#भारत की राजनीति

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:50
स्वागत है आपका आपका प्रश्न है कि क्यों पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी जी ने अपनी पुस्तक में ऐसा लिखा है कि मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री का पद दान में मिला है जबकि नरेंद्र मोदी ने अपनी मेहनत से कमाया है तो फ्रेंड से पति प्रणव मुखर्जी जी ने यह बात इसलिए लिखी है कि प्रधानमंत्री जी ने जितनी मेहनत की है जितनी लगन जितना भी पार्टी के लिए काम किया है वह सब ने देखा है और उन्होंने अपनी मेहनत के कामों की बदौलत ही हासिल किया है जबकि मनमोहन सिंह जी वह तो कांग्रेस पार्टी जीती थी सोनिया मीणा मंत्री बन नहीं रही थी क्योंकि वह विदेश की थी इटली की थी तो विदेशी नदियों के जल मंत्री नहीं बन सकते तो उन्होंने अपनी जगह पर मनमोहन सिंह को बना दिया था दान में ही दे दिया था समझ लो पद और मोदी जी ने अपनी मेहनत से पद हासिल किया है इसलिए उन्हें धन्यवाद
Svaagat hai aapaka aapaka prashn hai ki kyon poorv raashtrapati pranav mukharjee jee ne apanee pustak mein aisa likha hai ki manamohan sinh ko pradhaanamantree ka pad daan mein mila hai jabaki narendr modee ne apanee mehanat se kamaaya hai to phrend se pati pranav mukharjee jee ne yah baat isalie likhee hai ki pradhaanamantree jee ne jitanee mehanat kee hai jitanee lagan jitana bhee paartee ke lie kaam kiya hai vah sab ne dekha hai aur unhonne apanee mehanat ke kaamon kee badaulat hee haasil kiya hai jabaki manamohan sinh jee vah to kaangres paartee jeetee thee soniya meena mantree ban nahin rahee thee kyonki vah videsh kee thee italee kee thee to videshee nadiyon ke jal mantree nahin ban sakate to unhonne apanee jagah par manamohan sinh ko bana diya tha daan mein hee de diya tha samajh lo pad aur modee jee ne apanee mehanat se pad haasil kiya hai isalie unhen dhanyavaad

और जवाब सुनें

Naayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Naayank जी का जवाब
College
1:04
नमस्कार श्रोता हो तो इस वाक्य पर भी काफी कॉन्ट्रोवर्सी कायाकापी हल्ला मजाक की राष्ट्रपति मुखर्जी ने ऐसा क्यों कहा कि मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री का पद दान में मिला जबकि इसी कारण था क्योंकि मनमोहन सिंह पर नहीं थे कांग्रेस के सब लोग एक्सपेक्ट कर रहे थे कि कोई गांधी परिवार का बनेगा और ज्यादातर पूरी कांग्रेस थी उसने मेहनत करी थी है कि चुनाव जीतने में सबने मेहनत करी थी लेकिन अंत में सोनिया गांधी ने अपना एक्शन लिया ऐसा नहीं था जैसा प्रणब मुखर्जी ने लिखा है कि कुछ लोगों ने डिसीजन ले लिया अपने आप में ही किसको प्रधानमंत्री सबसे ज्यादा लोगों से सहमति नहीं ली गई तो इसी कारण कहां गए कि मनमोहन सिंह को ऐसी पद दान कर दिया है वही मोदी जी थे उन्होंने काफी मेहनत की हर जगह गए उन्होंने भाषण दिए और काफी मेहनत करी और तब जाकर वह प्रधानमंत्री बने अपना पूरा हाजिर किया प्रधानमंत्री का पद तो उस संदर्भ में यह कहा गया है धन्यवाद
Namaskaar shrota ho to is vaaky par bhee kaaphee kontrovarsee kaayaakaapee halla majaak kee raashtrapati mukharjee ne aisa kyon kaha ki manamohan sinh ko pradhaanamantree ka pad daan mein mila jabaki isee kaaran tha kyonki manamohan sinh par nahin the kaangres ke sab log eksapekt kar rahe the ki koee gaandhee parivaar ka banega aur jyaadaatar pooree kaangres thee usane mehanat karee thee hai ki chunaav jeetane mein sabane mehanat karee thee lekin ant mein soniya gaandhee ne apana ekshan liya aisa nahin tha jaisa pranab mukharjee ne likha hai ki kuchh logon ne diseejan le liya apane aap mein hee kisako pradhaanamantree sabase jyaada logon se sahamati nahin lee gaee to isee kaaran kahaan gae ki manamohan sinh ko aisee pad daan kar diya hai vahee modee jee the unhonne kaaphee mehanat kee har jagah gae unhonne bhaashan die aur kaaphee mehanat karee aur tab jaakar vah pradhaanamantree bane apana poora haajir kiya pradhaanamantree ka pad to us sandarbh mein yah kaha gaya hai dhanyavaad

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:22
पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने अपनी पुस्तक में ऐसा क्यों लिखा है कि मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री का पद दान में मिला था लेकिन मनमोहन सिंह रिजर्व बैंक के गवर्नर रह चुके थे उनको वित्त का बहुत अच्छा ज्ञान था और नरसिंगा राव सरकार में वित्त मंत्री भी रह चुके थे तो वित्त का संयोजन और देश की अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए मतलब बहुत ही अच्छे अर्थशास्त्री भी माने जाते थे प्रणव दा भी कांग्रेस के बहुत पुराने कांग्रेसी रहे हैं और वह अपने आप को सबसे सीनियर मानते थे उनकी तमन्ना थी कि वह प्रधानमंत्री बने हैं लेकिन कोई ना कोई कमी जरूर रही होगी कि इंदिरा को सोनिया जी ने मतलब उनको आप हर नहीं दिया जब आप हर नहीं दिया तो उनके मन में थोड़ा कुंठा भी रहे और उसको उठाकर कारण उन्होंने लिख दिया कि मनमोहन सिंह को दान में मिला जबकि मनमोहन सिंह बहुत ही इमानदार आदमी है उनको किसी से कुछ लेना-देना नहीं इतना ही ईमानदार राजनीति में अगर आप किसी को ढूंढ लेंगे तो अभी नहीं मिलेगा तो लिखने के लिए कोई कुछ भी लिख सकता है जिसके मन की मुराद पूरी नहीं होती हो वही अपनी गोद में स्वर्ग है निकालने लगता है तो यही स्थिति प्रणव दा को राष्ट्रपति बन गए तो उनको ऐसा नहीं लिखना चाहिए था और यह कांग्रेसमें कुछ लोगों को बुरा भी लगा है इसका
Poorv raashtrapati pranab mukharjee ne apanee pustak mein aisa kyon likha hai ki manamohan sinh ko pradhaanamantree ka pad daan mein mila tha lekin manamohan sinh rijarv baink ke gavarnar rah chuke the unako vitt ka bahut achchha gyaan tha aur narasinga raav sarakaar mein vitt mantree bhee rah chuke the to vitt ka sanyojan aur desh kee arthavyavastha ko sudhaarane ke lie matalab bahut hee achchhe arthashaastree bhee maane jaate the pranav da bhee kaangres ke bahut puraane kaangresee rahe hain aur vah apane aap ko sabase seeniyar maanate the unakee tamanna thee ki vah pradhaanamantree bane hain lekin koee na koee kamee jaroor rahee hogee ki indira ko soniya jee ne matalab unako aap har nahin diya jab aap har nahin diya to unake man mein thoda kuntha bhee rahe aur usako uthaakar kaaran unhonne likh diya ki manamohan sinh ko daan mein mila jabaki manamohan sinh bahut hee imaanadaar aadamee hai unako kisee se kuchh lena-dena nahin itana hee eemaanadaar raajaneeti mein agar aap kisee ko dhoondh lenge to abhee nahin milega to likhane ke lie koee kuchh bhee likh sakata hai jisake man kee muraad pooree nahin hotee ho vahee apanee god mein svarg hai nikaalane lagata hai to yahee sthiti pranav da ko raashtrapati ban gae to unako aisa nahin likhana chaahie tha aur yah kaangresamen kuchh logon ko bura bhee laga hai isaka

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • प्रणब मुखर्जी कौन है, प्रणब मुखर्जी ने कितनी किताब लिखी है, प्रणब मुखर्जी ने कौन सी किताब में मनमोहन जी के बारे में लिखा है
URL copied to clipboard