्टीप्लैक्सर अभी ने सवाल किया है कि विद्यार्थियों को महाविद्यालय में नेता की ड्रेस में जाना खेल के मैदान में खेल के नियमों को अपना आजादी उदाहरण है तो तो विद्यालय विद्यालय की पोशाक जा महाविद्यालय की जो भी पोशाक में एकरूपता को दर्शाती है और मनी को दर्शाती है कि आप कितने भी साधन संपन्न क्यों नहीं हो जो महाविद्यालय में आप व्यस्त था मेरे उससे यह अभिव्यक्त नहीं होना चाहिए कि आप कोई स्पेशल आइकन हो या फैशन आईकॉन ओं महाविद्यालय में हर प्रकार के विद्यार्थियों हर प्रकार की स्थिति में विद्यार्थियों को जो सामान्य वर्ग का सामान्य मध्यवर्ग और निम्न मध्य वर्ग और हर प्रकार के विद्यार्थियों को समावेश होता है ऐसे विद्यार्थियों के अंदर जिसका लिविंग स्पेशल बहुत ही स्तरीय नहीं है मध्यवर्गीय निम्न मध्यवर्गीय परिवार के हैं इसके अंदर यह कौन सा है और हिंसा का भाव नहीं आए इसलिए एड्रेस में जाना जरूरी है और खेल के नियम के लिए शेर इमेज अर्चना और चल के नियम को अपनाना खेल का अनुशासन है क्योंकि शायद में हार और जीत हो या खेल की भावना होना महत्वपूर्ण है धन्यवाद
Jee malteeplaiksar abhee ne savaal kiya hai ki vidyaarthiyon ko mahaavidyaalay mein neta kee dres mein jaana khel ke maidaan mein khel ke niyamon ko apana aajaadee udaaharan hai to to vidyaalay vidyaalay kee poshaak ja mahaavidyaalay kee jo bhee poshaak mein ekaroopata ko darshaatee hai aur manee ko darshaatee hai ki aap kitane bhee saadhan sampann kyon nahin ho jo mahaavidyaalay mein aap vyast tha mere usase yah abhivyakt nahin hona chaahie ki aap koee speshal aaikan ho ya phaishan aaeekon on mahaavidyaalay mein har prakaar ke vidyaarthiyon har prakaar kee sthiti mein vidyaarthiyon ko jo saamaany varg ka saamaany madhyavarg aur nimn madhy varg aur har prakaar ke vidyaarthiyon ko samaavesh hota hai aise vidyaarthiyon ke andar jisaka living speshal bahut hee stareey nahin hai madhyavargeey nimn madhyavargeey parivaar ke hain isake andar yah kaun sa hai aur hinsa ka bhaav nahin aae isalie edres mein jaana jarooree hai aur khel ke niyam ke lie sher imej archana aur chal ke niyam ko apanaana khel ka anushaasan hai kyonki shaayad mein haar aur jeet ho ya khel kee bhaavana hona mahatvapoorn hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

URL copied to clipboard